Posts

Showing posts from December, 2012

*ETERNAL TEACHER-TAUGHT RELATIONSHIP सनातन गुरु-शिष्य परम्परा

Image
ETERNAL TEACHER-TAUGHT RELATIONSHIP
  सनातन गुरु-शिष्य परम्परा 
A TREATISE ON EDUCATION IN INDIA By :: Pt. Santosh Bhardwaj dharmvidya.wordpress.com  hindutv.wordpress.com  santoshhastrekhashastr.wordpress.com   bhagwatkathamrat.wordpress.com jagatgurusantosh.wordpress.comsantoshkipathshala.blogspot.com     santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com  THE GURU गुरु :: The break up of Guru is Gu-darkness and ru light-enlightenment. Thus the Guru is the one who directs the learner from unawareness to awareness. He is the one ensures success for his disciple. गुरु शब्द में ही गुरु का महिमा का वर्णन है। गु का अर्थ है अंधकार और रु का अर्थ है प्रकाश। इसलिए गुरु का अर्थ है: अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाने वाला अर्थात जीवन में सफलता हेतु  विद्यार्थी का उचित मार्गदर्शन करने वाला। गुरु शिष्यों का मार्ग दर्शन करता है और शिष्य को उचित की ओरआगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है। गुरु वेद-शास्त्रों का उपदेश करता है ज्ञान करता है। ज्ञान गुरु है। गुरु वह है, जो ज्…