SEX EDUCATION (2) काम-शिक्षा :: VATSAYAYAN'S KAM SUTR वात्सायन का कामसूत्र

DIRTY POLITICS IN INDIAVATSAYAYAN'S KAM SUTR
 वात्सायन का कामसूत्र 
 CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM  
By :: Pt. Santosh  Bhardwaj  
 dharmvidya.wordpress.com hindutv.wordpress.com  jagatgurusantosh.wordpress.com  santoshhastrekhashastr.wordpress.com bhagwatkathamrat.wordpress.com  
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com   jagatguru.blog.com  bhartiyshiksha.blogspot.com  santoshkathasagar.blogspot.com 
        
This is an ancient Indian text widely considered to be the standard work on human sexual behavior-relations between husband and wife-mate. Its most-ultimate, authentic, reliable, work-composition-treatise on human relations and the family-household. One chapter has been devoted to practices pertaining to sexual behavior-intercourse. Kaam Dev is the deity of sex and his wives are Rati and Preeti. He was burnt to ashes by Bhagwan Shiv. He got  a fresh embodiment when Pradumn Ji got birth as a son of Bhagwan Shri Krashn and later he moved for Ashw Medh Yagy, when Brahma Ji, Chandr and Kaam Dev merged into his human incarnation. The body was retained by Kaam Dev.
Kaam is generally associated with sex, desire, passions, sexuality, sensuality, lust. Sutr means a sacred thread, cord, knot, an aphorism:line, rule, formula,formulation in the form of a manual. It presents itself as an in depth study, guide to a virtuous and gracious living that discusses the nature of love, family life and other aspects pertaining to pleasure oriented faculties of human life. It covers the basic tenants of Dharm-duty-religion, Arth-earning-livelihood, Kaam-Sex and Moksh-Salvation.
Vatsayayan is one of the names of Chanky-Kautily, Vishnu Gupt. Vatsayayan has  cited the work of previous authors based on which he compiled his own Kaam Sutr. He states that the seven parts of his work were an abridgment of longer works by Dattak (-first part), Suvarnabh (-second part), Ghotak Mukh (-third part), Gonardiy (-fourth part), Gonik Putr (-fifth part), Charayan (-sixth part) and Kuchumar (-seventh part). Vatsayayan's Kaam Sutr has 1250 verses, distributed in 36 chapters, which are further organized into seven parts.
INITIATION: (I-1). Introduction, (I-2). Three aims and priorities of life: Observations on the Three worldly attainments of Dharm-duties-virtue, wealth and love (I-3). Acquisition of knowledge-study of the sixty-four arts, (I-4). Well-bred townsman: arrangements of a house, household furniture and daily-routine life of a citizen-his companions, amusements, etc., (I-5). Intermediaries assisting the lover in his enterprises, classes of women fit and unfit for congress with the citizen and of friends and messengers.
SEXUAL UNION:  (II-1). Amorous advances, kinds of union-according to dimensions, force-stimulation-libido of desire, timings and different kinds of love, (II-2). Embracing, (II-3). Slapping-thumping-motivating by hand, corresponding moaning, virile behavior in women, caressing and kissing, (II-4). Scrubbing-scratching-motivating-pressing with nails, (II-5). Coalition and oral sex, holding skin with teeth without harming-biting, methods-procedures employed in different regions, (II-6). Preludes and conclusions to the game of love, description of 64 types of sexual poses-acts-artistic depiction of a sex position-copulation-postures-ways of lying down, (II-7). Various ways of striking, sounds appropriate to situation, (II-8). Females acting the part of males, (II-9). Holding the lingam-pennies in the mouth-sucking, (II-10). To begin and conclude congress, different kinds of congress and love games.
ARRANGING  WIFE: (III-1).Observations on betrothal and marriage, (III-2). Creating confidence in the girl, (III-3). Courtship-dating and the manifestation of the feelings by outward signs and deeds, (III-4). Things to be done only by the man and the acquisition of the girl & things to be done by the girl to gain over a man and subject him to her, (III-5). Different forms of marriage.
WIFE:  (IV-1). Duties and privileges of the wife, manner of living of a virtuous woman and her behavior during the absence of her husband, (IV-1). Conduct of lone wife and conduct of eldest-head wife and other wives and their mutual interactions.
OTHER'S WIVES: (V-1). Characteristics of men and women, (V-2). Acquaintance with the woman and the efforts to gain her over, (V-3). Examination of the sentiments-state of a woman's mind, (V-4). Business of a go-between, (V-5). Love of persons in authority-king-ruler-emperor with the wives of other people, (V-6). Women of the royal harem and of the keeping of one's own wife.
COURTESANS: (VI-1). Causes of a courtesan resorting to men, (VI-2). Advice of the assistants on the choice of lovers, looking for a steady lover, courtesan living with a man-as his wife, (VI-3). Means of getting-earning money, (VI-4). Reunion with a former lover, (VI-5). Different kinds of profits-gains, (VI-6). Gains and losses. 
ATTRACTING OTHERS:  (VII-1). Improving physical attractions, personal adornment, subjugating the hearts of others and tonic-medicines, (VII-2). Arousing a weakened sexual power, along with pleasure and spirituality, means of exciting desire, enlarging the lingam-pennies. miscellaneous experiments and receipts.
Dharm-religion-duty is superior-prior to Arth-earning-prosperity and Arth comes prior to Kaam. But Arth should always be first practiced by the king as the livelihood of men is to be obtained from it only. Again, Kaam being the occupation of public women, they should prefer it to the other two and these are exceptions to the general rule.[Kaam Sutr 1.2.14]
Of the first three, Dharm-virtue is the highest goal-priority, a secure life comes second and the pleasure the least important. When motives conflict, the higher ideal has to be followed. Thus, in making money virtue must not be compromised, but earning a living should take precedence over pleasure. Exceptions are always there.
For the discharge of religious duties-prayers-rituals-sacrifices-fervor, Hawan-Agnihotr money is essential. Without money its difficult to carry out house hold duties-functions-chores. Once the three phases of life are over, one can clamor for Moksh-Salvation-Liberation.
First phase of life childhood to adulthood-Kishoravastha (-किशोरावस्था, juvenile age)is for learning, Brahmchary. Vatsayayan says, a person should learn how to make a living; youth-the second phase-household-family way is the time for pleasure and as years pass one should concentrate on living virtuously-Vanprasth-retirement and Sanyas-relinquishment, hope to escape the cycle of rebirth.
The Kaam Sutr acknowledges that the senses can be dangerous: 'Just as a horse in full gallop, blinded by the energy of his own speed, pays no attention to any post or hole or ditch on the path, so two lovers, blinded by passion, in the friction of sexual battle, are caught up in their fierce energy and pay no attention to danger' [Kaam Sutr 2.7.33].
The Western world has wrong connotations-understanding about this thesis, since the segment related to sexual postures-behavior is copied-magnified-illustrated. In depth study of the text can provide one satisfaction with his life-anxiety etc.
Vatsyayana In Hindi
आचार्य वात्सायन ने काम सूत्र की रचना पूर्व काल में हुए विभिन्न आचार्यों-विद्वानों द्वारा प्रतिपादित संग्रहों-कार्यों के आधार पर की। यह मानव शास्त्र-धर्म पर एक प्रमाणिक ग्रन्थ है। इस ज्ञान को उचित माध्यम से स्वीकार करना अच्छा है। इस विषय का ज्ञान स्त्रियों सहित सभी वर्गों के लिए एक ज्ञान कोष-मार्ग दर्शक है। 
उनका मत है कि इन कलाओं को जानने वाली नारी पति वियोग-अनुपस्थिति में भी इन कलाओं की मदद से रहना सीख जाती है, उसका पति उसके गुणों पर मोहित रहता है और अन्‍य स्त्रियों से संबंध नहीं बनाता, ऐसे स्‍त्री पुरुष का दांपत्‍य सदा सफल रहता है। स्त्रियों के लिए उचित यह है कि विश्‍वासपात्र व्‍यक्ति से एकांत में कामशास्‍त्र का ज्ञान व प्रयोग सीखें।इसके पश्‍चात 64 विधाओं-कलाओं का अभ्‍यास कन्‍या को एकांत में अकेले करना चाहिए, ताकि उन्‍हें इसमें निपुणता हासिल हो। 


आवश्यकतानुसार स्त्री को विवाह से पहले पिता के घर में और विवाह के पश्‍चात पति की अनुमति से काम की शिक्षा लेनी चाहिए। वात्‍स्‍यायन का मत है कि स्त्रियों को बिस्‍तर पर खुला व्‍यवहार करना चाहिए। इससे दांपत्‍य जीवन में स्थिरता बनी रहती है। पति अन्‍य स्त्रियों की ओर आकर्षित नहीं हो पाता और पत्‍नी के साथ उसके मधुर संबंध बने रहते हैं।उस स्थिति में नाजों नखरों से दूर रहना चाहिये। 

 इसलिए स्त्रियों को यौन क्रिया का ज्ञान होना आवश्‍यक है ताकि वह कामकला में निपुण हो सके और पति को अपने प्रेमपाश में बांध कर रख सके। आचार्य के अनुसार एक कन्‍या के लिए विश्‍वसनीय व्यक्ति हो सकते है: दाई, विश्वासपात्र सेविका की ऐसी कन्‍या जो साथ में खेली हो और विवाहित होने के पश्चात पुरुष समागम से परिचित हो।


विवाहिता सखी, हम उम्र मौसी या बड़ी बहन, अधेड़ या बुढि़या दासी, बड़ी बहन, ननद या भाभी। जिसे संभोग का आनंद प्राप्‍त हो चुका हो। उसका स्पष्ट बोलने वाली और मधुर बोलने वाली होना जरूरी हो ताकि वह काम का सही-सही ज्ञान दे सके। सामान्यतया लड़कियाँ हमउम्र सहेलियों-शादीशुदा स्त्रियों से यह ज्ञान प्राप्त कर सकतीं हैं।  संदिग्ध चरित्र की स्त्रियों से दूर रहना उचित और परमावश्यक है। 
गीत, वाद्य, नृत्‍य, चित्र बनाना, बिंदी व तिलक लगाना सीखना, रंगोली बनाना, घरों को फूलों से सजाना, दांतों, वस्‍त्रों, केश, नख आदि को सलीके से रखना, घर के फर्श को साफ रखना, बिस्‍तर बिछाना, जलतरंग बजाना, जलक्रीड़ा करना, नए सीखने के लिए हमेशा उत्‍साहित रहना।

 माला गूंथना सीखना, सिर के ऊपर से नीचे की ओर मालाएं लटकाना व सिर के चारों ओर माला धारण करना, समय एवं स्‍थान आदि के अनुरूप शरीर को वस्‍त्रादि से सजाना, शंख, अभ्रक आदि से वस्‍त्रों को सजाना, सुगंधित पदार्थ का उचित प्रयोग, गहने बनाना, चमत्‍कारी व्‍यक्तित्‍व, सुंदरता बढ़ाने के नुस्‍खे अपनाना, बेहतरीन ढंग से काम करना, स्‍वादिष्‍ट भोजन बनाना, खाने के बाद की सामग्री जैसे पान, सोंठ, गीला चूर्ण आदि बनाना, सीना, बुनना और कढाई, चीणा व डमरू बजाना, धागों की सहायता से चित्रकारी बनाना, पहेलियां पूछना और हल करना, अंत्‍याक्षरी करना, ऐसी बातें जो शब्‍द व अर्ध की दृष्टि से दोहराने में कठिन हो, पुस्‍तक पढना, नाटक व कहानियों का ज्ञान, काव्‍य का ज्ञान, लकड़ी के चौखटे, कुर्सी आदि की बुनाई, विभिन्‍न धातुओं की आकृतियां बनाना, काष्‍ठ कला, भवन निर्माण कला।


मूल्यवान वस्‍तुओं व रत्‍नों की पहचान, धातुओं का ज्ञान, मणियों व रंगों का ज्ञान, उद्यान लगाना, बटेर लडाने की विधि का ज्ञान, तोता मैना से बोलना व गाना सिखाना, पैरों से शरीर की मालिश, गुप्‍त अक्षरों का ज्ञान, गुप्त भाषा में बात करना, कई भाषाओं का ज्ञान, फूलों की गाडी बनाना, शुभ अशुभ शकुनों का फल बताना, यंत्र बनाना, सुनी हुई बात, पुस्‍तक आदि को स्‍मरण करना, मिलकर पढना, गूढ कविता को स्‍पष्‍ट करना, शब्‍दकोश का ज्ञान, छंद का ज्ञान, काव्‍य रचना, नकली रूप धरना, ढंग से वस्‍त्र पहनना, विशेष प्रकार के जुए, बच्‍चों के खिलौने बनाना,व्‍यवहार ज्ञान, विजयी होने का ज्ञान, व्‍यायाम संबंधी विद्या।





sexy image in temple khajuraho
तमिलनाडु के पुदुक्कोट्टम जिले में स्थित है तिरुमयम मंदिर। यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। यहां भगवान विष्णु को सत्यगिरी नाथन और सत्य मूर्ति के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर की दिवारों पर भी खजुराहो की तरह सुंदर कलाकृति जिनमें मिथुन मूर्तियां भी शामिल हैं देख सकते हैं।
sexy image in temple khajuraho
उड़ीसा के विश्व प्रसिद्घ कोणार्क सूर्य मंदिर में भी इस प्रकार की मूर्तियाँ विद्यमान हैं। इस मंदिर का निर्माण गंग वंश के राजा नरसिंह देव ने 1250 ई. करवाया था।
sexy image in temple khajuraho
उदयपुर के जगदीश जी मंदिर में भी अति सुन्दर कलाकृतियाँ देखने को मिल जाएगी। स्त्री पुरुष की की मैथुन क्रिया के साथ संगीत भी दिखाया गया है। इन दोनों के बीच एक साधु इन बातों से बेपरवाह है। यह तस्वीर बताती है कि राग रागिनी के बीच से निकलकर ही ईश्वर तक पहुंचा जा सकता है।
sexy image in temple khajuraho
राजस्थान के बाड़मेर में स्थित किराडू मंदिर की दीवर पर बनी मिथुन मूर्तियां। इस मंदिर के विषय में मान्यता है कि यह शापित है। कहते हैं कि, जो कोई भी शाम ढ़लने के बाद यहां रह जाता है वह पत्थर का बन जाता है।
sexy image in temple khajuraho
बिहार के हाजीपुर में स्थित यह मंदिर नेपाली मंदिर के नाम से जाना जाता है। इसे बिहार का खुजराहो के नाम भी लोग जानते हैं क्योंकि यहां मंदिर की दीवारों पर खजुराहो की तरह मिथुन मूर्तियों की आकृति खुदी हुई है। इस तस्वीर में पहली तस्वीर मंदिर के गुंबज का है अन्य तस्वीरों में आप देख सकते हैं इस मंदिर की मिथुन मू्र्तियों को।

Comments

Popular posts from this blog

ENGLISH CONVERSATION (2) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

ENGLISH CONVERSATION (3) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

HINDU MARRIAGE हिन्दु-विवाह पद्धति