BRAHMAN VANSH ब्राह्मण वंश परम्परा

BRAHMAN VANSH ब्राह्मण वंश परम्परा
 CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM 
By :: Pt. Santosh Bhardwaj 
dharmvidya.wordpress.com  hindutv.wordpress.com   jagatgurusantosh.wordpress.com  santoshhastrekhashastr.wordpress.com bhagwatkathamrat.wordpress.com  santoshkipathshala.blogspot.com     santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com  santoshhindukosh.blogspot.com
Gotr (गोत्र) means clan, hierarchy, lineage. It refers to people who are descendants in an unbroken male line from a common male ancestor or patriline. It forms an exogamous unit (विजातीय विवाह करनेवाला, गोत्रान्तर-विवाह संबंधी) with the marriage within the same Gotr being prohibited by custom, being regarded as incest. The name of the Gotr is used as a surname. It is strictly maintained because of its importance in marriages among Hindus, especially among the higher castes. Gotr denotes the progeny of a sage-Rishi beginning with the son's son. I am Bhardwaj being one from the lineage of Bhardwaj Rishi. Its an unbroken male descent-chain for more than 43 billion years.
VANSH :: वंश परम्परा, कुल, संतति; gotr, lineage, clan, hierarchy.  
INCEST :: sexual relations between people classed as being too closely related to marry each other, the crime of having sexual intercourse with a parent, child, sibling or grandchild.
SAPT RISHI सप्त ऋषि :: The Sapt Rishi-meaning seven sages, are the seven Rishis who are extolled at many places in the Ved-scriptures-Hindu Mythology. The Vedic Sanhita never enumerate these Rishis by name. Brahmn and Upnishad have listed them as titles. They are regarded in the Ved as the patriarchs of the Vedic religion.
The earliest list of the Seven Rishis is given by Jaemini Brahmn (2.218-221) :: Vashishth, Bhardwaj, Jam Dagni, Gautom, Atri, Vishwa Mitr and August.
Gautam, Bhardwaj, Vishwa Mitr, Jamdagni, Vashishth, Kashyap and Shandily ( Atri, Bhragu) are seven sages-Sapt Rishi whose progeny is known-called by their respective Gotr even today. [Vrahad Aranyak Upnishad 2.2.6]
Gau Path Brahmn (1.2.8) :: Vashishth, Vishwa Mitr, Jam Dagni, Gautom, Bhardwaj, August and Kashyap.
PhotoThe Shat Path Brahmn (2.2.4) :: Atri, Bhardwaj, Gautom, Jam Dagni, Kashyap, Vashishth, Vishwamitr.
Krashn Yajur Ved in the Sandhya-Vandan Mantr :: Angira, Atri, Bhragu, Gautom, Kashyap, Kuts, Vashishth.
Maha Bharat :: Marichi, Atri, Pulah, Pulasty, Kratu, Vashishth, Kashyap.
Vrahad Sanhita :: Marichi, Vashishth, Angira, Atri, Pulasty, Pulah & Kratu.
The difference in the series might have creeped due to different Kalp, Man Vantar, Shastr Yug.
SAPT RISHI MANDAL सप्त ऋषि मण्डल :: The seven Rishi's-Big Dipper or Ursa Major occupy the constellation called SAPT RISHI MANDAL. Vashishth, Marichi, Pulasty, Pulah, Atri, Angira and Kratu. There is another star slightly visible-faint companion star Arundhati (Alcor/80 Ursa Majoris), is known as Arundhati-the wife of Vashishth. 
Sapt Rishis constitutes the Hierarchy working under the guidance of the Highest Creative Intelligence, Brahma Ji-The Vidhata-The Creator. 
The present batch of the Sapt Rishis: Bhragu, Atri, Angira, Vashishth, Pulasty, Pulalh and Kratu. They bring down to the earth the required Knowledge and Energies to strengthen the processes of Transition (Pralay-devastation). They are naturally the most evolved Light Beings in the Creation and the guardians of the Divine Laws.
In post-Vedic religion, Manvantar is the astronomical time within an aeon or Kalp, a day (day only) of Brahma Ji, like the present Shwet Varah Kalp, where again 14 Manvantar add up to create one Kalp.
Each Manvantar is ruled by a specific Manu, apart from that all the deities, including Vishnu and Indr; Rishis and their sons are born anew in each new Manvantar, the Vishnu Puran mentions up to seventh Manvantar.
Second Manvantar—the interval of Swaro Chish Manu: Urja, Stambh, Pran, Nand, Rishabh, Nischar, and Arvarivat.
Third Manvantar—the interval of Auttami Manu (-Sons of Vashishth): Kaukundihi, Kurundi, Dalaya, Sankh, Prav Ahita, Mita, and Sammita.
Fourth Manvantar—the interval of Tamas Manu: Jyotirdhama, Prithu, Kavya, Chaitra, Agni, Vanak and Pivar.
Fifth Manvantar—the interval of Raiwat Manu:
Hirannyaroma, Vedasri, Urddhabahu, Vedabahu, Sudhaman, Parjanya, and Mahamuni.
Sixth Manvantar-the interval of Chakshusha Manu: Sumedhas, Virajas, Havishmat, Uttam, Madhu, Abhinaman and Sahishnnu.
The present, seventh Manvantr—the interval of Vaiwasvat Manu: Kashyap, Atri, Vashishth, Vishwa Mitr, Gautom, Jam Dagni and Bhardwaj.
PREVAILING BRAHMAN GOTR :: Agasty, Atreyas-Atri, Alambani, Angad, Angirasa, Ahabhunasa, Aupamanyava, Babhravya, Bhardwaj, Bhargav, Bhakdi, Bhaskara, Chandilya, Charora, Chikitasa, Chyavana, Dalabhya, Darbhas, Dev, Dhananjaya, Dhanvantari, Galvasaya, Garga, Gautamasa, Gaubhilya, Ghrit kaushika, Harita-Haritasa, Hukman Bhal, Jamadagni, Jatukarna, Kalabodhana-Kalaboudha-Kalabhavasa, Kamakayana Vishwamitra, Kanva, Kaushikasa, Kapi, Kapil, Kapinjala, Karmani, Kashyapasa, Kaundinyasa, Kaunsh, Kaushal-Kaushalas-Kushal, Kaushik-Koshik-Koushik,Kushika-Ghrit kaushika, Kaustubha, Kausyagasa, Kavist, Katyayana, Krishnatriya or Krishnatreeya, Kundina Gowtama, Kusha, Kutsa, Kutsasa, Lakhi, Lohit, Lohita-Kowsika, Lomasha, Mandavya, Marichi, Markandeya, Mauna Bhargava, Matanga, Moudgaly, Mudgal, Mihirayan, Naidhruva, Nithunthana-Naithunthasa, Nydravakashyapa, Nrisimhadevara, Parashara, Parthivasa, Pouragutsya, Punagashella, Ratheetarasa, Purang, Pradnya, Rathitara, Rohinya, Rauksaayana, Saminathen, Sanatana, Salankayana, Sangar, Sanaka, Sanaga, Sanjaya, Sankhyayana, Sankrithi(Sankrityayan), Sankyanasa, Sathamarshana, Shandilya, sanas, Sandilyasa, Shandelosya, Saawarna, Saharia Joshi, Sauparna, Savaran, Savita, Somnasser, Pratanansya, Saankritya (Sakarawar), Soral, Srivatsa, Sumarkanth, Suryadhwaja, Shaktri, Shaunaka, Sravanvaitas, Surya, Swatantra Kabisa, Tugnait, Roushayadana, Upadhyay, Upmanyu, Upreti, Vadula, Valmiki, Vardhviyasa, Vardhulasa, Vardhyswasa, Vashishth, Vats, Vatsyayan, Veetahavya, Vishnu, Vishnuvardhana, Vishnuvruddha.
BRAHMAN GOTR-LINEAGE-CLAN-HIERARCHY :: All organisms evolved from Brahma Ji and further tributaries evolved from his sons. Progeny of sages-Rishis who adopted to meditation, learning,  asceticism, teaching were called Brahmans. Main clans evolved from Angira, Atri, Gautam, Kashyap, Bhragu, Vashishth, Kuts and Bhardwaj; the first seven of these are enumerated as Sapt Rishis. Vishw Mitr was initially a Kshatriy king, who later chose and rose to become an ascetic Rishi. Hence the Gotr was applied to the grouping stemming from one of these Rishis as his descendants.
PROMINENT BRAHMAN GOTR :: Agasty, Atrey-Atri, Alambani, Angad, Angira, Ahabhunas, Aupamanyav, Babhravy, Bhardwaj, Bhargav, Bhakdi, Bhaskar, Chandily, Charor, Chikit, Chyavan, Dalabhy, Darbh, Dhananjay, Dhanvantari, Galvasay, Garg-Gargus, Gautam, Gaubhily, Harit-Haritus, Hukman Bhal, Jamadagni, Jatukarn, Kalabodhan-Kalaboudh-Kalabhavas, Kamakayan, Vishwamitr, Kanv, Kaushikas, Kapi, Kapil, Karmani, Kashyapasa, Kaundinyasa, Kaunsh, Kaushal, Kaushik, Kushik, Kaustubh, Kausyagas, Kavist, Katyayan, Krishnatriy or Krashnatreey, Kundin, Kuts, Lakhi, Lohit, Lomesh, Mandavy, Marichi, Markandey, Maun Bhargav, Matang, Maudgaly-Mudgal, Naidhruv, Nithunthan-Naithunthas, Nydravakashyap, Nrisimhadevar, Parashar, Parthivas, Pouragutsy, Purang, Pradny, Pratanansy, Ratheetaras-Rathitar, Rohiny, Rauksayan, Roushayadan, Saminathen, Sanatana, Salankayana, Sangar, Sanak, Sanag, Sanjay, Sankhyayan, Sankrati-Sankratyayan, Sankyanas, Satamarshan, Shandily, Sanas, Shandelosy, Sawarn, Saharia Joshi, Sauparn, Savaran, Savit, Somnasser, Sankrity-Sakarawar, Soral, Srivats, Sumarkant, Suryadhwaj, Shaktri, Shaunak, Sury, Swatantr Kabisa, Suparn, Tugnait, Upamanyu, Upadhyay, Utsasy, Vadul, Valmiki, Vardhviyas, Vardhulas, Vardhyswas, Vashishth, Vats, Vatsyayan, Veetahavy, Vishnu, Vishnuvardhan, Vishnuvruddh, Viswamitr, Vishvagni, Vartantu, Vishwagni, Vaidy, Yask. 
The difference arises due to the listing in different in Chatur Yug, Manvantar or the Kalp.
ब्राह्मण गौत्र और गौत्र कारक 115 ऋषि :: (1). अत्रि, (2). भृगु, (3). आंगिरस, (4). मुद्गल, (5). पातंजलि, (6). कौशिक,(7). मरीच, (8). च्यवन, (9). पुलह, (10). आष्टिषेण, (11). उत्पत्ति शाखा, (12). गौतम गोत्र,(13). वशिष्ठ और संतान (13.1). पर वशिष्ठ, (13.2). अपर वशिष्ठ, (13.3). उत्तर वशिष्ठ, (13.4). पूर्व वशिष्ठ, (13.5). दिवा वशिष्ठ, (14). वात्स्यायन,(15). बुधायन, (16). माध्यन्दिनी, (17). अज, (18). वामदेव, (19). शांकृत्य, (20). आप्लवान, (21). सौकालीन,  (22). सोपायन, (23). गर्ग, (24). सोपर्णि, (25). शाखा, (26). मैत्रेय, (27). पराशर, (28). अंगिरा, (29). क्रतु, (30. अधमर्षण, (31). बुधायन, (32). आष्टायन कौशिक, (33). अग्निवेष भारद्वाज, (34). कौण्डिन्य, (34). मित्रवरुण,(36). कपिल, (37). शक्ति, (38). पौलस्त्य, (39). दक्ष, (40). सांख्यायन कौशिक,  (41). जमदग्नि, (42). कृष्णात्रेय, (43). भार्गव, (44). हारीत, (45). धनञ्जय, (46). पाराशर, (47). आत्रेय, (48). पुलस्त्य, (49). भारद्वाज, (50). कुत्स, (51). शांडिल्य, (52). भरद्वाज, (53). कौत्स, (54). कर्दम, (55). पाणिनि गोत्र, (56). वत्स, (57). विश्वामित्र, (58). अगस्त्य, (59). कुश, (60). जमदग्नि कौशिक,  (61). कुशिक, (62). देवराज गोत्र, (63). धृत कौशिक गोत्र, (64). किंडव गोत्र, (65). कर्ण, (66). जातुकर्ण, (67). काश्यप, (68). गोभिल, (69). कश्यप, (70). सुनक, (71). शाखाएं, (72). कल्पिष, (73). मनु, (74). माण्डब्य, (75). अम्बरीष, (76). उपलभ्य, (77). व्याघ्रपाद, (78). जावाल, (79). धौम्य, (80). यागवल्क्य, (81). और्व, (82). दृढ़, (83). उद्वाह, (84). रोहित, (85). सुपर्ण, (86). गालिब, (87). वशिष्ठ, (88). मार्कण्डेय, (89). अनावृक, (90). आपस्तम्ब, (91). उत्पत्ति शाखा, (92). यास्क, (93). वीतहब्य, (94). वासुकि, (95). दालभ्य, (96). आयास्य, (97). लौंगाक्षि, (98). चित्र, (99). विष्णु, (100). शौनक, (101). पंचशाखा, (102).सावर्णि, (103).कात्यायन, (104).कंचन, (105).अलम्पायन, (106).अव्यय, (107). विल्च, (108). शांकल्य, (109). उद्दालक, (110). जैमिनी, (111). उपमन्यु, (112). उतथ्य, (113). आसुरि, (114). अनूप और (115). आश्वलायन।
कुल संख्या 108 ही हैं, लेकिन इनकी छोटी-छोटी 7 शाखा और हुई हैं। इस प्रकार कुल मिलाकर इनकी पूरी सँख्या 115 है।

गोत्र का अर्थ है—गोशाला (cowshed)
त्र प्रत्यय (अन्त्यलग्न/suffix) का प्रधान अर्थ है— रक्षक।
अत: गोत्र का अर्थ हुआ—गोरक्षक
जिसका तद्भव है— गोरखा।
गो के तीन अभिप्राय हैं—
१. गाय की कोई विशेष प्रजाति (नस्ल/breed)।
२. गेहूँ (गोधूम) की कोई विशेष प्रजाति।
    (गोमेध = गोवत्स-बधियाकरण व गेहूँ की खेती)
३. वेद की कोई विशेष शाखा।
भारत में पिता-पुत्र-क्रम (male lineage) को गोत्र संज्ञा प्रदान की गई थी और प्रत्येक पिता-पुत्र-क्रम गो के उपर्युक्त तीनों रूपों की रक्षा कर रहा था।
अब ऐसा नहीं हो रहा है!
इसी कारण गाय व गेहूँ की प्रजातियाँ नष्टप्राय हैं तथा वेद-वेदांगों का ज्ञान भी क्षीण हो गया है।
हिन्दू संस्कृति के मूलाधार
   १.जाति
   २. स्मृति
    ३. श्रुति
संस्कृति-कोई समूह अपने सदस्यों के लिए जो "प्राप्तव्य" मानता है,उनकी प्राप्ति हेतु जो "मूल्य" स्थापित करता है एवं जो "जीवन-पद्धति" निर्धारित करता है;उनकी समष्टि उस समूह की "संस्कृति" होती है।
प्राप्तव्य-इन्हें "पुरुषार्थ" भी कहते हैं।धर्म,अर्थ,काम,मोक्ष- ये चार पुरुषार्थ कहे गए हैं।
धर्म-समस्त कर्तव्यों की समष्टि "धर्म" है।इसका मूल है- "पारस्परिक समादर"। 
महाभारतानुसार-
    श्रूयतां धर्मसर्वस्वं श्रुत्वा चाप्यवधार्यताम्। आत्मन: प्रतिकूलानि परेषां न समाचरेत्॥
अर्थ-आहार,निद्रा एवं सुरक्षा की समष्टि "अर्थ" है।
काम-दूसरे का साथ एवं मनोतुष्टि "काम" है।
मोक्ष-मानसिक दासता का अन्त एवं स्वयं से ही सन्तुष्टि "मोक्ष" है।इसका मूल है-वैयक्तिक स्वातन्त्र्य (individual freedom) अर्थात् कोई भी व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति अथवा समूह द्वारा साधन की भाँति उपयोग में नहीं लाया जा सकता।
हिन्दू संस्कृति धर्मप्रधान है अर्थात् हिन्दू संस्कृति के अनुसार धर्म को साथ लिए बिना अर्थ,काम व मोक्ष में से किसी की भी प्राप्ति की चेष्टा आत्मघाती एवं विनाशकारी सिद्ध होती है।
जाति-किसी व्यक्ति की समस्त जीन-सम्पदा (genetic inheritance) उसकी "जाति" है। इसमें कुल,वंश,गोत्र आदि भी अन्तर्निहित हैं।इसकी रक्षा हेतु जातिधर्म, कुलधर्म आदि निर्धारित हैं।जिनमें इतिहास भी अन्तर्निहित होता है।जाति प्राचीन एवं मौलिक है,जबकि चातुर्वर्ण्य (ब्राह्मण,क्षत्रिय,वैश्य व शूद्र) केवल नवीन आयोजन मात्र था,जो अब विलीन हो चुका है।प्रत्येक वर्ण में अनेक जातियाँ होती थीं।जो परस्पर विवाह से बचने का प्रयास करती थीं।भारत में बाहर से आने वाला कोई समूह किसी वर्ण में स्वीकृत होने पर अपना पृथक् अस्तित्व नहीं खोता था।इतना ही नहीं,एक जाति जिस वर्ण की सदस्य होती थी।कालान्तर में उससे इतर वर्ण में भी स्थान पा सकती थी।यद्यपि अपवादस्वरूप वैयक्तिकरूपेण कतिपय व्यक्तियों को इतर जाति में ले लिया गया किन्तु ऐसे उदाहरण अतिन्यून एवं नगण्य हैं, साथ ही उनके नाम से पृथक् गोत्र भी चलाया गया।यथा- राजर्षि कौशिक के जाति-परिवर्तन से उनका ब्रह्मर्षि बन जाना।किसी जाति की सामाजिक उच्चता अथवा निम्नता पूर्णतया स्थायी नहीं है।स्वजाति को उठाने हेतु उद्योग करना चाहिए।हीनभावना अथवा सम्मान के लोभ से छलपूर्वक अन्य जाति में प्रविष्ट होने की कुचेष्टा स्वजातिद्रोह,स्वपूर्वजद्रोह एवं आत्मद्रोह है,विश्वासघात है।
स्मृति-वे गीत, अनुष्ठान, उत्सव, परम्परा आदि "स्मृति" हैं। जिन में निहित ज्ञान व इतिहास सुविज्ञात है। स्मृति-आधारित कर्तव्य "स्मार्त-धर्म" कहलाता है।स्मृति अरक्षित होने पर श्रुति बन जाती है अथवा नष्ट हो जाती है।
श्रुति-वे गीत,अनुष्ठान,उत्सव,परम्परा आदि "श्रुति" हैं जिनमें निहित ज्ञान व इतिहास विस्मृत अथवा अस्पष्ट हो चुका हैॆ।श्रुति-आधारित कर्तव्य "श्रौत-धर्म" कहलाता है। श्रुति में श्रम करने वाले के लिए श्रुति समय-समय पर अपने रहस्यों को उद्घाटित करती रहती है।
जाति, स्मृति व श्रुति की रक्षा हेतु निर्धारित धर्म (कर्तव्य-समष्टि) का पालन करने वाले "हिन्दू" हैं।इन तीनों की रक्षा वस्तुत: निज इतिहास एवं अस्तित्व की ही रक्षा है!!
    ""धर्मो रक्षति रक्षित:!यतो धर्मस्ततो जय:!!""

Brahman communities are traditionally divided into two regional groups viz. Panch-Gaud Brahmans and Panch-Dravid Brahmans as follows : 

कर्णाटकाश्च तैलंगा द्राविडा महाराष्ट्रकाः। गुर्जराश्चेति पञ्चैव द्राविडा विन्ध्यदक्षिणे॥

सारस्वताः कान्यकुब्जा गौडा उत्कलमैथिलाः। पन्चगौडा इति ख्याता विन्ध्स्योत्तरवासिनः॥

(1). The Karnatak, (2). Tailang, (3). Dravid, (4). Maharashtrak and (5). Gurjar are the five categories of Brahmans who live to the south of Vindhy mountains & are called Dravid Brahmans; where as Saraswat, Kanyakubj, Gaud, Utkal, and Maithil & they live to the north of Vindhy mountains & are known as five Gaud Brahmns. This Shlok  identifies the caste-system present on the basis of their regional presence. The classification of Brahmns, the highest Varn, on the basis of region is not tenable (तर्कसंगत, मान्य).

PANCH GAUD BRAHMANS :: They constitute the Uttar Path-Aryavart, Northern and Eastern regions of India. According to geographical regions, from West to East they may be identified as follows.

SARASWAT :: Kashmiri Pundits, Mohyal, Raja Pur, Goud or Gaur Saraswat Brahmans, Punjabi Saraswat Brahmans, Rajasthan Saraswat Brahmans, Chitr Pur Saraswat Brahmans, Nasar Puri Sindh Saraswat Brahmans, Brahm Bhatt Brahmans.

KANY KUBJ :: Kanyakubj & Saryu Pani Brahmans.

GAUD :: Khandelwal, Dadhich, Gaur, Sanadhy, Shri Gaur Malviy.

Sanskrat Guḍa is a  derivation of Gud (गुड़), i.e., sugar molasses. It is also the name of a tribe of the Madhy Desh. Gaud is sometimes taken to mean the Gaur region of Bengal. The real meaning of the term coincides with region termed as Brahm Kshetr as depicted by this Shlok ::

ब्रह्मक्षेत्रं गुडारण्यं मत्स्यपाञ्चालमाथुराः। एष ब्रह्मर्षि देशो वै ब्रह्मावर्त समम्बरम्॥

ब्रह्मक्षेत्रं कुरुक्षेत्रं ब्रह्मदेशः प्रकथ्यते। आदिगौदर्षिदेशान्तं हर्यारण्यमिहोच्यते॥

Bengali, Utkal (Orissa), Maithil (Mithila), Panch-Dravid (Five Southern) & those from Dakshin Path (South India, including Gujarat and Maharashtra).

GUJRAT :: Trivedi Mewad Brahmns, Migrated from Mewad, Rajasthan during the period of Great King Rana Pratap to Gujarat around 434 years ago. i.e., 1576 to 1590 (Since, the battle of Haldi Ghati took place during June, 1576). Prior to that only as a precautionary measure King Rana Singh Pratap  requested Brahmn Community to migrate to safe place (since Akbar was a Muslim emperor and could Brahmn Community, for performing prayers and worship continuously). King Rana Singh Pratap requested that them to continue with the worship of Ek-Ling-Ji Mahadev, which is still being done by all Mewad Brahmns.

During 1280 Maha Nand Trivedi along with 999 Brahmns shifted from Mewad to Gujarat in Tahsil Bhiloda, near the Village Narsoli & established Ek-Ling Ji Shivalay. This migration was due to continuous Muslim attacks on Mewad and harassing Brahmn community specifically. During 1303 Allauddin Khilji  killed 6,40,000 Brahmn male members and thrown their scared thread (Janeu-Yagopveet, जनेऊ, यगोपवीत)  in 1600 litters of blood.  To avoid further mass killings Brahmn community migrated towards Gujarat.

They are mainly found in Jam Nagar, Morbi, Juna Ghadh and Raj Kot. Surnames like Bhatt, Kaileyas, Bhaglani, Pingal, Lakhlani, Ghediya etc. are quite common.

RAJ GAUR BRAHMANS :: Bhatt Mewad Brahmans, Migrated from Mewad, Rajasthan during time of Great King Rana Pratap to Gujarat some 250 years ago. i.e.,  1750 to 1760.

Chauriyasi Mewad Brahmans from south Gujarat, Migrated from Chittod, Rajasthan some 800 years ago to Dharam Pur near Val sad, i.e., 1158 AD to 1168 AD. They include-Saurashtr Trivedi Mewad Brahmans, Saurashtr Bhatt Mewad Brahmans, Pushkarna, Nagar, Khedaval, Audich, Modh, Bardai, Girinarayan, Shrimali, Anavil, Sidh-Rudr, Shri Gaud, Prashnor.

KANAUJIA BRAHMNS :: Kanaujiya or Kanyakumbj Brahmans migrated from Kannoj, entered in Kutchh via Sindh along with Lohan have surname Bhatt in Kutchh, divided as Bhuvdiyas, Vondhiyas, Sandhliy according to their village temple.

MAHARASHTR :: Deshasth, Chitpavan (Konkanasth), Karhade, Devrukhe.

KARNATAK :: Kannad, Babbur Kamme, Badaganadu, Deshasth, Havyak, Hasan Iyengars, Hebbar Iyengars, Hoysala Karnatak, Karhade, Koot, Madhv, Mandyam Iyengars, Mysore Iyengars, Niyogi, Panchagram, Sankethi, Shukl Yajur Ved, Smarth, Srivaishnav, Sthanik, Uluch Kamme, Mysore Iyers, Ashtagrama Iyers, Mulukanadu, Tuluv, Kandavar, Karhade, Maratha, Padia, Sakl Puri, Shivalli, Smartha Shivalli, Sthanik.

ANDHR PRADESH :: Niyogi, Vaidiki Brahmans.

TAMIL NADU :: Iyengars (sub-divided into Vadakalai and Thenkalai), Iyers (sub-divided further into Vadam, Vathim, Brahacharanam, Ashtasahasram, Gurukkal, Dikshitar, Kaniyalar, Prathamasaki, Dravid Brahmans).

KERAL :: Namboothiri, Iyers, Embranthiris, Pushpak (Ambalavasis), Sharada, Nagariks or the Brahman migrants from north India.

PANCH GAUR BRAHMANS :: Assamese, Brahm Bhatt, Bengali, Bhargav, Dadhich, Dube, Gaur.

ADI GAUR BRAHMANS :: Gaur, Tyagi, Pachauri, Gautam etc., mainly residing in Haryana, West Uttar Pradesh and Rajasthan, Gautam, Jangid, Kashmiri Pandits, Khandelwal, Khedaval, Mohyal, Kanyakubj, Kota, Kulin, Maithili, Rajapur Saraswat, Sanadhy, Saraswat, Saryupareen, Shakdwipi, Shrimali, Suryadhwaj, Tyagi.

PANCH DRAVID BRAHMANS :: Bardai, Chitpavan (Konkanasth), Daivajn, Dhim, Deshasth, Goud Saraswat, Havyak, Hoysal Karnatak, Iyers, Iyengar (Vadakalai Thenkalai), Kandavar, Kannad, Karhade, Koot, Koteshwar, Nagar, Padia, Pushpak (Ambalavasi Brahmins), Saklapuri, Sankethi, Shivalli, Sthanik, Telugu Brahmins (Vaidiki, Niyogi), Tuluv.

मैथिल ब्राह्मण :: इनको मैथिल ब्राह्मण कहा जाता है। मिथिला भारत का प्राचीन प्रदेश है, जिसमें बिहार का तिरहुत, सारन तथा पूर्णिया के आधुनिक ज़िलों का एक बड़ा भाग और नेपाल से सटे प्रदेशों के कुछ भाग भी शामिल हैं। जनकपुर, दरभंगा और मधुबनी मैथिल ब्राह्मणो का प्रमुख सांस्कृत केंन्द्र है। मैथिल ब्राह्मण बिहार, नेपाल, ब्रज-उत्तर प्रदेश व झारखण्ड के देवघर में अधिक हैं। पंच गौड़ ब्राह्मणो के अंतर्गत मैथिल ब्राह्मण, कान्यकुब्ज ब्राह्मण, सारस्वत ब्राह्मण, गौड़ ब्राह्मण, उत्कल ब्राह्मण आते हैं। 
ब्रजस्थ मैथिल ब्राह्मण :: ये वे ब्राह्मण हैं जो गयासुद्दीन तुग़लक़ से लेकर अकबर के शासन काल तक तिरहुत (मिथिला) से तत्कालीन भारत की राजधानी आगरा में आकर बस गये थे तथा समयोपरान्त औरङ्जेब के कुशासन से प्रताडित होकर केन्द्रीय ब्रज के तीन जिलों  आकर में  बस गये। ब्रज में पाये जाने वाले मैथिल ब्राह्मण जो कि मिथिला के गणमान्य विद्वानों द्वारा शोधोपरान्त ब्रजस्थ मैथिल ब्राह्मणो के नाम से ज्ञात हुए, उसी समय से ब्रज में  प्रवास कर रहे हैं। ये ब्राह्मण ब्रज के आगरा, अलीगद, मथुरा और हाथरस में प्रमुख रूप से रहते है। यहाँ से भी प्रवासित होकर यह दिल्ली, अजमेर्, जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, बडौदरा, दाहौद, लखनऊ, कानपुर आदि स्थानों पर रह रहे हैं। मुग़ल शासक औरंगज़ेब  ने मिथिला सहित सम्पूर्ण भारत पर अपने शासन काल में अत्याचार किया इसके अत्याचार से पीड़ित होकर बहुत से मिथिला वासी ब्राह्मण मिथिला से पलायन कर अन्य प्रदेशों में बस गये। ब्रज प्रदेश में रहने वाले मैथिलों व मिथिला वासी मैथिलों का आवागमन भी बंद हो गया ऐसा 1658 ई० से लेकर 1857 की क्रान्ति तक चलता रहा। 1857 ई० के बाद भारतीय समाज सुधारकों ने एक आजाद भारत का सपना देखा था। मिथिला के ब्राह्मण समाज ने भी आजाद भारत का सपना देखा। स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती ने ठीक इसी समय जाति उत्थान की आवाज को बुलंद किया।  उन्होंने जाति उत्थान के लिए सम्पूर्ण भारत में बसे मिथिला वासियों से संपर्क किया। जिसका परिणाम यह हुआ कि औरंगज़ेब के समय में मिथिला वासी और प्रवासी मैथिल ब्राह्मणों के जो सम्बन्ध टूट गए थे वह फिर से जुड़ गये। उन्हीं के प्रयासों से अलीगढ के मैथिल ब्राह्मणों का मिथिला जाना और मिथिला वासियों का अलीगढ आना संभव हुआ। झा, मिश्र, पाठक, औझा, शर्मा, चौधरी, ठाकुर, राँय, परिहस्त, कुंवर इनके उपनाम। हैं। जिसमें से कुंवर, चौधरी, ठाकुर मिथिला देश में ब्राह्मणों (मैथिल और भूमिहार) के अलावा कोई अन्य नही प्रयुक्त करता।  ब्रजस्थ मैथिल ब्राह्मण शर्मा उपनाम प्रयोग करते हैं। झा मैथिल ब्राह्मणों का सबसे अधिक प्रयोग में लाया जाने वाला उपनाम है। झा सिर्फ मैथिल ब्राह्मणों का उपनाम है। 
सभी मैथिल ब्राह्मण चार वर्गों में बटे हैं :- (1). श्रोत्रिय, (2). योग्य, (3). पंजी और (4). जयवार। इनमें उपर वाला वर्ग नीचे वाले वर्ग की कन्या से विवाह करता है। ऐसा इसलिये है, क्योकि मिथिला के राजा ने प्राचीन काल में गायत्री संध्या वंदन में ब्राह्मणो को बुलाया था। दिन के चार प्रमुख पहरों में ब्राह्मण पहुँचे। तभी से एैसी व्यवस्था चली आ रही है। पंजी व्यवस्था मिथिला के राजा के आदेश पर शुरू हुई थी। यह दोनों ही प्रथाएँ आजकल टूट रही हैं। 
मैथिल ब्राह्मणों के साथ साथ अन्य प्रमुख ब्राह्मण समुदाय कान्य कुब्ज ब्राह्मण, भूमिहार ब्राह्मण भी मिथिला में हैं।मैथिल ब्राह्मणों का सभी ब्राह्मणो से सौहार्द है। मिथिला का आचार विचार सब के लिये अनुकर्णीयमाना जाता था व  मैथिल ब्राह्मण सबसे श्रेष्ठ ब्राह्मण समझे जाते थे। माता सीता की जन्मस्थली जनकपुर मिथिला देश में ही है।
ब्राह्मणों के 8 प्रकार :: जन्म से हर व्यक्ति पशु है। दैवीय सृष्टि के अन्तर्गत चार वर्णों की उत्पत्ति ब्रह्मा जी से हुई। 16, 32  या फिर 64 संस्कारों के होने और वेदों की शिक्षा ग्रहण करने के बाद ही ब्राह्मणत्व की प्राप्ति होती है। वेद, शास्त्रों, इतिहास को मात्र पढ़ना ही पर्याप्त नहीं है। व्यक्ति को उन्हें समझना और उपयोग करना भी आना चाहिए। आज का ब्राह्मण महज नाम का संस्कार हीन ब्राह्मण है। केवल जनेऊ-मेखला धारण करके कोई ब्राह्मण नहीं हो जाता। सभी प्राणियों की उत्पत्ति मैथुनी सृष्टि के माध्यम से कश्यप जी से हुई है। ब्राह्मणों की वंश व्यवस्था ऋषियों से है। 

(1). ब्राह्मणों के 8 वर्ग :: मात्र, ब्राह्मण, श्रोत्रिय, अनुचान, भ्रूण, ऋषिकल्प, ऋषि और मुनि। 8 प्रकार के ब्राह्मण श्रुति में पहले बताए गए हैं। इसके अलावा वंश, विद्या और सदाचार से ऊँचे उठे हुए ब्राह्मण ‘त्रिशुक्ल’ कहलाते हैं। ब्राह्मण को धर्मज्ञ विप्र और द्विज भी कहा जाता है।  

(1.1). मात्र :- ऐसे ब्राह्मण जो जाति से ब्राह्मण हैं, लेकिन वे कर्म से ब्राह्मण नहीं हैं; उन्हें मात्र कहा गया है। ब्राह्मण कुल में जन्म लेने से कोई ब्राह्मण नहीं कहलाता। बहुत से ब्राह्मण ब्राह्मणोचित उपनयन संस्कार और वैदिक कर्मों से दूर हैं, तो मात्र हैं। उनमें से कुछ तो यह भी नहीं हैं। वे बस शूद्र हैं। वे तरह तरह के देवी-देवताओं की पूजा करते हैं और रा‍त्रि के क्रिया-कांड में लिप्त रहते हैं। वे सभी राक्षस धर्मी भी हो सकते हैं।

(1.2). ब्राह्मण :- ईश्वर वादी, वेद पाठी, ब्रह्म गामी, सरल, एकांतप्रिय, सत्य वादी और बुद्धि से जो दृढ़ हैं, वे ब्राह्मण कहे गए हैं। तरह-तरह की पूजा-पाठ आदि पुराणिकों के कर्म को छोड़कर जो वेद सम्मत आचरण करता है वह ब्राह्मण कहा गया है।

(1.3). श्रोत्रिय :- स्मृति अनुसार जो कोई भी मनुष्य वेद की किसी एक शाखा को कल्प और छहों अंगों सहित पढ़कर ब्राह्मणोचित 6 कर्मों में सलंग्न रहता है,  वह श्रोत्रिय कहलाता है।

(1.4). अनुचान :- कोई भी व्यक्ति  वेदों और वेदांगों का तत्वज्ञ, पाप रहित, शुद्ध चित्त, श्रेष्ठ, श्रोत्रिय विद्यार्थियों को पढ़ाने वाला और विद्वान है, वह अनुचान माना गया है।

(1.5). भ्रूण :- अनुचान के समस्त गुणों  से युक्त होकर केवल यज्ञ और स्वाध्याय में ही संलग्न रहता है, ऐसे इंद्रिय संयम व्यक्ति को भ्रूण कहा गया है।
(1.6). ऋषिकल्प :- जो कोई भी व्यक्ति सभी  वेदों, स्मृतियों और लौकिक विषयों का ज्ञान प्राप्त कर मन और इंद्रियों को वश में करके आश्रम में सदा ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए निवास करता है, उसे ऋषि कल्प कहा जाता है।  
(1.7). ऋषि :- ऐसे व्यक्ति तो सम्यक आहार, विहार आदि करते हुए ब्रह्मचारी रहकर संशय और संदेह से परे हैं और जिसके श्राप और अनुग्रह फलित होने लगे हैं, उन सत्य प्रतिज्ञ और समर्थ व्यक्तियों को ऋषि कहा गया है।  
(1.8). मुनि :- जो व्यक्ति निवृत्ति मार्ग में स्थित, संपूर्ण तत्वों का ज्ञाता, ध्यान निष्ठ, जितेन्द्रिय तथा सिद्ध है, ऐसे ब्राह्मण को मुनि कहते हैं।
मात्र संज्ञक ब्राह्मणों की सँख्या  अधिक है। ब्राह्मण शब्द का प्रयोग अथर्ववेद के उच्चारण कर्ता ऋषियों के लिए किया गया था। प्रत्येक वेद को समझने के लिए जो ग्रन्थ लिखे गए, उन्हें भी ब्राह्मण  कहा गया। 
(2). उपनाम :: 
(2.1). एक वेद को पढ़ने  वाले ब्राह्मण को पाठक कहा गया।   
(2.2). दो वेद पढ़ने वाले को द्विवेदी कहा गया, जो कालांतर में दुबे हो गया।   
(2.3). तीन वेद को पढ़ने वाले को त्रिवेदी कहा गया, जिन्हें त्रिपाठी भी कहने लगे, जो कालांतर में तिवारी हो गया। 
(2.4). चार वेदों को पढ़ने वाले चतुर्वेदी कहलाए, जो कालांतर में चौबे हो गए। 
(2.5). शुक्ल यजुर्वेद को पढ़ने वाले शुक्ल या शुक्ला कहलाए।     
(2.6). चारो वेदों, पुराणों और उपनिषदों के ज्ञाता को पंडित कहा गया, जो आगे चलकर पाण्डेय, पांडे, पंडिया, पाध्याय हो गए। ये पाध्याय कालांतर में उपाध्याय हुआ।
(2.7). शास्त्र धारण करने वाले या शास्त्रार्थ करने वाले  शास्त्री की उपाधि से विभूषित हुए।
ऋषियों के वंशजो ने अपने  ऋषि कुल या  गोत्र के नाम को ही उपनाम की तरह अपना लिया, जैसे :- भगवान् परशुराम  भृगु कुल के थे। भृगु कुल के वंशज भार्गव कहलाए, इसी तरह गौतम, अग्निहोत्री, गर्ग, भरद्वाज आदि। 
(2.8). बहुत से ब्राह्मणों को अनेक शासकों ने भी कई  तरह की उपाधियां दी, जिसे बाद में उनके वंशजों ने उपनाम की तरह उपयोग किया। इस तरह से ब्राह्मणों के उपनाम प्रचलन में आए। जैसे, राव, रावल, महारावल, कानूनगो, मांडलिक, जमींदार, चौधरी, पटवारी, देशमुख, चीटनीस, प्रधान। 
(2.9). बनर्जी, मुखर्जी, जोशी, शर्मा, भट्ट, विश्वकर्माजी, मैथलीजी, झा, धर, श्री निवास, मिश्रा, मेंदोला, आपटे आदि हजारों उपनाम हैं। है जिनका अपना अपना अलग इतिहास है।  
(2.10). श्रौत्रिय ब्राह्मण को सारस्वत ब्राह्मण भी कहते हैं।  बिहार, बँगाल में श्रोत्रिय, मिथिला में सोती, हरियाणा, पँजाब और दिल्ली में सारस्वत कहा जाता है। 
(2.11). ये वैदिक ब्रह्मण होते है और याज्ञिक भी, वेद के ऋचाऔ को ये आद कर वैदिक परम्परा को आगे बढाया है,  गीता सहित वेद और कर्म काण्ड के सैकडो श्लोक मे श्रोत्रिय की चर्चा मिलती है ,
(2.12). सरस्वती माँ के हाथ से जन्म लेने के कारण ये सारस्वत कहलाये। 
सुनकर वेदो के याद रखने से इन्हें श्रोत्रिय कहा जाता है। ये हिगँलाज से चलकर काश्मीर आए। वहाँ से श्री बस्ती उतर प्रदेश आये। यहाँ से मगध राज्य में आये। आचार्य चाणक्य श्रोत्रिय ब्राह्मण थे। 
आज भी गया, पटना, जहानावाद, विहार शरीफ, नालन्दा , नवादा, मुँगेर, जमुई, गिरिडीह, धनबाद, हजारीवाग, वोकारो, पुरूलिया, मेदनीपुर खडगपुर, दुमका, देवघर, जामताडा और राँची में इनकी पुरानी जमीनदारी दिखती हैं। 
सरयूपाणी ब्राह्मण या सरवरिया ब्राह्मण या सरयूपारी ब्राह्मण सरयू नदी के पूर्वी तरफ बसे हुए ब्राह्मणों को कहा जाता है। यह कान्यकुब्ज ब्राह्मणों की एक शाखा है। भगवान् श्री राम ने लंका विजय के बाद कान्यकुब्ज ब्राह्मणों से यज्ञ करवाकर, उन्हें सरयु पार स्थापित किया था। सरयु नदी को सरवार भी कहते थे। इसी से ये ब्राह्मण सरयुपारी ब्राह्मण भी कहलाते हैं। सरयुपारी ब्राह्मण पूर्वी उत्तरप्रदेश, उत्तरी मध्यप्रदेश, बिहार छत्तीसगढ़ और झारखण्ड में भी होते हैं। मुख्य सरवार क्षेत्र पश्चिम में उत्तर प्रदेश राज्य के अयोध्या शहर से लेकर पूर्व में बिहार के छपरा तक तथा उत्तर में सौनौली से लेकर दक्षिण में मध्यप्रदेश के रीवा शहर तक हैं। काशी, प्रयाग, रीवा, बस्ती, गोरखपुर, अयोध्या, छपरा इत्यादि नगर सरवार भूखण्ड में हैं।
ऐसा भी माना जाता है कि भगवान् श्री राम ने रावण वध के प्राश्चित स्वरूप, ब्रह्म हत्या के पाप से मुक्त होने के लिए भोजन और दान के लिए ब्राह्मणों को आमंत्रित किया तो जो ब्राह्मण स्नान करने के बहाने से सरयू नदी पार करके उस पार चले गए और जिन्होंने भोजन तथा दान सामग्री ग्रहण नहीं की, वे सरयूपाणी कहलाये। 
सरयूपारीण ब्राह्मण उत्पत्ति ::सरयूपारीण ब्राह्मण या सरवरिया ब्राह्मण या सरयूपारी ब्राह्मण सरयू नदी के पूर्वी तरफ बसे हुए ब्राह्मणों को कहा जाता है। ऋग्वेद में मुख्य रूप से तीन नदियों का उल्लेख ही है। इनमे सरस्वती, सिंधु और सरयू नदी का ज़िक्र है। सम्भवतया सरयूपारीण ब्राह्मण उन्ही मूल कान्य्कुब्ज ब्राह्मणों का दल है जो कि पूर्वी उत्तर प्रदेश और उत्तरी बिहार में बसा है। यह शुद्ध आर्यवंशी षट्कर्मा वेदपाठी आदिकालिक समूह है जो की आदिकाल से ही ब्राह्मण धर्म का अधिष्ठाता रहा है।
हिमालय पर्वत श्रंखला बहुत ही पवित्र है। यह अनन्त काल से ही ऋषि-मुनियों-तपस्वियों, साधकों का निवास बानी हुई है। नर-नारायण ऋषि भी बद्रिकाश्रम में तपस्या करते हैं। देवराज इंद्र का आतिथ्य स्वीकार कर अपनी राजधानी को लौटते हुए राजा दुष्यंत ने ऋषियों के परम क्षेत्र हेमकूट पर्वत की ओर देखा था। 
दक्षिणे भारतं वर्ष उत्तरे लवणोदधेः। कुलादेव महाभाग तस्य सीमा हिमालयः।
ततः किंपुरषं हेमकुटादध: स्थितम। हरि वर्ष ततो ज्ञेयं निवधोबधिरुच्यते॥पद्म पुराण॥ 
महर्षि पुलस्त्य, धर्मराज युधिष्ठिर से यात्रा के सन्दर्भ में बताते हैं कि :-
ततो गच्छेत राजेंद्र देविकं लोक विश्रुताम। प्रसूतिर्यत्र विप्राणां श्रूयते भारतषर्भ।
देविकायास्तटे वीरनगरं नाम वैपुरम। समृदध्यातिरम्यान्च पुल्सत्येन निवेशितमवाराह पुराण
हे राजेन्द्र लोक विश्रुत देविका नदी को जानना चाहिए जहाँ ब्राह्मणों की उत्पत्ति देखी-सुनी जाती है। देविका नदी के तट पर वीरनगर नामक सुन्दर पुरी है, जो समृद्ध और सुन्दर हैं।
देविका नदी के किनारे हेमकूट नामक किम्पुरुष क्षेत्र में ऋषि-मुनि रहा करते थे।
"देविकायां सरय्वाचं भवेदाविकसरवौ"
देविका और सरयू क्षेत्र के रहने वाले आविक और सारव कहे जाते हैं।
संभवतया सारव और अवार (तट) के संयोग से सारववार बना होगा और फिर समय के साथ उच्चारण में सरवार बन गया होगा। इसी सरवार क्षेत्र के रहने वाले सरवरिया कहे जाने लगे होंगे।
अयोध्यायां दक्षिणे यस्याः सरयूतटाः पुनः। सारवावार देशोयं तथा गौड़ः प्रकीर्तितः॥मत्स्य पुराण 
अयोध्या के दक्षिण में सरयू नदी के तट पर सरवावार देश है, उसी प्रकार गोंड देश भी मानना चाहिए।
सरयू नदी कैलाश पर्वत से निकल कर विहार प्रदेश में छपरानगर के समीप नारायणी नदी में मिल जाती हैं। देविका नदी गोरखपुर से 60 मील दूर हिमालय से निकल कर ब्रह्मपुत्र के साथ गण्डकी में मिलती हैं। गण्डकी नदी नेपाल की तराई से निकल कर सरवार क्षेत्र होती हुई सरयू नदी में समाहित होती है। सरयू, घाघरा, देविका (देवहा) ये तीनों नदियाँ एक ही में मिल कर प्रवाहित होती हैं।  
सरयू, घाघरा और देविका नदी हिमालय से निकलती हैं, तीनों नदियों का संगम पहाड़ में ही हो गया था। इसीलिए सरयू को कहीं घाघरा तो कहीं देविका कहा जाता हैं।[महाभारत]
यही ब्रह्म क्षेत्र है, जहाँ पर ब्राह्मणों की उत्पत्ति हुई थी। यथासमय ब्रह्म देश से जो ब्राम्हण अन्य देश में गए, वे उस देश के नाम से अभिहित हुए। जो विंध्य के दक्षिण क्षेत्र में गए वे महाराष्ट्रीय, द्रविड़, कर्नाटक और गुर्जर ब्राह्मण के रूप में प्रतिष्ठित हुए और जो विंध्य के उत्तर देशों में बसे, वे सारस्वत, कान्यकुब्ज, गोंड़, उत्कल, मैथिल ब्राम्हण के रूप में प्रतिष्ठित हुए। इस तरह दशविध ब्राह्मणों के प्रतिष्ठित हो जाने पर ब्रह्मदेश के निवासी ब्राह्मणों की पहचान के लिए उनकी सर्वार्य संज्ञा हो गई। वही आगे चल कर सर्वार्य, सरवरिया, सरयूपारीण आदि कहे जाने लगे।
अतः सरयूपारीण ब्राह्मणों को कान्यकुब्ज की एक शाखा रूप में प्रामाणिक नहीं समझा जाता। 
स्मृतियों में पंक्ति पावन ब्राह्मणों  का उल्लेख मिलता हैं। पंक्ति पावन ब्राह्मण सर्यूपारिणो ही होते हैं, जो कि आज भी पंतिहा या पंक्तिपावन के रूप में विद्द्मान हैं।
सरयूपाणी ब्राह्मणों के मुख्य गाँव गर्ग (शुक्ल-वंश) :: गर्ग ऋषि के तेरह लड़के-पुत्र थेजिन्हें गर्ग गोत्रीय, पंच प्रवरीय, शुक्ल वंशज  कहा जाता है, जो निम्न तेरह गाँवों में विभक्त हो गये थे :-
(1). मामखोर, (2). खखाइज खोर,  (3). भेंडी,  (4). बकरूआं,  (5). अकोलियाँ,  (6). भरवलियाँ,  (7). कनइल, (8). मोढीफेकरा, (9). मल्हीयन, (10). महसों, (11). महुलियार, (12). बुद्धहट और (13). इसमें चार  गाँवों का नाम आता है (13.1). लखनौरा, (13.2). मुंजीयड, (13.3). भांदी, और (13.4). नौवागाँव। ये सारे गाँव गोरखपुर, देवरिया और बस्ती क्षेत्र में आज भी उपस्थित हैं। 
उपगर्ग (शुक्ल-वंश) :: इनके छ: गाँव इस प्रकार से हैं :-
(1). बरवां, (2) चांदां, (3) पिछौरां, (4) कड़जहीं, (5) सेदापार और (6) दिक्षापार। 
यही मूलत: वे गाँव हैं जहाँ से शुक्ल बंश का उदय माना जाता है यहीं से लोग अन्यत्र भी जाकर शुक्ल वंश का उत्थान कर रहें हैं, ये सभी सरयूपारीण ब्राह्मण हैं। 
गौतम (मिश्र-वंश) :: गौतम ऋषि के छ: पुत्र थे जो इन छ: गांँवों के निवासी थे :-
(1). चंचाई, (2). मधुबनी (3). चंपा (4). चंपारण (5). विडरा और (6). भटीयारी। 
इन्ही छ: गाँवों से गौतम गोत्रीय, त्रिप्रवरीय मिश्र वंश का उदय हुआ है, यहीं से उनका अन्यत्र भी पलायन हुआ है।ये सभी सरयूपारीण ब्राह्मण हैं। 
उप गौतम (मिश्र-वंश) ::
उप गौतम यानि गौतम के अनुकारक छ: गाँव इस प्रकार से हैं :-
(1).  कालीडीहा, (2). बहुडीह, (3). वालेडीहा, (4). भभयां, (5). पतनाड़े और  (6). कपीसा। 
वत्स गोत्र (मिश्र-वंश) ::
वत्स ऋषि के नौ पुत्र थे, जो इन नौ गाँवों में निवास करते थे :-
(1). गाना, (2). पयासी, (3). हरियैया, (4). नगहरा, (5). अघइला, (6). सेखुई, (7). पीडहरा, (8). राढ़ी और (9). मकहडा।  
इनके वहा पाँति का प्रचलन था। अतएव इनको तीन के समकक्ष माना जाता है। 
कौशिक गोत्र  (मिश्र-वंश) :: तीन गाँवों से इनकी उत्पत्ति बताई जाती है, जो निम्न है :-
(1). धर्मपुरा (2). सोगावरी और (3). देशी। 
बशिष्ट गोत्र (मिश्र-वंश) :: इनका निवास भी इन तीन गाँवों में बताई जाती है :-
(1). बट्टूपुर  मार्जनी, (2). बढ़निया और (3) खउसी। 
शांडिल्य गोत्र (तिवारी, त्रिपाठी वंश) :-
शांडिल्य ऋषि के बारह पुत्र बताये जाते हैं जो इन बाह गाँवों से प्रभुत्व रखते हैं :-
(1). सांडी, (2). सोहगौरा, (3) संरयाँ,  (4). श्रीजन, (5). धतूरा, (6). भगराइच, (7). बलूआ, (8) हरदी, (9). झूडीयाँ, (10). उनवलियाँ, (11). नोनापार और (12). कटियारी। नोनापार में लोनाखार, कानापार, छपरा भी समाहित हैं।   
इन्ही बारह गाँवों से आज चारों तरफ इनका विकास हुआ है। ये सरयूपारीण ब्राह्मण हैं। इनका गोत्र श्री मुख शांडिल्य त्रि प्रवर है। श्री मुख शांडिल्य में घरानों का प्रचलन है, जिसमें राम घराना, कृष्ण घराना, नाथ घराना, मणी घराना हैं। इन चारों का उदय, सोहगौरा गोरखपुर से है, जहाँ आज भी इन चारों का अस्तित्व कायम है।  
उप शांडिल्य (तिवारी-त्रिपाठी, वंश) :- इनके छ: गाँव बताये जाते हैं जी निम्नवत हैं। 
(1). शीशवाँ, (2). चौरीहाँ (3). चनरवटा, (4). जोजिया, (5). ढकरा और (6). क़जरवटा। 
भार्गव गोत्र (तिवारी  या त्रिपाठी वंश) :-
भार्गव ऋषि के चार पुत्र बताये जाते हैं जिसमें  चार गांवों का उल्लेख मिलता है, जो इस प्रकार हैं :-
(1). सिंघनजोड़ी (2). सोताचक  (3). चेतियाँ  और (4) मदनपुर। 
भारद्वाज गोत्र (दूबे वंश) ::
भरद्वाज ऋषि के कोई सन्तान नहीं थी। इनकी वंश परम्परा उनके शिष्यों से है। महाभारत से पहले गुरु द्रोणाचार्य, उनके पुत्र हुए। चार दूबे (द्विवेदी-दो वेदों का अध्ययन करने वाले) शिष्यों के चार गाँव :-
(1). बड़गईयाँ, (2). सरार, (3). परहूँआ और (4). गरयापार। 
कन्चनियाँ और लाठीयारी इन दो गाँवों में दूबे घराना बसा है जो वास्तव में गौतम मिश्र हैं, लेकिन इनके पिता क्रमश: उठातमनी और शंखमनी गौतम मिश्र थे।  
वासी (बस्ती) के राजा  बोधमल ने एक पोखरा खुदवाया, जिसमें लट्ठा न चल पाया, राजा के कहने पर दोनों भाई मिल कर लट्ठे को चलाया, जिसमें एक ने लट्ठे सोने वाला भाग पकड़ा तो दूसरे ने लाठी वाला भाग पकड़ा। जिसमें कन्चनियाँ व लाठियारी का नाम पड़ा। दूबे की गददी होने से ये लोग दूबे कहलाने लगे।  
सरार के दूबे के यहाँ पाँति का प्रचलन रहा है। अतएव इनको तीन के समकक्ष माना जाता है। 
सावरण गोत्र (पाण्डेय वंश) ::
सावरण ऋषि के तीन पुत्र बताये जाते हैं इनके यहॉँ भी पाँति का प्रचलन रहा है, जिन्हें तीन के समकक्ष माना जाता है, जिनके तीन गाँव निम्न हैं :- 
(1). इन्द्रपुर (2). दिलीपपुर और (3). रकहट (चमरूपट्टी)।  
सांकेत गोत्र (मलांव के पाण्डेय वंश) :-
सांकेत ऋषि के तीन पुत्र इन तीन गाँवों से सम्बन्धित बताये जाते हैं :-
(1). मलांव, (2). नचइयाँ और (3). चकसनियाँ। 
कश्यप गोत्र (त्रिफला के पाण्डेय वंश) :-
इन तीन गांवों से बताये जाते हैं :-
(1). त्रिफला (2). मढ़रियाँ और (3). ढडमढीयाँ।  
ओझा वंश ::
इन तीन गांवों से बताये जाते हैं :-
(1). करइली (2). खैरी और (3). निपनियां।  
चौबे-चतुर्वेदी, वंश (कश्यप गोत्र) :-
इनके लिए तीन गांवों का उल्लेख मिलता है|
(1). वंदनडीह (2). बलूआ और (3). बेलउजां।  
एक गाँव कुसहाँ का उल्लेख बताते है, जो उपाध्याय वंश का मालूम पड़ता है। 
सरयूपारीण वंशावली :: 49 ऋषि ही गोत्रकार हुए हैं। ऋषियों के शिष्य प्रवरकार माने जाते थे तथा उस ऋषियों के आश्रम में जो वेद, शाखा आदि पढाई जाती थीं, वही वेद, उपवेद शाखा सूत्र उस गोत्र की मानी जाने लगी, जो वर्तमान तक चलती-चली आ रही हैं। वर्तमान में सरयूपारीण ब्राम्हणों में 3, 13, 16 घर जो कहे जाते हैं, उसके पीछे एक पौराणिक सन्दर्भ है, जिसके अनुसार वेदो की रक्षा एवं उसे अगली पीढ़ी तक पहुँचाने के लिए ऋषि गर्ग के आश्रम में शुक्ल यजुर्वेद के पठन-पाठन की प्रक्रिया आरंभ हुई। अतः ऋषि गर्ग को प्रथम गोत्रकार माना जाता हैं। ऋषि गर्ग के बाद गौतम फिर शाण्डिल्य ऋषि के आश्रम में यजुर्वेद और सामवेद के अध्ययन की परम्परा आरम्भ हो गई। और फिर यही तीन आश्रम आगे चल कर प्रथम कोटि के गर्ग, गौतम और शाण्डिल्य घर माने जाने लगे। उसके बाद 13 अन्य ऋषियों के आश्रमों में वेदो की अन्य शाखाओं का पठन-पाठन आरम्भ हो गया। जो आज 13 घर (आश्रम) माने जाते हैं। क्योंकि  इन तरह ऋषियों के कोई क्रम नहीं मिलते हैं, अतः इन्हें एक ही श्रेणी में माना जाने लगा। इन ऋषियों के आश्रमों में अथर्ववेद एवं धनुर्वेद आदि भी पढ़ाया जाता था, जिसे उस समय श्रेयस्कर नहीं माना जाता था। अतः आध्यात्मिक शिक्षा दे रहे गर्ग, गौतम और शाण्डिल्य ऋषियों के श्रेणी में नहीं हैं।
सरयूपारीण ब्राह्मणों के गोत्र :: गर्ग. गौतम, शाण्डिल्य (गर्दभीमुख एवं श्रीमुख), गार्ग्य, पराशरसावर्ण्य, कश्यप, भरद्वाजकौशिक, भार्गव, वत्स, कात्यायन, सांकृत, वशिष्ठ, गर्दभीमु, अगस्त्य, भृगु, घृत कौशिक, कौडिन्य, उपमन्यु, अत्रि, गालव, अंगिरा, जमदग्नि। 
चांद्रायण, वरतन्तु, मौनस, कण्व और उद्वाह, ये गोत्र सरयूपारीण में अतिरिक्त हैं।  इस तरह कुल 29  गोत्र मिलते हैं। गर्दभीमुख को अपभ्रंश होने से गर्गमुख या गरमुख भी कहते हैं।  पिंडी के प्रसिद्द तिवारी गर्दभीमुख शांडिल्य हैं। 
गौत्र में प्राप्त वंश :: (1). गर्ग-शुक्ल,चौबे, तिवारी ,पाण्डेय (इटिया), (2). गौतम-मिश्र, दुबे, पांडे, उपाध्याय, (3). शाण्डिल्य-मिश्र, तिवारी, कीलपुर के दीक्षित, प्रतापगढ़ के पाण्डेय, (4). गार्ग्य-दुबे (करवरिया), (5). परासर-पांडे, शुक्ल, उपाध्याय, (6). भारद्धाज-पांडे, दुबे, पाठक, चौबे, मिश्र, तिवारी, उपाध्याय, (7). कश्यप-पांडे, दुबे, पाठक, चौबे, मिश्र, तिवारी, उपाध्याय, शुक्ल, ओझा, (8). अत्रि या कृष्णात्रि-दुबे, शुक्ल, (9). वत्स-पांडे, दुबे, मिश्र, तिवारी, उपाध्याय, ओझा, (10). अगस्त्य-तिवारी, (11). कात्यायन-चौबे, (12). सांकृत-पांडे, चौबे, तिवारी, (13). सावर्ण्य-पांडे, मिश्र, (14). भार्गव-तिवारी, (15). उपमन्यु-पाठक, ओझा,पाण्डे, (16). वशिष्ठ-मिश्र, तिवारी, चौबे, (17). कौडिन्य-मिश्र, शुक्ल, (18). घृतकौशिक-मिश्र, (19). कुशिक-चौबे, (20). कौशिक-दुबे, मिश्र, (21). चांद्रायण-पांडे और (22). वरतन्तु-तिवारी। 
ब्राह्मणों की वंशावली :: महर्षि कश्यप के पुत्र कण्वय की आर्यावनी नाम की देव कन्या पत्नी हुई। ब्रम्हा जी की आज्ञा से दोनों कुरुक्षेत्र वासनी सरस्वती नदी के तट पर गये और कण् व चतुर्वेदमय सूक्तों में सरस्वती देवी की स्तुति करने लगे एक वर्ष बीत जाने पर वह देवी प्रसन्न हो वहाँ आयीं और ब्राम्हणो की समृद्धि के लिये उन्हें वरदान दिया।[भविष्य पुराण ]
वर के प्रभाव कण्वय के आर्य बुद्धि वाले दस पुत्र हुए, जिनके क्रमानुसार नाम :-
उपाध्याय, दीक्षित, पाठक, शुक्ला, मिश्रा, अग्निहोत्री, दुबे, तिवारी, पाण्डेय और चतुर्वेदी। इनके जैसे थे, वैसे ही गुण। 
इन्होनें नत मस्तक हो माता सरस्वती देवी को प्रसन्न किया। बारह वर्ष की अवस्था वाले बालकों को भक्तवत्सला माता शारदा ने अपनी कन्याएँ प्रदान कीं  जो कि क्रमशः उपाध्यायी, दीक्षिता, पाठकी, शुक्लिका, मिश्राणी, अग्निहोत्रिधी, द्विवेदिनी, तिवेदिनी, पाण्ड्यायनी और चतुर्वेदिनी कहलायीं।
उन कन्याओं  के भी सोलह-सोलह पुत्र हुए। वे सब गोत्रकार हुए जिनका नाम थे :- कष्यप, भरद्वाज, विश्वामित्र, गौतम, जमदग्रि, वसिष्ठ, वत्स, गौतम, पराशर, गर्ग, अत्रि, भृगडत्र, अंगिरा, श्रंगी, कात्याय और याज्ञवल्क्य।
इन नामों से सोलह-सोलह पुत्र थे। 
मुख्य 10 ब्राह्मण वंश :: (1). तैलंगा, (2). महार्राष्ट्रा, (3). गुर्जर, (4). द्रविड, (5). कर्णटिका, यह पांच द्रविण कहे जाते हैं, ये विन्ध्यांचल के दक्षिण में पाये जाते हैं तथा विंध्यांचल के उत्तर में पाये जाने वाले या वास करने वाले ब्राह्मण (6). सारस्वत, (7). कान्यकुब्ज, (8). गौड़, (9) मैथिल और (10). उत्कलये। उत्तर भारत के ब्राह्मण पंच गौड़ कहे जाते हैं।
अन्य प्रमुख शाखाएँ 115 हैं। उनके शाखा भेद अनेक हैं। इनके अलावा संकर जाति ब्राह्मण अनेक हैं।
मिली जुली उत्तर व दक्षिण के ब्राम्हणों की 115 नामावली :- 
जो एक से दो और 2 से 5 और 5 से 10 और 10 से 84 भेद हुए हैं। फिर उत्तर व दक्षिण के ब्राह्मणों की सँख्या शाखा भेद से 230 के लगभग हैं। शाखा भेद से अन्य लगभग 300 के करीब ब्राह्मण भेदों की सँख्या निम्न है :- 
उत्तर व दक्षिणी ब्राह्मणों के भेद इस प्रकार हैं :-
81 ब्राह्मणों की 31 शाखा कुल 115 ब्राह्मण सँख्या, मुख्य हैँ : -
(1). गौड़ ब्राह्मण, (2). गुजर गौड़ ब्राह्मण (मारवाड, मालवा), (3). श्री गौड़ ब्राह्मण, (4). गंगा पुत्र गौड ब्राह्मण, (5) हरियाणा गौड़ ब्राह्मण, (6). वशिष्ठ गौड़ ब्राह्मण, (7). शोरथ गौड ब्राह्मण, (8). दालभ्य गौड़ ब्राह्मण, (9). सुखसेन गौड़ ब्राह्मण, (10). भटनागर गौड़ ब्राह्मण, (11). सूरजध्वज गौड ब्राह्मण (षोभर), (12). मथुरा के चौबे ब्राह्मण, (13). वाल्मीकि ब्राह्मण, (14). रायकवाल ब्राह्मण, (15). गोमित्र ब्राह्मण, (16). दायमा ब्राह्मण, (17). सारस्वत ब्राह्मण, (18). मैथल ब्राह्मण, (19). कान्यकुब्ज ब्राह्मण, (20). उत्कल ब्राह्मण, (21). सरवरिया ब्राह्मण, (22). पराशर ब्राह्मण, (23). सनोडिया या सनाड्य ब्राह्मण, (24). मित्र गौड़ ब्राह्मण, (25). कपिल ब्राम्हण, (26). तलाजिये ब्राह्मण, (27). खेटुवे ब्राह्मण, (28). नारदी ब्राह्मण, (29). चन्द्रसर ब्राह्मण, (30). वलादरे ब्राम्हण, (31). गयावाल ब्राह्मण, (32). ओडये ब्राह्मण, (33). आभीर ब्राह्मण, (34). पल्लीवास ब्राह्मण, (35). लेटवास ब्राह्मण, (36). सोमपुरा ब्राह्मण, (37). काबोद सिद्धि ब्राह्मण, (38). नदोर्या ब्राह्मण, (39). भारती ब्राह्मण, (40). पुश्करर्णी ब्राह्मण, (41). गरुड़ गलिया ब्राह्मण, (42). भार्गव ब्राह्मण, (43). नार्मदीय ब्राह्मण, (44). नन्दवाण ब्राह्मण, (45). मैत्रयणी ब्राह्मण, (46). अभिल्ल ब्राह्मण, (47). मध्यान्दिनीय ब्राह्मण, (48). टोलक ब्राह्मण, (49). श्रीमाली ब्राह्मण, (50). पोरवाल बनिये ब्राह्मण, (51). श्रीमाली वैष्य ब्राह्मण, (52). तांगड़ ब्राह्मण, (53). सिंध ब्राह्मण, (54). त्रिवेदी म्होड ब्राह्मण, (55). इग्यर्शण ब्राह्मण, (56). धनोजा म्होड ब्राह्मण, (57). गौभुज ब्राह्मण, (58). अट्टालजर ब्राह्मण, (59). मधुकर ब्राह्मण, (60). मंडलपुर वासी ब्राह्मण, (61). खड़ायते ब्राह्मण, (62). बाजरखेड़ा वाल ब्राम्हण, (63). भीतरखेड़ा वाल ब्राह्मण, (64). लाढवनिये ब्राह्मण, (65). झारोला ब्राह्मण (66). अंतरदेवी ब्राह्मण, (67). गालव ब्राह्मणऔर (68). गिरनारे ब्राह्मण। 
कुल परम्परा के 11  कारक ::
(1). गोत्र :- व्यक्ति की वंश-परम्परा जहाँ और  से प्रारम्भ होती है, उस वंश का गोत्र भी वहीं से प्रचलित होता गया है। इन गोत्रों के मूल ऋषि :– विश्वामित्र, जमदग्नि, भारद्वाज, गौतम, अत्रि, वशिष्ठ, कश्यप। इन सप्तऋषियों और आठवें ऋषि अगस्त्य की संतान गोत्र कहलाती है। यानी जिस व्यक्ति का गौत्र भारद्वाज है, उसके पूर्वज ऋषि भरद्वाज थे और वह व्यक्ति इस ऋषि का वंशज है। 
(2). प्रवर :- अपनी कुल परम्परा के पूर्वजों एवं महान ऋषियों को प्रवर कहते हैं। अपने कर्मो द्वारा ऋषिकुल में प्राप्‍त की गई श्रेष्‍ठता के अनुसार उन गोत्र प्रवर्तक मूल ऋषि के बाद होने वाले व्यक्ति, जो महान हो गए, वे उस गोत्र के प्रवर कहलाते हें। इसका अर्थ है कि कुल परम्परा में गोत्रप्रवर्त्तक मूल ऋषि के अनन्तर अन्य ऋषि भी विशेष महान हुए थे।
(3). वेद :: वेदों का साक्षात्कार ऋषियों ने लाभ किया है। इनको सुनकर  कंठस्थ किया जाता है। इन वेदों के उपदेशक गोत्रकार ऋषियों के जिस भाग का अध्ययन, अध्यापन, प्रचार प्रसार, आदि किया, उसकी रक्षा का भार उसकी संतान पर पड़ता गया, इससे उनके पूर्व पुरूष जिस वेद ज्ञाता थे, तदनुसार वेदाभ्‍यासी कहलाते हैं। प्रत्येक  का अपना एक विशिष्ट वेद होता है, जिसे वह अध्ययन-अध्यापन करता है। इस परम्परा के अन्तर्गत जातक, चतुर्वेदी, त्रिवेदी, द्विवेदी आदि कहलाते हैं। 
(4). उपवेद :: प्रत्येक वेद  से  सम्बद्ध  विशिष्ट  उपवेद  का  भी  ज्ञान  होना  चाहिये। 
(5). शाखा :: वेदों के विस्तार के साथ ऋषियों ने प्रत्येक एक गोत्र के लिए एक वेद के अध्ययन की परंपरा डाली है।  कालान्तर में जब एक व्यक्ति उसके गोत्र के लिए निर्धारित वेद पढने में असमर्थ हो जाता था, तो ऋषियों ने वैदिक परम्परा को जीवित रखने के लिए शाखाओं का निर्माण किया। इस प्रकार से प्रत्येक गोत्र के लिए अपने वेद की उस शाखा का पूर्ण अध्ययन करना आवश्यक कर दिया। इस प्रकार से उन्‍होंने जिसका अध्‍ययन किया, वह उस वेद की शाखा के नाम से पहचाना गया।
6). सूत्र :: प्रत्येक वेद के अपने 2 प्रकार के सूत्र हैं। श्रौत सूत्र और ग्राह्य सूत्र यथा शुक्ल यजुर्वेद का कात्यायन श्रौत सूत्र और पारस्कर ग्राह्य सूत्र है।
(7). छन्द  :: उक्तानुसार ही प्रत्येक ब्राह्मण को अपने परम्परा सम्मत  छन्द का  भी  ज्ञान  होना  चाहिए।
(8).  शिखा :: अपनी कुल परम्परा के अनुरूप शिखा-चुटिया को दक्षिणावर्त अथवा वामावार्त्त रूप से बाँधने  की परम्परा शिखा कहलाती है।
(9).  पाद :: अपने-अपने गोत्रानुसार लोग अपना पाद प्रक्षालन करते हैं। ये भी अपनी एक पहचान बनाने के लिए ही, बनाया गया एक नियम है। अपने-अपने गोत्र के अनुसार ब्राह्मण लोग पहले अपना बायाँ पैर धोते, तो किसी गोत्र के लोग पहले अपना दायाँ पैर धोते, इसे ही पाद कहते हैं।
(10). देवता ::  प्रत्येक वेद या शाखा का पठन, पाठन करने वाले किसी विशेष देव की आराधना करते हैं, वही उनका कुल देवता यथा भगवान् विष्णु, भगवान् शिव, माँ दुर्गा, भगवान् सूर्य इत्यादि देवों में से कोई एक आराध्‍य देव हैं। 
(11). द्वार ::  यज्ञ मण्डप में अध्वर्यु (यज्ञकर्त्ता)  जिस दिशा अथवा द्वार से प्रवेश करता है अथवा जिस दिशा में बैठता है, वही उस गोत्र वालों की द्वार या दिशा  कही जाती है।
दशनाम गोस्वामी :: दशनाम गोस्वामियों की 10 शाखाएँ और 52 मढ़ियाँ हैं। पूरा दशनाम गोस्वामी समाज इन्हीं में विभक्त है। प्राचीनकाल में मढ़ियों के नाम बड़े गुप्त रखे जाते थे, ताकि अन्य पंथ या सम्प्रदाय का व्यक्ति दशनाम गोस्वामियों में शामिल न हो जाये। जब कोई व्यक्ति दशनाम संन्यासी बनता था, तब गुरू उसके कान में मंत्र फूंकता था और उसे उसकी मढ़ी का नाम बताया जाता था। शिष्य से यह अपेक्षा की जाती थी कि वह अपनी मढ़ी के बारे में सार्वजनिक रूप से कभी भी प्रकट नहीं करेगा। उस समय विभिन्न पंथों या सम्प्रदायों में आपस में बड़ा बैर रहता था। वे एक-दूसरे के खून के प्यासे रहते थे। सदा यह खतरा बना रहता था कि कहीं दूसरे पंथ या सम्प्रदाय का व्यक्ति उनके संगठन में घुसकर उनके संगठन को नुकसान न पहुँचा दे। मढ़ियों की परम्परा का विकास हजारों साल के निरनतर प्रवाह का परिणाम है। 
ब्राह्मणों के गोत्रों और गोस्वामियों के गोत्रों में एकरूपता है। शांडिल्य गोत्र  सम्बन्धित ब्राह्मणों की सँख्या पंजाब ओर बिहार में कुछ ज्यादा ही है। 
औदिच्य ब्राह्मण :: इनके सम्बन्ध में जानकारी 950 ई. के लगभग उपलब्ध है। 942 ई. में मूलराज सोलंकी ने गुजरात में अपने मामा सामंत सिंह चावड़ा जो कि तत्कालीन सत्तारूढ़ राजा थे, की हत्या के बाद अन्हीलपुर पाटन के सिंहासन पर कब्जा किया था। सत्तारूढ़ राजा और पुजारी की हत्या घृणित अपराध हैं। इन अपराधों का प्रायश्चित आत्मदाह है। जब मूलराज को राजा की हत्या के अपराधी के रूप जाना गया, तो राज्य में उसे पाप का भागी होने से बचाने के लिए राज्य का कोई श्रीमाली ब्राह्मण अन्य प्रायश्चित कराने को तैयार नहीं हुआ। गुजरात में ये याजक ब्राह्मण चावड़ा राजाओं के साथ श्रीमाल भिन्न्मल, दक्षिण राजस्थान से आये थे। श्रीमाली ब्राह्मण राज्य के सरकारी याजक थे। उनके कार्य क्षेत्र में, धर्म और न्याय शमिल था। उन्होंने मूलराज को आशीर्वाद देने और उसे राजा के रूप में घोषित करने से मना कर दिया था। किसी भी तरह, समझाने, धन, लालच, धमकी आदि का उन ब्राह्मणों पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ा।
तब एक राजा के रूप में सिंहासनारूढ़ मूलराज ने प्रायश्चित के रूप में रुद्र यज्ञ करने और रुद्रमहल-भगवान् शिव को समर्पित विशाल मंदिर का निर्माण कराने का संकल्प किया। फिर भी कोई श्रीमाली ब्राह्मण पुजारी यज्ञ कराने या उसे राजा मानने को तैयार नहीं हुआ। यदि सिंहासन लंबे समय तक खाली रहे, तो अराजकता की स्थिति पैदा हो जाती है। तभी चावड़ा वंशियों ने सिंहासन पर अपने-अपने दावे पेश करने शुरू कर दिये। राज्य की सीमा पर दुश्मनों ने आक्रमण की तैयारी शुरू कर दी। शासन कायम रखने के लिये तत्कालिक कार्रवाई जरूरी थी। श्रीमाली याजक परिस्थितियों को समझने के बाद भी, व्यावहारिक रूप से स्वीकार करने और मूलराज के हत्या के कारणों और साख से एकमत नहीं थे। 
तब बड़ी सँख्या में विद्वान और बुद्धिमान ब्राह्मण परिवारों को लुभाने के लिए, उन्हें जागीर और राज्य याजक के रूप में पदों की पेशकश की गई। मूलराज के मूल प्रदेश कन्नौज से ब्राह्मण परिवारों को आमंत्रित किया गया।1037 ब्राह्मण परिवारों का एक बड़ा कारवां सिद्धपुर पाटन पहुँचा। इस प्रकार उत्तर दिशा से आये ब्राह्मणों को औदिच्य ब्राह्मण कहा गया। उनकी मूल वंश परम्परा यथावत कायम रही। इन ब्राह्मणों के कुलनाम और मूलस्थान इस प्रकार थे :- जमदग्नि, वत्सस, भार्गव (भृगु), द्रोण, दालभ्य, मंडव्य, मौनाश, गंगायण, शंकृति, पौलात्स्य, वशिष्ठ, उपमन्यु, 100 च्यवन आश्रम, कुल उद्वाहक, पाराशर, लौध्क्षी, कश्यप; नदियों :- गंगा एवं यमुना, सिहोरे और सिद्धपुर क्षेत्रों से 105 विमान, 100 सरयू नदी दो भारद्वाज कौडिन्य, गर्ग, विश्वामित्र, 100 कान्यकुब्ज, 100 कौशिक, इन्द्र कौशिक, शंताताप, अत्री, 100 हरिद्वार क्षेत्र और औदालक, क्रुश्नात्री, श्वेतात्री, चंद्रत्री 100 नेमिषाराण्य, अत्रिकाषिक सत्तर, गौतम, औताथ्य, कृत्सस, आंगिराश, 200 विमान कुरुक्षेत्र, चार शांडिल्य, गौभिल, पिप्लाद, अगत्स्य, 132 के सिद्धपुर पाटन पर पहुँचने पर; औदिच्यों ने पुष्कर क्षेत्र (अगत्स्य, महेंद्र) के गाँव बसाए। 
अयाचक (भूमिहार, बाभन, त्यागी) ::भगवान् परशुराम ने 21 बार क्षत्रियों नष्ट करके पृथ्वी ब्राह्मणों को दे दी , मगर हर बार ब्राह्मणों ने यह भूमि क्षत्रियों को लौटा दी। कुछ ब्राह्मण वंशियों ने खेती-बाड़ी, पशु पालन को अपना लिया, जो कि वैश्यों के कर्म हैं। कुछ ने युद्ध को अपनाया, जो कि क्षत्रियों के कर्म हैं। वे केवल नाम के ब्राह्मण रह गये। वर्तमान काल में तो ब्राह्मणों ने पूरी तरह स्वयं को ब्राह्मणोचित कर्मों से अलग कर लिया है और हर क्षेत्र में हाथ आज़मा रहे हैं। इस  प्रकार के ब्राह्मण जो खेती-बाड़ी, युद्ध या प्रशासनिक कार्यों में लगे हैं, समयानुसार भूमिहार कहलाये। अयाचक जो याचना न करे अर्थात दान-धर्म से गुजारा न करे, अपने शौर्य, पराक्रम एवं बुद्धिमत्ता के लिये जाने जाते हैं। बिहार, पश्चिचमी उत्तर प्रदेश एवं झारखण्ड में निवास करने वाले भूमिहार, अयाचक ब्राह्मण हैं। अयाचक ब्राह्मण अपने विभिन्न नामों के साथ भिन्न भिन्न क्षेत्रों में अभी तक तो अधिकतर कृषि कार्य करते थे, लेकिन पिछले कुछ समय से विभिन्न क्षेत्रों में अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं।
इन्हें पश्चिमी उत्तर प्रदेश, उत्तरांचल, दिल्ली, हरियाणा व राजस्थान के कुछ भागों में त्यागी, पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार व बंगाल में भूमिहार, जम्मू कश्मीर, पंजाब व हरियाणा के कुछ भागों में महियाल, मध्य प्रदेश व राजस्थान में गालव, गुजरात में अनाविल, महाराष्ट्र में चितपावन एवं कार्वे, कर्नाटक में अयंगर एवं हेगडे, केरल में नम्बूदरीपाद, तमिलनाडु में अयंगर एवं अय्यर, आंध्र प्रदेश में नियोगी एवं राव तथा उड़ीसा में दास एवं मिश्र आदि उपनामों से जाना जाता है। 
मगध के महान पुष्य मित्र शुंग और कण्व वंश दोनों ही ब्राह्मण राजवंश भूमिहार ब्राह्मण-बाभन थे। भूमिहार ब्राह्मण भगवान् परशुराम को प्राचीन काल से ही, अपना मूल पुरुष और कुल गुरु मानते हैं। भूमिहार पाण्डेय, तिवारी-त्रिपाठी, मिश्र, शुक्ल, उपाध्यय, शर्मा, ओझा, दुबे-द्विवेदी, राय, शाही, सिंह-सिन्हा, चौधरी, ठाकुर उपनामों (surname) का प्रयोग करते हैं। कुछ भूमिहार अब भी पुरोहिताई करते हैं। बिहार के मैथिल,  प्रयाग की त्रिवेणी के सभी पंडे भूमिहार ही हैं। हजारीबाग के इटखोरी और चतरा थाने के 8-10 कोस में बहुत से भूमिहार राजपूत, बंदौत, कायस्थ और माहुरी आदि की पुरोहिती सैकड़ों वर्षों से करते चले आ रहे हैं। गजरौला, ताँसीपुर के त्यागियों का भी यही पेशा है। गया के देव के सूर्यमंदिर के पुजारी भूमिहार ब्राह्मण ही हैं। बनारस राज्य भूमिहार ब्राह्म्णों के अधिपत्य में 1725-1947 तक रहा। इसके अलावा कुछ अन्य बड़े राज्य बेतिया, हथुवा, टिकारी, तमकुही, लालगोला इत्यादि भी भूमिहार ब्राह्म्णों के अधिपत्य में थे। बनारस के भूमिहार ब्राह्मण राजा ने अंग्रेज वारेन हेस्टिंग और अंग्रेजी सेना की ईंट से ईंट बजाई थी। 1857 में हथुवा के भूमिहार ब्राह्मण राजा ने, अंग्रेजो के खिलाफ सर्वप्रथम बगावत की थी। अनापुर राज, अमावा राज, बभनगावां राज, भरतपुरा धरहरा राज, शिवहर मकसुदपुर राज, औसानगंज राज, नरहन स्टेट, जोगनी स्टेट, पर्सागढ़ स्टेट (छपरा), गोरिया कोठी स्टेट (सिवान), रूपवाली स्टेट, जैतपुर स्टेट, हरदी स्टेट, ऐनखा जमींदारी, ऐशगंज जमींदारी, भेलावर गढ़, आगापुर स्टेट, पैनाल गढ़, लट्टा गढ़, कयाल गढ़, रामनगर जमींदारी, रोहुआ स्टेट, राजगोला जमींदारी, पंडुई राज, केवटगामा जमींदारी, घोसी स्टेट, परिहंस स्टेट, धरहरा स्टेट, रंधर स्टेट, अनापुर स्टेट (इलाहाबाद), चैनपुर मंझा, मकसूदपुर, रुसी खैर, मधुबनी, नवगढ़ भूमिहारों से सम्बंधित हैं। इनके आलावा अन्य असुराह स्टेट, कयाल औरंगाबाद में बाबु अमौना तिलकपुर शेखपुरा स्टेट, जहानाबाद में तुरुक तेलपा स्टेट, क्षेओतर गया बारों स्टेट (इलाहाबाद), पिपरा कोय्ही स्टेट (मोतिहारी) इत्यादि हैं। दंडी स्वामी सहजानंद सरस्वती (जुझौतिया ब्राह्मण, भूमिहार ब्राह्मण, किसान आंदोलन के जनक), बैकुन्ठ शुक्ल (14 मई 1934 को ब्रिटिश हुकूमत द्वारा फाँसी दी गई थी), यमुना कर्जी, शील भद्र याजी, मंगल पांडे 1857 के क्रांति वीर, कर्यनन्द शर्मा, योगेन्द्र शुक्ल, चंद्रमा सिंह, राम विनोद सिंह, राम नंदन मिश्र, यमुना प्रसाद त्रिपाठी, महावीर त्यागी, राज नरायण, रामवृक्ष बेनीपुरी, अलगू राय शास्त्री, राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर, राहुल सांस्कृत्यायन, बनारस के राजा चैत सिंह ने अंग्रेजो के खिलाफ संघर्ष किया और वारेन हेस्टिंग की अंग्रेजी सेना को धूल चटाई थी। देवीपद चौधरी, राज कुमार शुक्ल (ने चम्पारण आंदोलन की शुरुवात की), फ़तेह बहादुर शाही हथुवा के राजा ने 1857 में अंग्रेजो के खिलाफ सर्व प्रथम विद्रोह किया। काशी नरेश द्वारा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के लिए कई हज़ार एकड़ भूमि दान दी गई। योगेंद्र नारायण राय लालगोला (मुर्शिदाबाद) के राजा अपने दान व परोपकारी कार्यो के लिए प्रसिद्ध भूमिहार ब्राह्मण थे। 
कान्यकुब्ज शाखा से निकले कुछ लोगों को भूमिहार ब्राह्मण कहा गया। सारस्वत, महियल, सरयूपारी, मैथिल, चितपावन, कन्नड़ आदि शाखाओं के अयाचक ब्राह्मण पूर्वी उत्तर प्रदेश तथा बिहार में भी मिलते हैं। मगध के बाभन, मिथिलांचल के पश्चिमा तथा प्रयाग के जमींदार ब्राह्मण भी अयाचक होने से भूमिहार ब्राह्मण ही हैं।भूमिहार ब्राह्मण के कुछ अन्य मूल (कूरी) इस प्रकार है :: (1). कान्यकुब्ज शाखा से :-  दोनवार, सकरवार, किन्वार, ततिहा, ननहुलिया, वंशवार के तिवारी, कुढ़ानिया, दसिकर, आदि। (2). सरयूपारी शाखा से :– गौतम, कोल्हा (कश्यप), नैनीजोर के तिवारी, पूसारोड (दरभंगा) खीरी से आये पराशर गोत्री पांडे, मुजफ्फरपुर में मथुरापुर के गर्ग। गर्ग गोत्री शुक्ल, गाजीपुर के भारद्वाजी, मचियाओं और खोर के पांडे, म्लाओं के सांकृत गोत्री पांडे, इलाहबाद के वत्स गोत्री गाना मिश्र, राजस्थान आदि पश्चिमोत्तर क्षेत्र के पुष्करणा, पुष्टिकरणा, पुष्टिकर ब्राह्मण आदि। (3). मैथिल शाखा से :– मैथिल शाखा से बिहार में बसने वाले कई मूल के भूमिहार ब्राह्मण आये हैं। इनमें सवर्ण गोत्री बेमुवार और शांडिल्य गोत्री दिघवय-दिघ्वैत और दिघ्वय संदलपुर, बहादुरपुर के चौधरी (चौधरी, राय, ठाकुर, सिंह) आदि, प्रमुख हैं। (4). महियालो से :– महियालो की बाली शाखा के पराशर गोत्री ब्राह्मण पंडित जगनाथ दीक्षित छपरा (बिहार) में एकसार स्थान पर बस गये। एकसार में प्रथम वास करने से वैशाली, मुजफ्फरपुर, चैनपुर, समस्तीपुर, छपरा, परसगढ़, सुरसंड, गौरैया कोठी, गमिरार, बहलालपुर आदि गाँव में बसे हुए पराशर गोत्री एक्सरिया मूल के भूमिहार ब्राह्मण हो गए। (5). चित्पावन से :– न्याय भट्ट नामक चितपावन ब्राह्मण सपरिवार श्राध हेतु गया कभी पूर्व काल में आए थे। अयाचक ब्राह्मण होने से इन्होने अपनी पोती का विवाह मगध के इक्किल परगने में वत्स गोत्री दोनवार के पुत्र उदय भान पांडे से कर दिया और भूमिहार ब्राह्मण हो गए। पटना डाल्टनगंज रोड पर धरहरा, भरतपुर आदि कई गाँव में तथा दुमका, भोजपुर, रोहतास के कई गाँव में ये चितपावन मूल के कौन्डिल्य गोत्री अथर्व भूमिहार ब्राह्मण रहते हैं। 
कुछ भूमिहार कान्यकुब्ज की शाखा से सम्बन्ध रखते हैं, जिनका मूलस्थान मदारपुर है, जो कि कानपुर-फरूखाबाद की सीमा पर बिल्हौर स्टेशन के पास है। 1528 में बाबर ने मदारपुर पर अचानक आक्रमण कर दिया। इस भीषण युद्ध में वहाँ के ब्राह्मणों सहित सब लोग मारे गये। इस हत्याकांड से किसी प्रकार अनंतराम ब्राह्मण की पत्नी बच निकली थी जो कि बाद में एक बालक को जन्म दे कर इस लोक से चली गई। इस बालक का नाम गर्भू तेवारी रखा गया। गर्भू तेवारी के खानदान के लोग कान्यकुब्ज प्रदेश के अनेक गाँव में बसते हैं। कालांतर में इनके वंशज उत्तर प्रदेश तथा बिहार के विभिन्न गाँव में बस गए। गर्भू तेवारी के वंशज भूमिहार कहलाये। इनसे वैवाहिक संपर्क रखने वाले समस्त ब्राह्मण कालांतर में भूमिहार कहलाये। गढ़वाल काल के बाद मुसलमानों से त्रस्त भूमिहार ब्राह्मणों ने कान्यकुब्ज क्षेत्र से पूर्व की ओर पलायन प्रारंभ किया और अपनी सुविधानुसार यत्र तत्र बस गए तथा अनेक उपवर्गों के नाम से संबोधित होने लगे, यथा :- ड्रोनवार, गौतम, कान्यकुब्ज, जेथारिया आदि। अनेक कारणों, अनेक रीतियों से उपवर्गों का नामकरण किया गया। कुछ लोगो ने अपने आदि पुरुष से अपना नामकरण किया और कुछ लोगो ने गोत्र से। कुछ का नामकरण, उनके स्थान से हुआ जैसे :- सोनभद्र नदी के किनारे रहने वालों का नाम सोन भरिया, सरस्वती नदी के किनारे वाले सर्वारिया, सरयू नदी के पार वाले सरयूपारी आदि। मूलडीह के नाम पर भी कुछ लोगों का नामकरण हुआ, जैसे जेथारिया, हीरापुर पण्डे, वेलौचे, मचैया पाण्डे, कुसुमि तेवरी, ब्र्हम्पुरिये, दीक्षित, जुझौतिया आदि। पिपरा के मिसिर, सोहगौरा के तिवारी, हिरापुरी पांडे, घोर्नर के तिवारी, माम्खोर के शुक्ल, भरसी मिश्र, हस्त्गामे के पांडे, नैनीजोर के तिवारी, गाना के मिश्र, मचैया के पांडे, दुमतिकार तिवारी आदि भी भूमिहार ब्राह्मण हैं। 
भूमिहार ब्राह्मणों के पूर्वांचली प्रमुख उपनाम :- राय, शर्मा , सिंह, चौधरी, सिन्हा, पाण्डेय, मिश्र, तिवारी, दीक्षित, शुक्ला, शाही, प्रधान।  
प्रादेशिक उपनाम :: (1). बिहार एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश में :- भूमिहार,  (2). पंजाब एवं हरियाणा में :– मोहयाल, (3). जम्मू कश्मीर में :– पंडित, सप्रू, कौल, दार-डार, काटजू आदि, (4). मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तरप्रदेश में आगरा के निकटस्थ :– गालव,  (5). उत्तर प्रदेश में :– त्यागी एवं भूमिहार, (6). गुजरात में :– अनाविल, देसाई, जोशी, मेहताद्ध-मेहता, (7). महाराष्ट्र में :– चितपावन, (8). कर्नाटक में :– चितपावन, (9). पश्चिमी बंगाल :– भादुड़ी, चक्रवर्ती, गांगुली, मैत्रा, सान्याल आदि, (10). उड़ीसा में :– दास, मिश्र, (11). तमिलनाडू में :– अयर, आयंगर, (12). केरल में :– नंबूदरीपाद, (13). राजस्थान में :– बांगर, पुष्कर्णा, पुष्टिकरणा, पुष्कर्ण, पुरोहित, रंग, रंगा एवं रूद्र, बागड़ा और (14). आन्ध्रप्रदेश में :– राव और नियोगी।
जायसवाल ब्राह्मण :: भौगोलिक आधार पर ब्राह्मण वर्ग निम्न दो हिस्सों में बँटा है :- 
(1). पंच गौड़ जो विंध्याचल के उत्तर में निवास करते हैं और (2). पंच द्रविड़ जो विंध्याचल के दक्षिण भाग में निवास करते हैं। 
जायसवाल ब्राह्मण गोत्र कात्यायन, उपमन्यु, गौतम, गर्ग, वसिष्ठ, गौर, भार्गव, वत्स, कौशिक, धनंजय, सस्कृत, कविस्तु, पराशर, सवर्ण, कश्यप, काश्यपा, काश्यप, भारद्वाज, शांडिल्य, मित्रा, विश्वामित्र, ऋषि, ब्रह्मचारी, गौरहर, चौरसिया, शिव, शर्मा, बराई, भगत, रसेल, राजधी वंशो से गुरु-शिष्य परम्परा के माध्यम से जुड़ा है। 
जायसवाल पंच गौड़ में कान्यकुब्ज की शाखा है। जायसवाल मुख्यतः चंद्रवंशी या गाढ़ीवाल होते है। इनमें क्षात्रत्व एव ब्राह्मणत्व के उत्तम गुणों का प्राकट्य होता है। जायसवाल  शाखा नागर भी है। जायसवालों की नागर एवं शाकाद्वीपी ब्राह्मणो से ऐतिहासिक साम्यता है। कुछ जायसवाल नेपाल या उत्तर भारत के चौरासी-चौरासिये  या  शिव ब्राह्मण भी कहालाते हैं। चौरासियों और नागरों  के बीच नाग या नागर वेल भी विशिष्ट कड़ी है। परिस्थितिवश कुछ जायसवालों स्वर्णकार था। यह शाखा उत्कल और बर्मन ब्राह्मणो में भी मिलते हैं। उत्तर भारत से गुजरात में जाकर बसे जायसवाल ब्राह्मण ठाकुर-जागीरदार कहलाते हैं। उपनाम के तौर पर ये गौर, गर्ग, भगत, वैश, दूबे, प्रसाद, चौधरी, राय, ठाकुर, साहू, मालवीय, गुप्त, शर्मा, वर्मा, वर्मन, बर्मन इत्यादि लिखते हैं।
उत्तर एवं पूर्व भारत के ब्राह्मण समान्यतः अपने नाम के  साथ रंजन, चन्द्र, राम, प्रसाद, कुमार आदि लगाते हैं। 
निपुण शासक और बहादुर योद्धा रहोने के कारण इन्हें जायसवाल राजपूत या योद्धा ब्राह्मण भी कहा जाता रहा है। 
पूर्व व उत्तर पूर्व भारत एवं दक्षिण पूर्व एशिया व सुदूर पूर्व के ब्राह्मण वंशी  राजा अपने नाम के साथ गुप्त, वर्मा, वर्मन, बर्मन का प्रयोग करते रहे हैं। 
गुप्त नामधारी ब्राह्मण वैधक करते रहे हैं और स्वयं को भगवान् धन्वन्तरी के वंशज कहते हैं।
महाराष्ट्र और द्रविड़ जायसवाल ब्राह्मण अटके, महाजन, काळे, प्रसाद, चौधरी, दहेले का उपनाम प्रयोग करते हैं। 

गौड़, सारस्वत एव गौड़ सारस्वत, कोंकणस्थ मे भी जायसवाल ब्राह्मण पाये जाते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

ENGLISH CONVERSATION (2) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

ENGLISH CONVERSATION (7) अंग्रेजी-हिन्दी बातचीत

AYURVED (1-3) आयुर्वेद