AYURVED (4-5) आयुर्वेद

 AYURVED (4-5) आयुर्वेद  
A TREATISE  ON ANCIENT SYSTEM OF MEDICINE
By :: Pt. Santosh Bhardwaj
dharmvidya.wordpress.com  hindutv.wordpress.com  santoshhastrekhashastr.wordpress.com   bhagwatkathamrat.wordpress.com jagatgurusantosh.wordpress.com  santoshkipathshala.blogspot.com     santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com 
DOMESTIC-HOME REMEDIES आयुर्वेद दादी माँ के घरेलू नुख्से :: 
AVOCADO FOR ANTI AGEING :: Avocado (एवोकैडो-नाश्पाती के आकार का एक उष्ण कटिबन्धीय फल), broccoli (ब्रॉकोली हरी फूलगोभी) and cucumber have anti-ageing effect.
BENEFITS OF POPPY SEEDS  खसखस के गुण :: यह एक सूक्ष्म  आकार का बीज होता है। इसे लोग पॉपी सीड भी कहते हैं। यह प्यास बुझाता है और ज्वर, सूजन और पेट की जलन से राहत दिलाता है और यह एक दर्द-निवारक भी है। लंबे समय से ही प्राचीन सभ्यताओं  में  इसका उपयोग औषधीय लाभों के लिए किया जाता रहा है।यह पौष्टिक और और स्वाद से भरपूर है। इसका इस्तेमाल सब्जी की ग्रेवी बनाने और सर्दी के दिनों में स्वादिष्ट हलवा बनाने के लिए किया जाता है। 
(1).  इसको दर्द निवारक के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसमें पाया जाने वाला ओपियम एल्कलॉइड्स सभी प्रकार के दर्द को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। खास तौर से इसका प्रयोग मांसपेशियों के दर्द में किया जाता है। खसखस का तेल भी बाजार में उपलब्ध होता है, जिसका प्रयोग दर्द वाले स्थान पर किया जाता है।
(2).  श्वसन संबंधी विकार-खसखस के बीज में शांतिदायक गुण होने के कारण यह सांस की बीमारियों के इलाज में बहुत कारगर होता है। यह खांसी को कम करने में मदद करता है और अस्थमा जैसी समस्याओं के खिलाफ लंबे समय तक राहत प्रदान करता है। 
(3). नींद न आने की समस्या का समाधान है यह। सोने से पहले खसखस का गर्म दूध पीना  बेहद फायदेमंद हो सकता है। यह अनिद्रा की समस्या को दूर करता है।
(4). यह फाइबर को बहुत अच्छा स्रोत हैं। इसमें इसके वजन से लगभग 20-30 प्रतिशत आहार फाइबर शामिल होता हैं।  फाइबर स्वस्थ मल त्याग में और कब्ज की दिक्कत  दूर करने में बहुत लाभकारी होती है। लगभग 200 ग्राम खसखस दैनिक फाइबर की जरूरत को पूरा कर सकता हैं। यह बेहतर पाचन में भी मदद करता है और शरीर को उर्जा देने के लिए भी बहुत लाभदायक होता है।
(5). गुर्दे की पथरी में इलाज के तौर पर भी खसखस को सेवन किया जाता है। इसमें पाया जाने वाला ओक्सलेट्स, शरीर में मौजूद अतिरिक्त कैल्शियम का अवशोषण कर गुर्दे में पथरी बनने से रोकता है।
(6). सूखी खसखस को प्राकृतिक शांति प्रदान करने वाली औषधि माना जाता है क्योंकि इसमें थोड़ीसी मात्रा में ओपियम एल्कलॉइड्स नामक रसायन होता है। यह रसायन तंत्रिका की अतिसंवेदनशीलता, खांसी और अनिद्रा को कम करते हुए तंत्रिका तंत्र पर एक न्यूनतम  प्रभाव उत्पन्न करता  है। मानसिक तनाव से मुक्ति दिलाने के साथ-साथ त्वचा पर होने वाली झुर्रियों को भी कम करने में भी यह मदद करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं, जो मनुष्य को जवान बनाए रखने में मदद करते हैं।
(7). खसखस त्वचा को नमी प्रदान करने में भी सहायक होता है। यह त्‍वचा की जलन व खुजली को कम करने के साथ ही एक्जिमा जैसी समस्याओं से लड़ने में मदद करता है। सेहत के साथ सुंदरता का कांबिनेशन बनाता है यह।
(8). ओमेगा-6 फैटी एसिड, प्रोटीन, फाइबर से भरपूर होने के साथ ही इसमें फाइटोकेमिकल्स, विटामिन बी, थायमिन, कैल्शियम और मैंगनीज भी पाया जाता है, जो पोषण के लिहाज से बहुत फायदेमंद है।इसलिए खसखस को एक उच्च पोषण वाला आहार माना जाता है।
(9). आयुर्वेद में इसको त्‍वचा के लिए अच्‍छा माना जाता है।यह एक मॉइस्‍चराइजर की तरह काम करता है और त्वचा  की जलन और खुजली को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें मौजूद लिनोलिक नामक एसिड एक्जिमा के उपचार में भी मददगार होता है। त्वचा को खूबसूरत बनाने के लिए खसखस का इस्तेमाल दूध में पीसकर फेसपैक के रूप में किया जाता है। यह त्वचा को नमी प्रदान करने के साथ ही प्राकृतिक चमक लाता है, और चेहरा दमक जाता है।
(10).  इसके अलावा कई तरह की छोटी-छोटी समस्याओं जैसे अधि‍क प्यास लगना, बुखार, सूजन या पेट में होने वाली जलन से राहत पाने के लिए खसखस का प्रयोग किया जाता है। यह पेट में बढ़ने वाली गर्मी को भी शांत करने में सहायक है।
(11). एंटीऑक्सीडेंट-माना जाता है कि खसखस में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होने के कारण इसमें अद्भुत एंटीऑक्सीडेंट गुण होते है। ये एंटीऑक्‍सीडेंट फ्री रेडिकल के हमलों से अंगों और ऊतकों की रक्षा करते है। इसलिए इन सब खतरों से बचने के लिए हमें अपने आहार में खसखस को शामिल करना चाहिए।
हरड़ HARITKI हरीतकी ::  Botanical Name(s) :- Terminalia Chebula, Terminalia Reticulata, Family Name :- Combretaceae, Kingdom :- Plantae, Division: Magnoliophyta, Class :-Magnoliopsida, Order :- Myrtales, Family :- Combretaceae, Genus :- Terminalia, Species :- T. chebula, Popular Name(s) :- Black Myrobalan, Chebulic Myrobalan, Hardh, Ink Tree, Harar, Hardad, Indian Gall Nut, Parts Used: Fruit, Root, Bark, Habitat :- Grown throughout India.
haritaki leavesDescription : The deciduous Haritki tree grows at an altitude of 1,800 meters. The round tree is crowned and branches spread out, with a diameter of 1.5 to 2.5 meters. The long ovate leaves are acute, in opposite pairs about 10 to 20 cm long. The flowers are dull white with spikes and can be found at the end of the branches. The fruit is hard and yellowish green in colour. Each fruit has a single seed that is light yellow in colour. The tree can be found in the sub Himalayan tracks, from Ravi to West Bengal and in the deciduous forests of Madhy Pradesh, Bihar, Assam and Maharashtra. It is known as Haritki, abhaya and pathy in Sanskrit; Harad in Hindi.
Plant Chemicals :- (+) tannic acid, chebulinic acid, gallic acid, resin, anthraquinone, sennoside, mucilage, chebulin, terchebin, palmitic acid, stearic acid, oleic acid, linoleic acid, arachidic acid, behenic acid. 
CHARACTERISES OF DIFFERENT COMPONENTS :: Seed kernel: Sweet,  Fibre: Sour, Fruit rind: Bitter, Skin: Pungent, Seed: Astringent. 
Haritaki leaves
Sanskrat text lists its characterises at least as follows:
Vrany: Improve skin complexion, Ushn: Hot-warm, Kshr: Promotes bowel movement, Medha: Improves intelligence, Pramo: Delusion-lack of memory and intelligence, Doshaaghn: Natural detoxifying, Shothanut: Relieves inflammation, Deepan: Improves digestion, Mad: Delirium, Srotovibandh: Obstruction to body channels, constipation, Chakshushy: Improves vision, Rasayan: Anti ageing-rejuvenating, Ayushy: Improves life expectancy, Brahmani: Nourishing, Anulomani: Normalise bowel movements, Chardi: Vomiting, Atisar: Diarrhoea, dysentery, Shwasahar: Cures Asthma, Tamak: Cures Asthma, Wheezing-breathing difficulty, Arochak: Anorexia, Kasahar: Relieves cold and cough, Kaphaprasek: Increased salivation due to Kaph-cough dosh, Pramehahar: Useful in diabetes and urinary tract disorders, Arshahar: Useful in piles-Haemorrhoids, Kushthahar: Useful in skin diseases, Shothahar: Relieves inflammation, Udarahar: Useful in ascites, Krimihari: Useful in worm infestation-infection, Gulm: Abdominal tumour, bloating, Anah: Bloating, Udavart: Bloating of abdomen, Pandu: Anaemia, initial stages of liver diseases, Shirorog: Diseases pertaining to head, headache, Pleeha: Splenomegaly, Nav Udar: Early stages of ascites, Vaisvary: Hoarseness of voice, Kaamal: Jaundice, Shvayathu: Oedema, inflammation, Klaiby: Impotency, Angavasad: Body ache, Pralepa-Hrudayoraso: Stiffness of chest, heaviness of chest.
APPLICATIONS-USES : (1).  Haritki has laxative, rejuvenate, purgative, astringent and dry properties.
(2). The paste of its fruit is effective in reducing swelling, hastening the healing process and cleansing the wounds and ulcers.
(3). The paste gives relief to the eyelids, in case of conjunctivitis.
(4). Gargling with Haritki decoction, helps in stomatitis, oral ulcers and sore throat.
(5).  It serves as a good astringent for loose gums, bleeding and ulceration in gums.
(6). The herb is used in preparing Triphala which is extremely useful in almost all diseases pertaining to stomach and eyes in addition to hair wash, brush teeth in pyorrhoea and treat bleeding gums.
(7). Regular consumption of Haritki powder, fried in ghee, promotes longevity and boosts energy.
(8). It responds well to gastrointestinal ailments, tumours, ascites, piles, enlargement of liver-spleen, worms and colitis.
(9). Powdered Haritki, mixed with jaggery, works well in gout.
(10). Its powder, when mixed with honey and ghee, is an effective remedy for anaemia.
(11). Haritki is combined with Shunthi (-सौंठ) powder and given with hot water to lighten asthma and hiccups.
(12). Its decoction, when taken along with honey, is of great help in hepatitis and obesity.
(13). The herb improves memory and is salutary in dysuria and urinary stones.
(14). Haritki helps in improving appetite and helps in digestion.
(15). Nervine: Helps in nervous weakness and nervous irritability and promotes the receiving power of the five senses.
(16). Since, it is anti-inflammatory and astringent, it is helpful in urethral discharges like spermatorrhea and vaginal discharges like leucorrhea. 
Chewing : Improves digestion, clears and cleanses bowels.
Steamed-boiled : Absorbent, useful in malabsorption syndrome.
Fried: Cures Tridosh.
Consumed after food : Eliminate all the toxic effects due to food poisoning.
Consumed along with salt : Balances Kaph-Cough.
Consumed sugar : Balances Pitt and if taken with ghee, it balances Vat disorders.
IMPACT ON TRIDOSH :: Due to its unique combination of  pungent, sweet, bitter, sour and astringent tastes, it balances Pitt, Kaph-Cough, Vat-Vayu.
SEASONAL IMPACT ::  Sharat-Autumn: Consume it with sugar, Hemant-early winter: Consume it with Shunti (-सौंठ) ginger), Shishir-winter: Consume it with Pippali (-Long pepper, Piper longum), Vasant-Spring: Consume it with Madhu (-शहद honey), Greeshm-summer: Consume it with Gud jaggery).
SIDE EFFECTS :: Caution :-  Avoid when these symptoms-contra indications occur.
Tiredness, depleted immunity and strength, feeling of dryness and are emaciation, lean body, fasted for long, increased Pitta (-burning sensation), pregnant woman, after blood letting treatment, during and soon after menstruation, severe thirst, hunger and have got exposed to Sun for long,  indigestion, emaciated due to increased sexual activity and alcohol, dry mouth, people with neck stiffness, dry throat, early stages of fever.
Haritki is best avoided in infants, up to the age of 5 years. It should be given under medical supervision in children.
Single herb usage of Haritki is contra indicated in lactating mother. It may decrease breast milk production.
APHRODITE (SEXUAL WEAKNESS कमजोरी) :: (1). These Ayurvedic herbs-medicines help in regaining the strength of nerves and may be helpful in treating paralytic stroke as well. Weak muscles may also be strengthened-cured with their help.
(1.1). Keera is a natural Aphrodite found in the Himalyan terrains of Himachal Pradesh.
(1.2). Kesar too functions like this, though with low potency. Pomegranates are extremely good for health, vitality, vigour and as an Aphrodite, if taken regularly. 
(1.3). Saphad Musli (सफेद मूसली), Shtawari (शतावरी), Bada Goghru (बड़ा गोखरू), Jaiphal (जायफल), Kaunch कौंच, Akarkara (अकरकरा), Lajwanti (लाजवन्ती), Smudr Soukh (समुद्र सौख) and Ashw Gandha (अश्व गंधा)  Salv Panja (सल्व पन्जा), Bahman Saphed (बहमन सफेद), Tal Makhana (ताल मखाना) are some of the herbs, which have been used in India for their Aphroditic action, since ages. These herbs should be powdered in equal proportion and used with warm full cream milk regularly for treating all sorts of defects pertaining to impotency. इन्हें दूध या पानी अथवा अवलेह बनाकर लिया जा सकता है। ये मर्दानगी सम्बन्धी सभी बीमारियों का इलाज करती हैं तथा paralysis (पक्षाघात, लकवा) में भी फायदे मंद हो सकती हैं। 
लकवे से बचने के आयुवेर्दिक उपाय :: बीर बहूटी लाल रंग का कीड़ा है जो बरसात में निकलता है। उसको धूप में सुखाकर सरसों के तेल में मिलाकर पीस लें और धीरे-धीरे मालिश करें। विशेष लाभ के लिए निगुण्डी की जड़ भी पीसकर मिला लें। इससे पक्षाघात में आराम मिलेगा। 
कुछ दिनों तो रोज छुहारों को दूध में भिगोकर रोगी को देते रहने से लकवा ठीक होने लगता है।
सौंठ और उड़द को पानी में मिलाकर हल्की आंच में गरम करके रोगी को नित्य पिलाने से लकवा ठीक हो जाता है।
नाशपाती, सेब और अंगूर का रस बराबर मात्रा में एक ग्लिास में मिला कर सेवन करें। 
1 चम्मच काली मिर्च को पीसकर उसे 3 चम्मच देशी घी में मिलाकर लेप बना लें और लकवाग्रसित अंगों पर इसकी मालिश करें। एैसा करने से लकवा ग्रस्त अंगों का रोग दूर हो जाएगा।
 करेले की सब्जी या करेले का रस को नित्य खाने अथवा पीने से लकवा से प्रभावित अंगों में सुधार होने लगता है। यह उपाय रोज करना है।
प्याज खाते रहने से और प्याज का रस का सेवन करते रहने से लकवा रोगी ठीक हो जाता है।
6 कली लहसुन को पीसकर उसे 1 चम्मच मक्खन में मिला लें और रोज इसका सेवन करें। लकवा ठीक हो जाएगा।
तुलसी के पत्तों एवम दही और सेंधा नमक को पूरी तरह से मिलाकर उसका लेप करने से लकावा ठीक हो जाता है। ये उपाय लंबे समय तक करना होगा।
गरम पानी में तुलसी के पत्तों को उबालें और उसका भाप लकवा ग्रस्ति अंगों को देते रहने से लकवा ठीक होने लगता है।
आधा लीटर सरसों के तेल में 50 ग्राम लहसुन डालकर लोहे की कड़ाही में पका लें। जब पानी जल जाए उसे ठंडा होने दें फिर इस तेल को छानकर किसी डिब्बे में डाल लें। और इस तेल से लकवा वाले अंगों पर मालिश करें।
धतूरे के बीजों को सरसों के तेल में मंदी आंच में पका लें और  इसे छानकर लकवा से ग्रसित अंग पर मालिश करें।
लकवा से ग्रसित हिस्से पर बादाम, सरसों के तेल, निर्गुण्डी के तेल  की मालिश करें।  
मक्खन और लहसुन भी लकवा की बीमारी में राहत देते हैं। मक्खन के साथ लहसुन की चार कलियों को पीसकर सेवन करें।
दालचीनी और एक चम्मच  सोंठ को मिलाकर उबाल लें और नियमित इसका सेवन करें। 
परवल, करेला, गेहूं की रोटी, लहसुन, बाजरे की रोटी, तरोई, फली आदि का नियमित सेवन करें।
आम, चीकू, पपीता और अंजीर आदि फलों का सेवन करें ।
सुबह और शाम दूध का सेवन करें।
तली हुई चीजें, बेसन, चना, दही, चावल, छाछ और साग का सेवन ना करें।
त्रिफला का सेवन करने से भी लकवा ठीक हो सकता है।
(1.4). मक्खन-मलाई  मिश्री मिलाकर खाने से कमजोरी दूर होती है।
(1.5). सफेद मूसली का चूर्ण और मिश्री सुबह और रात को सोने से पहले गुनगुने दूध के साथ एक-एक चम्मच लेने से कमजोरी दूर होती है।
(1.6). सावन में गुड खावै, सो मौहर बराबर पावै॥ Consume small quantity of Jaggery-Gud (-गुड़), during rainy season for good health.
(1.7). Guggul is also an aphrodisiac and its regular intake improves sexual ability as well as it increases healthy sperm production. It promotes youthfulness with longevity.
(2). स्वस्थ, बलवान और शक्तिशाली शरीर :: शारीरिक परिश्रम करने वाले व्यक्ति को उचित आहार, व्यायाम, पर्याप्त नींद के साथ-साथ निम्न का सेवन भी करना चाहिए। 
(2.1). तिल :: तिल की तासीर-प्रकृति बेहद गर्म है। लगभग 100-100 ग्राम की मात्रा में काले तिल और ढाक के बीजों को पीसकर और इनको छानकर इसमें 200 ग्राम शक्कर मिलाकर इस मिश्रण को रोजाना 10-10 ग्राम की मात्रा में सुबह और शाम पानी के साथ लेने से शरीर में मजबूती आती है।
लगभग 20 ग्राम की मात्रा में काले तिल और इतनी ही मात्रा में गोखरू को मिलाकर बारीक पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को बकरी के दूध में खीर की तरह बनाकर खाने से शरीर में भरपूर ताकत का विकास होता है। इसका सेवन लगातार 15 या 20 दिनों तक करने से शरीर की कमजोरी खत्म हो जाती है।इनका दोनों का ही प्रयोग केवल ठंड बढ़ने पर ही करना चाहिए।समुचित व्यायाम करें अन्यथा वजन बढ़ने लगेगा। अधिक प्रयोग से बेमौसम पसीना आता है जिससे नाक बंद हो जाती है, साँस लेने में तकलीफ होती है। जोर लगाकर सिनकने से खून आना शुरू हो जाता है। इनके प्रयोग के समय नीबू का रस का प्रयोग अवश्य करें। सर्दी के मौसम में गज्जक, तिलपट्टी, तिलकुट आदि उपलब्ध होते हैं। इनका प्रयोग भी सीमित मात्रा में करना चाहिए।
(2.2). छुहारा :: लगभग 10 ग्राम छुहारे लेकर पीस लें। रोजाना कम से कम 2 ग्राम की मात्रा में इस छुहारे के चूर्ण को 250 मिलीलीटर हल्के गर्म दूध के साथ सोते समय लेने से शरीर मजबूत होता है। इसका सेवन केवल सर्दियों के दिनों में करना चाहिए।4 या 5 छुहारों की गुठलियों को निकालकर इसमें लगभग लगभग आधा ग्राम गुग्गल इनके अन्दर भर दें और इन छुआरों को दूध में पकायें। सुबह और शाम को रोजाना एक छुहारा दूध के साथ खाने से वात की बीमारी दूर हो जाती है और शरीर शक्तिशाली बनता है। लगभग 500 मिलीलीटर की मात्रा में दूध लेकर उसमें 2 छुआरे डाल दें। फिर दूध को आधा रह जाने तक गर्म करें। अब इस दूध में 2 चम्मच मिश्री या खांड़ लेकर मिलाकर पीयें और छुहारों को खा जायें। इसके खाने से शरीर में मांस बढ़ता है, शरीर की ताकत बढ़ती है और मनुष्य का वीर्य बल भी बढ़ता है। छुआरा खून बढ़ाता है, और शरीर के विभिन्न भागों में ताकत पहुंचाता है। इसका प्रयोग केवल सर्दी के दिनों में ही करना चाहिए। इसका सेवन करने के 2 घंटे तक पानी नहीं पीना चाहिए। एक बार में 4 से ज्यादा छुहारों का सेवन नहीं करना चाहिए। किसी मिट्टी या कांच के बर्तन में पानी लेकर इसमें 2 छुहारे शाम को भिगोकर रख दें। सुबह उठकर इन छुहारों की गुठली को निकालकर इन्हें लगभग 500 मिलीलीटर दूध में गर्म करें, और 250 मिलीलीटर दूध रह जाने तक गर्म करें। बचे हुए दूध को पीने से शरीर की कमजोरी खत्म हो जाती है और शरीर को भरपूर ताकत मिलती है। जो बच्चे बिस्तर पर पेशाब कर देते है उनको छुहारे का दूध पिलाने से वह बिस्तर पर पेशाब करना बन्द कर देते हैं। खजूर भी लगभग यही कार्य करते हैं और ऊर्जा के साथ शक्ति-स्फूर्ति-तंदरुस्ती प्रदान करते हैं। 
(2.3). बेर :: बेर खाली पेट खाना ज्यादा लाभप्रद है। लगभग 15 ग्राम की मात्रा में बेर के छिलकों को छाया में सुखाकर, पीपल, काली मिर्च, सौंठ और त्रिफला के साथ पीसकर इनका चूर्ण बना लें और इसमें लगभग 75 ग्राम की मात्रा में गुग्गल को पीसकर मिला लें। इस मिश्रण को 10 ग्राम की मात्रा में सुबह के समय पानी के साथ लेने से शरीर को ताकत मिलती है और शरीर से सभी रोग दूर रहते हैं।
(2.4). हरड़ :: लगभग 100-100 ग्राम की मात्रा में हरड़ का छिलका और पिसा हुआ आंवला को लेकर इसमें 200 ग्राम की मात्रा में खांड़ मिलाकर इस चूर्ण को सुबह के समय लगभग 10 ग्राम की मात्रा में 250 मिलीलीटर हल्के गर्म दूध के साथ लेने से शरीर में मजबूती आती है। भोजन के दौरान सुबह-शाम आधा चम्मच की मात्रा में हरड़ का चूर्ण लेते रहने से बुद्धि और शारीरिक बल में वृद्धि होती है।
(2.5). तालमखाना :: लगभग 25-25 ग्राम की मात्रा में तालमखाना, असगंध, बीजबन्द, गंगेरन, बरियार, कौंच के बीजों की गिरी, काली मूसली, सफेद मूसली और गोखरू को पीसकर तथा छानकर इस चूर्ण को लगभग 100 ग्राम देसी घी में भूनकर इसमें लगभग 100 ग्राम खांड़ या शक्कर को मिलाकर रख लें। इस तैयार मिश्रण में से एक चम्मच चूर्ण रोजाना सुबह के समय दूध के साथ लेने से शरीर में ताकत आती है। इस मिश्रण का प्रयोग सर्दी के दिनों में करना चाहिए।
(2.6). जायफल :: लगभग आधा ग्राम पिसा हुआ जायफल और लगभग इतनी ही बंगभस्म को शहद के साथ मिलाकर सुबह और शाम लेने से शरीर शक्तिशाली बनता है। जायफल, मिश्री और पीपल के चूर्ण को एक साथ मिलाकर इसमें नाग भस्म मिलाकर सेवन करने से शरीर में ताकत पैदा होती है।
(2.7). चिलगोजा :: कमजोरी आने पर चिलगोजा की मिंगी और मुनक्का को लगभग 24 घंटे तक पानी में भिगोकर रख दें। इसके बाद इसमें शक्कर मिलाकर खाने से शरीर की कमजोरी के दूर होने के साथ ही साथ शरीर में ताकत आ जाती है। चिलगोजा खाने से व्यक्ति के शरीर में चुस्ती और फुर्ती के साथ ही साथ अधिक ताकत भी आती है।
(2.8). नागरबेल :: नागरबेल के पत्तों का शर्बत बनाकर पीने से शरीर को मजबूती मिलती है और ताकत में वृद्धि होती है।
(2.9). बादाम :: बादाम का सेवन बहुत ठण्ड पड़ने पर अधिक लाभप्रद है। मगर इसकी मात्रा 2-3 तक ही सिमित रखें। रात को भिगोकर रखें और सुबह नहा-धोकर लगातार चबाचबाकर खायें। यह बुद्धि और बल दोनों बढ़ता है। ज्यादा खाने पर गर्मी भी कर देता है। नाक से खून आना, गले में खराश, खाँसी तो आम बात हैं। शरीर की शक्ति को बढ़ाने के लिए बादाम की गिरी और भुने हुए चनों को छीलकर रोजाना खाना चाहिए। लगभग 4 बादाम की गिरियों को पीसकर इसमें 1-1 ग्राम की मात्रा में शहद और मिश्री को मिलाकर चाटने से मनुष्य के शरीर में ताकत बढ़ जाती है। लगभग 7 बादाम की गिरी, 7 दाने कालीमिर्च, लगभग 3 ग्राम की मात्रा में सौंफ (गर्मियों के मौसम में सौंफ के स्थान पर सूखा हुआ साबुत धनिया) और 2 छोटी इलायची को लेकर शाम को सोते समय कांच या चीनी के बर्तन में भिगोकर रख दें। सुबह उठकर व्यायाम करने के बाद बादाम और इलायची के छिलके उतार लें और कालीमिर्च और सौंफ के साथ इनको पीस लें। इसके बाद इसको 250 मिलीलीटर पानी में मिलाकर कपड़े से छान लें। इसके बाद इसमें 2 चम्मच शहद या मिश्री मिलाकर धीरे-धीरे पीने से याददाश्त मजबूत होती है और आंखों की रोशनी तेज होने के साथ ही साथ शरीर की शक्ति बढ़ती है।बादाम की गिरियों से निकाला गया दूध बच्चों के लिए बहुत लाभकारी होता है। 2  बादाम की गिरियों को शाम को पानी में भिगोकर रख दें। इसके बाद सुबह इनका छिलका उतार कर बारीक पीस लें।अब इन पीसे हुए बादामों में मक्खन को मिलाकर खाने से तुतलाना और हकलाना दूर हो जाता है। इसके अलावा कमजोर शरीर भी मजबूत बनता है। इसका सेवन कुछ महीने तक करना चाहिए।शाम को सोते समय लगभग 2-3 बादाम की गिरियों को पानी में भिगोकर रख दें और सुबह इनका छिलका उतारकर बारीक पीस लें। अब इन पीसे हुए बादामों को कढ़ाई में घी डालकर हल्की आग पर भूने। इसमें लाल होने से पहले ही लगभग 150 ग्राम की मात्रा में दूध डालें। इस दूध को हल्का गर्म करके पीने से शरीर शक्तिशाली बनता है। इसके अलावा शरीर का वीर्य बल भी बढ़ता है। इसका सेवन रोजाना सुबह करना चाहिए।
(3). KAUNCH-MUCUNA (कौंच) :: Botanical Name: Mucuna pruriens, Family Name: Fabaceae, Common Name: Velvet Bean, Cowhage, Cow-itch, Buffalo bean, Kaunch, Atmagupt, Kapikacchu, Active Compounds: L Dopa
It is an annual twinning plant. Its eaves are tri foliage, gray-silky beneath, with  are long and silky petioles, measuring between 6.3 by 11.3 cm. The leaflets are membranous while terminal leaflets are smaller and lateral generally unequal sided. Dark purple flowers (6 to 30) occur in drooping racemes. The fruits are curved with 4 to 6 seeds. The longitudinally ribbed pod, is densely covered with persistent pale-golden hue-brown or grey tri-chomes that cause irritating blisters. Its seeds are black ovoid and 12 mm long.
Mucuna pruriens has been recognized as an aphrodisiac in Ayurved, has been shown to increase testosterone levels, helps deposition of protein in the muscles and increase muscle mass and strength. The extract is also known to enhance mental alertness and improve coordination.
GENERAL APPLICATIONS : Dyspepsia, Arthritis-Joint Pains, Rheumatoid, Arthritis, Gout, Stroke, Osteoarthritis, Osteoporosis, Cervical Spondylosis, Ankylosing, Sacroiliitis Disease, Back Pain, Slipped Disc, Sciatica, Frozen Shoulder, Constipation, Weak Digestion, Peptic ulcer, Ulcerative Colitis, Hepatitis, Hepatitis B, Hepatitis C, Cirrhosis of Liver, Irritable bowel syndrome, Crohn's Disease, Piles Disease,  Skin-Acne Problems, Acne Problems, Psoriasis, Hair Fall, Dandruff, Leucoderma, Urticaria, Eczema, Lichen Planus Pigmentosis, Keloid, Auto Immune Disorders, Cancer, Thyroid, Diabetes, Weight Loss, Fibromyalgia, Low immunity, Anti Ageing Treatment, Anaemia, Dark Circles & Wrinkles, Cardiac System, Hypertension,Pulmonary-Hypertension, Angina, Heart failure, High cholesterol, Nervine System, Parkinson Disease, Facial Paralysis, Paralysis, Trigeminal Neuralgia, Tennis Elbow, Mental,Disorders, Stress, Anxiety, Insomnia, Migraine, Low Memory, Depression, Obsessive Compulsive, Respiratory System, Asthma, Allergy, ENT (eyes, nose, throat) Disorders, Sinusitis, Tinnitus, Weak eye sight, Tonsillitis, Kidney Problems, Renal Stones, Kidney Failure, Kid's Health.
As an aphrodisiac (3.1). It bound up testosterone, (3.2). increases blood circulation to the genitals, (3.3). eliminate stress and anxiety-provides relaxation and sound sleep, (3.4). strengthen and tone the sexual glands, (3.5). support the healthy production of the sex hormones, (3.6). increase stamina and sex drive and (3.7). act as a restorative nutrient for the nervous system. It boosts general health, checks infertility improves sperm count, increases sexual strength, rejuvenation, erectile dysfunction, premature ejaculation, nightfall, penis enlargement-elongation, improves libido, corrects male hormone disorder, impotence along with helping in prostate enlargement. Its equally beneficial for the women suffering from sexual disorders.
(4). GUGGUL :: Family Name-Burseracae, Botanical Name-Commiphora Wightii, Common Name-Commiphora, Mukul, Guggul, Balsmodendron Mukul, Indian Bdellium Tree, Moql, Moql-Arzagi, Habitat: Rocky tracks of Western India and Eastern Himalayas.
Guggul tree (-a tiny, thorny mukul myrrh tree) produces a resinous sap referred to as Guggul gum.The Guggul extract from this gum is called Guggul lipid (-guggulipid or guglipid.) The active ingredient in the Guggul extract is the steroid called guggulsterones, that is believed to lower cholesterol synthesis in liver. It helps to get rid of the unwanted fat.
Guggul herb is an ushan viry herb with hot potency and Ayurvedic medicine uses it for the treatment of many diseases. Guggul is popularly known as the natural fat killer. Guggul extract is used for lowering cholesterol levels and lipids.It is a good appetiser and also grants relief from hyper acidity and belching.
Guggul improves digestive disorders and prevents indigestion and constipation. Guggul is also a very useful anti inflammatory and pain relieving herb. It is used for treating rheumatoid arthritis, osteoarthritis, sciatica, paralysis, hemiplegia, lymphadenopathy. Guggul herb, due to its antibiotic effects is widely used for treating infectious diseases.It is also used for treating upper respiratory tract infection.It fights asthma. Gargles with guggul dissolved in water can treat tonsillitis, mouth ulcers, upper respiratory tract infection, throat irritation, pharyngitis and stomatitis. Guggul is also very useful herb for treating various heart problems.It is a very good blood purifier and is thus used to treat various skin diseases including leprosy and eczema. Guggul herb treats hypertension as it helps in lowering blood pressure to normal levels.
It is also an aphrodisiac and its regular intake improves sexual ability as well as it increases healthy sperm production.
Guggul herb is also beneficial for women's health because it gives relief from menstrual problems like painful menses, cramps and other related conditions.
It promotes youthfulness with longevity.
WARNING :: Ayur Ved restricts everyone from taking Guggul in raw form. Guggul gum extract should always be used with milk, water or in herbal medicine preparations.
SESAME SEED  तिल :: 
(1). न्यूट्रिएंट्स-पोषक तत्व: इसमें कैल्शशियम, आयरन, ऑक्जेलिक एसिड, अमीनो एसिड, प्रोटीन, विटामिन बी, सी तथा ई की प्रचुर मात्रा होती है। 
(2). शारीरिक-मानसिक दुर्बलता: ठंड में समान मात्रा में मिले तिल गुड़ के लड्डू दूध के साथ खाने से मानसिक दुर्बलता, तनाव, सांस फूलना दूर होगा, जल्दी बुढ़ापा नहीं आयेगा और शक्ति मिलेगी। 
(3). बाल झड़ना:  तिल के तेल में आँवला पकाकर, छानकर सिर में  मालिश करने से बाल घने काले और चमकदार हो जायेंगे और बालों का गिरना भी कम हो जायेगा।
(4). बबासीर: सर्दियों में दो चम्मच काले तिल को चबाकर पानी पिने से लाभ मिलता है। 
(5). बिस्तर में पेशाब: भुने काले तिल और गुड़ के लड्डू, बच्चे को सोने से पहले खिलाइये।
मूत्र सम्बन्धी विकार :  बार-बार पेशाब का आना या खुलकर पेशाब का न आये तो  5 ग्राम तिल तथा 5 ग्राम गौखरू का काढा बनाकर पिने से आराम मिलेगा।
(6). एंटी एजिंग :  एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर तिल का तेल सर्दियों में खाना बनाने के लिए इस्तेमाल करने से वाइरस, एजिंग और बैक्टीरिया से शरीर की रक्षा करता है। 
(7). डायबिटीज:  इसके एंटी डायबेटिक गुण दवा का असर करते हैं।
(8). पेट दर्द:  20 ग्राम तिल चबाकर उपर से गर्म पानी पिलाने से पेट का दर्द ठीक हो जाता है।
(9). कब्ज:   50 ग्राम भुने हुए तिल कूट कर चीनी के साथ खाइये।
(10). दांत और मसुड़े:  सर्दियों में सुबह के वक्त चबा-चबा कर काले तिल खाने से लाभ मिलता है। 
(11). आर्थराइटिस: तिल, सोंठ, मेथी, अश्वगंधा सभी बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण बनाकर रोज सुबह सेवन करें। आर्थराइटिस की समस्या ठीक हो जाती है।
(12). सर्दी: तिल के बने गज्जक, रेवड़ी, तिलकुट  कम मात्रा में खाने से ठण्ड, कफ व सूजन से बचाव होता है।  अदरक वाली चाय में दो ग्राम कुटे हुए तिल मिलाकर, खूब उबालकर पीने से  खांसी ठीक हो जाती है।
SESAME OIL तिल का तेल :: तिल का तेल सर्दियों में सेहत के लिए वरदान है। तैल शब्द की व्युत्पत्ति तिल शब्द से ही हुई है। यह एक औषधि का काम करता है।  शरीर में बीमारियों से  लड़ने की क्षमता विकसित करता है। इसमें बादाम की अपेक्षा छः गुना कैल्शियम है।काले और लाल तिल में लौह तत्वों की भरपूर मात्रा होती है जो कि रक्त अल्पता के इलाज़ में कारगर साबित होती है। इसमें उपस्थित लेसिथिन नामक रसायन कोलेस्ट्रोल के बहाव को रक्त नलिकाओं में बनाए रखने में मददगार होता है।
तिल के तेल में प्राकृतिक रूप में उपस्थित सिस्मोल एक ऐसा एंटी-ऑक्सीडेंट है जो इसे ऊँचे तापमान पर भी बहुत जल्दी खराब नहीं होने देता। आयुर्वेद चरक संहिता में इसे पकाने के लिए सबसे अच्छा तेल माना गया है।तिल में विटामिन ए और सी छोड़ कर वे सभी आवश्यक पौष्टिक पदार्थ होते हैं जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए अत्यंत आवश्यक होते हैं। तिल विटामिन बी और आवश्यक फैटी एसिड्स से भरपूर है। इसमें मीथोनाइन और ट्रायप्टोफन नामक दो बहुत महत्त्वपूर्ण एमिनो एसिड्स होते हैं, जो चना, मूँगफली, राजमा, चौला और सोयाबीन जैसे अधिकांश शाकाहारी खाद्य पदार्थों में नहीं होते। ट्रायोप्टोफन को शांति प्रदान करने वाला तत्व भी कहा जाता है जो गहरी नींद लाने में सक्षम है। यही त्वचा और बालों को भी स्वस्थ रखता है। मीथोनाइन लीवर को दुरुस्त रखता है और कॉलेस्ट्रोल को भी नियंत्रित रखता है।
तिल बीज स्वास्थ्यवर्द्धक वसा का बड़ा स्त्रोत है जो चयापचय को बढ़ाता है। यह कब्ज भी नहीं होने देता। तिल बीजों में उपस्थित पौष्टिक तत्व, जैसे-कैल्शियम और आयरन त्वचा को कांतिमय बनाए रखते हैं। तिल में न्यूनतम सैचुरेटेड फैट होते हैं इसलिए इससे बने खाद्य पदार्थ उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है।
सर्दियों में तिलपट्टी, गज्ज़क, गज्जक रोल आदि प्रचुर मात्रा में बाज़ार में उपलब्ध होते हैं, जो कि सर्दी से बचाव करते हैं। अधिक मात्रा में लेने से वज़न बढ़ना, नकसीर जैसे समस्याएँ हो सकती है। 
गौंद (Gum, Glue, gelatinous sweet) :: इसका प्रयोग प्रसूताओं के लिए होता है। ये नारी के प्रजनन अंगों को शक्ति पदान करने  का काम करता है। गोंद को घी में भूनते हैं तो ये फूल कर बड़ा हो जाता है फिर उसका चूरा  करके मेवों के साथ मिला कर लड्डू बनाए जाते हैं। यह भी इसे खाने का एक तरीका है, यह अक्सर प्रसूताओं के लिए बनाया जाता है। बबूल के गोंद में गैलेक्टोज, एरेबिक एसिड, कैल्शियम तथा मैग्नीशियम के लवण उपस्थित होते हैं।आयुर्वेद के अनुसार यह  मुँह के छालों, गले के सूखने में, मूत्र के अवरोध में, अतिसार और मधुमेह में उपयोगी है।
गौंद पंजीरी :: This preparation chiefly contains flour, jaggery-sugar,  ghee, dry fruits, melon seeds, Sounth-dried ginger, dakhini mirch and azwain. This is an essential preparation to be served to the lactating mothers to avoid pain -rheumatic pain in their knee joints at a later stage-old age.
BEAT ROOT  चुकन्दर :: (1). इसमें सोडियम पोटेशियम, फॉस्फोरस, क्लोरीन, आयोडीन, आयरन और विटामिन पाए जाते है। इसमें एंटीआक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो  जवान बनाएं रखने में मदद करते हैं। यह थकान दूरकर आलस मिटाता है। 
(2). सफेद चुकंदर त्वचा के लिए फायदेमंद है। इसको पानी में उबाल कर छानकर इस्तेमाल करने से यह फोड़े, जलन, मुहांसे, खसरा, बुखार,  त्वचा को साफ करने आदि में मदद करता है। 
(3). चुकंदर में नाइट्रेट होता है जो रक्त के दबाव को संयत करता है। यह एनीमिया में उपयोगी है और आयरन की प्रचुरता के कारण  रक्त बढ़ाकर लाल रक्त कोशिकाओं को सक्रिय करता है,  प्रतिरोधक क्षमता और घाव भरने की क्षमता बढ़ता है और दिल की बिमारियों में लाभप्रद है। 
(4). चुकंदर का नियमित सेवन करेंगे, तो कब्ज की शिकायत नहीं होगी। बवासीर के रोगियों के लिए भी यह काफी फायदेमंद होता है। रात में सोने से पहले एक गिलास या आधा गिलास जूस दवा का काम करता है।
(5). खाने के साथ चुकंदर सलाद की तरह इस्तेमाल करें। इससे शरीर में ताकत बढ़ेगी और थकान भी दूर होगी।
(6). उच्च रक्त चाप हो गया हो तो इसको खाकर पानी पियेंगे तो तुरन्त लाभ मिलेगा। चुकंदर और सेब का मिक्स जूस पीने से ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है।  इससे  ज्यादा सेवन ना करें। 
मुनक्का :: (1). यह गर्म प्रकृति का सुखा मेवा है। यह प्यास के साथ-साथ गर्मी और पित्त को शान्त करता है। यह पेट और फेफड़ों के रोगों में भी बहुत लाभकारी है। 
(2). मुनक्के  रात में धो-भिगोकर रखें और सुबह बीज निकालकर खूब चबा-चबा कर खाएं। यह खून साफ करने के साथ-साथ नकसीर को भी रोकेगा।
(3). मुनक्के का बीज निकाल कर तवे पर भून लें तथा उसमें काली मिर्च का चूर्ण मिला कर चबाने से खांसी में लाभ होगा।
(4). बच्चा यदि बिस्तर में पेशाब करता  हो तो, उसे  बीज निकालकर मुनक्के में  काली मिर्च डालकर रात को सोने से पहले खिला दें।
(5). पुराने-मियादी बुखार से भूख लगनी बंद होने पर मुनक्के भून कर, सेंधा नमक व कालीमिर्च मिलाकर खाने से भूख खुलती है।
(6). कब्ज़ होने पर मुनक्कों को दूध में उबाल लें और रात में सोते समय  बीज निकाल के  खायें और  ऊपर से गर्म दूध पी लें।
(7). ये कमजोरी मिटाकर  शरीर को पुष्ट करते हैं।
(8). लौह तत्व (-iron) की मात्रा अधिक होने के कारण यह (-Haemoglobin)  खून के लाल कण को बढ़ाता है।
 (9). इन्हें पानी में  भिगोकर खाने से चक्कर आने बंद हो जाते हैं। 
पीपल-पिप्पली :: (1). यह छोटी और बड़ी दो प्रकार की होती है, जिनमें से छोटी ज्यादा गुणकारी होती है। 
(2). यह पाचक अग्नि बढ़ाने वाली, वृष्य, पाक होने पर मधुर रसयुक्त, रसायन, तनिक उष्ण, कटु रसयुक्त, स्निग्ध, वात तथा कफ नाशक, लघु पाकी और रेचक (-मल निकालने वाली) है तथा श्वास रोग, कास (-खांसी), उदर रोग, ज्वर, कुष्ठ, प्रमेह, गुल्म, बवासीर, प्लीहा, शूल और आमवात नाशक है।
(3). कच्ची अवस्था में यह कफकारी, स्निग्ध, शीतल, मधुर, भारी और पित्तशामक होती है, लेकिन सूखी पीपर पित्त को कुपित करती है। शहद के साथ लेने पर यह मेद, कफ, श्वास, कास और ज्वर का नाश करने वाली होती है। ग़ुड के साथ लेने पर यह जीर्ण ज्वर (-पुराना बुखार) और अग्निमांद्य में लाभ करती है तथा खांसी, अजीर्ण, अरुचि, श्वास, हृदय रोग, पाण्डु रोग और कृमि को दूर करने वाली होती है। पीपल के चूर्ण की मात्रा से गुड़ की मात्रा दोगुनी रखनी चाहिए।
रासायनिक संघटन :- इसमें सुगन्धित तेल (0.7%), पाइपरीन (4-5%), पिपलार्टिन, सिसेमिन और पिपलास्टिरॉल पाए जाते हैं। हैं। पीपर की जड़ (-पीपला मूल) में पाइपरिन (0.15-0.18%), पिपलार्टिन (0.13-0.20%), पाइपरलौंगुमिनिन,  स्टिरायड तथा ग्लाइकोसाइड पाए जाते हैं।
सौंठ :: अदरक  को सुखाकर सौंठ बनाया जाता है। तेज धूप में सुखाई गई अदरक से बनी सौंठ अधिक गुणकारी है।  इसमें अदरक के सारे गुण मौजूद होते हैं। यह उपयोगी एक  वातनाशक औषधि है। सौंठ में उदर वातहर (-वायुनाशक) गुण होने से, यह विरेचन औषधियों के साथ मिलाई जाती है। यह शरीर में समत्व स्थापित कर जीवनी शक्ति और रोग प्रतिरोधक सामर्थ्य को बढ़ाती है।
(1). भोजन से पहले अदरक को चिप्स की तरह बारीक कतर लें, या कद्दूकस कर लें।  इन के ऊपर पर पिसा हुआ काला नमक बुरक कर खूब चबा-चबाकर खाने के बाद भोजन करें। इससे अपच दूर होती है, पेट हलका रहता है और भूख खुलती है।
(2). सौंठ और उड़द उबालकर, इसका पानी पीने से लकवा ठीक हो जाता है।
(3). सौंठ मिलाकर उबाला हुआ पानी पीने से, पुराना जुकाम खत्म होता है। 
(4). सौंठ, पीपल और काली मिर्च को बराबर की मात्रा में लेकर पीसने से त्रिकुटा बनता है।  इसकी 1 चुटकी शहद के साथ चाटने से जुकाम में आराम आता है।
(5). सौंठ, सज्जीखार और हींग का चूर्ण गर्म पानी के साथ सेवन करने से सारे तरह के दर्द नष्ट हो जाते हैं।
(6). सौंठ और जायफल को पीसकर पानी में अच्छी तरह मिलाकर छोटे बच्चों को पिलाने से, दस्त में आराम मिलता है। 
(7). सौंठ, जीरा और सेंधा नमक के चूर्ण को  ताजा दही के मट्ठे में मिलाकर, भोजन के बाद सेवन करने से पुराने अतिसार -(दस्त) का मल बंधता है। आम (-कच्ची ऑव) कम होती है और भोजन का पाचन होता है। 
(8). सौंठ को पानी या दूध में घिसकर नाक से सूंघने से और लेप करने से आधे सिर के दर्द में लाभ होता है।
(9). सौंठ को गुड़ के साथ मिलाकर खाने से, शरीर की सूजन खत्म हो जाती है।
(10). सौंठ को गुड़ हल्दी के साथ मिलाकर दूध के साथ खाने से शारीरिक-चोट के दर्द से आराम मिलता है। 
(11). सौंठ, काली मिर्च और हल्दी के चूर्ण को मिला कर  गर्म पानी के साथ दिन में 2 बार सेवन करने से श्वासनली की सूजन और दर्द में लाभ मिलता है।  ब्रोंकाइटिस के अतिरिक्त-अलावा  यह खांसी, जोड़ों में दर्द, कमर दर्द और हिपशूल में लाभकारी होता है। इसे आवश्यकतानुसार एक हफ्ते तक लेना चाहिए। पूर्ण रूप से लाभ न होने पर इसे 4-5 बार ले सकते हैं।
(12). सौंठ और कायफल के मिश्रित योग से बनाए गये काढे़ का सेवन करने से वायु प्रणाली की सूजन में लाभ मिलता है।
(13). सौंठ, हरड़, बहेड़ा, आंवला और सरसों का काढ़ा बनाकर कुल्ला करें। इससे रोजाना सुबह-शाम कुल्ला करने से मसूढ़ों की सूजन, पीव, खून और दांतों का हिलना बंद हो जाता है।
(14). सौंठ को गर्म पानी में पीसकर बनाये लेप को रोजाना दांतों को मलने से दांतों में दर्द नहीं होता और मसूढे़ मजबूत होते हैं।
(15). सौंठ, मिर्च, पीपल, नागकेशर का चूर्ण घी के साथ माहवारी समाप्त होने के बाद, यदि स्त्री सेवन करे तो गर्भ ठहर जाता है।
(16). महारास्नादि में सौंठ का चूर्ण मिलाकर सुबह-शाम पीने और रोजाना रात को 2 चम्मच एरण्ड के तेल को दूध में मिलाकर सोने से पहले सेवन करने से अंगुलियों की कंपन की शिकायत दूर हो जाती है।
(17). यदि दिल कमजोर हो, धड़कन तेज या बहुत कम हो जाती हो, दिल बैठने लगता हो तो 1 चम्मच  सौंठ को एक कप पानी में उबालकर उसका काढ़ा बना लें। यह काढ़ा रोज इस्तेमाल करने से लाभ होता है।
(18). 10 ग्राम सौंठऔर 10 ग्राम अजवायन को 200 मिलीलीटर सरसों के तेल में डालकर आग पर गर्म करें। सौंठऔर अजवायन भुनकर जब लाल हो जाए तो तेल को आग से उतार लें। यह तेल सुबह-शाम दोनों घुटनों पर मलने से रोगी के घुटनों का दर्द दूर हो जाता है। 10 ग्राम सोंठ, 10 ग्राम कालीमिर्च, 5 ग्राम बायविडंग और 5 ग्राम सेंधानमक को एक साथ पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को एक छोटी बोतल में भर लें, फिर इस चूर्ण में आधा चम्मच शहद मिलाकर चाटने से गठिया का दर्द दूर हो जाता है।
(19). 6 ग्राम पिसी हुई सौंठ में 1 ग्राम नमक मिलाकर गर्म पानी से फंकी लेने से पित्त की पथरी में फायदा होता है।
(20). सौंठ, गुग्गुल तथा गुड़ को 10-10 ग्राम की मात्रा में लेकर, काढ़ा बनाकर सोते समय पीने से मासिक-धर्म सम्बन्धी परेशानी दूर हो जाती हैं।
(21). 50 ग्राम सौंठ, 25 ग्राम गुड़ और 5 ग्राम बायविडंग को कुचलकर 2 कप पानी में उबालें। जब एक कप बचा रह जाए तो उसे पी लेना चाहिए। इससे मासिक-धर्म नियमित रूप से आने लगता है।
(22). गुड़ के साथ 10 ग्राम  सौंठ खाने से पीलिया का रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।
(23). आम का रस पेट में गैस न करे, इसलिए उसमें सौंठ और घी डाला जाता है। 
(24). बुढ़ापे में पाचन क्रिया कमजोर पड़ने लगती है। वात और कफ का प्रकोप बढ़ने लगता है। हाथों, पैरोँ तथा शरीर के समस्त जोड़ो में दर्द रहने लगता है। सौंठ मिला हुआ दूध पीने से बुढ़ापे के रोगों से राहत मिलती है।
चेतावनी: गर्म प्रकृति वाले लोगो के लिए सौंठ अनुकूल नहीं है। 
हींग :: दाल-सब्जी में हींग दर्द निवारक और पित्तवर्द्धक है। छाती और पेटदर्द में हींग का सेवन लाभकारी है। छोटे बच्चे के पेट में दर्द होने पर, हींग को एक चम्मच पानी में घोलकर पकाने और उसे नाभि के इर्द-गिर्द लगाने से  राहत मिलेगी। 
त्रिफला :: 1 मात्रा हरड़ +2 मात्रा बहेड़ा +3 मात्रा आंवला दो तोला हरड बड़ी मंगावे, तासू दुगुन बहेड़ा लावे। और चतुर्गुण मेरे मीता, ले आंवला परम पुनीता। कूट छान या विधि खाय, ताके रोग सर्व कट जाय। 
मात्रा :: 2 से 4 ग्राम चूर्ण सुबह, दोपहर को भोजन के बाद अथवा रात को गुनगुने पानी-गर्म दूध के साथ लें।
प्रयोग विधि :: सुबह हाथ-मुंह धोने व कुल्ला करने के बाद खाली पेट, ताजे पानी के साथ इसका सेवन करना चाहिये तथा सेवन के बाद एक घंटे तक पानी के अलावा कुछ नहीं लेना चाहिये। 
(1). सुबह त्रिफला गुड के साथ लेने से यह शरीर को पोषण देता है और विटामिन, लौह तत्व, कैल्शियम व अन्य माइक्रो न्यूट्रिएंट्स की कमी को पूरा करता है। 
(2). रात में गुनगुने पानी या गर्म दूध के साथ लेने से यह पेट की सफाई (-कब्ज इत्यादि) का निवारण करने के कारण  रेचक कहलाता है।  
(3). विभिन्न ऋतुओं में इसके साथ गुड़, सैंधा नमक आदि मिलाकर लेना चाहिये।
* ग्रीष्म ऋतु  (-14 मई से 13  जुलाई):  1/4  भाग गुड़ के साथ मिलाकर सेवन करें। 
* वर्षा ऋतु ( - 14 जुलाई से 13  सितम्बर):   1/4 भाग सैंधा नमक मिलाकर सेवन करें।
* शरद ऋतु (- 14 सितम्बर से 13  नवम्बर):   1/4 भाग देशी खांड मिलाकर सेवन करें। 
* हेमंत ऋतु (- 14  नवम्बर से 13  जनवरी):  1/4 भाग सौंठ का चूर्ण  मिलाकर सेवन करें। 
* शिशिर ऋतु (- 14 जनवरी से 13  मार्च):  1/4 भाग छोटी पीपल चूर्ण मिलाकर सेवन करें। 
* बसंत ऋतु ( - 14 मार्च से 13 ):   शहद मिलाकर सेवन करें।*  त्रिफला का नियमित सेवन शरीर का कायाकल्प कर सकता है। इस तरह इसका सेवन करने से एक वर्ष के भीतर शरीर की सुस्ती दूर होगी, दो वर्ष सेवन से सभी रोगों का नाश होगा, तीसरे वर्ष तक सेवन से नेत्रों की ज्योति बढ़ेगी,  चार वर्ष तक सेवन से चेहरे का सोंदर्य निखरेगा, पांच वर्ष तक सेवन के बाद बुद्धि का अभूतपूर्व विकास होगा, छ: वर्ष सेवन के बाद बल बढेगा, सातवें वर्ष में सफ़ेद बाल काले होने शुरू हो जायेंगे और आठ वर्ष सेवन के बाद शरीर युवाशक्ति सा परिपूर्ण लगेगा।
(4). नेत्र-प्रक्षलन :- एक चम्मच त्रिफला चूर्ण रात को एक कटोरी पानी में भिगोकर रखें। सुबह कपड़े से अच्छी तरह छानकर, उस पानी से आंखें धोने से यह  आंखों के लिए हितकर साबित होता है।  आंखें स्वच्छ व दृष्टि सूक्ष्म होती है। आंखों की जलन, लालिमा दूर हो जाती हैं।
(5). कुल्ला करना :- त्रिफला रात को पानी में भिगोकर रखें। सुबह मंजन करने के बाद यह पानी मुंह में भरकर रखें। थोड़ी देर बाद  करें।  इससे दांत व मसूड़े वृद्धावस्था तक मजबूत रहते हैं। इससे अरुचि, मुख की दुर्गंध व मुंह के छाले नष्ट होते हैं।
(6). त्रिफला के गुनगुने काढ़े में शहद मिलाकर पीने से मोटापा कम होता है।
(7). त्रिफला के काढ़े से घाव धोने से एलोपैथिक-एंटिसेप्टिक की आवश्यकता नहीं रहती और घाव जल्दी भर जाता है।
(8). गाय का घी व शहद के मिश्रण (-घी अधिक व शहद कम) के साथ त्रिफला चूर्ण का सेवन आंखों के लिए वरदान स्वरूप है।संयमित आहार-विहार के साथ इसका नियमित प्रयोग करने से मोतियाबिंद, कांचबिंदु-दृष्टिदोष आदि नेत्र रोग होने की संभावना नहीं होती।
(9). मूत्र संबंधी सभी विकारों व मधुमेह में यह फायदेमंद है। 
(10). रात को गुनगुने पानी-गर्म दूध के साथ त्रिफला लेने से कब्ज नहीं रहती है।
(11). इसका नियमित सेवन रेडियोधर्मिता से भी बचाव करता है। प्रयोगों में देखा गया है कि त्रिफला की खुराकों से गामा किरणों के रेडिएशन के प्रभाव से होने वाली अस्वस्थता के लक्षण भी नहीं पाए जाते हैं। इसीलिए त्रिफला चूर्ण आयुर्वेद का अनमोल उपहार कहा जाता है।
सावधानी :- दुर्बल, कृश व्यक्ति तथा गर्भवती स्त्री को एवं नए बुखार में त्रिफला का सेवन नहीं करना चाहिए।
हरड, बहेडा, आँवला चौथी नीम, गिलोय, पंचम जीरा डालकर सुमिरन काया होय॥ 
Consumption of a powder made from Haid, Baheda, Amla, Neem leaves, Jeera and Giloy helps in keeping fit in all seasons.
मैथीदाना, अजवाईन, काली जीरी का ये मिश्रण :: 18 असाध्य रोगों का इलाज़ 
पाँच भाग मैथीदाना, दो भाग अजवाईन, एक भाग काली जीरी; इन तीनों को साफ-सुथरा करके हल्का-हल्का सेंक कर तीनों को अच्छी तरह मिला कर चूर्ण बना लें। रात्रि में सोते समय एक चम्मच पावडर एक गिलास पूरा कुन-कुने गरम पानी के साथ लें। लेने के बाद कुछ भी खाना पीना नहीं है। यह चूर्ण सभी उम्र के व्यक्ति ले सकते हैं। चूर्ण रोज-रोज लेने से शरीर के कोने-कोने में जमा पडी गंदगी (कचरा) मल और पेशाब द्वारा बाहर निकल जाएगी। पूरा फायदा तो दो-तीन महीने में महसूस होगा, जब वज़न कम हो जायेगा और रक़्त का संचार बढ़ जायेगा। त्वचा की झुर्रियाॅ स्वतः दूर हो जायेंगी। शरीर तेजस्वी, स्फूर्ति पूर्ण  व सुंदर बन जायेगा।
(1). गठिया दूर होगा और गठिया जैसा जिद्दी रोग दूर हो जायेगा, (2). हड्डियाँ मजबूत होंगी, (3). आँखों रौशनी बढ़ेगी, (4). बालों का विकास होगा, (5). पुरानी कब्जियत से हमेशा के लिए मुक्ति, (6). शरीर में खून दौड़ने लगेगा, (7). कफ से मुक्ति, (8). हृदय की कार्य क्षमता बढ़ेगी, (9). थकान नहीं रहेगी, घोड़े की तरह दौड़ते नज़र आयेंगे, (10). स्मरण शक्ति बढ़ेगी, (11). शादी के बाद स्त्री का बेडौल शरीर सुंदर बनेगा, (12). कान का बहरा पन दूर होगा, (13). भूत काल में इस्तेमाल की गईं अंग्रेजी दवाइयों के कुप्रभाव से मुक्ति मिलेगी, (14). खून साफ होगा, (15). शरीर की धमनियाँ और शिराएँ साफ हो जायेंगी, (16). दाँत मजबूत बनेंगे, इनेमल जींवत रहेगा, (17). नपुसंकता दूर होगी, (18). डायबिटिज काबू में रहेगी, डायबिटीज की जो दवा लेते है, वह चालू रखें। इस चूर्ण का असर दो माह लेने के बाद से दिखने लगेगा। जिंदगी निरोग,आनंददायक, चिंता रहित स्फूर्ति दायक और आयुष्ययवर्धक बनेगी। जीवन जीने योग्य बनेगा। 
त्रिकटु या त्रिकुटा चूर्ण :: सौंठ-सुन्ठी-सूखी अदरख, काली मिर्च और छोटी पीपल। इन तीनों को बराबर बराबर मात्रा में लेकर कूट पीसकर अथवा मिक्सी में डालकर महीन चूर्ण बना लें।  
*यह चूर्ण अपच, गैस बनना, पेट की आंव, कोलायटिस, बवासीर, खाँसी, कफ का बनना, सायनोसाइटिस, दमा, प्रमेह तथा बहुत सी बीमारियों में लाभ पहुँचाता है। 
*इसे सेन्धा नमक के साथ मिलाकर खाने से वमन, जी मिचलाना, भूख का न लगना आदि में लाभकारी है। 
*अर्जुन की छाल के साथ बनाया गया इसका काढा हृदय रोगों में लाभ पहुंचाता है|
*खांसी, कफ, वायु, शूल नाशक व अग्नि दीपक में लाभ हेतु मात्रा 1/2 से 1 ग्राम प्रातः-सायंकाल शहद से।
*त्रिकटु  1/2 चम्मच नित्य गुनगुने पानी से प्रयोग जोड़ों के दर्द में राहत देता है। 
*त्रिकटु, हल्दी, त्रिफला, वायविडंग और मंडूर को बराबर की मात्रा में मिलाकर, इसे घी और शहद के साथ लेने से पीलिया ठीक होता है। 
*सायनस में अगर कफ जम जाता हो तो त्रिकटु और रीठा पानी में मिला कर नाक में डालने से सारा जमा हुआ कफ बाहर निकल आता है। 
*त्रिकुटा करंज और सैंधा नमक घी और शहद के साथ बच्चों को देने से सुखा रोग में लाभ होता है। 
*त्रिकुटा, जवाक्षार और सेंधा नमक छाछ के साथ लेने से जलोदर ठीक होता है। 
*टॉन्सिल्स में सुजन के लिए त्रिकुटा और अविपत्तिकर चूर्ण को सामान मात्रा में ले कर, इसका एक चम्मच गुनगुने पानी से लें। 
Brown, Ground, and Golden FlaxseedHEALTH BENEFITS OF ALSI-FLAX SEEDS अलसी के गुण :: Linseed-flex-Alsi has vital uses in day to day meals. A single table spoon of ground flax seeds contain 2 grams of poly-unsaturated fatty acids, 2 grams of fibre and 37 calories. (1). These seeds of Alsi-flex seed are an excellent source of omega-3 fatty acids (-omega-3 fatty acid alpha-Linolenic acid or ALA-an essential fat, which the human body can't make on its own) and omega-6 (-linoleic acid or LA). (2). They are a great source of  dietary fibre, lignans, vitamins (-vitamins B-1, B-2, C, E, and carotene) and minerals (iron, zinc and trace amounts of potassium, magnesium, phosphorus, calcium & manganese (-required for proper nutrient absorption, enzyme function, bone development and wound healing). (3). They are great antioxidants (-significantly higher in poly phenol antioxidants than many fruits or vegetables). (4). They possess a high-quality protein, full of a phyto nutrient called lignin. (5). They are ingestible as whole seeds, oil, powder or capsules.
(1). CANCER :- The high level of omega 3 fatty acid and Lignans present in flax combats prostate cancer, colon cancer and breast cancer. Three types of Lignans found in flax seed are-secoisolariciresinol, matairesinol and pinoresinol that has capacity to affect the hormonal workings and control hormone related cancers and hormone dependent tumours. 
Brown, Ground, and Golden Flax seed.
(2). HORMONAL BALANCE IN WOMEN :- It helps in maintaining hormone levels in women of all ages and reduction of hot flashes caused by menopause.
(3). BONES :- It prevents bone erosion-loss, increases bone density and decrease the risk of osteoporosis. It helps in arthritis, and joint pain.
(4). CARDIO VASCULAR DISEASES :- It helps in the reduction of the risk involving cardiovascular disease because it is rich in antioxidants and good for reducing bad LDL cholesterol levels and increasing good cholesterol (-thus protecting against heart disease). 
(4.1). HEART :- Diets rich in omega-3 fatty acids decrease risk of heart attack, stroke and abnormal heart rhythms-palpitation.
(5). KIDNEYS :- Cleansing action is proper maintained and risk of kidney failure is reduced substantially.
(6). DIABETES :- Lowering of blood sugar helps in substantiating insulin levels in the body.
(7). WEIGHT REDUCTION :- It maintains the weight to normal to normal levels.
(8). RHEUMATISM :- It helps in relieving the symptoms of rheumatoid arthritis.
(9). MICROBES :- It helps in checking the growth of bacteria, fungus, virus in addition to protozoans in the body.
(10). PREGNANCY :- It helps in child's brain development, especially in uterus and during infancy. So, it's especially important for pregnant women and breastfeeding mothers.
(11). SKIN DISORDERS :- Helpful in the treatment of skin disorders like eczema, psoriasis, sun sensitivities and dandruff. It strengths skin, hair and fingernails as well.
how to eat flax seeds.
(12). DIGESTION :- Improves digestion and colon health, being a natural lubricant and a rich source of fibre, it lowers the risk of  constipation and diarrhoea and offers relief from them as well.
(13). IMMUNITY :- The alpha-Linolenic acid and lignans decrease inflammation and promote healthy functioning of the immune system.
One of its unique characteristics is the oil in the Flax seed is presence of over 40 percent oil. Like other vegetable oils, flax oil is a mixture of fatty acids, but flax is the best source of omega-3 s, fatty acids called alpha-Linolenic acid or ALA. It's also a great source of omega-6 s and the only seed that has both types. Alsi-flex seed oils turn rancid quickly, so one should avoid its exposure to light, heat and air.
It is better to grind the flax seeds rather than eating them whole, because the lignans are better absorbed by the body if it is consumed in the ground form. Make it a point to take plenty of water with the flax seed powder. Flax seeds can be stored in the refrigerator, preferably in a dark (light and air-tight) container. it may be spoiled in six weeks time. It should be grinded freshly and consumed shortly thereafter. It can be used by mixing in wheat floor for making rotis-bread, phulke-chapatis, paranthas, puris etc. Flax seed oil can be dribbled on the chapatis after cooking, in place of ghee. It may be sprinkled in powder form over salads. It may be added in cereal or cooked oatmeal, as well. Its powder can be added in the dosa batter while making dosas.
KALONGI कलौंजी (BLACK SEEDS) :: Kalonji bushes are found throughout India. The height of the plant is approximately half a meter. It possesses blue flowers.Its seeds are triangular in shape, black in colour having pungent smell and oil. Kalonji-Nigella sativa has a pungent bitter taste and smell. It is used primarily in confectionery and liquors. The variety of bread-naan is as a rule topped with Kalonji seeds.
CHEMICAL COMPOSITION :- Its seeds contain 1.5% volatile oil and 37.5% non volatile oil. It contains Albumen, Sugar, Organic acids, Glucoside Melanthin Metarbin and some bitter components.The Glucoside is toxic in nature, therefore one should avoid the use of Kalonji in large doses since its prolonged use might be harmful. 
Its said that it can cure every disease,  except death. 
Kalonji removes the obstruction of any part of the body, expels the gases and strengthens the stomach.
It is Emmenagogue, Lactogogue and Diuretic.
It is an Anti-Helminthic, if taken with vinegar.
It is useful in chronic cold. Inhalation of its smell is useful in common cold.
The oil of Kalonji is effective in Alopecia.
Half teaspoonful, if boiled in water and taken, is helpful in Asthma and diffuses the toxic effects of Bee and Wasps.
Continuous use of Kalonji is effective in mad dog bites.
Fumigation of Kalonji is useful in Respiratory Diseases.
It is useful in Paralysis, Facial Palsy, Migraine, Amnesia and Palpitation.
It is also an Expectorant and Antipyretic.
It normalizes the secretions of stomach and pancreas.
This phenomenon is very much effective and significant in the treatment of Diabetes Mellitus.
It expels the Kidney and Urinary Bladder stones, if taken with the syrup of honey.
It is effective in Jaundice if taken with milk.
Its powder if taken with water is effective in treating Haemorrhoids.
If Kalonji seeds are boiled in vinegar and this solution is applied on Gums and Teeth, it removes the Inflammation of the gums and relieves the pain also.
It is also reported that its fine powder is effective if applied in early stages of Cataract.
Kalonji is also used in Skin disorders.
The oil of the seeds is also effective in Earache.
If it is taken with Qust Sheering after breakfast and dinner, it is effective in chronic Dysentery and Asthma.
Qust Sheering is a good medicine for sexual debility, but if it is taken with Kalonji seeds and Habburrashad, it becomes more fortified.
Modern trials have proved that Kalonji seeds alone or in combination with other drugs are highly effective in Diabetes Mellitus, Vitiligo and other Skin ailments.
ताँबे  के बर्तन में रखा हुआ पानी पीने से लाभ: अकसर लोग पेट को ठीक रखने के लिए रात में पानी ताँबे के लोटे में रखकर सुबह उठते ही पीने की सलाह देते हैं।
(1). सोना चाँदी और ताँबा बैक्‍टीरिया नाशक हैं। पेट सम्बन्धी विकार यथा एसिडिटी, कब्‍ज, गैस आदि दूर करने के लिए ताँबे के बर्तन का रखा हुआ पानी विशेष रूप से गुणकारी है।इससे पेट की सूजन में राहत मिलती है और पाचन सम्बन्धी समस्याएं भी दूर होती हैं। ताँबा आम जल जनित रोग यथा डायरिया, दस्‍त और पीलिया को रोकने में भी मददगार माना जाता है। 
(2). थायरेक्सीन हार्मोन के असंतुलन के कारण थायराइड की बीमारी होती है। थायराइड के प्रमुख लक्षणों में तेजी से वजन घटना या बढ़ना, अधिक थकान महसूस होना आदि हैं।विशेषज्ञों के अनुसार, ताँबे के बर्तन में रखें हुए पानी को पीने से शरीर में थायरेक्सीन हार्मोन नियंत्रित होकर; इस ग्रंथि की कार्यप्रणाली को भी नियंत्रित करता है।
(3). ताँबे में मस्तिष्‍क को उत्तेजित करने वाले और  ऐंठन विरोधी गुण होते हैं। इन गुणों की मौजूदगी मस्तिष्‍क के काम को तेजी और अधिक कुशलता के साथ करने में मदद करते है।
(4). ताँबे में एंटी-इफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो कि दर्द से राहत और दर्द की वजह से जोड़ों में सूजन का कारण बने- गठिया और रह्युमेटिक पेन  में मददगार है।  
(5). ताँबा शरीर के मेलेनिन के उत्‍पादन का मुख्‍य घटक है। इसके अलावा ताँबा नई कोशिकाओं के उत्‍पादन में मदद करता है जो कि त्‍वचा की सबसे ऊपरी परतों की भरपाई करने में मदद करती है। नियमित रूप से इसका सेवन  करने से त्‍वचा स्‍वस्‍थ और चमकदार रहती है।इससे झुर्रियों की समस्या का निराकरण भी होता है। 
(6). ज्‍यादातर भारतीय महिलाओं में खून की कमी या एनीमिया की समस्‍या पाई जाती है। ताँबा शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों को अवशोषित कर रक्त वाहिकाओं में इसके प्रवाह को नियंत्रित करता है; जिससे खून की कमी या विकार दूर हो जाते हैं।
(7). ताँबे के बर्तन में रखा पानी पीने से शरीर की अतिरिक्त वसा कम हो जाती है।
(8). ताँबा कैंसर जैसी बीमारियों में प्रतिरोध उत्पन्न करता है। 
(9). ताँबाअपने एंटी बैक्‍टीरियल, एंटी वायरल और एंटी इफ्लेमेटरी गुणों के कारण घावों को जल्‍दी भरने में मदद करता है। 
(10). ताँबे  के बर्तन में रखे हुए पानी को पीने से पूरे शरीर में रक्त का संचार बेहतरीन रहता है। ब्लड कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में करता है और दिल की बीमारियां दूर रहती हैं। 
ALUM फिटकरी :: अमृत तुल्य फिटकरी 23 रोगों में चमत्कारिक लाभ प्रदान करती है। इसका प्रयोग खासतौर पानी को साफ करने के लिए किया जाता है। फिटकरी लाल व सफेद दो प्रकार की होती है। अधिकतर सफेद फिटकरी का प्रयोग ही किया जाता है।  माताएँ इसका प्रयोग छोटे बच्च्चों की नज़र उतारने के लिए करतीं हैं। 
(1). शरीर से ज्यादा पसीना आने की समस्या हो तो वो नहाते समय पानी में फिटकरी को घोलकर नहाने से पसीना आना कम हो जाता है। फिटकरी के पानी से योनि को सुबह-शाम नियमित धोना चाहिए। संगे जराहत और फिटकरी लेकर दोनों पीस लें और इस आधा ग्राम चूर्ण की फंकी ताजे पानी के साथ या गाय के दूध के साथ सुबह, दोपहर और शाम दिन में तीन बार लें। कुछ ही दिनों के प्रयोग से अवश्य लाभ होगा।
(2). चोट या खरोंच लगकर घाव हो गया हो और उससे खून बह रहा हो घाव को फिटकरी के पानी से धोएं तथा घाव पर फिटकरी का चूर्ण बनाकर बुरकने से खून बहना बंद हो जाता है। Its antiseptic and anti-fungal in nature.
(3). फिटकरी और काली मिर्च पीसकर दांतों की जड़ों में मलने से दांतों की पीड़ा में लाभ होते है।
(4). दाढ़ी बनाने के बाद चेहरे पर फिटकरी लगाने से चेहरा मुलायम हो जाता है और कटने-छीलने के घाव के पकने का डर नहीं रहता।
(5). आधा ग्राम पिसी हुई फिटकरी को शहद में मिलाकर चाटने से दमा और खांसी में बहुत लाभ मिलता है।
(6). भुनी हुई फिटकरी 1-1 ग्राम सुबह-शाम पानी के साथ लेने से खून की उल्टी बंद हो जाती है।
(7). दांत दर्द से बचने के लिए फिटकरी और काली मिर्च को पीसकर दांतों की जड़ों में मलने से दांतों का दर्द ठीक हो जाता है।
(8). फुलाई हुई फिटकरी एक तोला (50 gm) और मिश्री दो तोला दोनों को महीन पीसकर रख लें। एक-एक माशा (4 gm) नित्य सवेरे खाने से दमा के रोग में लाभ होता है।
(9). प्रतिदिन दोनों समय फिटकरी को गर्म पानी में घोलकर कुल्ला करने से दांतों के कीड़े तथा मुंह की बदबू दूर हो जाती है।
(10). डेढ़ ग्राम फिटकरी पाउडर को फाँककर ऊपर से दूध पीने से चोट लगने से होने वाला दर्द दूर हो होता हैं।
(11). टांसिल की समस्या होने पर गर्म पानी में चुटकी भर फिटकरी और नमक डालकर गरारे करने से टांसिल की समस्या में जल्दी ही आराम मिल जाता है।
(12). दस्त और पेचिश की परेशानी से बचने के लिए थोड़ी फिटकरी को बारीक पीसकर भून लें और अब इस भुनी हुई फिटकरी को गुलाब जल के साथ मिलाकर पीने से खूनी दस्त आना बंद हो जाता है।
(13). एक लीटर पानी में 10 ग्राम फिटकरी का चूर्ण घोल लें। इस घोल से प्रतिदिन सिर धोने से जुएं मर जाती हैं।
(14). दस ग्राम फिटकरी के चूर्ण में पांच ग्राम सेंधा नमक मिलाकर मंजन बना लें। इस मंजन के प्रतिदिन प्रयोग से दांतो के दर्द में आराम मिलता है ।
(15). भुनी हुई फिटकरी एक तोला, भुना हुआ तूतिया (-नीला थोथा, Copper Sulfate) छह माशा, कत्छा एक तोला, इन सबको कूट पीसकर मंजन बनाकर लगाने से दांतों की पीड़ा दूर होती है और दांत मजबूत तथा सुदृढ़ होते हैं।
(16). कान में फुंसी हो अथवा मवाद आता हो तो एक प्याले में थोड़ी-सी फिटकरी पीसकर पानी डालकर घोलें और पिचकारी द्वारा कान धोएं।
(17). शहद में फिटकरी मिलाकर आंखों में डालने से आंखों की लाली समाप्त हो जाती है।
(18). खुजली वाली जगह को फिटकरी वाले पानी से धोएं और बाद में उस जगह पर थोड़ा-सा कड़वा तेल लगा लें। उस पर थोड़ा-सा कपूर भी डाल लें।
(19). एक लीटर पानी में बीस ग्राम फिटकरी को घोल के दिन में दो या तीन बार सफ़ेद पानी की शिकायत होने पर गुप्तांग को घोने से एवं एक ग्राम फिटकरी को एक पके केले में चीर भर के सात दिन खाने से आराम होता है।
(20). गर्भपात : पिसी हुई फिटकरी चौथाई चम्मच एक कप कच्चे दूध में डालकर लस्सी बनाकर पिलाने से गर्भपात रुक जाता है। गर्भपात के समय दर्द, रक्तस्राव हो रहा हो तो हर दो-दो घंटे से एक-एक खुराक दें।
(21). बांझपन : मासिक-धर्म ठीक होने पर भी यदि सन्तान न होती हो तो रूई के फाये में फिटकरी लपेटकर पानी में भिगोकर रात को सोते समय योनि में रखें। सुबह निकालने पर रूई में दूध की खुर्चन सी जमा होगी। फोया तब तक रखें, जब तक खुर्चन आती रहे। जब खुर्चन आना बंद हो जाए तो समझना चाहिए कि बांझपन रोग समाप्त हो गया है।
(22). योनि संकोचन : बांझपन की तरह योनि में रूई का फाया रखें तथा फिटकरी पानी में घोलकर योनि को दिन में तीन बार धोएं। इससे योनि सिकुड़कर सख्त हो जाएगी और योनि का ढीलापन समाप्त हो जाएगा। फिटकरी 30 ग्राम और 10 ग्राम माजूफल को लेकर अच्छी तरह पीसकर चूर्ण बना लें, फिर इस चूर्ण को मलमल के कपड़े में डालकर पोटली बनाकर सोने से पहले रात को योनि में रखने से योनि का ढीलापन दूर होकर सिकुड़ जाती है। 2 ग्राम फिटकरी को 80 मिलीलीटर पानी में घोलकर योनि को धोने से योनि की आकृति कम यानी योनि सिकुड़ने लगती है।
(23). कान में चींटी चली जाने पर : कान में चींटी चली जाने पर कान में सुरसरी हो तो फिटकरी को पानी में घोलकर पीने से लाभ मिलता है।
मसूर की दाल देशी घी मे छौंककर खाने से नेत्र ज्योति बढ़ती है।
मसूर की दाल ::  इसको देशी घी में छौंककर खाने से नेत्र ज्योति बढ़ती है।  इससे कब्ज तथा गले की सूजन दूर होती है। मसूर के दाल के साथ मठ्ठा पिने से खुनी बबासीर ठीक होती है।
THERAPEUTIC BENEFITS OF HONEY शहद के चिकित्सीय गुण :: 
(1). CHILDREN-INFANTS TREATMENT बाल रोग चिकित्सा ::  
(1.1). चौकिया सुहागा का फूला शहद में मिलाकर दाँत और मसूढ़ों की जड़ में मलने से बच्चों के दाँत निकलते वक्त दर्द नहीं होता और दाँत आसानी से निकल आते है तथा अतिसार (दस्त) व ज्वर (बुखार) भी ठीक हो जाता है।
(1.2). सोनागेरू को शहद में मिलाकर बच्चों को चटाने से भी उल्टी और हिचकी दूर हो जाती है।
शीतल जल (ताजे पानी में) शहद मिलाकर रोजाना सुबह पीने से बहुत ज्यादा बढ़ा हुआ पेट ठीक हो जाता है। 
(1.3). धाय के फूल, बेलगिरी, धनिया, लोध, इन्द्रजौ और सुगन्धवाला को बारीक पीसकर शहद में मिलाकर चटनी की तरह चाटने से बच्चों का ज्वारातिसार (बुखार और दस्त) वात-विकार (गैस की बीमारी) समाप्त हो जाती हैं।
(1.4). पीपल वृक्ष की छाल (पीपल के पेड़ की खाल) और कोंपल (मुलायम पत्तों) को पीसकर शहद में मिलाकर लगाने से मुख पाक (मुँह के छाले) दूर हो जाते हैं।
(1.5). 10 मिलीलीटर रस अडूसा, 10 ग्राम शहद और डेढ़ ग्राम जवाक्षर को एक साथ मिलाकर चूर्ण बनाकर रख लें। इस चूर्ण को दिन में 3-4 बार चटाने से बच्चों की कठिन से कठिन खाँसी दूर हो जाती है।
(1.6). शहद में छोटी पीपल का बारीक चूर्ण मिलाकर चटाने से बच्चों की खाँसी, ज्वर, तिल्ली, अफारा (गैस) तथा हिचकी समाप्त होती है।
(1.7). एक से डेढ़ ग्राम काकड़सिंगी का चूर्ण शहद के साथ चटाने से बच्चों का अतिसार (दस्त) रोग ठीक हो जाता है।
(1.8). सफेद कमल के केसर को पीसकर उसमें मिश्री और शहद को मिलाकर चावलों के पानी के साथ पिलाने से बच्चों को प्रवाहिका रोग समाप्त हो जाता है।
(1.9). धान की खीलें, मुलेठी, खाँड और शहद को एक साथ मिलाकर चावलों के पानी के साथ बच्चों को पिलाने से बच्चों का प्रवाहिका रोग ठीक हो जाता है।
(1.10). कुटकी के चूर्ण को शहद में मिलाकर चटाने से हिचकी बंद हो जाती है।
(1.11). कटेरी के फूलों के केसर को पीसकर, उसे शहद में मिलाकर चटाने से बच्चों की पाँचों तरह की खाँसी दूर हो जाती है।
(1.12). कुटकी को बारीक पीसकर और छानकर शहद में मिलाकर चटाने से बच्चों की बहुत पुरानी वमन (उल्टी) और हिचकी ठीक हो जाती है।
(1.13). प्रियंगु, रसौत और नागरमोथा- इनकों बारीक पीसकर, शहद में मिलाकर चटाने से बच्चों की बढ़ी हुई प्यास, वमन (उल्टी) और दस्त इन रोगों से आराम हो जाता है।
(1.14). लज्जालू, धाय के फूल, लोध और सरिवा का काढ़ा बनाकर ठण्डा होने पर इसमें शहद मिलाकर पिलाने से बच्चों को पतले दस्त में भी आराम आ जाता है।
(1.15). शहद को 1 से 3 ग्राम तेजपत्ता के चूर्ण के साथ चटाने से बच्चों के सभी रोगों (बालाक्षेप, बालाग्रह) में लाभ होता है।
(1.16). रोजाना सुबह ठंडे पानी में शहद मिलाकर शर्बत की तरह पिलाने से बच्चे का बढ़ा हुआ पेट कम हो जाता है।
(1.17). बराबर मात्रा में बेल के फल का मज्जा, धातकी पुष्प, सुगंधवाला प्रकन्द, लोध्र छाल और गज पिप्पली का चूर्ण शहद के साथ दिन में 2 से 3 बार लेने से बच्चों का बालातिसार और रक्तातिसार ठीक हो जाता है। 
(1.18). 3 से 6 ग्राम इन्द्रयव को नागरमोथा के साथ काढ़ा बनाकर और उसमें शहद मिलाकर सुबह और शाम सेवन कराने से बच्चों का रक्तातिसार (खूनी दस्त) दूर हो जाता है।
(1.19). रात में सोने से पहले शहद चटाने से बच्चा सोते समय-बिस्तर में पेशाब नहीं करता। 
(1.2). शुद्ध शहद को माँ के दूध में मिलाकर बच्चे को 20-25 दिन तक रोजाना पिलाने से सूखा रोग दूर हो जाता है। 
(2.1). एक चम्मच शुद्ध शहद शीतल पानी में मिलाकर पीने से पेट के दर्द में आराम मिलता है।
(2.2). एक चुटकी सौंठ को थोड़े से शहद में मिलाकर चाटने से पेट दर्द में लाभ होता है। 
(2.3). तुलसी की 2 पत्तियाँ पीस कर आधी चम्मच शहद के साथ सेवन करने से पेट के दर्द में फायदा होता है। (2.4). रात्रि में सोते समय एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से पेट साफ़ हो जाता है।
(2.5). शहद का प्रयोग करने से खाना खाने के बाद होने वाले पेट दर्द समाप्त होते है।
(3). एक गिलास पानी में एक चम्मच नींबू का रस तथा आधा चम्मच शहद मिलाकर पीने से अजीर्ण ठीक हो जाता है। शहद में दो काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर चाटने, अजवायन तथा सौंठ को पीसकर शहद के साथ चाटने अथवा खाली शहद को गुनगुने पानी के साथ लेने से आराम मिलता है। 
Image result for honey combs sunder ban delta(4). शहद में सौंफ, धनिया तथा जीरा का चूर्ण बनाकर दिन में कई बार चाटने से दस्त में लाभ मिलता है। अनार दाना चूर्ण शहद के साथ चाटने से दस्त बंद हो जाते हैं।
(5.1). एक चुटकी अजवायन का चूर्ण एक चम्मच शहद के साथ दिन में तीन बार लेने से पेट के कीड़े मर जाते हैं। 
(5.2). दो चम्मच शहद को 250 मिलीलीटर पानी में डालकर दिन में दो बार सुबह और शाम पीने से पेट के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।
(6). सौंठ, काली मिर्च, पीपल, सेंधा नमक इन सब चीजों को मिलाकर बनाये चूर्ण में से आधी चुटकी लेकर एक चम्मच शहद के साथ सुबह, दोपहर और शाम को इसका इस्तेमाल करने से भूख खुलती है। एक दो कालीमिर्च तथा दो लौंग को पीसकर शहद के साथ चाटने भी लाभ होता है।
(7). धनिया तथा जीरा का चूर्ण बना शहद के साथ मिलाकर धीरे-धीरे चाटने से अम्लपित्त नष्ट होता है।
(8). सौंफ, धनियां तथा अजवायन इन तीनों को बराबर मात्रा में पीस कर आधा चम्मच चूर्ण को शहद के साथ सुबह, दोपहर और शाम को सेवन करने से कब्ज दूर होती है।
(9). रात्रि में सोते समय एक चम्मच त्रिफला चूर्ण या एरण्ड का तेल एक गिलास दूध के साथ पीने से कब्ज दूर हो जाती है।
(10.1). त्रिफला का चूर्ण शहद के साथ सेवन करने से पीलिया का रोग नष्ट हो जाता है। गिलोय का रस 12 ग्राम शहद के साथ दिन में दो बार, नीम के पत्तों का रस आधा चम्मच शहद के साथ सुबह-शाम, कलमी शोरा तथा जवाखार मिलाकर पानी के साथ दिन में तीन बार सेवन करने से पेशाब साफ आने लगता है और पीलिया में आराम मिलता है
(10.2). शुरू में दो दिन तक एक चम्मच मधु की खुराक दो बार दें फिर चार दिन आधे चम्मच के साथ मधु और आँवले का चूर्ण मिलाकर तीन बारसेवन करें। अगले चार दिन आधा चम्मच मधु और लौह चूर्ण मिलाकर तीन बार लें। प्रति दिन तीन बार एक-एक चम्मच शहद एक गिलास पानी में मिलाकर पीने से पीलिया में लाभ होता है।
(11.1). सिर पर शुद्ध शहद का लेप करने से सिर का दर्द खत्म हो जाता है। आधा चम्मच शहद और एक चम्मच देशी घी मिलाकर सिर पर लगाना चाहिए। घी तथा शहद के सूखने के बाद दोबारा लेप करना चाहिए। यदि पित्त के कारण सिर में दर्द हो तो दोनों कनपटियों पर शहद लगायें। साथ ही थोड़ा शहद भी चाटना चाहिए। सर्दी, गर्मी या पाचन क्रिया की खराबी के कारण सिर में दर्द हो तो नींबू के रस में शहद को मिलाकर माथे पर लेप करना चाहिए। कागज के टुकड़ों पर शहद और चूना मिलाकर माथे के प्रभावित भाग पर रख देने से सिर का दर्द दूर हो जाता है। भोजन के साथ शहद लेने से सिर का दर्द दूर हो जाता है।
(11.2). इस रोग में सूर्य उगने के साथ दर्द का बढ़ना और ढलने के साथ सिर दर्द का कम होना होता है, तो जिस ओर सिर में दर्द हो रहा हो उसके दूसरी ओर के नाक के नथुने में एक बूँद शहद डालने से सिर के दर्द आधा सीसी (माइग्रेन) में आराम मिलता है।
(11.3).रोजाना भोजन के समय दो चम्मच शहद लेते रहने से आधे सिर में दर्द व उससे होने वाली उल्टी आदि बंद हो जाती हैं।
(12.1). काजल में शहद मिलाकर बराबर लगाते रहने से  रतौंधी समाप्त हो जाती है। शहद को आँखों में काजल की तरह लगाने से रतौंधी रोग दूर होता है और रोशनी भी बढ़ती है। शहद के साथ निबौंली (नीम का फल) का गूदा मिलाकर आंखों में काजल की तरह लगना चाहिए। 
(12.2). एक ग्राम गुरुच का रस तथा आधा चम्मच शहद को मिला कर  में नियम से आँखों रोज सलाई से लगाने से आँखों  की खुजली, दर्द, मोतिया बिंद जैसे रोग ठीक हो जाते हैं। 
(12.3). चार ग्राम गिलोय का रस लेकर उसमें दो ग्राम शहद मिलाकर लोशन बना कर आँखों  में लगाने से आँखों  के सभी रोगों में लाभ होता है। रोज सुबह ताजे पानी से आँखों को छप्पा (पानी की छींटे) मारकर धोना चाहिए। इसके बाद दो बूंदे नीम का रस तथा चार बूंदे शहद मिलाकर आँखों  में लगाना चाहिए। कड़वे तेल से बना हुआ काजल शुद्ध शहद के साथ मिलाकर आँखों  में लगाना चाहिए। लगभग 7 से 14 मिली लीटर बकुल रस को शहद के साथ लेना चाहिए। इससे आँखों के सभी रोग नष्ट हो जाते हैं। लगभग 7 से 14 मिली लीटर धान्यक रस को 5 से 10 ग्राम शहद के साथ लेना चाहिए। लगभग 2 से 6 ग्राम त्रिफला चूर्ण 12 से 24 ग्राम शहद से दिन में 3 बार लेना चाहिए।
(12.4). आँख आने पर 1 ग्राम पिसे हुए नमक को शहद में मिलाकर आँखों में सुबह और शाम लगाऐं।सोनामक्खी को पीसकर और शहद में मिलाकर आँखों में सुबह और साएँ  लगाए। चन्द्रोदय वर्ति (बत्ती) को पीसकर शहद के साथ आँखों में लगाने से आँखों  के रोग दूर होते हैं।
आँख के फूले मे अपमार्ग की जड़ को शहद में घिसकर लगाने से आँखों  के फूले समाप्त हो जाते हैं।
(12.5). आँखों में किसी चीज के गिर जाने से अगर दर्द हो रहा हो तो शहद या एरण्ड तेल (कस्टर आयल) की 1 से 2 बूंद आँखों मे डालने से आंख में गिरी हुई चीज बाहर आ जायेगी और आँखों की चुभन दूर हो जायेगी।
(12.6). असली और साफ शहद को आग पर गर्म करने के लिये रख दे और इसमे समुद्र झाग पीसकर मिला दे फिर आग पर से उतार लें। इसकी बत्ती बनाकर आँखों  के नासूर में रखने से आँखों का नासूर पूरी तरह भर कर ठीक हो जाता है।
(12.7). 10 मिलीलीटर शल्लकी स्वरस (रस) और 1 ग्राम शहद को मिलाकर दिन में 2 बार प्रयोग करना चाहिए।
1 ग्राम समुद्रफेन, 5 मिलीलीटर औरत का दूध और शहद का अंजन (काजल) को आंखों में रोजाना 2 बार प्रयोग करने से नखटन्ड में आराम मिलता है। 
(12.8). मोतिया बिंद शुरू होते ही निर्मली को शहद में घिसकर लगाने से मोतिया बिंद दूर हो जाता है। 9 भाग छोटी मक्खी का शहद, 1 भाग अदरक का रस, 1 भाग नींबू का रस और 1 भाग सफेद प्याज का रस इन सबको मिलाकर और छानकर एक बूंद सुबह और शाम आँखों में डालते रहें इससे मोतिया बिंद दूर हो जाता है। इसमें 12 भाग गुलाब जल डालकर रोजाना इसी प्रकार डालने से आँखों की रोशनी बढ़ती है और चश्मा हट जाता है।स्वस्थ आँखों में असली शहद की एक सलाई हफ्ते मे 1 से 2 बार डालने से आँखों की रोशनी कभी कम नही होगी, बल्कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ तेज होती चली जायेगी। साथ ही खाने के लिए चार बादाम रात को पानी में भिगो कर रख लें और सुबह उठते ही चार काली मिर्च के साथ पीसकर मिश्री के साथ चाटे या वैसे ही चबा जाऐं और ऊपर से दूध पी लें।
(13.1). तवे पर सुहागे को फुलाकर शहद के साथ छालों पर लगाने से मुँह के छाले ठीक हो जाते हैं। 
(13.2). छोटी इलायची को पीसकर बारीक चूर्ण बना कर शहद में मिलाकर छालों पर लगाने से फायदा होगा।(13.3).  फिटकरी को पानी में घोलके एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर कुल्ला करना  लाभप्रद है। यह कुल्ला भोजन करने से पहले सुबह, दोपहर तथा शाम को करना चाहिए।
त्रिफला का चूर्ण शहद के साथ ले ने पर पेट की गर्मी शान्त करता है। 
(13.4). केवल आंवले का चूर्ण शहद के साथ लेने से भी पेट की गर्मी शान्त होती है और मुँह के छाले ठीक होने लगते हैं।
(14.1). फूली हुई फिटकरी पीसकर शहद के साथ मिलाकर सेवन करें। इसमें पानी मिलाकर कुल्ला किया जा सकता है।मुलहठी का चूर्ण शहद के साथ चाटना चाहिए। कुलंजन मुँह में रखकर चूसने से भी आवाज खुल जाती है। 3 से 9 ग्राम बहेड़ा के चूर्ण को शहद के साथ सुबह और शाम सेवन करने से स्वर भंग (गला बैठना) और गले के दूसरे रोग भी ठीक हो जाते हैं। 1 कप गर्म पानी में 1 चम्मच शहद डालकर गरारे करने से आवाज खुल जाती है।
(14.2). 4 से 6 ग्राम शहद को कालक का चूर्ण 1 से 3 ग्राम मिलाकर दिन में 2 बार लेने से कौआ गिरना थीेक हो जाता है।
(14.3). 5 से 10 मिलीलीटर भट्कटैया के फलों के रस को शहद के साथ सेवन करने से गल कोष प्रदाह (गले की जलन) में आराम आता है।
(14.4). दालचीनी को पीसकर उसमें शहद मिलाकर दिन में दो बार चाटने से तुण्डिका शोथ (टांसिल) का रोग ठीक हो जाता है।
(15). छाती पर शहद की मालिश करके गुनगुने पानी से धो लें। इससे थूक के साथ बलगम का आना बंद हो जाता है। रात्रि को सोने से पहले अजवायन का तेल छाती पर मलें। पिसी हुई हल्दी, अजवायन और सौंठ को मिलाकर एक चुटकी लेकर शहद में मिलाकर सेवन करें।
(16). मसूढ़ों तथा दांतों पर शुद्ध शहद की मालिश करके गुनगुने पानी से कुल्ला करना चाहिए। नींबू का रस, नीम का तेल तथा शहद मिलाकर मसूढ़ों की मालिश करके कुल्ला कर लें। लहसुन, करेला, अदरक का रस निकालकर शहद में मिलाकर मसूढ़ों पर रोज लगाना चाहिए। तीन-चार दिन तक लगातार मालिश करने से पायरिया तथा मसूढ़ों के अन्य रोग खत्म हो जाते हैं।
(17). लाल इलायची भून कर चूर्ण बना कर इसमें शहद मिलाकर सेवन करने से खाँसी दूर हो जाती है। मुनक्का, खजूर, काली मिर्च, बहेड़ा तथा पिप्पली-सभी को समान मात्रा में लेकर कूट लें और उसमें से दो चुटकी चूर्ण लेकर शहद में मिलाकर सेवन करने से खाँसी दूर हो जाती है। 3 ग्राम सितोप्लादि के चूर्ण को शहद में मिलाकर दिन में तीन बार चाटकर खाने से खाँसी  दूर हो जाती है। 5 ग्राम शहद में लहसुन के रस की 2-3 बूंदे मिलाकर बच्चे को चटाने से खाँसी दूर हो जाती है। एक नींबू पानी में उबालकर काँच के गिलास में निचोड़ लें। इसमें 28 मिलीलीटर ग्लिसरीन और 84 मिलीलीटर शहद मिलाकर हिलायें। एक-एक चम्मच चार बार पीने से खाँसी बंद हो जाएगी। शहद खाँसी  में आराम देता है। 12 ग्राम शहद को दिन में तीन बार चाटने से कफ निकल जाता है और खाँसी  ठीक हो जाती है। थोड़ी सी फिटकरी को तवे पर भून कर एक चुटकी फिटकरी को शहद के साथ दिन में 3 बार चाटने से करने से खाँसी दूर हो जाती है। कब्ज को दूर करने के लिये एरण्ड का तेल पीकर पीकर शहद में लौंग के तेल की एक बूँद तथा अदरक के रस की दस बूदें मिलाकर सुबह, दोपहर और शाम को लेने से काली खाँसी ठीक हो जायेगी। 5 ग्राम शहद दिन में चार बार चाटने से बलगम निकलता है और खाँसी दूर हो जाती है। शहद और अडूसा के पत्तों का रस एक-एक चम्मच तथा अदरक का रस आधा चम्मच मिलाकर पीने से खाँसी नष्ट हो जाती है।
(18). शहद में कुठार रस 4 बूँद मिलाकर दिन में 3-4 बार देना चाहिए। इससे दमा का रोग नष्ट हो जाता है।सोमलता, कूट, बहेड़ा, मुलेठी, अडूसा के पत्ते, अर्जुन की छाल तथा काकड़ासिंगी सबका एक समान मात्रा में लेकर पीस लें। इसमें से एक चम्मच चूर्ण शहद के साथ सेवन करें। प्यास लगने पर गर्म पानी पीयें। इससे दमा का रोग नष्ट हो जाता है।
(19). सांभर सींग को पानी में घिसकर शहद के साथ मिलाकर पसलियों पर लेप करने से पसलियों का दर्द ठीक हो जायेगा। 
(20).  एक कप दूध में एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह के समय पीने से ताकत और मोटापा बढ़ता हैं।
(21). शहद और अदरक का रस एक-एक चम्मच मिलाकर सुबह-शाम दिन में दो बार पीने से जुकाम खत्म हो जाता है और भूख बढ़ जाती है। 2 चम्मच शहद, 200 मिलीलीटर गुनगुना दूध और आधे चम्मच मीठे सोडे को एक साथ मिलाकर सुबह और शाम पीने से जुकाम, फ्लू ठीक हो जाता है। इसको पीने से बहुत पसीना आता है पर पसीना आने पर रोगी को हवा नहीं लगने देना चाहिए। 20 ग्राम शहद, आधा ग्राम सेंधानमक और आधा ग्राम हल्दी को 80 मिलीलीटर पानी में डालकर उबाल कर रख लें। कुछ देर बाद जब पानी हल्का सा गर्म रह जाये तो इस पानी को सोते समय पीने से जुकाम दूर हो जाता है।
((22) . बिच्छू के डंक मारे हुए स्थान पर शहद लगाने से बिच्छू के डंक का दर्द कम हो जाता है।
(23.1). नियमित सुबह 20 ग्राम शहद ठंडे पानी में मिलाकर सेवन करने से जलन, खुजली और फुन्सियों जैसी चर्म रोग जड़मूल से समाप्त हो जाती है। शरीर के जले हुए अंगो पर शहद लगाने से जलन दूर होती है। जख्म होने पर शहद को तब तक लगाते रहे जब तक कि जख्म ठीक ना हो जायें। जख्म ठीक होने के बाद सफेद निशान बन जाते हैं। उन पर शहद लगाकर पट्टी बाँधते रहने से निशान मिट जाते हैं।
(23.2). सेंधा नमक तथा शहद लपेटकर बत्ती बनाकर रखने से नासूर-पुराना घाव  में पीव का बनना बंद हो जाता है। 
(23.3). नाखूनों के जख्म में हरीतकी पानी में पीसकर शहद में मिलाकर नाखून पर लेप करने से नाखून का दर्द व जख्म शीघ्र ठीक हो जाता है।
(24.1). स्त्री-संग सम्भोग से एक घण्टा पहले पुरुष की नाभि में शहद में भिगोया हुआ रूई का फोहा रखने से पुरुष का जल्दी स्खलन-शीघ्रपतन नही होता अर्थात पुरुष का लिंग शिथिल नहीं होता।
(24.2). शहद और दूध मिलाकर पीने से धातु (-वीर्य) की कमी और नपुंसकता दूर होती है तथा शरीर बलवान होता है।
(24.3). शहद 10 ग्राम, 5 ग्राम घी और 3 ग्राम आंवलासार गन्धक को लेकर इसमें थोड़ी सी शक्कर मिलाकर सेवन करने से शरीर को मजबूती मिलती है।
(25). गुड़ को शहद में मिलाकर सेवन करने से उल्टी बंद हो जाती है। उल्टी होने पर शहद को चाटने से उल्टी होना बंद हो जाती है। शहद में लौंग का चूर्ण मिलाकर चाटने से गर्भावस्था में उल्टी आने से छुटकारा मिलता है।
(26).  बकरी के दूध में आठवां हिस्सा शहद मिलाकर पीने से  रक्त विकार दूर हो जाता है अर्थात खून साफ हो जाता है। इसका प्रयोग करते समय नमक और मिर्च का त्याग कर देना आवश्यक है।
(27).  ताजा मक्खन के साथ शहद का सेवन करने से क्षय रोग में लाभ होता है। शहद में करेले का चूर्ण डालकर चाटना चाहिए।
(28). दो चम्मच शहद और नींबू का रस एक चम्मच मिलाकर सुबह-शाम दिन में दो से तीन बार सेवन करने से हाई बल्डप्रेशर में लाभ होता है।
(29.1). कान में शहद डालने से कान की पीव और कान का दर्द नष्ट हो जाता है। 
(29.2). शहद और नीम की गोंद को बराबर मात्रा में एक साथ मिलाकर कान में 2-2 बूँद डालने से कान का मवाद बहना बंद हो जाता है। कान को अच्छी तरह से साफ करके उसमे रसौत, शहद और औरत के दूध को एक साथ मिलाकर 2-3 बूंदे रोजाना 3 बार कान में डालने से कान में से मवाद का बहना बंद हो जाता है।
(29.3). शहद की 3-4 बूंदे कान में डालने से कान का दर्द पूरी तरह से ठीक हो जाता है। लगभग 3 ग्राम शहद, 6 मिलीलीटर अदरक का रस, 3 मिलीलीटर तिल का तेल और लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग सेंधा नमक को एक साथ मिलाकर इसकी थोड़ी सी बूँदें कान में डालकर उसके ऊपर से रूई लगा देने से कान से कम सुनाई देना, कान का दर्द, कान में अजीब-अजीब सी आवाजें सुनाई देना आदि रोग दूर हो जाते हैं।
5 मिलीलीटर सूरजमुखी के फूलों का रस, 5 ग्राम शहद, 5 मिलीलीटर तिल का तेल और 3 ग्राम नमक को मिलाकर कान में बूंद-बूंद करके कान में डालने से कान का दर्द ठीक हो जाता है।
(29.4). रूई की एक बत्ती बनाकर शहद और तेल में भिगो लें और कान में धीरे-धीरे से घुमायें। ऐसा करने से कान में जितने भी छोटे-मोटे कीड़े-मकोड़े, कनखजूरा सदृश जीव-जंतु घुसे होंगे वो बत्ती के साथ चिपककर बाहर आ जायेंगे।
(29.5). शहद में समुद्र फेन को घिसकर कान में डालने से बहरापन  ठीक हो जाता है।
(30).  शुद्ध शहद 20 ग्राम, सैंधा नमक आधा ग्राम, हल्दी आधा ग्राम को पीसकर 80 ग्राम की मात्रा में गर्म पानी में डालकर रात को पीने से मलेरिया का बुखार और जुकाम ठीक हो जाता है।
(31). फेफड़ों के रोगों में शहद लाभदायक रहता है। श्वास में और फेफड़ों के रोगों में शहद अधिक प्रयोग करते हैं।
(32.1). एक चम्मच शहद में, लहसुन का रस 20 बूंद मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम चाटने से पायरिया, मसूढ़ों की सूजन, दर्द, मुंह की दुर्गन्ध दाँतों का दर्द आदि खत्म होती है। 
(32.2). मसूढ़ों में सूजन व खून निकलने के कारण दाँत हिलने लगते हैं। शहद अथवा सरसों के तेल से कुल्ला करने से मसूढ़ों का रोग नष्ट हो जाता है।
(32.3). बच्चों के दाँत निकलते समय मसूढ़ों पर शहद मलने से दाँत निकलते समय दर्द में आराम रहता है।
(33). शहद में पीपल का 1 चुटकी चूर्ण मिलाकर चाटने से इन्फ्लुएन्जा में आराम मिलता है। 2 चम्मच शहद, 200 मिली लीटर गर्म दूध, आधा चम्मच मीठा सोड़ा मिलाकर सुबह और शाम को पिलाने से इन्फ्लुएन्जा पसीना आकर ठीक हो जाता है।
(34). निमोनिया में रोगी के शरीर की पाचन-क्रिया प्रभावित होती है इसलिए सीने तथा पसलियों पर शुद्ध शहद की मालिश करें और थोड़ा सा शहद गुनगुने पानी में डालकर रोगी को पिलाने से निमोनिया में लाभ होता है।
(35). जीभ के रोग में शहद को घोलकर मुँह में भरकर रखने से जीभ के रोग में लाभ होता है।
(36). एक कप गर्म पानी में दो चम्मच शहद घोलकर नित्य दो-तीन बार  सेवन करने से हृदय की घबराहट और दुर्बलता दूर होती है। 
(37).लाख के पानी में शहद मिलाकर पीने से खून की उल्टी होना रुक जाती है।
(38). नीलाथोथा लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग को भुन पीसकर 10 ग्राम शहद में मिला कर, इस मिश्रण को रूई से छालों पर लगायें तथा लार बाहर निकलने दें। मुँह की गंदगी लार के रूप में मुँह से बाहर निकाल कर छालों को ठीक करती है।
(39). गर्भावस्था में महिलाओं के शरीर में रक्त की कमी आ जाती है। गर्भावस्था के समय रक्त बढ़ाने वाली चीजों का अधिक सेवन करना चाहिए। महिलाओं को दो चम्मच शहद प्रतिदिन सेवन करने से रक्त की कमी नहीं होती है। इससे शारीरिक शक्ति बढ़ती है और बच्चा मोटा और ताजा होता है। गर्भवती महिला को गर्भधारण के शुरू से ही या अंतिम तीन महीनों में दूध और शहद पिलाने से बच्चा स्वस्थ और मोटा ताजा होता है।
(40). शहद में उंगली डूबोकर दिन में 3 बार चाटने से हिचकी से आराम मिलता है। शहद और काला नमक में नींबू का रस मिलाकर सेवन करने से हिचकी से आराम मिलता है। प्याज के रस में शहद मिलाकर चाटने से हिचकी बंद हो जाती है।
(41). पुराने से पुराने घाव में हरीतकी को पानी में पीसकर शहद के साथ मिलाकर लेप करने से घाव शीघ्र ही ठीक हो जाता है अथवा खाली शहद लगाने से भी घाव जल्द भरते हैं।
(42). लगभग 20 से 25 दिन तक रोजाना लगभग 150 ग्राम शहद शुद्ध पानी में मिलाकर रोगी को देने से शरीर का पक्षाघात-लकवा-फालिस फेसियल, पैरालिसिस ठीक हो जाता है।
(42). लगभग 28 मिलीलीटर पानी को उबालें और इस पानी के ठंडा होने पर उसमें दो चम्मच शहद डालकर पीड़ित व्यक्ति को पिलाने से कैल्शियम की मात्रा शरीर में उचित रूप में आ जाती है जो कि लकवे से पीड़ित भाग को ठीक करने में मददगार होती है।
(43). शहद में एक चुटकी अफीम मिलाकर और उसमें घिसकर चाटने से पेचिश के रोगी का रोग दूर हो जाता है।
(44). शहद और सेंधा नमक को मिलाकर बत्ती बनायें। बत्ती को नासूर में रखने से भगन्दर रोग में आराम मिलता है।
(45). मोच के स्थान पर शहद और चूना मिलाकर हल्की मालिश करने से आराम होता है।
(46). स्त्री को गुनगुने गर्म पानी के टब में बैठायें तथा शहद में भिगोये हुए कपडे़ को पेट के नीचे भाग में रखने से सर्दी का असर दूर हो जाता है और प्रसव हो जाता है।
(47). शहद को मुँह में भरकर कुछ देर तक रखकर कुल्ला करने से तेज प्यास शाँत हो जाती है। पानी में शहद या चीनी मिलाकर पीने से गले की जलन व प्यास मिट जाती है। 20 ग्राम शहद को मुँह में 10 मिनट तक रखकर कुल्ला करने से अधिक तेज प्यास भी शाँत हो जाती है।
(48). 20 ग्राम शहद में 40 मिली लीटर पानी डालकर उबालकर रखे हुए पानी को पीने से जलोदर की बीमारी में लाभ होता है। शहद और पीपल का चूर्ण छाछ में मिलाकर पीने से लाभ होगा।
(49). शहद के साथ कबूतर की बीट मिलाकर खाने से रजो दर्शन (माहवारी) होता है और बाँझपन दूर हो जाता है।
(50). केसर 6 ग्राम, शहद 25 ग्राम रोगी को सुबह-शाम खिलाने से शीत पित्त में लाभ मिलता है। एक चम्मच शहद और एक चम्मच त्रिफला मिलाकर सुबह-शाम खाने से भी लाभ होता है।
(51). 120 ग्राम से लेकर 240 ग्राम शहद को 100 से 200 मिलीलीटर गुनगुने पानी में मिलाकर दिन में 3 बार खुराक के रूप में सेवन करने से मोटापा दूर हो जाता है।
(52.1). चूना और शहद को अच्छी तरह से मिलाकर गिल्टी पर लगाने से रोग में आराम मिलता है।
(52.2). काली मिर्च का पाउडर, शहद और हल्दी मिक्स करके गले पर गिल्टियों के स्थान पर लगाये गिल्टियाँ जल्द ठीक होती है।
(52.3). 10 ग्राम सिरस के बीजों के चूर्ण को कपड़े में छानकर उसमें 20 ग्राम शहद मिलाकर किसी कांच के बर्तन में डालकर 15 दिन के लिये धूप में रख दें। 15 दिन के बाद चूर्ण को रोजाना सुबह 5 से 10 ग्राम तक खायें और ऊपर से मिश्री मिला हुआ दूध पी लें। इससे कण्ठमाला (गले की गाँठों) में आराम आता है।
(52.4). वरना की जड़ के काढ़े में समान मात्रा में घी और शहद मिलाकर पीने से कण्ठ शालूक (गले में गाँठ) में आराम आता है। 
(52.5). एक ग्राम से 4 ग्राम चोप चीनी का चूर्ण शहद में मिलाकर खाने से कण्ठमाला रोग (गले की गाँठें) समाप्त हो जाती है।
(52.6). शहद में हरड़ का चूर्ण मिलाकर खाने से गले की गांठे ठीक हो जाती है। 100 ग्राम सिरस के बीज को पीसकर 300 ग्राम शहद में मिला लें, फिर इसे चीनी के बर्तन में 40 दिन तक रखा रहने दें। 40 दिन के बाद दस ग्राम दवा को पानी के साथ खाने से कण्ठमाला (गले की गाँठें) की जो गिल्टियां (गाँठें) निकल चुकी हों वह बैठ जायेंगी और दूसरी गिल्टियां (गाँठें) नही निकलेगी।
(53.1). शहद के साथ लगभग 1-2 ग्राम पोस्ता पीसकर इसको शहद में घोलकर रोजाना सोने से पहले रोगी को देने से अच्छी नींद आती है। इससे रोगी को आराम से नींद आ जाती है और नींद में चलना बन्द हो जाता है। 
(53.2). एक-एक चम्मच नींबू का रस और शहद को मिलाकर रात को सोने से पहले दो चम्मच पीने से नींद आ जाती है। जब नींद खुले तब दो चम्मच पुन: लेने पर नींद आ जाती है और यदि केवल पानी के गिलास में शहद की दो चम्मच डालकर पीने से नींद आ जाती है अर्थात अनिद्रा दूर हो जाती है। शहद या शर्करा के शर्बत में पोस्तादाना को पीसकर इसको घोलकर सेवन करने से नींद अच्छी आती है।
(54). शहद या गुड़ के साथ गूलर के पके हुए फल को खाने से नाक से खून आना बंद हो जाता है।
(55.1). शहद के साथ लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग से लगभग 1 ग्राम सुहागे की खील (लावा) को चटाने से आक्षेप (-कंपकंपाना) और मिर्गी में बहुत आराम आता है।
(55.2). शहद के साथ लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग जटामांसी का चूर्ण सुबह और शाम रोगी को देने से आक्षेप के दौरे ठीक हो जाते हैं।
(55.2). शहद या दूध के साथ लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग से लगभग आधा ग्राम घोड़ बच (बच) को रोजाना रोगी को देते रहने से हिस्टीरिया रोग खत्म हो जाता है। इसको अधिक मात्रा में नहीं देना चाहिए अन्यथा उल्टी और सिर दर्द हो सकता है।
(55.2). लगभग 10 ग्राम शहद या केले के फल के रस के साथ ऊंटकटेरा की जड़ का सेवन करने से हिस्टीरिया रोग ठीक हो जाता है।
(56.1). शहद के साथ लगभग तीन ग्राम कलौंजी का सुबह के समय सेवन करने से भूलने की बीमारी दूर हो जाती है तथा याददास्त बढ़ती है।
(56.2). लगभग 30 ग्राम शहद के साथ 20 ग्राम घी मिलाकर भोजन के बाद रोजाना लेने से याददास्त बढ़ती है।
(56.3).शहद के साथ लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग चांदी की भस्म सुबह और शाम को लेने से बुद्धि का विकास होता है।
(57). शहद और पीपल का पीसा हुआ चूर्ण छाछ के साथ पीने से छाती के दर्द में लाभ मिलता है।
(58.1). 6 ग्राम से 10 ग्राम तक गर्म पानी में शहद मिलाकर 45 से 60 दिन तक लगातार पीने से हर प्रकार के चमड़ी के रोग, लाल चकते (निशान), खाज-खुजली ठीक हो जाते हैं और कोढ़ के रोग में भी आराम हो जाता है।
(58.2). शुद्ध आमलासार गन्धक को शहद में मिलाकर खाने से खुजली पूरी तरह से ठीक हो जाती है। खाज-खुजली के रोगी को गन्धक को रोगी के रोग के लक्षण के मुताबिक लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग तक दे सकते है।
(58.3). शहद के साथ मजीठ को पीसकर लगाने से हर प्रकार के दाद और चमड़ी के रोग ठीक हो जाते हैं।
(59.1). शहद का प्रयोग लगभग एक सप्ताह तक करने से उच्च रक्त चाप कम हो जाता है
(59.2). प्रतिदिन 5-7 ग्राम मधु पानी में मिलाकर पीने से हृदय की निर्बलता नष्ट होती है।
(59.3). शहद हृदय को शक्ति देने के लिए विश्व की समस्त औषधियों से सर्वोत्तम हैं इससे हृदय इतना शक्तिशाली हो जाता है जैसे घोड़ा हरे जौ खाकर शक्ति प्राप्त करता है। शहद के प्रयोग से हृदय के पुट्टों की सूजन दूर हो जाती है। 
(59.4). जहाँ यह रोग-ग्रस्त हृदय को शक्ति देता है वहाँ यह स्वस्थ हृदय को पुष्ट और शक्तिशाली बनाता है, हृदय बेवक़्त बन्द होने से बचाता है।
(59.5). जब रक्त में ग्लाइकोजन के अभाव से रोगी को बेहोश होने का डर हो तो शहद खिलाकर रोगी को बेहोश होने से बचाया जा सकता है। शहद मिनटों में रोगी में शक्ति व उत्तेजना पैदा करता हैं।
(59.6). सर्दी या कमजोरी के कारण जब हृदय की धड़कन अधिक हो जाये, दम घुटने लगे तो, दो चम्मच शहद सेवन करने से नवीन शक्ति मिलती है। 
(59.7). शहद की एक चम्मच पानी में डालकर पीने से हृदय की दुर्बलता, दिल बैठना आदि कोई कष्ट हो तो दूर होता है। 
(59.8). एक चम्मच शहद प्रतिदिन लेने से हृदय सबल व मजबूत बनता है।
(60). हड़ताल की राख (भस्म) में लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग शहद को मिलाकर रोजाना सुबह-शाम खाने से हाथ व पैरों की अकड़न दूर हो जाती है।
(61). शहद चाटने से चेचक में लाभ होता है।
(62.1). लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग से 1 ग्राम घोड़ बच के साथ शहद सुबह और शाम को रोजाना खाने से क्रोध शांत हो जाता है।
(62.2). शहद के साथ 7 मिलीलीटर से 10.50 मिलीलीटर गुरुच का रस मिलाकर सुबह-शाम को खाने से पित्त द्वारा उत्पन्न क्रोध शांत हो जाता है।
(62.3). शहद के साथ गुल्म कुठार की लगभग 1 या 2 गोलियां सुबह और शाम को देने से चिड़चिड़ा स्वभाव और मन की उदासी दूर हो जाती है।
(64). सिन्दूर की थोड़ी मात्रा शहद में मिलाकर साफ कपड़ें पर लगाकर कपड़े को पसलियों के दर्द वाले जगह पर चिपका दें और पसली की सिकाई करें तो रोग में जल्द आराम मिलता है।
(65.1). शहद के साथ 5 ग्राम भैंस के खुर की भस्म को चाटने से मिरगी के कारण आने वाले दौरे दूर हो जाते हैं।
(65.2). 10 ग्राम शहद के साथ 10 ग्राम ब्राह्मी के पत्तों को मिलाकर रोजाना खिलाने से मिरगी के दौरे दूर हो जाते हैं।
(65.3). लगभग 0.58 ग्राम शहद के साथ 0.40 ग्राम ब्राह्मी के पत्तों का रस और लगभग 0.15 ग्राम कूट के चूर्ण को मिलाकर पीने से पागलपन या उन्माद रोग दूर हो जाता है।
(65.4). शहद के साथ 10 मिलीलीटर ब्राह्मी का रस और 2 ग्राम कूठ के चूर्ण को मिलाकर खाने से बुद्धि का विकास होता है और उन्माद या पागलपन ठीक हो जाता है।
(65.5). शहद के साथ 10 मिलीलीटर ब्राह्मी के पत्तों के रस और 3 ग्राम कुलिंजन के चूर्ण को मिलाकर दिन में तीन बार चाटने से उन्माद ठीक हो जाता है।
(66.1). फुन्सियों पर असली शहद लगाने से त्वचा के रोग जल्दी ठीक हो जाते हैं।
(66.2). काली मिट्टी में थोड़ा सा शहद डालकर शरीर में जहाँ पर फोड़े-फुँसियाँ हों वहाँ पर लगाने से लाभ होता है।
(66.3). आटे और शहद को मिलाकर लेप बना लें। फिर इसे किसी कपडे़ के टुकड़े पर लगाकर फुँसियाँ पर लगा लें इससे जल्द लाभ होगा।
(66.4). गिलास गर्म पानी में 3 चम्मच शहद को मिलाकर कुछ महीनों तक रोजाना पीने से फोड़े और फुँसियाँ दूर हो जाती है।
(66.5). शहद या नारियल के पानी के साथ 0.24 ग्राम से 0.48 ग्राम केसर को सुबह और शाम सेवन करने से फुँसियाँ, जहर या बहने वाला मवाद बाहर आकर ठीक हो जाता है।
(67). शहद, मोम, सेंधानमक, गुड़, गूगल, गेरू, घी, आक (मदार) का दूध और राल का लेप करने से बहुत दिनों की बिवाई-एड़ियाँ -पाँव फटना ठीक हो जाते हैं।
(68). शहद या मीठे तेल में नौसादर को मिलाकर लगाने से सफेद कोढ़ मिट जाता है।
(69). 10 ग्राम शहद, 5 ग्राम आंवला, 200 मिलीलीटर गन्ने का रस मिलाकर पीने से खून के रोग में लाभ होता है।
(70.1). 20 ग्राम शहद में 10 ग्राम सुहागा मिलाकर दिन में तीन बार मलने से होंठो का फटना दूर हो जाता है।
(70.2). डेढ़ ग्राम बड़ी इलायची के बीज को शहद में मिलाकर चैट लें और ऊपर से सनाय, अमलतास और बड़ी (70.3). हरड़ को मिलाकर 25 ग्राम चूर्ण का काढ़ा बनाकर 50 ग्राम पिला पीने से सूजकर मोटी हुई त्वचा पतली और मुलायम हो जाती है। 
(70.4). शुद्ध (असली) शहद में नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़तीं। 
(70.5). मजीठ को शहद में मिलाकर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की झाइयाँ (चेहरे का कालापन) दूर हो जाती हैं।
(70.6). शहद को चेहरे पर लगाकर दो घंटे तक लगा रहने दें। फिर दो घंटे के बाद चेहरे को गर्म पानी से धो लें। इससे चेहरे पर चमक आ जाती है।
(71). दारू हल्दी, थूहर का दूध और आक का दूध इन सब को मिलाकर एक बत्ती बना लें। उसके बाद उस बत्ती को नाड़ी के घाव पर लगाने से नाड़ी के रोग में जल्द आराम मिलता है।
पांच द्रव्यों के योग को पंचकोल कहते हैं।  इस योग में पांच द्रव्यों को समान मात्रा में लेकर कपड़छन महीन चूर्ण कर के मिलाया जाता है। इस नुस्खे के पांच द्रव्य 1-1 कोल (आठ-आठ माशा) मिला कर यह योग बनाया जाता था इसलिए इसका नाम पंचकोल हुआ।
पंचकोल उदर रोग, यकृत की खराबी व कमज़ोरी में उपयोगी है। आहार-विहार में अनियमितता, स्वादवश अपथ्य पदार्था का सेवन तथा पथ्य पदार्था का अति सेवन-इन तीनों कारणों से उदर रोग, यकृत की खराबी व कमज़ोरी और इन अंगों से सम्बन्धित व्याधियाँ व्यापक रूप से फैली हुई हैं। 
पिप्पली पिप्पलीमूलं चव्यचित्रकनागरैः। पंचभिः कोलमात्रं यत्पंचकोल तदुच्यते॥ 
पंचकोलं रसे पाके कटुकं रुचिकृन्मतम्। तीक्ष्णोष्णं पाचनं श्रेठ दीपनं कफवातनुत्॥ 
गुल्म प्होलीदरानाह शूलनं पित्तकोपनम्।[भावप्रकाश निघुण्ट]
पीपल, पीपलामूल, चव्य, चित्रक (चीता) और सोंठ :- इन पाँच द्रव्यों के योग को पंचकोल कहते हैं। इन पाँचों द्रव्यों को 50-50 ग्राम मात्रा में अलग-अलग खूब कूट पीस कर महीन चूर्ण कर लें और बराबर-बराबर वज़न में लेकर मिला लें। इसे शीशी में भर कर रख लें। इसकी आधा चम्मच मात्रा (लगभग 3 ग्राम) एक गिलास छाछ में घोल कर भोजन के साथ घूँट-घूँट करके पीना चाहिए या शहद में मिला कर चाट लेना चाहिए। व्याधि दूर होने तक सेवन करके बन्द कर दें। इसे दाल, साग में बुरक कर भी सेवन कर सकते हैं या एक चम्मच चूर्ण कुनकुने गरम पानी के साथ सुबह शाम भोजन के बाद ले सकते हैं।
इसको छिलके वाली मूँग की दाल के साथ सेवन किया जा सकता है। एक साफ सफेद कपड़े में लगभग 20 ग्राम चूर्ण रख कर छोटी सी पोटली बना कर धागे से बाँध दें। दाल के लिए पानी आग पर रखते समय ही यह पोटली पानी में डाल दें। अब जिस तरह से दाल बनाई जाती है, वैसे ही दाल पकाएँ। जब दाल पक जाए तब पोटली निकाल कर फेंक दें। 25 ग्राम शुद्ध घी व 10-12 दाने जीरे का छौंक तैयार करें और इस दाल को बघार दें। इस दाल को परिवार के सभी लोग खा सकते हैं यानी व्याधिग्रस्त ही नहीं स्वस्थ व्यक्ति भी इसे खा सकता है। रोग ग्रस्त 5-6 दिन तक प्रतिदिन इसका सेवन करें फिर सप्ताह में 2-3 बार करता रहे। इसे पंचकोल साधित मूँग की दाल कहते हैं। इस योग की प्रकृति उष्ण होती है, अतः अनुकूल मात्रा में, शुद्ध घी का बघार लगा कर, उतनी ही अवधि तक सेवन करना चाहिए जब तक उदर रोग, भूख की कमी, पेट का फूलना, अपच, गैस की शिकायत आदि शिकायतें दूर न हो जाएं। सप्ताह में 1-2 बार सेवन करने में कोई हानि नहीं।
पंचकोल चूर्ण उत्तम रुचिकारक, भूख बढ़ाने वाला और पाचन क्रिया सुधारने वाला गुणकारी योग है। इसके सेवन से पेट का अफारा, पलिहाव्रिधि, गुल्म, शूल, कफजन्य व्याधि और उदर रोग नष्ट होते हैं। यह श्वास, खांसी, ज्वर और अरुचि को भी दूर करता है। यह योग इसी नाम से बना बनाया बाज़ार में मिलता है।
पीपल ::  पिप्पली। Long pepper).
पीपलामूल :- पीपल की जड़ को ही पीपलामूल (Piper Root) कहते हैं। यह पीपल की तुलना में गर्म, रूखी, पित्तकारक होती है और देखने में कृष्णवर्ण की होती है। शेष गुण पीपल के ही होते हैं।
चव्य, चविका, जावा लॉंग पीपर (Jawa Long pepper).
चित्रक (चीता) :- चित्रक।लेडवर्ट (Lead wort). यह पाक होने पर कटु, अग्निवर्धक, पाचन, हलका, रूखा, गर्म तथा ग्रहणी की शक्ति को बढ़ाने वाला है और संग्रहणी, कोढ़, सूजन, बवासीर, कृमि, खांसी, वात कफ और पित्त को नष्ट करने वाला है।
सौंठ, शुंठी,  ड्राई जिंजर रूट (Dry Ginger Root) :: रुचिकारक, आमवातनाशक, पाचक, चरपरी, हलकी, स्निग्ध, उष्ण, पाक होने पर मधुर, कफ वात तथा मलबन्ध को तोड़ने वाली है। वीर्यवद्र्धक, स्वर को उत्तम बनाने वाली, वमन, श्वास, शूल, खांसी, हृदय के रोग, श्पलीद, शोथ, आनाह, उदर रोग और वात के रोगों को नष्ट करने वाली है। यह ग्राही होती है। 
पाचक चूर्ण-हाजमे की दवा :: सौंठ, पीपल, काली मिर्च, हरड़, बहेड़ा, आँवला, नागर मौथा, विड नमक, वाय विडंग, छोटी इलायची, तेजपत्ता; इन सबको प्रत्येक 1-1 तोला और निशोथ की जड़ 44 तोला और मिश्री  66 तोला। इन सबको मिलाकर अच्छी तरह कूटकर छान लें। एक तोला 11.6638038 ग्राम के बराबर है।
AYUR VED (4.2) ::     

KIDNEY TROUBLE-TRANSPLANT गुर्दा  रोग :: एक पाव (लगभग 250 ग्राम) गोखरू काँटा पंसारी की दुकान से लेकर 4 लीटर पानी मे उबालिए। जब पानी एक लीटर रह जाए तो पानी छानकर एक बोतल मे रख लीजिए और काँटे का छूछन फेंक दीजिए। इस काढे को सुबह शाम खाली पेट हल्का सा गुनगुना करके 100 ग्राम के करीब पीजिए। दोपहर के भोजन के 5-6 घंटे के बाद शाम को खाली पेट काढ़ा पीजिये और उसके एक घंटे के बाद ही कुछ खाइए और अपनी पहले की दवाई ख़ान पान का रूटीन पूर्ववत जारी रखिए।15 दिन के अंदर यदि आपके अंदर अभूतपूर्व परिवर्तन हो जाए तो डॉक्टर की सलाह लेकर दवा बंद कर दीजिए। जैसे-जैसे आपके अंदर सुधार हो काढे की मात्रा कम कर सकते हैं या दो बार की बजाए एक बार भी कर सकते हैं।
CLEANSING THE KIDNEYS गुर्दे की सफाई :: Thoroughly wash coriander leaves cut-chop it them into small pieces. Boil it for 10 minutes. Filter and allow it to cool. This will cleanse the kidneys, through-via urine.
धनिए के एक गुच्छे को पानी से धो ले और इसके पत्तो को तोडकर बारीक-बारीक काट ले और इन्हे एक गिलास पानी में डालकर 10 मिनट तक उबाले और छान कर ठण्डा होने के लिए रख दें और भली भाँति, ठण्डा करके रोज पीयें। कुछ दिन में ही गुर्दे की सफ़ाई हो जाएगी और सारी गंदगी मूत्र मार्ग से स्वतः बाहर निकल जाएगी। 
हार्टअटैक या लकवा :: 
नुस्खा :- 1 ग्राम  दाल चीनी, 10 ग्राम काली मिर्च साबुत, 10  ग्राम तेज पत्ता, 10 ग्राम मगज, 10 ग्राम मिश्री डला, 10 ग्राम अखरोट गिरी, 10 ग्राम अलसी। 
विधि :- उपरोक्त सभी वस्तुओं को पीसकर या कूटकर बारीक चूर्ण बना कर उसे दस भागों में बाँट कर पुड़िया बना लें। 
प्रयोग :- एक पुड़िया हर रोज सुबह खाली पेट नवाये पानी से लें और एक घंटे तक कुछ भी नही खायें। चाय पी सकते हैं। ऐड़ी से ले कर चोटी तक की कोई भी नस बन्द हो; खुल जाएगी।
गठिया-वाय रोग ::
नुस्खा :- 250 ग्राम मैथीदाना, 100 ग्राम अजवाईन और 50 ग्राम काली जीरी (ज्यादा जानकारी के लिए नीचे देखे)
काली जीरी
औषधि तैयार करने का तरीका :- उपरोक्त तीनों चीजों को साफ-सुथरा करके हल्का-हल्का सेंकना (ज्यादा सेंकना नहीं) तीनों को अच्छी तरह पीसकर चूर्ण बना लें और कांच की शीशी या बरनी में भर कर रख लें।
सेवन करने का तरीका :-
रात्रि को सोते समय एक चम्मच पावडर एक गिलास पूरा कुन-कुना पानी के साथ लेना है। गरम पानी के साथ ही लेना अत्यंत आवश्यक है लेने के बाद कुछ भी खाना पीना नहीं है। यह चूर्ण सभी उम्र के व्यक्ति ले सकतें है। 
चूर्ण रोज-रोज लेने से शरीर के कोने-कोने में जमा पड़ी गंदगी (कचरा) मल और पेशाब द्वारा बाहर निकल जाएगी। पूरा फायदा तो 80-90 दिन में महसूस करेगें, जब फालतू चरबी गल जाएगी, नया शुद्ध खून का संचार होगा। चमड़ी की झुर्रियाॅ अपने आप दूर हो जाएगी। शरीर तेजस्वी, स्फूर्तिवाला व सुंदर बन जायेगा ।
कलौंजी 
अन्य लाभ :- हड्डियाँ मजबूत होगी, आँखों रौशनी बढ़ेगी, बालों का विकास होगा, पुरानी कब्जियत से हमेशा के लिए मुक्ति, शरीर में खुन दौड़ने लगेगा, कफ से मुक्ति, हृदय की कार्य क्षमता बढ़ेगी, थकान नहीं रहेगी-घोड़े की तहर दौड़ते जाएगें, स्मरण शक्ति बढ़ेगी, स्त्री का शरीर शादी के बाद बेडोल की जगह सुंदर बनेगा, कान का बहरापन दूर होगा, खून में सफाई और शुद्धता बढ़ेगी, शरीर की सभी खून की नलिकाएॅ शुद्ध हो जाएगी, दांत मजबूत बनेगा, इनेमल जींवत रहेगा, नपुसंकता दूर होगी, मधुमेह काबू में रहेगा-मधुमेह की जो दवा लेते हैं, वह चालू रखें। इस चूर्ण का असर दो माह लेने के बाद से दिखने लगेगा। जिंदगी निरोग, आनंददायक, चिंता रहित स्फूर्ति दायक और आयुष्ययवर्धक बनेगी। 
कुछ लोग कलौंजी को काली जीरी समझते हैं कृप्या चित्र देखें । 
UTILITY OF COPPER VESSELS FOR DRINKING WATER :: 
(1). HELPS IN LOSS OF WEIGHT :: It has the ability to get the digestive system back to normal. It will also helps the body cut down fat quickly and effectively.
(2). RETIRED AGEING :: Copper is packed with antioxidants which can slow down ageing, keeping one's fine lines and wrinkles at bay. It also promotes cell regeneration, replacing the dead skin cells with new and healthy ones.
(3). FASTER HEALING :: It is known to heal wounds quickly, owing to its anti-inflammatory, anti-bacterial and antiviral properties. Its ability to stimulate cell regeneration is another factor that contributes to quick healing. Copper can also boost immune system and heal from the inside, curing various internal infections especially in the stomach.
(4). REGULATION OF THYROID GLAND :: A thread that binds together many patients who suffer from thyroid diseases is that they have very little copper content in their bodies. Copper is an important mineral that regulates the functioning of thyroid gland. Though mostly observed in people with high thyroid hormone levels, copper deficiency could pose a threat to those with low thyroid hormone levels too. Regular consumption of water from copper vessels can make up for copper deficiency and keep a check on thyroid levels. 
(5). CONTROLLING CANCEROUS TISSUE :: Free radicals play a major role in the growth of cancerous cells in the body. The strong antioxidant properties of copper can eliminate these radicals and cancel out their negative effects on the body. Though it has not been scientifically proved, certain copper complexes are believed to possess anticancer properties too.
(6). REGULATION OF MELANIN PRODUCTION :: Copper plays a vital role in producing melanin, a pigment that gives colour to the eyes, skin and hair. Melanin protects the body from Sun burns-damage and helps heal wounds faster.
(7). RELIEF FROM ANAEMIA :: Copper’s role is often overlooked when it comes to the body’s ability to absorb iron. Copper is necessary not just for cell formation and regeneration, but also to help the right amount iron to be absorbed into the blood.
(8). PREVENTION OF DIGESTIVE DISORDERS :: It regulates the contraction and relaxation of the stomach, thus facilitating the smooth passage of food along the digestive tract, eliminating discomforts like acidity and gas. It can also kill harmful bacteria in the intestines, keeping one's stomach free of inflammations, infections and ulcers.
(9). BOOSTS CARDIOVASCULAR SYSTEM :: It can keep a check on the heart beats and blood pressure. It regulates blood cholesterol and triglyceride levels and dilates blood vessels for better blood circulation.  It is known to prevent the plaque accumulation in the arteries, which is a main cause for heart disease.
(10). REGULATION OF BRAIN :: Human body neurons have an outer layer called myelitis sheath, which helps transmit signals from one neuron to another. Copper helps synthesise a class of lipids called phospholipids, which are necessary for the formation of myelitis sheath. Thus, copper can help the brain function faster by increasing the speed and efficiency of signal transmission. It is also known to prevent seizures, owing to its anti-convulsive properties.
(11). REDUCTION OF ARTHRITIS PAIN :: Copper has strong anti-inflammatory properties which can provide great relief to arthritis and rheumatoid arthritis pains. Additionally, copper is known to strengthen the bones and immune system, which is necessary to prevent arthritis and other body pains.

GINGIVITIS SWELLING OF GUMS मसूढ़ों की सूजन :: मसूढ़ों की सूजन एक आम समस्या है। इसके साथ-साथ खून निकलना और दाँतों का हिलना भी प्रायः देखा जा सकता है।  घरेलू उपचार के तौर पर लौंग का इस्तेमाल किया जा सकता है। लौंग का तेल भी उपयोगी है। अक्सर लोग सरसों के तेल में नमक मिलाकर दाँतो की मालिश भी करते हैं। यदि इसके साथ दर्द की शिकायत भी हो तो हल्दी को दूध में मिलाकर पीना चाहिये। नींबू का रस खाने में या मिलाकर या हल्के गर्म पानी में मिलाकर लेना चाहिये। 

CANCER कैंसर कर्क रोग :: A preparation of Ginger, Fennel, Turmeric and Almonds with the cow's urine is found to be useful in cancer cure. However, the cow should be one which is well fed-nourished-maintained at home, preferably of black colour. Gir cows are known for yielding large quantity of milk. In addition to that they have been found to have gold in their urine, as an iodide-a salt soluble in water. One litre urine yield 10 mg gold. Around 5100 components were found in its urine, out of which 388 have medicinal significance. 

भाँग का प्रयोग करें।  

प्रोस्टेट ग्रन्थि का बढ़ना ENLARGEMENT OF PROSTRATE GLAND :: प्रोस्टेट एक छोटी सी ग्रंथि होती है जिसका आकार अ्खरोट के बराबर होता है। यह पुरुष के मूत्राषय के नीचे और मूत्रनली  के आस-पास होती है। 50 वर्ष की आयु के बाद बहुधा प्रोस्टेट ग्रन्थि का आकार बढने लगता है।इसमें पुरुष के सेक्स हार्मोन  प्रमुख भूमिका होती है। जैसे  ही प्रोस्टेट बढती है मूत्र नली पर दवाब बढता है और पेशाब में रुकावट की स्थिति बनने लगती है। पेशाब पतली धार में, थोडी-थौडी  मात्रा में लेकिन बार-बार आता है कभी-कभी पेशाब टपकता हुआ बूंद बूंद जलन के साथ भी आता है। कभी-कभी पेशाब दो फ़ाड हो जाता है। रोगी मूत्र रोक नहीं पाता है। रात को बार -बार पेशाब के लिये उठना पडता जिससे नीद में व्यवधान पडता है। यह रोग 70 की आयु के बाद  उग्र हो जाता है और पेशाब पूरी तरह रुक जाने के बाद  डॉक्टर केथेटर  की नली लगाकर  यूरिन बेग में  मूत्र  करने  का इंतजाम  कर देते हैं। यह देखने मे आता है कि 60 के पार  50% पुरुषों मे  इस रोग के लक्षण प्रकट  होने लगते हैं, जबकि 70-80 की आयु  के लोगों में 90% पुरुषों  में यह रोग  प्रबल  रूप से  दिखाई देने लगता है।  

प्रोस्टेट वृद्धि  के लक्षण :: (1). पेशाब करने मे कठिनाई  महसूस होती है।(2). थोड़ी-थोड़ी  देर में पेशाब  की हाजत  मालूम होती है। रात को कई बार पेशाब के लिए उठना  पड़ता है। (3). पेशाब की धार चालू होने मे विलंब होना। (4).  मूत्राशय पूरी तरह खाली नहीं  होता, मूत्र  की कुछ  मात्रा मूत्राशय में शेष  रह जाती है। इस शेष रहे मूत्र मे रोगाणु  पनपते हैं, जो किडनी में खराबी  पैदा करते हैं। (5).  ऐसा प्रतीत होता है कि पेशाब की जोरदार हाजत हो रही है, लेकिन बाथरूम  जाने पर पेशाब की कुछ  बूंदे ही निकलती हैं  या रुक-रुक कर पेशाब आता है। (6). पेशाब में जलन होती है। (7). पेशाब कर चुकने के बाद भी  पेशाब की बूंदें  टपकती रहती हैं, याने मूत्र  पर कंट्रोल नहीं रहता। (8). अंडकोष में दर्द उठता रहता  है।(9).  संभोग में  दर्द के साथ  वीर्य  छूटता है। 

DOMESTIC TREATMENT FOR PROSTRATE GLAND बुजुर्गों में प्रोस्टेट ग्रन्थि बढने पर सरल घरेलू उपचार :: (1).   दिन में 3-4 लिटर पानी पीने की आदत डालें। लेकिन शाम को 6 बजे बाद जरुरत मुताबिक ही पानी पियें ताकि रात को बार बार पेशाब के लिये न उठना पडे।

(2).  अलसी को मिक्सर में चलाकर पावडर बनालें । यह पावडर 15 ग्राम की मात्रा में पानी में घोलकर दिन में दो बार पीयें। बहुत लाभदायक उपचार है।

(3).  कद्दू में जिन्क पाया जाता है जो इस रोग में लाभदायक है। कद्दू के बीज की गिरी निकालकर तवे पर सेक लें। इसे मिक्सर में पीसकर पावडर बना लें। यह चूर्ण 20 से 30 ग्राम की मात्रा में नित्य पानी के साथ लेने से प्रोस्टेट सिकुडकर मूत्र खुलासा होने लगता है।

(4).  चर्बीयुक्त ,वसायुक्त पदार्थों का सेवन बंद कर दें। मांस खाने से भी परहेज करें।

(5).  हर साल प्रोस्टेट की जांच कराते रहें ताकि प्रोस्टेट केंसर  को प्रारंभिक हालत में ही पकडा जा सके। 

(6). चाय और काफ़ी में केफ़िन तत्व पाया जात है। केफ़िन मूत्राषय की ग्रीवा को कठोर करता है और प्रोस्टेट रोगी की तकलीफ़ बढा देता है। इसलिये केफ़िन तत्व वाली चीजें इस्तेमाल न करें।

(7). सोयाबीन में फ़ायटोएस्टोजीन्स होते हैं जो शरीर में टेस्टोस्टरोन का लेविल कम करते हैं। रोज 30 ग्राम सोयाबीन के बीज गलाकर खाना लाभदायक उपचार है।

(8). विटामिन सी का प्रयोग रक्त नलियों के अच्छे स्वास्थ्य के लिये जरूरी है। 500 एम जी की 2  गोली प्रतिदिन लेना हितकर माना गया है। 

(9).  दों टमाटर  प्रतिदिन या हफ्ते  मे 3-4 बार  खाने से  प्रोस्टेट केन्सर  का खतरा   50% तक कम हो जाता है|  इसमे पाये जाने वाले लायकोपिन और  एंटीआक्सीडेंट्स  केन्सर की रोक थाम कर सकते हैं। 

(10).  नियमित अंतराल पर सेक्स करने से प्रोस्टेट ग्रन्थि का स्वास्थ्य ठीक रहता है। अत:अधिक संयम गैर जरूरी माना गया है। सेक्स की अति और अधिक संयम दोनों ही ठीक नहीं हैं। महीने में केवल एक बार सम्भोग करें। 

(11).  जिन्क एवं विटामिन डी 3 प्रोस्टेट बढने की बीमारी में उत्तम परिणाम प्रस्तुत करते हैं। 30 एम जी जिन्क प्रतिदिन लेने से अच्छे परिणाम आते हैं। विटामिन डी 3 याने केल्सीफ़ेर्रोल 600 एम जी प्रतिदिन लेना चाहिये।

(12).  आधुनिक चिकित्सक इस रोग में बहुधा   टेम्सुलोसीन और फ़ेनास्टरीड दवा का प्रयोग करते हैं। 

(13). विशिष्ट परामर्श-हर्बल औषधि  प्रोस्टेट ग्रंथि  बढ़ने में सर्वाधिक  कारगर  साबित हुई हैं। यहाँ तक कि लंबे समय से  केथेटर  नली लगी हुई  मरीज को  भी केथेटर  मुक्त होकर स्वाभाविक तौर पर   खुलकर  पेशाब  आने लगता है।  

साँस फूलना  BREATHLESSNESS-GASPING :: साँस तब फूलती है जब फेंफड़ों को ऑक्सीजन पूरी-पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलती। फेफड़ों औरश्वांस नलियों में सूजन होना भी इसका कारण है। 
Breathlessness (Pant, Gasp, Heave, Puff)-difficulty in breathing  is caused due to brisk walking, running , climbing rocks, excessive exercise, cold, high fatty food, pollution, toxic fumes, allergy, non veg food, alcohol-liquor. It may be caused by the sickle cells as well. Coffee, Eucalyptus oil, drinking warm water containing lemon juice & honey, movement to fresh warm air and avoiding excess cooling and air conditioners are helpful in controlling it. 
इसमें एलर्जी (-प्रत्यूर्जता, तीव्र प्रतिक्रिया) संक्रमण, सूजन, चोट या उपापचयी, (चयापचयी, Metabolic) कारण प्रमुख हैं। ज्यादा व्यायाम कारण, तेज़ चलना, ऊँचाई पर चढ़ना, दौड़ना और थकान भी इसके कारण हैं। की वजह से हो सकता है। प्रदूषित वातावरण, धुँआ, घुटन अन्य कारण हैं। तला हुआ भोजन, मोटापा, माँस-मीट, मदिरा  सेवन भी इसका कारण है। खून की कोशिकाओं का चन्द्राकर होने पर उनमें ऑक्सीजन को ग्रहण करने की क्षमता बेहद काम हो जाती है। साँस में ठण्डी हवा इसका असर बढ़ा देती है। 
ऐसी स्थिति में कॉफी का सेवन, युकलिप्टस का तेल सूँघना, गर्म पानी में नींबू  शहद मिलाकर पीना, गर्म स्थान पर रहना, एयर कंडीशनर की हवा स्व बचना लाभप्रद हैं। 
(1). Eucalyptus :: Aborigines, Germans, and Americans have all used the refreshing aroma of eucalyptus to promote respiratory health and soothe throat irritation. Eucalyptus is a common ingredient in cough lozenges and syrups and its effectiveness is due to a compound called cineole. Cineole is an expectorant which eases cough, fights congestion and soothes irritated sinus passages. Since it contains antioxidants, it supports the immune system from common cold or other illness.
(2). Lung wort-Pulmonaria :: Lung wort is a flowering rhizomatous that actually resembles lung tissue in appearance. It contains compounds that are powerfully effective against harmful organisms that affect respiratory system. Lung wort-Oregano contains the vitamins and nutrients required by the immune system, its primary benefits are owed to its carvacrol and rosmarinic acid content. Both compounds are natural decongestants and histamine reducers that have direct, positive benefits on the respiratory tract and nasal passage airflow. 
(3). Plantain leaf :: It eases cough, soothe irritated mucous membranes & dry cough by spawning mucus production in the lungs. 
(4). Elecampane :: Lozenges and cough drops have been produced from its root. It has a relaxing effect on smooth tracheal muscles. There are two active compounds in it that provide the beneficial effect :-inulin, which soothes bronchial passage and alantolactone, an expectorant with antitussive action.
(5). Lobelia :: It  contains an alkaloid known as lobeline, which thins mucus, breaks up congestion. It stimulates the adrenal glands to release epinephrine. It relaxes the airways and allows for easier breathing. 
(6). Chaparral :: It contains powerful antioxidants that resist irritation & fights harmful organisms. Its expectorant action clear airways of mucus.
(7). Peppermint ::  It contains menthol-a soothing ingredient known to relax the smooth muscles of the respiratory tract and promote free breathing. Paired with the antihistamine effect of peppermint, menthol is a fantastic decongestant. It is an antioxidant and fights harmful organisms.
(8). Osha Root :: It contain camphor and other compounds which make it one of the best lung-support herbs. One of its main benefits is that it helps increase circulation to the lungs, which makes it easier to take deep breaths. With seasonal sensitivities flare up sinuses, it produces an effect that help calm respiratory irritation.
(9). Thyme :: It is a common herb witch is excellent for whooping cough, bronchitis and asthma. It soothes a sore throat, as well.
(10). Sage :: It is a particularly useful treatment that can easily be made into a tea or infusion. The essential oils in sage are good for throats and lungs, soothing coughs, and calming airways. 
GRAY HAIR BALDNESS बाल सफेद होना-गिरना-गंजापन :: (1). नीम की निंबोली का तेल को रात में बालों में लगाकर सुबह धोलें। एक सप्ताह तक इस तेल को बालों में  प्रतिदिन 2 बाल मालिश करें। 
(2). नारियल के तेल में निंबोली उबालकर ठंडा करके सप्ताह में दो बार मालिश करें।
(3). कुसुम के बीजों का चूर्ण और बबूल की छाल का चूर्ण, दोनों समान मात्रा में लेकर तवे पर भून कर राख जैसा मिश्रण तैयार करके नारियल या मोगरा के तेल के साथ मिलाकार सिर पर मालिश करने से बालों की वृद्दि होगी और गंजापन दूर होगा।
(4). इंद्रायण नामक पौधे की जडों को गौ-मूत्र में कुचलकर सिर पर लगाने से गंजापन नहीं होता और बालों की जडों भी मजबूत हो जाती हैं। 
(5). बालों की बेहतर सेहत और घने बनाने के लिए शंखपुष्पी के ताजे पौधों को सुखा कर बने चूर्ण को नारियल तेल में डालकर मध्यम आँच पर 20-25 मिनिट तक गर्म करके ठंडा होने पर  छानकर बालों में लगाने से यह जडों को मजबूती प्रदान कर घना काला करता है।
(6). बालों पर नारियल का ताजा पानी लगाकर हल्की-हल्की मालिश करने से बालों का रूखापन दूर होता है और इनके झडने का सिलसिला कम हो जाता है। ताजे हरे नारियल की मलाई से बालों पर हल्का हल्का रगडकर मालिश करने से भी लाभ मिलता है। 
(7). गंजेपन का इलाज :: जटामांसी 5 ग्राम ,भृंगराज 5 ग्राम, बकरी का दूध 100 मि.ली.। 
BALDNESS गंजापन :: अनुवांशिक कारणों के अलावा विकार, किसी विष का सेवन कर लेने, उपदंश, दाद, एक्जिमा आदि के कारण  गंजापन हो जाता है। (1). नमक का अधिक सेवन करने से गंजापन आ जाता है। पिसा हुआ नमक व काली मिर्च एक-एक चम्मच नारियल का तेल पांच चम्मच मिलाकर गंजेपन वाले स्थान पर लगाने से बाल आ जाते हैं। कलौंजी को पीसकर पानी में मिला लें। इस पानी से सिर को कुछ दिनों तक धोने से बाल झड़ना बंद हो जाते हैं और बाल घने भी होना शुरू हो जाते हैं। (2). अगर बालों का गुच्छा किसी स्थान से उड़ जाए तो गंजे के स्थान पर नींबू रगड़ते रहने से बाल दुबारा आने लगते हैं। जहाँ से बाल उड़ जाएँ तो प्याज का रस रगड़ते रहने से बाल आने लगते हैं। बालों में नीम का तेल लगाने से भी राहत मिलती है। (3). बाल झड़ते हैं तो गरम जैतून के तेल में एक चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी पाउडर का पेस्ट बनाएँ। नहाने से पहले इस पेस्ट को सिर पर लगा लें। 15 मिनट बाद बाल गरम पानी से सिर को धोएँ। ऐसा करने पर कुछ ही दिनों बालों के झड़ने की समस्या दूर हो जाएगी। (4). लहसुन का खाने में अधिक प्रयोग करें। उड़द की दाल उबाल कर पीस लें। इसका सोते समय सिर पर गंजेपन की जगह लेप करें। हरे धनिए का लेप करने से भी बाल आने लगते हैं। केले के गूदे को नींबू के रस के साथ पीस लें और लगाएँ, इससे लाभ होता है।अनार के पत्ते पानी में पीसकर सिर पर लेप करने से गंजापन दूर होता है।
DANDRUFF रुसी-फ्यास ::  (1). आँवले के फलों का चूर्ण लिया जाए और इसमें एक टमाटर कुचल कर मिला जाए, इन दोनों को अच्छी तरह से मिलाकर सिर पर लगाकर 20 मिनिट तक मालिश की जाए तो बालों से डेंड्रफ दूर होता हैं।
(2). अनंतमूल की जड़ और सेमल की छाल को पानी में डालकर खौलाकर  छानके  पीने से बाल  बेहतर होते हैं और उनका असमय पकना भी बन्द हो जाता है। 
(3). गुडहल के लाल फूलों को नारियल तेल में डालकर गर्म करके ठण्डा कर बालों पर इस तेल से मालिश की जाती है।  नहाते वक्त बालों पर इस तेल को लगायें  और फिर आहिस्ता-आहिस्ता सूती तौलिये से सुखा कर पुनः लगाएं।
(4). गुडहल के ताजे लाल फूलों को हथेली में कुचल कर इसके रस को नहाने के दौरान बालों पर हल्का हल्का रगडा जाए, तो यह एक  कंडीशनर की तरह कार्य करता है।
(5). मुनगा-सहजन की पत्तियों को कुचलकर नहाने से पहले बालों में लगाया जाए तो बालों से डेंड्रफ दूर करने में काफी मदद होती है। माना जाता है कि यह बालों में ताकत प्रदान करता है और अक्सर असमय पकने की प्रक्रिया को भी रोक देता है।
dengue mosquito photo: Aedes Aegypti mosquitook5.jpgDENGUE डेंगू :: यह रोग डेंगू के मच्छरों के काटने से होता है। अपने आस-पास कहीं भी पानी न भरने दें। पानी की टंकियाँ पूरी तरह से ढँक कर रखें। कूलर के पानी में तेल दाल दें। घर के पास सीलन दूर करें। मच्छर मारने की दवाइयों का प्रयोग करें। अन्यथा नीम के सूखे पत्ते घर में इस तरह जलायें कि उसका धुँआ सारे घर में सही तरीके से फैल जाये। घर के आस-पास तुलसी उगायें और उसके पत्तों का नियमित सेवन करें। इसमे खून में प्लेटलेट्स बहुत तेजी से कम होते हैं। इसको मलेरिया से कम खतरनाक माना जाता है। पूरी आस्तीन की कमींज और पेंट-पैजामा पहनके रहें। पपीते का सेवन करते रहें। घबरायें नहीं। 
डेंगू के लक्षण : होंठ काले पड़ सकते हैं। तीव्र ज्वर, सर में तेज़ दर्द, आँखों के पीछे दर्द होना, उल्टियाँ लगना, त्वचा का सुखना तथा खून के प्लेटलेट की मात्रा का तेज़ी से कम होना डेंगू के कुछ लक्षण हैं जिनका यदि समय रहते इलाज न किया जाए तो रोगी की मृत्यु भी सकती है l
डेंगू का उपचार :: (1). अनार जूस, (2). गेहूं घास रस, (3). पपीते के पत्तों का रस, (4). गिलोय, अमृता,अमरबेल सत्व। (4). बकरी का दूध विशेष लाभकारी है। (5). रोगी को हर घंटे 100 मिलीलीटर  पानी पिलायें। 
COUGH & SORE THROAT खाँसी-गले में ख़राश ::  
Herbs :: Alsi, Maghz, Burge Bansa, Burge Gawzaban, Dama Booti, Sat Podina, Rogun Tulsi, Tukhm Khatmi, Rube Mulhethi, Tukhm Khubbzi, Sapistan, Unnab, Nausadar Powder-Ammonium Chloride-chemical) and  Qand Safaid. This combination in powdered form can be taken with honey. Alternatively, it can be boiled for 30 minutes in water and sipped in small quantity :- 1-2 tea spoons.
(1). अदरक रस, मधु (-शहद) भाग सम, करें अगर उपयोग। दूर आपसे होयगा, कफ और खाँसी रोग।। Ginger juice mixed with equal quantity of honey, helps in curing coughing.
(2). अगर किसी व्यक्ति को खाँसी के साथ कफ भी हो जाये, तो उसे रात को सोते समय दूध में अदरक उबालकर पिलाएँ। यह प्रक्रिया क़रीबन 15 दिनों तक अपनाएँ। इससे सीने में जमा कफ आसानी से बाहर निकल आएगा। इससे रोगी को खाँसी और कफ दोनों में आराम होगा। रोगी को अदरक वाला दूध पिलाने के बाद पानी न पीने दें।
(3). एक चम्मच तुलसी के पत्तों का रस शहद में मिलाकर हल्का गुनगुना करके, खाने से गले की खराश और दर्द दूर हो जाता है। खांसी में भी तुलसी का रस काफी फायदेमंद होता है।
(4). गरम नीर को कीजिये, उसमें शहद मिलाय। तीन बार दिन लीजिये, तो जुकाम मिट जाय॥ Warm water added with honey, provides relief from sneezing.
EYE CARE नेत्र  चिकित्सा :: 
गोरखमुंडी एक  ऐसी औषधि है जिसके अनेक फायदे हैं। 
वानस्पतिक नाम: स्फ़ीरैंथस इंडिकस Sphaeranthus Indicus) कंपोज़िटी (Compositae). 
यह एक वार्षिक प्रसर, वनस्पति धान के खेतों तथा नम स्थानों में वर्षा के बाद उगती है। यह लसदार, रोमश और गंधयुक्त होती है। कांड पक्षयुक्त, पत्ते विनाल, कांडलग्न और प्राय: व्यस्त लट्वाकार (-Obovate) और पुष्प सूक्ष्म किरमजी (Magenta-coloured) रंग के और मुंडकाकार व्यूह में पाए जाते हैं।
यह एक ऐसा रसायन-वह औषधि जो शरीर को जवान बनाता है और आँखो को शक्ति देता है। इसके मूल, पुष्पव्यूह अथवा पंचाग का चिकित्सा में व्यवहार होता है। इसका चूर्ण दूध के साथ लम्बे समय तक लेने से आँखों को फायदा करता है। गर्भवती स्त्री भी उपयोग कर सकती हैं। यह  पाचन शक्ति भी बढ़ाती है। यह कटुतिक्त, उष्ण, दीपक, कृमिघ्न (-कीड़े मारने वाली), मूत्रजनक रोगों और वात तथा रक्तविकारों में उपयोगी मानी जाती है। इसमें कालापन लिए हुए लाल रंग का तैल और कड़वा सत्व होता है। तैल त्वचा और वृक्क द्वारा नि:सारित होता है, अत: इसके सेवन से पसीने और मूत्र में एक प्रकार की गंध आने लगती है। मूत्रजनक होने और मूत्रमार्ग का शोधन करने के कारण मूत्रेंद्रिय के रोगों में इससे अच्छा लाभ होता है। अधिक दिन सेवन करने से फोड़े फुन्सी का बारंबार निकलना बंद हो जाता है। यह अपची, अपस्मार, श्लीपद और प्लीहा रोगों में भी उपयोगी मानी जाती है। इसके प्रयोग करने से सिर में दर्द नहीं होगा। बाल दोबारा काले हो जाएगे और उनका झड़ना  रूक जाएगे।
पुष्कराक्ष: यह नाम-मन्त्र नेत्र-रोगों का निवारण करता है। ॐ पुष्कराक्ष: नमः अथवा ॐ नमो पुष्कराक्ष: का प्रतिदिन 108 बार नियमानुसार जप करें। 
नेत्ररोग से बचने के सरल उपाय  :: मल, मूत्र और अपानवायु के वेगों को न रोकें। नियमित रूप से शौच जायें । मूत्र में प्रतिविम्ब न देखें। गर्मी वा धूप में से आकर तुरन्त न नहायें व  सिर पर ज्यादा ठंडा या गर्म जल न डालें। आग के आगे ज्यादा देर तक न बैठें और पैर के तलवे ज्यादा न  सेकें। नेत्रों में धूल या धुंआं न जाने दें। धूल, धुएं व गर्म स्थान में रहने व सोने से बचें। समय पर सोयें, ज्यादा न सोयें, सूर्य निकलने से पहले उठें, ग्रहण न देखें, चलती गाड़ी से सर या मुँह बहे न निकालें। शोक, चिन्ता और क्रोधजन्य कष्ट और सन्ताप से बचें तथा अधिक न रोयें। दुखती हुई आंखों से न पढ़ें और सूर्य की ओर न देखें, विशेषतौर पर सुबह और शाम। अत्यधिक तेज रौशनी से बचें। दुखती हुई आंखों में विषय भोग-वीर्यनाश न करें।  प्रातःकाल और सायंकाल हरी घास, फसल, वृक्षों तथा पादपों को देखने से चक्षुदृष्टि बढ़ती है । हरे भरे उद्यानों में यदि कोई दुखती हुई आंखों में भी भ्रमण करे तो उनमें भी लाभ होता है । हरी वस्तुओं को देखने से चक्षुविकार नष्ट होकर नेत्रज्योति बढ़ती है। 
नेत्र ज्योति : सौंफ और मिश्री समान भाग पीस कर सुबह-शाम पानी के साथ दो माह तक सेवन करने से आँखों की कमजोरी दूर होती है।
चक्षुधावन :  खुले मुंह के बर्तन में शुद्ध जल में भरके उसमें दोनों आंखों को डुबोवें और बार-बार आंखों को जल के अन्दर खोलें और बन्द करें। 
जलनेति  चक्षुओं के लिए अमृत संजीवनी है, वहाँ यह प्रतिश्याय (जुकाम) को भी दूर भगा देती है। 
इससे  आंखों के सब प्रकार के रोग दूर होते हैं और नेत्र ज्योति बढ़ती है। 
स्नान : शुद्ध सरोवर वा नदी में नहाने वा तैरने से भी चक्षुओं को बड़ा ही लाभ होता है और वीर्यसम्बन्धी रोग दूर हो जाते हैं। 
पैरों के तलवों की शुद्ध सरसों के तेल से मालिश :  यह बहुत फयदेमन्द है।  
सोते समय सरसों का तेल थोड़ा गर्म करके एक दो बूंद कानों में डालने से आँखों को बहुत ही लाभ पहुंचता है तथा आँखें कभी नहीं दुखती, साथ ही कानों को लाभ होता है ।
व्यायाम और ब्रह्मचर्य: ब्रह्मचर्य परमौषध है। प्रतिदिन व्यायाम करने से भोजन ठीक पचता है और कब्ज नहीं होती। वीर्य शरीर का अंग बन जाता है जो नष्ट नहीं होता और वीर्य ही सारे शरीर और विशेषतया ज्ञानेन्द्रियों को शक्ति देता है । जब व्यायाम से वीर्य की गति ऊर्ध्व हो जाती है और वह मस्तिष्क में पहुंच जाता है तब चक्षु आदि इन्द्रियों को निरन्तर शक्ति प्रदान करता है और स्वस्थ रखता है। धन्वन्तरि जी के अनुसार: 
मृत्युव्याधिजरनाशि पीयूषं प्रमौषधम्। ब्रह्मचर्यं महद्यरत्‍नं सत्यमेव वदाम्यहम् ॥
आंखों के लिये तो ब्रह्मचर्य पालन ऐसा ही है जैसा कि दीपक के लिए तेल। जैसे तेल के अभाव में दीपक बुझ जाता है वैसे ही वीर्यरूपी तेल के अभाव वा नाश से नेत्ररूपी दीपक बुझ जाते हैं । वीर्यनाश का प्रभाव सर्वप्रथम नेत्रों पर ही पड़ता है । वीर्यनाश करने वालों की आंखें अन्दर को धंस जाती हैं। 
उठते-बैठते अंधेरी-चक्कर आते हैं। आंखों के चारों ओर तथा मुख पर काले-काले धब्बे हो जाते हैं । आंखों का तेज वीर्य के साथ-साथ बाहर निकल जाता है । वीर्यरक्षा के बिना चक्षु सुरक्षा के अन्य सब साधन व्यर्थ  हैं। अतः जिसे अपने आंखों से प्यार है वह कभी भूलकर भी किसी भी अवस्था में वीर्य का नाश नहीं करता और वीर्यरक्षा के लिये नियमपूर्वक अन्य साधनों के साथ-साथ प्रतिदिन व्यायाम भी करता है ।
शीर्षासन, वृक्षासन, मयूरचाल, सर्वांगासन तो वीर्यरक्षा में परम सहायक तथा आंखों के लिये सब प्रकार के व्यायामों में मुख्य हैं तथा आंखों के लिये गुणकारी हैं। 
आर्थराइटिस ARTHRITIS  जोड़ों का दर्द :: (1). एक गिलास गुनगुने पानी में दो छोटे चम्मच नींबू के रस में शहद मिलाकर लेने से अर्थराइटिस के दर्द में आराम मिलेगा।ये वजन कम करने का नुस्खा है। अर्थराइटिस के दर्द का एक कारण शरीर का वजन बढ़ना भी है।
(2).  मेथी के लड्डू खाने से जोडों के दर्द में लाभ मिलता है।
(3).  करेले का रस पीने से पित्त में लाभ होता है।  
(4).  ग्वार पाठा-Aloe Vera का गूदा खाने से दर्द में राहत मिलती है। 
(5). स्पॉन्डिलाइटिस में भी बर्फ की सिंकाई लाभदायक होती है। गर्दन में दर्द होने पर भी बर्फ की सिंकाई लाभदायक होती है।
(6).  रोजाना सुबह लहसुन की साबूत कलियां पानी के साथ निगलने से  जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है, ब्लड कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो जाता है और ब्लडप्रेशर काबू में रहता है।
(7). मेथी और सोंठ पाउडर को मिलाकर गर्म पानी के साथ दिन में दो-तीन बार लेने से आर्थराइटिस और साईटिका के दर्द सेछुटकारा मिलता  है।
(8). मेथी, गुड़, सौंठ, अजवाइन के लड्डू खाने से जोडों के दर्द में लाभ मिलेगा।
(9). करेले का रस लगाने से राहत मिलेगी।
(10).  तिल, सोंठ, मेथी, अश्वगंधा सभी बराबर मात्रा में मिलाकर चूर्ण बनाकर रोज सुबह सेवन करें। आर्थराइटिस की समस्या ठीक हो जाती है।
NATURAL PAIN KILLERS :: Ginger: general muscle pain, Cloves: toothache & gum inflammation, Apple Cider Vinegar: before meals for heartburn sensation, Garlic: for earache, Cherries: joint pain, headaches, Yogurt: stomach ache, Turmeric: chronic pain, Oats: endometrial pain, Salt: hot, salty foot baths for ingrown toenails, Pineapple: stomach bloating & gas, Peppermint: sore muscles, Grapes: back pain, Cow or own Urine-water: general injury-cuts-wounds, pain, Horseradish: sinus pain, Blueberries: bladder  or urinary tract infections, Raw Honey: cold sores or canker sores, Flax: breast pain, Coffee: migraines, Tomato Juice: leg cramps.
DELIVERY OF CHILD :: Extreme care is essential the mother and child to protect them from infections. The mother should be fed with nutritious balanced food. Milk is essential. She should be served butter, cheese and ghee. Laddoos made of wheat flour fried in pure Deshi ghee, dry fruits, Sounth (-सौंठ, dried and crushed-powered dried ginger), Azwain (-अज़वाइन, carom seeds) Gound (-गौंद, sticky mass which comes out of the tree's bark) and Gud-jaggery are of extreme help to her. she should not be allowed to do domestic jobs for at least 40 days.
PAIN RELIEVER MESSAGE OIL दर्द निवारक तेल :: एक टांग मे दर्द (-साइटिका, रिंगन बाय, गृध्रसी),  जोड़ों के दर्द, घुटनो के दर्द, गर्दन का दर्द (-सर्वाइकल स्पोंडोलाइटिस), कंधे की जकड़न आदि दूर करने-हटाने के लिए एक अदभुत तेल।
सामग्री :-  कायफल 250 ग्राम , तेल (-सरसों या तिल) 500 ग्राम
कायफल :- यह एक पेड़ की छाल है जो देखने मे गहरे लाल रंग की खुरदरी लगभग 2 इंच के टुकड़ों में आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी बेचने वाली दुकानों पर मिलती है। इसे कूट कर बारीक पीस लेना चाहिए। 
विधि :– लोहे की कड़ाही मे तेल गरम करें। जब तेल गरम हो जाए तब थोड़ा थोड़ा करके कायफल और 25 ग्राम दालचीनी का मोटा चूर्ण डालकर मंदी आँच पर गर्म करें। एक कपड़े में से तेल छान ले। जब तेल ठंडा हो जाए तब कपड़े को निचोड़ लें। इस तेल को एक बोतल मे रख ले। कुछ दिन मे तेल मे से लाल रंग नीचे बैठ जाएगा। उसके बाद उसे दूसरी शीशी मे डाल ले।
इस तेल का हल्का गर्म करके हथेली पर चुपड़कर प्रभावित क्षेत्र में मालिश करें। इस प्रक्रिया को यदि धूप में किया जायेगा तो ज्यादा लाभप्रद होगा 
पित्त :: करेले का रस पीने से पित्त में लाभ होगा। 
बच्चे का असाध्य दमा ::  15-20 ग्राम अमलतास का गूदा, दो कप पानी में डालकर उबालें और चौथाई भाग बचने पर, छानकर सोते समय  गरम-गरम पिलाने से, फेफड़ों में जमा हुआ बलगम शौच मार्ग से निकल जायेगा। एक सप्ताह यह प्रक्रिया जारी रखें। एक माह तक ऐसा करने से तपेदिक भी ठीक हो सकती है।
मुंहासे व चर्म रोग :: तिल के तेल में नीम की पत्तियां डालकर पकायें और छानकर लगायें। 
पाचन शक्ति ::  समान मात्रा में बादाम, मुनक्का, पीपल, नारियल की गिरी, मावा और इसकी कुल मात्रा के बराबर तिल कूटकर, चीनी या गुड़ में पाग कर कतली बना लें और सर्दियोँ में सुबह 1-2 टुकड़े गर्म दूध के साथ खायें। 
एसिडिटी अपच INDIGESTION :: (1). मेथी पाउडर  पानी के साथ निगलने से अपच की समस्या का निवारण होता है। 
(2). भूनकर  उबाले हुए अजवाइन और जीरे का पानी पीने से एसिडिटी से राहत मिलती है। 
(3). मेथी का चूर्ण दही में मिलाकर सेवन करने से पेचिश दूर होती है।
(4). धनिया, जीरा और चीनी  मिलाकर सेवन करने से एसिडिटी के कारण होने वाली जलन शांत हो जाती है।
(5). मेथी के पत्तों के रस में काली दाख मिलाकर सेवन करने से भी पेचिश दूर होता है।
कब्ज और पेट संबंधी बीमारियाँ-त्रियोग (मैथीदाना 250 ग्राम, अजवाइन 100 ग्राम और काली जीरी (Vernonia Anthelmintica) 50 ग्राम) ::  तीनों को बारीक पीस कर चूर्ण बना लें। यह चूर्ण रोज आधा चम्मच मात्रा में रात को सोते समय गर्म पानी के साथ लिया जाए तो पेट के तमाम रोगों में फायदा करता है। कब्ज तो कोसों दूर हो जाता है। इसके साथ पथ्य भी करें तो परिणाम बेहतर मिलते हैं। पथ्य अर्थात तली गुली चीजें, बेसन और मैदे से बनी चीजों से यथा संभव परहेज करें। भोजन में सलाद व रेशे वाले पदार्थ अधिक लें। यह नुस्खा गैस, अपच, भूख न लगना, भोजन के प्रति अरुचि आदि रोगों में बेहद लाभ करता है।
(1). गठिया दूर करता है, (2). हड्डियों में मजबूत आती है, (3). नेत्र ज्योति बढ़ती है, (4). बाल स्वस्थ रखते हैं,(5). शरीर में रक्त संचार सही करता है, (6). हृदय की कार्य क्षमता बढ़ती है, (7). कफ से मुक्ति मिलती है, (8). थकान कम होगी,  (9). स्मरण शक्ति बढ़ती है, (10). शरीर की रक्त वाहिनियां :धमनियाँ और शिराएँ शुद्ध होंगी, (11). मधुमेह काबू में रहेगा, (12). स्त्रियों में शादी के बाद होने वाली तकलीफें दूर होंगी, (13). नपुंसकता दूर होगी, बच्चा होगा वह भी तेजस्वी होगा, (14). त्वचा के रंग में निखार आएगा, (15). जीवन निरोग, चिंता रहित और स्फूर्तिदायक बनेगा और अश्व के समान बल आएगा। दो माह के नियमित सेवन से अपेक्षित परिणाम प्राप्त होंगे।
कब्ज :: (1). रात्रि में सोते समय दस बारह मुनक्का दूध में उबाल कर खाएं और दूध पीलें। (2). त्रिफला चूर्ण हल्के गर्म दूध या गर्म पानी के साथ लेने से कब्ज दूर होती है। (3). चुकंदर का नियमित सेवन  करने से कब्ज और बवासीर में यह काफी फायदेमंद होता है। रात में सोने से पहले एक गिलास या आधा गिलास चुकंदर का रस जूस फायदा करता है।
बवासीर PILES :: (1). हरड या बाल हरड का प्रतिदिन सेवन करने से आराम मिलता है। अर्श-बवासीर पर अरंडी का तेल लगाने से फायदा होता है।
(2). नीम का तेल मस्सों पर लगाइए और इस तेल की 4-5 बूंद रोज़ पीने से बवासीर में लाभ होता है।
(3). करीब दो लीटर मट्ठा लेकर उसमे 50 ग्राम पिसा हुआ जीरा और थोड़ा नमक मिला दें। जब भी प्यास लगे तब पानी की जगह यह छांछ पियें। चार दिन तक यह प्रयोग करेने से मस्सा ठीक हो जाता है।
(4). इसबगोल की भूसी का प्रयोग करने से से अनियमित और कड़े मल से राहत मिलती है। इससे कुछ हद तक पेट भी साफ रहता है और मस्सा ज्यादा दर्द भी नही करता।
(5). बवासीर के उपचार के लिये आयुर्वेदिक औषधि अर्शकल्प वटी का प्रयोग चिकित्सक की सलाह अनुसार कर सकते हैं। 
(6). आधी मूली का रस पीने से लाभ प्राप्त होगा। 
(7). सर्दियों में दो चम्मच काले तिल को चबाकर, पानी पीने से लाभ मिलता है। 
(8). सौंफ, जीरा और धनियां सब 1-1 चम्मच लेकर 1 गिलास पानी में उबालकर आधा गिलास काढ़ा में एक चम्मच गाय का घी मिला कर  सुबह-शाम पीने से खूनी बावासीर से रक्त गिरना बंद हो जाता है।
(9). गाजर का रस पीजिये, आवश्कतानुसार। सभी जगह उपलब्ध यह, दूर करे अतिसार॥ Carrot juice helps in curing piles.
MEMORY-INTELLIGENCE BOOSTERS :: (1). गाय का घी (-purified cow's butter) 1 kg, सहजन की जड़ 50 gm, ब्राह्मी 15 gm, मीठी वच 15 gm, सेंधा नमक, धवई का फूल, लोध-सबको पीसकर 4 kg बकरी के दूध में घी डाल मन्द आँच में पकाएँ। जब दूध व दवा गाढ़ा हो जाए, तो छान लें और सुबह-शाम एक-एक चम्मच  घी के साथ सेवन करें। सारस्वत-मन्त्र के जाप के साथ सेवन करने से बुद्धि, स्मृति, मेधा, कान्ति-ओज बढ़ता है।  
(2). हल्दी, मीठा कूट, पीपर, सोठ, जीरा, अजमोदा, मुलेठी, सहुआ, सेंधा नमक; 25-25 gm लेकर चूर्ण बनाएं व एक चम्मच मक्खन के साथ प्रयोग करें। 
(3). सारस्वत चूर्णः गुरुचि, अपामार्ग, चिचिरी, वायविडंग, शंखपुष्पी, मीठा वच, हरड़, मीठा कूट, शतावर-सब बराबर बराबर लेकर चूर्ण बनाएं और गाय के घी के साथ प्रयोग करें। 
(4). नारियल की गिरी में बादाम, अखरोट और मिश्री मिलाकर सेवन करने से याददाश्त बढ़ती है।
(5). प्रतिदिन ब्राह्मी का प्रयोग करें। 
KIDNEY STONE पथरी  :: पथरी का इलाज  जिस व्यक्ति के शरीर मे पथरी है, वो चूना कभी ना खायें।पथरी होने का मुख्य कारण शरीर मे अधिक मात्रा मे कैलशियम का होना है। मतलब जिनके शरीर में पथरी हुई है उनके शरीर में जरुरत से अधिक मात्रा में  कैलशियम है लेकिन वो शरीर में पच नहीं रहा है। किडनी, युरेटर या ब्ला्डर, में पथरी निर्माण होना एक भयंकर पीडादायक रोग है। मूत्र में पाये जाने वाले रासायनिक पदार्थों से मूत्र अन्गों में पथरी बनती है,जैसे युरिक एसिड, फ़स्फ़ोरस केल्शियम और ओ़क्झेलिक एसिड। जिन पदार्थों से पथरी निर्माण होती है उनमें केल्शियम ओक्झेलेट प्रमुख है। लगभग 90 प्रतिशत पथरी का निर्माण केल्शियम ओक्झेलेट से होताहै। गुर्दे की पथरी (-kidney stone) का दर्द आमतौर पर बहुत भयंकर होता है। पथरी जब अपने स्थान से नीचे की तरफ़ खिसकती है, तब यह दर्द पैदा होताहै। पथरी गुर्दे से खिसक कर युरेटर और फ़िर युरिनरी ब्लैडर में आती है। पेशाब करने में कष्ट होता है,उल्टी मितली, पसीना होना और फ़िर ठड मेहसूस होना, ये पथरी के समान्य लक्षण हैं।नुकीली पथरी से खरोंच लगने पर पेशाब में खून भी आता है। 
(1). तुलसी के पत्तों के एक चम्मच रस में एक चम्मच शहद में मिलाकर जल्दी सबेरे लें। ऐसा 5-6 माह तक करने से छोटी पथरी निकल जाती है।
(2). मूली के पत्तों का रस 200 एम एल दिन में 2 बार लेने से पथरी रोग नष्ट होता है।
(3). दो अन्जीर एक गिलास पानी मे उबालकर सुबह के वक्त पीयें। एक माह तक लेना जरूरी है।
(4). नींबू के रस में स्टोन को घोलने की शक्ति होती है। एक नींबू का रस दिन में 1-2 बार मामूली गरम जल में लेना चाहिये।
(5). पानी में शरीर के विजातीय पदार्थों को बाहर निकालने की अद्भुत शक्ति होती है। गरमी में 4-5 लिटर और सर्द मौसम में 3-4 लिटर जल पीने की आदत बनावें।
(6). दो तीन सेव फ़ल रोज खाने से पथरी रोग में लाभ मिलता है।
(7). तरबूज में पानी की मात्रा ज्यादा होती है । जब तक उपलब्ध रहे रोज तरबूज खाएं। तरबूज में पुरुषों के लिये वियाग्रा गोली के समान काम- शक्ति वर्धक असर भी पाया गया है।
(8). कुलथी की दाल का सूप पीने से पथरी निकलने के प्रमाण मिले है। 20 ग्राम कुलथी दो कप पानी में उबालकर काढा बनालें। सुबह के वक्त और रात को सोने से पहिले पीयें।
(9). शोध में पाया गया है कि विटमिन बी6 याने पायरीडोक्सीन के प्रयोग से पथरी समाप्त हो जाती है और नई पथरी बनने पर भी रोक लगती है। 100 से 150 एम जी की खुराक कई महीनों तक लेने से पथरी रोग का स्थायी समाधान होता है।
(10). अंगूर में पोटेशियम और पानी की अधिकता होने से गुर्दे के रोगों लाभदायक सिद्ध हुआ है। इसमें अल्बुमिन और सोडियम कम होता है जो गुर्दे के लिये उत्तम है।
(11). गाजर और मूली के बीज 10-10 ग्राम,गोखरू 20 ग्राम,जवाखार और हजरूल यहूद 5-5 ग्राम लेकर पावडर बनालें और 4-4 ग्राम की पुडिया बनालें। एक खुराक प्रत: 6 बजे दूसरी 8 बजे और तीसरी शाम 4 बजे दूध-पानी की लस्सी के साथ लें। बहुत कारगर उपचार है|
(12). पथरी को गलाने के लिये चौलाई की सब्जी गुणकारी है। उबालकर धीरे-धीरे चबाकर खाएं।दिन में 3-4 बार यह उपक्रम करें।
(13). बथुआ की सब्जी आधा किलो लें। इसे 800 मिलि पानी में उबालें। अब इसे कपडे या चाय की छलनी में छान लें। बथुआ की सब्जी भी भी इसमें अच्छी तरह मसलकर मिलालें। काली मिर्च आधा चम्मच और थोडा सा सेंधा नमक मिलाकर पीयें। दिन में ३-४ बार प्रयोग करते रहने से गुर्दे के विकार नष्ट होते हैं और पथरी निकल जाती है।
(14). प्याज में पथरी नाशक तत्व होते हैं। करीब 70 ग्राम प्याज को अच्छी तरह पीसकर या मिक्सर में चलाकर पेस्ट बनालें। इसे कपडे से निचोडकर रस निकालें। सुबह खाली पेट पीते रहने से पथरी छोटे-छोटे टुकडे होकर निकल जाती है।
(15). सूखे आंवले बारीक पीसलें। यह चूर्ण कटी हुई मूली पर लगाकर भली प्रकार चबाकर खाने से कुछ ही हफ़्तों में पथरी निकलने के प्रमाण मिले हैं।
(16). स्टूल पर चढकर 15-20 बार फ़र्श पर कूदें। पथरी नीचे खिसकेगी और पेशाब के रास्ते निकल जाएगी। निर्बल व्यक्ति यह प्रयोग न करें।
(17). मिश्री, सौंफ,सूखा धनिया सभी 50-50 ग्राम की मात्रा में लेकर रात को डेढ़ लीटर पानी में भिगोकर रख दीजिए 24 घंटे बाद छानकर सौंफ, धनिया पीसकर यह पेस्ट पुन; तरल मिश्रण में घोलकर पीते रहने से मूत्र पथरी निकल जाती है|
(18). जवाखार : गाय के दूध के लगभग 250 मिलीलीटर मट्ठे में 5 ग्राम जवाखार मिलाकर सुबह-शाम पीने से गुर्दे की पथरी खत्म होती है। जवाखार और चीनी 2-2 ग्राम की मात्रा में लेकर पीसकर पानी के साथ खाने से पथरी टूट-टूटकर पेशाब के साथ निकल जाती है। इस मिश्रण को रोज सुबह-शाम खाने से आराम मिलता है।
(19). पालक : 100 मिलीलीटर नारियल का पानी लेकर, उसमें 10 मिलीलीटर पालक का रस मिलाकर पीने से 14 दिनों में पथरी खत्म हो जाती है। पालक के साग का रस 20 से 40 मिलीलीटर की मात्रा में प्रतिदिन सुबह-शाम खाने से पथरी में लाभ मिलता है।
(20). गोक्षुर : गोक्षुर के बीजों का चूर्ण 3 से 6 ग्राम बकरी के दूध के साथ प्रतिदिन 2 बार खाने से पथरी खत्म होती है।
(21). फिटकरी : भुनी हुई फिटकरी 1-1 ग्राम दिन में 3 बार रोगी को पानी के साथ सेवन कराने से रोग ठीक होता है।
(22). कमलीशोरा : कमलीशोरा, गंधक और आमलासार 10-10 ग्राम अलग-अलग पीसकर मिला लें और हल्की आग पर गर्म करने के 1-1 ग्राम का आधा कप मूली के रस के साथ सुबह-शाम लेने से गुर्दे की पथरी में लाभ मिलता है।
(23). आलू : एक या दोनों गुर्दो में पथरी होने पर केवल आलू खाते रहने पर बहुत लाभ होता है। पथरी के रोगी को केवल आलू खिलाकर और बार-बार अधिक मात्रा में पानी पिलाते रहने से गुर्दे की पथरियां और रेत आसानी से निकल जाती हैं। आलू में मैग्नीशियम पाया जाता है जो पथरी को निकालता है तथा पथरी बनने से रोकता है।
(24). तुलसी : 20 ग्राम तुलसी के सूखे पत्ते, 20 ग्राम अजवायन और 10 ग्राम सेंधानमक लेकर पॉउड़र बनाकर रख लें। यह 3 ग्राम चूर्ण गुनगुने पानी के साथ प्रतिदिन सुबह-शाम सेवन करने से गुर्दे का तेज दर्द दूर होता है।
(25). पके हुए प्याज का रस पीना पथरी निकालने के लिए बेहद लाभ प्रद उपाय है। दो मध्यम आकार के प्याज लेंकर भली प्रकार छीलें। एक गिलास जल में डालकर मध्यम आंच पर पकाएं। अब इस मिश्रण को मिक्सर में डालकर चलाएं। इस रस को छानकर पियें। 7 दिन तक यह उपचार करने से पथरी के टुकड़े निकल जाते हैं। 
(26). दो चम्मच रस प्याज की,  सँग पी जाय। पथरी केवल बीस दिन, में गल बाहर जाय॥ Two spoonful of onion juice mixed, with crystal white sugar (-sugar candy) pieces, helps in relief from stones of varied nature in the body.
(27). आधा कप अंगूर रस, केसर जरा मिलाय। पथरी से आराम हो, रोगी प्रतिदिन खाय॥ Half cup of grapes juices mixed with saffron helps in relief from stones of any kind in the body.
(28). सदा करेला रस पिये, सुबहा हो औ शाम। दो चम्मच की मात्रा, पथरी से आराम॥  Drinking of two spoonful of bitter gourd juice, may relieve from the impact of stones in every part of the body.
(29). एक डेढ़ अनुपात कप, पालक रस चौलाइ। चीनी सँग लें बीस दिन, पथरी दे न दिखाइ|| Spinach and Choluai (-Amaranths) juice mixed with sugar in the ratio of 2:3 gives relief from stone.
(30). खीरे का रस लीजिये, कुछ दिन तीस ग्राम। लगातार सेवन करें, पथरी से आराम|| 50 gm Cucumber juice provides relief, from stones if it is consumed for a few days.
(31). बैगन भुर्ता बीज बिन, पन्द्रह दिन गर खाय। गल-गल करके आपकी, पथरी बाहर आय|| Eating of roasted Brinjals without seeds can remove stones from the body.
(32). लेकर कुलथी दाल को, पतली मगर बनाय। इसको नियमित खाय तो, पथरी बाहर आय||  Eating of Kulthi (-black-grey seeded-horse gram) pulse cooked in excess water regularly, removes stones from the body. 
आयुर्वेदिक इलाज :- पखानबेद नाम का एक पौधा होता है। उसे पत्थर चटा भी कहते हैं। उसके 10 पत्तों को 1 से डेढ़ गिलास पानी मे उबाल कर काढ़ा बना ले। मात्र 7 से 15 दिन मे पूरी पथरी खत्म। आप दिन मे 3 बार पत्ते 3 पत्ते सीधे भी खा सकते हैं।  
होमियोपेथी इलाज BERBERIS VULGARIS-MOTHER TINCHER :: स्वदेशी कंपनी SBL की ये दवा बढ़िया असर करती है। BERBERIS VULGARIS भी पत्थर चटा से बनी है। दवा की 10-15 बूंदों को एक चौथाई (1/4) कप गुनगुने पानी मे मिला कर दिन मे चार बार सुबह, दोपहर, शाम और रात में लेना है। चार बार अधिक से अधिक और कम से कम तीन बार। इसको लगातार एक से डेढ़ महीने तक लेना है कभी कभी दो महीने भी लग जाते हैं। इससे गाल ब्लेडर (gall bladder), किडनी, युनिद्रा के आसपास हो या फिर मूत्र पिंड में हों, घुलकर निकल जाती हैं। भविष्य पथरी से बचने के लिए होमियोपेथी मे दवा है CHINA 1000 लें। 
जीरे को मिश्री की चाशनी बनाकर उसमें या शहद के साथ लेने पर पथरी घुलकर पेशाब के साथ बाहर निकल जाती है।
सावधानी: जिसके  शरीर मे पथरी है, वो चूना कभी ना खाएं। पान में चूना जरूर लगता है, अतः पान खाना भी खतरे से खाली नहीं है। पथरी होने का मुख्य कारण शरीर में  कैलशियम की अधिक मात्रा है। 
मूली की शाखों का रस, ले निकाल सौ ग्राम। तीन बार दिन में पियें, पथरी से आराम॥ 100 gm Radish leaves juice, consumed thrice, everyday removes stones from the body.
काँटा बाहर निकलना :: जहाँ कहीं भी आपको, काँटा कोइ लग जाय। दूधी पीस लगाइये, काँटा बाहर आय॥ Make paste of Doodhi (-a herb) by rubbing it over stone and applying over the skin, where thorn has penetrated into it. The thorn can be easily pricked-removed now. 
मुँह में छाले :: मिश्री, कत्था तनिक सा, चूसें मुँह में डाल। मुँह में छाले हों अगर, दूर होंय तत्काल॥  Boils in the mouth can be cured easily by sucking a mixture of Mishri-crystals of sugar and Kattha.
Vitamin-B complex tablets, provide instant relief, if taken for 2-3 days regularly. Avoid hot food and beetle leaves pasted with lime.
सर्दी, खांसी, बुखार देशी इलाज-शीतो प्लादी चूर्ण :: आयुर्वेद की एक श्रेष्ठ औषधि है। 1 चुटकी (1/4 चम्‍मच) शहद में मिलाकर प्रात: और सायंकाल खाली पेट चटायें। इससे छोटे बच्‍चों के सर्दी, जुकाम, छींक, खांसी और बुखार ठीक हो जायेगी। बडे लोगों के लिए 1/2 चम्‍मच चूर्ण का प्रयोग करें।
अवयव : (1). मिश्री-16 भाग 160 gm, (2). वंशलोचन - 8 भाग 80 gm, (3). पिप्पली-4 भाग 40 gm, (4). इलाइची- 2 भाग 20 gm, (5). दालचीनी- 1 भाग 10 gm इन सब को बरीक पीस लें। 
सेवन-प्रयोग : इसका प्रयोग मधु किया जाता है। यह यह अौषधि बाज़ार में तैयार भी मिलती है। 
शीत पित्त, खुजली,एलर्जी और चर्म रोग :: हल्दी से बनी आयुर्वेदिक औषधि  हरिद्रा खंड के सेवन से शीत पित्त, खुजली,एलर्जी और चर्म रोग नष्ट होते हैं और देह में सुन्दरता आ जाती है। बाज़ार में यह औषधि सूखे चूर्ण के रूप में मिलती है। इसे खाने के लिए मीठे दूध का प्रयोग करना चाहिए।
अवयव : हरिद्रा- 320 gm, गाय का घी- 240 gm, दूध- 5 litres, शक्कर- 2 Kg। सौंठ, काली मिर्च,पीपल, तेज पत्र, छोटी इलायची, दाल चीनी, वाय विडंग, निशोथ, हरड, बहेड़ा, आँवला, नागकेशर, नागरमोथा और लोह भस्म। प्रत्येक की मात्रा 40-40 gm लें। ताज़ी हल्दी ताजी 1 किलो 250 gm छीलकर, पीस लें। हल्दी को दूध में मिलाकार खोया या मावा बनाये, इस खोये को घी डालकर धीमी आँच पर भूनें। भूनने के बाद इसमें शक्कर मिलायें। शक़्क़र के मिल जाने के बाद अन्य औषधियों का कपड छान बारीक़ चूर्ण मिलायें। अच्छी तरह से पक जाने पर चक्की या लड्डू बना लें। सेवन : 20-25 gm में दो बार दूध के साथ प्रयोग करें। 
HEADACHE सरदर्द :: (1). छिलका लेंय इलायची, दो या तीन गिराम। सिर दर्द, मुँह सूजना, लगा होय आराम॥ Peels of cardamom-powdered and consumed between 2-3 grams, provides relief from headache and swallowing of mouth.
(2). सर सर्द एक आम बीमारी है। सिरदर्द हो रहा हो तो सूखी अदरक को पानी के साथ पीसकर उसका पेस्ट बना लें और इसे माथे पर लगाएं। इसे लगाने पर हल्की जलन जरूर होगी लेकिन यह सिरदर्द दूर कर देगा।
(3). एक चम्मच अजवायन को भूनकर साफ सूती कपडे में बांधकर, नाक के पास लगाकर, गहरी सांस लेने से, सिरदर्द में राहत मिलती है।
(4). सुबह खाली पेट प्रतिदिन एक सेब खाने से सिरदर्द की समस्या से छुटकारा मिलता है। सेब का नियमित सेवन करने से रोग नहीं घेरते।
(5). सिरदर्द में बर्फ की सिंकाई करना बहुत फायदेमंद होता है।
(6). बहुत तेज सिरदर्द हो तो पुदीना का तेल हल्के हाथों से सिर पर लगाएं, सिरदर्द से राहत मिलेगी।
(8). नमक में दो बूंद लौंग का तेल डालकर उसे सिर पर लगाने से सिरदर्द में आराम मिलता है।
(9). सुबह खाली पेट प्रतिदिन एक सेब खाने से सिरदर्द की समस्या से छुटकारा मिलता है।
(10). अण्डी पत्ता वृंत पर, चूना तनिक मिलाय। बार-बार तिल पर घिसे, तिल बाहर आ जाय॥ 
Castor leaves mashed with lime, helps in removal of moles.
(11). खट्टा दामिड़ रस,  दही, गाजर शाक पकाय। दूर करेगा अर्श को, जो भी इसको खाय॥ 
(12). Carrots cooked in curd and buds of sour pomegranates provides relief from piles.
(13). रस अनार की कली का, नाक बूँद दो डाल। खून बहे जो नाक से, बंद होय तत्काल॥ 
Bleeding of nose will be checked if a few drops of the juice pomegranates buds is inserted in the nose.
(14). भून मुनक्का शुद्ध घी, सैंधा नमक मिलाय। चक्कर आना बंद हों, जो भी इसको खाय॥ 
Rock salt and Munkka-Raisin large dried grapes, fried in pure ghee stops perplexity-dizziness-fainting.
(15). दामिड़ (-अनार) छिलका सुखाकर, पीसे चूर बनाय। सुबह-शाम जल डाल कम, पी मुँह बदबू जाय॥ 
Consume the powered dried peels-skin of pomegranates with small quantity of water to stop foul smell-bad breath. 
(16). चूना, घी और शहद को, ले सम भाग मिलाय। बिच्छू को विष दूर हो, इसको यदि लगाय॥ 
Application of lime, ghee and honey in equal quantities over the region bitten by Scorpio, provides relief.
STOMACH  ACHE पेट दर्द-ACIDITY :: (1). ताजे तुलसी-पत्र का, पीजे रस दस ग्राम। पेट दर्द से पायँगे, कुछ पल का आराम॥  Instant relief from stomach ache is provided, if one consumes 10 gm of Basel juice.
(2). पेट दर्द होने पर आधा चम्मच अजवायन, पानी के साथ फांखने से पेट दर्द में राहत मिलती है।
(3). एक कप पानी में एक चुटकी खाने वाला सोडा मिलाकर पीने से पेट दर्द में राहत मिलती है।
(4). सि्त्रयो के मासिक धर्म के समय पेट के नीचे होने वाले दर्द खाना सोडा पानी में मिलाकर पीने से दूर होता है।
(5). एसिडिटी होने पर एक चुटकी सोडा, आधा चम्मच भुना और पिसा हुआ जीरा, 8 बूंदे नींबू का रस और स्वादानुसार नमक पानी में मिलाकर पीने से राहत मिलती है।
(6). एक चम्मच हल्दी में आधा चम्मच काला नमक गर्म पानी के साथ फांखने से पेट दर्द व गैस में राहत मिलती है।
(7). एक चम्मच मेथी दाना में चुटकी भर पिसी हुई हींग मिलाकर पानी के साथ फांखने से पेटदर्द में आराम मिलता है।
(8). हींग दर्द निवारक और पित्तवर्द्धक होती है। छाती और पेटदर्द में हींग का सेवन लाभकारी होता है। छोटे बच्चों के पेट में दर्द होने पर हींग को पानी में घोलकर पकाने और उसे बच्चो की नाभि के चारो ओर उसका लेप करने से दर्द में राहत मिलती है।
(9). मिश्री के संग पीजिये, रस ये पत्ते नीम। पेंचिश के ये रोग में, काम न कोई हकीम॥ Use of crystalline sugar with Neem (नीम) juice helps in curing diarrhoea.
(10). पुदीने का सत पेट के दर्द से निजात दिलाता है। 
(11). पौदीना औ इलायची, लीजै दो-दो ग्राम। खायें उसे उबाल कर, उल्टी से आराम॥ Vomiting will be stopped if 2 grams each of Poudina-MINT and ilayachi-cardamom are eaten after boiling it.
HEALING WOUNDS-BURN जलना, चोट लगना, खून बहना :: (1). बहुत सहज उपचार है, यदि आग जल जाय। मींगी पीस कपास की, फौरन जले लगाय॥ For relief from burn apply the paste made from the cotton pod.
(2). रुई जलाकर भस्म कर, वहाँ करें भुरकाव। जल्दी ही आराम हो, होय जहाँ पर घाव॥ Apply the ashes made by burning cotton over the wounds, for quick relief.
(3). लोहे से लगने वाली चोटों पर फिटकरी घिसकर लगा दें या फूली फिटकरी बुरक दें। इससे खून तो रुकेगा ही साथ ही सैप्टिक होने के डर से टिटेनस-TETANUS का इन्जैक्शन लगवाने की आवश्यकता भी नहीं पड़ती है।
(4). 125 ग्राम दही और 250 ग्राम पानी में एक ग्राम फिटकरी पीसकर मिला दें और उसकी लस्सी बनाकर घायल व्यक्ति को पिला दें। इससे शरीर के किसी भी हिस्से से खून बह रहा हो, तो बन्द हो जायेगा। 
(5). हल्दी कीटाणुनाशक होती है। इसमें एंटीसेप्टिक, एंटीबायोटिक और दर्द निवारक तत्व पाए गए हैं। ये तत्व चोट के दर्द और सूजन को कम करने में सहायक होते हैं। घाव पर हल्दी का लेप लगाने से वह ठीक हो जाता है। चोट लगने पर दूध में हल्दी डालकर पीने से दर्द में राहत मिलती है।
(6). तुलसी की पत्तियों को पीसकर चंदन पाउडर में मिलाकर पेस्ट बना लें। दर्द होने पर प्रभावित जगह पर उस लेप को लगाने से दर्द में राहत मिलेगी।
जॉन्डिस JAUNDICE पीलिया :: (1). दो-दो चम्मच शहद औ, रस ले नीम का पात। रोग पीलिया दूर हो, उठे पिये जो प्रात॥ Mix two spoons of honey with Neem-Margo juice to cure jaundice.
(2). द्रौण पुष्पी के चार-पाँच पत्ते कूट कर 15 से 20 मिनट ढक कर रखने और उसके रस को पीलिया के रोगी को पिलाने से पीलिया एक दिन में ठीक हो जाता है।
(3). BERBERIS VULGARIS से पीलिया (jaundice) ठीक हो जाता है।
बच्चो के पेट में कीड़े: STOMACH WORMS ::  (1). बच्चे को खाली पेट अनन्नास-Pineapple खिला चाहिये। यह कृमि नाशक है। सप्ताह भर सेवन करने से ही कृमि दूर हो जाते हैं। 
(2). प्याज-onion juice का रस पिलाने से कीड़े मर कर निकल जाते हैं। 
(3). नीम-पत्र के चूर्ण में, अजवायन इक ग्राम। गुण संग पीजै पेट के, कीड़ों से आराम।। Mix powdered Neem-Margo leaves with ajwain (-dill-lovage-Carum Copticum) and consume to get rid of worms in the stomach.
(4). छोटे बच्चों के पेट में कीड़े  हों तो आधा ग्राम काला नमक व आधा ग्राम अजवायन का चूर्ण मिलाकर सोते समय गुनगुने पानी से देने  से लाभ होगा। 
(5). अनार के छिलकों को सुखाकर  बनाया हुआ चूर्ण  दिन में तीन बार एक-एक चम्मच लेने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।
(6). टमाटर को काटकर, उसमें सेंधा नमक और कालीमिर्च का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से पेट के कीड़े मर कर गुदामार्ग से बाहर निकल जाते हैं।
(7). लहसुन की चटनी बनाकर उसमें थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर, सुबह -शाम खाने से पेट के कीड़े नष्ट होते हैं।
(8). नीम के पत्तों का रस शहद में मिलाकर पीने से पेट के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।
(9). कच्चे केले की सब्ज़ी 7-8 दिन तक लगातार सेवन करने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।
(10). तुलसी के पत्तों का एक चम्मच रस दिन में दो बार पीने से पेट के कीड़े मरकर मल के साथ बाहर निकल जाते हैं।
(11). अजवायन का 1-2 ग्राम चूर्ण, छाछ के साथ पीने से पेट के कीड़े समाप्त हो जाते हैं। 
डायबिटीज DIABETES मधुमेह ::  (1). सदाबहार की तीन-चार कोमल पत्तियाँ, विशेषकर सफेद फूल को चबाकर खाने से मधुमेह में राहत मिलती है। 
(2). मेथी डायबिटीज में भी लाभदायक होती है। 
(3). जामुन खाने से मधुमेह में लाभ प्राप्त होता है। 
(4). करी पत्तों को सुबह खाली पेट, तीन महीनों तक नियमित रूप से  खाने पर डायबिटीज कंट्रोल में रहती है और मोटापाकम होता है।
(5). तिल के एंटी डायबेटिक गुण दवा का असर करते हैं।
(6). रोटी बनाने के लिए एक मुट्ठी BARLEY  (जौ) को 10 किलो गेंहूँ में मिलाकर पिसवाएं। 
FOR TREATMENT OF SUGAR, KIDNEY & HIGH BLOOD PRESSURE  USE OF BARLEY (जौ) :: पहले के वक़्त में जौ और चने मिलाकर गेंहूँ को पीसा जाता था। यह आटा रोटी का स्वाद तो बढ़ाता ही है मधुमेह, किडनी और उच्च रक्त चाप से मुक्ति भी दिलाता है। गाँव के लोग जौ-चने का सत्तू बड़े स्वाद से खाते हैं। जौ का छिलका उतारकर उसे साफ कर लिया जाता है जिसे गाँव में घाट भी कहा जाता है। घाट की रोटी सेहत के लिए बहुत मुफीत-लाभप्रद-फायदेमंद  और खाने में स्वाद होती है। जौ का प्रयोग हवन सामग्री में भी किया जाता है। इसका प्रयोग बीयर-शराब बनाने के लिए भी किया जाता है। बीयर किडनी को स्वस्थ रखती है अगर केवल एक या दो चम्मच ली जाये।  इसके अन्य उपयोग :: 
(1). पेशाब सम्बन्धी रोगों में जौ का पानी बहुत उपयोगी है, (2). वजन घटाने में सहायक है, (3). ब्लड कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने के लिए भी जौ का पानी बहुत फायदेमंद होता है, जिससे दिल से जुड़ी कई तरह की समस्याएँ होने का खतरा कम हो जाता है और  दिल भी स्वस्थ रहता है, (4). मधुमेह के रोगियों के लिए जौ का पानी शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में बहुत सहायक होता है और  (5). जौ का पानी पीने से शरीर के भीतर मौजूद विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, जिससे चेहरे पर भी निखार आता है और प्रतिरोध शक्ति भी बढ़ती है। 
GLOWING SKIN त्वचा चमकाने के नुख्से ::  (1). अच्छी तरह पके हुए केले को पीस कर चेहरे पर ठीक तरह मल लें एक हप्ते तक रोज यही प्रक्रिया 15 मिनट के लिए अपनायें।चेहरे पर निखार आ जायेगा। 
(2). दो चम्मच शहद और एक चम्मच नींबू के रस का मिश्रण त्वचा पर 20 मिनिट तक लगाकर साफ करने से  त्वचा नर्म और मुलायम हो जाएगी।
(3). एलोवेरा की पत्तियों (-ग्वार पाठा) से जैल  निकालकर, इसमें कुछ बूंदें नींबू रस की मिलाकर बने मिश्रण को चेहरे पर नियमित रूप से लगाकर धोने से चेहरा चमकने लगता है।
(4). बादाम का तेल और शहद बराबर मात्रा में मिलाकर थोड़ी देर तक चेहरे पर लगाकर रखें और तदुपरांत 15 बाद धो लेने से चेहरा निखर जाता है।
(5). व्हीट-ग्रास का जूस सुबह खाली पेट पीने से चेहरे की लालिमा बढ़ती है और खून भी साफ होता है।
(6). काली कोहनियों को साफ करने के लिए नींबू को दो भागों में काटें। उस पर खाने वाला सोडा डालकर कोहनियों पर रगड़ें। मैल साफ हो जाएगा, कोहनियां मुलायम हो जाएंगी।
(7). बालों में मेथी दाने का पेस्ट बनाकर लगाएं, रूसी दूर हो जाएगी।
(8). अरण्डी के तेल को नाखूनों की सतह पर कुछ देर हल्के हल्के मालिश करें। रोजाना सोने से पहले ऐसा करने से नाखूनों में चमक आ जाती है।
(9). संतरे के छिलकों का महीन चूर्ण बनाकर उसमें गुलाब जल मिलाकर चेहरे पर लगाने से मुहांसे दूर हो जाते हैं।
 (10). बादाम की गिरी, बड़ी सौंफ व मिश्री को समान मात्रा में मिला कर एक चम्मच मात्रा में एक गिलास दूध के साथ रात को सोते समय लेने से आंखों की थकान, जलन, दर्द दूर होते हैं। 
(11). मुंह के छाले की समस्या परेशान कर रही हो तो दिन में कम से कम तीन बार कच्चे दूध से अच्छी तरह गरारे करने से छाले मिट जाएंगे।
(12). नारियल के तेल में नींबू का रस मिलाकर बालों में लगाने से रूसी से छुटकारा मिलता है।
(13). नींबू में नारियल तेल मिला कर लगाया जाए तो यह बालों का झड़ना रोक देता है।
(14). नींबू के रस को अरण्डी का तेल या जैतून का तेल मिला कर बालों की मालिश कर 1 घंटे के बाद बाल धोने से बल चमकदार हो जाते हैं।
(15). कीड़ा लगे दांत में थोड़ा सा हींग भर देने से दांत व दाढ़ का दर्द दूर हो जाता है।
(16). प्याज के बीजों को सिरका में पीसकर दाद-खाज और खुजली वाले स्थान पर लगाने से तुरंत आराम मिलता है।
कील-मुंहासे PIMPLES :: (1). एक छोटा चम्मच दही तथा एक बड़ा चम्मच मूली का रस मिलाकर लोशन बनाकर रुई से चेहरे पर लगाने से कील-मुँहासे-झाईयां एवं झुर्रियां सदा के लिए मिट जाते हैं।
(2). सेब, संतरा, केला तथा अमरूद आदि को पीसकर फल मिश्रण तैयार कर लें। इस मिश्रण में दही और पीसी हुई हल्दी ऊपर से डालकर मिला लें। इसके बाद उसमें तुलसी का एक चम्मच रस और शहद की चार बूंद डालकर, इससे बनाये गये लेप से सुबह-शाम चार सप्ताह तक चेहरे पर लगाया करें। इससे झुरियां और मुहांसे जड़ से नष्ट हो जायेंगे।
(3). 1/2 चम्मच चिरौंजी को 2 चम्मच दूध में पीसकर पेस्ट बनाकर लगाने से चेहरे के दाग-धब्बे दूर हो जाते हैं।
(4). सफेद जीरे को घी में भूनकर इसका हलुवा बनाकर प्रसुता को खिलाने से दूध में बढ़ोतरी होती है।
(5). खाना पकाने बाद आस-पास 1 या 2 लौंग को बर्तनों के पास रख दें तो चीटियां कभी परेशान नहीं करेंगी।
(6). सुपारी को बारीक पीस कर  लगभग 5 बूंद नींबू का रस और थोड़ा सा काला या सेंधा नमक मिलाकर प्रतिदिन मंजन करने से  दांत चमक जाएंगे। 
(7). बुखार की वजह से जलन होने। 
पक्षाघात PARALYSIS :: मुँह टेढ़ा हो जाना, आँख का टेढ़ा हो जाना, हाथ या पैर का टेढ़ा हो जाना या शरीर का कोई अंग-हिस्सा बिलकुल काम करना बंद करदे तो तो यह पक्षाघात के लक्षण हैं। यदि शरीर का कोई अंग या शरीर दायीं तरफ से लकवा ग्रस्त है तो उसके लिए वृहत वात चिंता मणि रस (वैद्यनाथ फार्मेसी) की ले उपयोग करें। बाजरे के दाने जैसी एक गोली सुबह और एक गोली साँय को शुद्ध शहद से प्रयोग करें। बायीं तरफ से लकवाग्रस्त हो तो वीर-योगेन्द्र रस (वैद्यनाथ  फार्मेसी) की सुबह साँय एक एक गोली शहद के साथ प्रयोग करें। गोली को एक चम्मच में रखकर दूसरे चम्मच से पीस ले, उसके बाद उसमें  शहद मिलकर चाट लें। ये दवा स्वस्थ होने तक निरंतर लेते रहें। पीड़ित व्यक्ति को मिस्सी रोटी (चने का आटा) और शुद्ध घी (मक्खन नहीं) का प्रयोग प्रचुर मात्र में करना चाहिये। शहद का प्रयोग भी ज्यादा से ज्यादा अच्छा रहेगा। लाल मिर्च, गुड़-शक्कर, कोई भी अचार, दही, छाछ, कोई भी सिरका, उड़द की दाल पूर्ण तया वर्जित है। फल में सिर्फ चीकू ओर पपीता ही लेना है, अन्य सभी फल वर्जित हैं। दो तिहाई लाभ होने की स्थिति में मालिश आदि कर सकते हैं। पर पलाश के पत्तों का रस लगाने से जलन का असर कम हो जाता है।
TREATMENT OF EPILEPSY अपस्मार-मिर्गी का उपचार :: यह एक ऐसा रोग है जिससे पीड़ित होने पर व्यक्ति को दौरे पड़ते रहते हैं, जिसके कारण कई बार व्यक्ति बेहोश भी हो जाता है। मिर्गी एक मस्तिष्क से जुडी हुई बीमारी हैं। यदि किसी व्यक्ति का मस्तिष्क ठीक ढंग से कार्य न कर पा हा हो तो व्यक्ति को मिर्गी का रोग हो सकता है।  मिर्गी का रोग व्यक्ति के द्वारा अत्यधिक नशीले पदार्थों का सेवन करने के कारण, मस्तिष्क में गहरी चोट लगने के कारण या मानसिक सदमा लगने के कारण भी हो सकता है। 
SYMPTOMS लक्षण ::
(1). मिर्गी के रोग से ग्रस्त होने पर व्यक्ति के शरीर में झटके आते हैं तथा शरीर का अकड़ जाता हैं,
(2). उसकी आँखे ऊपर की ओर उलट जाती हैं,
(3). व्यक्ति का अपने शरीर पर नियंत्रण नहीं रहता, इसलिए वह अनियंत्रित शारीरिक गतिविधियाँ करता है,
(4). मिर्गी के दौरे आने पर व्यक्ति अपने होंठों को तथा जीभ को काटने लगता है और 
(5). व्यक्ति मिर्गी के दौरे आने पर एक जगह अपनी निगाहों को केन्द्रित कर लगातार देखता रहता है। 
(1). नींबू और हींग :: एक नींबू लें और थोडा सा हींग का चूर्ण लें। नींबू को दो भागों में काट लें और उस पर थोडा सा हींगका चूर्ण छिड़क दें। अब नींबू के रस को आराम से चूसें। नींबू के साथ गोरखमुंडी का भी प्रयोग कर सकते हैं। नींबू में हींग चूर्ण या गोरखमुंडी मिलाकर रोजाना चूसने से कुछ ही दिनों में मिर्गी के दौरे आने बंद हो जायेंगे। 
(2). बिजौरा-नींबू का रस तथा निर्गुण्डी का रस :: बिजौरा नीबू को काट लें और उसका रस एक कटोरी में निकाल लें और निर्गुण्डी के पौधे की पत्तियों का रस धोने के बाद पीसकर निकाल लें। इसका रोजाना सेवन करने से मिर्गी ठीक हो जायेगी। 
GUAVA LEAVES अमरुद की पत्तियों से लाइलाज बीमारियों का इलाज :: आम, अमरूद, जामुन और पपीता, इनके फल ही नहीं पत्तियाँ भी बीमारियों के इलाज में उपयोगी हैं। 
(1). इसकी पत्तियाँ जटिल स्टार्च को शुगर में बदलने से रोकती हैं, जिससे शरीर के वज़न को कम में सहायता मिलती है। 
(2). इसके पत्तों को कूटकर, लुगदी बनाकर, गर्म करके गठिया-बाय प्रभावित घुटनों पर लगाने से सूजन दूर होगी।
(3). इसके पत्तों का रस स्वादानुसार चीनी मिलाकर रोजाना सेवन करने से स्वप्नदोष में लाभ होगा।
(4). इसकी ताजी पत्तियों का रस 10 से 20 मिलीलीटर तक रोजाना सुबह-शाम पीने से ल्यूकोरिया में अप्रत्याशित लाभ होता है।
(5). इसकी पत्तियों का रस लिवर साफ कर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है।
(6).  एक कप खौलते हुए पानी में अमरूद की पत्तियाँ उबाल कर, ठंडा करके छान कर पीने से डायरिया में लाभ होगा।
(7). इसकी पत्तियों का रस पीकर पाचन तंत्र ठीक कर सकते हैं। यह फूड प्वाइजनिंग में भी लाभप्रद है। 
(8). दाँत का दर्द, गले में दर्द, मसूड़ों की बीमारी आदि अमरूद की पत्तियों के रस से दूर हो जाती है। 
(9). इसका रस डेंगू के संक्रमण और किसी भी प्रकार की एलर्जी को और खुजली को भी दूर करता है।
(10). इसके पत्तों पर कत्था लगाकर चबाने से मुँह छाले ठीक हो जाते हैं।
(11). इसकी पत्तियों का एंटीसेप्टिक असर पीस कर पिंपल्स पर लगाने से उन्हें ठीक कर देता है। 
(12). इसकी पत्तियों के  पोषक तत्व बालों को बढ़ाते हैं। 
(13). इसकी पत्तियां एल्फा-ग्लूकोसाइडिस एंज़ाइम की क्रिया द्वारा रक्त शर्करा को कम करती है। दूसरी तरफ सुक्रोज़ और लैक्टोज़ को सोखने से शरीर को रोकती है जिससे मधुमेह में लाभ मिलता है। 
(14). आधे सिर में दर्द होने पर सूर्योदय के पूर्व ही कच्चे हरे ताजे अमरूद के पत्ते लेकर पत्थर पर घिसकर लेप बनाकर माथे पर कुछ दिनों तक लगाने से पूर्ण लाभ मिलता है।
PAPAYA पपीता :: Papaya seeds suddenly started selling at Rs.44,000 per kg due to its success in controlling-curing cancer. Papaya leaf extract is immensely effecting in controlling dengue-a disease caused by mosquitoes. Papaya green-unripe fruit has been used as a vegetable traditionally in India, since generations, due to its therapeutic impact. Its leaf extract boosts the production of key signalling molecules called Th1-type cytokines, which is effective in regulation of the immune system.

Its effective over many other late stage, cancers like :
Adenocarcinoma, Bone Cancer, Brain Cancer, Breast Cancer, Cervical Cancer, Colon Cancer, Embryonal Teratoma, Kidney Cancer, Liver Cancer, Lung Cancer, Lymphoma, Mediastinal Cancer, Melanoma, Optic Nerve Cancer, Osteoclastoma, Osteosarcoma, Ovarian Cancer, Rhabdomyosarcoma, Sarcoma, Squamous Cell Cancer, Stomach Cancer, Teratoma, Testicular Cancer, Thyroid Cancer, Uterine Cancer, and many other early and late stage cancers.
गुडहल :: यह एक सुन्दर फूल है और यह कई अलग-अलग रंगों में जैसे लाल, सफेद, गुलाबी, पीला और बैगनी; पाया जाता है। इसका इस्तेमाल दवाओं के लिए किया जाता है। इससे कॉलेस्ट्रॉल, मधुमेह, हाई ब्लड प्रेशर और गले के संक्रमण, जैसे रोगों का इलाज किया जाता है। यह विटामिन सी, कैल्शियम, वसा, फाइबर, आयरन का उत्तम स्रोत है।
पित्त की थैली-किडनी की पथरी  GALL BLADDER STONE :: गुडहल का पाउडर एक चम्मच रात को सोते समय, खाना खाने के कम से कम एक डेढ़ घंटा बाद, गर्म पानी के साथ फाँकना चाहिये। यह थोडा कड़वा होता है।  इसके बाद कुछ भी खाना पीना नहीं चाहिये। अगर पथरी बड़ी है तो, यह उसके टूटने समय दर्द भी कर सकता है। अतः इसका उपयोग चिकित्सक की उपस्थिति में और उसकी सलाह से ही करें। 
यह बढ़े हुए प्रोस्टेट में भी लाभकारी है। 
सावधानी :-  प्रयोग के दौरान पालक, टमाटर, चुकंदर, भिंडी का सेवन न करें। 
डायटिंग-मधुमेह :- गुर्दे की समस्याओं से पीडित व्यक्ति को यह बर्फ के साथ पर बिना चीनी मिलाए पीना चाहिये, क्योंकि इसमें प्राकृतिक मूत्रवर्धक गुण होते हैं।
स्वस्थ हृदय :- गुड़हल के फूल का अर्क दिल के लिए फायदेमंद है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो कि कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखने में मददगार होते हैं।
मुँह के छाले में गुडहल के पत्ते  चबाने से लाभ होता है।
इसकी चाय का प्रयोग सर्दी-जुखाम, बुखार, सांस संबन्धी तकलीफों, गले के दर्द और कफ को सही करने के लिये किया जाता है। 
गुडहल के ताजे फूलों को पीसकर लगाने से बालों को स्वस्थ्य और सुंदर बनाने के लिये किया जाता है।
अरीठा-रीठा-अरिष्ट, SOAP STONE, PHENILA :: The fruits are credited with expectorant and emetic properties and are used in the treatment of excessive salivation, epilepsy and chlorosis. The powdered seeds are said to possess insecticidal properties. They are employed in the treatment of dental caries. It cleanses the skin of oily secretion and is even used as a cleanser for washing hair and a hair tonic and forms a rich, natural lather. Its detergent action, which cleanses the hair and removes, accumulated debris and a sebaceous material further more imparting speculiar reflection and hair lustre. The fruits possess tonic and astringent properties.
इसके फल में सैपोनिन, शर्करा और पेक्टिन नामक कफनाशक पदार्थ पाया जाता है। इसके बीज में 30 प्रतिशत चर्बी होती है। जिसका उपयोग साबुन बनाने में किया जाता है। यह त्रिदोष नाशक और ग्रहों को दूर भगाता है। रीठा का उपयोग उल्टी लाने, दस्तावर, हानिकारक कीटाणु और कफनाशक, गर्भाशय विशेषकर अफीम का जहर दूर करने में किया जाता है। इसका विशेष प्रयोग कफ-वात रोगों में किया जाता है। 
बवासीर-अर्श की औषधि :: नुस्खा (1) :- अरीठे या रीठा (Soap nut) के फल में से बीज निकाल कर शेष भाग को लोहे की कढाई में डालकर आाँच पर तब तक चढ़ाए रखे जब तक वह कोयला न बन जाए जब वह जल कर कोयले की तरह हो जाए तब आाँच से उतार कर समान मात्रा में पपड़िया कत्था मिलाकर कपड़छन (सूती कपडे से छान कर) चूर्ण कर लें। 
औषधि सेवन करने का तरीका :-
इस तैयार औषधि में से एक रत्ती (125मिलीग्राम) लेकर मक्खन या मलाई के साथ सुबह-शाम लेते रहें, इस प्रकार सात दिन तक दवाई लेनी है।
इस औषधि के मात्र सात दिन तक लेते रहने से ही कब्ज, बवासीर की खुजली, बवासीर से खून बहना आदि दूर होने से मरीज को राहत महसूस होनेलगती है।
इस रोग के लिए सदा के लिए छुटकारा पाने के लिये हर छ: महीने के बाद फिर से 7 दिन का यह कोर्स बिलकुल इसी प्रकार दोहराना चाहिए। 
परहेज़ :- औषधि लेते समय सात दिन नमक का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिये। देशी इलाज में पथ्यापथ्य का विशेष ध्यान रखा जाता है। कई रोगों में तो दवाई से ज्यादा तो पथ्य आहार जादा कारगर होता है।
औषिधि सेवन के दौरान क्या खायें :- मूँग या चने की दाल, कुल्थी की दाल, पुराने चावलों का भात, सांठी चावल, बथुआ, परवल, तोरई, करेला, कच्चा पपीता, गुड़, दूध, घी, मक्खन, काला नमक, सरसों का तेल, पका बेल, सोंठ आदि पथ्य है। रोगी को दवा सेवन काल में इनका ही सेवन करना चाहिए। 
औषधि सेवन के दौरान क्या न खायें :- उड़द, धी, सेम, भारी तथा भुने पदार्थ, घीया, धूप या ताप, अपानुवायु को न रोकें, साइकिल की सवारी, सहवास न करें, कड़े आसन पर न बैथें आदि। ये सभी बवासीर में हानिकारक हैं।
नुस्खा (2) :- रीठे का छिलका 20 ग्राम और हराकसीस 10 ग्राम को पीसकर चने के बराबर की गोलियां बनाकर छाया में सुखा लें। 1 गोली खाली पेट पानी से सेवन करने से 10-12 दिन में बवासीर के मस्से सूख जाते हैं और बवासीर ठीक हो जाती है। 
नुस्खा (3) :- रीठा के पीसे हुए छिलके को दूध में मिलाकर बेर के बराबर गोलियां बना लें। रोजाना सुबह-शाम 1-1 गोली नमक तथा छाछ के साथ लेने से बवासीर के रोग में आराम आता है।
नुस्खा (4) :- रीठा के छिलके को जलाकर उसके 10 ग्राम भस्म (राख) में 10 ग्राम सफेद कत्था मिलाकर पीस लें। इस आधे से 1 ग्राम चूर्ण को रोजाना सुबह पानी के साथ लेने से बवासीर के रोग में आराम आता है।
खूनी बवासीर :- रीठे के फल में से बीज निकालकर फल के शेष भाग को तवे पर भूनकर कोयला बना लें, फिर इसमें इतना ही पपड़िया कत्था मिलाकर अच्छी तरह से पीसकर कपडे़ से छान लें। इसमें से 125 मिलीग्राम औषधि सुबह-शाम मक्खन या मलाई के साथ 7 दिनों तक सेवन करें। परहेज में नमक और खटाई नहीं खानी चाहिए।
अतिसार :- रीठा की साढ़े 4 ग्राम गिरी को पानी में मसलें, जब इसमें झाग (फेन) पैदा हो जाये तो इस पानी को विसूचिका (हैजा) और अतिसार (दस्त) के रोगी के पिलाने से लाभ होता है।
दस्त :- 1 रीठे को आधा लीटर पानी में पकाकर ठंडा करके फिर उस पानी को आधे कप की मात्रा में रोजाना सुबह-शाम पीने से दस्त आना बंद हो जाता है।
उल्टी कराने वाली औषधियां :- 3.50 मिलीलीटर से 7 मिलीलीटर तक रीठे का चूर्ण रोगी को पिलाने से उल्टी होना शुरू हो जाती है।
मूत्रकृच्छ (पेशाब में जलन व कष्ट) :- 25 ग्राम रीठे को रातभर 1 लीटर पानी में भिगोकर उसका छना हुआ पानी थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पिलाने से मूत्रकृच्छ (पेशाब करने मे परेशानी) में लाभ मिलता हैं।
नष्टार्तव (मासिकस्राव बंद होना, रजोरोध) :- रजोरोध में इसके फल की छाल या गिरी को बारीक पीसकर शहद में मिलाकर बत्ती बनाकर योनि में रखने से रुका हुआ मासिक-धर्म शुरू हो जाता है। 
अनन्त वायु :- मासिकस्राव के बाद वायु का प्रकोप होने से स्त्रियों का मस्तिष्क शून्य (सुन्न) हो जाता है। आंखों के आगे अंधकार छा जाता है। दांत आपस में मिल जाते हैं। इस समय रीठे को पानी में घिसकर झाग (फेन) बनाकर आंखों में अंजन (काजल की तरह) लगाने से तुरन्त वायु (गैस) का असर दूर होकर स्त्री स्वस्थ हो जाती है।
माइग्रेन :- आधे सिर के दर्द वाले रोगी के दूसरी ओर नाक के छेद में रीठा के छिलके को पानी में पीसकर 2 बूंद टपका दें यह काफी तेज होता है इसे सहन करें। इससे माइग्रेन ठीक होने पर दोबारा नहीं होता है। 
बल-वीर्य वृद्धि  :- 75 ग्राम रीठे की गुठली की गिरी को पीसकर और छानकर इसमें 75 ग्राम खांड या गुड़ मिला लें। यह 5-5 ग्राम चूर्ण सुबह-शाम दूध के साथ सेवन करने से बलवीर्य अधिक होता है। 
बलगम-दमा :- लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग रीठे की पिसी मींगी को मलाई में लपेटकर गर्म पानी से निगलने से बलगम ढीला होकर निकल जाता है और दमा रोगी को एक सप्ताह तक सेवन करने से आराम मिलता है। रीठे के छिलके को पीसकर आधा ग्राम पानी सुबह देने से मिर्गी ठीक हो जाती है।
जुकाम :- रीठे के छिलके और कायफल को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को सूंघने से जुकाम दूर हो जाता है।
नजला, नया जुकाम :- 10-10 ग्राम रीठा का छिलका, कश्मीरी पत्ता और धनिया को पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को नाक से सूंघने से जुकाम में लाभ होता है।
मिर्गी (अपस्मार) :- रीठा के चूर्ण को रोगी को सुंघाने से मिर्गी नष्ट हो जाती है। रीठा के बीज, गुठली और छिलके समेत रीठे को पीसकर मिर्गी के रोगियों को रोजाना सुंघाने से मिर्गी रोग ठीक हो जाता है।
श्वास या दमा का रोग :- श्वास कास (दमा) में कफ निकालने के लिए रीठे का चूर्ण लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग से 1.20 ग्राम देते हैं। इससे उल्टी होकर कफ निकल जाता है।
रीठे के महीन चूर्ण का नस्य देने से भी श्वास रोग (दमा) में आराम मिलता है।
संग्रहणी :- 4 ग्राम रीठा को 250 मिलीलीटर पानी में डालकर गर्म करें। जब तक झाग न उठ जायें। तब तक गर्म करते रहें। उसके बाद इसे हल्का गर्म-गर्म पीने से संग्रहणी अतिसार (बार-बार दस्त आना) का रोग दूर हो जाता है।
माहवारी सम्बंधी परेशानियां :- रीठे का छिलका निकालकर उसे धूप में सुखा लें। फिर उसमें रीठा का 2 ग्राम चूर्ण शहद के साथ सेवन करते हैं। यह माहवारी सम्बंधी रोगों की सबसे बड़ी कारगर दवा है।
कान में मैल जमना :- रीठे के पानी को किसी छोटी सी पिचकारी या सिरिंज (वह चीज जिससे किसी चीज को कान में डाला जाये) में भरकर कान में डाल दें। इससे कान के अंदर मैल या जो कुछ भी होगा वह मुलायम हो जायेगा फिर किसी रूई की मदद से इसे निकाल लें।
उपदंश (सिफलिश) :- रीठे का छिलका पिसा हुआ पानी में मिलाकर चने के बराबर गोलियां बनाकर छाया में सुखा लें। 1 गोली दही में लपेटकर सुबह के समय खायें। थोड़ी दही ऊपर से खाने से उपदंश रोग में लाभ मिलता है। परहेज में नमक और गर्म चीजें न खायें।
मूर्च्छा (बेहोशी) :- पानी में रीठे को पीसकर 2-3 बूंदे पानी नाक में डालने से बेहोश रोगी जल्द ही होश में आ जाता है। 
गठिया :- गठिया के दर्द को दूर करने के लिए रीठा का लेप करने से लाभ मिलता है।
फोड़ा-फुंसी  :- सिर के फोड़े पर रीठा का लेप करने से उसकी सूजन और दर्द ठीक हो जाता है।
दाद-खाज-खुजली (1) :- 50 ग्राम रीठा की छाल, सड़ा हुआ गोला, नारियल, सड़ी गली सुपारी और 100 मिलीलीटर तिल का तेल और 400 मिलीलीटर पानी के साथ घोलकर और पानी में ही मिलाकर हल्की आग पर पकाने के लिए रख दें। जब पानी जल जाये और केवल तेल बाकी रह जाये तो इसे उतारकर छान लें। इस तेल को लगाने से छाजन, दाद, खुजली, चकते, फोड़े-फुन्सी आदि सारे त्वचा के रोग दूर हो जाते हैं।
(2). कण्डू और खाज-खुजली होने पर रीठा का लेप करने से लाभ होता है।
गुल्यवायु हिस्टीरिया :- 4 या 5 रीठा को पीसकर 1 कप पानी में खूब मसल लें, फिर उससे निकले झाग को एक साफ कपड़े में भिगोकर रोगी को सुंघाने से हिस्टीरिया रोग की बेहोशी दूर हो जाती है।
कामला-पीलिया रोग (1) :- 15 ग्राम रीठे का छिलका और 10 ग्राम गावजवां को रात में 250 मिलीलीटर पानी में भिगों दें। सुबह उठकर ऊपर का पानी पी जाएं। 7 दिनों तक यह पानी पीने से भयंकर पीलिया रोग (पीलिया) पीलिया मिट जाता है।
(2). रीठा के छिलके को पीसकर रात को पानी में भिगोयें। सुबह ये पानी नाक में रोजाना 3 बार 2-2 बूंद टपकाने से पीलिया रोग में लाभ होता है।
कुष्ठ (कोढ़) :- रीठा को पीसकर कुष्ठ रोगी (कोढ़ के रोगी) के जख्मों पर लेप करने से जख्म जल्दी भर जाते हैं।
सिर का दर्द (1). :- 1 ग्राम रीठा का चूर्ण और 2-3 ग्राम त्रिकुटा चूर्ण को 50 मिलीलीटर पानी में डालकर रखें। सुबह के समय पानी को छानकर अलग शीशी में भर लें। इस पानी की 4-5 बूंदे सुबह के समय खाली पेट रोजाना नाक में डालने से भीतर जमा हुआ कफ (बलगम) बाहर निकल जाता है। नासा रन्ध्र फूल जाते हैं तथा सिर दर्द में भी तुरन्त लाभ मिलता है।
(2). पानी में रीठे की छाल को काफी देर तक घिसें और झाग आने पर उसी पानी को गर्म करके सुहाता हुआ 2 या 3 बूंद नाक के नथुनों में डालने से सिर का दर्द दूर हो जाता है।
(3).  पानी में रीठे का छिलका घिसकर 2 बूंद नाक के नथुनों में डालने से सिर का दर्द दूर हो जाता है।
आधे सिर का दर्द-आधा सीसी (1).  :- रीठे के फल को 1-2 कालीमिर्च के साथ घिसकर नाक में 4-5 बूंद टपकाने से आधे सिर का दर्द जल्द ही खत्म हो जाता है।
(2). रात को रीठे की छाल को पानी में डालकर रख दें और सुबह उसको मसलकर कपड़े द्वारा छानकर इसके पानी की 1-1 बूंद नाक में डालने पर आधे सिर का दर्द दूर हो जाता है।  
(3). रीठा का चूर्ण नाक से सूंघने से आधा सीसी (आधे सिर का दर्द) का दर्द खत्म हो जाता है।
बच्चों के विभिन्न रोग :- रीठे के छिलके को पीसकर इसका चूर्ण बना लें। यह चूर्ण लगभग आधा ग्राम की मात्रा में शहद में मिलाकर बच्चे को पिलायें। इससे दस्त के साथ कफ (बलगम) बाहर निकल जाएगा और डब्बा रोग (पसली का चलना) समाप्त हो जायेगा। मूंग के बराबर मात्रा में अभ्रक दूध में घोलकर पिला दें। इससे कफ (बलगम) शीतांग होना, दूध न पीना, मसूढ़े जकड़ जाना आदि रोग दूर हो जाएंगें। इससे पसलियों का दर्द भी दूर हो जायेगा। पसलियों में सरसों का तेल, हींग और लहसुन पकाकर मालिश कर लें। पर छाती मे मालिश न करें।
गंजापन :- अगर सिर में गंज (किसी स्थान से बाल उड़ गये हो) तो रीठे के पत्तों से सिर को धोयें और करंज का तेल, नींबू का रस और कड़वे कैथ के बीजों का तेल मिलाकर लगाने से लाभ होता है।
गले का दर्द :- रीठे के छिलके को पीसकर लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग शहद में मिलाकर सुबह-शाम रोगी को चटाने से गले का दर्द दूर हो जाता है।
गले के रोग :- 10 ग्राम रीठे के छिलके को पीसकर लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग सुबह और लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग शाम को पान के साथ या शहद में मिलाकर रोजाना लेने से गले के रोगों में आराम मिलता है।
आंखों के रोग :- आंखों के रोगों में रीठे के फल को पानी में उबालकर इस पानी को पलकों के नीचे रखने से लाभ होता है।
रतौंधी (1).  :- रीठे को पानी के साथ पीसकर रोजाना 2 से 3 बार आंखों में लगाने से रतौंधी (रात मे न दिखाई देना) रोग में लाभ होता है।
(2). 2 रीठे के छिलके को रात को पानी में भिगोकर और सुबह पानी में ही मसल और छानकर इस पानी में सलाई डुबोकर दोनों आंखों में लगाने से रतौंधी (रात में न दिखाई देना) रोग ठीक हो जाता है।
(3). रीठे के छिलके को पीसकर पानी में मिलाकर सुबह सूरज उगने से पहले नाक में डालने से रतौंधी का रोग दूर हो जाता है।
दांतों के रोग :- रीठे के बीजों को तवे पर भून-पीसकर इसमें बराबर मात्रा में पिसी हुई फिटकरी मिलाकर दांतों पर मालिश करने से दांतों के हर तरह के रोग दूर हो जाते हैं। 
पायरिया :- 250 ग्राम रीठा के छिलके को भूनकर और बारीक पीसकर मंजन बना लें। रोजाना चौथाई चम्मच रीठे की राख में 5 बूंद सरसों का तेल मिलाकर मंजन करें। इससे लगातार 2 महीने तक मंजन करने से पायरिया रोग ठीक हो जाता है। 
दाग-धब्बे :- अरीठा या रीठा के छिलकों को पानी में पीसकर चेहरे पर मलने से दाग-धब्बे दूर हो जाते हैं। चेहरे में निखार आता है। 
दर्द :- रीठा की गिरी के लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग चूर्ण को शर्बत या पानी के साथ लेने से शूल (दर्द) खत्म हो जाता है। 
विष :- रीठे के फल को पानी में पकाकर, थोड़ी मात्रा में लेने से उल्टी के द्वारा जहर बाहर निकल जाता है।
अफीम का विष : पानी में रीठे को इतना उबालें कि भाप आने लगे, फिर इस पानी को आधे कप की मात्रा में रोगी को पिलाने से अफीम का जहर उतर जाता है।
बिच्छू का विष :- रीठा के फल की मज्जा (फल के बीच का भाग) को तम्बाकू की तरह हुक्के में रखकर पीने से बिच्छू का जहर खत्म हो जाता है।
रीठे के फल की गिरी को पीसकर उसमें बराबर मात्रा में गुड़ मिलाकर 1-2 ग्राम की गोलियां बना लें। इन गोलियों को 5-5 मिनट के बाद पानी के साथ 15 मिनट में ही 3 गोली लेने से बिच्छू का जहर खत्म हो जाता है।
रीठे के फल को पीसकर आंख में अंजन (काजल) की तरह लगाने से तथा दंषित (काटे हुए स्थान) पर लगाने से भी बिच्छू के जहर में लाभ होता है।
विषैले कीट :- रीठे की गिरी को सिरके में पीसकर विषैले कीटों (कीड़ों) के काटने के स्थान पर लगाने से राहत मिलती है।
बालों का मुलायम होना :- 100 ग्राम कपूर कचरी, 100 ग्राम नागरमोथा और 40-40 ग्राम कपूर तथा रीठे के फल की गिरी, 250 ग्राम शिकाकाई, 200 ग्राम आंवला। सभी को एक साथ लेकर चूर्ण बना लें, फिर इस चूर्ण को लगभग 50 मिलीलीटर की मात्रा में पानी मिलाकर लेप बना लें। इस लेप को बालों पर लगायें। इसके पश्चात बालों को गर्म पानी से खूब साफ कर लें। इससे सिर के अंदर की जूं-लींके मर जाती हैं और बाल मुलायम हो जाते हैं। रीठा, आंवला, शिकाकाई को मिलाने के बाद बाल धोने से बाल सिल्की, चमकदार, रूसी-रहित और घने हो जाते हैं।
बालों को काला करना :- 250-250 ग्राम रीठा और सूखा आंवला पिसा हुआ और 25-25 ग्राम शिकाकाई की फली, मेंहदी की सूखी पत्तियां तथा नागरमोथा को मिलाकर एक साथ पीस लें। शैम्पू तैयार है। इसका एक बड़ा चम्मच पानी में उबालकर इससे सिर को धोयें। इससे सफेद बालों में कालापन आ जाएगा।
गंजापन :- अगर सिर में गंज (किसी स्थान से बाल उड़ गये हो) तो रीठे के पत्तों से सिर को धोयें और करंज का तेल, नींबू का रस और कड़वे कैथ के बीजों का तेल मिलाकर लगाने से लाभ होता है।
रूसी :- रीठा से बालों को धोने से बाल चमकदार, काले, घने तथा मुलायम होते हैं और बालों की फारस (रूसी) दूर होती है। रीठा के पानी से सिर को धोने से रूसी दूर हो जाती है।
निर्मली :: यह एक सदाबहार वृक्ष जिसके फल का गूदा खाया जाता है। इसके बीजों के चूर्ण को जल से भरे हुए पात्र में थोड़ा घीसकर डालने से जल की समस्त गन्दगी नीचे बैठ जाती है। भारत में यह पश्‍चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, दक्षिण भारत के पर्णपाती वनों में 1,200 मीटर की ऊँचाई तक, मध्य भारत, कोंकण एवं महाराष्ट्र में तथा श्री लंका में पाया जाता है।  
नेत्र रोग :: (1.1). सिर्फ सेंधा नमक के साथ अथवा सेंधा नमक तथा मधु के साथ निर्मली का अज्जन बनाकर आंखों में लगाने से नेत्र रोगों में लाभ होता है। (1.2). इसके फल को मधु के साथ पीसकर, थोड़ा-सा कर्पूर मिलाकर नियमित अंजन करने से नेत्र निर्मल एवं दृष्टि प्रखर होती हैं। (1.3). लालचंदन, पिप्पली, हल्दी तथा निर्मली बीज को जल में पीसकर वर्ती बनाकर, इस वर्ती को घिसकर अंजन करने से सभी प्रकार के नेत्र रोगों में लाभ होता है। (1.4). इसके बीजों को पीसकर उसमें थोड़ा-सा कपूर मिलाकर नेत्र के बाहर चारों ओर लगाने से नेत्र शूल में लाभ होता है। (1.5). इसके बीज को पानी में पीसकर उसमें थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर आँखों के बाहर लगाने से नेत्रशूल तथा नेत्रदाह (आँखों की जलन) का शमन होता है। 
खाँसी :: एक निर्मली के फल का गूदा निकालकर उसमें शहद मिलाकर चटाने से सूखी खाँसी मिटती है। 
हैजा :: इसके त्वक् का चूर्ण बनाकर उसमें नींबू स्वरस मिलाकर, एक ग्राम की मात्रा में सेवन करने से हैजा में लाभ होता है। 
loga_strychnos_potatoपेट के कीड़े :: इसके बीजों को पानी में पीसकर नाभि के आस-पास लेप करने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।
बहुत पुराना अतिसार :: इसके एक बीज को पीसकर, तक्र में मिलाकर 5 दिनों तक पीने से बहुत पुराने अतिसार, जो किसी भी औषधि के प्रयोग करने से ठीक न हो, तो उनमें लाभ होता है। 
प्रमेह :: इसके बीज को पीसकर शहद में मिलाकर खिलाने से प्रमेह में लाभ होता है। 
मूत्र विकार ::  इसके दो बीजों को पानी में पीसकर, दही मिलाकर, चीनी मिट्टी के बर्तन में रखकर रात भर पड़ा रहने दें, प्रातः काल में इसे निकालकर सेवन कर लें। इस प्रकार सात दिनों तक इसका सेवन करने से तथा पथ्य में दही चावल खाने से पेशाब की जलन तथा पेशाब के साथ खून आना बन्द हो जाता है। 
संधिशूल ::  इसकी मूल को तेल में डालकर पकाकर, फिर छानकर मालिश करने से जोड़ों की वेदना का शमन होता है। 
घाव  :: इसके पत्रों को पीसकर घाव पर लगाने से घाव का शोधन होता है तथा घाव जल्दी भर जाता है। 
कुष्ठ और त्वचा रोग :: इसकी मूल को पीसकर लगाने से कुष्ठ आदि त्वचा रोगों में लाभ होता है। 
अपस्मार :: इसके फल सत्त से नस्य, अंजन तथा कर्णपूरण करने से अपस्मार में लाभ होता है। 
वृश्‍चिक दंश शोथ :: इसके फल को घिस कर वृश्‍चिक दंशस्थान पर लेप करने से दंशजन्य वेदना, शोथ आदि प्रभावों का शमन होता है। 

मात्रा :: चूर्ण एक से तीन ग्राम. वमनार्थ छः ग्राम. क्वाथ 10-30 मिली अथवा चिकित्सक के परामर्शानुसार। 
आक-अर्क :: इसको मदार, मंदार, आक, अर्क भी कहते हैं।  इसके पौधे, शुष्क, ऊसर और ऊँची भूमि में प्राय: सर्वत्र देखने को मिलते हैं। यह गर्मी के दिनों में रेतीली भूमि ज्यादा फैलता-फूलता है। इसका पौधा छोटा और छत्तादार होता है। पत्ते बरगद के पत्तों समान मोटे होते हैं। हरे सफेदी लिये पत्ते पकने पर बैंगनी रंग के हो जाते हैं। इसका फूल सफेद छोटा छत्तादार होता है। फूल पर रंगीन चित्तियाँ होती हैं। फल डोडे के रूप में होता है। जिनमें रूई होती है। यह पौधा विषेला होता है तथा यह मनुष्य के लिये घातक है। इसकी शाखाओं में से विषैला दूध निकलता है। 
आयुर्वेद संहिताओं मे भी इसकी गणना उपविषों में की गई है। यदि इसका सेवन अधिक मात्रा में कर लिया जाये तो, उलटी दस्त होकर मनुष्य यमराज के घर जा सकता है। इसका सेवन उचित मात्रा में, योग्य वैद्य की निगरानी में ही किया जाना चाहिये। इसका हर अंग दवा है, हर भाग उपयोगी है एवं यह सूर्य के समान तीक्ष्य, तेजस्वी और पारे के समान उत्तम तथा दिव्य रसायन धर्मा हैं।
(1). आक के पौधे की पत्ती को उल्टा (उल्टा का मतलब पत्ते का खुदरा भाग) कर के पैर के तलवे से सटा कर मोजा पहन लें। सुबह और पूरा दिन रहने दे रात में सोते समय निकाल दें। एक सप्ताह में आपका शुगर लेवल सामान्य हो जायेगा। साथ ही बाहर निकला पेट भी कम हो जाता है।
(2). आक के कोमल पत्ते मीठे तेल में जला कर अण्डकोश की सूजन पर बाँधने से सूजन दूर हो जाती है तथा कडुवे तेल में पत्तों को जला कर गरमी के घाव पर लगाने से घाव अच्छा हो जाता है।
(3). इसके कोमल पत्तों के धुंए से बवासीर शाँत होती है। आक के पत्तों को गरम करके बाँधने से चोट अच्छी हो जाती है; सूजन दूर हो जाती है। आक की जड़ के चूर्ण में काली मिर्च पीस कर मिला ले और छोटी छोटी गोलियाँ बना कर खाने से खाँसी दूर होती है।
(4). आक की जड की राख में कडुआ तेल मिलाकर लगाने से खुजली अच्छी हो जाती है। आक की सूखी डँडी लेकर उसे एक तरफ से जलावे और दूसरी ओर से नाक द्वारा उसका धूँआ जोर से खींचे सिर का दर्द तुरंत अच्छा हो जाता है।
(5). आक का पत्ता और ड्ण्ठल पानी में डाल रखे उसी पानी से आबद्स्त ले तो बवासीर अच्छी हो जाती है। आक की जड़ का चूर्ण गरम पानी के साथ सेवन करने से उपदंश (गर्मी) रोग अच्छा हो जाता है। उपदंश के घाव पर भी आक का चूर्ण छिडकना चाहिये। आक ही के काढ़े से घाव धोवे
(6). आक की जड़ को पानी में घीस कर लगाने से नाखूना रोग अच्छा हो जाता है। आक की जड़ छाया में सुखा कर पीस लेवें  और उसमें गुड़ मिलाकर खाने से शीत ज्वर शाँत हो जाता है। 
(7). आक की जड 2 सेर लेकर उसको चार सेर पानी में पकावे जब आधा पानी रह जाय तब जड़ निकाल लें और पानी में 2 सेर गेहूँ छोड़ें।  जब जल नहीं रहे तब सुखा कर उन गेहूँओं का आटा पिसकर पाव भर आटा की बाटी या रोटी बनाकर उसमें गुड़ और घी मिलाकर प्रतिदिन खाने से गठिया बाद दूर होती है। बहुत पुरानी गठिया भी 21 दिन में अच्छी हो जाती है।
(8). आक का दूध पाँव के अँगूठे पर लगाने से दुखती हुई आँख अच्छी हो जाती है। बवासीर के मस्सों पर लगाने से मस्से जाते रहते हैं। बर्रे काटे में लगाने से दर्द नहीं होता। चोट पर लगाने से चोट शाँत हो जाती है।(9). जहाँ के बाल उड़ गये हों वहाँ पर आक का दूध लगाने से बाल उग आते हैं। इसका दूध आँख में नहीं जाना चाहिए वर्ना आँखें खराब हो जाती हैं। 
उपरोक्त कोई भी उपाय अपनी ज़िम्मेदारी पर सावधानी से ही करें।
SIDDH HERBS-सिद्ध जड़ी-बूटियों से इलाज ::
CANNABIS भांग :: Its used to cure cancer. It has had demonstrated effects in treating nausea, vomiting, unintended weight loss and lack of appetite. Medical Cannabis is also used to treat spasticity, painful neurogenic conditions, movement disorders, asthma and glaucoma.
It is beneficial in  the treatments for  AIDS and some forms of hepatitis, glaucoma, mood disorders, mental health problems such as depressive disorders, post traumatic stress disorder, attention-deficit disorders, premenstrual syndrome, high blood pressure and insomnia, constipation.
Quick Weed :: Extract of leaves with salt is given in fever, diarrhoea and vomiting. Leaves of this plant, along with those of Ageratum conyzoides, Drymaria cordata, ginger are made into a paste and applied as a remedy for snake-bite.
Patthar Suva :: Its decoction of the plant as febrifuge. A paste of the fresh Pithari plant is applied to promote healing of sores and wounds. It has a bitter taste and fennel like odour. Its also used in culinary-cooking purposes.
Madras Carpet :: Its leaves are regarded as a valuable stomachic possessing deobstruent and antispasmodic properties, and are prescribed as an infusion and an electuary in cases of obstructed menses and hysteria.
Hill Gynura (कुसुंबी, Kusimbi) :: The juice of its stem and leaves are applied to fresh wounds for stopping bleeding and fast healing in traditional medicines. The leaf paste is also applied to forehead to relive headache and used as sedative drug by the local people.
Stem Clasping Ligularia :: The stems, leaves and flowers are used in Tibetan medicine, they have an astringent taste and a cooling potency. Digestive and emetic, they are used in the treatment of vomiting from indigestion.
Chamomilla, Roghan babunah, Gul-babunah :: It is a popular ingredient in topical health and beauty products tor its soothing and anti-inflammatory effects on skin.
Rasna, Phaar, फर, Chithramoolak, चित्रमूलक, रसना, इलापर्णी,  Elaparni, सुगंधा, Sugandha, सुरभी Surabhi,  Yukta, युक्ता) :: It is used for the inflammations and bronchitis, psoriasis, cough and piles. It is also used as antipyretic, analgesic, laxative and nervine tonic. The decoction of plant is used to prevent the swellings of joint in arthritis, rheumatism and neurological diseases. The roots are antipyretic, bitter, laxative and thermogenic and are used for allaying the pain caused by the sting of scorpions.
Costus, Kuth, कुठ :: It is widely used in several indigenous systems of medicine for the treatment of various ailments, like asthma, inflammatory diseases, ulcer and stomach problems.
Kasturi Kamal, कस्तूरी कमल :: The wool of this herb is applied to cuts, where it sticks compactly, seals the wound and stops the bleeding.
Kaliziri, Murang, मुरंग, Batula :: Leaf paste with mustard oil is rubbed on leucoderma and wounds. Root extract is taken for fever and colic. The seeds are carminative and used for horse-bites.
Brahm Kamal ब्रह्म कमल :: The flowers are used as offering in the hill temples, like the shrines of Badri Nath. The thick curved root of the plant is applied to bruises and cuts, as part of local medicine. 
Snow Lotus :: It is used as a tonic for weakness, a therapy for menstrual disorders and a remedy for arthritis. 
Lechhkuri, Gobariya लछ्कुरि गोबरिया :The juice of the fresh herb is used as a dressing for wounds, over which, as it dries, it leaves a varnishing coating. A decoction of the leaves and young shoots is used as a lotion for ulcers and parasitic skin diseases.
Dudhi, दूधी :: It is useful in liver diseases. Leaves and roots are used in indigestion as febrifuge; stem is used as sedative, tonic; root extract is used in ointments for ulcers and wounds. Gum produced by evaporating latex is used for ascites and hydrothorax.
Gorakhmundi, गोरखमुंडी :: It is hot, laxative, digestible, tonic, fattening, alterative, anthelmintic and alexipharmic. It is used in insanity, tuberculosis, indigestion, bronchitis, spleen diseases, elephantiasis, anaemia, pain in uterus and vagina, piles, asthma, leucoderma, dysentery, vomiting, hemicrania, etc.
Wild quinine, Feverfew :: It has been used for reducing fever, for treating headaches, arthritis and digestive problems. It is hypothesised that by inhibiting the release of serotonin and prostaglandins, both of which are believed to aid the onset of migraines, feverfew limits the inflammation of blood vessels in the head.
Kanak gol, कनकगोल :: Its flower-heads are used for treating-healing wounds and bruises.
Watpan, वातपन :: It has been used medicinally as a cough suppressant. It has been used to treat lung ailments such as asthma as well as various coughs by way of smoking. Crushed flowers supposedly cured skin conditions and the plant has been consumed as a food product.
Pilabhangara, Pitabhrng, पीतभ्रंग  पीला भंगरा :: The leaves are used in dyeing grey hair and in promoting the growth of hair. They are considered tonic, alternative and useful in coughs, cephalalgia, skin diseases and alopecia. The juice of the leaves is much used as a snuff in cephalalgia. The seeds and flowers, as well as the leaves, are used in decoction, in the quantity of half of teacupful twice daily, as a deobstruent. In decoction, the plant is used in uterine haemorrhage and menorrhagia.
Wedelia :: It is used to treat hepatitis, infections and to clear the placenta after birth.
East Himalayan Balsam :: The flowers are used medicinally for dissolving clots, promoting diuresis and treating abdominal pain, postpartum blood stasis, carbuncles and difficulty in urination.
Chinese Balsam :: The whole plant is used medicinally for relieving fever and pain, removing toxic materials, promoting blood circulation, treating diarrhoea, curing urinary infections, and healing carbuncles. The plant is used externally in burns and taken internally with milk in gonorrhoea.
Chitra, चित्रा :: Its a bitter tonic antiperiodic and diaphoretic. An infusion is used in the treatment of malaria, eye complaints, skin diseases, menorrhagia, diarrhoea and jaundice
Indian Barberry, इशकीन, Ishkeen :: Its roots are used as remedy for swollen and sore eyes, broken bones, wounds, gonorrhea, curative piles, unhealthy ulcers, acute conjunctive and in chronic opthalmia, also used as bitter tonic astringent, diaphoretic and febrifuge. Its leaves are used in treating jaundice.
Berberine :: It is present in rhizomes of Berberis species, has marked antibacterial effects. It helps in the recovery of canker sores to urinary tract infections. It boosts the immune system, as an anti-oxidant and even help ward off cancer.  It helps in soothing digestive tract problems, staph infections, in AIDS therapy, lowering cholesterol and blood sugar levels and in battling Alzheimer’s disease. It has demonstrated significant antimicrobial activity against bacteria, fungi, viruses and Chlamydia. Its most important attributes is its ability to counteract diarrhoea and combat (e Coli) toxins. It reduces cholesterol in patients being treated for diarrhoea, associated with diabetes.
Nepal Mahonia, Indian barberry :: The fruits are diuretic and demulcent. They are used in the treatment of dysentery. 
Calabash tree :: Its  fruit pulp is used for respiratory problems such as asthma.
Katsagon मरॊड़फली, Marodphali :: Its used as an ingredient in message oils, to ease muscular tension.
Sausage Tree, बलम खीरा, Balam khira :: Its used for the treatments of skin afflictions, intestinal worms. Some steroid chemicals found in the sausage tree are added to shampoos and facial creams.
Roheda,  रोहेड़ा, Chalachhada, छलछड़ :: The bark obtained from the stem is used as a remedy for syphilis. It is also used in curing urinary disorders, enlargement of spleen, gonorrhoea, leucoderma and liver diseases. Seeds are used against abscess.
Comfrey :: The herb contains allantoin, a cell proliferant that speeds up the natural replacement of body cells. It has been used to treat bronchial problems, broken bones, sprains, arthritis, gastric and varicose ulcers, severe burns, acne and other skin conditions. It was reputed to have bone and teeth building properties in children and have value in treating 'many female disorders.
Indian Borage Chhota Kalp छोटा कल्प ::  The plant is acrid, bitter in taste. In herbal medicine jargon, it is thermogenic, emollient, alexeteric, anodyne, anti-inflammatory, carminative, constipating, diuretic, depurative, ophthalmic, febrifuge and pectoral. It is also used in arthralgia, inflammations, dyspepsia, diarrhoea, dysentery, strangury, skin diseases and dysmenorrhoea.
Shepherd's Purse :: It has been used to stop bleeding from internal organs.
London Rocket, खूबकलाँ, Khubkaln :: It is used to treat coughs and chest congestion, to relieve rheumatism, to detoxify the liver and spleen, and to reduce swelling and clean wounds.
Indian Olibanum, शल्लकी ::  It is sued for treating osteoarthritis and joint function, particularly for osteoarthritis of the knee. 
Hatchet Cactus :: It is a well known  remedy for fevers and rheumatic pains. Extracts have also been shown to have antibiotic activity.
Yellow Nicker, Fever nut, कांटकरंज, Kantkarej :: Its fruits are tonic and antipyretic. Its seeds yield a fatty oil used as a cosmetic and for discharges from the ear. Leaves and bark are febrifuge.
Amaltas, अमलतास  :: The sweet blackish pulp of the seedpod is used as a mild laxative.
Coffee Senna, कसुंद, Kasund :: The seed is bitter and has purgative properties. It is also used as a diuretic, liver detoxifier, as a hepato-tonic (balances and strengthens the liver). Further, used in whooping cough and convulsion.
Sita Ashok, Sorrow less tree सीता अशोक :: The juice obtained from boiling the bark is a cure for some ailments of women and a pulp of the blossoms is one of the remedies used for dysentery.
Tanner's Cassia तरवड़, Tarwar :: The root of this plant is used in a decoction for fevers, diabetes, diseases of the urinary system and constipation. The leaves have laxative properties. The dried flower and flower buds are used as substitute.
Sea Mango :: The seed oil in plasters applied to the skin is effective for scabies and prurigo, and applied to the hair kills head-lice. The glycosides extracted from the seeds are active on heart failure. The trunk bark or the leaves are occasionally used as a purgative Laxative, रेचक, दस्त लानेवाली, पेट साफ़ करनेवाली, जुलाब), but strict precautions must be taken because of their high toxicity.
Indr Jao,  कडवा इंद्रजव, Karva Indr Jau, कुटज, Kutaj, इंद्रयव, Indr Yav :: It is one of the best drug for Diarrhoea. In chronic diarrhoea & to check blood coming from stool, it should be given with Isobgol, caster oil or Indr Yav. The bark is useful in treatment of piles, skin diseases and biliousness. The bark is used externally in case of skin troubles. The bark is mostly mixed with cow urine and apply it in affected parts. In treatment of urinary troubles, the bark is given with cow milk. The fresh juice of bark is considered good to check the diarrhoea. In Bleeding piles Decoction of Kutaj bark with Sunthi checks mucus & blood. Application of this herb is useful in Rheumatic. Arthritis & Oestioarthritis.
Shrub Vinca :: The chemotherapy agent vincristine is extracted from Vinca rosea (current name Catharanthus roseus) and is used to treat some leukemias, lymphomas, and childhood cancers, as well as several other types of cancer and some non-cancerous conditions.
Sarpagandha सर्पगंधा :: It is a tranquilliser and anti psychotic herb of India for the treatment of paranoia and schizophrenia, as well as a substance that controls hypertension.  This It is used for treatments for certain types of mental illness. It is used in preparing tranquillisers.

Wild Snake Root, बडा चन्द्रिका, Barachandrika, Chandr Bhaga, वनसर्पगंधा, Vanasarpagandha :: Its roots yield the drug deserpidine, which is an anti hypertensive and tranquilliser.

Nag Chhatri, नाग छतरी :: The cortico-steroid hormone isolated from the plant is used in various preparations like sex hormones, cortisone and allied preparation used in rheumatism, regulation of menstrual flow. It is used in stomach related problems as well.
Stinking Cassia, पंवर, चकुण्ड, चक्रवात, Panwar, Chakunda, Chakvat :: The leaves and seeds are useful in leprosy, ringworm, flatulence, colic, dyspepsia, constipation, cough, bronchitis, cardiac disorders.
Kashmir Bellflower :: The roots and leaves are used to make a poultice for the treatment of bruises, ulcers and wounds.
Arctic Snow, कुटज:, Kutajah :: The bark possesses anti-microbial and anti-inflammatory properties and therefore the juice extracted from it is administered for mouth sores. The leaves are used in treating several skin disorders, psoriasis, nonspecific dermatitis etc.
Water Jasmine :: It has been traditionally used as a medicinal herb and roots are used to cure skin diseases.
Sweet Indrajao, कपार, दुधी, Kapar, Dudhi :: The leaves are applied as a poultice for mumps and herpes and sometimes, they are also munched to relieve toothache. The dried and powdered roots of Wrightia along with Phyllanthus amarus (keezhanelli) and Vitex negundo (nochi) is mixed with milk and orally administered to women for improving fertility. The bark and seeds are effective against psoriasis and non-specific dermatitis. It has anti-inflammatory and anti-dandruff properties and hence is used in hair oil preparations.
Sabal palm, palmetto palm, cabbage palm :: Its roots are cooling, soothing,  restorative. Juice of plant is diuretic, stimulant, antiphlegmatic, useful in dropsy.
Green Milkweed Creeper :: The leaves of this woody climber are used in Indian traditional medicine to cure ulcerous sores.
Gurmar, छॊटा दूधीलता, Chhota-dudhilata, गुढ़मार, Gudmar, गुरमार Gurmar, मॆढ़शिंगी, Medhashingi,  Ajaballi, अजगंधिनी, Ajaghandini, कर्णिका, Karnika, Kshinavartta, मधुनसिनी, madhunasini :: Useful to both diabetes and obesity.
Indian Sarsaparilla, अनंतमूल, दूधली, Anantamul, Dudhli :: It is one of the Rasayan-rejuvenating plants as it is anabolic in its effect. It is used for venereal diseases, herpes, skin diseases, arthritis, rheumatism, gout, epilepsy, insanity, chronic nervous diseases, abdominal distention, intestinal gas, debility, impotence and turbid urine.
Holostemma Creeper, छिरवेल, जीवन्ति, अर्कपुष्पी, Chhirvel,  Jivanti, Ark Pushpi :: The roots and the whole plant are used for medicinal purposes. Externally the paste of its leaves and roots alleviate oedema due to vitiation of Pitt Dosh. The herb is beneficial for external use in various skin diseases, wounds and inflammation of the skin.
Pergularia, उतरन, संगोवाणी, एकासन, गडरिया की बेल, जुतक, उत्तमर्णि, कुरुतक:, विसनिका, काकजंघा, Utaran, Sagovani, Aakasan, Gadaria Ki bel, Jutak, Uttamarani, Kurutakah, Visanika, Kakajangha :: It has been used in folk medicine for the treatment of liver disorders.
Indian Ipecac, अंतमूल,जंगली, पिकवम, अर्कपर्णी, लतकसीरी, श्वासघ्नी,  Antamul, Jangli Pikvam,  Arkaparni, Lataksiri, Shwasaghni :: It is  used  for the treatment of bronchial asthma, inflammation, bronchitis, allergies, rheumatism and dermatitis.
Garden Asparagus ::  It finds vide application in asthenia, anemia, rheumatism, diabetes as well as renal lithiasis. It is firstly a fortifier. From the asparagus offshoots decoction, juice, syrup and tincture are prepared. Very often used is the asparagus juice, a preparation practically accessible to anyone.
Wild Asparagus, सतावरी, satawari,  शतावरी, Shatavari, हिरण्यस्रिंगी, Hiranyasringi :: The root of Satavari is used in the form of juice, paste, decoction and powder to treat intrinsic haemorrhage, diarrhoea, piles, hoarseness of voice, cough, arthritis, poisoning, diseases of female genital tract, erysipelas, fever, as aphrodisiac and as rejuvinative.
Krantz Aloe, Tree Aloe, Candelabra Aloe :: It is used as the first treatment for any type of scratch, bite or burn and is used in hospitals as a primary treatment for burns up to the third degree. Its sap can be drunk as a liver and digestive tonic.
Aloe Vera, घीकुमारी, Ghee Kumari  :: It contains over 20 minerals, all of which are essential to the human body. The human body requires 22 amino acids for good health-eight of which are called essential because the body cannot fabricate them.  It contains all of these eight essential amino acids and 11 of the 14 secondary amino acids. It has Vitamins A, B1, B2, B6, B12, C and E. It is believed to help in sustaining youth, due to its positive effects on the skin. Hence it is called Ghee Kunwar or Ghee Kumari.
Common Yarrow,  भूतकॆशी, Bhut Keshi :: It as a treatment for wounds, such as Achilles. It has been used to stop bleeding by inserting leaves into the nostrils of the wounded person. It is used to ward off spirits as well.
Toothache Plant, अकरकरा, पीपुलक, Akarkar, Pipulka :: The leaves and flower heads contain analgesic, anti fungal, anti helminthic and anti bacterial agents. Some of its basic compounds are destroyed by desiccation or freezing.
Sticky Daisy, जंगली जीरा, Jungli Jeera :: The extract of its leaves is applied to injuries.
Goat weed, जंगली पुदीना, विष डोडी, घाव बूटी, विषमुष्टि:, Jungli Pudina, Visadodi, Ghav Buti, Vish Mushtih :: It is used against epilepsy and wounds and an insect repellent.
Wormwood, green ginger, विलायती अफसंतीन, डामर ईंधन, Vilayati Afsantin, Damar Indhan :: Its a remedy to indigestion and gastric pain, acts as an antiseptic and as a febrifuge. Its used as a tea for helping pregnant women during pain of labor. A dried encapsulated form of the plant is used as an anti helminthic.
Indian Wormwood, नागदोना, नागदमन, दमनक, Nag Dona,  Nag Daman, Damanak :: It drives away insects. So the leaves and flowers are put in boxes and cupboards. Its leaves are used to prepare a local hair-care lotion Chinghi. Its used to repel snakes.
Ironweed, काला जीरा, सोमराजी, अटवी जीरक:, अवलगुज, Kala Jeera, Somraji, Atavi Jeerakah, Avalguj :: Its used to treat white leprosy (leuco-derma) and other skin diseases. It is mentioned also as an anti helminthic.
Spanish Needles, चिर्चिट्टा Chirchitta :: Its used to treat eye and ear affections (leaf juice); applied to skin affections in general, as a haemostatic (surgical procedure of stopping the flow of blood) on wounds and wrapped around the umbilical cord of babies (rubbed leaves).
Kakronda, जंगली मूली, ककरौंदा, कुक्कुरद्रु,  कुकुंदर, म्रदु छड़, ताम्रचूड़ा, Jangli Muli, Kakronda, Kukkuradru, Kukundara, Mridu chhada, Tamrachuda :: It is hot, pungent and bitter; anti pyretic; good for bronchitis, diseases of the blood, fevers, thirst and burning sensations. The root kept in the mouth is said to cure disease of the mouth. It is used to drive away fleas and other insects. It is given in enuresis, neuralgia, headache and cold borne cough.
Safflower, कुसुम, Kusum :: Taken hot, safflower tea produces strong perspiration and has thus been used for colds and related ailments. It has also been used at times for its soothing effect in cases of hysteria, such as that associated with chlorosis. Powdered seeds made into a poultice used to ally inflammation of the womb after child birth. Flowers of this herb is useful for jaundice.
Siam Weed, तीव्र गंधा, Teevr Gandha ::  It is used  to treat skin wounds after crushing the young leaves and then applying the resulting liquid over the wounds.
Chicory, कासनी, Kasni :: The plant has blood and liver purifying properties.
Wild Cosmos, उलम राजा, Ulam Raja :: The plant is used traditionally for improving blood circulation.
Thick Head :: Its fleshy, mucilaginous leaves and stems are eaten as a vegetable. A lotion of leaves is used as a mild medicine that strengthens the stomach and excites its action.
Little Iron weed, सहदेवी, Sah Devi :: The seeds yield a fatty oil and are used as an anti helminthic and alexipharmic; they are said to be quite effective against round worms and thread worms. They are also given for coughs, flatulence, intestinal colic and dysuria and for leucoderma, psoriasis and other chronic skin-diseases. The seeds are made into a paste with lime juice and used for destroying pediculi-louse.
False Daisy,  भ्रिंगराज, केशराज, Bhrang Raj,  Kesh Raj :: Bhrang Raj is mainly used in hair oils, but it has been considered a good drug in hepatotoxicity. In hair oils, it may be used alongwith Centela asiatica (Brahmi) and Phyllanthus emblica (Amla). It may be used to prevent habitual abortion and miscarriage and also in cases of post-delivery uterine pain. A decoction of leaves is used in uterine haemorrhage. The juice of the plant with honey is given to infants with castor oil for expulsion of worms. For the relief in piles, fumigation with Eclipt,a alba is considered beneficial. The paste prepared by mincing fresh plants has got an anti-inflammatory effect and may be applied to insect bites, stings, swellings and other skin diseases.
Elephant Foot,  बन तम्बाखू, गोजिह्वा, Ban-tambakhu  Gojivha :: Roots and leaves are used as emollient for dysuria, diarrhoea, dysentery, swellings and stomach pain. Root is prescribed to prevent vomiting. Powdered with pepper it is applied for tooth-ache. Leaves are used in applications for eczema and ulcers.
Burma Agrimony ::  Leaf juice is applied to body in burning sensation. Leaf extract with milk is a remedy for leucorrhea. The extract with honey is given in stomach ulcers.
Musk Mallow, लता कस्तूरी, वेटरीलाई कस्तूरी, Lata kasthuri, Vetrilai Kasthuri :: The fatty oil of the seeds contains phospholipids-a-cephalin and phosphatidylserine. The seeds are antiseptic, stomachic, tonic, carminative, antihyteric and aphrodisiac. It is used in the treatment of male sexual disorders and venereal diseases.
Biotite Calx, अभ्रक भस्म,  Abhrak Bhasm :: It is prepared by treating biotite (mica) with the juices of a number of re-constituent plants that make it a powerful cellular re-generator. It is a nervine tonic and is also widely used in respiratory tract infections and anaemia. It contains Iron, Magnesium, Potassium, Calcium and Aluminium in traces.
Jequirity,  गूँज, Gunj :: The seed extract is used externally in the treatment of ulcers and skin affections. The seeds are administered internally in the affections of the nervous system, and their paste is applied locally in sciatica, stiffness of shoulder joint and paralysis. They are said to be useful in diarrhoea and dysentery and possess anthelmintic activity.
Country Mallow, अतिबल, Atibal :: It is used as a febrifuge, has anthelmintic and anti-inflammatory properties and is useful in urinary and uterine discharges, piles and lumbago.
Cutch,  खदिर, रति, कुन्दमणि, Khadir, Rati, Kund Mani :: Catechin and catechutannic acid are the major active constituents in the wood extract. Taxifolin present in it has anti-bacterial, anti-fungal, anti-inflammatory and anti-oxidant properties. Traditionally, it is used for the treatment of cough and sore throat.
Indian Gum, बाबुल, कीकर, Babul, Kheekar :: Its bark from the branches yields 7-12 per cent tannin and is used for asthma, bronchitis,diabetes, dysentery, diarrhoea and skin diseases. The stem is used as a toothbrush and the gum for burns. The leaves are useful for eye complaints, headache, throat infection, urinary problems and gonorrhea.
Acacia sinuata सप्तल, कोच्ची, रीठा, शिकाकाई, Saptala, Kochi, Ritha :: The pods yield saponins (20.8%) which have been reported to contain acacinin-C, D and E and a homologous series of oligosaccharides. An ointment prepared from the ground pods is good for skin diseases. A decoction of the pods relieves biliousness and acts as a purgative. It is used to remove dandruff and has a detangling effect on the hair, which helps in increasing the hair volume. The pods, known as  Shikakai, are extensively used as a detergent and the dry ones are powdered and perfumed and sold in the market as soap nut powder.
Yarrow, बिरंज सिफा, Biranjasiph :: The herb possesses diaphoretic, vulnerary, styphic, astringent, emmenogogue, stimulant, tonic and anti-hemorrhoidal properties. It is useful in influenza and heavy chest colds and also as a blood-purifier. It has carminative, digestive, astringent and anti-spasmodic properties. It is used in the treatment of flatulence, colic and heartburn. It is also used in various hepatic disorders.
Prickly-Chaff Flower, अपामार्ग, चिर-चित्त, नयूरवी, Apamarga, Chir Chitt, Nayuruvi :: It is reported to be pungent, astringent, pectoral and diuretic. It is used as an emmenagogue and in piles and skin eruptions.
Crowfoot, अतिविष, अतिश Ativish, Atish :: In combination with long pepper, it is used to cure pain in the bowels, diarrhoea and vomiting.
Sweet flag, वच, वसुनबु, Vach, Vasambu :: The rhizomes are considered to possess sedative and analgesic properties. They are used for the treatment of epilepsy, chronic diarrhoea and dysentery, bronchial catarrh, fever, glandular and abdominal tumours, kidney and liver complaints, rheumatism and eczema. It has been used  to improve memory retention and recall. A combination of B. monnieri and A. calamus, significantly increases memory and controls hyperactivity in children.
Bael Tree, बिल्व, बेल, विल्वम, Bilva, Bael, Vilvam :: It is a fruit used in diarrhea, dysentery and cholera due to its digestive and carminative properties. Both ripe and unripe fruit is regraded as an astringent. It helps in the healing of ulcerated intestinal surfaces. It possesses antiviral, anthelmintic and anti-inflammatory properties and has appreciable activity against Vibrio cholera and Salmonella.
Barbados Aloe, घृत कुमारी, कन्या, Ghrat Kumari,  Kanya :: It contains enzymes, poly saccharides and nutrients which exhibit antibacterial and anti fungal action. It also has a natural sun screen effect that moisturises the skin. The leaf juice forms the main source of the drug. Aloes have long been in use for a host of diseases, particularly those connected with the digestive system; they have also been used for wounds, burns, dermatitis, cutaneous leishmaniasis and other skin troubles. It is used in eye troubles, spleen and liver ailments. It is also known to relieve dysmenorrhoea in young women by expelling uterine debris.
Alternanthera sessilis, मत्स यक्षी, Mats Yakshi :: It is rich in b-Carotene. It shows anti-bacterial and anti-fungal activities.
Ammonii chloridum, नव सागर, नवसार, Nav Sagar, Nav Sar :: It is alterative, expectorant, cholagogue and purgative. It is useful in fever, liver and spleen disorders, etc.
Large  Cardamom, इलाइची, ऐन्द्री, बृहतेला, Elaichi, Aindri, Brihatela :: The seeds are stimulant, stomachic, alexipharmic and astringent properties and are prescribed for the treatment of indigestion, vomiting, biliousness, abdominal pains and rectal diseases. The oil from the seeds is aromatic, stimulant, anti-inflammatory and it is highly active against growth of keratinophilic fungi.
Creat, भूनिम्ब, किरात, कालमेघ, Bhunimb, Kirat, Kalmegh :: It is a bitter tonic and febrifuge. A decoction of the plant is a blood-purifier. It is used as a cure for torpid liver, and jaundice. It also has hepato protective activity.
Indian Dill, सत्व:, मधुर, Satahv, Madhur :: The dried ripe fruits yield, on distillation, an essential oil. The major constituent of the oil is carvone. It also contains apiol and dill apioll. They are used in medicine mainly as an aromatic carminative, antipyretic and anthelmintic. The oil from the seeds is a well-known remedy for flatulence in children and enters into the preparation of gripe water. The seeds are used as stomachic and the aqueous extract of the seeds showed abortifacient activity in rats.
Celery, अजमोद,  Ajamod :: It has antispasmodic, digestive and carminative properties. It is useful in indigestion, abdominal discomfort, colic and hepatobiliary disorders.
Areca Nut, पुग, सुपारी,  Pug, supary :: The unripe nuts have laxative properties, but they are said to affect the eyesight. Arecanuts are considered useful as an external application on ulcers, and in skin disorders. They are anthelmintic and are used in veterinary medicine as a vermifuge. A paste of the dry arecanut powder is used as a dentifrice. The dried nuts are said to sweeten the breath, strengthen the gums, and produce a stimulant and exhilarant effect on the system. Arecanut chewed is reportedly a good source of fluoride.
Elephant Creeper, वृद्धारू, Vraddharu :: The root is bitter, aphrodisiac, diuretic and is used in gonorrhea, rheumatism and diseases of the nervous system. It is also used as a tonic. The plant is used along with other ingredients to cure sexual disorders in males.
Asparagus, मूसली, Musali :: The roots are prescribed for diarrhea and dysentery.Its a well known Aphrodite.
Asparagus, शतावरी  Shatavari :: The plant is used as a demulcent, diuretic, aphrodisiac, and galactogouge. The root extracts exhibit anti-allergic activity. Along with the leaves of Gymnema sylvestre, they are given to diabetic patients.
Thyme-Leaved Gratiola, ब्राह्मी, Brahmi :: The entire plant constitutes the well-known drug Brahmi. The drug is astringent, bitter and cooling and reportedly improves the intellect. It is used  for the treatment of asthmahoarseness, insanity and epilepsy and is also a potent nerve tonic, cardiotonic, aperient and diuretic. It acts as an anti-anxiety agent. It also calms restlessness in children and is used in several mental disorders.
Bauhinia variegata, Buddhist Bauhinia, Mountain Ebony, Orchid Tree, कचनार, कोविद, Kachanar, Kovidar :: The bark is astringent, tonic and anthelmintic. It is useful in scrofula and skin diseases. It is also used for ulcers and leprosy. A decoction of the bark is taken for dysentery. The dried buds are used for diarrhea, dysentery and haemorrhoids.
Ash Gourd, Wax Gourd, White Gourd, White Pumpkin, कुष्माण्ड, Kushmand :: It has acid neutralising property and ulcer healing activities.
Indian Barberry, Tree Turmeric दारू हरिद्रा, Daru Haridra :: The roots possess anti-bacterial and anti-inflammatory activities. The drug is used as a cholagogue, stomachic, laxative, diaphoretic, anti pyretic and antiseptic. It is administered externally for painful eye afflictions and haemorrhoids. The root bark is useful in amenorrhea. It has an essential active ingredient, Berberine, which possesses anti-inflammatory and antibacterial properties. It is used in the treatment of leucorrhea.
Himalayan Silver Birch, Indian Paper Birch, भुर्जपत्र, Bhurj Patr :: Its bark contains betulin, lupeol, oleanolic acid, acetyloheanolic acid, betulitc acid, lupenone, sitosterol, methyle betulonate, methyl betulate and a new triterpenoid, karachic acid. It is aromatic and has antiseptic properties.
Spreading Hogweed, पुनर्नवा, Punarnava :: Its roots are credited with anti-convulsant, analgesic, diuretic, laxative and expectorant properties. It stops intra-uterine-contraceptive-device (IUCD)-induced bleeding. This herb is also known for its anti-inflammatory and analgesic properties, which are comparable to that of ibuprofen. It has also proved useful as a hematinic (रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाने वाली).
Silk Cotton Tree, शाल्मली, Shalmali :: Its bark is given as a demulcent, emetic and tonic. Externally, it is used as a styptic and also for fomenting wounds. The gum is credited with astringent, tonic and demulcent properties and is used for dysentery, hemoptysis in pulmonary tuberculosis, influenza and menorrhagia.
Butea Gum Tree, पलाश,  Palash :: Its gum is a powerful astringent; it is given internally for diarrhea, dysentery, phthisis and  haemorrhage of the stomach and bladder.
Teri Pods, उदाकिर्यक, वक्री-मूल, Udakiryaka, Vakeri-mul :: The plant is used for curing senile pruritis with excellent result. It exhibit anti-fatigue effect. The roots have marked astringent and anti-pyretic properties.
Calendula, जरगुल, Zergul :: The ligulate florets constitute the drug which is reported to possess stimulant, bitter, tonic, sudorific, febrifuge, carminative, anti-emetic and anthelmintic properties. 
Dead Sea Apple, Milkweed, Sodom Apple, Swallow-wort, अलर्क, Alark :: In small doses, the root bark is diaphoretic and expectorant. It acts as a mild stimulant.
The Caper Bush, हिंस्र, Hinsr :: It is bitter, aperient, diuretic and expectorant. It is given in splenic, renal and hepatic complaints.
Spanish Pepper, कटुवीर, मिर्ची, शिमला मिर्ची,  Katuvira, Mirchi, Shimla Mirchi :: It is is a powerful irritant and rubefacient; when applied to the skin, it produces warmth, redness and burning without blistering. In the form of ointment of plasters, it is used externally for the treatment of rheumatism, lumbago and neuralgia. Capsicum wool, prepared by dissolving the oleoresin in ether and pouring it on absorbent cotton-wool, is useful in rheumatoid affections. Chilli, in small doses, is a powerful stimulant and carminative. It stimulates the secretion of saliva and gastric juice and increases peristaltic movements and motility of the stomach. It is an excellent remedy in atonic and flatulent dyspepsia and dipsomania.
Margosa, नीम, निम्ब, Neem,  Nimb :: Neem extracts possess anti-diabetic, anti-bacterial and anti-viral properties. The tree stem, root and bark possess astringent, tonic and anti-periodic properties. The bark is beneficial in malarial fever and useful in cutaneous diseases. It is used for external applications in skin diseases. It possesses anti dandruff, antibacterial, antiviral and fungicidal properties.
Pellitory, अकरकरा, Akar Kara :: The roots possess stimulant and rubifacient  (-रक्तिमाकर, खाल पर लाली पैदा करने वाली) properties.
Malabar Nut, श्वेत वस्, वसक, अदतोड़ी, Shwet Vas,  Vasak, Adathodai :: Its principle constituents are the several alkaloids which are present in the drug and its chief principle is a quinazoline alkaloid, vasicine. The leaves are rich in Vitamin C and carotene and yield an essential oil. The shrub is the source of the drug, vasaka, well known in indigenous systems of medicine for its beneficial effects, particularly in bronchitis. The leaves, flowers, fruits and roots are extensively used for treating cold, cough, whooping-cough, chronic bronchitis and asthma. It acts as a sedative-expectorant, antispasmodic and anthelmintic. The leaf-juice is stated to cure diarrhea, dysentery and glandular tumour, and, is given as an emmenagogue. The powder is reported to be used as a poultice on rheumatic joints, as a counter-irritant on inflammatory swellings, on fresh wounds, urticaria and in neuralgia.
Caraway, कर्वी, कृष्ण जीरक, Karavi, Krashn Jeerak :: It is used as a carminative, mild stomachic, aromatic and diuretic. Both the seeds and the essential oil (caraway oil) are used as carminative and prescribed in flatulent colic and stomach derangements.
For the patients suffering from lumbago and rheumatism, exposing the affected parts to the vapours from the seeds gives relief from the disease. The alcoholic extract of the fruits shows dose-dependent antispasmodic effect. Caraway water finds use as a vehicle for pediatric medicines.
Casearia esculenta, सपरंगी, Saptarangi :: The root and the root bark illustrate hypoglycemic activity. The roots are especially efficacious in milder chronic diabetic cases.
Negro Coffee, कसमर्द, कासोंधि, पे अवरी, Kas Mard, Kasondhi, Pey Avarai :: The seeds and leaves are used externally in skin diseases. The roots are reported to be diuretic, the seeds, roots and leaves are anti-bacterial. It is used in the treatment of flatulence, indigestion and other digestive disturbances in children.
Himalayan Cedar, देवदारु, Devdaru :: It has anti-inflammatory activity and is used for its activity against human pathogenic Epidermophyton, Trichophyton, Absidia ramosa and Microsporon gypseum. It has proven effective in a number of dermal diseases.
Staff Tree, ज्योतिष्मती, कंगुनी, वेलवुलुवै, Jyotishmati, Kanguni, Velvuluvai ::  The seeds possess emetic, diaphoretic, febrifuge and nervine properties and are used for sharpening the memory and also used to cure sores, ulcers, rheumatism and gout. The drug is used in the traditional system of medicine as a sedative.  Its therapeutic uses include treating anxiety and beri-beri. Alcoholic extract has anti-inflammatory and sedative properties.
Indian Pennywort, Gotu-kola, मंडूक पर्णी, ब्राह्मी, वल्लाराई, Manduk parani,Brahmi, Vallaarai :: It is used for the treatment of leprosy and skin diseases and also to improve memory, as an antidote to cholera and in bronchitis, asthma, gastric trouble, catarrh, leucorrhea, kidney troubles, urethritis and dropsy. The plant also has tranquillising, anabolic, antiprotozoal and spasmolytic properties. It helps to improve memory, increases concentration and intellectual ability in children.
च्यवन प्राश, Chaywan Prash Ingredients :: Aegle marmelos, Gmelina arborea, Oroxylum indicum, Clerodendrum phlomidis, Stereospermum chelonoides, Desmodium gangeticum, Uraria picta, Solanum indicum, Solanum surattense, Tribulus terrestris, Sida cordifolia, Phaseolus trilobus, Teramnus labialis, Piper longum, Phyllanthus amarus, Vitis vinifera, Inula racemosa, Aquilaria malaccensis, Terminalia chebula, Tinospora cordifolia, Hedychium spicatum, Cyperus rotundus, Boerhaavia diffusa, Elettaria cardamomum, Santalum album, Nymphaea stellata, Pueraria tuberosa, Adhatoda zeylanica, Pentatropsis capensis, Pistacia integerrima, Leptadenia reticulata, Dioscorea bulbifera, Asparagus racemosus, Emblica officinalis. It is a rejuvenative, geriatric and cardiac tonic, and useful in the treatment of cough, asthma and debility.
Bengal Gram, Caravance, Chickpea, Garbanzo Gram, चणक, हरिमंथ, चन्ना, Chanaka, Harimantha, Channa :: It is a potent hypocholesterolemic agent. The anti-stress, anti-hyperlipidemic and stamina building activity of gram may be due to the presence of pangamic acid and a free nucleotide. It is a stimulant, tonic, aphrodisiac, anthelmintic, and useful in bronchitis and biliousness. It is also useful in leprosy and other skin diseases. The powdered seed is used for dandruff and also used as a face pack.
Wild Chicory, कासनी, काशनी, Kasani, kashni :: Its seeds have carminative and cordial properties and are useful as a brain tonic and for headache, asthma and bilious vomiting. It is an acclaimed hepatoprotective and, is used in hepatic enlargement, fever, vomiting and abdominal pain. It has cholagogue and anti-inflamatory properties.
Camphor, कर्पूर, कपूर, Karpoora, Kapoor :: It acts as a carminative, reflex expectorant and reflex stimulant of the heart, circulation and respiration. Camphor has also been used as a nervine depressant in hysteria, epilepsy, chorea and convulsions and as an aphrodisiac. The oil extract has a peculiar fragrance and acts as an skin stimulant and counter irritant when applied externally.
Chinese Cassia, स्थूल त्वक, दालचीनी, Sthula tvak, dalchini :: Chinese Cassia has been used as a diaphoretic, antipyretic and analgesic. It is used as a carminative, purgative and astringent. It is also useful as a cardiac stimulant, refrigerant, and diuretic, for stimulation of liver functions, in neuralgia, uterine pains, ascites and edema.
Cinnamon, थवक, दार चीनी, Thwak, dar chini :: It is aromatic, astringent, stimulant, expectorant and carminative. It possesses the property of checking nausea and vomiting. As a stimulant it is beneficial in cramps of the stomach, gastric irritation, and paralysis of the tongue. Ground cinnamon shows lipolytic activity. It is useful in diarrhea and dysentery. Externally, the bark is used in neuralgia, rheumatism and toothache. A decoction of the bark is reported to be used for cancer of the stomach, rectum and uterus. It is a good anti-infective agent and is useful in relieving cough due to its soothing action.
Forbidden Fruit, Pummelo, Shaddock, महानिम्बू,  Mahanimbu :: The fruit is considered to be nutritive and refrigerant. It is a rich source of vitamins, particularly vitamin C, which have an effective antioxidant action. The seeds have similar properties and are sometimes given for lumbago.
Lemon, निम्बक, नींबू, Nimbaka :: The juice is a rich source of vitamin C. It protects the skin from oxidative damage and helps in preventing pruritus. Lemon peel is stomachic and carminative. Oil of lemon is stimulant and rubefacient when applied externally. Lemon juice is one of the best remedies for scurvy and serves as a refrigerant in febrile and inflammatory affections, acute rheumatism, dysentery and diarrhea. The juice diluted with water is used as a collyrium. The juice also possesses bactericidal property. Lemonpeel is used in cosmetics, as a hair-rinse and mouth-freshener. It possesses insect repellant property.
Citron, बड़ा नींबू, बीज पुर, तुरंज, Bara nimbu, Bijapura, Turanj ::  The fruit juice is refrigerant and astringent. The fruits have potent anti-scorbutic activity.
Coconut, नारिकेल, नारियल, Narikela :: The oil extract is a good emollient, can be used externally for softening the lips and in various cosmetics. It is used in uterine diseases and a polysaccharide factor in the plant is immunomodulator.
Indian Bdellium Tree, गुगुलु, Guggulu :: Its gum resin has astringent, antiseptic and antisuppurative properties and is used in the treatment of haemorrhoids. It is used against obesity. Guggulipid is hypocholesteremic and assists in burning excess body fat.
Coriander, धनिया, धन्यक कुस्तुम्बुरी, Dhaniya, Dhanyaka, Kustumburi :: The aromatic odour and taste of coriander fruits is due to an essential oil. The fruits are considered carminative, diuretic, tonic, stomachic, anti bilious, refrigerant and aphrodisiac. An infusion of the seeds is useful in flatulence, indigestion, vomiting and other intestinal disorders; it is also used in bleeding piles, rheumatism, neuralgia, caphalagia, and locally, in eye-infection. The dried seeds are reported to possess diuretic and aphrodisiac properties.
Three Leaved Caper, वरुण, Varun :: It has anti-inflammatory, diuretic, lithontriptic, demulcent and tonic properties. It is useful in disorders of urinary organs, urinary tract infections, pain and burning micturition, renal and vesical calculi.
Saffron केसर, कुमकुम, Kesar, Kumkum :: It is used as a nervine sedative and emmenogogue and in fevers, melancholia and enlargement of the liver. It also has stimulant and stomachic properties. It has an essential oil, the active ingredient of which is aphrodisiac in nature. The mechanism of its sex-stimulating activity is effected by a slight stimulation of the central nervous system.
Cucumber खीरा, त्रपुष, सुकेस, Trapusha, Sukas :: It helps to keep the facial skin soft, has healing and soothing effect on the damaged skin and exerts a natural sunscreen. It acts as a toner and lightens the facial skin. The seeds are reported to be cooling, tonic and diuretic. The seed kernel (forming 75% of the seeds) is edible and used in confectionery.
Cumin जीरीक, स्वेतजीरक, Jeeraka, Svetajirak ::  It is stimulant and carminative, stomachic, astringent and useful in diarrhea and dyspepsia; improves appetite and taste. They are now chiefly used in veterinary medicine. It has been credited with aphrodisiac properties.
Turmeric, हरिद्रा, निशा, रजनी, Haridra, Nisha, Rajani :: It's used to some extent as a stomachic, tonic and blood purifier. It is also prescribed as an antiperiodic alterative. Externally, it is applied to indolent ulcers. A decoction of the rhizome is said to relieve the pain of purulent ophthalmia. Oil of turmeric, distilled from the dried rhizomes, has feeble antiseptic properties. It is an antacid, and, in small doses, acts as a carminative, stomachic, appetizer and tonic. In large doses, however, it appears to act as an antispasmodic inhibiting excessive peristaltic movements of the intestines. Turmeric also possesses anti-inflammatory properties.
Zedoary, शती, Shati :: Its prescribed as a stomachic. It has a local effect on the digestive organs and has been employed as a gastro-intestinal stimulant in flatulent colic. It also prevents stress ulceration.
Dhub Grass, Couch Grass, Bermuda Grass, Bahama Grass, दूर्व, Durv :: A decoction of the plant is diuretic, and considered useful in dropsy and anasarca. The expressed juice is astringent and is applied to bleeding cuts and wounds. The rhizomes and roots are used as adulterants and substitutes for couch grass (Agropyron repens Beauv.) rhizomes that are used in genito-urinary disorders.
Nut Grass, मस्त, Must :: The tubers contain an essential oil. The tubers are diaphoretic and astringent. They are also credited with diuretic, anthelmintic, anti-inflammatory, carminative, stomachic, emmenagogue and stimulant properties.
Convolvulus microphyllus, शंख पुष्पी, Shankh Pushpi :: The plant is reported to be a memory-improving drug. It is used as a psycho-stimulant and tranquilizer.
Indian Laburnum, अर्गवद्ध, अमलतास,कॉन्ट्री, Aragvadh, Amaltas, Kontrai :: It is a safe purgative given even to pregnant women. The pulp is also given for biliousness and in disorders of the liver. It is applied in gout and rheumatism. It is utilized in blood-poisoning, anthrax and dysentery, also given in leprosy and diabetes and for the removal of abdominal obstructions. It is used in the treatment of varicose veins. It helps in shrinking engorged veins and has a powerful anti-inflammatory effect.
Umbrella's Edge, भद्र मस्त, नगर मस्तक, Bhadr Must, Nagar Mustak :: Its principle constituents are the tubers which are astringent, diaphoretic, diuretic, desiccant, cordial and stomachic properties. A decoction of the tuber is used for washing hair, treating gonorrhea and syphilis. It is also given in diarrhea and for general weakness.
Thistles, भृंग राज, केश राज, Bhrang Raj, Kesh Raj ::  The herb is used as a tonic and deobstruent in hepatic and splenic enlargements and in skin diseases. The plant juice is administered in combination with aromatics for catarrhal jaundice. The fresh juice leaves is applied on the scalp for promoting hair growth. The plant possesses anti hepatotoxic and anti inflammatory activities. The fresh plant is considered anodyne and absorbent.
Cardamom,  इला, इलायची, Ela, Elaychi :: It is used as an adjuvant to carminative drugs. It is used as an aromatic stimulant, carminative and flavouring agent. Its aroma and therapeutic properties are due to the volatile oil present in the seeds. Volatile components of cardamom exhibit  activity. The oil has anti-aflatoxin substances. It is chewed slowly to sweeten the breath, as aphrodisiac, to soothe digestion, stimulate the appetite, used against flatulence, colic and disorders of the body, often combined with purgatives to offset griping. It possess anti-inflammatory, analgesic and cardiotonic properties as well.
False Black Pepper, False Pepper, क्रिमिघ्न, तंदुल, विडंग, Krimighn, Tandul, Vidang :: The dried fruit is considered anthelmintic, astringent, carminative, alterative and stimulant. It is effective in the treatment of ascariasis. The dried fruits are used in decoction for fevers and for diseases of the chest and skin. The fruit also shows anti-bacterial activity.
Indian Gooseberry, अम्लाकी, आमला, Amalaki, Amla :: Its fruit is acrid, cooling, refrigerant, diuretic, laxative and used in the preparation of hair dyes. A fixed oil extracted from the fruits is reported to have the property of promoting hair growth. The dried fruit is useful in haemorrhage, diarrhea and dysentery. It has anabolic, antibacterial, expectorant, cardiotonic, antipyretic, antioxidative, antiviral, anti-emetic and resistance building properties and used in the treatment of leucorrhea and artherosclerosis. It is antibacterial and its astringent properties prevent infection and help in the healing of ulcers. It is used as a laxative to relieve constipation in piles.
Blue Gum Tree, तेल पर्ण, नील गिरी तेल, Tail Parn, Nil Giri Tail :: Eucalyptus oil is used locally as an antiseptic, especially in the treatment of infections of the upper respiratory tract and in certain skin diseases. It is found to have potent pain relieving and anti-inflammatory action. Mixed with an equal amount of olive oil, it is useful as a rubefacient for rheumatism, which help in reducing joint swelling. It is also used in ointments for burns. Internally it is used as a stimulating expectorant in chronic bronchitis and asthma. It is frequently given by inhalation.
Evolvulus alsinoides, विष्णु कंठ, विष्णुकंठी, शंख पुष्पी, Vishnu Kanth, Vishnu Kanthi, Shankh Pushpi :: The plant is bitter and is used as a tonic and febrifuge.
Banyan Tree, वट, बरगद, अलमारम, Vat, Bargad, Alamaram :: The milky juice is externally applied for pains and bruises and as an anodyne in rheumatism and lumbago. It is also used as a remedy for toothache. The leaves are heated and applied as poultice to abcesses. The bark is tonic, astringent and cooling. The seeds are also considered as cooling and tonic.
Fennel, शाट पुष्प, मधुरिका, सौंफ, Shat Pushp, Madhurica, Saunf :: The fruits are aromatic, stimulant and carminative. They are useful in diseases of the chest, spleen and kidney. Its oil is mildly carminative and is useful in infantile colic and flatulence. It relieves griping abdominal pain and distension.
Garcinia, वृक्ष आमला, कंकुष्ठ, Vraksh Amla,  Kankushth :: A decoction of the fruit rind is given in rheumatism and bowel complaints. The resin possesses purgative properties.
Indian Winter Green, गंदापुर, Gandapur :: The principal constituent of the oil is methyl salicylate. It is stimulant, carminative and antiseptic. It is applied externally in the form of liniment or ointment in rheumatism, sciatica and neuralgia.
Licorice, Liquorice, यष्टि-मधु, मुलहटी, Yashti-madhu, Mulethi :: It is used for the treatment of asthma, acute and chronic bronchitis and chronic cough. It modulates the immune system and has shown remarkable immuno-stimulant properties. It has an anti-oxidant activity. It is a mild anti-inflammatory for arthritis and rheumatism and is used to treat gastric, duodenal and esophageal ulceration or inflammation, heartburn and mouth ulcers. It alleviates irritable conditions of the mucus membrane and strengthens the immune system and provides resistance in recurring infections.
Coomb Teak, गंभरी, Gambhari :: The bark is a bitter tonic and stomachic and is considered useful in fever and indigestion.
Indian Cotton Plant, कपास, कर्पासा, Kapas, Karpasa :: Cotton seed is demulcent, laxative, expectorant and galactogogue. It is used as a nervine tonic in headaches and brain affections and decoctions of the seed are given in dysentery and intermittent fevers.
Lime Silicate Calx, हजरुल यहूद भस्म, बद्राश्म भस्म, Hajrul yahood bhasm (Badrashm Bhasm) :: It is a fossilised stone primarily containing silicate of lime. It is used as a diuretic and lithontriptic. It is prescribed in the retention of urine and in diseases of the urinary organs. It has a useful application as a dusting powder in vesicular eruptions in children, for itching, ringworm and other skin diseases.
Indian Sarsaparilla, श्वेत सृव,आनंद मूल,  Shwet Sarav, Anand Mul :: The drug has long enjoyed a reputation as a tonic, alternative, demulcent, diaphoretic, diuretic and blood purifier. It is employed in nutritional disorders, syphilis, gonorrhea, chronic rheumatism, gravel and other urinary diseases and skin affections.
Coneru, Tellicherry Bark, कूटज, वत्सक, कूर्ची, Kutaj, Vatsak, Kurchi :: The bark has astringent, antidysenteric, anthelmintic, stomachic, febrifugal and tonic properties. It is used in the treatment of amoebic dysentery and diarrhea.
Hydrophilia, कोकि लक्ष, Koki Laksh :: It is used in disorders of the genitourinary system and is helpful in the cases of impotence, spermatorrhea and seminal debilities.
Henbane, पर्सिक यवनी, खोर्सानी अजवाइन, Parasika Yavani, Khorasani Ajwain :: It has anodyne, narcotic, mydriatic and anti-inflammatory properties. It is principally employed as a sedative in nervous affections. Its leaves have been employed externally to relieve pain.
Hyssop, जूफा, Jufa :: It is a stimulant, carminative and pectoral; the oil promotes expectoration in bronchial catarrh and asthma.
Gymnema sylvestre, गुमार, माह श्रृंगी, Gurmar, Meshashringi :: The plant is stomachic, stimulant, laxative and diuretic. It abolishes the taste of sugar and is believed to neutralize excessive sugar present in the body in diabetes mellitus.  It has also been shown to have a regenerative effect on pancreatic beta cells and is insulinotropic.
Indian kudju, विदारी, Vidari :: It is considered as tonic, alternative, aphrodisiac, demulcent, lactagogue and cholagogue. It is recommended for emaciation in children. It enters into the composition of a compound decoction, which is nutritive, diuretic and expectorant, and useful in fevers and bronchitis. Powdered root is given for diseases of the spleen and liver, for menorrhagia, debility and fat accumulation.
Spanish Jasmine, चमेली, Chameli :: Traditionally it is used as a high-class perfume. It is used for its cooling effect. Also used for various skin diseases and headache.
Walnut, अक्सचौता, Akschota :: Walnut shell, acts as exfoliating micro-particles, & contains organic acids that are astringent and antiseptic. The leaves and bark are tonic, anthelmintic, alternative and detergent; they are used in herpes, eczema, scrofula and syphilis; the fruit is reported to be used as alternative in rheumatism. The vinegar of the pickled young fruit is used as a gargle for sore throat. Green hull and unripe shell are anti-syphilitic and vermifugal. The expressed oil of the fruit is considered useful against tapeworm and as a laxative injection. Its kernels are recommended in colic and dysentery. The finely powdered bark can be used as an ingredient for the treatment of bleeding gums and as mouth rinse. It can also be used in cosmetics for dentifrices, tooth powders, mouth rinses, deodorants and chewing gums.
Ferrous Sulphate & Gypsum, लौह भस्म, Louh Bhasm:: It is a valuable hematinic, tonic and astringent.
क्षार पर्पटी, Kshar Parpati :: It is a compound preparation made by dehydrated homogeneous blending of ammonium chloride, potash alum and potassium nitrate. It is diuretic, lithontriptic, febrifuge and anti-flatulent. It is used in disuria, oliguria, colic, urinary tract infections, urinary calculi and hyper acidity.
Lettuce, सलाद पत्ता, काहु, Salad Patta, Vany Kahu :: The seeds  are used for coughs and as a decoction for insomnia. The seeds are also reported to possess hypnotic and antipyretic properties
Lentil,  मसूर, Masur :: The paste of the seeds is a cleansing application on the face.
Image result for jivanti herbLeptadenia reticulata,  जीवनी, जीवन्ति, Jivani, Jivanti ::  It nourishing property for every part of the body.  It adds to the living force and specially corrects the metabolism and enhance the nutritive status of the body and corrects the digestive system. It specially nourishes the eyes and the reproductive system. It cures all the three Dosh-disorders in the body. It especially pacifies the Vat & Pitt Dosh.
Ras रस Gun गुण Viry वीर्य Vipak विपाक 
Laghu, Snigdh, Madhur, लघु, स्निग्ध, मधुर Madhur, मधुर sweet-Madhur, मधुर Cold-Sheet, शीत 
The plant is stimulant and restorative and shows anti-bacterial activity against gram-positive and gram-negative bacteria.
White Lily, कसिरककोली, Ksirakakoli :: It has soothing, astringent and anti-inflammatory properties. The bulbs are sweet, bitter, refrigerant, galactagogue, expectorant, aphrodisiac, diuretic, antipyretic and tonic. They are useful in agalactia (अल्पदुग्धता),  cough, bronchitis, vitiated conditions of pitta, seminal weakness, strangury, burning sensation, hyperdipsia, intermittent fevers, hematemesis, rheumatalgia and general disability.
Iron Calx, लौह भस्म, Louh Bhasm :: A special process makes the iron readily assimilable  for the elderly. A powerful hematinic indicated in anaemia, it stimulates the appetite and has a general vitalising effect.

Tomato, रक्तमसि, टमाटर, Raktamaci, Tamatar :: It contains general tonic, folic acid, pantothenic acid, biotin, vitamin K and inhibitols which are related to vitamin E. The alcoholic extract of tomato has central depressant and analgesic property.
Maharasnadi quath, महारास्नादि क्वाथ :: It is a decoction, which contains Rasna (Vanda roxburghii) as the main component.  It has analgesic, antiphlogistic and antipyretic properties and is used for the treatment of rheumatism and arthritis. It is used in Vat disorders like Kampavat (Parkinson’s disease), hemiplegia, paraplegia, Neck pain, low back pain, rheumatoid arthritis, osteoarthritis, bloating disease, knee pain, hip pain. It is also used in the treatment of infertility of both male and female. Yog Raj guggulu is traditionally co prescribed along with this medicine.
Pathy :: Avoid body movements, especially hard work and journeys. Bathe every 3rd or 4th day in water boiled with Haritaki (Terminalia chebula), Bala (Sida rhombifolia) or pepper leaves. Better use Dhanwantaram tailam for the head and Kuzhumpu for the body.
Maharasnadi Kashayam Ingredients :: Rasna-Pluchea lanceolata, Dhanvayasa-Alhagi pseudalhagi, Bala-Sida cordifolia, Erandamoola-root of castor, Devadaru-Cedrus deodara, Shati-Hedychium spicatum, Vacha-Acorus calamus, Vasa-Adhatoda vasica, Nagara-Ginger, Pathya-Terminalia chebula, Chavya-Piper chaba, Musta-Cyperus rotundus, Punarnava-Boerhaavia diffusa, Guduchi-Tinospora cordifolia, Vriddhadaru-Argyria speciosa, Shatapushpa-Anethum sowa, Gokshura-Tribulus terrestris, Ashwagandha-Withania somnifera, Prativisha-Aconitum heterophyllum, Kritamala-Cassia fistula, Shatavari-Asparagus racemosus, Krishna-Long pepper, Sahachara-Barleria prionitis, Kantakari-Solanum xanthocarpum, Dhanyaka-Coriander seed, Brihati-Solanum indicum. It is added with 8 parts of water, boiled and reduced to quarter part, filtered. [Sharangdhara Samhita Madhyamakhanda 2.89.95, Sahasrayogam.]
Maha Yog Raj Guggul, महा  गुग्गुल :: It is a multi-ingredient preparation, the main constituent of which is Commiphora wightii (Indian bdellium, Guggul). It contains volatile oils that have astringent and antiseptic properties. It increases the leukocyte count, stimulates phagocytosis and is used in the treatment of rheumatism that has affected the joints and bones.
Makardhwaj मकर ध्वज :: It is red sulphide of mercury and gold in uncombined form. It is a sublimed product made from pure mercury, sulphur and gold. Eight parts of mercury and one part of gold leaf are mixed together to form an amalgam. To this mixture 16 parts of sublimed sulphur are added and the resulting mixture is ground very thoroughly in a stone mortar for 24 hrs or more until the whole is converted to a lustreless, fine, impalpable powder of uniform consistence. This mixture is then placed in a narrow mouthed bottle and is gradually heated on a sand bath. On heating, the bottle is filled with reddish fumes of various hues. On cooling Makar Dhwaj is found deposited in the inner surface of the neck of the bottle.
It is seldom used alone. In the majority of cases, it is mixed with various drugs called ‘anupana’ or adjuvants. In cases of indigestion and diarrhea, Makar Dhwaj is mixed with powdered bael fruit (Aegle marmelos); in cases of fever and cough it is given with the juices of ginger, betel (Piper betel) and tulsi leaves (Ocimum tenuiflorum). Generally, honey is used in the absence of proper adjuvants. The medicine can be used both for adults and children, the dosage being regulated according to age. Makar Dhwaj, when taken regularly, is believed in indigenous systems of medicine to be a wonderful tonic and is said to increase longevity in a patient.
A valuable tonic in debilitating conditions and convalescent patients after acute illness, in failing circulation and cardiac asthenia (शक्तिहीनता, दुर्बलता, powerlessness, impotency, debility, depression); it increases the red blood corpuscles and improves general nutritional status. It is also used as a laxative with good results particularly in those cases when there are visceroptosis and a tonic conditions of the gastrointestinal tract. It is said to be of great value as an intestinal antiseptic and is supposed to relieve the gaseous distension of bowels due to fermentation. It is used widely as an alterative and an aphrodisiac.
Common Mallow,  गुल खैर, Gul Khair :: The herb possesses demulcent, cooling, antiseptic and emollient properties. It is used in pulmonary and urinary affections and also in external applications for abscesses and inflammations. The flowers and immature fruits are used for whooping cough.
Ferric Oxide Calx, मंडुर भस्म, Mandur Bhasm :: It is prepared by purifying and calcinating iron rust. Mandur is specially useful in anemia, amenorrhea, dysmenorrhea, menorrhagia, chlorosis, hepatic and splenic disorders. It is also used in diarrhea, chronic bowel complaints, dyspepsia, intestinal worms, nervous diseases, neuralgia of the 5th nerve due to debility, kidney diseases, albuminuria, etc. It is a powerful hematinic and tonic and is valuable in the treatment of hemolytic jaundice and microcytic anemia.
Mangifera indica,  Mango, आम, आम्र, Amra :: The bark is astringent; it is used in diphtheria and rheumatism; it is believed to possess a tonic action on the mucous membrane. It is astringent, anthelmintic, useful in hemoptysis, hemorrhage, nasal catarrh, diarrhea, ulcers, diphtheria, rheumatism and for lumbrici. The leaves are given in the treatment of burns, scalds and diabetes. Mangiferin from the leaves has been reported to possess antiinflammatory, diuretic, chloretic and cardiotonic activities and displays a high antibacterial activity against gram positive bacteria. It has been recommended as a drug in preventing dental plaques. Mangiferin shows antiviral effect against type I herpes simplex virus (HSV-I).
Cajuput Tree, Tea Tree कायपूति, Kayaputi :: It has antibacterial, anti fungal, antiseptic and anti dandruff properties. The oil is used internally as an expectorant in chronic laryngitis and bronchitis, and as carminative; overdoses cause gastro-intestinal irritation. It acts as an anthelmintic, especially against roundworms. The oil relieves toothache if introduced into hollow carious teeth. It forms a constituent of ointments and liniments and is considered efficacious as a counter-irritant in chronic rheumatism. It is valued as a mosquito repellent.
Honey शहद, Madhu :: It is generally recommended as a remedy for cold, cough, fever, sore throat, respiratory disorders, etc., by virtue of its bactericidal, antiseptic and expectorant properties. 

APHRODITE (WEAKNESS कमजोरी) :: (1). These Ayurvedic herbs-medicines help in regaining the strength of nerves and may be helpful in treating paralytic stroke as well. Weak muscles may also be strengthened-cured with their help.
(1.1). Keera is a natural Aphrodite found in the Himalyan terrains of Himachal Pradesh.
(1.2). Kesar too functions like this, though with low potency. Pomegranates are extremely good for health, vitality, vigour and as an Aphrodite, if taken regularly. 
(1.3). Saphad Musli सफेद मूसली, Shtawari शतावरी, Bada Goghru बड़ा गोखरू, Jaiphal जायफल, Kaunch कौंच, Akarkara अकरकरा , Lajwanti लाजवन्ती, Smudr Soukh समुद्र सौख. and Ashw Gandha अश्व गंधा  Salv Panja सल्व पन्जा, Bahman Saphed बहमन सफेद, Tal Makhana ताल मखाना are some of the herbs, which have been used in India for their Aphroditic action, since ages. These herbs should be powdered in equal proportion and used with warm full cream milk regularly for treating all sorts of defects pertaining to impotency. इन्हें दूध या पानी अथवा अवलेह बनाकर लिया जा सकता है। ये मर्दानगी सम्बन्धी सभी बीमारियों का इलाज करती हैं। 
(1.4). मक्खन-मलाई  मिश्री मिलाकर खाने से कमजोरी दूर होती है।
(1.5). सफेद मूसली का चूर्ण और मिश्री सुबह और रात को सोने से पहले गुनगुने दूध के साथ एक-एक चम्मच लेने से कमजोरी दूर होती है।
(1.6). सावन में गुड खावै, सो मौहर बराबर पावै॥ Consume small quantity of Jaggery-Gud (-गुड़), during rainy season for good health.
(1.7). Guggul is also an aphrodisiac and its regular intake improves sexual ability as well as it increases healthy sperm production. It promotes youthfulness with longevity.
(2). स्वस्थ, बलवान और शक्तिशाली शरीर :: शारीरिक परिश्रम करने वाले व्यक्ति को उचित आहार, व्यायाम, पर्याप्त नींद के साथ-साथ निम्न का सेवन भी करना चाहिए। 
(2.1). तिल :: तिल की तासीर-प्रकृति बेहद गर्म है। लगभग 100-100 ग्राम की मात्रा में काले तिल और ढाक के बीजों को पीसकर और इनको छानकर इसमें 200 ग्राम शक्कर मिलाकर इस मिश्रण को रोजाना 10-10 ग्राम की मात्रा में सुबह और शाम पानी के साथ लेने से शरीर में मजबूती आती है।
लगभग 20 ग्राम की मात्रा में काले तिल और इतनी ही मात्रा में गोखरू को मिलाकर बारीक पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को बकरी के दूध में खीर की तरह बनाकर खाने से शरीर में भरपूर ताकत का विकास होता है। इसका सेवन लगातार 15 या 20 दिनों तक करने से शरीर की कमजोरी खत्म हो जाती है।इनका दोनों का ही प्रयोग केवल ठंड बढ़ने पर ही करना चाहिए।समुचित व्यायाम करें अन्यथा वजन बढ़ने लगेगा। अधिक प्रयोग से बेमौसम पसीना आता है जिससे नाक बंद हो जाती है, साँस लेने में तकलीफ होती है।  जोर लगाकर सिनकने से खून आना शुरू हो जाता है। इनके प्रयोग के समय नीबू का रस का प्रयोग अवश्य करें।सर्दी के मौसम में गज्जक, तिलपट्टी, तिलकुट आदि उपलब्ध होते हैं। इनका प्रयोग भी सीमित मात्रा में करना चाहिए।
SESAME OIL तिल का तेल :: तिल का तेल सर्दियों में सेहत के लिए वरदान है। तैल शब्द की व्युत्पत्ति तिल शब्द से ही हुई है। यह एक औषधि का काम करता है।  शरीर में बीमारियों से  लड़ने की क्षमता विकसित करता है। इसमें बादाम की अपेक्षा छः गुना कैल्शियम है।काले और लाल तिल में लौह तत्वों की भरपूर मात्रा होती है जो कि रक्त अल्पता के इलाज़ में कारगर साबित होती है। इसमें उपस्थित लेसिथिन नामक रसायन कोलेस्ट्रोल के बहाव को रक्त नलिकाओं में बनाए रखने में मददगार होता है।
तिल के तेल में प्राकृतिक रूप में उपस्थित सिस्मोल एक ऐसा एंटी-ऑक्सीडेंट है जो इसे ऊँचे तापमान पर भी बहुत जल्दी खराब नहीं होने देता। आयुर्वेद चरक संहिता में इसे पकाने के लिए सबसे अच्छा तेल माना गया है।तिल में विटामिन ए और सी छोड़ कर वे सभी आवश्यक पौष्टिक पदार्थ होते हैं जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए अत्यंत आवश्यक होते हैं। तिल विटामिन बी और आवश्यक फैटी एसिड्स से भरपूर है। इसमें मीथोनाइन और ट्रायप्टोफन नामक दो बहुत महत्त्वपूर्ण एमिनो एसिड्स होते हैं, जो चना, मूँगफली, राजमा, चौला और सोयाबीन जैसे अधिकांश शाकाहारी खाद्य पदार्थों में नहीं होते। ट्रायोप्टोफन को शांति प्रदान करने वाला तत्व भी कहा जाता है जो गहरी नींद लाने में सक्षम है। यही त्वचा और बालों को भी स्वस्थ रखता है। मीथोनाइन लीवर को दुरुस्त रखता है और कॉलेस्ट्रोल को भी नियंत्रित रखता है।
तिल बीज स्वास्थ्यवर्द्धक वसा का बड़ा स्त्रोत है जो चयापचय को बढ़ाता है। यह कब्ज भी नहीं होने देता। तिल बीजों में उपस्थित पौष्टिक तत्व, जैसे-कैल्शियम और आयरन त्वचा को कांतिमय बनाए रखते हैं। तिल में न्यूनतम सैचुरेटेड फैट होते हैं इसलिए इससे बने खाद्य पदार्थ उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है।
सर्दियों में तिलपट्टी, गज्ज़क, गज्जक रोल आदि प्रचुर मात्रा में बाज़ार में उपलब्ध होते हैं, जो कि सर्दी से बचाव करते हैं। अधिक मात्रा में लेने से वज़न बढ़ना, नकसीर जैसे समस्याएँ हो सकती है। 
(2.2). छुहारा :: लगभग 10 ग्राम छुहारे लेकर पीस लें। रोजाना कम से कम 2 ग्राम की मात्रा में इस छुहारे के चूर्ण को 250 मिलीलीटर हल्के गर्म दूध के साथ सोते समय लेने से शरीर मजबूत होता है। इसका सेवन केवल सर्दियों के दिनों में करना चाहिए।4 या 5 छुहारों की गुठलियों को निकालकर इसमें लगभग लगभग आधा ग्राम गुग्गल इनके अन्दर भर दें और इन छुआरों को दूध में पकायें। सुबह और शाम को रोजाना एक छुहारा दूध के साथ खाने से वात की बीमारी दूर हो जाती है और शरीर शक्तिशाली बनता है। लगभग 500 मिलीलीटर की मात्रा में दूध लेकर उसमें 2 छुआरे डाल दें। फिर दूध को आधा रह जाने तक गर्म करें। अब इस दूध में 2 चम्मच मिश्री या खांड़ लेकर मिलाकर पीयें और छुहारों को खा जायें। इसके खाने से शरीर में मांस बढ़ता है, शरीर की ताकत बढ़ती है और मनुष्य का वीर्य बल भी बढ़ता है। छुआरा खून बढ़ाता है, और शरीर के विभिन्न भागों में ताकत पहुंचाता है। इसका प्रयोग केवल सर्दी के दिनों में ही करना चाहिए। इसका सेवन करने के 2 घंटे तक पानी नहीं पीना चाहिए। एक बार में 4 से ज्यादा छुहारों का सेवन नहीं करना चाहिए। किसी मिट्टी या कांच के बर्तन में पानी लेकर इसमें 2 छुहारे शाम को भिगोकर रख दें। सुबह उठकर इन छुहारों की गुठली को निकालकर इन्हें लगभग 500 मिलीलीटर दूध में गर्म करें, और 250 मिलीलीटर दूध रह जाने तक गर्म करें। बचे हुए दूध को पीने से शरीर की कमजोरी खत्म हो जाती है और शरीर को भरपूर ताकत मिलती है। जो बच्चे बिस्तर पर पेशाब कर देते है उनको छुहारे का दूध पिलाने से वह बिस्तर पर पेशाब करना बन्द कर देते हैं। खजूर भी लगभग यही कार्य करते हैं और ऊर्जा के साथ शक्ति-स्फूर्ति-तंदरुस्ती प्रदान करते हैं। 
(2.3). बेर :: बेर खाली पेट खाना ज्यादा लाभप्रद है। लगभग 15 ग्राम की मात्रा में बेर के छिलकों को छाया में सुखाकर, पीपल, काली मिर्च, सौंठ और त्रिफला के साथ पीसकर इनका चूर्ण बना लें और इसमें लगभग 75 ग्राम की मात्रा में गुग्गल को पीसकर मिला लें। इस मिश्रण को 10 ग्राम की मात्रा में सुबह के समय पानी के साथ लेने से शरीर को ताकत मिलती है और शरीर से सभी रोग दूर रहते हैं।
(2.4). हरड़ :: लगभग 100-100 ग्राम की मात्रा में हरड़ का छिलका और पिसा हुआ आंवला को लेकर इसमें 200 ग्राम की मात्रा में खांड़ मिलाकर इस चूर्ण को सुबह के समय लगभग 10 ग्राम की मात्रा में 250 मिलीलीटर हल्के गर्म दूध के साथ लेने से शरीर में मजबूती आती है। भोजन के दौरान सुबह-शाम आधा चम्मच की मात्रा में हरड़ का चूर्ण लेते रहने से बुद्धि और शारीरिक बल में वृद्धि होती है।
(2.5). तालमखाना :: लगभग 25-25 ग्राम की मात्रा में तालमखाना, असगंध, बीजबन्द, गंगेरन, बरियार, कौंच के बीजों की गिरी, काली मूसली, सफेद मूसली और गोखरू को पीसकर तथा छानकर इस चूर्ण को लगभग 100 ग्राम देसी घी में भूनकर इसमें लगभग 100 ग्राम खांड़ या शक्कर को मिलाकर रख लें। इस तैयार मिश्रण में से एक चम्मच चूर्ण रोजाना सुबह के समय दूध के साथ लेने से शरीर में ताकत आती है। इस मिश्रण का प्रयोग सर्दी के दिनों में करना चाहिए।
(2.6). जायफल :: लगभग आधा ग्राम पिसा हुआ जायफल और लगभग इतनी ही बंगभस्म को शहद के साथ मिलाकर सुबह और शाम लेने से शरीर शक्तिशाली बनता है। जायफल, मिश्री और पीपल के चूर्ण को एक साथ मिलाकर इसमें नाग भस्म मिलाकर सेवन करने से शरीर में ताकत पैदा होती है।
(2.7). चिलगोजा :: कमजोरी आने पर चिलगोजा की मिंगी और मुनक्का को लगभग 24 घंटे तक पानी में भिगोकर रख दें। इसके बाद इसमें शक्कर मिलाकर खाने से शरीर की कमजोरी के दूर होने के साथ ही साथ शरीर में ताकत आ जाती है। चिलगोजा खाने से व्यक्ति के शरीर में चुस्ती और फुर्ती के साथ ही साथ अधिक ताकत भी आती है।
(2.8). नागरबेल :: नागरबेल के पत्तों का शर्बत बनाकर पीने से शरीर को मजबूती मिलती है और ताकत में वृद्धि होती है।
(2.9). बादाम :: बादाम का सेवन बहुत ठण्ड पड़ने पर अधिक लाभप्रद है। मगर इसकी मात्रा 2-3 तक ही सिमित रखें। रात को भिगोकर रखें और सुबह नहा-धोकर लगातार चबाचबाकर खायें। यह बुद्धि और बल दोनों बढ़ता है। ज्यादा खाने पर गर्मी भी कर देता है। नाक से खून आना, गले में खराश, खाँसी तो आम बात हैं। शरीर की शक्ति को बढ़ाने के लिए बादाम की गिरी और भुने हुए चनों को छीलकर रोजाना खाना चाहिए। लगभग 4 बादाम की गिरियों को पीसकर इसमें 1-1 ग्राम की मात्रा में शहद और मिश्री को मिलाकर चाटने से मनुष्य के शरीर में ताकत बढ़ जाती है। लगभग 7 बादाम की गिरी, 7 दाने कालीमिर्च, लगभग 3 ग्राम की मात्रा में सौंफ (गर्मियों के मौसम में सौंफ के स्थान पर सूखा हुआ साबुत धनिया) और 2 छोटी इलायची को लेकर शाम को सोते समय कांच या चीनी के बर्तन में भिगोकर रख दें। सुबह उठकर व्यायाम करने के बाद बादाम और इलायची के छिलके उतार लें और कालीमिर्च और सौंफ के साथ इनको पीस लें। इसके बाद इसको 250 मिलीलीटर पानी में मिलाकर कपड़े से छान लें। इसके बाद इसमें 2 चम्मच शहद या मिश्री मिलाकर धीरे-धीरे पीने से याददाश्त मजबूत होती है और आंखों की रोशनी तेज होने के साथ ही साथ शरीर की शक्ति बढ़ती है।बादाम की गिरियों से निकाला गया दूध बच्चों के लिए बहुत लाभकारी होता है। 2  बादाम की गिरियों को शाम को पानी में भिगोकर रख दें। इसके बाद सुबह इनका छिलका उतार कर बारीक पीस लें।अब इन पीसे हुए बादामों में मक्खन को मिलाकर खाने से तुतलाना और हकलाना दूर हो जाता है। इसके अलावा कमजोर शरीर भी मजबूत बनता है। इसका सेवन कुछ महीने तक करना चाहिए।शाम को सोते समय लगभग 2-3 बादाम की गिरियों को पानी में भिगोकर रख दें और सुबह इनका छिलका उतारकर बारीक पीस लें। अब इन पीसे हुए बादामों को कढ़ाई में घी डालकर हल्की आग पर भूने। इसमें लाल होने से पहले ही लगभग 150 ग्राम की मात्रा में दूध डालें। इस दूध को हल्का गर्म करके पीने से शरीर शक्तिशाली बनता है। इसके अलावा शरीर का वीर्य बल भी बढ़ता है। इसका सेवन रोजाना सुबह करना चाहिए।
(3). KAUNCH-MUCUNA (कौंच) :: Botanical Name: Mucuna pruriens, Family Name: Fabaceae, Common Name: Velvet Bean, Cowhage, Cow-itch, Buffalo bean, Kaunch, Atmagupt, Kapikacchu, Active Compounds: L Dopa
It is an annual twinning plant. Its eaves are tri foliage, gray-silky beneath, with  are long and silky petioles, measuring between 6.3 by 11.3 cm. The leaflets are membranous while terminal leaflets are smaller and lateral generally unequal sided. Dark purple flowers (6 to 30) occur in drooping racemes. The fruits are curved with 4 to 6 seeds. The longitudinally ribbed pod, is densely covered with persistent pale-golden hue-brown or grey tri-chomes that cause irritating blisters. Its seeds are black ovoid and 12 mm long.
Mucuna pruriens has been recognized as an aphrodisiac in Ayur Ved, has been shown to increase testosterone levels, helps deposition of protein in the muscles and increase muscle mass and strength. The extract is also known to enhance mental alertness and improve coordination.
GENERAL APPLICATIONS :- Dyspepsia, Arthritis-Joint Pains, Rheumatoid, Arthritis, Gout, Stroke, Osteoarthritis, Osteoporosis, Cervical Spondylosis, Ankylosing, Sacroiliitis Disease, Back Pain, Slipped Disc, Sciatica, Frozen Shoulder, Constipation, Weak Digestion, Peptic ulcer, Ulcerative Colitis, Hepatitis, Hepatitis B, Hepatitis C, Cirrhosis of Liver, Irritable bowel syndrome, Crohn's Disease, Piles Disease,  Skin-Acne Problems, Acne Problems, Psoriasis, Hair Fall, Dandruff, Leucoderma, Urticaria, Eczema, Lichen Planus Pigmentosis, Keloid, Auto Immune Disorders, Cancer, Thyroid, Diabetes, Weight Loss, Fibromyalgia, Low immunity, Anti Ageing Treatment, Anaemia, Dark Circles & Wrinkles, Cardiac System, Hypertension,Pulmonary-Hypertension, Angina, Heart failure, High cholesterol, Nervine System, Parkinson Disease, Facial Paralysis, Paralysis, Trigeminal Neuralgia, Tennis Elbow, Mental,Disorders, Stress, Anxiety, Insomnia, Migraine, Low Memory, Depression, Obsessive Compulsive, Respiratory System, Asthma, Allergy, ENT (-eyes, nose, throat) Disorders, Sinusitis, Tinnitus, Weak eye sight, Tonsillitis, Kidney Problems, Renal Stones, Kidney Failure, Kid's Health.
As an aphrodisiac (3.1). It bound up testosterone, (3.2). increases blood circulation to the genitals, (3.3). eliminate stress and anxiety-provides relaxation and sound sleep, (3.4). strengthen and tone the sexual glands, (3.5). support the healthy production of the sex hormones, (3.6). increase stamina and sex drive and (3.7). act as a restorative nutrient for the nervous system. It boosts general health, checks infertility improves sperm count, increases sexual strength, rejuvenation, erectile dysfunction, premature ejaculation, nightfall, penis enlargement-elongation, improves libido, corrects male hormone disorder, impotence along with helping in prostate enlargement. Its equally beneficial for the women suffering from sexual disorders.
(4). GUGGUL :: Family Name-Burseracae, Botanical Name-Commiphora Wightii, Common Name-Commiphora, Mukul, Guggul, Balsmodendron Mukul, Indian Bdellium Tree, Moql, Moql-Arzagi, Habitat :- Rocky tracks of Western India and Eastern Himalayas.
Guggul tree (-a tiny, thorny Mukul myrrh tree) produces a resinous sap referred to as Guggul gum.The Guggul extract from this gum is called Guggul lipid (-guggulipid or guglipid.) The active ingredient in the Guggul extract is the steroid called guggulsterones, that is believed to lower cholesterol synthesis in liver. It helps to get rid of the unwanted fat.
Guggul herb is an ushn viry (उष्ण वीर्य) herb with hot potency and Ayurvedic medicine uses it for the treatment of many diseases. Guggul is popularly known as the natural fat killer. Guggul extract is used for lowering cholesterol levels and lipids.It is a good appetiser and also grants relief from hyper acidity and belching.
Guggul improves digestive disorders and prevents indigestion and constipation. Guggul is also a very useful anti inflammatory and pain relieving herb. It is used for treating rheumatoid arthritis, osteoarthritis, sciatica, paralysis, hemiplegia, lymphadenopathy. Guggul herb, due to its antibiotic effects is widely used for treating infectious diseases.It is also used for treating upper respiratory tract infection.It fights asthma. Gargles with Guggul dissolved in water can treat tonsillitis, mouth ulcers, upper respiratory tract infection, throat irritation, pharyngitis and stomatitis. Guggul is also very useful herb for treating various heart problems.It is a very good blood purifier and is thus used to treat various skin diseases including leprosy and eczema. Guggul herb treats hypertension as it helps in lowering blood pressure to normal levels.
It is also an aphrodisiac and its regular intake improves sexual ability as well as it increases healthy sperm production.
Guggul herb is also beneficial for women's health because it gives relief from menstrual problems like painful menses, cramps and other related conditions.
It promotes youthfulness with longevity.
WARNING :- Ayurveda restricts everyone from taking Guggul in raw form. Guggul gum extract should always be used with milk, water or in herbal medicine preparations.
Mint, पोदिना, Putiha, Puthila :: The oil is useful in neuralgia when applied externally and a febrifuge in fevers. It is useful in treating pain and inflammation of muscles and joints due to its counter irritant actions.
Peppermint, पेपरमिंट, Paparamint ::  It is considered aromatic, stimulant, stomachic and carminative and used for allaying nausea, flatulence and vomiting. Bruised leaves are employed as an external application for relieving local pains and headache. A hot infusion is taken to allay stomach ache and colicky diarrhea. Peppermint is used as an antispasmodic, diuretic, choleric and carminative and as an expectorant in bronchitis.
Spearmint, पुदीना, Pahari Pudina :: It is considered stimulant, carminative and antispasmodic. A sweetened infusion of the herb is given as a remedy for infantile troubles, vomiting in pregnancy and hysteria. The leaves are used in fevers and bronchitis. The oil is a counter irritant.
Ironwood Tree, केसर, नाग केसर, नाग पुष्प, Kesar, Nag Kesar, Nag Pushp :: It shows anti bacterial, anti fungal and anthelmintic activities. It exhibits significant anti-inflammatory and styptic activity.
Touch Me Not, लाजवन्ति, लज्जालु, Laj Vanti, Lajjalu :: A decoction of the root of the plant is considered useful in gravel and other urinary complaints. A paste of the leaves is applied to glandular swellings; the juice of leaves is used in dressings for sinus and also as an application for sores and piles.
Bitter Gourd, करेला, Karela :: The fruits have long been used in India as a folk remedy for diabetes mellitus. Lectins from the bitter gourd have shown significant antilipolytic and lipogenic activities.
Drumstick, Horse Radish, शिंघु, शोभंजन,  Shigru, Shobhanjana :: Its  anti-inflammatory, antispasmodic and diuretic activities of the seeds. The seeds are used as antibacterial, anti choleric and anti-viral agents.
Pearl Oyster Shell, मोतीभस्म, Moti Bhasm, Mouktik Bhasm :: It is antacid, tonic and used in acid peptic disorders.
Cow-Itch Plant, कपि कच्छु, Kapi Kachchhu  :: Its an effective drug for relief in Parkinson's disease. The seed is a prophylactic against oligospermia and is useful in increasing sperm count, ovulation in women, etc. It is a good aphrodisiac and also a nervine tonic. It is used in the treatment of spermatorrhea and diseases of the genitourinary system.
Processed Pearl, मुक्त पिष्टी, Mukt Pishti :: It is a powerful cardiac tonic and mood elevator.
Mutilla occidentalis इंद्र वधि, Indr Vadhi :: It is nervine, tonic, antispasmodic and used in paralysis.
Mace, Nutmeg, जति कोष, जतिपत्र, जतिफल, Jati Kosh, Jati Patr Jati Fal :: The oil extract of the tree is used as a counter irritant and stimulates blood flow to the area applied. Nutmeg is reported to be an expectorant, vermifuge, aphrodisiac, and as a nervine used by psychiatrists. It is used in tonics and electuaries and is recommended for the treatment of inflammations of the bladder and urinary tract. Mace is used in folk medicine for the treatment of rheumatism. It has anti-inflammatory, anti fungal and antibacterial properties.
Serpentine, नाग पाश भस्म, ज़हर मोहर, Nag Pashan Bhasm, Zahar Mohr :: It is processed serpentine or magnesium silicate. It is a nervine, cardiac and liver tonic, useful in palpitation and cardio-muscular debility.
Musk Root, जटामांसी, Jatamansi :: It has analgesic and stimulant properties. The oil possesses anti arrhythmic and hypertensive activity. It promotes hair growth and imparts a black colour to the hair. It brings forth a significant reduction in hyperactivity, restlessness and aggressiveness in hyperactive children.
Cal Mint, बदरंज बोय,  Badranj boy :: The plant is used in various cardiovascular complaints such as angina pectoris, cardiac thrombosis, trachycardia and weakness of the heart. Some of its other uses are in cardiac asthma, syncope, pyrexia and anxiety.
Sweet Scented Oleander, करवीर, Kar Vir :: It has anti-inflammatory and stimulant properties. The roots, bark and seeds are anti-inflammatory and stimulant, good pain relievers. A paste of the root is used as an external application in haemorrhoids, chancres and ulceration. An oil extracted from the root bark is used in skin diseases of a scaly nature. The fresh juice of leaves is dropped into the eyes for inducing lachrymation in ophthalmia.
Small Fennel, Black Cumin कलौंजी, कला जीरा, Kalonji, Kala Jira :: The seed oil showed antibacterial, insecticidal, bronchiodilatory, hypertensive, and immuno-stimulant activities. The seeds have good cleansing properties. The oil also exhibited CNS depressant and potent analgesic effects on experimental animals.
French Basil, Sweet Basil, Common Basil, वन तुलसी, Van Tulsi, Munjariki, Surasa, Varvar :: The plants are considered stomachic, anthelmintic, alexipharmic, antipyretic, diaphoretic, expectorant, carminative, stimulant and pectoral. An infusion of the plant is given for cephalalgia and gouty joints and used as a gargle for foul breath. The juice of the leaves has a slightly narcotic effect and allays irritation in the throat. The roots, bark and leaves are cyano-genetic. Alcoholic extracts of leaves and aqueous extracts of flowers possess antibacterial activity against Micrococcus pyogenes var. aureus. The seeds possess demulcent, stimulant, diuretic, diaphoretic and cooling properties; useful in diarrhoea and dysentry. It is also useful in various types of coughs, headaches, earaches, nasal catarrh and croup.
Holy Basil, तुलसी, विष्णु प्रिया, Tulsi, Vishnu Priya :: The leaves yield a volatile oil, which is reported to possess antibacterial, anti-inflammatory and insecticidal properties. An aqueous decoction of the whole dried plant is reported to lower blood sugar level. The juice of the leaves possesses diaphoretic, anti-periodic, stimulating and expectorant properties; it is used in catarrh and bronchitis and is applied to the skin in ringworm and other cutaneous diseases.
Onosma bracteatum, गोजिह्वः, Gojihv :: The drug is used as a tonic, alterative, demulcent, diuretic and refrigerant; it is useful as a spasmolytic.
Operculina turpethum,  निशोतर, त्रिपुट, त्रिवृत, Nishotra, Triputa, Trivruth ::  It is anti-inflammatory and stimulant, good pain relievers. A paste of the root is used as an external application in haemorrhoids, chancres and ulceration. An oil extracted from the root bark is used in skin diseases of a scaly nature. The fresh juice of leaves is dropped into the eyes for inducing lachrymation in ophthalmia.
Salep Orchid, सल्बमिसरी, Salabmisri :: They are used as a farinaceous food, nervine tonic and aphrodisiac. They yield a lot of mucilage with water and form a jelly that is supposed to be nutritious and useful in diarrhea, dysentery and chronic fevers.
Oroxylum indicum, श्योनक, Shyonak :: The root bark is tonic and astringent and useful in diarrhea and dysentery; it is diaphoretic and is used in rheumatism.
Red Poppy, Corn Poppy, अफ़ीम, रक़्त पोस्त, रक़्त खस, Afim, Rakt-post, Khas-खस :: The mucilaginous and bitter petals are expectorant and have been used for cough or hoarseness; they also possess sedative and pain relieving properties. The fresh petals are used for the preparation of galenicals. Syrup or tincture made out of petals is used for colouring medicines and food materials to which they impart a red colour and a bitter flavor. The aqueous extracts of the plant exhibit antibiotic activity.
Stone Flowers, शैलेयं, Shaileyam :: The plant is astringent, bitter, acrid, cooling, anti-inflammatory and aphrodisiac. It is useful in sores, boils, inflammations, seminal weakness and amenorrhea.
Pavonia odorata, बलं, Balam :: The roots are aromatic and possess refrigerant, antipyretic, stomachic and astringent properties. They are used in dysentery and inflammation and hemorrhage of the intestines.
Earthworm, केंचुआ, भूनाग, Kaenchua, Bhoo Nag :: The extract of earthworm is used in various mixtures of Chinese medicine for the treatment of asthma in man and influenza in poultry.
Dates, ख़जूर, Kharjur :: Dates are considered demulcent, expectorant and laxative and are used in respiratory diseases and fever. They are rich in sugars.
Phyllanthus amarus, भूम्यामल्कि, Bhumyaamalaki :: The plant is often used in treating flu, dropsy, diabetes, jaundice, asthma, bronchial infections and diseases the liver. It is used in problems of the stomach, genito-urinary system, liver, and kidney.
Picrorhiza kurroa, कटुकः, कुटकी, Katuk, Kutki :: The plant is mainly used in the therapy for liver and lung diseases. The plant is reported to exhibit potent immuno-stimulant activity and is considered as immuno-modulatory agent.  It prevents allergen and platelet activating factor-induced bronchial obstruction. It also has anti-inflammatory activity.
Chir Pine, सरल, श्रीवास, Saral, Shrivas :: The turpentine oil obtained from the Chir Pine is valued in medicine as a rubefacient in various rheumatic affections, such as lumbago, arthritis and neuralgia. The oil is also an ingredient in many ointments, liniments and lotions for treating minor aches and pains as well as colds when applied externally.

Indian Long Pepper, कण, मागधी, पिप्पली, उष्ण, Kana, Magadhi, Pippali, Ushan :: The fruits are used for diseases of the respiratory tract, viz. cough, bronchitis, coryza, asthma, hoarseness of voice, asthma, etc.; as counter-irritant and analgesic when applied locally for muscular pains and inflammation and as general tonic and hematinic. It is known to enhance the bio-availability of food and drugs as well as being a carminative.
Black Pepper, काली मिर्च, कृष्ण, Kali Mirch, Krashn:: It is much employed as an aromatic stimulant in weakness following fevers, coma, etc., as a stomachic in cholera, dyspepsia, flatulence, indigestion, diarrhoea and various other gastrointestinal ailments. It has bacteriostatic, fungistatic, anti-inflammatory and rubefacient properties.
Pistachio, पिश्ता, मुकुलक, Pishta, Mukulak :: The kernels are considered to be digestive, sedative and tonic and contain a melting fatty oil.
Plumbago zeylanica, चित्रक, Chitrak :: It is a powerful irritant, antiseptic, anti-inflammatory and diuretic that is useful in rheumatism.
Coral Calx, प्रवाल भस्म, Praval Bhasm :: It is a rich, natural source of calcium and has the advantage of easy absorption in the intestine.
Processed Coral, प्रवाल पिष्टी, Praval Pishti :: It is prepared from the coral of Corallium rub-rum. It is a tonic for the heart and brain and useful in melancholia, palpitation and cough.
Almond, बादाम, वातध, Badam, Vatadh :: It is useful in skin disorders. Almond kernels are considered demulcent, lithontriptic and diuretic as well as being a nervine tonic. It is reported to improve brain functions. Use is after soaking in water over night and do not chew more than two in a day.
Psoralea corylifolia, बकुची, Bakuchi :: It has anti-inflammatory properties and it's a mild analgesic.
Indian Kino Tree, बीजक, Bijak :: An aqueous infusion of the wood is used in diabetes.
Pomegranate, अनार, दाड़िम, Anar, Dadim :: Extracts of the fruit rind and root bark showed antibacterial activity. It is valued as an astringent in cases of diarrhea and dysentery. It is aphrodisiac and has multiple applications for good health.
Apple, सेव, Sevam :: Apple is one of the fruits with low antigen content diet and is useful in the management of immuno-mediated diseases. Apple is an anti-fungal constituent. It reduces skin inflammation and helps in removing dead skin fragments.
Radish, मुकुल क्षर, Mulak Kshar :: It is credited with refreshing and depurative properties. Radish preparations are useful in liver and gall bladder troubles. In homeopathy they are used for neuralgic headaches, sleeplessness and chronic diarrhea. The roots are said to be useful in urinary complaints, piles and in gastrodynia. A salt extracted from roots that are dried and burnt to white ash is used in stomach troubles.
Lapis Lazuli Calx, राजवर्त भस्म, Raj Vart Bhasm :: It is the calcinated powder of Lapis lazuli, mineralogically called ‘Ultra marine’. It is a silicate of Aluminium and sodium. It is a general tonic, used in clinical conditions of diabetes, anaemia and gastro-intestinal diseases.
Rauwolfia,  सर्पगंधा, Sarp Gandha  :: It has been employed for centuries for the relief of various central nervous system disorders, both psychic and motor, including anxiety states, excitement, maniacal behaviour associated with psychosis, schizophrenia, insanity, insomnia and epilepsy. Extracts of the roots are valued for the treatment of intestinal disorders, particularly diarrhea and dysentery. It is also used as an anthelmintic.
Castor, अरण्ड, गन्धर्व हस्त, Arand, Gandharv Hast :: Its oil is used externally to relieve various inflammatory conditions of the skin and mucus membrane. Small quantities of castor seed are used in the villages as a mild laxative for children. The seeds made into a paste or poultice are reported to be applied to sores, boils and gouty or rheumatic swellings. In veterinary practice, castor oil is a safe and effective purgative for most animals and may be given also to pregnant animals. Castor oil is commonly used for the preparation of hair-oils, hair fixers and aromatic perfumes. It is used as an ingredient in hair lotions and tonics in concentrations of 0.5-20 per cent.
Persian Rose, सतपत्री, Sat Patri :: The flower buds, stamens and the fruit are astringent and are used in cardiac troubles and as a tonic and aperient.
Rosemary, रुसमरि, Rusmari :: It is mildly irritant and has been used as a carminative. Internally, the oil may be taken as a stimulant in doses of a few drops: a 5 per cent tincture is used as a circulatory and cardiac stimulant. The oil is useful in headache and in tardy menstruation. It is a diaphoretic and is employed with hot water in chills and colds. An emulsion prepared from the oil is used as a gargle for sore-throat. The oil exhibits antibacterial and protistocidal activity. All parts of the plant are astringent and serve as a nervine tonic and an excellent stomachic. An infusion of the plant with borax is employed as a hair wash and is said to prevent premature baldness, treats dandruff and other scalp infections. The plant has been found useful in atonic dyspepsia. The flowering tops and leaves are considered carminative, diaphoretic, diuretic, aperient, emmenagogue, stimulant and stomachic and possess a strong antibacterial action.
Indian Madder, मंजिष्ठ, समंग, Manjishth, Samang :: The roots are credited with tonic, antiseptic, astringent and deobstruent properties. They are used in rheumatism. It is useful in skin infections, ulcers, inflammation and other skin disorders. It also has antibacterial, anti-inflammatory and anti-allergic action.
Golden Dock, चुक्र भेद, Chukr Bhed :: The seeds  are purgative, refrigerant and anti-pruritic.
Sandalwood Tree, चन्दन, Chandan :: It is used to alleviate itching and inflammation. It is credited with cooling, diaphoretic, diuretic and expectorant properties, and sandalwood finds several applications in household remedies.
Ashok Tree, अशोक, गंद पुष्प, Ashok, Gand Pushp :: The bark has a stimulating effect on the endometrium and ovarian tissue, is useful in menorrhagia due to uterine fibroids, in leucorrhea and in internal bleeding, where ergot is indicated. It is well established for its effectiveness in menorrhagia and dysmenorrhea. It also has a stimulatory effect on the ovarian tissue and may produce an oestrogen-like effect that enhances the repair of the endometrium and stops bleeding.
Alum, फिटकरी, सौराष्ट्री, Saurashtri  :: The trem 'alum' is applied to a group of hydrated double salts, which are characterised by easy solubility in water and a strong astringent taste. Common alum refers to potassium aluminium sulphate. It is also Known as potash alum. Medicinally, it has styptic and astringent properties. It purifies water and used after shaving to check bacterial infection.
Costus, कुष्ठ, Kushth :: The essential oil of the roots has strong antiseptic, disinfectant and anti-inflammatory properties. An alcoholic extract of the herb has been found very useful in the treatment of bronchial asthma.
Tamarisk, झवुक, Jhavuk :: It is used in bleeding disorders like menorrhagia, bleeding in the rectum and epistaxis. It is used in disorders associated with hepatic insufficiency.
Sodium Biborate :: It's a chemical which is good astringent and antiseptic. It is useful in superficial infections, prickly heat, acne, ulcers, etc.


Arjun, अर्जुन  :: The bark is useful as an anti-ischemic and cardio-protective agent in hypertension and in ischemic heart disease. It also has a tonic effect in cases of cirrhosis of the liver. It induces a drug-dependent decrease in blood pressure and heart rate. It has been reported to possess protective cardiovascular and hypolipidemic properties. This enhances the elimination of cholesterol from the body.
Belliric Myrobalan, कालिद्रुम, कर्शफल, विभित्की, Kalidruma, Karshaphala, Vibhitaki :: It is employed in dropsy, piles and diarrhea. Encouraging results have been obtained in cases of myopia, corneal opacity, pterigium, immature cataract, chronic and acute infective conditions. The fruit possesses myocardial depressive activity.
Chebulic Myrobalan, हरीतकी, हरड़, Haritaki, Harad :: Its fruits have laxative, stomachic, tonic and alterative properties. It is also known as an adaptogen and hepatoprotective drug. It acts as a gentle laxative and helps in smooth evacuation. It is an effective purgative and helps in removing toxins and fats from the body, resulting in their reduced absorption.
Tinospora Gulancha, गुडूची, Guduchi :: The stem is used in dyspepsia, fevers and urinary diseases. The plant is used in Ayurvedic Rasayan to improve the immune system and the body's resistance to infections. The bitter principle present shows antiperiodic, antispasmodic, anti-inflammatory and antipyretic properties. It is used in general debility, digestive disturbances, loss of appetite and fever in children. It is also an effective immuno stimulant.
Bishop's Weed, लोवांग, यवनी, Lovage, Yavani :: The fruits are much valued for its antispasmodic, stimulant, tonic and carminative properties. It is administered in flatulence, atonic dyspepsia and diarrhea and often recommended for cholera. The oil from the fruits is reported to possess hypotensive and cardiac depressive activity. The drug also shows some anti-diuretic effect.
Small Caltrops, गोक्षुर, Gokshur :: It is a diuretic drug useful in urolithiasis, dysurea, impotence and kidney dysfunction. It has tonic and aphrodisiac properties. It is known to increase the quantity of semen and is useful in diseases of the genitourinary tract. The plant and seeds have spasmolytic and cardiotonic activity.

Fenugreek, मेधिका, चन्द्रिका, Medhika, Chandrika :: They are used externally in poultices for boils, abscesses and ulcers and internally as emollient for inflammations of the intestinal tract. They find application also in veterinary medicine and are used in poultices, ointments and plasters and form a constituent of 'condition powders' for cattle, horses and sheep.
Trikatu, त्रिकुट, त्रिकटु (Indian Long Pepper, Black Pepper and Ginger; Pippali, Kali Mirch, and Sunthi) :: It is a diuretic drug useful in urolithiasis, dysurea, impotence and kidney dysfunction. It has tonic and aphrodisiac properties. It is known to increase the quantity of semen and is useful in diseases of the genitourinary tract. The plant and seeds have spasmolytic and cardio-tonic activity.
त्रिफला, Triphala :: It is a composite herbal preparation containing equal proportions of the fruits of अमलकी (आंवला (Emblica officinalis)), बिभीतक (बहेडा) (Terminalia bellirica) और हरितकी (हरड़ Terminalia chebula) को बीज निकाल कर समान मात्रा में लिया जाता है। त्रिफला शब्द का शाब्दिक अर्थ है "तीन फल"। This preparation is known to be a safe hypoglycemic agent.
Wheat, गेहूँ, Genhun  :: This is the main food content of majority of Indians &  is a good source of mineral nutrients. It contains significant amounts of iron, phosphorus, magnesium, manganese, copper and zinc; iodine and cobalt are present in trace amounts. Whole wheat is a good source of thiamine and nicotinic acid. Wheat is a rich source of tocopherols with high vitamin-E potency that nourishes and prevents loss of moisture from the skin. The oil is used to tone and soften the lips and has a potent antioxidant activity. This protect the skin from scavenging free-radicals, prevents premature ageing and reduces ultra violet rays induced damage. It helps in proper drainage of secretions from the sebaceous and other glands of the skin and thereby helps in preventing black heads.
त्रिवंग भस्म, Trivang Bhasm :: It is a calcinated product containing शीशा (naga, lead), टिन (vang, tin) and जस्ता (yasad, zinc) in equal quantities. It is widely used in for the treatment of impotence and nervous disorders and as a tonic in genitourinary diseases.
Indian Valerian, तगर, Tagar :: It is prescribed as a remedy for hysteria, hypochondriasis, nervous unrest and emotional troubles. It is also used as a carminative and forms an ingredient of a number of recipes. The drug contains a group of iridoid or monoterpenic derivatives, known as valepotriates which are useful as tranquilizers and sedatives.  The essential oil of the root and rhizome is having anti-bacterial property.
Vanda roxburghii, रसना, Rasna :: The leaves are pounded and the paste is applied to the body to bring down fever; their juice is dropped in the ear for the treatment of otitis (कान की सूजन, कर्णशोथ) and other inflammatory conditions. The roots are used in dyspepsia, bronchitis rheumatism and also in fever; they are reported to possess antibacterial and anti-tubercular properties. The roots enter into the preparation of medicated oils, used externally in rheumatism and nervous troubles. The herb is also used for sciatica.
Tin Calx, वांग भस्म, Vang Bhasm :: It is prepared from tin metal and has a wide range of therapeutic uses with special reference to the diseases of the genito-urinary tract. It improves digestion, is useful in wasting diseases and cures all ‘pramehas’ (A prameha is a urinary tract disease characterised by poly-urea and turbid urine).
Cowrie Shell Calx, वर्तिका भस्म, Varatika Bhasm :: It is prepared from the shells of Cyprea moneta called cowrie shells and is well known for its antacid and digestive properties. It is useful in the treatment of gastritis, duodenitis and otorrhea.
Purple Fleabane, सहदेवी, Sah Devi :: The seeds yield a fatty oil and are used as an anthelmintic and alexipharmic; they are said to be quite effective against roundworms and thread worms. They are also given for coughs, flatulence, intestinal colic and dysuria and for leucoderma, psoriasis and other chronic skin-diseases. The seeds are made into a paste with lime juice and used for destroying pediculi.
Vetiver, खस-खस, Khus-Khus :: The oil is reported to be used as a carminative in flatulence, colic and obstinate vomiting. It is regarded as a stimulant, diaphoretic, refrigerant and antibacterial and when applied externally, it removes excess heat from the body and gives a cooling effect. A decoction of the leaves is recommended as a diaphoretic.
विडंगादि लौहम, Vidangadi Lauham :: It is herbo-mineral powder consisting of Embelia ribes, Cyperus rotundus, Terminalia chebula, Terminalia bellirica, Emblica officinalis, Cedrus deodara, Piper longum, Piper chaba, Plumbago zeylanica, Zingiber officinalis, Piper nigrum and Iron calx. It is indicated in obesity, liver disorders, and anaemia.
Sweet Violet, नील पुष्प, Neel Pushp :: The herb is valued as an expectorant, diaphoretic, antipyretic and diuretic and as a laxative in bilious affections. It is used for catarrhal and pulmonary troubles and for calculous affections. Also used as a remedy for coughs and sore throat, hoarseness, and ailments of infants.
Five-Leaved Chaste Tree, निगुण्डी, सेफली, Nirgundi, Sephali  :: The leaves possess discutient properties and are applied to rheumatic swellings of the joints and in sprains. It can be applied locally in rheumatic arthritis and sprains. The juice of the leaves is used for the treatment of fetid discharges. They show anti-inflammatory, antibacterial, anti-fungal and analgesic activities. It is useful in the treatment of superficial bruises, injuries, sores and skin infections.
Grapes,  अँगूर, द्राक्ष, Angur, Draksh :: Grapes are a good source of bioflavonoids (vitamin P), which are known to be useful in such conditions as purpura, capillary bleeding in diabetes, edema and inflammation from injury, radiation damage and atherosclerosis. Grapes are considered laxative, stomachic, diuretic, demulcent and cooling and are used as an astringent in throat affections.
Winter cherry, अश्वगंधा,  Ashw Gandha :: It is used in asthma and as a uterine sedative. Its alkaloids showed relaxant and antispasmodic effects against several spasmogens on intestinal, uterine, bronchial, tracheal and blood vascular muscles. It is a Rasayan agent. It helps in increasing the sense of well being and improves sexual performance.
Fire flame bush, धातकी, Dhataki :: They are used in bowel complaints and haemorrhages and administered in menorrhagia and seminal weakness. An extract of the plant was found to stimulate the contraction of the intestinal loop and investigations have corroborated the clinical use of the drug in bowel complaints. The drug also shows antipyretic action which compares favourably with that of Acetyl Salicylic acid. The dried flowers are powdered and sprinkled over ulcers and wounds to diminish discharge and promote granulation.
Barley, इन्द्र जौ, स्त्री कूटज, Indra Jao, Stri Kutaj :: It is effective in psoriasis and non-specific dermatitis. The leaves are used in various skin disorders including herpes. It has astringent and anti-inflammatory activities, used as an antibacterial in several skin disorders. It has anti-dandruff activity and is used in the treatment of various scalp and skin disorders.
Processed ruby, याकूत-माणिक पिष्टी, Yakut-Maniky Pishti :: Generally a cardiac tonic it allays palpitation of the heart.
Zinc Calx, यसद भस्म, Yashad Bhasm :: It is specially processed zinc. Zinc plays a significant role in protein synthesis, in cell division and in wound healing. It has shown beneficial effects in acne and is known to have antiseptic and astringent properties. Animals fed zinc deficient diets show anorexia, weight loss, growth retardation, various skin dystrophies and impaired glucose metabolism. These have also been observed in man. With age the zinc content of the abdominal aorta decreases. It is administered in spruce, diabetes, leukorrhea and hyper-hydrosis.
Processed jade, यशब-यवोमेषम पिष्टी, Yeshab, Vyomashm Pishti  :: A cardiac tonic it allays palpitation of the heart.
Ginger, अदरक-शुण्ठी, Ardrak, Sunthi :: Ginger is valued in medicine as a carminative and stimulant to the gastro-intestinal tract. It is much in vogue as a household remedy for indigestion, relieves dyspepsia, flatulence and colic. Ginger is reported to contain an anti-histaminic factor. It is included among anti-depressants and it forms an ingredient of some anti-narcotic preparations. It is soothing for cough, colds, flu and other respiratory problems.

Please refer to Ayur Ved (1, 4.1, 4.2) as well over santoshkipathshala.blogspot.com
BHALLATAK  भल्लतक :: Bhallatak (Semecarpus anacardium) is one of the best, versatile, most commonly used herbs as a household remedy. It has been freely used all over India since centuries. It was held in high esteem by the ancient sages of Ayur Ved.  Charak (चरक) has categorised Bhallatak as Dipaniy (दीपनीयpromoting digestion-appetisertonic medicines), Bhedaniy (भेदनीय)-accumulation breaking herb, Mutr Sangrahani (मूत्र संग्रहणी)– anti diuretic and Kusth Ghan (कुष्ठ घन) – anti dermatitis (leprosy). It has been mentioned as Vajikar (वाजीकर) – an aphrodisiac, especially beneficial in the failure of penile erection and sexual debility. Bhallatak is acclaimed as a drug of choice in the treatment of piles of Vat and Kaph types. It is recommended as a rejuvenative (Rasayan) to Kaph dos and Asthivah srot (अस्थीवाह स्रोत).
As it augments the Agni, it is extremely beneficial in the diseases like piles, colitis, diarrhea, dyspepsia, ascites, tumours and worms which are caused mainly due to weakened Agni (digestion). For this, one fruit of Bhallatak is hold with tong over a flame and heated slightly. On gentle pressing, the oil starts dripping gradually. This oil is collected on the betel leaf (पान का पत्ता) small amount of sugar on its surface or in a cup of milk. Approximately 10 drops in children and 15-20 drops in adults are sufficient. It augments the appetite, cleanses the bowels, dispels the trapped gases and eliminates the worms. 
Bhallatak is highly praised to treat the piles (haemorrhoids) of Vat and Kaph types, meaning in non-bleeding conditions. It is an effective adjuvant (सहौषधि, गुणवर्द्धक) in the treatment of ascites and tumours. In bronchial asthma and cough, it is one of the best medicament for which, its preparation Bhallatak Asav is commonly used. It reduces the broncho spasms and their frequency too. Cardiac debility, associated with oedema can be treated with great benefit. The milk medicated with Bhallatak or Bhallatak Modak mitigates the skin diseases like scabies, eczema, ringworm infestations. As a nervine tonic, it is beneficial in the diseases due to Vat, like sciatica, paralysis, facial palsy, epilepsy, rheumatic conditions and also asa brain tonic. The combination, Bhallatak, Haritaki, Til (sesame seeds) powders with jaggery, awards excellent results in chronic rheumatic disorders. Bhallatak is said to augment the memory, as it boosts the Sadhak Pitt and nourishes the nervine tissue. It also works well as aphrodisiac by its stimulant action and enhances the seminal fluids. In dysmenorrheal (painful menstruation) and oligomenorrheal (scanty menstruation), the medicated milk or its oil is salubrious. It reduces the urinary output, hence beneficial in diabetes of Kaph type,
Bhallatak is the best rejuvenative (Rasayan) for skin ailments, Vat disorders and as a preventive measure to increase the body resistance. It augments the appetite, improves digestion, eliminates Aanv (आँव) and clears up srot-the micro channels of all the systems, hence facilitates the nourishment of all the tissues (Dhatu). It does not work as an anabolic (promoting anabolism), rejuvenative like Bala, Shatavari (Asparagus racemosus), milk or ghee. Winter is the best season for its usage. One should adopt a bland and cooling diet consisting of rice, milk, butter, ghee. The salt and spices should be strictly restricted and during Bhallatak treatment, it is recommended to avoid exposure to sun, heat and excessive sex. The toxic symptoms of its internal use are skin rashes, burning, itching, and excessive thirst and sweating, reduction in urine output with smoky coloured urine, sometimes blood in the urine (heamaturia, रक्तमेह, पेशाब में खून जाना) may appear. The fresh juice of the leaves of Amlik (Tamarindus indica).
CAUTION::  Bhallatak is extremely hot and sharp in its attributes, it should be used with caution. Individuals showing allergic reactions to it, should stop and avoid the usage of Bhallatak. It should not be used in small children, very old persons, pregnant women and individuals of predominant Pitt constitution. The use of the same should be restricted in summer season. For its allergic reactions like rash, itching and swelling, the antidotes used externally are coconut oil, Ral ointment, ghee, coriander leaves pulp or butter mixed with Must (Cyprus rotundas).
कमरकस SAGE HERB :: 
(1). Fights Depression :: It helps one in bringing out of  depression. The antioxidants diosmetin, apigenin and luteolin present in it grants relaxation. 
(2). Alzheimer Cure :: It helps in improving memory power. It may be used for treating assorted memory loss conditions including mild Alzheimer’s disease. It improves the information processing among the people with such disease.
(3). Diabetics :: It lowers the levels of cholesterol as well as triglycerides in one who  is type 2 diabetics. The leaf extracts of this herb possess anti-hyperglyc