HINDU PHILOSOPHY (3) हिंदु दर्शन हिंदु धार्मिक अवधारण CONCEPTIONS IN HINDUISM

 HINDU PHILOSOPHY (3) हिंदु दर्शन 
हिंदु धार्मिक अवधारण  CONCEPTIONS IN HINDUISM
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By :: Pt. Santosh Bhardwaj  
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com   bhagwatkathamrat.wordpress.com jagatguru.blog.com   jagatgurusantosh.blog.com
Dharm has nothing to do with any ideology. Its purely a matter of faith. The Brahm is Par Brahm Parmeshwar-the Almighty.Its truth-virtues-piousity-righteousness-honesty. Religion has nothing to with opinions, ideology, philosophy. Its unbiased and beneficial to the devotee. It does not find grievances-faults with one who does not observe religious practices. It has no complaint against the atheist as well or one who does not believe religion. It does not compel any one to join. If some one forces others to discard it he commits a crime-sin.
GOD IS ONE एकेश्वरवाद :- The Almighty is one.Hinduism firmly believe that there is only one God-The Almighty. His incarnations are divine & number less. He appeared to help the humans & deities.The learned-enlightened do not find any difference of opinion, discrepancy, confusion with it. Variations are observed due to regional variations. However there are deities and demigods who perform specific functions. This is divine division of labor. The Hindu has firm faith in the existence of demigods, deities which are 33,00,00,000 in number. Each and every deity has to perform its duty.The Almighty is Supreme. He guides each and every activity, process, endeavor. Our universe has Trinity of Gods, called Brahma, Vishnu and Mahesh. They are not the only one forming trinity. Infinite galaxies have infinite numbers of universes, each having this trinity. However the Ultimate is Brahm-the Almighty who takes care of all abodes. Please refer to                                                               HINDUISM (हिन्दुत्व:जीवन की उत्पत्ती ) CHAPTER-(2) :: EVOLUTION OF LIFE 
over santoshkipathshala.blogspot.com
There is only one religion which is eternal-since ever, for ever, called Sanatan Dharm or Hindu Dharm.. This is ancient beyond the limits of time and physical boundaries. 
Hindus follow various routes to assimilate in the Almighty, like Karm Yog, Gyan Yog, Bhakti Yog, asceticism, equanimity, social welfare, prayers, worship, fasts, pilgrimages etc..
Hindu knows that there are various abodes other than this earth which are inhabited by divine and physical-mortal beings.
Hindu has firm faith in life after death, reincarnation, impact of deeds, truth & virtues.
A Hindu finds the presence of God in each and every species and commodity.
धर्म का किसी तरह की विचारधारा से कोई भी संबंध नहीं है, बल्कि सिर्फ और सिर्फ ब्रह्म ज्ञान से संबंध है। ब्रह्म ज्ञान के अनुसार प्राणी मात्र सत्य है। सत्य का अर्थ यह भी और वह भी दोनों ही सत्य है। सत् और तत् मिलकर बना है सत्य।
अनन्त काल की लंबी परंपरा के कारण हिंदु धर्म में अनेक मतान्तर (-difference of opinions, discrepancies, confusions) हो सकते हैं। इनका समाधान निकलता है शास्त्रार्थ से। शास्त्रार्थ वाद-विवाद नहीं है; अपितु प्रमाण, युक्ति, सुझावों का समावेश है। समय, काल, देश-स्थान के अनुरूप मर्यादाएँ, मान्यताएँ बदलती रहती हैं, रीति-रिवाज  बदलते रहते हैं मगर धर्म का स्वरूप अपरिवर्तनीय है। 
अनेकानेक पूजा-पाठ, प्रार्थना, पद्धतियाँ, तीज-त्यौहार हैं, मगर उन्हें मानने की कोई बाध्यता नहीं है। 
गाय, नाग, बंदर, बैल आदि को पवित्र समझकर उनकी उपयोगिता के अनुरूप पूजा करते हैं। 
ग्रह नक्षत्रों की पूजा ज्योतिष, कर्म फल-दोष को दूर करने के लिए की जाती है। ग्रह-नक्षत्र केवल पिण्ड मात्र नहीं हैं, उनका दैवीय रूप भी है। वे हमेशां प्राणी की हर तरह से समुचित सहायता के लिए तत्पर रहते हैं। 
GUIDING PRINCIPLES:- A Hindu has firm faith in scriptures, epics & history. Veds constitutes the guiding principles of Hindu society, faith, culture. way of living. Unfortunately the Veds which are available these days are edited versions, which are just one sixth of the original text. Interpretations of Veds are different due to personal greed-egoistic attitude. Such interpretation are not binding over others. Saints, scholars, philosophers, enlightened sit together to sort out the ambiguities-misinterpretations.
षड्दर्शन :- हिंदु धर्म में इस ब्रह्म को जानने के लिए कई तरह के मार्गों का उल्लेख किया गया है। वेदों के इन मार्गों के आधार पर ही इन 6 तरह के दर्शन (1). न्याय, (2). वैशेषिक, (3). सांख्य, (4). योग, (5). मीमांसा और (6). वेदांत को लिखा गया जिसे षड्दर्शन कहते हैं। वेद और उपनिषद को जान-समझकर ऋषियों ने इनकी समीक्षा-दर्शन की, रचना की।ये धर्म के मार्ग दर्शक सिद्धान्त हैं। ब्रह्म दर्शन को समझकर सभी तरह के विचार, संदेह, शंकाएं मिट जाती हैं। 
वेद को श्रु‍ति ग्रंथ कहा जाता है अर्थात जिन्होंने इसे सुना। वेद को छोड़कर सभी अन्य ग्रंथों को स्मृति ग्रंथ कहा जाता है अर्थात सुनी हुई बातों का पीढ़ी-दर-पीढ़ी स्मरण रखना और उसे समय तथा काल के अनुसार ढालना। श्रु‍ति ग्रंथ वेद अपरिवर्तनशील है, क्योंकि इनकी रचना मूल छंद और काव्य के रूप में इस तरह के विशेष ध्वनि शब्दों से हुई है जिसके कारण इनमें संशोधन या परिवर्तन करना असंभव है।
वैदिक ज्ञान को अच्छे तरीके से षड्दर्शन और स्मृतियों के माध्यम से समझाया गया है। वेदों का सार या कहें कि निचोड़ उपनिषद है। उपनिषद लगभग 1,000 से ज्यादा है। उपनिषदों का सार और निचोड़ ‘ब्रह्मसूत्र’ है।
ब्रह्मसूत्र का भी सार और निचोड़ गीता है। वेदों का केंद्र है- ब्रह्म। ब्रह्म को ही ईश्वर, परमेश्वर और परमात्मा कहा जाता है। सभी तरह की स्मृतियां, सूत्र, उपवेद आदि सभी वेदों को अच्छे से समझने और समझाने वाले ग्रंथ हैं। पुराण, रामायण और महाभारत जैसे ग्रंथ इतिहास को प्रकट करते हैं। 
श्रुतिस्मृतिपुराणानां विरोधो यत्र दृश्यते।तत्र श्रौतं प्रमाणन्तु तयोद्वैधे स्मृति‌र्त्वरा।।
जहाँ कहीं भी वेदों और दूसरे ग्रंथों में विरोध दिखता हो, वहाँ वेद की बात ही मान्य होगी, अर्थात वेद ही प्रमाण हैं। [वेदव्यास]
ब्रह्म ही सत्य है। ब्रह्म शब्द का कोई समानार्थी शब्द नहीं है। ब्रह्म को जानना अति जटिल और कठिन है। इस ब्रह्माण्ड में केवल भगवान् हे ऐसे हैं जो ब्रह्म को कुछ-कुछ जानते हैं। ब्रह्म को जानने का एकमात्र उपाय योग, ध्यान, चिंतन, तपस्या और समर्पण है। 
33 करोड़ देवी-देवताओं की पूजा उन्हें ईश्वर का रूप मानकर विशेष कार्यसिद्धि हेतु की जाती है।  वेद, उपनिषद, पुराण, रामायण, महाभारत, इतिहास, ब्राह्मण गीता आदि में इसकी विस्तृत व्यख्या की गई है जो तर्कसंगत है। ब्रह्म ही सर्वोच्च सत्ता है और त्रिदेव या देवी-देवता भी उस ब्रह्म के प्रति नतमस्तक हैं।
वर्ण व्यवस्था :- ब्रह्मा जी से चारों वर्णों की उत्त्पत्ति हुई। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। 
CASTE SYSTEM जाति प्रथा :- The division of society into castes by Manu is based over financial-economic considerations, in addition to division of labor, physical strength, tolerance, intelligence, which is purely scientific and systematic. It do not produce discrepancies-difference of opinion, which are the result of selfish-egoistic person interests. Inheritance plays vital role in acquisition of skill and ability to perform certain traits, trades, crafts, warfare, teaching & learning.
जाति बिरादरी कार्य के अनुरूप है और शास्त्रीय प्रमाण उपलब्ध हैं, जो कि यह सिद्ध करते हैं कि जाति परिवर्तनीय है। वर्तमान काल तो इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। शूद्र राजा और व्यवसायी हो गए हैं। ब्राह्मणों के बच्चे उच्च अंक-श्रेणी पाकर भी नौकरी के लिए दर-दर भटक रहे हैं। 
धर्म संस्थापक :-  इस धर्म का कोई संस्थापक नहीं है, क्योंकि धर्म का कोई संस्थापक नहीं हो सकता। वेदों का ज्ञान परमेश्वर से त्रिदेवों ने सुना फिर 4 ऋषियों ने सुना। ये 4 ऋषि हैं : अग्नि, वायु, अंगिरा और आदित्य। हर मन्वन्तर में ऋषि, मनु, इन्द्र अलग होते हैं। ये ही हैं मूल रूप से प्रथम संस्‍थापक। भगवान् के अवतार धर्म की पुनर्स्थापना का कार्य सम्पादन करते हैं। भगवान् श्री कृष्ण जो कि पूर्ण अवतार अर्थात अवतारी हैं, ही परब्रह्म परमेश्वर हैं। 
यदा-यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत।अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्‌॥4-7॥ 
 हे भारत! जब-जब धर्म की हानि और अधर्म की वृद्धि होती है, तब-तब ही मैं अपने रूप को रचता हूं अर्थात साकार रूप से लोगों के सम्मुख प्रकट होता हूँ।
भगवान् परशुराम ने धर्म की स्थापना हेतु 21 बार अहंकारी क्षत्रियों का विनाश किया। भगवान् श्री राम ने धर्म की स्थापना के लिए दैत्य, दानवों. राक्षसों का संहार किया। मोहिनी रूप धारण करके देताओं को अमृत पिलाया। 
ANIMAL HUMAN SACRIFICE पशु अथवा मानव बलि :-
मा नो गोषु मा नो अश्वेसु रीरिष:। [ऋग्वेद 1-114-8]
हमारी गायों और घोड़ों को मत मार।Hinduism does not advocate human or animal sacrifice of any kind-nature. 
इममूर्णायुं वरुणस्य नाभिं त्वचं पशूनां द्विपदां चतुष्पदाम्। त्वष्टु: प्रजानां प्रथमं जानिन्नमग्ने मा हिश्सी परमे व्योम॥ [यजु.13-50]
उन जैसे बालों वाले बकरी, ऊंट आदि चौपायों और पक्षियों आदि दो पगों वालों को मत मार। 
न कि देवा इनीमसि न क्या योपयामसि। मन्त्रश्रुत्यं चरामसि॥ [सामवेद 2-7]
देवों! हम हिंसा नहीं करते और न ही ऐसा अनुष्ठान करते हैं, वेद मंत्र के आदेशानुसार आचरण करते हैं।
मूर्ति पूजा ::
न तस्य प्रतिमा अस्ति यस्य नाम महाद्यश:। हिरण्यगर्भस इत्येष मा मा हिंसीदित्येषा यस्मान जात: इत्येष:॥ [यजुर्वेद 32]
जिस परमात्मा की हिरण्यगर्भ, मा मा और यस्मान जात आदि मंत्रों से महिमा की गई है, उस परमात्मा (आत्मा) का कोई प्रतिमान नहीं। अग्‍नि‍ वही है, आदि‍त्‍य वही है, वायु, चंद्र और शुक्र वही है, जल, प्रजापति‍ और सर्वत्र भी वही है। वह प्रत्‍यक्ष नहीं देखा जा सकता है। उसकी कोई प्रति‍मा नहीं है। उसका नाम ही अत्‍यं‍त महान है। वह सब दि‍शाओं को व्‍याप्‍त कर स्‍थि‍त है। [यजुर्वेद]
मनुष्य जिस भी मूर्त या मृत रूप की पूजा, आरती, प्रार्थना या ध्यान कर रहे हैं, वह ईश्‍वर नहीं है, ईश्वर का स्वरूप भी नहीं है। [केनोपनिषद]
जो कुछ भी दृष्टिगोचर हो रहा है यथा : मनुष्‍य, पशु, पक्षी, वृक्ष, नदी, पहाड़, आकाश आदि; जो कुछ भी श्रवण किया आज रहा है यथा संगीत, गर्जना आदि केवल इंद्रियों का विषय है, ईश्वरीय नहीं है। ईश्वर के द्वारा हमें देखने, सुनने और सांस लेने की शक्ति प्राप्त होती है। जानकार निराकार सत्य को मानते हैं, जो कि सनातन सत्य है।  वेद के अनुसार ईश्‍वर की न तो कोई प्रति‍मा या मूर्ति‍ है और न ही उसे प्रत्‍यक्ष रूप में देखा जा सकता है।भक्त भी अच्छी तरह जनता है कि मूर्ति-प्रतिमा केवल माध्यम है, भगवान् नहीं है, बल्कि उसका काल्पनिक रूप-छवि है।यह केवल भक्त को ध्यान केंद्रित करने में सहायक है।  
सती प्रथा :- Hinduism do not advocate woman self immolation with the dead body of her husband. Some instances are there which are purely voluntary. Mata Sati immolated her in Yogic-divine fire and her husband Bhagwan Shiv is still present. For further knowledge please refer to :: SATI SYSTEM & WIDOW REMARRIAGE सती प्रथा और विधवा विवाह over bhartiyshiksha.blogspot.com
अंधविश्वास, टोटके और लोक परंपरा :: यदि किसी घटना का साक्ष्य, प्रमाण, पुनरावर्ती अनेकानेक लोगों के समक्ष, विभिन्न स्थानों पर, परिस्थियों में, समय पर हो तो वह रिवाज बन जाती है, भले ही उसका कोई कारण ज्ञात न हो। 
* यदि काली बिल्ली बाएं से दायें रास्ता काट जाये, तो थोड़ी देर के लिए रुक जाना भला। 
* यात्रा के लिए जाते समय अगर कोई पीछे से टोक दे तो थोड़ी देर के लिए रुक जाना भला। * मंगलवार को हनुमान जी की आराधना का दिन होने और गुरुवार को वृहस्पति की पूजा का दिन होने से इन दोनों दिन बाल ना कटवाना और दाढ़ी न बनवाना। 
* घर, वाहन या दुकान के बाहर नींबू-मिर्च लटकाना। 
* अगर कोई आगे से छींक दे तो कार्य को थोड़ी देर के लिए टाल देना भला। * घर से बाहर निकलते वक्त अपना दाँया पैर ही पहले बाहर निकालना चाहिए। 
* जूते-चप्पल उल्टे नहीं रखने चाहिए। 
* रात में किसी पेड़ के नीचे नहीं सोना चाहिए क्योंकि वे रात में कार्बन डाइ ऑक्साइड छोड़ते हैं। 
* रात में बैंगन, दही, कढ़ी, चने, राजमा, अरबी, छोले, चावल और खट्टे पदार्थ  नहीं खाने चाहिए क्योंकि ये बादी करते हैं-गैस बनाते हैं और अपच-एसिडिटी करते हैं। 
* रात में झाडू इसलिए नहीं लगाते, क्योंकि रात्रि में निशाचर, वेश्याएँ दुष्ट शक्तियाँ मुखर होती हैं। खड़ी झाड़ू की सींक से दुर्घटना हो सकती है।
* अंजुली से या खड़े होकर जल नहीं पीना चाहिए, क्योंकि इस प्रक्रिया से घुटने का दर्द हो सकता है। 
* बाँस का प्रयोग काठी बनाने के लिए किया जाता है। बाँस जलने पर विस्फोटक की तरह कार्य करता है और दुर्घटना हो सकती है।  
* मुर्दे की काठी को घर से बाहर निकालते वक्त पैर पहले बाहर निकलते हैं। 
Please refer to INDIAN TRADITIONS IN SCIENTIFIC PURSUIT भारतीय (हिन्दु) रीति-रिवाज-प्रथाएँ-मान्यताएँ वैज्ञानिक दृष्टि कोण bhartiyshiksha.blogspot.com for comprehensive reading.
Contd.

Comments

Popular posts from this blog

ENGLISH CONVERSATION (2) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

ENGLISH CONVERSATION (3) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

HINDU MARRIAGE हिन्दु-विवाह पद्धति