BHARDWAJ CLAN-HIERARCHY भरद्वाज वंश परम्परा

BHARDWAJ CLAN-HIERARCHY
भरद्वाज वंश परम्परा 
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By :: Pt. Santosh Bhardwaj
dharmvidya.wordpress.com hindutv.wordpress.com bhagwatkathamrat.wordpress.com  santoshhastrekhashastr.wordpress.com   santoshkipathshala.blogspot.com santoshsuvichar.blogspot.com  santoshkathasagar.blogspot.com bhartiyshiksha.blogspot.com  

PhotoBhardwaj is a title name of designation granted to the holy souls often called Bhagwan due to their proximity with the trinity of the Almighty: Brahma, Vishnu and Mahesh. The Sapt Rishis occur in every Kalp-Brahma's day and there after in every Manvantar cyclically, like the beads of a revolving rosary in the hands of religious practitioners-The Sadhak. Bhardwaj was a descendant of Sage (-Ṛiṣhi) Angira, whose accomplishments are detailed in the Purans, in the current Manvantr too. He is one of the Sapt Rishis (-Seven Great Sages or Rishis) in the present Manvantr, with others being Atri, Vashishth, Vishwamitr, Gautom, Jamdagni, Kashyap. Bhrdwaj is the name of a bird as well. 
Dev Guru Vrahaspati is the progenitor of the Bhardwaj (-भरद्वाज के पुत्र भारद्वाज) family and the family is attributed as the composers of Sixth Mandal of the Rig Ved. Mandal 6 is known as the Bhardwaj Family Book as all its 75 hymns are composed by a member of this family over several centuries.
Rishi Bhardwaj was the grand son of sage Vrahaspati. His father's name was Shanyu (शंयु), who was the son of Dev Guru Vrahspati.  Dev Guru Vrahaspati was the son of Rishi Angira. Angira, Vrahaspati and Bhardwaj are recognised as Trey Rishi.  Mahrishi Angira, was the elder son of the creator Bhagwan Brahma. Brahma Ji took birth from the naval Lotus of the Nurturer Bhagwan Vishnu. Bhardwaj is the father of Guru Dronachary and grandfather of Ashwasthama. Dronachary was an incarnation of Dev Guru Vrahaspati himself and Ashwatthama is an incarnation of Bhagwan Shiv. Bhardwaj is one of the most exalted Gotr of Brahmns in India.
Dev Guru Vrahaspati entered into sexual intercourse with the wife of his younger brother, who was already had intercourse with her husband. As a result of this relationship a male child was born, who was protected by the king of heaven, Dev Raj Indr. Bhardwaj literary means :- born out of two fathers. There is a bird who too, is known as Bhardwaj. Bhardwaj Rishi and Virath (Bhrdwaj) are two entities. This son was later known as Virath (विरथ) and adopted by the mighty Emperor Bharat, who ruled the earth for 27,000 years. Bharat was the propagator of Chandr-Kuru Vansh clan, born out of the relationship of Dushyant and Shakuntla. One should not be confused with this Bhardwaj, later called Virath with Bhardwaj Rishi, the progenitor, (ancestor, forefather, मूलपुरुष, पुरखा, अग्रगामी, प्रजनक) of Bhardwaj clan. Virath led to the progress of Kuru Vansh, till Mahrishi Ved Vyas led to the birth of Dhrat Rashtr, Pandu and Vidur Ji.
Bhardwaj attained extraordinary scholarship. He had the great power of meditation. He is also the author of Ayur Ved. His Ashram still exists at holy Prayag (-Allahabad).
Bhardwaj is the father of Guru Dronachary and grandfather of Ashwasthama. Bhardwaj is one of the most exalted Gotr of Brahmns in India.
Among all the seven Gotr of Brahmns Bhardwaj constitutes the largest chain. All the disciples of Bhardwaj, since the Treta Yug to Dwapar; adopted Bhardwaj as their surname, since Bhardwaj had no progeny at that time. Dronachary-incarnation of Dev Guru Vrahaspati, took birth near the termination of Dwapar Yug. Prior to Dronachary, Mahrishi Bhardwaj's wife gave birth to 13 golden swans, which died immediately after the death. He has another wife called Shushila, who had a son called Garg. Those who adopted the surname Bhardwaj were originally from different Gotr (-Shasan-branch, lineage, शासन), which are 135 in number, divided into more than 1,400 sub-branches-titles. Bhardwaj is the largest Gotr in India having more than 1,400 branches. 
North India (Panch Goud Brahmans) Kashmir Himachal Pradesh :: Around 60% of Brahmans have Bhardwaj as their Gotr. Around 45% of Brahmans in Punjab have Bhardwaj as their Gotr. In Haryana, around 40%-45% of Brahmans have Bhardwaj as their Gotr. In Rajasthan, around 35% of Brahmans have Bhardwaj as their Gotr and Kul Devta as Bhagwan Nar Singh. South India (Panch Dravid Brahmans), has Vaediki Velanadi Brahmans with Bhardwaj Gotr. In Coastal Andhra Pradesh, Karnatak & Tamil Nadu,  Smarth and Madhav Brahmans are of Bhardwaj lineage. Among Iyers and Iyangars, Namboodari Brahmans of Kerala are from Bhardwaj lineage. Bhardwaj Brahmns who migrated southwards were from Kannauj, with Bhardwaj as their title. 
Gotr: Bhardwaj, Ved: Yajur Ved, Devi: Maha Kali, Isht: Hraday.
In earlier days Sages were only Brahmans except Vishwamitr. Also all the warrior Brahmans became Kshatriy. Later all the business minded Kshatriy became Vaishy-trader community. Hence there are people of all the three communities having a common Gotr, especially Bhardwaj Gotr. 
All the descendants of Bhardwaj Gotr display warrior skills because Mahrishi Bhardwaj married a Kshatriy woman called Sushila had a son called Garg. According to Anulom marriage, the off springs who are born to a Brahman father and a Kshatriy woman take the characteristics of Kshatriy genetically, though technically being a Brahman. Hence the Brahman descendants of Bhardwaj Gotr are referred to as Brahm-Kshatriy (Warrior Brahmans). They are considered to have learning in Veds and war fare, simultaneously.
Bhardwaj's Vedic mantras constitute the sixth Mandal of the Rig Ved by Ved Vyas. Dharm Sutr and Shrut Sutr are written by Bhardwaj. The manuscript-Pandu script is available with the Vishw Vidyalay of Mumbai. He was a grammarian. As per the Rak Tantr, Prati Sakhy of the Sam Ved, Brahma Ji taught grammar to Vrahaspati who in turn taught it to Indr, who transferred this to Bhardwaj. Panini, Rak Prati Sakhy and Taittiriy have quoted and discussed Bhardwaj on grammar. Kautily (Achary Chanky-Vishnu Gupt) has quoted Bhardwaj on politics in his treatise Kautily Arth Shastr, Devant Pram Pak Yantr. 
He had an unquenchable thirst for the knowledge of the Ved and in addition to his studies, meditated on Indr. He also meditated upon Bhagwan Shiv and Maa Parvati for more Vedic knowledge. He was a disciple of Gautom Mahrishi as well as of Valmiki. He was a first hand witness to the incident of the Kaunch birds, where Valmiki uttered his first Shlok. 
The seat-Ashram of Bhardwaj Rishi still exists in Allahabad where a Shiv Ling installed by Bhardwaj is still worshipped. During Tretra Yug (around 17,50, 000 years from now) Bhagwan Shri Ram visited the Ashram. Mahrishi Bhardwaj's wife offered a divine cloth -Saree which would never become stained or dirty. Bhagwan Shri Ram met August-Vashist's son & Gautam. They were aware that the Almighty had descended over the earth & at the Ashram to oblige them. Bhagwan Shri was an incarnation of Bhagwan Vishnu, Maa Sita was an incarnation of Maa Bhagwati Laxmi and Lakshman Ji was an incarnation of Bhagwan Shesh Nag.
Bhardwaj had a daughter called Dev Varnini. Yagy Valakay, the author of the Sat Path Brahman was a descendant of Bhardwaj. The second wife of Yagy Valakay Katyayani, was the daughter of Bhardwaj. Bhardwaj attained extraordinary scholarship. He had the great power of meditation. He is also the author of Ayur Ved. His Ashram still exists at holy Prayag (Allahabad).
His son Dronachary was born as a result of his attraction to an Apsara Ghratachi. Bhardwaj ejected his sperms, when he got excited on looking over Ghratachi. Bhardwaj collected the sperms in a Dona (दोना, boat shaped leaf). Dron took birth out of it. Dron acquired all the abilities of his father in addition to weaponry. Dron also learnt the use of weapons from Agnivesh-Bhagwan Parshu Ram’s disciple and Bhagwan Parshu Ram himself. 
महृषि भरद्वाज :: महर्षि अंगिरा का विवाह दक्ष पुत्री सती से हुआ जिससे महर्षि अथर्वागिंरस का जन्म हुआ। ये अथर्ववेद अधिकांश मंत्रों के ऋषि हैं। वाजपेय यज्ञ के प्रथम कर्त्ता त्रिसन्धि वज्र के निर्माता शिल्पाचार्य देवगुरु एवं नीति शास्त्रज्ञ तथा महान सेना नायक हुए। इनके पुत्र शंयु अग्नि भी ऋषि हैं। वृहस्पति के पौत्र तथा शंयु के पुत्र महर्षि भरद्वाज ने ऋग्वेद के छटे मंडल का सम्पादन किया। इन्हीं के नाम से भरद्वाज वंश चला।
भरद्वाज  ऋषि ने घृतार्ची नामक एक अप्सरा को गंगा स्नान कर निकलते हुये देख कर उनके मन में काम वासना जागृत हुई और उनका वीर्य स्खलित हो गया जिसे उन्होंने एक दोने में रख दिया। कालान्तर में उसी यज्ञ पात्र से द्रोण की उत्पत्ति हुई। द्रोण अपने पिता के आश्रम में ही रहते हुये चारों वेदों तथा अस्त्र-शस्त्रों के ज्ञान में पारंगत हो गये। परशुराम के शिष्य बन कर द्रोण अस्त्र-शस्त्रादि सहित समस्त विद्याओं के अभूतपूर्व ज्ञाता हो गये। द्रोण का विवाह कृपाचार्य की बहन कृपी के साथ हो गया। कृपी से उनका एक पुत्र हुआ। उनके उस पुत्र के मुख से जन्म के समय अश्व की ध्वनि निकली इसलिये उसका नाम अश्वत्थामा रखा गया। किसी प्रकार का राजाश्रय प्राप्त न होने के कारण द्रोण अपनी पत्नी कृपी तथा पुत्र अश्वत्थामा के साथ निर्धनता के साथ रह रहे थे। द्रोण के समस्त विषयों मे प्रकाण्ड पण्डित होने के विषय में ज्ञात होने पर भीष्म पितामह ने उन्हें राजकुमारों के उच्च शिक्षा के नियुक्त कर राजाश्रय में ले लिया और वे द्रोणाचार्य के नाम से विख्यात हुये।
भरद्वाज (-विरथ) की कथा  :: वृहस्पतिं ने अपने भाई उतथ्य की गर्भवती पत्नी के साथ जबरदस्ती मैथुन किया, जिससे भरद्वाज का जन्म हुआ। वृहस्पति ने उसे अपना औरस और अपने भाई का क्षेत्रज अर्थात दोनों का पुत्र-द्वाज कहा (-born out of two fathers) और भाई की पत्नी को उसका भरण-पोषण (-भर) करने को कहा। बच्चे को माँ और बाप दोनों ने छोड़ दिया। वो बच्चा भरद्वाज कहलाया। देवताओं के द्वारा नाम का ऐसा निर्वचन होने पर भी माँ, ममता ने ऐसा समझा कि वो विरथ अर्थात अन्याय से पैदा हुआ है। अतः उसके द्वारा भी छोड़ दिए जाने पर मरुद्गणों ने उसका पालन किया। 
दुष्यन्त और शकुंतला के पुत्र राजा भरत ने 27,000 साल तक शासन किया। उन्होंने अपने पुत्रों को अपने अनुरूप नहीं पाया तो, अपनी पत्नियों को यह बता दिया। उनकी पत्नियों ने अपने बच्चों को इस डर से मार डाला कि राजा कहीं उनको छोड़ न दें। इस प्रकार सम्राट भरत का कुरु-चन्द्र वंश, वितथ-विच्छिन्न होने लगा। तब उन्होंने सन्तान की प्राप्ति के लिये मरुत्स्तोम नामक यज्ञ किया। मरुद्गणों ने प्रसन्न होकर उन्हें भरद्वाज नाम का पुत्र लाकर दिया जो विरथ कहलाया। महाराज भरत ने उसे अपना  दत्तक पुत्र स्वीकार कर लिया।[श्री मद्भागवत 9-20-34 से 39] 
भरद्वाज ऋषि आश्रम, इलाहाबाद :: भरद्वाज आश्रम प्रयाग का महत्वपूर्ण मंदिर है। महर्षि भरद्वाज ज्ञान-विज्ञान, वेद पुराण, आयुर्वेद, धनुर्वेद और विमान शास्त्र के जानकार आचार्य थे। उनका गुरुकुल विद्या और शिक्षा का बहुत बड़ा केंद्र था। वाल्मीकि रामायण में भरद्वाज को इस गुरुकुल का कुलपति कहा गया है।
मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम वन जाते हुए भरद्वाज आश्रम में आए थे। भारद्वाज मुनि ने राम का बड़े प्रेम से स्वागत किया था और उन्हें चित्रकूट जाने का मार्ग बताया था। राम को चित्रकूट से वापस बुलाने के लिए भरत प्रयाग आए, तो उन्होंने ऋषि भरद्वाज के दर्शन किए।ऋषि ने अपने आश्रम के शांत वातावरण में भरत और उनके आए अतिथियों का स्वागत किया था। लंका विजय करके अयोध्या वापस लौटते समय राम ने भरद्वाज ऋषि के दर्शन किए।
इस आश्रम में भारद्वाज ऋषि ने एक शिवलिंग को स्थापित किया था। यह शिव विग्रह आज भी पूजा जाता है। इन्हें भरद्वाजेश्वर शिव कहा जाता है।
इसके अतिरिक्त यजुर्वेद के 16 मन्त्रों के भी ऋषि हैं। इनमें से अधिकांश मंत्रों का देवता अग्नि है। भरद्वाज ने उस अग्नितत्व का साक्षात्कार के उसे साधन युक्त किया और विमानन विज्ञानं को उसकी चरम सीमा तक उन्नत किया जिस पर आज का विज्ञानं भी नहीं पहुंच सका है। इन्होने यंत्र सर्वस्व आकाश शास्त्र, अंशुमतन्त्र तथा भरद्वाज शिल्प इन 4 शिल्प ग्रन्थों की रचना की। यंत्र सर्वस्व में 40 अधिकरण थे जिनमें प्रत्येक में पृथक-पृथक विज्ञानों का वर्णन था। इनमें से केवल वैमानिक अधिकरण के 500 सूत्रों में से 4 सूत्र वोधानन्द की वृति के सहित प्राप्त हुए जिनमें विमान के 32 रहस्यों का वर्णन मिलता है जिन्हें पढ़कर भारत की अद्वितीय शिल्प उन्नति की कर्मावस्था का परिचय मिलता है। भरद्वाज की महती प्रतिभा अनुपम तपस्या एवं वेद विज्ञानं निष्ठां का अद्वितीय वर्णन तैत्तिरीय ब्राह्मण (3, 10, 11) में मिलता है। 
भरद्वाज ऋषि का वैमानिक शास्त्र :: महर्षि भरद्वाज द्वारा लिखित वैमानिक शास्त्र जिसमें एक उड़ने वाले यंत्र विमान के कई प्रकारों का वर्णन किया गया था तथा हवाई युद्ध के कई नियम व प्रकार बताए गए।
वैमानिक शास्त्र में भरद्वाज मुनि ने विमान की परिभाषा, विमान का चालक जिसे रहस्यज्ञ अधिकारी कहा गया, आकाश मार्ग, वैमानिक के कपड़े, विमान के पुर्जे, ऊर्जा, यंत्र तथा उन्हें बनाने हेतु विभिन्न धातुओं का जैसा वर्णन किया गया है जो कि आधुनिक युग में विमान निर्माण प्रकिया से काफी अधिक विकसित है।
भरद्वाज ऋषि द्वारा उनसे पूर्व के विमानशास्त्री आचार्य और उनके ग्रंथों का वर्णन :: (1). नारायण द्वारा रचित विमान चन्द्रिका, (2). शौनक द्वारा रचित व्योमयान तंत्र, (3). गर्ग द्वारा रचित यन्त्रकल्प, (4).  वायस्पति द्वारा रचित यान बिन्दु, (5). चाक्रायणी द्वारा रचित खेटयान प्रदीपिका और (6). धुण्डीनाथ द्वारा रचित व्योमयानार्क प्रकाश।
वैमानिक शास्त्र में उल्लेखित प्रमुख पौराणिक विमान :: (1). गोधा ऐसा विमान था जो अदृश्य हो सकता था। इसके जरिए दुश्मन को पता चले बिना ही उसके क्षेत्र में जाया जा सकता था, (2). परोक्ष दुश्मन के विमान को पंगु कर सकता था। इसकी कल्पना एक मुख्य युद्धक विमान के रूप में की जा सकती है। इसमें प्रलय नामक एक शस्त्र भी था जो एक प्रकार की विद्युत ऊर्जा का शस्त्र था, जिससे विमान चालक भयंकर तबाही मचा सकता था और (3). जलद रूप एक ऐसा विमान था जो देखने में बादल की भाँति दिखता था। यह विमान छ्द्मावरण में माहिर होता था।
कृपाचार्य और कृपी :: गौतम ऋषि के पुत्र का नाम शरद्वान था। उनका जन्म बाणों के साथ हुआ था। उन्हें वेदाभ्यास में जरा भी रुचि नहीं थी और धनुर्विद्या से उन्हें अत्यधिक लगाव था। वे धनुर्विद्या में इतने निपुण हो गये कि देवराज इन्द्र उनसे भयभीत रहने लगे। इन्द्र ने उन्हें साधना से डिगाने के लिये नामपदी नामक एक देवकन्या को उनके पास भेज दिया। उस देवकन्या के सौन्दर्य के प्रभाव से शरद्वान इतने काम पीड़ित हुये कि उनका वीर्य स्खलित हो कर एक सरकंडे पर आ गिरा। वह सरकंडा दो भागों में विभक्त हो गया जिसमें से एक भाग से कृप नामक बालक उत्पन्न हुआ और दूसरे भाग से कृपी नामक कन्या उत्पन्न हुई। कृप भी धनुर्विद्या में अपने पिता के समान ही पारंगत हुये। पितामह भीष्म ने इन्हीं कृप को पाण्डवों और कौरवों की शिक्षा-दीक्षा के लिये नियुक्त किया और वे कृपाचार्य के नाम से विख्यात हुये।

भरद्वाज गौत्र-कुल के तीन प्रमुख स्त्रोत्र :: आंगिरस, वृाहस्पत्य और भरद्वाज। 
(1). आंगिरस :: ये अंगिरा वंशी देवताओं के गुरु बृहस्पति हैं। इनके दो भाई उतथ्य और संवर्त ऋषि तथा अथर्वा जो अथर्व वेद के कर्त्ता हैं और वे भी आंगिरस हैं। ये मनुष्यों के वे प्रथम पुरूष हैं, जिन्होंने मनुष्यों के प्रयोग हेतु अग्नि को उत्पन्न किया, भाषा और छन्द विद्या का प्रवाह किया। इन, ऋग्वेद के नवम मण्डल के मन्त्रों के दृष्टाओं ने अपने वंशधरों को एक मण्डल में स्थापित किया और ब्रह्मदेव से ब्रह्म विद्या प्राप्त कर समस्त ऋषियों को ब्रह्म ज्ञान-तत्व दर्शन का उपदेश दिया। अथर्ववेद का एक कल्प आंगिरस कल्प है। आत्मोपनिषद में इनकी ब्रह्मज्ञान विद्या का निर्देशन है। इन्होंने आदित्यों से स्वर्ग में पहले कौन पहुँचे, ऐसी शर्त लगाई और स्वर्ग काम यज्ञ का अनुष्ठान किया। किन्तु आदित्य स्वयं तेजधारी होने से पहले स्वर्ग पहुँचे। इन्होंने  स्वर्ग से कामधेनु प्राप्त की। ये सर्वप्रथम गोस्वामी बने परन्तु इन्हें गौ दोहन नहीं आता था जिसका ज्ञान इन्होंने अर्यमा सूर्य से प्राप्त किया। ये समस्त भूमण्डल में भ्रमण करने वाले पृथ्वी पर्यटक थे। जिन्होंने विश्व की सभी मानव जातियों को जो महामुनि कश्यप से उत्पन्न हुईं थीं को यथा स्थान बसाया तथा खरबों वर्ष पहले उसे उपयोगी बनाया और मनुष्यों को अनेक विद्याओं का प्रशिक्षण दिया। ये अपने समय के समस्त भूमण्डल में स्थापित तीर्थों के ज्ञाता थे, जिनकी समय-समय पर बहिर्मडल यात्रायें इन्होंने प्रहलाद जी राजा बाहु बलि, जामवन्त जी, हनुमान जी महाराज तथा सुग्रीव आदि-आदि को करायी थीं।
प्रवर :: वंश, कुल, पूर्व पुरुष, सर्वश्रेष्ठ, प्रधान, प्रमुख, उम्र में बड़ा, उच्चतर; upper, senior, superior.
अल्ल या अड़क :: गौत्र-वंश की शाखाएँ, निकास; branches of a dynasty.
आंगिरस कुल में प्रतापी-यशस्वी पुरूष :- देवगुरु बृहस्पति, अथर्वेवेद कर्ता अथर्वागिरस, महामान्यकुत्स, श्री कृष्ण के ब्रह्माविद्या गुरु घोर आंगिरस मुनि । भर ताग्नि नाम का अग्निदेव, पितीश्वरगण, गौत्तम, बामदेव, गाविष्ठर, कौशलपति कौशल्य (भगवान् श्री राम के नाना), पर्शियाका आदि पार्थिव राज, वैशाली का राजा विशाल, आश्वलायन (शाखाप्रवर्तक), आग्निवेश (वैद्य) पैल मुनि पिल्हौरे माथुर (इन्हें महर्षि वेदव्यास ने ऋग्वेद प्रदान किया), गाधिराज, गार्ग्यमुनि, मधुरावह (मथुरा वासी मुनि), श्यामायनि राधाजी के संगीत गुरु, कारीरथ (विमान शिल्पी) कुसीदकि (व्याज खाने वाले) दाक्षि (पाणिनि व्याकरण कर्त्ता के पिता), पतंजलि (पाणिनि अष्टाध्यायी के भाष्कार), बिंदु (स्वायंम् मनु के बिंदु सरोवर के निर्माता), भूयसि (ब्राह्मणों को भूयसि दक्षिणा बाँटने की परम्परा के प्रवर्तक), महर्षि गालव (जैपुर गल्ता तीर्थ के संस्थापक), गौरवीति (गौरहे ठाकुरो के आदि पुरूष), तन्डी (शिव के सामने तांडव नृत्य कर्ता रूद्रगण), तैलक (तैलंगदेश तथा तैलंग ब्रह्मणों के आदि पुरूष), नारायणि (नारनौल खन्ड वसाने वाले), स्वायंभूमनु (ब्रहषि देश ब्रह्मावर्त के सम्राट मनुस्मृति के आदि मानव धर्म के समाज रचना नियमों के प्रवर्तक), पिंगल नाग (वैदिक छन्दशास्त्र प्रवर्तक), माद्रि (मद्रदेश मदनिवाणा के सावित्री (जव्यवान) के तथा पांडु पाली माद्री के पिता अश्वघोषरामा बात्स्यायन (स्याजानी औराद दक्षिण देश के काम सूत्र कर्ता), हंडिदास (कुवेर के अनुचर ऋण बसूल करने वाले हुँडीय यक्ष हूड़ों के पूर्वज), बृहदुक्थ (वेदों की उक्थ भाषा के विस्तारक भाषा विज्ञानी), वादेव (जनक के राज पुरोहित), कर्तण (सूत कातने वाले), जत्टण (बुनने वाले जुलाहे) विष्णु सिद्ध (खाद्यात्र (काटि) कोठारों के सुरक्षाधिकारी), मुद्गल मुदगर बड़ी गदा) धारी, आग्नि जिव्ह (अग्नि मन्त्रों को जिव्हाग्र रखने वाले) देव जिव्ह (इन्द्र के मन्त्रों को जिव्हाग्र धार), हंसजिव्ह (प्रजापति ब्रह्मा के मन्त्रों के जिव्हाग्र धारक). मत्स्य दग्ध (मछली भूनने वाले), मृकंडु मार्कडेय, तित्तिरि तीतर धर्म से याज्ञवल्क्य मुनि के वमन किये कृष्ण्यजु मन्त्रों को ग्रहण करने वाले तैतरेय शाखा के ब्राह्मण), ऋक्ष जामवंत, शौंग (शुंग वन्शी तथा माथुर सैगंवार ब्राह्मण) दीर्घ तमा ऋषि (दीर्घपुर डीगपुर ब्रज के बदरी वन में तप करने वाले) हविष्णु (हवसान अफ्रीका देश की हवशी प्रजाओं के आदि पुरूष) अयास्य मुनि (अयस्क लोह धातु के अाविष्कर्ता) कितव (संदेशवाहक पत्र लेखक किताब पुस्तकें तैयार करने वाले देवदूत) कण्व ऋषि (ब्रज कनवारौ क्षेत्र के तथा सौराष्ट्र के कणवी जाति के पुरूष) आदि अनेक महानुभावों ने आंगिरस कुल में जन्म लेकर अथवा इनका शिष्यत्व रूप अंग बनकर भारतीय धर्म और संस्कृति को विश्व विख्यात गौरव माथुरी गरिमा के अनुरूप् प्रदान किया है। वृहस्पति का जन्म स्थान द्युलोक के शीर्ष स्थल घौसेरस में है ।
(2). वृाहस्पत्य :: देव गुरु वृहस्पति और तारा से उत्पत्र 7 आग्नि देव पुत्र तथा प्रधान पुत्र कच (कछपुरा तथा कुचामन राजस्थान) ही वार्हस्पत्य हैं। तारा के पुत्र भुगु निश्च्यवन विश्वभुज विश्वजित बड़वाग्नि जातवेदा (स्पिष्ट कृत) हैं। ये सभी वेदों में वर्णित और यज्ञों में पूजित हैं। बच ने शुक्र कन्या देवयानी के प्रेम सम्बन्ध को  नकार दिया जिससे श्राप स्वरूप मृत संजीवनी विद्या उनके लिये बेअसर हो गई। यह देवों से पूज्य यज्ञ भाग प्राप्त कर्त्ता ऋषियों में परम आदरणीय हुए हैं। देवयानी पीछे शर्मिष्ठा के साथ ब्रज में ययाति के पुर (जतीपुरा) में आकर शर्मिष्ठा के उपवन (श्याम ढाक) में आकर रही और ययाति से देवयानी वन (जान अजानक वन) में यदु तुर्वसु पुरू, जिनका वर्णन ऋग्वेद में है, अपने पुत्रों के साथ रहे। शर्मिष्ठा से (श्याम ढाक वन) दुह्मु अनु (आन्यौर) और पुरू हुए। ययाति ने सुरभी गौ नाम की अप्सरा से सुरभी बन पर (अप्सराकुन्ड) अलका से अलकापुरी अलवर में, विश्वाची अप्सरा से अप्सरा सरोवर वन में विहार किया। वृहस्पति की एक पत्नि जुहू (जौहरा) भी थी जिससे जौहर करने वाले जुहार शब्द से अभिवादन करने वाले यहूदी वंश तथा जौहरी कायस्थ तथा युद्ध में आगे लड़ने वाला हरावल दस्ता जुझाइऊ वीर उत्पत्र हुए। ये सब वृार्हस्पत्य थे। भरद्वाज वंश को  मत्स्य पुराण में कुलीन वंश कहा गया है।
भरद्वाज की अल्ल या अड़क, (branches) शाखाएँ और निकास ::
(3). पाँडे :- पांडे शिक्षा कर्म के आचार्य सुप्रसिद्ध व्याकरण कर्त्ता पाणिनि अष्टाधारी ग्रन्थ रचयिता के वंशज हैं। विद्यार्थियों को आरम्भ से ही भाषा शास्त्र का अध्ययन कराने के कारण ये पांडे नाम से प्रतिष्ठित हैं। पांड़े (अध्यापक) और चट्टा (विद्यार्थी) जो चट या चटाई पर बैठकर गुरु के चरणों में श्रद्धा रखकर विद्या ग्रहण करता है, यह दोनों शब्द माथुरी संस्कृति में लोक प्रसिद्ध हैं। सबसे प्राचीन व्यारणकार भरद्वाज के भरद्वाजीय व्याकरण ग्रन्थों के आधार पर पाणिनि ने अपना अष्टध्यायी व्याकरण ग्रन्थ तथा भाषा उच्चारण का ग्रन्थ पाणिनि शिक्षा की रचना की थी। शिक्षकों को पांड़े पाणियां, राजस्थान आदि प्रान्तों में भी कहा जाता है। इन्होंने ऋग् प्रतिशाख्य भरद्वाजीय व्याकरण आदि ग्रन्थों के आधार पर अपना अष्टाध्यायी ग्रंथ रचा। ये मौर्य शासन काल में भी प्रसिद्ध हुए। इनका छोटा भाई पिगंल छन्द शास्त्र  रचना कार था। व्याडि नाम का व्याकरण विद्वान भी इनका सहाध्यायी था। व्याडि (बाढ़ा उझानी) दक्ष गोत्री दाक्षायण थे और इनके मामा थे तथा इनकी माता दाक्षी होने से इन्हें 'दाक्षीपुत्रो पाणिनेय:' पिंगलनाग कहा गया है। पाणिनि का ग्राम पानी कौ तथा शालातुरी परिवार का क्षेत्र यमुना तट का 'स्यारये कौ घाट' मथुरा अंचल में है। पिंगल का पिगोरा भी इसी क्षेत्र में है। पाणिनी का कार्य क्षेत्र तक्षशिला, कंधार भी था। पाणिनी ने अपने पूर्वाचार्यों में कौत्स शिष्य मांडव्य, पाराशर्य, शिलालि, कश्यप, गर्ग, गालब, भारद्वाज, चक्रवर्म (चकेरी), शाकटायन, स्फोटायन सेनुक आदि के नाम लिखे हैं।
पाणिनि का दक्ष दौहित्र होना उन्हें प्रबल रूप से मथुरा का माथुरा ब्रह्मण होना सिद्ध करता है क्योंकि दक्ष गोत्र माथुरों के अतिरिक्त और किसी ब्रह्मण वर्ग में नहीं है तथा इनके मामा व्याड़ि को स्पष्ट ही "तत्र भवान् दाक्षायणा: दाक्षिर्वा" कहा गया है । मत्स्य पुराण में दाक्षी ऋषि को अंगिरा वंश में स्थापित किया गया है। सम्राट समुद्र गुप्त की प्रशन्ति में व्याडि को रसाचार्य कवि और शब्द ब्रह्म व्याकरणज्ञाता पुन: भी कहा है :-
रसाचार्य: कविर्व्याडि: शब्द ब्रह्मैकवाड् मुनि: । दाक्षी पुत्र वचो व्याख्या पटुमिंमांसाग्रणी ।।
पाणिनी ने कृष्ण चरित्र तथा व्याडि ने बलराम चरित्र काव्यों की रचना भी की थी।  पाणिनि ने अष्टाध्यायी में नलंदिव नाम के स्थान का उल्लेख किया है जो मथुरा नगर का प्राचीन टीला 'नकती टेकरा' ही है। अष्टाध्यायी पर माथुरी वृत्ति भी है। पाणिनि के भाष्यकार परम विदुष महर्षि पतंजलि धौम्य गोत्रिय श्रोत्रिय (सोती) माथुरा वंश विभूषण थे। वे पुष्यमित्र शुंग (भरद्वाज गौत्री सौगरे) के द्वारा आयोजित अश्वमेध यज्ञ के आचार्य थे। नागवंशी होने से ये कारे नाग तिवारी शाखा में थे। ये अंगिरा कुल कुत्स गौत्रियों के शिष्य थे। पातंजलि शुंग काल से चन्द्र गुप्त मौर्य काल तक थे तथा इनके समय उत्तर भारत पर यवनों के आक्रमण होने लगे थे। पातंजलि सामवेदी कौथुम शाखा के थे तथा इनका निवास गोनन्द गिरि नदवई ब्रज में था। पांड़े वंश की प्रशाखाओं में खैलावंश, घरवारी, कुइया, बुचईबन्श, मारियाँ, डुगहा, काजीमार, होली पांडे़, शंकर गढ़ के पांड़े आदि उल्लेखनीय हैं। कारेनाग, दियोचाट (सद्योजात वामदेव रूद्रत्रण), चौपौरिया, जैमिनी वंश भी इनके प्राचीन वंश हैं।
जैमिनी महर्षि वेद व्यास के साम वेदाध्यायी शिष्य थे। ये कौत्स के वंशज थे। ये युधिष्ठर के राजसूय में तथा जनमेजय के सर्प-सव में व्यास शिष्य वैशम्पायन के साथ सम्मिलित थे। इन्होने मथुरा में व्यास आश्रम कृष्ण गंगा पर निवास कर साम वेद उपलब्ध किया था। जैमन, जैमाचूठी जौंनार इनके प्रिय संस्कृति सूत्र हैं। इनके सहाध्यायी महर्षि पैल थे जिन्हें महर्षि वेदव्यास ने ऋग्वेद दिया था और आज थे पिल्हौरे माथुर कहे जाते हैं।
(4). पाठक :- ये वैदिक संहिताओं के यज्ञ समारोहों में सस्वर पाठ करने वाले वैदिक महर्षि थे। ब्राह्मण ग्रन्थों में पाठसक भाग इन्हीं के अनुभव के संकलन हैं । यह भी प्रभावशाली वर्ग है । अन्य अल्लौं में रावत (पारावत) मावले (महामल्ल), अझुमिया (अजमीढ यादव प्रोहित, यज्ञ में अग्न्याधाम होने पर प्रथम आज्य की आहुतियाँ डालकर अग्नि देव को चैतन्य करते थे), कोहरे (कहोल वंशज), चौपौलिया (चौपालों पर बैठकर माथुर आवासों की चौकसी और रक्षा करने वाले), रिली कुमारिल मट्ट के वेदोद्धारक प्रयासों के प्रबल सहायक (आरिल्ल नाम के वीर रस के छन्दों के अग्रगायक), वीसा (विश्वासव सुगंधर्व राज के पुरोहित), सद्द (धर्म निर्णायक परिषदों के संचालक), तिबारी (त्रिवेदी), लौहरे (लोहबन के निवासी), नसवारे (कनिष्क कंसासुर वंश के याजक, नशेबाज), सिकरौलिया (सिकरौल वासी), मैंसरे (महिष वंश, भौसले, भुसावल, महिसाना, मैंसूर, मस्कत, मसूरी आदि क्षेत्रों की प्रजाओं के पुरोहित, उचाड़े (उचाड़वासी), गुनारे (फाल्गुनी यज्ञ होलीकोत्सव के आयोजक, मिश्र (वेद और तन्त्र दोनों की मिश्रित विद्याओं से यज्ञ कराने वाले, जनुष्ठी (जन्हु यादव के पुरोहित-जुनसुटी निवासी) चतुर (युक्ति चतुर), डुंडवारिया (गंग डुंवारा के-पैठवाल पैठा गाँव वाले), दरर (विधाधरों के), पूरबे (पुरूरवा के) हलहरे (हालराज के) मारौठिया (मारौठवासी), जिखनियाँ (जिखन गाँव के) अगरैंया, (आगरा के), दुसाध (दुसाध निषादों के सहवासी), सुमेरधनी (सुमेरू युक्त बड़ी सुमिरनी माला पर जाप करने वाले) आदि। अन्य अल्ल :- बाबले (बाबर के सेवा श्रमी), बहरामदे (अकबर के फूफा बैरम ख़ाँ के आश्रर्य जीवी), दाहरे (सिंध के धार्मिक राजा दाहर के सभासद 769 ई.पू. में यह यवन खलीफा के सेनापति इबने फासिम के आक्रमण से पराजित होकर ब्रह्मर्षि देशों में भाग आया था और धर्मचर्या तथा त्याग रूप जीवन में उपराम लिया था), दारे (शाहजहां का वेद वेदांत धर्म चिन्तक शाजजादा दारा के सहायक, दारा को शाहजहां ने पंजाब और दिल्ली मथुरा का इलाका दिया था, वह केशव नारायण श्री यमुना जी और माथुर ब्रह्मणों का परम भक्त था। औरंगजेब के हाथों छत्रसाल के पिता चंपतराय के द्वारा इसका धौलपुर के युद्ध में परामव और वध हुआ), साजने (शाहजहां बादशाह के राजकर्म चारी गण) जहांगीर बादशाह के (जहांगीरपुर गाँव के निवासी) आदि।
(5). सौश्रवस गौत्र :: ये विश्वामित्र के वंशज हैं जो भरद्वाज की शिष्य परम्परा के अंतर्गत आते हैं। ये मथुरा के क्षेत्र में सौश्रबस आश्रम (सौंसा साहिपुरा) में रहने थे। इनके तीन प्रवर विश्वामित्र देबराट् औदले हैं। सौश्रबस सुश्रबा महर्षि के पुत्र थे। ये और्व राजर्षि के पुरोहित थे। पंचबिश ब्राह्मण [14.6.8]। अपने पिता सुश्रवा की अवमानना करने पर सुश्रवा के निर्देश पर और्व ने इनका सिरच्छेद कर दिया जिसे भक्ति से प्रभावित इन्द्र ने पुन: संधाधित किया।
विश्वामित्र :- ये राजऋषि से ब्रह्म ऋषि बने और इनके वंशज कौशिक कहलाते हैं। इनका काल कम से कम 18 लाख वर्ष पूर्व तथा मूल स्थान मथुरा में कुशिकपुर (कुशकगली) था। 
देवराट :- ये विश्वामित्र के संरक्षित थे। मूलत: इनका नाम शुन:शेष (कुत्ते की पूँछ) था। ये अपने पिता के उपेक्षित पुत्र थे। अयोध्यापति महाराज हरिचन्द ने जब बरूण देवता की मान्यता करके भी अपना पुत्र रोहिताश्व उसे बलि नहीं दिया तब बरूण ने उसके उदर में जलरोग (जलोदर) उत्पत्र किया। इस संकट से मुक्त होने को ऋषियों ने राजा को किसी अन्य कुमार को अपने पुत्र के प्रतिनिधि रूप में बलि अर्पित करने की सलाह दी ।
प्रयत्नों के बाद ब्राह्मण कुमार शुन: शेष को उसका पिता द्रव्य के बदले देने को राजी हो गया । जब ब्राह्मण कुमार बलि हेतु यज्ञ यूप से बाँधा गया तो वक भयार्त होकर रूदन करने लगा, इस पर विश्वामित्र को करूणा उत्पत्र हुई और उनने शुन: शेष के समीप जाकर उसे वरूण स्तुति के कुछ अति प्रभावोत्पादक दीनता सूचक मन्त्र बताकर पाठ करवाये । वरूण देव इन मन्त्रों से दयाद्रवित हो गये और शुन:शेष को बलि मुक्त कर दिया। विश्वामित्र ने तब चरणों में लिपटे विप्र कुमार को छाती से लगाया और उसको शुन:शेष (कुत्ते की पूँछ) जैसे हीन नाम से देवराट् (देवों का राजा इन्द्र) जैसा नाम दिया तथा अपने 100 पुत्रों में सबसे श्रेष्ठ मानकर सबको उसका मान करने की आज्ञा दी । विश्वामित्र ने वेद विद्या पढ़ाकर देवराट को वैदिक ऋषियों में स्थान दिलाया। उसके मन्त्र ऋग्वेद में हैं । यह शुन:शेष देवराट् माथरों के उत्तम ब्राह्मण वंश में प्रविष्ठ हुआ और सौश्रवसों का प्रवरीजन स्वीकृत हुआ । इसका समय हरिश्चन्द्र काल कम  17,50,000 वर्ष है।
औदले :- यह महर्षि उछालक के पुत्र थे । इनका मूलनाम आरूणी पांचाल था ता मथुरा निवासी धौम्य आचार्य (आपोद धौम्य) के शिष्य थे । इनकी गुरु भक्ति की कथा सर्वोपरि है। एक बार अपने मथुरा के धौस्य आश्रय (धामला बाग) में समीप के खेत पर वर्षा के पानी को रोकने हेतु गुरु ने इन्हैं भेजा । पानी किसी भी प्रकार न रूकने पर आरूणी ने जल धारा के बीच लेटकर पानी बन्द किया काफ़ी रात गये गुरुजी आरूणी को खोजने निकले तो आवाज लगाने पर उसे जल प्रवाह के बीच लेटा हुआ पापा(इस महान गुरुभक्ति से प्रभावित होकर उन्होंने उसे ह्दय से लगा लिया तथा सभी वेद, ब्रह्म विद्यायें उसे प्रदान कीं तथा उसका आरूणी के स्थान पर उद्दालक नाम रखा ।
आगे चलकर यह महान ब्रह्मवेत्ता ज्ञानी हुआ । इसका महर्षि याज्ञवल्क्य से ब्रह्मविद्या पर संवाद हुआ। इसने अपनी आध्यात्म विद्या परम्परा वेदगर्भ ब्रह्म से आरम्भ की तथा इन्द्र द्युम्न, सत्य यज्ञ, जनक तक जारी रखी। वुडिल इनसे ब्रह्म ज्ञान पाने को आये थे। इन्होंने  कुशिक वंश की कन्या से विवाह किया जिससे इन्हें श्वेत केतु नचिकेता (नासिकेत) तथा सुजाता पुत्री हुई। यह सुजाता कहोल ऋषि (काहौ माथुर वंश) को व्याही, जिससे अष्टावक्र नामक पुत्र हुआ। श्वेतकेतु ने जनक सभा में याज्ञवल्क्य से शास्त्रार्थ किया। इसके पिता उद्दालक ने इन्हें 'तत्वम' नाम की विद्या का उपदेश किया। श्वेतकेतु माथुर ने कुरू पांचाल (काख पचावर) में निवास कर जावली गाँव के राना प्रवाहल जैविली से ब्रह्म विद्या आगे सीखी। ये परमाणु विद्या के भी महान ज्ञाता थे। श्वेत केतु को समाज व्यवस्थापक सामाजिक नियमों की स्थापत्र, विवाह संस्था, यज्ञ संस्था, ब्राह्मण को मद्यपान निषेध परस्त्रीगमन, विवाह के बाद कर्त्तव्य पालन, राज्यभिषेक के नियमों का कठोर विधान करने से इन्हें भारतवर्ष का सर्वप्रथम समाज सुधारक माना जाता है। उद्दालक पुत्र नचिकेता–पिता की भर्त्सना पर संदेह जीवित यमपुर गये और यमलोक दर्शन कर यमदेव से संवाद कर लौटकर आये तथा यमपुरी की सारी व्यवस्था मनि मण्डल को सुनाई। इनका यात्रा वृत्तांत नसिकेत पुराण में विस्तार से वर्णित है। अष्टा वक्र जी ने विदेह जनक की सभा विजय कर पिता का बदला लिया तथा सब पराजित पंडित मुक्त किये।
सौश्रवसों की अल्ल 14 :: 
(5.1). मिश्र :- ये मिश्र देश के मग (मगोर्रा) और शाकल दीमी ब्राह्मणों में से हैं जो नेदिषाण्य और मिश्रिक मासध तीर्थों में ब्रह्मा के चक्र की नेमि (धुरा) टूटने के सीमा स्थान पर आयोजित यज्ञ में स्वीकृत किये गये। भगवान् श्री कृष्ण के पुत्र सांख ने शाकद्वीप शक प्रदेश के कहोलपुर काहिरा में जब विशाल सूर्य मदिंर की स्थापना की तो वहाँ सूर्य पूजा के लिए मग ब्राह्मणों के बुलाकर नियुक्त किया गया जो मिश्र या मिश्री ब्राह्मण हैं। 
मिश्रों में छ: भेद :–
(5.1.1). छिरौरा :- अप्सरापुर (कोटा, छिरोरा गाँव मथुरा) के निवासी। 
(5.1.2). गोरावार :- गजनी गोर नगर के यवनों का पुर गोराओं राजस्थान के गौरी वंश के यवनों के अधिष्ठाता।
(5.1.3). परिदान :- फारस पर्शिया तथा पेरिस (फ्रांस) में परी कथायें सुनाने वाले। मुग़लों में इस वंश की फरीद वेगम, फरीदकोट, शेख फरोदू, फरीदाबाद प्रसिद्ध हुए तथा पारसियों बोहराओं की बड़ी सँख्या इस्लामी अत्याचारों से त्रस्त्र भारत में आकर बसी हुई है। ये सूर्य और अग्नि के उपासक हैं। 
(5.1.4). डवरैया :- उवरा (ग्वालियर) के निवासी। 
(5.1.5). चौथैया :- पेशवाओं ने मुग़ल बादशाह मुहम्मदशाह से 1765 ई.पू. में सारे मुग़ल साम्राज्य में लगे बादशाही भूमिकर में से चौथाई कर अपने लिए वसूल करने की सनद लेली और सारे देश में सर्वत्र चौथ जबरन बसूल करने लगे इस काल में उनके सहायक होने से वे माथुर चौथैया कहलाये।
(5.1.6). तिहाब-तिहैया :- मथुरा तथा ब्रज में तीर्थ यात्रियों के दान में से तिहाब (तृतिया भाग) बसूल करने वाले "तिहाब के" या तिहैया कहे जाने लगे ।
(5.2). पुरोहित :- पौरोहित्य कर्म, कुल पुरोहित, तीर्थ पुरोहित, यज्ञ पुरोहित आदि में सर्वत्र सम्मान प्राप्त यह वर्ग प्रोहित है ।
(5.3). जनुष्ठी :- जन्दु राना यादव को यज्ञ इष्ठि कराकर, उनके नाम से ब्रज में जान्हवी गंगा प्रसिद्ध करने वाले जन्हु क्षेत्र आनूऔ जनूथर जूनसुटी के निवासी।
(5.4). चन्दबारिया :- चन्दवार के निवासी।
(5.5). वैसांधर :- वैश्वान अग्नि जिसने समस्त विश्व में भ्रमण कर विश्व के जंगली (यूरोपियन, एशियन, अफ्रीकी अमरीकी अष्टेरियन), लोगों को आग्नि का उत्पादन संरक्षण और पाक विद्या में प्रयोग सिखाया।
(5.6). धोरमई :- ध्रुवपुर धौरेरा के निवासी।
(5.7). चकेरी :- भगवान् श्री कृष्ण की चक्र सेना के योद्धा।
(5.8). सुमावलौ :- सोमनाथ शिव मथुरा के भक्त सोमराजा जो उत्तर दिशा से सोमबूटी मूंजबान पर्वत कश्मीर से मगवाकर सोमयज्ञ सम्पत्र कराने वाले पुरोहित। 
(5.9). साध :- निषाद जाति को उपनिषद विद्या प्रदान करने वाले तथा राजानल के निष्धदेश के पुरोहित ।
(5.10). चौपौलिया :- चार द्वारों की पौरी चौपरा युक्त भवन बनवाकर रहने वाले।
(5.11). बुदौआ :- बौद्धों के स्पूपों मठों बिहारों के निर्देशक बौद्धों को बौद्ध स्मारकों की तीर्थ यात्रा कराने वाले।
(5.12). तोपजाने :- ये स्तूप ज्ञानी हैं जो जैनों और बौद्धों को उनके स्तूपों चैत्यों बिहारों के दर्शन कराकर उनका महत्व और इतिहास बतलाकर नका पौरो दिव्य कर्म संवादन करते थे।
(5.13). चातुर :- राजकाज में चतुर लोगों का वर्ग।
(5.14). छिरौरा :- कहीं छिरौराओं को मिश्रों से अलग स्वतन्त्र अल्ल गिना जाता है।
सौश्रवसो की शाखा आश्वलायनी वेद ऋग्वेद है।
(6). धौम्य गौत्र ::  धौम्य का पूरा नाम आपोद धौम्य था। इनके वंश का बहुत महत्वपूर्ण विस्तार रहा है। जिसमें कश्यप यजमान ऋते युराजा आसेत. देवल. सांडिल्य, रैम्य कश्यप पुत्री ब्रह्मा की मानसी सृष्टि तथा नागपुरा की संरक्षिका मनसा देवी मानसी गंगातट गोवर्धन । महाभारत के अनुसार इसी वंश में व्याघ्रपाद के पुत्र महर्षि और धौम्य हुए हैं।ये महर्षि कश्यप के वंश में महा प्रतापी हुए हैं। पांडवों के रक्षक और पुरोहित होने से पांडवकुल में परम सज्मानित थे तथा महाभारत में सर्वत्र इनकी श्रेष्ठता वर्म निष्ठा और तेजस्विता का वर्णन है। इनका निवास स्थान मथुरा में धौम्य आश्रम धामला कूप और गोपाल बाग सूर्य क्षेत्र हैं। गोपाल बाग में ही श्री यमुना महारानी जी की बहिन सूर्यपुत्री तपतीदेवी (तत्तीमाता) विराजमान हैं तथा कार्वित शुक्ल गोपाष्ठमी को भगवान् श्री कृष्ण और बलराम जी गौचारन का उत्सव (मेला) मनाते, सत्राजित को स्यमंतक मणि एवं पांडव पत्नि द्रोपदी को अक्षय पात्र प्रदाता, महाराज शान्तुन को भीष्म पुत्र तथा सिद्ध मन्त्रायुर्वेद विधा प्रदाता भगवान् सूर्य की सेवा में पधारते हैं। धौम्य कूप (धामला) का पानी बहुत शुद्ध और गुणकारी माना जाता है और उसे अनेक माथुर (चतुर्वेदी पहलवान) लोग स्वस्थ वृद्धि के लिए पीते हैं।
धौम्य के कश्यप वंश में 3 प्रतापी प्रवर जन :-
(6.1). कश्यप :- प्राचीन बर्हिवन्श।
(6.2). आवत्सार :- कश्यप पुत्र, नैध्रुव आवत्मार पुत्र हैं। 
(6.3). नैध्रुव :- ये आवत्सार के पुत्र हैं। ये ऋग्वेद के मन्त्रद्दष्टा(9-63) हैं। च्यवन भार्गव की कन्या सुमेधा इनको ही व्याही थी। ये प्राचीनकाल के 6 ब्रह्म वादियों कश्यप, अवत्सार, नैध्रुव, रैम्य, आसित और देबल में से प्रसिद्ध ब्रह्मबिद्या के आचार्य थे।
धौम्य वंश परम्परा महर्षि कश्यप से अलग है। समस्त सृष्टि की रचना महर्षि कश्यप से ही प्रारम्भ हुई थी। 


Comments

Popular posts from this blog

ENGLISH CONVERSATION (2) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

ENGLISH CONVERSATION (3) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

HINDU MARRIAGE हिन्दु-विवाह पद्धति