Friday, August 21, 2015

ENGLISH CONVERSATION (7) अंग्रेजी-हिन्दी बातचीत

IDIOMS & PROVERBS मुहावरे  लोकोक्तियाँ 
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By :: Pt. Santosh Bhardwaj  
santoshkipathshala.blogspot.com     santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com    bhagwatkathamrat.wordpress.com   santoshhastrekhashastr.wordpress.com
DIRTY POLITICS IN INDIA
जहाँ निराशा, वहाँ आशा। 
jahan nirasha, vahan asha.
एव्री क्लाउड हैज ए सिल्वर लाइनिंग। 
Every cloud has a silver lining.
अंत भला सो भला। 
ant bhla so bhala.
आल इज वैल दैट एंड्स वैल। 
All is well that ends well.
एकता में बल है। एक और एक ग्यारह। 
ekta me bal hae. ek aur ek gyarah.
यूनियन इज स्ट्रेंथ। 
Union is strength.
एक पंथ दो काज। 
 ek panth do kaj.
टु किल टू बर्ड्स विथ वन स्टोन। 
To kill two birds with one stone.
नौ नकद न तेरह उधार। 
nau nkad m terah udhar.
ए बर्ड इन हैण्ड इज वर्थ टू इन द बुश। 
A bird in hand is worth two in the bush.
अब पछताये क्या होत है जब चिड़िया जग गई खेत। 
ab pachhtaye kya hot hae jb chidiya chug gai khet.
इट इज ऑफ़ नो यूज़ क्राइंग ओवर स्पिल्ट मिल्क। 
It's of no use crying over spilt milk.
आगे दौड़ पीछे चौड़। 
age doud, peechhe choud.
हेस्ट मेक्स वेस्ट। 
Haste makes waste.
बहती गँगा में हाथ धो लो। 
bahti ganga mae haath dho lo.
मेक हे व्याहिल द सन शाइन्स। 
Make hay while the Sun shines. 
अपना-अपना, पराया पराया। 
apna-apna, praya-praya.
ब्लड इज थिकर दैन वाटर। 
Blood is thicker than water.
जैसे को तैसा। 
jaese ko taesa.
टिट फॉर टैट। 
Tit for tat.
सावन   के अंधे को हरा ही हरा दिखता है। 
sawan ke andhe ko hara hi hara dikhta hae.
एव्री थिंग लुक्स येलो टु जौन्डिशड ऑय। 
Every thing looks yellow to jaundiced eye.
ऊँची दुकान फीका पकवान। 
unchi dukan feeka pakwan.
ग्रेट बोस्ट लिटिल रॉस्ट। 
Great boast, little roast.
एक मछली सारे तालाब को गन्दा देती है। 
ek mchhli sare talab ko ganda kar deti hae .
ए ब्लैक शीप इफेक्ट्स द होल फ्लॉक। 
A black sheep infects the whole flock.
अपनी गली में कुत्ता भी शेर। 
apni gali me kutta bhi sher.
एव्री कॉक फाइट्स बैस्ट ऑन इट्स ओन डंगहिल। 
Every cock fights best on its own dunghill.
एक हाथ से ताली नहीं बजती 
ek haath se tali nahin bajti.
इट टेक्स टू टु मेक ए कुव्रल 
It takes two to make a quarrel.
बन्दर जाने अदरक का स्वाद। अँधा क्या जाने, बसन्त बहार। 
bandar kya jane adrak ka swad.
ए ब्लाइंड मैन इज नो जज ऑफ़ कलर्स। 
A blind man is no judge of colours.
अंधों में काना राजा। 
andhon mae kana raja.
ए फिगर अमंग सिफर्स। 
A figure among ciphers.
आकाश से गिरे खजूर पर अटके। 
akash se gire khjur par atke.
आउट ऑफ़ फ्राइंग पैन इन्टु द फायर। 
Out of the frying pan into the fire.
आप मरे जग परलो। 
aap mre jag parlo.
डैथस् डे इज डूम्स डे। 
Death's day is doom's day.
मृत्यु का कोई समय नहीं है। 
mratyu ka koi calendar nahin hae .
डैथ हैज नो कैलेण्डर। 
Death keeps no calendar.
आँख ओझल, पहाड़ ओझल। 
aankh ojhal phad ojhal.
आउट ऑफ़ साइट आउट ऑफ़ माइंड। 
Out of sight out of mind.
अपने मुँह मिंयाँ मिट् थू बनना 
apne munh minyan mitthu banna.
सेल्फ प्रेज इज नो प्रेज। 
Self praise is no praise.
आदमी कुछ सोचता है और ईश्वर कुछ करता है। 
admi kuchh sochta hae aur ishwar kuchh karta hae.
मैन प्रोपोजेज गॉड डिस्पोजेज़। 
Man proposes God disposes.
आज का काम कल पर मत छोड़ो। 
aj ka kam kal par mat chhodo.
डू नॉट पुट ऑफ टिल टुमारो व्हाट यू कैन डिस्पोज टुडे। 
Do not put off till tomorrow what you can dispose off today.
व्यक्ति अपनी संगत से पहचाना जाता है। 
vykti apni sangat se pahchana jata hae .
मैन इज नोन बाई हिज कम्पनी। 
Man is known by his company.
कुसंगत से अकेला भला। 
kusangat se akela bhala.
बैटर अलोन देंन इन बैड कम्पनी। 
Better alone than in bad company.
उलटे बाँस बरेली। 
ulte baans bareli.
टु कैर्री कोल् टु न्यू कैसल। 
To carry coal to New Castle.
कद्र खो देता है रोज का आना जाना। 
kadr kho deta hae roj ka ana jana.
टू मच फ़ैमिलिरिटी ब्रीड्स कंटेंट। 
Too much familiarity breeds content.
पहले आप पीछे और। 
pahle ap peechhe aur.
चैरिटी बेगिंस ऐट होम। 
Charity begins at home.
भागते चोर की लँगोटी भली। 
bhagte chor ki lngoti bhali .
सम थिंग इज बेटर देंन नथिंग। 
Some thing is better than nothing.
एक म्यान में दो तलवारें नहीं रह सकतीं। 
ek myan me do talvaren nahin rah sktin.
टू ऑफ़ ए ट्रेड सेलडॉम एग्री। 
Two of a trade seldom agree.
सुबह का भूला शाम को घर आ जाये तो उसे भूला नहीं कहते। 
subah ka bhula sham ko ghar aa jaye to use bhula nahin kahte .
इट्स नेवर टू लेट टु मेंड। 
It is never too late to mend.
बेकार से बेगार भली। 
bekar se begar bhali .
एन आइडल मेन्स ब्रेन इज डेविल्स वर्कशॉप। 
An idle man's brain is Devil's workshop.
इलाज से परहेज अच्छा। 
ilaj se parhej achchha hae .
प्रिवेंशन इज बेटर देंन क्योर। 
Prevention is better than cure.
पहले तोलो फिर बोलो। 
pahlr tolo fir bolo.
थिंक बिफोर यू स्पीक। 
Think before you speak.
अच्छा स्वास्थ्य हजार नियामत। 
achchha swasthy hjar niyamat.
हेल्थ इज वेल्थ। 
Health is wealth.
थोथा चना बाजे घना। 
thotha chna baje ghana.
एम्पटि वेसल्स मेक मोर नॉइस। 
Empty vessels make more noise.
तेल देखो तेल की धार देखो। देखो ऊँट किस करवट बैठता है। 
tel dekho tel ki ghar dekho. dekho unt kis karvat baethta hae.
सी विच वे द विंड ब्लोज़।  वेट एंड वाच। 
See which way the wind blows. Wait and watch.
अपनी फ़िक्र करो। 
apni fikr kro.
स्वीप बिफोर योर ओन डोर। 
Sweep before your own door.
जहाँ फूल वहाँ काँटे। 
jahan ful vahan kante.
व्हेयर देयर इज ए रोज़ देयर इज ए थोर्न। 
Where there is a rose, there is a thorn.
जब तक साँस तब तक आस। 
jab tak sans tab tak aas.
एज लॉन्ग एज देर इज़ लाइफ देयर इज होप। 
As long as there is life there is hope.
जब ओखली में सर दिया तो मूसली से क्या डरना। 
jb okhli me sir diya to munsal se kya darna.
व्हाट कैन नॉट बी क्योर्ड मस्ट बी एंडयोर्ड। 
What can not be cured must be endured.
जितनी चादर देखो, उतने पर पसारो। 
jitni chadar dekho utne paer psaro.
कट योर कोट अकॉर्डिंग टु योर क्लॉथ। 
Cut your coat according to your cloth.
जिसकी लाठी उसकी भैंस। 
jiski lathi uski bhaens.
माइट इज राइट। 
Might is right.
जहाँ चाह वहाँ राह। 
jahan chah vahan rah.
वेयर देयर इज ए विल देयर इज ए वे। 
Where there is will there is way.
जैसा देश वैसा वेश। 
jaesa desh vaesa vesh.
व्हाइल इन रोम डू ऐज रोमन्स डू। 
While in Rome do as Romans do.
जो गरजते हैं वे बरसते नहीं। भौंकने बाले काटने नहीं। 
jo grajte haen vo baraste nahin.
बार्किंग डॉग्स सेलडॉम बाइट। 
Barking dogs seldom bite.
झूँठ के पाँव नहीं होते। 
jhunth ke panv nahin hote.
ए लाइ हैज नो लैग्स  टु स्टैंड। 
A lie has no legs to stand.
जैसा करोगे वैसा भरोगे। 
jaesa kroge vaesa bharoge.
एज यू सो शैल यू रीप। 
As you sow so shall you reap.
जो औरों के लिये गड्ढा खोदता है, स्वयं उसमें गिरता है। 
jo oron ke liye gddha khodta hae vo usmen swayam girta hae.
ही हू डिग्स् ए पिट फॉर अदर्स फाल्स इन्टु इट। 
He who digs a pit for others, falls into it himself.
दिये तले अँधेरा। 
diye tle andhera.
नियरर द चर्च फार्दर फ्रॉम द हेवन। 
Nearer the Church, farther from the heaven.
चोर की दाढ़ी में तिनका। 
chor ki dadhi me tinka.
ए गिल्टी कंक्सिएंस नीड्स नो अक्यूज़र। 
A guilty conscience needs no accuser.
बूँद-बूँद करके तालाब बन गया। बूँद-बूँद करके घड़ा भरत है। 
bund-bund karke talab ban gaya. bund-bund karke ghda bhar gaya.
मेनी ए लिटिल मैक्स ए मिकल। लिटिल ड्रॉप्स मैक्स द  ओसियन. 
Many a little makes a mickle. Little drops make the ocean.
बुराई की कमाई बुराई में लगे। 
burai ki kmai burai me lage.
इल गोट इल स्पेंट। 
Ill got, ill spent.
दाम बनाये काम। 
dam banaye kam.
मनी मैक्स द मेयर गो। 
Money makes the mare go.
ईश्वर उनकी सहायता करता है जो अपनी मदद आप करते हैं। 
ishwar unki madad karta hae jo apnee madad ap karte haen.
गॉड हेल्प्स दोज हू हेल्प्स दैमसेल्वस 
God helps those who helps themselves.
दिल को दिल से राहत। 
dil se dil ko rahat.
लव विगेट्स लव। 
Love begets love.
बीती ताहि बिसार दे आगे की सुधि लेय। 
beeti tahi bisaar de age ki sudhi ley.
लैट बाइ-गोन्स बी बाइ-गोन्स 
Let by-gones be by-gones.
दूध का जला छाछ को भी फूँक-फूँक कर पीता है। 
doodh ka jla chhachh ko bhi funk-funk kar pita hae .
ए बर्न्ट चाइल्ड ड्रेड्स द फायर।
A burnt child dreads the fire.
न करोगे तो न पाओगे।
n karoge to n paoge.
यू केन नॉट मेक ओम्लेट्स विद आउट ब्रेकिंग एग्स। 
You can not make omelettes without breaking eggs.
मित्र वही जो मुसीबत में काम आये। 
mitr vahi jo musibat me kam aye.
ए फ्रेंड इन नीड इज ए फ्रेंड इन डीड। 
A friend in need is a friend in deed.
दो मुल्लाओं में मुर्गी हराम। 
do mullaon me murgi haram.
टू मैनी कुक्स स्पॉइलस द ब्रोथ। 
Too many cooks spoils the broth.
बगैर खतरे उठाये लाभ नहीं। 
bagfaer khtra uthaye laabh nahin.
नथिंग वेंचर नथिंग हैव। 
Nothing venture, nothing have.
कष्ट बिना सुख नहीं। 
kasht bina sukh nahin.
नो पेन्स नो गेन्स। 
No pains, no gains.
साँच को आँच नहीं। 
saanch ko aanch nahin.
ट्रुथ फियर्स नो एग्जामिनेशन 
Truth fears no examination.
ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है। 
imandari sabse achchhi neeti hae.
आनेस्टी इज द बेस्ट पालिसी। 
Honesty is the best policy.
डूबते को तिनके का सहारा। 
dubte ko tinke ka shara.
ए  ड्रोउनिंग मैन कैट्चेस एट ए स्ट्रॉ। 
A drowning man catches at a straw.
नीम हकीम खतराए जान। 
neem hakeem khatrae jan.
ए लिटिल नॉलेज इज अ डेंजरस थिंग। 
A little knowledge is a dangerous thing.
शक्कर खोरे को परमात्मा शक्कर ही देता है। 
shakkar khore ko parmatma shakkar hi deta hae .
स्पेंड ओवर पायोसिटी एंड गॉड विल सेंड मोर। 
Spend over piousity and God will send more.
अच्छा नाम धन से बड़ा है। 
achcha nam dhan se bada hae.
ए गुड नेम निज इज बैटर देंन रिचिज। 
A good name is better than riches.
सहज पके सो मीठा होए। 
sahaj pake so meetha hoe.
स्लो एंड स्टडी विन्स द रेस। 
Slow and steady wins the race. 
बीता वक्त वापस नहीं आता। 
beeta vakt vapas nahin aata.
टाइम वन्स लॉस्ट इज नैवर फाउंड अगेन। 
Time once lost is never found again.
न नौ मन तेल होगा और न राधा नाचेगी। 
na nau man tel hoga aur na Radha nachegi.
इफ द स्काई फाल्स, वी शैल कैच लार्क्स। 
If the sky falls, we shall catch larks.
नेकी कर कुँए में डाल। कर भला हो भला। 
neki kar kuaen me dal.
डू गुड हैव गुड। 
Do good have good.
अभ्यास से कला में निखार आता है। 
abhyas se kala mae nikhar aata hae .
प्रैक्टिस मैक्स ए मैन परफेक्ट। 
Practice makes a man perfect.
चोर का साथी चोर, साधु का साधु। 
chor ka sathi chor, sadhu ka sadhu.
बर्ड्स ऑफ़ ए फैथेर फ्लॉक टु गैथर। 
Birds of a feather flock together.
कोयले की दलाली में मुँह काला। काजल के कोठरी में दाग लागे ही लागे। 
koyle ki dalali me munh kala.
इविल परसूट्स ब्रिंग इविल रेपुटेशन। 
Evil pursuits bring evil reputation.
समय के साथ सब घाव भर जाते हैं। समय सबसे बड़ा मरहम है। 
samay ke sath sab ghav bhar jate haen.
टाइम इज ए ग्रेट हीलर। टाइम ब्लण्ट्स द एज ग्रीफ। 
Time is a great healer. Time blunts the edge of grief.
गड़े मुर्दे मत उखाड़ो। 
gade murde mat ukhado.
लैट द पास्ट बरी इटस डैड। 
Let the past bury its dead.
अपनों के साथ नर्क, अपनों-सबके साथ स्वर्ग। 
apnon ke saath nark, apnon-sabke saath sawarg.
डेथ विथ फ्रेंड्स इज ए फेस्टिवल। 
Death with friends is a festival.
गुड़ खाये, गुलगुलों से परहेज। 
gud kahye gulgulon se parhej.
टु स्वलो ए कैमल बट स्ट्रेन एट ए गोट। 
To swallow a camel but strain at a goat. 
कोठे वाला रोये, छप्पर वाला सोये। 
kothe wala roye, chhappar vala soye. 
अनइजी लाइज द हेड दैट वियर्स ए क्राउन। 
Uneasy lies the head that wears a crown.
पवित्रता धर्म का एक अंग है। 
pvitrata dharm ka ek ang hae.
क्लीनलिनेस इज नेक्स्ट तो गोडलिनेस। 
Cleanliness is next to Godliness. 
घर का जोगी जोगड़ा आन गाँव का सिद्ध। 
ghar ka jogi gogda aan gaon ka siddh.
ए प्रोफेट इज सेल्डम होनॉर्ड इन हिज ओन लैंड। 
A prophet is seldom honoured in his own land.
सौ दिन चोर के एक दिन साध का। 
sau din chor ke ek din sadh ka.
ईविल कैन नॉट थ्राइव फॉर एवर। 
Evil can not thrive for ever.
सौंदर्य को गहनों की जरूरत नहीं है। 
soundary ko ghnaon ki jrurat nahin hae.
ब्यूटी नीड्स नो ऑर्नामेंट्स। 
Beauty needs no ornaments.
धोबी का कुत्ता न घर  का न घाट का। 
dhobi ka kutta na ghar ka na ghat ka.
ए रोलिंग स्टोन गैथर्स नो मास। 
A rolling stone gathers no mass.
भूख में चने भी बादाम। 
bhukh me chne bhi badam.
हंगर इज द बेस्ट सॉस। 
Hunger is the best sauce.
लोहा लोहे  काटता है। 
loha lohe ko katta hae.
ए डायमंड कट्स ए डायमंड। 
A diamond cuts a diamond.
जितने मुँह उतनी बातें। 
jitne munh utni baten.
मैनी मेन, मैनी माइंडस। 
Many men, many minds.

A watched pot never boils.
A picture is worth a thousand words.
All good things must come to an end.
Actions speak louder than words.
A penny saved is a penny earned.
All are not friends that speak us fair.
All roads lead to Rome.
All things come to those who wait.
All work and no play makes Jack a dull boy.
An army marches on its stomach. पेट बातों से नहीं भरता।
A hedge between keeps friends green.
A verbal contract isn't worth the paper it's written on.
Absence makes the heart grow fonder.
Actions speak louder than words. कार्य बोलता है।
A friend in need is a friend indeed. मित्र की पहचान मुसीबत में ही होती है।
A friend is never known till a man have need. मित्र की पहचान मुसीबत में ही होती है।
All cats love fish but hate to get their paws wet.
All for one and one for all.
All good things must come to an end. जो पैदा हुआ है बो मरेगा जरूर।
All's well that ends well.अंत  भला सो भला।
All that glisters is not gold. जो चमकता है वो जरूरी नहीं है कि सोना ही हो।
A staff is quickly found to beat a dog.
An apple a day keeps the doctor away. रोज सेब खाने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है। एक सेब हजार नियामत। 
As the old cock crows, so crows the young.
Ask me no questions, I'll tell you no lies.
A bad penny always turns up.
A bad settlement is better than a good lawsuit.
A bellyful is one of meat, drink, or sorrow.
An ill labourer quarrels with his tools. A bad workman blames his tools. एक खराब कारीगर अपने औजारों से लड़ता है। नाच न जाने आँगन टेढ़ा।
A bad penny always turns up. खोटा  पर काम आता है। 
Photo:
A barking dog never bites. भौंकने वाले काटने नहीं। गरजने वाले बरसते 
A bird in the hand is worth two in the bush. नौ नकद न तरह उधार।
A cat may look at a king.
A chain is only as strong as its weakest link.
A change is as good as a rest.
A dog is a man's best friend.कुत्ता इंसान का सबसे वफ़ादार साथी है। 
A drowning man will clutch at a straw.डूबते को तिनके का सहारा। 
A fish always rots from the head down.
A fool and his money are soon parted.
A friend in need is a friend indeed.दोस्त वही जो मुसीबत में काम आये। 
A golden key can open any door.सभी तालों की चाबी। 
A good beginning makes a good ending.
A good man is hard to find.
A house divided against itself cannot stand.
A person is known by the company he keeps.
A house is not a home.
A journey of a thousand miles begins with a single step.
A leopard cannot change its spots.
A little knowledge is a dangerous thing.
A little learning is a dangerous thing.
A little of what you fancy does you good.
A man is known by his friends.
A man who is his own lawyer has a fool for his client.
A miss is as good as a mile.
A new broom sweeps clean.
A nod's as good as a wink to a blind horse.
A penny saved is a penny earned.
A picture paints a thousand words.
A place for everything and everything in its place.
A poor workman always blames his tools.
A person is known by the company he keeps.
A problem shared is a problem halved.
A prophet is not recognized in his own land.
A rising tide lifts all boats.
A rolling stone gathers no moss.
A soft answer turneth away wrath.
A stitch in time saves nine.
A swarm in May is worth a load of hay; a swarm in June is worth a silver spoon; but a swarm in July is not worth a fly.
A thing of beauty is a joy forever.
A trouble shared is a trouble halved.
A volunteer is worth twenty pressed men.
A watched pot never boils.
A woman is only a woman, but a good cigar is a smoke.
A woman's place is in the home.
A woman's work is never done.
A word to the wise is enough.
Absence makes the heart grow fonder.
Absolute power corrupts absolutely.
Accidents will happen (in the best-regulated families).
Actions speak louder than words.
Adversity makes strange bedfellows.
After a storm comes a calm.
All good things come to he who waits.
All good things must come to an end.
All is grist that comes to the mill.
All publicity is good publicity.
All roads lead to Rome.
All that glisters is not gold.
All the world loves a lover.
All things come to those who wait.
All things must pass.
All work and no play makes Jack a dull boy.
All you need is love.
All's fair in love and war.
All's for the best in the best of all possible worlds.
All's well that ends well.
A miss is as good as a mile.
An apple a day keeps the doctor away.
An army marches on its stomach.
An Englishman's home is his castle.
An eye for an eye, a tooth for a tooth.
An ounce of prevention is worth a pound of cure.
Another day, another dollar.
Any port in a storm.
Appearances can be deceptive.
April is the cruellest month.
April showers bring forth May flowers.
As thick as thieves.
As you make your bed, so you must lie upon it.
As you sow so shall you reap.
Ashes to ashes dust to dust.
Ask a silly question and you'll get a silly answer.
Ask no questions and hear no lies.
Attack is the best form of defence.
A chain is only as strong as its weakest link.
As you make your bed, so you must lie on it.
All are not thieves that the dogs bark at.
Absence makes the heart grow fonder.
Better an egg today than a hen tomorrow.
Birds of a feather flock together.
Beggars can't be choosers.
Beauty is in the eye of the beholder.
Bend the willow while it is young. 
Bad news travels fast.बुरी बातें जल्दी सीखी जाती हैं।
Better is the enemy of good.
Big thunder, little rain.
Better late than never.
Better safe than sorry.
Beware of false prophets, who come to you in sheep's clothing, but inwardly they are ravening wolves.
Birds of a feather flock together.
Bitter pills may have blessed effects.
Blood is thicker than water.
Beauty is in the eyes of the beholder.
Bad money drives out good.
Bad news travels fast.
Barking dogs seldom bite.
Be careful what you wish for.
Beat swords into ploughshares.
Beauty is in the eye of the beholder.
Beauty is only skin deep.
Beggars should not be choosers.
Behind every great man there's a great woman.
Better late than never.
Better safe than sorry.
Better the Devil you know than the Devil you don't.
Better to have loved and lost than never to have loved at all.
Better to light a candle than to curse the darkness.
Better to remain silent and be thought a fool that to speak and remove all doubt.
Beware of Greeks bearing gifts.
Beware the Ides of March.
Big fish eat little fish.
Birds of a feather flock together.
Blessed are the peacemakers.
Blood is thicker than water.
Blue are the hills that are far away.
Boys will be boys.
Brevity is the soul of wit.
Business before pleasure.
Better late than never.
Cleanliness is next to godliness.
Caesar's wife must be above suspicion.
Carpe diem (Pluck the day; Seize the day).
Charity begins at home.
Charity covers a multitude of sins.
Cheaters never win and winners never cheat.
Cheats never prosper.
Children and fools tell the truth.
Children should be seen and not heard.
Christmas comes but once a year.
Cleanliness is next to godliness.
Clothes maketh the man.
Cold hands, warm heart.
Comparisons are odious.
Count your blessings.
Cowards may die many times before their death.
Crime doesn't pay.
Cut your coat to suit your cloth.
Dead men tell no tales.
Don't put all your eggs in one basket.
Don't bite the hand that feeds you.
Discretion is the greater part of valour.
Do unto others as you would have them do unto you.
Don't count your chickens before they hatch.
Devil take the hindmost.
Discretion is the better part of valou.
Distance lends enchantment to the view.
Do as I say, not as I do.
Do as you would be done by.
Do unto others as you would have them do to you.
Don't bite the hand that feeds you.
Don't burn your bridges behind you.
Don't cast your pearls before swine.
Don't change horses in midstream.
Don't count your chickens before they are hatched.
Don't cross the bridge till you come to it.
Don't cut off your nose to spite your face.
Don't get mad, get even.
Don't keep a dog and bark yourself.
Don't leave your manners on the doorstep.
Don't let the bastards grind you down.
Don't let the grass grow under your feet.
Don't meet troubles half-way.
Don't mix business with pleasure.
Don't put all your eggs in one basket.
Don't put the cart before the horse.
Don't put new wine into old bottles.
Don't rock the boat.
Don't shoot the messenger.
Don't spoil the ship for a ha'porth of tar.
Don't sweat the small stuff.
Don't throw pearls to swine.
Don't teach your Grandma to suck eggs.
Don't throw the baby out with the bathwater.
Don't trust anyone over thirty.
Don't try to run before you can walk.
Don't try to walk before you can crawl.
Don't upset the apple-car.
Don't wash your dirty linen in public.
Doubt is the beginning not the end of wisdom.
Early to bed and early to rise, makes a man healthy, wealthy and wise.
East is east, and west is west.
East, west, home's best.
Easy come, easy go.
Eat, drink and be merry, for tomorrow we die.
Empty vessels make the most noise.
Enough is as good as a feast.
Enough is enough.
Even a worm will turn.
Every cloud has a silver lining.
Every dog has its day.
Every little helps.
Every man for himself, and the Devil take the hindmost.
Every man has his price.
Every picture tells a story.
Every stick has two ends.
Everyone wants to go to heaven but nobody wants to die.
Everything comes to him who waits.
Easy come, easy go.
Failing to plan is planning to fail.
Faint heart never won fair lady.
Fair exchange is no robbery.
Faith will move mountains.
Familiarity breeds contempt.
Feed a cold and starve a fever.
Fight fire with fire.
Fight the good fight.
Finders keepers, losers weepers.
Fine words butter no parsnips.
First come, first served.
First impressions are the most lasting.
First things first.
Fish always stink from the head down.
Fish and guests smell after three days.
Flattery will get you nowhere.
Fools rush in where angels fear to tread.
For everything there is a season.
For want of a nail the shoe was lost; for want of a shoe the horse was lost; and for want of a horse the man was lost.
Fortune favours the bold.
Forewarned is forearmed.
Forgive and forget.
Fortune favours the brave.
From the sublime to the ridiculous is only one step.
Familiarity breeds contempt.
Forgive and forget.माफ़ करो और भूल जाओ।
Genius is an infinite capacity for taking pains.
Genius is one percent inspiration, ninety-nine percent perspiration.
Give a man a fish and you will feed him for a day...
Give a dog a bad name and hang him.
Give a man enough rope and he will hang himself.
Give credit where credit is due.
Go the extra mile.
God helps those who help themselves.
Good fences make good neighbours.
Good talk saves the food.
Good things come to those who wait.
God helps those who help themselves.
Good things come to those who wait.
Great minds think alike.
Half a loaf is better than no bread.
Handsome is as handsome does.
Hard cases make bad law.
Hard work never did anyone any harm.
Haste makes waste.
He that goes a-borrowing, goes a-sorrowing.
He who can does, he who cannot, teaches.
He who fights and runs away, may live to fight another day.
He who hesitates is lost.
He who laughs last laughs longest.
He who lives by the sword shall die by the sword.
He who pays the piper calls the tune.
He who sups with the Devil should have a long spoon.
Hell hath no fury like a woman scorned.
Hindsight is always twenty-twenty.
History repeats itself.
Home is where the heart is.
Honesty is the best policy.
Hope springs eternal.
Horses for courses.
If anything can go wrong, it will.
If a job is worth doing it is worth doing well.
If at first you don't succeed try, try and try again.
If God had meant us to fly he'd have given us wings.
If ifs and ands were pots and pans there'd be no work for tinkers.
If it ain't broke, don't fix it.
If life deals you lemons, make lemonade.
If the cap fits, wear it.
If the mountain won't come to Mohammed, then Mohammed must go to the mountain.
If the shoe fits, wear it.
If wishes were horses, beggars would ride.
If you build it they will come.
If you can't be good, be careful.
If you can't beat em, join em.
If you can't stand the heat get out of the kitchen.
If you lie down with dogs, you will get up with fleas.
If you pay peanuts, you get monkeys.
If it ain't broke, don't fix it.
If you can't beat 'em, join 'em.
If you want something done right, you have to do it yourself.
If you want a thing done well, do it yourself.
Ignorance is bliss.
Imitation is the sincerest form of flattery.
In for a penny, in for a pound.
In the kingdom of the blind the one eyed man is king.
In the midst of life we are in death.
Into every life a little rain must fall.
It ain't over till the fat lady sings.
It goes without saying.
It is best to be on the safe side.
It is better to give than to receive.
It is easy to be wise after the event.
It never rains but it pours.
It takes a thief to catch a thief.
It takes all sorts to make a world.
It takes one to know one.
It takes two to tango.
It's all grist to the mill.
It's an ill wind that blows no one any good.
It's better to give than to receive.
It's better to have loved and lost than never to have loved at all.
It's better to light a candle than curse the darkness.
It's better to travel hopefully than to arrive.
It's never too late.
It's no use crying over spilt milk.
It's no use locking the stable door after the horse has bolted.
It's the early bird that catches the worm.
It's the empty can that makes the most noise.
It's the singer not the song.
It's the squeaky wheel that gets the grease.
Jack of all trades, master of none.
Judge not, that ye be not judged.
Keep your chin up.
Keep your friends close and your enemies closer.
Keep your powder dry.
Keep your friends close and your enemies closer.
Laugh and the world laughs with you, weep and you weep alone.
Laughter is the best medicine.
Least said, soonest mended.
Less is more.
Let bygones be bygones.
Let not the sun go down on your wrath.
Let sleeping dogs lie.
Let the buyer beware.
Let the dead bury the dead.
Let the punishment fit the crime.
Let well alone.
Life begins at forty.
Life is just a bowl of cherries.
Life is what you make it.
Life's not all beer and skittles.
Lightning never strikes twice in the same place.
Like father, like son.
Little pitchers have big ears.
Little strokes fell great oaks.
Little things please little minds.
Live and learn.
Live for today for tomorrow never comes.
Look before you leap.
Love of money is the root of all evil.
Love is blind.
Love makes the world go round.
Love thy neighbour as thyself.
Love will find a way.
Make hay while the sun shines.
Make love not war.
Man does not live by bread alone.
Manners maketh man.
Many a little makes a mickle.
Many a mickle makes a muckle.
Many a true word is spoken in jest.
Many are called but few are chosen.
Many hands make light work.
March comes in like a lion, and goes out like a lamb.
March winds and April showers bring forth May flowers.
Marriages are made in heaven.
Marry in haste, repent at leisure.
Might is right.
Mighty oaks from little acorns grow.
Misery loves company.
Moderation in all things.
Monday's child is fair of face.
Tuesday's child is full of grace.
Wednesday's child is full of woe.
Thursday's child has far to go.
Friday's child is loving and giving.
Saturday's child works hard for its living.
And a child that's born on the Sabbath day (विश्राम का दिन, रविवार, Sunday), is fair and wise and good and gay.
Money doesn't grow on trees.
March winds and April showers bring forth May flowers.
Money is the root of all evil.
Money isn't everything.
Money makes the world go round.
Money talks.
More haste, less speed.
Music has charms to soothe the savage breast.
Nature abhors a vacuum.
Necessity is the mother of invention.
Needs must when the devil drives.
Ne'er cast a clout till May be out.
Never give a sucker an even break.
Never go to bed on an argument.
Never hand an ill workman good tools.
Never judge a book by its cover.
Never let the sun go down on your anger.
Never look a gift horse in the mouth.
Never put off until tomorrow what you can do today.
Never speak ill of the dead.
Never tell tales out of school.
Nine tailors make a man.
No man can serve two masters.
No man is an island.
No names, no pack-drill.
No news is good news.
No one can make you feel inferior without your consent.
No pain, no gain.
No rest for the wicked.
Nothing new under the sun.
Nothing is certain but death and taxes.
Nothing succeeds like success.
Nothing ventured, nothing gained.
Never look a gift horse in the mouth.
Necessity is the mother of invention.
Oil and water don't mix.
Old soldiers never die, they just fade away.
Once a thief, always a thief.
Once bitten, twice shy.
One good turn deserves another.
One half of the world does not know how the other half lives.
One hand washes the other.
One man's meat is another man's poison.
One might as well be hanged for a sheep as a lamb.
One law for the rich and another for the poor.
One swallow does not make a summer.
One volunteer is worth ten pressed men.
One year's seeding makes seven years weeding.
Only fools and horses work.
Opportunity never knocks twice at any man's door.
Out of sight, out of mind.
One man's trash is another man's treasure.
Parsley seed goes nine times to the Devil.
Patience is a virtue.
Pearls of wisdom.
Penny wise and pound foolish.
People who live in glass houses shouldn't throw stones.
Physician, heal thyself.
Possession is nine points of the law.
Power corrupts; absolute power corrupts absolutely.
Practice makes perfect.
Practice what you preach.
Prevention is better than cure.
Pride goes before a fall.
Procrastination is the thief of time.
Put your best foot forward.
People who live in glass houses should not throw stones.
Practice makes perfect.
Rain before seven, fine before eleven.
Red sky at night shepherd's delight; red sky in the morning, shepherd's warning.
Revenge is a dish best served cold.
Revenge is sweet.
Rob Peter to pay Paul.
Rome wasn't built in a day.
See a pin and pick it up, all the day you'll have good luck; see a pin and let it lie, bad luck you'll have all day.
See no evil, hear no evil, speak no evil.
Seeing is believing.
Seek and ye shall find.
Set a thief to catch a thief.
Share and share alike.
Shrouds have no pockets.
Silence is golden.
Slow but sure.
Softly, softly, catchee monkey.
Spare the rod and spoil the child.
Speak as you find.
Speak softly and carry a big stick.
Sticks and stones may break my bones, but words will never hurt me.
Still waters run deep.
Strike while the iron is hot.
Stupid is as stupid does.
Success has many fathers, while failure is an orphan.
Take care of the pence and the pounds will take care of themselves.
Talk is cheap.
Talk of the Devil, and he is bound to appear.
Tell the truth and shame the Devil.
That which does not kill us makes us stronger.
The age of miracles is past.
The apple never falls far from the tree.
The best defence is a good offence.
The best is the enemy of the good.
The best-laid schemes of mice and men gang aft agley.
The best things in life are free.
The bigger they are, the harder they fall.
The bottom line is the bottom line.
The boy is father to the man.
The bread always falls buttered side down.
The child is the father of the man.
The cobbler always wears the worst shoes.
The course of true love never did run smooth.
The customer is always right.
The darkest hour is just before the dawn.
The devil finds work for idle hands to do.
The devil looks after his own.
The early bird catches the worm.
The end justifies the means.
The exception which proves the rule.
The female of the species is more deadly than the male.
The fruit does not fall far from the tree.
The good die young.
The grass is always greener on the other side of the fence.
The hand that rocks the cradle rules the world.
The husband is always the last to know.
The labourer is worthy of his hire.
The law is an ass.
The leopard does not change his spots.
The longest journey starts with a single step.
The more the merrier.
The more things change, the more they stay the same.
The only good Indian is a dead Indian.
The opera ain't over till the fat lady sings.
The pen is mightier than sword.
The price of liberty is eternal vigilance.
The proof of the pudding is in the eating.
The road to hell is paved with good intentions.
The shoemaker's son always goes barefoot.
The squeaking wheel gets the grease.
The truth will out.
The wages of sin is death.
The way to a man's heart is through his stomach.
The whole is greater than the sum of the parts.
The pen is mightier than the sword.
The squeaky wheel gets the grease.There's no such thing as a free lunch.
There's no place like home.
Two heads are better than one.
There's no time like the present.
The grass is always greener on the other side of the hill. 
The early bird catches the worm.Too many cooks spoil the broth.
There are more ways of killing a cat than choking it with cream.
There are none so blind as those, that will not see.
There are two sides to every question.
There but for the grace of God, go I.
There's a time and a place for everything.
There's an exception to every rule.
There's always more fish in the sea.
There's honour among thieves.
There's many a good tune played on an old fiddle.
There's many a slip 'twixt cup and lip.
There's more than one way to skin a cat.
There's no accounting for tastes.
There's no fool like an old fool.
There's no place like home.
There's no smoke without fire.
There's no such thing as a free lunch.
There's no such thing as bad publicity.
There's no time like the present.
There's none so blind as those who will not see.
There's none so deaf as those who will not hear.
There's nowt so queer as folk.
There's one born every minute.
There's safety in numbers.
They that sow the wind, shall reap the whirlwind.
Third time lucky.
Those who do not learn from history are doomed to repeat it.
Those who live in glass houses shouldn't throw stones.
Those who sleep with dogs will rise with fleas.
Thou shalt not kill.
Time and tide wait for no man.
Time flies.
Time is a great healer.
Time is money.
Time will tell
'tis better to have loved and lost, than never to have loved at all.
To err is human; to forgive divine.
To every thing there is a season.
To the victor go the spoils.
To travel hopefully is a better thing than to arrive.
Tomorrow is another day.
Tomorrow never comes.
Too many cooks spoil the broth.
Truth is stranger than fiction.
Truth will out.
Two blacks don't make a white.
Two heads are better than one.
Two is company, but three's a crowd.
Two wrongs don't make a right.The best things come in small packages.
The best things in life are free.संसार में सर्वोत्तम मुफ्त मिलता है। भगवान् का नाम, हवा, पानी।
Though last, not least in love.
Thursday come, and the week is gone.
Tis as cheap sitting as standing.
'Tis a stinger.
'Tis in grain, sir, 'twill endure wind and weather.
This is neither here nor there. वो न यहाँ है न वहाँ है वो सर्वत्र है।
To rise with the lark, and go to bed with the lamb.
To take the nuts from the fire with the dog's foot.
Variety is the spice of life.
Virtue is its own reward.
Walls have ears.Walls have tongues, and hedges ears.
Westward-ho!
What is bred in the bone will never come out of the flesh.
What is not in a man cannot come out of him surely.
What is sauce for the goose is sauce for a gander.
What is the matter with Kansas?
What mare's nest hast thou found?
What you would not have done to yourselves, never do unto others.
When a dog is drowning, every one offers him drink.
Where McGregor sits, there is the head of the table.
Whether the pitcher hits the stone or the stone hits the pitcher, it goes ill with the pitcher.
Whistle, and I'll come to you, my lad.
Whistle, and she'll come to you.आवाज देते ही आ जाऊँगा।
Wind puffs up empty bladders; opinion, fools.
With tooth and nail.पूरी ताकत के साथ।
Within a stone's throw of it.चार कदम की दूरी पर।
Whose house is of glass, must not throw stones at another.जिनके मकान शीशे के होते हैं वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते।
Why, then, do you walk as if you had swallowed a ramrod?
Walnuts and pears you plant for your heirs.
Waste not want not.
What can't be cured must be endured.
What goes up must come down.
What you lose on the swings you gain on the roundabouts.
What's sauce for the goose is sauce for the gander.
When in Rome, do as the Romans do.
When the cat's away the mice will play.
When the going gets tough, the tough get going.
When the oak is before the ash, then you will only get a splash; when the ash is before the oak, then you may expect a soak.
What the eye doesn't see, the heart doesn't grieve over.
Where there's a will there's a way.
Where there's muck there's brass.
While there's life there's hope.
Whom the Gods love die young.
Why keep a dog and bark yourself?
Women and children first.
Wonders will never cease.
Work expands so as to fill the time available.
Worrying never did anyone any good.
You are never too old to learn.
You are what you eat.
You can choose your friends but you can't choose your family.
You can have too much of a good thing.
You can lead a horse to water, but you can't make it drink.
You can't have your cake and eat it.
You can't get blood out of a stone.
You can't make a silk purse from a sow's ear.
You can't make an omelette without breaking eggs.
You can't make bricks without straw.
You can't run with the hare and hunt with the hounds.
You can't teach an old dog new tricks.
You can't judge a book by its cover.
You can't win them all.
You catch more flies with honey than with vinegar.
You pays your money and you takes your choice.
You reap what you sow.
You win some, you lose some.
Youth is wasted on the young.
You can't make an omelette without breaking a few eggs.
You can't always get what you want.
You can't judge a book by its cover.
You can lead a horse to water, but you can't make him drink.
You reap what you sow. जैसा बोओगे वैसा ही काटोगे।
When in Rome, do as the Romans.
When the going gets tough, the tough get going.
Hope for the best, but prepare for the worst.
हिंदी में मुहावरे और लोकोक्तियाँ
मुहावरा :: कोई भी ऐसा वाक्यांश, जो अपने साधारण अर्थ को छोड़कर किसी विशेष अर्थ को व्यक्त करे, उसे मुहावरा कहते हैं।
लोकोक्ति :: लोकोक्तियाँ लोक-अनुभव से बनती हैं। किसी समाज ने जो कुछ अपने लंबे अनुभव से सीखा है उसे एक वाक्य में बाँध दिया है। ऐसे वाक्यों को ही लोकोक्ति कहते हैं। इसे कहावत, जनश्रुति आदि भी कहते हैं।
मुहावरा और लोकोक्ति में अंतर :: मुहावरा वाक्यांश है और इसका स्वतंत्र रूप से प्रयोग नहीं किया जा सकता। लोकोक्ति संपूर्ण वाक्य है और इसका प्रयोग स्वतंत्र रूप से किया जा सकता है। जैसे :- ‘होश उड़ जाना’ मुहावरा है। ‘बकरे की माँ कब तक खैर मनाएगी’ लोकोक्ति है।
(1.1). अंग छूना (कसम खाना); मैं अंग छूकर कहता हूँ कि, मैने पाजेब नहीं देखी।
(1.2). अंग-अंग मुसकाना (बहुत प्रसन्न होना); आज उसका अंग-अंग मुसकरा रहा था।
(1.3). अंग-अंग टूटना (सारे बदन में दर्द होना);इस ज्वर ने तो मेरा अंग-अंग तोड़कर रख दिया।
(1.4). अंग-अंग ढीला होना (बहुत थक जाना); तुम्हारे साथ कल चलूँगा, आज तो मेरा अंग-अंग ढीला हो रहा है।
(2.1). अक्ल का दुश्मन (मूर्ख); वह तो निरा अक्ल का दुश्मन निकला।
(2.2). अक्ल चकराना (कुछ समझ में न आना);प्रश्न-पत्र देखते ही मेरी अक्ल चकरा गई।
(2.3). अक्ल के पीछे लठ लिए फिरना (समझाने पर भी न मानना); तुम तो सदैव अक्ल के पीछे लठ लिए फिरते हो।
(2.4). अक्ल के घोड़े दौड़ाना, (तरह-तरह के विचार करना); बड़े-बड़े वैज्ञानिकों ने अक्ल के घोड़े दौड़ाए, तब कहीं वे परमाणु बम बना सके।
(3.1). आँख दिखाना (गुस्से से देखना); जो हमें आँख दिखाएगा, हम उसकी आँखें फोड़ देगें।
(3.2). आँखों में गिरना (सम्मानरहित होना); कुरसी की होड़ ने जनता सरकार को जनता की आँखों में गिरा दिया।
(3.3). आँखों में धूल झोंकना (धोखा देना); शिवाजी मुगल पहरेदारों की आँखों में धूल झोंककर बंदीगृह से बाहर निकल गए।
(3.4). आँख चुराना (छिपना); आजकल वह मुझसे आँखें चुराता फिरता है।
(3.5). आँख मारना (इशारा करना); गवाह मेरे भाई का मित्र निकला, उसने उसे आँख मारी, अन्यथा वह मेरे विरुद्ध गवाही दे देता। उसने लड़की पटाने को आँख मारी और वह पट गई। 
(3.6). आँख तरसना (देखने के लालायित होना); तुम्हें देखने के लिए तो मेरी आँखें तरस गई।
(3.7). आँख फेर लेना (प्रतिकूल होना); उसने आजकल मेरी ओर से आँखें फेर ली हैं। बुरे वक्त में नाते-रिश्तेदार भी आँखें फेर लेते हैं। 
(3.8). आँख बिछाना (प्रतीक्षा करना); लोकनायक जयप्रकाश नारायण जिधर जाते थे, उधर ही जनता उनके लिए आँखें बिछाए खड़ी होती थी।
(3.9). आँखें सेंकना (सुंदर वस्तु को देखते रहना); आँख सेंकते रहोगे या कुछ करोगे भी ?
(3.10). आँखें चार होना (प्रेम होना,आमना-सामना होना); आँखें चार होते ही वह खिड़की पर से हट गई।
(3.11). आँखों का तारा-(अतिप्रिय); आशीष अपनी माँ की आँखों का तारा है।
(3.12). आँख उठाना (देखने का साहस करना); अब वह कभी भी मेरे सामने आँख नहीं उठा सकेगा।
(3.13). आँख खुलना (होश आना); जब संबंधियों ने उसकी सारी संपत्ति हड़प ली तब उसकी आँखें खुलीं।
(3.14). आँख लगना (नींद आना अथवा व्यार होना); बड़ी मुश्किल से अब उसकी आँख लगी है। आजकल आँख लगते देर नहीं होती।
(3.15). आँखों पर परदा पड़ना (लोभ के कारण सचाई न दीखना); जो दूसरों को ठगा करते हैं, उनकी आँखों पर परदा पड़ा हुआ है। इसका फल उन्हें अवश्य मिलेगा।
(3.16). आँखों का काटा-आँख की किरकिरी (अप्रिय व्यक्ति); अपनी कुप्रवृत्तियों के कारण राजन पिताजी की आँखों का काँटा बन गया।
(3.17). आँखों में समाना (दिल में बस जाना); गिरधर मीरा की आँखों में समा गये।
(4.1). कलेजे पर हाथ रखना (अपने दिल से पूछना); अपने कलेजे पर हाथ रखकर कहो कि तुमने मेरा पैन नहीं तोड़ा।
(4.2). कलेजा जलना (तीव्र असंतोष, अफ़सोस, गुस्सा होना); उसकी बातें सुनकर मेरा कलेजा जल उठा।
(4.3). कलेजा ठंडा होना (संतोष हो जाना); डाकुओं को पकड़ा हुआ देखकर गाँव वालों का कलेजा ठंढा हो गया।
(4.4). कलेजा थामना (जी कड़ा करना); अपने एकमात्र युवा पुत्र की मृत्यु पर माता-पिता कलेजा थामकर रह गए।
(4.5). कलेजे पर पत्थर रखना (दुख में भी धीरज रखना); उस बेचारे की क्या कहते हों, उसने तो कलेजे पर पत्थर रख लिया है।
(4.6). कलेजे पर साँप लोटना (ईर्ष्या से जलना); श्री राम के राज्याभिषेक का समाचार सुनकर मंथरा के कलेजे पर साँप लोटने लगा।
(5.1). कान भरना (चुगली करना); अपने साथियों के विरुद्ध अध्यापक के कान भरने वाले विद्यार्थी अच्छे नहीं होते।
(5.2). कान कतरना (बहुत चतुर होना); वह तो अभी से बड़े-बड़ों के कान कतरता है।
(5.3). कान का कच्चा (सुनते ही किसी बात पर विश्वास करना); जो मालिक कान के कच्चे होते हैं, वे भले कर्मचारियों पर भी विश्वास नहीं करते।
(5.4). कान पर जूँ तक न रेंगना (कुछ असर न होना); माँ ने गौरव को बहुत समझाया, किन्तु उसके कान पर जूँ तक नहीं रेंगी।
(5.5). कानों कान खबर न होना (बिलकुल पता न चलना); सोने के ये इस तरह बिस्कुट ले जाओ कि किसी को कानों कान खबर न हो।
(6.1). नाक में दम करना (बहुत तंग करना); आतंकवादियों ने सरकार की नाक में दम कर रखा है।
(6.2). नाक रखना (मान-इज्ज़त  रखना); सच पूछो तो उसने सच कहकर मेरी नाक रख ली।
(6.3). नाक रगड़ना (दीनता दिखाना); गिरहकट ने सिपाही के सामने खूब नाक रगड़ी, पर सिपाही ने उसे छोड़ा नहीं।
(6.4). नाक पर मक्खी न बैठने देना (अपने पर आँच न आने देना); कितनी ही मुसीबतें उठाई, पर उसने नाक पर मक्खी न बैठने दी।
(6.5). नाक कटना (प्रतिष्ठा नष्ट होना); अरे भैया आजकल की औलाद तो खानदान की नाक काटकर रख देती है।
(7.1). मुँह की खाना (हार मानना); पड़ोसी के घर के मामले में दखल देकर हरद्वारी को मुँह की खानी पड़ी।
(7.2). मुँह में पानी भर आना (दिल ललचाना); लड्डुओं का नाम सुनते ही पंडितजी के मुँह में पानी भर आया।
(7.3). मुँह खून लगना (बुरी आदत पड़ना); उसके मुँह खून लगा है, बिना लिए-दिये वह कुछ काम नहीं करता।
(7.4). मुँह छिपाना (लज्जित होना); मुँह छिपाने से काम नहीं बनेगा, कुछ करके भी दिखाओ।
(7.5). मुँह रखना (मान रखना); मैं तुम्हारा मुँह रखने के लिए ही प्रमोद के पास गया था, अन्यथा मुझे क्या आवश्यकता थी ?
(7.6). मुँह तोड़ जवाब देना (कड़ा उत्तर देना);  श्याम मुँह तोड़ जवाब सुनकर फिर कुछ नहीं बोला।
(7.7). मुँह पर कालिख पोतना (कलंक लगाना); बेटा तुम्हारे कुकर्मों ने मेरे मुँह पर कालिख पोत दी है।
(7.8). मुँह उतरना (उदास होना); आज तुम्हारा मुँह क्यों उतरा हुआ है ?
(7.9). मुँह ताकना (दूसरे पर आश्रित होना); अब गेहूँ के लिए हमें अमेरिका का मुँह नहीं ताकना पड़ेगा।
(7.10). मुँह बंद करना (चुप कर देना); आजकल रिश्वत ने बड़े-बड़े अफसरों का मुँह बंद कर रखा है।
(8.1). दाँत-किटकिटाना पीसना (बहुत ज्यादा गुस्सा करना); भला मुझ पर दाँत क्यों पीसते हो, शीशा तो शंकर ने तोड़ा है।
(8.2). दाँत खट्टे करना (बुरी तरह हराना); भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तानी सैनिकों के दाँत खट्टे कर दिए।
(8.3). दाँत काटी रोटी (घनिष्ठता, पक्की मित्रता); कभी राम और श्याम में दाँत काटी रोटी थी, पर आज-कल वे  एक-दूसरे के जानी दुश्मन हैं।
(9.1). गरदन झुकाना (लज्जित होना); मेरा सामना होते ही उसकी गरदन झुक गई।
(9.2). गरदन पर सवार होना (पीछे पड़ना); मेरी गरदन पर सवार होने से तुम्हारा कोई काम नहीं बनने वाला है।
(9.3). गरदन पर छुरी फेरना (अत्याचार करना); उस बेचारे की गरदन पर छुरी फेरते तुम्हें शरम नहीं आती, भगवान्  इसके लिए तुम्हें कभी क्षमा नहीं करेंगे।
(10.1). गला घोंटना (अत्याचार करना); जो सरकार गरीबों का गला घोंटती है वह देर तक नहीं टिक सकती।
(10.2). गला फँसाना (बंधन में पड़ना); दूसरों के मामले में गला फँसाने से कुछ हाथ नहीं आएगा।
(10.3). गले मढ़ना (जबरदस्ती किसी को कोई काम सौंपना); इस बुद्धू को मेरे गले मढ़कर लालाजी ने तो मेरी हालत खराब कर दी है। 
(10.4). गले का हार (बहुत प्यारा); तुम तो उसके गले का हार हो, भला वह तुम्हारे काम को क्यों मना करने लगा !?
(11.1). सिर पर भूत सवार होना (धुन लगाना); तुम्हारे सिर पर तो हर समय भूत सवार रहता है।
(11.2). सिर पर मौत सवार (मृत्यु समीप होना); विभीषण ने रावण को कहा कि उसके सर पर मौत सवार थी। 
(11.3). सिर पर खून सवार होना (मरने-मारने को तैयार होना); दाऊद के सिर पर तो हर समय खून सवार रहता है।
(11.4). सिर-धड़ की बाजी लगाना (प्राणों की भी परवाह न करना); भारतीय वीर देश की रक्षा के लिए सिर-धड़ की बाजी लगा देते हैं।
(11.5). सिर नीचा करना-झुकना (इज्ज़त जाना); उसके कर्मों ने अपने माँ बाप का सर झुका दिया है। 
(12.1). हाथ खाली होना (रुपया-पैसा न होना); जुआ खेलने के कारण राजा नल का हाथ खाली हो गया था। गरीबी के कारण हरी के हाथ खाली थे। 
(12.2). हाथ खींचना (साथ न देना, सहायता करने से बचना); उसकी हरकतों को देखकर सभी ने अपने हाथ खींच लिये। मुसीबत के समय नकली मित्र हाथ खींच लेते हैं।
(12.3). हाथ पे हाथ धरकर बैठना (निकम्मा होना); उद्यमी कभी भी हाथ पर हाथ धरकर नहीं बैठते हैं, वे तो कुछ करके ही दिखाते हैं।
(12.4). हाथों के तोते उड़ना (दुख से हैरान होना); भाई के निधन का समाचार पाते ही उसके हाथों के तोते उड़ गए।
(12.5). हाथों-हाथ (बहुत जल्दी); यह काम हाथों-हाथ हो जाना चाहिए।
(12.6). हाथ मलते रह जाना (पछताना); जो बिना सोचे-समझे काम शुरू करते हैं, वे अंत में हाथ मलते रह जाते हैं।
(12.7). हाथ साफ करना;(चुरा लेना)- ओह ! किसी ने मेरी जेब पर हाथ साफ कर दिया।
(12.8). हाथ-पाँव मारना (प्रयास करना); डूबने से बचने को उसने हाथ-पाँव मारने शुरू कर दिये। हाथ-पाँव मारने वाला व्यक्ति, अंत में अवश्य सफलता प्राप्त करता है।
(12.9). हाथ डालना (शुरू करना); किसी भी काम में हाथ डालने से पहलेउसके अच्छे या बुरे फल-परिणाम पर विचार कर लेना चाहिए।
(13.1). हवा लगना (असर पड़ना); आजकल भारतीयों को भी पश्चिम की हवा लग चुकी है।
(13.2). हवा से बातें करना (बहुत तेज दौड़ना); राणा प्रताप ने ज्यों ही लगाम हिलाई, चेतक हवा से बातें करने लगा।
(13.3). हवाई किले बनाना (झूठी-असम्भव कल्पनाएँ करना); हवाई किले ही बनाते रहोगे या कुछ करोगे भी ?
(13.4). हवा हो जाना (गायब हो जाना)- देखते-ही-देखते मेरी साइकिल न जाने कहाँ हवा हो गई ?
(14.1). पानी-पानी होना-(लज्जित होना); ज्योंहि सोहन ने माताजी के पर्स में हाथ डाला कि ऊपर से माताजी आ गईं और उन्हें देखते ही वह पानी-पानी हो गया।
 (14.2). पानी में आग लगाना (शांति भंग कर देना); तुमने तो सदा पानी में आग लगाने का ही काम किया है।
(14.3). पानी फेर देना (निराश कर देना); उसने तो मेरी आशाओं पर पानी पेर दिया।
(14.4). पानी भरना (तुच्छ लगना); तुमने तो जीवन-भर पानी ही भरा है।
(15.1). अँगूठा दिखाना (देने से साफ इनकार कर देना); सेठ रामलाल ने धर्मशाला के लिए पाँच हजार रुपए दान देने को कहा था, किन्तु जब मैनेजर उनसे माँगने गया तो, उन्होंने अँगूठा दिखा दिया।
(15.2). अगर-मगर करना (टालमटोल करना); अगर-मगर करने से अब काम चलने वाला नहीं है।
(15.3). अंगारे बरसाना (अत्यंत गुस्से से देखना); अभिमन्यु वध की सूचना पाते ही अर्जुन के नेत्र अंगारे बरसाने लगे।
(15.4). आड़े हाथों लेना (देखते ही खबर लेना, पूछताछ करना ); भगवान् श्री कृष्ण ने दुर्योधन को आड़े हाथों लिया।
(14.5). आकाश से बातें करना (बहुत ऊँचा होना); टी.वी.टावर तो आकाश से बाते करती है।
(14.6). ईद का चाँद (बहुत कम दीखना, मिलना-जुलना); मित्र आजकल तो तुम ईद का चाँद हो गए हो, कहाँ रहते हो ?
(14.7). उँगली पर नचाना (वश में करना); आजकल की औरतें अपने पतियों को उँगलियों पर नचाती हैं।
(14.8). कलई खुलना (रहस्य प्रकट हो जाना); उसने तो तुम्हारी कलई खोलकर रख दी।
(15.9). काम तमाम करना (मार देना); रानी लक्ष्मीबाई ने पीछा करने वाले दोनों अंग्रेजों का काम तमाम कर दिया।
(15.10). कुत्ते की मौत करना (बुरी मौत मरना); राष्ट्रद्रोही सदा कुत्ते की मौत मरते हैं। 
(15.11). कोल्हू का बैल (निरंतर काम में लगे रहना); मैंने कोल्हू के बैल की तरह दिन रात परिश्रम करके कमाया है। कोल्हू का बैल बनकर भी लोग आज भरपेट भोजन नहीं पा सकते।
(15.12). खाक छानना (दर-दर भटकना); खाक छानने से तो अच्छा है, एक जगह जमकर काम करो।
(15.13). गड़े मुरदे उखाड़ना (पिछली बातों को याद करना); गड़े मुरदे उखाड़ने से तो अच्छा है कि अब हम चुप हो जाएँ।
(15.14). गुलछर्रे उड़ाना (मौज करना); आजकल तुम तो दूसरे के माल पर गुलछर्रे उड़ा रहे हो।
(15.15). घास खोदना (फुजूल समय बिताना); सारी उम्र तुमने घास ही खोदी है।
(15.16). चंपत होना (भाग जाना); चोर पुलिस को देखते ही चंपत हो गए।
(15.17). चौकड़ी भरना (छलाँगे लगाना); हिरन चौकड़ी भरते हुए कहीं से कहीं जा पहुँचे।
(15.18). छक्के छुडा़ना (बुरी तरह पराजित करना); पृथ्वीराज चौहान ने मुहम्मद गोरी के छक्के छुड़ा दिए थे, मगर अपनी गलतियों की वजह से पकड़ा गया।
(15.19). टका-सा जवाब देना, कोरा उत्तर देना (साफ़ मना करना)); आशा थी कि कहीं वह मेरी जीविका का प्रबंध कर देगा, पर उसने तो देखते ही टका-सा जवाब दे दिया।
(15.20). टोपी उछालना (अपमानित करना); मेरी टोपी उछालने से उसे क्या मिलेगा?
(15.21). तलवे चाटने (खुशामद करना); तलवे चाटकर नौकरी करने से तो कहीं डूब मरना अच्छा है।
(15.22). थाली का बैंगन (अस्थिर विचार वाला); जो लोग थाली के बैगन होते हैं, वे किसी के सच्चे मित्र नहीं होते।
(15.23). दाने-दाने को तरसना (अत्यंत गरीब होना); बचपन में मैं दाने-दाने को तरसता फिरा, आज ईश्वर की कृपा है।
(15.24). दौड़-धूप करना (कठोर श्रम करना); आज के युग में दौड़-धूप करने से ही कुछ काम बन पाता है।
(15.25). धज्जियाँ उड़ाना (नष्ट-भ्रष्ट करना); यदि कोई भी राष्ट्र हमारी स्वतंत्रता को हड़पना चाहेगा तो हम उसकी धज्जियाँ उड़ा देंगे।
(15.26). नमक-मिर्च लगाना (बढ़ा-चढ़ाकर कहना); आजकल समाचार पत्र-अख़बार किसी भी बात को इस प्रकार नमक-मिर्च लगाकर लिखते हैं कि जनसाधारण उस पर विश्वास करने लग जाता है।
(15.29). नौ-दो ग्यारह होना, रफूचक्क्र होना, (भाग जाना);  बिल्ली को देखते ही चूहे नौ-दो ग्यारह हो गए। 
(15.28). फूँक-फूँककर कदम रखना (सोच-समझकर कदम बढ़ाना); जवानी में फूँक-फूँककर कदम रखना चाहिए।
(14.29). बाल-बाल बचना (बड़ी कठिनाई से बचना); गाड़ी की टक्कर होने पर मेरा मित्र बाल-बाल बच गया।
(15.30). भाड़ झोंकना (यों ही समय बिताना); दिल्ली में आकर भी तुमने तीस साल तक भाड़ ही झोंका है।
(15.31). मक्खियाँ मारना (निकम्मे रहकर समय बिताना); यह समय मक्खियाँ मारने का नहीं है, घर का कुछ काम-काज ही कर लो।
(15.32). माथा ठनकना (संदेह होना); सिंह के पंजों के निशान रेत पर देखते ही गीदड़ का माथा ठनक गया।
(15.33). मिट्टी खराब करना (बुरा हाल करना); आजकल के नौजवानों ने बूढ़ों की मिट्टी खराब कर रखी है।
(15.34). रंग उड़ाना (घबरा जाना); काले नाग को देखते ही मेरा रंग उड़ गया।
(15.35). रफूचक्कर होना (भाग जाना); पुलिस को देखते ही बदमाश रफूचक्कर हो गए।
(15.36). लोहे के चने चबाना (बहुत कठिनाई से सामना करना); मुगल सम्राट अकबर को राणा प्रताप के साथ टक्कर लेते समय लोहे के चने चबाने पड़े।
(15.37). विष उगलना (बुरा-भला कहना); दुर्योधन को गांडीव धनुष का अपमान करते देख अर्जुन विष उगलने लगा।
(15.38). श्री गणेश करना (काम शुरू करना); आज बृहस्पतिवार है, नए काम का श्री गणेश कर लो।
(15.39). हजामत बनाना (ठगना); ये हिप्पी न जाने कितने भारतीयों की हजामत बना चुके हैं।
(15.40). शैतान के कान कतरना (बहुत चालाक होना); तुम तो शैतान के भी कान कतरने वाले हो, बेचारे रामनाथ की तुम्हारे सामने बिसात ही क्या है ?
(15.41). राई का पहाड़ बनाना (छोटी-सी बात को बहुत बढ़ा देना); तनिक-सी बात के लिए तुमने राई का पहाड़ बना दिया।To make a mountain of mole.
प्रचलित लोकोक्तियाँ ::
(1). अधजल गगरी छलकत जाए (कम गुण वाला व्यक्ति दिखावा बहुत करता है); श्याम बातें तो ऐसी करता है जैसे हर विषय में मास्टर हो, वास्तव में उसे किसी विषय का भी पूरा ज्ञान नहीं है। अधजल गगरी छलकत जाए।
(2). अब पछताए होत क्या, जब चिड़ियाँ चुग गई खेत (समय निकल जाने पर पछताने से क्या लाभ); सारा साल तुमने पुस्तकें खोलकर नहीं देखीं और फेल हो गये। अब पछताए होत क्या, जब चिड़ियाँ चुग गई खेत।
(3). आम के आम गुठलियों के दाम (दुगुना लाभ); हिन्दी पढ़ने से एक तो आप नई भाषा सीखकर नौकरी पर पदोन्नति कर सकते हैं, दूसरे हिन्दी के उच्च साहित्य का रसास्वादन कर सकते हैं। इसे कहते हैं, "आम के आम गुठलियों के दाम"।
(4). ऊँची दुकान फीका पकवान (केवल ऊपरी दिखावा करना); कनॉट प्लेस के अनेक स्टोर बड़े प्रसिद्ध है, पर सब घटिया दर्जे का माल बेचते हैं। सच है, ऊँची दुकान फीका पकवान।
(5). घर का भेदी लंका ढाये (आपसी फूट के कारण भेद खोलना); कई व्यक्ति पहले कांग्रेस में थे, अब पार्टी बदलकर काग्रेंस की पोल खोलते हैं। सच है, घर का भेदी लंका ढाये। जैसे आजकल कपिल मिश्रा केजरीवाल की पोल खोल रहा है। 
(6). जिसकी लाठी उसकी भैंस (शक्तिशाली की विजय होती है); अंग्रेजों ने सेना के बल पर बंगाल पर अधिकार कर लिया था सच है, जिसकी लाठी उसकी भैंस।
(7). जल में रहकर मगर से वैर (किसी के आश्रय में रहकर उससे शत्रुता मोल लेना); जो आदमी पाकिस्तान में रहकर हिंदुस्तान की बड़ाई करता है वो जल में रहकर मगर से वैर मोल लेता है।
(8). थोथा चना बाजे घना (जिसमें सत नहीं होता वह दिखावा करता है); गजेंद्र ने अभी दसवीं की परीक्षा पास की है और आलोचना अपने बड़े-बड़े गुरुजनों की करता है। थोथा चना बाजे घना।
(9). दूध का दूध पानी का पानी (सच और झूठ का ठीक फैसला); सरपंच ने दूध का दूध,पानी का पानी कर दिखाया, असली दोषी मंगू को ही दंड मिला।
(10). दूर के ढोल सुहावने (जो चीजें दूर से अच्छी लगती हों); उनके मसूरी वाले बंगले की बहुत प्रशंसा सुनते थे किन्तु वहाँ दुर्गंध के मारे तंग आकर हमारे मुख से निकल ही गया-दूर के ढोल सुहावने।
(11). न रहेगा बाँस, न बजेगी बाँसुरी (कारण के नष्ट होने पर कार्य न होना); सारा दिन लड़के आमों के लिए पत्थर मारते रहते थे, हमने आँगन में से आम का वृक्ष की कटवा दिया। न रहेगा बाँस, न बजेगी बाँसुरी।
(12). नाच न जाने आँगन टेढ़ा (काम करना नहीं आना और बहाने बनाना); जब रवींद्र ने कहा कि कोई गीत सुनाइए, तो सुनील बोला, ‘आज समय नहीं है’। फिर किसी दिन कहा तो कहने लगा, ‘आज मूड नहीं है’। सच है, नाच न जाने आँगन टेढ़ा।
(13). बिन माँगे मोती मिले, माँगे मिले न भीख (माँगे बिना अच्छी वस्तु की प्राप्ति हो जाती है, माँगने पर साधारण भी नहीं मिलती); अध्यापकों ने माँगों के लिए हड़ताल कर दी, पर उन्हें क्या मिला ? इनसे तो बैक कर्मचारी अच्छे रहे, उनका भत्ता बढ़ा दिया गया। बिन माँगे मोती मिले, माँगे मिले न भीख।
(14). मान न मान मैं तेरा मेहमान (जबरदस्ती किसी का मेहमान बनना); एक अमेरिकन कहने लगा, मैं एक मास आपके पास रहकर आपके रहन-सहन का अध्ययन करूँगा। मैंने मन में कहा, अजब आदमी है, मान न मान मैं तेरा मेहमान।
(15). मन चंगा तो कठौती में गंगा (यदि मन पवित्र है तो घर ही तीर्थ है); भैया रामेश्वरम जाकर क्या करोगे ? घर पर ही ईश-प्रभु की स्तुति करो। मन चंगा तो कठौती में गंगा।
(16). दोनों हाथों में लड्डू (दोनों ओर लाभ); महेंद्र को इधर उच्च पद मिल रहा था और उधर अमेरिका से वजीफा उसके तो दोनों हाथों में लड्डू थे।
(17). नया नौ दिन पुराना सौ दिन (नई वस्तुओं का विश्वास नहीं होता, पुरानी वस्तु टिकाऊ होती है); अब भारतीय जनता का यह विश्वास है कि इस सरकार से तो पहली सरकार फिर भी अच्छी थी। नया नौ दिन, पुराना नौ दिन।
(18). बगल में छुरी मुँह में राम-राम (भीतर से शत्रुता और ऊपर से मीठी बातें); साम्राज्यवादी आज भी कुछ राष्ट्रों को उन्नति की आशा दिलाकर उन्हें अपने अधीन रखना चाहते हैं, परन्तु अब सभी देश समझ गए हैं कि उनकी बगल में छुरी और मुँह में राम-राम है।
(19). लातों के भूत बातों से नहीं मानते (शरारती समझाने से वश में नहीं आते); सलीम बड़ा शरारती है, पर उसके अब्बा उसे प्यार से समझाना चाहते हैं। किन्तु वे नहीं जानते कि लातों के भूत बातों से नहीं मानते।
(20). सहज पके जो मीठा होय (धीरे-धीरे किए जाने वाला कार्य स्थायी फलदायक होता है); विनोबा भावे का विचार था कि भूमि सुधार धीरे-धीरे और शांतिपूर्वक लाना चाहिए, क्योंकि सहज पके सो मीठा होय।
(21). साँप मरे लाठी न टूटे (हानि भी न हो और काम भी बन जाए); घनश्याम को उसकी दुष्टता का ऐसा मजा चखाओ कि बदनामी भी न हो और उसे दंड भी मिल जाए। बस यही समझो कि साँप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे।
(22). अंत भला सो भला (जिसका परिणाम अच्छा है, वह सर्वोत्तम है); श्याम पढ़ने में कमजोर था, लेकिन परीक्षा का समय आते-आते पूरी तैयारी कर ली और परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। इसी को कहते हैं अंत भला सो भला।
(23). चमड़ी जाए पर दमड़ी न जाए (बहुत कंजूस होना); महेंद्रपाल अपने बेटे को अच्छे कपड़े तक भी सिलवाकर नहीं देता। उसका तो यही सिद्धान्त है कि चमड़ी जाए पर दमड़ी न जाए।
(24). सौ सुनार की एक लुहार की (निर्बल की सैकड़ों चोटों की सबल एक ही चोट से मुकाबला कर देते है); कौरवों ने भीम को बहुत तंग किया तो वह कौरवों को गदा से पीटने लगा-सौ सुनार की एक लुहार की।
(25). सावन हरे न भादों सूखे (सदैव एक-सी स्थिति में रहना); गत चार वर्षों में हमारे वेतन व भत्ते में एक सौ रुपए की बढ़ोत्तरी हुई है। उधर 25 प्रतिशत दाम बढ़ गए हैं; भैया हमारी तो यही स्थिति रही है कि सावन हरे न भागों सूखे।
मुहावरे एवं लोकोक्तियाँ ::
मुहावरे :- सामान्य अर्थ का बोध न कराकर विशेष अथवा विलक्षण अर्थ का बोध कराने वाले पदबन्ध को मुहावरा कहते हैँ। इन्हेँ वाग्धारा भी कहते हैँ।
मुहावरा एक ऐसा वाक्यांश है, जो रचना मेँ अपना विशेष अर्थ प्रकट करता है। रचना मेँ भावगत सौन्दर्य की दृष्टि से मुहावरोँ का विशेष महत्त्व है। इनके प्रयोग से भाषा सरस, रोचक एवं प्रभावपूर्ण बन जाती है। इनके मूल रूप मेँ कभी परिवर्तन नहीँ होता अर्थात् इनमेँ से किसी भी शब्द का पर्यायवाची शब्द प्रयुक्त नहीँ किया जा सकता। हाँ, क्रिया पद मेँ काल, पुरुष, वचन आदि के अनुसार परिवर्तन अवश्य होता है। मुहावरा अपूर्ण वाक्य होता है। वाक्य प्रयोग करते समय यह वाक्य का अभिन्न अंग बन जाता है। मुहावरे के प्रयोग से वाक्य मेँ व्यंग्यार्थ उत्पन्न होता है। अतः मुहावरे का शाब्दिक अर्थ न लेकर उसका भावार्थ ग्रहण करना चाहिए।
प्रमुख मुहावरे व उनका अर्थ ::
(1). अंग–अंग खिल उठना :– प्रसन्न हो जाना।
(2). अंग छूना :– कसम खाना।
(3). अंग–अंग टूटना :– सारे बदन में दर्द होना।
(4). अंग–अंग ढीला होना :– बहुत थक जाना।
(5). अंग–अंग मुसकाना :– बहुत प्रसन्न होना।
(6). अंग–अंग फूले न समाना :–बहुत आनंदित होना।
(7). अंगड़ाना :–अंगड़ाई लेना; to yawn. 
(8). अंकुश रखना :– नियंत्रण रखना, to exercise control.
(9). अंग लगाना :– लिपटाना।
(10). अंगारा होना :– क्रोध मेँ लाल हो जाना।
(11). अंगारा उगलना :– जली-कटी सुनाना।
(12). अंगारोँ पर पैर रखना :– जोखिम मोल लेना।
(13). अँगूठे पर मारना :– परवाह न करना।
(14). अँगूठा दिखाना :– निराश करना या तिरस्कारपूर्वक मना करना।
(15). अंगूर खट्टे होना :– प्राप्त न होने पर उस वस्तु को रद्दी बताना।
(16). अंजर-पंजर ढीला होना :– अंग-अंग ढीला होना।
(17). अंडा फूट जाना :–भेद खुल जाना।
(18). अंधा बनाना :– ठगना।
(19). अँधे की लाठी :– एकमात्र सहारा।
(20). अंधे को चिराग दिखाना :– मूर्ख को उपदेश देना।
(21). अंधाधुंध :–बिना सोचे-विचारे।
(22). अंधानुकरण करना :– बिना विचारे अनुकरण करना।
(23). अंधेर खाता :– अव्यवस्था।
(24). अंधेर नगरी :– वह स्थान जहाँ कोई नियम व्यवस्था न हो।
(24.1). अंधेर नगरी टके सेर भाजी, टके सेर खाजा :– कुशासन; maladministration.
(25). अंधे के हाथ बटेर लगना :– बिना प्रयास भारी चीज पा लेना।
(26). अंधोँ मेँ काना राजा :– अयोग्य व्यक्तियोँ के बीच कम योग्यता वाले की इज्जत। 
(27). अँधेरे घर का उजाला :– अति सुन्दर/इकलौती सन्तान।
(28). अँधेरे मेँ रखना :– भेद छिपाना।
(29). अँधेरे मुँह :– पौ फटते।
(30). अंधेरे-उजाले :– समय-कुसमय।
(31). अकड़ना :– घमण्ड करना।
(32). अक्ल का दुश्मन :– मूर्ख।
(33). अक्ल चकराना :– कुछ समझ में न आना।
(34). अक्ल का अंधा होना :– बेअक्ल होना; ignorant, nonsense.
(35). अक्ल आना :– समझ आना; to realise, to understand.
(36). अक्ल का कसूर :– बुद्धि दोष।
(37). अक्ल काम न करना :– कुछ समझ न आना।
(38). अक्ल के घोड़े दौड़ाना :– तरह-तरह की कल्पना करना।
(39). अक्ल के तोते उड़ना :– होश ठिकाने न रहना।
(40). अक्ल के बखिए उधेड़ना :– बुद्धि नष्ट कर देना।
(41). अक्ल जाती रहना :– घबरा जाना।
(42). अक्ल ठिकाने होना :– होश मेँ आना।
(43). अक्ल ठिकाने ला देना :– शक्ति के प्रयोग से समझा देना; to set one right, to make one understand through power, force.
(44). अक्ल से दूर, बाहर होना :– समझ मेँ न आना; inability to understand.
(45). अक्ल का पूरा :– मूर्ख; duffer, idiot, ignorant.
(46). अक्ल पर पत्थर पड़ना :– दिमाँग का काम न करना, बुद्धि से काम न लेना; failure to find out-hit a solution to the problem.
(47). अक्ल चरने जाना :– बुद्धि का मौके पर काम न करना; momentary failure of intelligence.
(48). अक्ल का पुतला :– बुद्धिमान; intelligent-prudent person.
(49). अक्ल के पीछे लठ लिए फिरना :– मूर्खता का काम करना।
(50). अपनी खिचड़ी खुद पकाना :- अकेले काम करना, मिलजुल कर न रहना।
(51). अपना उल्लू सीधा करना :- स्वार्थ सिद्ध करना।
(52). अपना सा मुँह लेकर रहना :- लज्जित होना।
(53). अरमान पूरे करना  :- इच्छा पूर्ति होना; fulfilment of desires.
(53.1). मन का गुबार निकालना :- मन की घुटन दूर करना, गुस्सा; to relax after expressing anger.  
(54). अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बनना :- अपनी बड़ाई आप करना; self praise.
(55). अपने पाँव पर कुल्हाड़ी मारना :-जानबूझकर अपना नुकसान करना।
(56). अपना राग अलापना :- अपनी ही बातोँ पर बल देना; to stress one's own point of view.
(57). अगर मगर करना :- बहाना करना, बनाना, बात को टालना; तो avoid carrying out a certain job.
(58). अटकलेँ भिड़ाना :- उपाय सोचना; to find out a way out to solve a certain problem.
(59). अपने पैरोँ पर खड़ा होना :- स्वावलंबी होना; to become independent, self sufficient.
(60). अक्षर से भेँट न होना :- अनपढ़ होना; illiterate, ignorant.
(61). अटखेलियाँ करना :- किलोल करना; to enjoy, playful mood.
(62). अडंगा करना :- होते कार्य मेँ बाधा डालना; to obstruct, to hinder.
(63). अड़ जाना :- जिद करना, to be adamant.
(64). अता होना :– भुगतान करना, to pay off debt.
(65). अथाह मेँ पड़ना :– मुश्किल मेँ पड़ना।
(66). अदब करना :– सम्मान करना।
(67). अधर मेँ झूलना :– दुविधा मेँ रहना।
(68). अधूरा जाना :– असमय गर्भपात होना।
(69). अनसूनी करना :– जानबूझकर उपेक्षा करना।
(70). अनी की चोट :– सामने की चोट।
(71). अपनी–अपनी पड़ना :–सबको अपनी चिँता होना।
(72). अपनी नीँद सोना :– इच्छानुसार कार्य करना।
(73). अपना हाथ जगन्नाथ :– स्वाधिकार होना।
(74). अरण्य रोदन :– निष्फल निवेदन।
(75). अवसर चूकना :– सुयोग का लाभ न उठाना।
(76). अवसर ताकना :– मौका ढूँढना।
(77). आँख का तारा :– बहुत प्यारा होना, अति प्रिय।
(78). आँख उठाना :– क्रोध से देखना।
(79). आँख बन्द कर काम करना :– ध्यान न देना।
(80). आँख-नज़र चुराना :– छिपना।
(81). आँख मारना :– इशारा करना।
(82). आँख तरसना :– देखने के लालायित होना।
आँख फेर लेना :– प्रतिकूल होना।
आँख बिछाना :– प्रतीक्षा करना।
आँखें सेंकना :– सुंदर वस्तु को देखते रहना।
आँख उठाना :– देखने का साहस करना।
आँख खुलना :– होश आना।
आँख लगना :– नींद आना अथवा प्यार होना।
आँखों पर परदा पड़ना :– लोभ के कारण सच्चाई न दीखना।
आँखों में समाना :– दिल में बस जाना।
आँखे चुराना :– अनदेखा करना।
आँखेँ चार होना, आँखें मिलना :– आमने-सामने होना, प्रेम होना।
आँखेँ दिखाना :– गुस्से से देखना।
आँखेँ फेरना :– बदल जाना, प्रतिकूल होना।
आँखेँ पथरा जाना :– प्रतीक्षा करते-करते, राह देखते-देखते थक जाना।
आँखे बिछाना :– प्रेम से स्वागत करना।
आँखोँ का काँटा होना, आँख की किरकिरी :– बुरा लगना/अप्रिय व्यक्ति।
आँखोँ पर बिठाना :– आदर करना।
आँखोँ मेँ धूल झोँकना :– धोखा देना।
आँखोँ का पानी ढलना :– निर्लज्ज बन जाना।
आँखोँ से गिरना :– आदर समाप्त होना।
आँखोँ पर परदा पड़ना :– बुद्धि भ्रष्ट होना।
आँखोँ मेँ रात कटना :– रात-भर जागते रहना।
आँच न आने देना :– थोड़ी भी हानि न होने देना।
आँसू पीकर रह जाना :–भीतर ही भीतर दुःखी होना।
आकाश के तारे तोड़ना :– असम्भव कार्य करना।
आकाश–पाताल एक करना :– कठिन प्रयत्न करना।
आग मेँ घी डालना :– क्रोध और अधिक बढ़ाना।
आग से खेलना :– जानबूझकर मुसीबत मेँ फँसना।
आग पर पानी डालना :– उत्तेजित व्यक्ति को शान्त करना।
आटे–दाल का भाव मालूम होना :– कठिनाई मेँ पड़ जाना।
आसमान से बातेँ करना :–ऊँची कल्पना करना।
आसमान सिर पर उठाना :–बहुत शोर करना।
आँचल पसारना :–भीख माँगना।
आँधी के आम होना :– बहुत सस्ती वस्तु मिलना।
आँसू पोँछना :– धीरज देना।
आग–पानी का बैर, कुत्ते-बिल्ली, नाग नेवले का वैर :– स्वाभाविक शत्रुता।
आसमान पर चढ़ना :– बहुत अधिक अभिमान करना।
आग–बबूला होना :– बहुत क्रोध करना।
आपे से बाहर होना :– अत्यधिक क्रोध से काबू मेँ न रहना।
आकाश का फूल :– अप्राप्य वस्तु।
आसमान पर उड़ना :– अभिमानी होना।
आस्तीन का साँप :– विश्वासघाती मित्र।
आकाश चूमना :– बहुत ऊँचा होना।
आग लगने पर कुआँ खोदना :– पहले से कोई उपाय न कर रखना।
आग लगाकर तमाशा देखना :– झगड़ा पैदा करके खुश होना।
आटे के साथ घुन पिसना :– दोषी के साथ निर्दोषी की भी हानि होना।
आधा तीतर आधा बटेर :– बेमेल काम।
आसमान के तारे तोड़ना :– असंभव कार्य करना।
आसमान फट पड़ना :– अचानक आफत आ पड़ना।
आँचल देना :– दूध पिलाना।
आँचल मेँ गाँठ बाँधना :– अच्छी तरह याद कर लेना।
आँचल फैलाना :– अति विनम्रता पूर्वक प्रार्थना करना।
आँधी उठना :– हलचल मचना।
आँसू गिराना :– रोना।
आँसूओँ से मुँह धोना :– बहुत रोना।
आकाश कुसुम :– अनहोनी बात।
आकाश खुलना :– बादल हटना।
आकाश-पाताल का अन्तर-फ़र्क होना :– बहुत बड़ा अन्तर।
आग का पुतला :– बहुत क्रोधी।
आग के मोल :– बहुत महँगा।
आग लगाना :– झगड़ा कराना।
आग मेँ कूदना :– स्वयं को खतरे मेँ डालना।
आग पर लोटना :– बेचैन होना/ईर्ष्या करना।
आग बुझा लेना :– कसर निकालना।
आग भी न लगाना :– तुच्छ समझना।
आग मेँ झोँकना :– अनिष्ट मेँ डाल देना।
आग से पानी होना :– क्रोधावस्था से एकदम शान्त हो जाना।
आगे–पीछे की सोचना :– भावी परिणाम पर दृष्टि रखना।
आगे करना :– हाजिर करना, अगुआ करना, आड़ लेना।
आगे–पीछे फिरना-घूमना :– खुशामद करना।
आगे होकर फिरना :– आगे बढ़कर स्वागत करना।
आज–कल करना :– टालमटोल करना।
ईँट का जवाब पत्थर से देना :– किसी के आरोप का करारा जवाब देना, कड़ाई से पेश आना।
ईँट से ईँट बजाना :– नष्ट–भ्रष्ट कर देना/विनाश करना।
इधर–उधर की लगाना :– चुगली करना; back biting.
इधर–उधर की हाँकना :– व्यर्थ की गप्पे मारना।
ईद का चाँद होना :– बहुत दिनोँ बाद दिखाई देना।
उँगली उठाना :– लाँछन लगाना, दोष निकालना।
उँगली पर नचाना :– वश मेँ करना, अपनी इच्छानुसार चलाना।
उँगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना :– तनिक सा सहारा पाकर पूरे पर अधिकार जमा लेना, मन की बात ताड़ जाना।
उल्टी गंगा बहाना :– नियम के विरुद्ध कार्य करना।
उल्लू बनाना :– मूर्ख बनाना।
उल्लू सीधा करना :– स्वार्थ सिद्ध करना।
उधेड़बुन मेँ पड़ना :– सोच–विचार करना।
उन्नीस बीस का अंतर होना :– बहुत कम अंतर होना।
उड़ती चिड़िया पहचानना :– किसी की गुप्त बात जान लेना।
उल्टी माला फेरना :– बुरा सोचना।
उल्टे उस्तरे से मूँडना :– धृष्टतापूर्वक ठगना।
उठा न रखना :– कमी न छोड़ना।
उल्टी पट्टी पढ़ाना :– कुछ का कुछ कहकर बहकाना, गलत-सलत कहकर बहकाना।
एक आँख से देखना :– सबको बराबर समझना।
एक और एक ग्यारह होना :– मेल मेँ शक्ति होना।
एड़ी–चोटी का जोर लगाना :– पूरी शक्ति लगाकर कार्य करना।
एक लाठी से हाँकना :– अच्छे–बुरे का विचार किए बिना समान व्यवहार करना।
एक घाट पानी पीना :– एकता और सहनशीलता होना।
एक ही थैली के चट्टे–बट्टे :– सब एक से, सभी समान रूप से बुरे व्यक्ति।
एक हाथ से ताली न बजना :– किसी एक पक्ष का दोष न होना।
एक ही नौका मेँ सवार होना :– एक समान परिस्थिति मेँ होना, किसी भी कार्य के लिए सभी पक्षोँ की सक्रियता अनिवार्य होती है।
एक आँख न भाना :– तनिक भी अच्छा न लगना।
ओँठ चबाना :– बहुत ज्यादा गुस्सा करना, क्रोध प्रकट करना।
ओखली मेँ सिर देना :– जान बूझ कर विपत्ति मेँ फँसना।
कंठ का हार होना :– अत्यंत प्रिय होना।
कंगाली मेँ आटा गीला :– गरीबी मेँ और अधिक हानि होना।
कंधे से कंधा मिलाना :– पूरा सहयोग करना।
कच्चा चिट्ठा खोलना :– भेद खोलना, छिपे हुए दोष बताना।
कच्ची गोली खेलना :– अनुभवी न होना।
कलेजा टूक टूक होना :– शोक में दुखी होना।
कटी पतंग होना :– निराश्रित होना।
कलेजा ठण्डा होना :– संतोष होना।
कलई खुलना :– पोल खुलना।
कमर कसना :– तैयार होना, किसी कार्य को दृढ़ निश्चय के साथ करना।
कठपुतली होना :– दूसरे के इशारे पर चलना।
कलेजा थामना :– दुःख सहने के लिए कलेजा कड़ा करना।
कमर टूटना :– कमजोर पड़ जाना, हतोत्साहित होना।
कब्र मेँ पैर लटकना :– मृत्यु के समीप होना।
कढ़ी का सा उबाल :– मामूली जोश।
कड़वे घूँट पीना :– कष्टदायक बात सहन कर जाना।
कलेजा छलनी होना :– बहुत दुःखी होना।
कलेजा निकालकर रख देना :– सब कुछ समर्पित कर देना।
कलेजा फटना :– असहनीय दुःख होना।
कलेजा मुँह को आना :– व्याकुल होना या घबरा जाना।
कलेजे का टुकड़ा :– अत्यधिक प्रिय होना।
कलेजे पर पत्थर रखना :– चुपचाप सहन करना।
 कलेजे पर साँप लोटना :– ईर्ष्या से जलना।
कसौटी पर कसना :– परखना, जाँचना, परीक्षा लेना।
कटे पर नमक छिड़कना :– दुःखी को और दुःखी करना।
काँटे बिछाना :– मार्ग मेँ बाधा उत्पन्न करना।
कागज काले करना :– व्यर्थ लिखना।
काठ का उल्लू :– अत्यंत मूर्ख।
कान खड़े होना :– सावधान होना।
कान पर जूँ न रेँगना :– असर न होना।
कान मेँ फूँक मारना :– प्रभावित करना।
कान भरना :– चुगली करना।
कान लगाकर सुनना :– ध्यान से सुनना, to listen carefully, cautiously.
कानोँ मेँ तेल, रुई डालना :– ध्यान न देना।
काम आना :– युद्ध मेँ मरना।
काम तमाम करना :– मार देना, to kill, murder.
काया पलट होना :– बिल्कुल बदल जाना।
कालिख पोतना :– बदनाम करना, to defame.
कागज की नाव :– अस्थायी/क्षण भंगुर।
कान कतरना :– मात करना/बहुत चतुर होना।
कान का कच्चा :– हर किसी बात पर विश्वास करने वाला।
कागजी घोड़े दौड़ाना :– केवल लिखा–पढ़ी करते रहना/बहुत पत्र व्यवहार करना।
कानोँ मेँ उँगली देना :– कोई आश्चर्यकारी बात सुनकर दंग रहना।
काल के गाल मेँ जाना, मौत के मुँह में जाना :– मृत्यु-पथ पर बढ़ना।
किताब का कीड़ा :– हर समय पढ़ते रहना।
कीचड़ उछालना :– बदनामी करना, नीचता दिखाना, कलंक लगाना।
कुएँ मेँ बाँस डालना :– बहुत दूर तक खोज करना।
कुएँ मेँ भांग पड़ना :– सब की बुद्धि मारी जाना।
कोल्हू का बैल :– कड़ी मेहनत करते रहने वाला।
कौड़ी के मोल बिकना :– अत्यधिक सस्ता होना।
कौड़ी–कौड़ी पर जान देना :– कंजूस होना।
खटाई मेँ पड़ना :– टल जाना, काम मेँ रुकावट आना।
खाक मेँ मिलना :– नष्ट हो जाना।
खाक मेँ मिलाना :– नष्ट कर देना।
ख्याली पुलाव बनाना :– कपोल कल्पनाएँ करना।
खालाजी का घर :– आसान काम।
खाक छानना :– बेकार फिरना, दर–दर भटकना।
खिचड़ी पकाना :– गुप्त रूप से षड्यंत्र रचना।
खून का प्यासा :– भयंकर दुश्मनी, शत्रु; dreaded enemy.
खून का घूँट पीना :– क्रोध को अंदर ही अंदर सहना।
खून सूखना :– डर जाना।
खून खौलना :– जोश मेँ आना।
खून–पसीना एक करना :– बहुत परिश्रम करना।
खून सफेद हो जाना :– दया न रह जाना।
खेत रहना :– मारा जाना।
गंगा नहाना :– बड़ा कार्य कर देना।
गत बनाना :– पीटना।
सर उठाना :– विरोध करना, to rebel.
गले का हार :– अत्यंत प्रिय।
गड़े मुर्दे उखाड़ना :– पिछली बुरी बातेँ याद करना।
गर्दन पर सवार होना :– पीछे पड़े रहना।
गज भर की छाती होना :– साहसी होना।
गाँठ बाँधना :– अच्छी तरह याद रखना।
गाल बजाना ;– डीँग मारना।
गागर मेँ सागर भरना :– थोड़े मेँ बहुत कुछ कहना।
गाजर मूली समझना :– तुच्छ समझना।
गिरगिट की तरह रंग बदलना :– बहुत जल्दी अपनी बात से बदलना।
गीदड़ भभकी :– दिखावटी धमकी।
गुड़–गोबर करना :– बना बनाया कार्य बिगाड़ देना; to spoil the game.
गुल खिलाना :– कोई बखेड़ा खड़ा करना/ऐसा कार्य करना जो दूसरोँ को उचित न लगे।
गुदड़ी मेँ लाल होना :– गरीबी मेँ भी गुणवान होना।
गू का कीड़ा गू में मस्त :- अपने हालात से समझौता करना, हर हाल में खुश रहना, तरक्की की इच्छा न रखना; to be content with existing conditions.
गूलर का फूल :– दुर्लभ का व्यक्ति या वस्तु।
गेहूँ के साथ घुन पिसना :– दोषी के साथ निर्दोष पर भी संकट आना।
गोबर गणेश :– बिल्कुल बुद्धू, निरा मूर्ख; moron, idiot, duffer, senseless person.
घर फूँककर तमाशा देखना :– अपनी हानि करके मौज उड़ाना।
घड़ोँ पानी पड़ना :– बहुत लज्जित होना।
घड़ी मेँ तोला घड़ी मेँ माशा :– अस्थिर चित्त वाला व्यक्ति।
घर मेँ गंगा बहाना :– बिना कठिनाई के कोई अच्छी वस्तु पास मेँ ही मिल जाना।
घास खोदना :– व्यर्थ समय गँवाना।
घाट–घाट का पानी पीना :– बहुत अनुभवी होना।
घाव पर नमक छिड़कना :– दुःखी को और दुःख देना।
घी के दिये जलाना :– बहुत खुशियाँ मनाना।
घुटने टेक देना :– हार मान लेना।
घोड़े बेचकर सोना :– निश्चिन्त होना।
चलती चक्की मेँ रोड़ा अटकाना :– कार्य मेँ बाधा डालना।
चंडाल चौकड़ी :– निकम्मे बदमाश लोग।
चप्पा–चप्पा छान मारना :– हर जगह ढूँढ लेना।
चाँदी का जूता :– घूस का धन।
चाँदी का जूता देना :– रिश्वत देना।
चाँदी होना :– लाभ ही लाभ होना।
चादर से बाहर पैर पसारना :– आमदनी से अधिक खर्च करना।
चादर तानकर सोना :– निश्चिँत होना।
चार चाँद लगाना :– शोभा बढ़ाना।
चार दिन की चाँदनी :– थोड़े दिनोँ का सुख, अस्थायी वैभव।
चिकना घड़ा :– बेशर्म।
चिकना घड़ा होना :– कोई प्रभाव न पड़ना।
चिराग तले अँधेरा :– दूसरोँ को उपदेश देने वाले व्यक्ति का स्वयं अच्छा आचरण नहीँ करना।
चिकनी–चुपड़ी बातेँ करना :– मीठी–मीठी बातेँ करके धोखा देना, चापलूसी करना।
चीँटी के पर निकलना :– नष्ट होने के करीब होना/अधिक घमण्ड करना।
चुटिया हाथ मेँ होना :– वश मेँ होना।
चुल्लू भर पानी मेँ डूब मरना :– लज्जा का अनुभव करना/शर्म के मारे मुँह न दिखाना।
चूना लगाना :– धोखा देना।
चूड़ियाँ पहनना :– औरतोँ की तरह कायरता दिखाना।
चेहरे पर हवाईयाँ उड़ना :– घबरा जाना।
चैन की बंशी बजाना :– सुख से रहना।
चोटी का पसीना एड़ी तक आना :– कड़ा परिश्रम करना।
चोली दामन का साथ :– घनिष्ठ सम्बन्ध।
चौदहवीँ का चाँद :– बहुत सुन्दर।
छक्के छुड़ाना :– बुरी तरह हरा देना।
छठी का दूध याद आना :– घोर संकट मेँ पड़ना, संकट मेँ पिछले सुख की याद आना।
छप्पर फाड़कर देना :– अचानक लाभ होना, बिना प्रयास के सम्पत्ति मिलना।
छाती पर पत्थर रखना :– चुपचाप दुःख सहन करना।
छाती पर साँप लोटना :– बहुत ईर्ष्या करना।
छाती पर मूँग दलना :– बहुत परेशान करना, कष्ट देना।
छूमन्तर होना :– गायब हो जाना।
छोटे मुँह बड़ी बात करना :– अपनी हैसियत से ज्यादा बात कहना।
जंगल मेँ मंगल होना :– उजाड़ मेँ चहल–पहल होना।
जमीन पर पैर न रखना :– अधिक घमण्ड करना।
जहर का घूँट पीना :– असह्य बात सहन कर लेना।
जलती आग मेँ कूदना :– विपत्ति मेँ पड़ना।
जबान पर चढ़ना :– याद आना।
जबान मेँ लगाम न होना :– बेमतलब बोलते जाना।
जमीन आसमान एक करना :– सब उपाय कर डालना।
जमीन आसमान का फर्क :– बहुत भारी अंतर।
जलती आग मेँ तेल डालना :– और भड़काना।
जहर उगलना :– कड़वी बातेँ करना।
जान के लाले पड़ना :– गम्भीर संकट मेँ पड़ना।
जान पर खेलना :– मुसीबत मेँ रहकर काम करना।
जान हथेली पर रखना :– प्राणोँ की परवाह न करना।
जी चुराना :– किसी काम से दूर भागना।
जी का जंजाल :- व्यर्थ का झंझट।
जी भर जाना :– हृदय द्रवित होना।
आँखों से देखते हुए मक्खी निगलना :– जान बूझकर बेईमानी,  बुराई को बर्दाश्त करना।
जी पर आ बनना :– मुसीबत मेँ आ फँसना।
जी चुराना :– काम करने से कतराना।
जूतियाँ चटकाना, तोड़ना :– मारे–मारे फिरना।
जूतियाँ, जूते चाटना :– चापलूसी करना।
जूतियोँ मेँ दाल बाँटना :– लड़ाई झगड़ा हो जाना।
जोड़–तोड़ करना :– उपाय करना।
झक मारना :– व्यर्थ परिश्रम करना।
झाडू फिराना :– सब कुछ बर्बाद कर देना।
झोली भरना :– अपेक्षा से अधिक देना।
टका–सा जवाब देना :– दो टूक, रूखा उत्तर देना या मना करना।
टट्टी की ओट मेँ शिकार खेलना :– छिपकर षड्यन्त्र रचना।
टका–सा मुँह लेकर रह जाना :– लज्जित हो जाना।
टाँग अड़ाना :– हस्तक्षेप करना।
टाँय–टाँय फिस हो जाना :– काम बिगड़ जाना।
टेढ़ी उँगली से घी निकालना :– शक्ति से कार्य सिद्ध करना।
टेढ़ी खीर :– कठिन काम।
टूट पड़ना :– सहसा आक्रमण कर देना।
टोपी उछालना :– अपमान करना।
ठंडा पड़ना :– क्रोध शान्त होना।
ठन–ठन गोपाल :– निर्धन व्यक्ति, खोखला।
ठिकाने आना :– ठीक स्थान पर आना।
ठीकरा फोड़ना :– दोष लगाना।
ठोकर खाना :– हानि उठाना।
डंका बजाना :– ख्याति होना, प्रभाव जमाना, घोषणा करना।
डंके की चोट कहना :– स्पष्ट कहना।
डकार जाना :– किसी की चीज को लेकर न देना, माल पचा जाना।
डोरी ढीली छोड़ना :– नियन्त्रण मेँ ढील देना।
डोरे डालना :– प्रेम मेँ फँसाना।
ढपोर शंख होना :– झूठा या गप्पी आदमी।
ढाई दिन की बादशाहत :– थोड़े दिन की मौज–बहार।
ढिँढोरा पीटना :– अति प्रचारित करना, सबको बताना।
ढोल मेँ पोल होना :– थोथा या सारहीन।
तलवे चाटना :– हद के पार जाकर, नीचे गिर कर खुशामद करना।
तार–तार होना :– पूरी तरह फट जाना।
तारे गिनना :– रात को नीँद न आना, व्यग्रता से प्रतीक्षा करना।
तिल का ताड़ करना :– बढ़ा चढ़ाकर बातेँ करना।
तितर–बितर होना :– बिखर कर भाग जाना।
तीन का तेरह होना :– अलग–अलग होना।
तूती बोलना :– खूब प्रभाव होना।
तेल की कचौड़ियोँ पर गवाही देना :– सस्ते मेँ काम करना।
तेली का बैल होना :– हर समय काम मेँ लगे रहना।
तेवर चढ़ाना :– गुस्सा होना।
थाह लेना :– पता लगाना।
थाली का बैँगन :– लाभ-हानि देखकर पक्ष बदलने वाला व्यक्ति/सिद्धान्तहीन व्यक्ति।
थूककर चाटना :– बात कहकर बदल जाना।
दबे पाँव चलना :– ऐसे चलना जिससे चलने की कोई आहट न हो।
दमड़ी के लिए चमड़ी उधेड़ना :– मामूली सी बात के लिए भारी दण्ड देना।
दम तोड़ देना :– मृत्यु को प्राप्त होना।
दाँतोँ तले उँगली दबाना :– आश्चर्य करना, हैरान होना।
दाँत पीसना :– क्रोध करना।
दाँत पीसकर रहना :– क्रोध पीकर चुप रहना।
दाँत काटी रोटी होना :– घनिष्ठ मित्रता।
दाँत उखाड़ना :– कड़ा दण्ड देना।
दाँत खट्टे करना :– परास्त करना, नीचा दिखाना।
 दाई से पेट छिपाना :– परिचित से रहस्य को छिपाये रखना।
दाने–दाने को तरसना :– अत्यंत गरीब होना।
दाल मेँ काला होना :– सन्देहपूर्ण होना, गड़बड़ होना।
दाल न गलना :– वश नहीँ चलना/सफल न होना।
दाहिना हाथ होना :– अत्यन्त विश्वासपात्र बनना, बहुत बड़ा सहायक; faithful.
दामन पकड़ना :– सहारा लेना।
दाना–पानी उठना :– जगह छोड़ना;  days are numbered.
दिन फिरना :– भाग्य पलटना।
दिन मेँ तारे दिखाई देना :– घबरा जाना, अजीब हालत होना।
दिन–रात एक करना :– खूब परिश्रम करना; to work day and night.
दिन दूनी रात चौगुनी होना :– बहुत जल्दी–जल्दी होना।
दिमाग आसमान पर चढ़ना :– बहुत घमण्ड होना।
दुम दबाकर भागना :– डर के मारे भागना।
दूध का दूध और पानी का पानी :– उचित न्याय करना।
दूध का धुला, धोया होना :– निर्दोष या निष्कलंक होना; neat & clean, spotless character.
दूध के दाँत न टूटना :– ज्ञान और अनुभव का न होना।
दो दिन का मेहमान :– जल्दी मरने वाला।
दो नावोँ पर पैर रखना :– दोनोँ तरफ रहना, एक साथ दो लक्ष्योँ को पाने की चेष्टा करना।
दो टूक जवाब देना :– साफ–साफ उत्तर देना।
दौड़–धूप करना :– कठोर श्रम करना।
दृष्टि फेरना :– अप्रसन्न होना।
धज्जियाँ उड़ाना :– नष्ट–भ्रष्ट करना।
धरती पर पाँव न पड़ना :– अभिमान मेँ रहना।
धूल फाँकना :– व्यर्थ मेँ भटकना।
धूप मेँ बाल सफेद करना :– अनुभवहीन होना।
धूल मेँ मिल जाना :– नष्ट हो जाना।
नकेल हाथ मेँ होना :– वश मेँ होना।
नमक मिर्च लगाना :– बात बढ़ा–चढ़ाकर कहना।
नाक कटना :– बदनामी होना।
नाक काटना :– अपमानित करना।
नाक चोटी काटकर हाथ मेँ देना :– दुर्दशा करना।
नाक भौँ चढ़ाना :– घृणा या असन्तोष प्रकट करना।
नाक पर मक्खी न बैठने देना :– बहुत साफ रहना, अपने पर आँच न आने देना।
नाक रगड़ना :– दीनता दिखाना।
नाक रखना :– मान रखना।
नाक में दम करना :– बहुत तंग करना।
नाक का बाल होना :– किसी के ज्यादा निकट होना।
नाकोँ चने चबाना :– बहुत तंग करना।
नानी याद आना :– कठिनाई मेँ पड़ना, घबरा जाना।
निन्यानवेँ के फेर मेँ पड़ना :– पैसा जोड़ने के चक्कर मेँ पड़ना।
नीला–पीला होना :– गुस्से होना।
नौ दो ग्यारह होना :– भाग जाना।
नौ दिन चले ढाई कोस :– बहुत धीमी गति से कार्य करना।
पगड़ी उछालना :– बेइज्जत करना।
पगड़ी रखना :– इज्जत रखना।
पसीना–पसीना होना :– बहुत थक जाना।
पहाड़ टूट पड़ना :– भारी विपत्ति आ जाना।
पाँचोँ उँगलियाँ घी मेँ होना :– सब ओर से लाभ होना।
पाँव उखड़ना :– हारकर भाग जाना।
पाँव फूँक–फूँक कर रखना :– सावधानी से कार्य करना।
पानी-पानी होना :– अत्यधिक लज्जित होना।
पानी में आग लगाना :– शांति भंगकर देना।
पानी फेर देना :– निराश कर देना।
पानी भरना :– तुच्छ लगना।
पानी पी–पीकर कोसना :– गालियाँ बकते जाना।
पानी का मोल होना :– बहुत सस्ता।
पापड़ बेलना ;– बेकार जीवन बिताना।
पीठ दिखाना :– कायरता का आचरण करना।
पेट काटना :– अपने ऊपर थोड़ा खर्च करना,; to depend over just the subsistence.
पेट मेँ चूहे दौड़ना, कूदना :– भूख लगना।
पेट बाँधकर रहना :– भूखे रहना।
पेट मेँ रखना :– बात छिपाकर रखना।
पेट मेँ दाढ़ी होना :– दिखने मेँ सीधा, परन्तु चालाक होना।
पैर उखड़ना :– भागने पर विवश होना।
पैर जमीन पर न टिकना :– प्रसन्न होना, अभिमानी होना।
पैरोँ तले से जमीन निकल, खिसक, सरक जाना :– होश उड़ जाना।
पैरोँ मेँ मेँहदी लगाकर बैठना :– कहीँ जा न सकना।
पौ बारह होना :– खूब लाभ होना।
प्राण हथेली पर लिए फिरना :– जीवन की परवाह न करना।
फट पड़ना :– एकदम गुस्से मेँ हो जाना।
फूँक–फूँककर कदम रखना :– सावधानी बरतना; to be cautious, careful.
फूटी आँख न सुहाना :– अच्छा न लगना; to dislike some one. 
फूला न समाना :– अत्यधिक खुश होना।
फूलकर कूप्पा होना :– बहुत खुश या बहुत नाराज होना।
बंदर घुड़की, भभकी :– प्रभावहीन धमकी।
बखिया उधेड़ना :– भेद खोलना।
बछिया का ताऊ :– मूर्ख।
बट्टा लगना :– कलंक लगना।
बड़े घर की हवा खाना ;– जेल जाना।
बरस पड़ना :– अति क्रुद्ध होकर डाँटना।
बल्लियोँ उछलना :– बहुत प्रसन्न होना।
बाँए हाथ का खेल :– बहुत सरल काम।
बाँछे खिल जाना :– अत्यंत प्रसन्न होना।
बाजार गर्म होना :– काम–धंधा तेज होना।
बात का धनी होना :– वचन का पक्का होना।
बाल की खाल निकालना :– नुकता–चीनी करना/बहुत तर्क–वितर्क करना।
बाल बाँका न होना, कर सकना :– कुछ भी नुकसान न होना/कर सकना।
बाल–बाल बचना :– बड़ी कठिनाई से बचना।
बासी कढ़ी मेँ उबाल आना :– समय बीत जाने पर इच्छा जागना।
बिल्ली के गल्ले मेँ घंटी बाँधना :– अपने को संकट मेँ डालना।
बेपेँदी का लोटा :– ढुलमुल, पक्ष बदलने वाला।
भंडा फोड़ना :– भेद खोल देना।
भाड़ झोँकना :– समय व्यर्थ खोना।
भाड़े का टट्टू :– पैसे लेकर ही काम करने वाला।
भीगी बिल्ली बनना :– सहम जाना।
भैँस के आगे बीन बजाना :– मूर्ख आदमी को उपदेश देना।
मक्खन लगाना :– चापलूसी करना।
मक्खियाँ मारना :– बेकार रहना; to be idle.
मन के लड्डू :– मनमोदक, कल्पना करना।
माथा ठनकना :– संदेह होना; to suspect-doubt.
मिट्टी का माधो :– बिल्कुल बुद्धू।
मिट्टी खराब करना :– बुरा हाल करना।
मिट्टी मेँ मिल जाना :– बर्बाद होना।
मुँहतोड़ जवाब देना :– बदले मेँ करारी चोट करना।
मुँह की खाना :– हार मानना।
मुँह में पानी भर आना :– खाने को जी ललचाना।
मुँह खून लगना :– रिश्वत लेने की आदत पड़ जाना; to be habitual of vice-wickedness.
मुँह छिपाना :– लज्जित होना; to be ashamed.
मुँह रखना :– मान रखना।
मुँह पर कालिख पोतना :– कलंक लगाना।
मुँह उतरना :– उदास होना।
मुँह ताकना :– दूसरे पर आश्रित होना; to stare at others for help.
मुँह बंद करना :– चुप कर देना।
मुट्ठी मेँ होना :– वश मेँ होना।
मुट्ठी गर्म करना :– रिश्वत देना; to bribe.
मोहर लगा देना :– पुष्टि करना; to confirm, to agree, to seal.
मौत सिर पर खेलना :– मृत्यु समीप होना।
रंग उड़ना :– घबरा जाना।
रंग मेँ भंग पड़ना :– आनन्दपूर्ण कार्य मेँ बाधा पड़ना; to disrupt a function.
रंग बदलना :– परिवर्तन होना; to change colours like chameleon.
रंगा सियार होना :– धोखा देने वाला, deceptor.
रफूचक्कर होना :– भाग जाना; to run away.
राई का पहाड़ बनाना :– जरा–सी बात को बढ़ा-चढ़ाकर प्रस्तुत करना; to make a mountain of  the mole.
रोँगटे खड़े होना :– डर से रोमांचित होना।
रोड़ा अटकाना :– बाधा डालना, to obstruct.
रोम–रोम खिल उठना :– प्रसन्न होना; to become happy with pleasure.
लँगोटी मेँ फाग खेलना :– गरीबी मेँ आनन्द लूटना।
लकीर पीटना :– पुरानी रीति पर चलना; to follow discarded traditions, practices, rituals.
लकीर का फकीर होना :– प्राचीन परम्पराओँ को सख्ती से मानने वाला।
लड़ाई मोल लेना :– झगड़ा पैदा करना।
लट्टू होना :– मस्त होना-मोहित होना।
ललाट मेँ लिखा होना :– भाग्य मेँ बदा होना; impact of destiny.
लहू का घूँट पीना :– अपमान सहन करना।
लाख का घर राख :– धनी का निर्धन हो जाना।
लाल–पीला होना :– क्रोधित होना; to be angry.
लुटिया डुबोना :– काम बिगाड़ना।
लेने के देने पड़ना :– लाभ के स्थान पर हानि होना।
लोहा मानना :– किसी की शक्ति स्वीकार करना, to accept one's might-supremacy.
लोहे के चने चबाना :– कठिन काम करना/बहुत संघर्ष करना।
विष उगलना :– द्वेषपूर्ण बातेँ करना, बुरा–भला कहना।
शरणागत :- पनाह-शरण लेना या आना।
शहद लगाकर चाटना :– तुच्छ वस्तु को महत्त्व देना।
शिकार हाथ लगना :– आसामी मिलना।
शैतान की आँत :– लम्बी बात।
शैतान के कान कतरना :– बहुत चालाक होना।
श्रीगणेश करना :– शुरु करना।
सब्ज बाग दिखाना :– कोरा लोभ देकर बहकाना।
साँप को दूध पिलाना :– दुष्ट की रक्षा करना।
साँप–छछूंदर की गति होना :– असंमजस या दुविधा की दशा होना।
साँप सूँघ जाना :– गुप–चुप हो जाना।
सात घाट का पानी पीना :– विस्तृत अनुभव होना।
सिँदूर चढ़ाना :– लड़की का विवाह होना।
सिट्टी–पिट्टी गुम हो जाना :– होश उड़ जाना।
सितारा चमकना :– भाग्यशाली होना।
सिर पर कफना बाँधना :– बलिदान देने के लिए तैयार होना।
सिर पर सवार होना :– पीछे पड़ना।
सिर पर चढ़ना :– मुँह लगना।
 सिर मढ़ना :– जिम्मे लगाना।
सिर मुँड़ाते ओले पड़ना :– काम शुरु होते ही बाधा आना।
सिर से बला टलना :– मुसीबत से पीछा छुटना।
सिर आँखोँ पर रखना :– आदर सहित आज्ञा मानना।
सिर पर हाथ होना :– सहारा होना, वरदहस्त होना।
सिर पर भूत सवार होना :– धुन लगाना।
सिर पर मौत खेलना :– मृत्यु समीप होना।
सिर पर खून सवार होना :– मरने-मारने को तैयार होना।
सिर–धड़ की बाजी लगाना :– प्राणों की भी परवाह न करना।
सिर नीचा करना :– लजा जाना।
सिर उठाना :– विद्रोह करना।
सिर ओखली मेँ देना  :– जान–बूझकर मुसीबत मोल लेना।
सिर पर चढ़ाना :– अत्यधिक मनमानी करने की छूट देना।
सिर से पानी गुजरना :– सहनशीलता समाप्त होना।
सिर पर पाँव रखकर भागना :– तेजी से भागना।
सिर धुनना :– पछताना।
सीँग काटकर बछड़ोँ मेँ मिलना :– बूढ़े होकर भी बच्चोँ जैसा काम करना।
सूखे धान पर पानी पड़ना :– दशा सुधरना।
सूर्य को दीपक दिखाना :– अत्यन्त प्रसिद्ध व्यक्ति का परिचय देना।
सोने की चिड़िया हाथ से निकलना :– लाभपूर्ण वस्तु से वंचित रहना।
सोने पर सुहागा होना :– अच्छी वस्तु का और अधिक अच्छा होना।
हक्का–बक्का रहना :– आश्चर्यचकित होना, हैरान रह जाना।
हथियार डाल देना :– हार मान लेना।
हवाई किले बनाना :– थोथी कल्पना करना।
हथेली पर सरसोँ उगना :– कम समय मेँ अधिक कार्य करना।
हजामत बनाना :– लूटना, ठगना।
हथेली पर जान लिए फिरना :– मरने की परवाह न करना।
हवा लगना :– असर पड़ना।
हवा से बातें करना :– बहुत तेज दौड़ना।
हवा हो जाना  :– गायब हो जाना, भाग जाना।
हवा पलटना :– समय बदल जाना।
हवा का रुख पहचानना :– अवसर की आवश्यकता को पहचानना।
हाथ का मैल :– साधारण चीज।
हाथ कट जाना :– परवश होना।
हाथ मेँ करना :– अपने वश मेँ करना।
हाथ को हाथ न सूझना ;– घना अन्धकार होना।
हाथ खाली होना :– रुपया-पैसा न होना।
हाथ खींचना :– साथ न देना।
हाथ पे हाथ धरकर बैठना :– निकम्मा होना, बिना कार्य के बैठे रहना।
हाथों के तोते उड़ना :– दुःख से हैरान होना, अचानक घबरा जाना।
हाथोंहाथ :– बहुत जल्दी, तत्काल।
हाथ मलते रह जाना :– पछताना।
हाथ साफ करना :– चुरा लेना, बेईमानी से लेना।
हाथ–पाँव मारना :– प्रयास करना।
हाथ–पाँव फूलना :– घबरा जाना।
हाथ डालना :– शुरू करना।
हाथ फैलाना :– माँगना।
हाथ धोकर पीछे पड़ना :– बुरी तरह पीछे पड़ना, पीछा न छोड़ना।
हिन्दी की चिन्दी निकालना :– बात की तह तक पहुँचना।
हुक्का–पानी बन्द कर देना :– जाति से बाहर कर देना।
हुलिया बिगाड़ना :– दुर्गत करना।
लोकोक्तियाँ-कहावतेँ :: 
लोकोक्ति का अर्थ है, लोक की उक्ति अर्थात् जन–कथन। लोकोक्तियाँ अथवा कहावतेँ लोक–जीवन की किसी घटना या अन्तर्कथा से जुड़ी रहती हैँ। इनका जन्म लोक–जीवन मेँ ही होता है। प्रत्येक लोकोक्ति समाज मेँ प्रचलित होने से पूर्व मेँ अनेक बार लोगोँ के अनुभव की कसौटी पर कसी गई है और सभी लोगोँ के अनुभव उस लोकोक्ति के साथ एक से रहे हैँ, तब वह कथन सर्वमान्य रूप से हमारे सामने है। लोकोक्तियाँ दिखने मेँ छोटी लगती हैँ, परन्तु उनमेँ अधिक भाव रहता है। लोकोक्तियोँ के प्रयोग से रचना मेँ भावगत विशेषता आ जाती है।
मुहावरे एवं लोकोक्ति मेँ अन्तर ::
मुहावरा वाक्यांश होता है तथा इसके अन्त मेँ ‘होना’, ‘जाना’, ‘देना’, ‘करना’ आदि क्रिया का मूल रूप रहता है, जिसका वाक्य मेँ प्रयोग करते समय लिँग, वचन, काल, कारक आदि के अनुसार रूप बदल जाता है। जबकि लोकोक्ति अपने आप मेँ पूर्ण वाक्य होती है और प्रयोग स्वतन्त्र वाक्य की तरह ज्योँ का त्योँ होता है। 
प्रमुख लोकोक्तियाँ व उनका अर्थ ::
अंडा सिखावे बच्चे को चीं-चीं मत कर :– छोटे के द्वारा बड़े को उपदेश देना।
अंडे सेवे कोई, बच्चे लेवे कोई :– परिश्रम कोई करे लाभ किसी और को मिले।
अंडे होंगे तो बच्चे बहुतेरे हो जाएंगे :– मूल वस्तु रहने पर उससे बनने वाली वस्तुऍं मिल ही जाती हैं।
अंत भला सो सब भला :– कार्य का परिणाम सही हो जाए तो सारी गलतियाँ भुला दी जाती हैं।
अंत भले का भला :– भलाई करने वाले का भला ही होता है।
अंधा बाँटे रेवड़ी फिर-फिर अपनोँ को देय :– अपने अधिकार का लाभ अपने लोगों को ही पहुँचाना।
अंधा क्या चाहे, दो आँखें :– मनचाही वस्तु प्राप्त होना।
अंधा क्या जाने बसंत बहार :– जो वस्तु देखी ही नहीं गई, उसका आनंद कैसे जाना जा सकता है।
अंधा पीसे कुत्ता‍ खाय :– एक की मजबूरी से दूसरे को लाभ हो जाता है।
अंधा बगुला कीचड़ खाय :– भाग्यहीन को सुख नहीं मिलता।
अंधा सिपाही कानी घोड़ी, विधि ने खूब मिलाई जोड़ी; राम मिलाई जोड़ी एक अँधा एक कोढ़ी :– बराबर वाली जोड़ी बनना।
अंधे अंधा ठेलिया दोनों कूप पड़ंत :– दो मूर्ख एक दूसरे की सहायता करें तो भी दोनों को हानि ही होती है।
अंधे की लाठी :– बेसहारे का सहारा।
अंधे के आगे रोये, अपनी आँखें खोये :– मूर्ख को ज्ञान देना बेकार है।
अंधे के हाथ बटेर लगना :– अनायास ही मनचाही वस्तु मिल जाना।
अंधे को अंधा कहने से बुरा लगता है; काणे को काणा कहो काणा जाये रूँठ, हँस-हँस के तुम रोज पूछ लो कैसे गई तेरी फूट  :– किसी के सामने उसका दोष बताने से उसे बुरा ही लगता है।
अंधे को अँधेरे में बड़े दूर की सूझी :– मूर्ख को बुद्धिमत्ता की बात सूझना।
अंधेर नगरी चौपट राजा, टके सेर भाजी टके सेर खाजा :– जहाँ मुखिया मूर्ख हो और न्याय अन्याय का ख्याल न रखता हो।
अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता :– अकेला व्यक्ति किसी बड़े काम को सम्पन्न करने में समर्थ नहीं हो सकता।
अकेला हँसता भला न रोता भला :– सुख हो या दु:ख साथी की जरूरत पड़ती ही है।
अक्ल बड़ी या भैंस :– शारीरिक शक्ति की अपेक्षा बुद्धि का अधिक महत्व होता है।
अच्छी मति जो चाहों, बूढ़े पूछन जाओ :– बड़े-बूढ़ों के अनुभव का लाभ उठाना चाहिये।
अटकेगा सो भटकेगा :– दुविधा या सोच-विचार में पड़ने से काम नहीं होता।
अधजल गगरी छलकत जाए :– ओछा आदमी थोड़ा गुण या धन होने पर इतराने लगता है।
अनजान सुजान, सदा कल्याण :– मूर्ख और ज्ञानी सदा सुखी रहते हैं।
अब पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत :– नुकसान हो जाने के बाद पछताना बेकार है।
अढ़ाई हाथ की ककड़ी, नौ हाथ का बीज :– अनहोनी बात।
बिन माँगे मोती मिले, माँगे मिले न भीख :– सौभाग्य से कोई बढ़िया चीज़ अपने-आप मिल जाती है और दुर्भाग्य से घटिया चीज़ प्रयत्न करने पर भी नहीं मिलती।
अपना-अपना कमाना, अपना-अपना खाना :– किसी दूसरे के भरोसे नहीं रहना।
अपना ढेंढर देखे नहीं, दूसरे की फुल्ली निहारे :– अपने बड़े से बड़े दुर्गुण को न देखना पर दूसरे के छोटे से छोटे अवगुण की चर्चा करना।
अपना मकान कोट समान :– अपना घर सबसे सुरक्षित स्थान होता है।
अपना रख पराया चख :– अपनी वस्तु बचाकर रखना और दूसरों की वस्तुएँ इस्तेमाल करना।
अपना लाल गँवाय के दर-दर माँगे भीख :– अपनी बहुमूल्य वस्तु को गवाँ देने से आदमी दूसरों का मोहताज हो जाता है।
अपना ही सोना खोटा तो सुनार का क्या दोष :– अपनी ही वस्तु खराब हो तो दूसरों को दोष देना उचित नहीं है।
अपनी- अपनी खाल में सब मस्त :– अपनी परिस्थिति से संतुष्ट रहना।
अपनी-अपनी ढफली, अपना-अपना राग :– सभी का अलग-अलग मत होना।
अपनी करनी पार उतरनी :– अच्छा परिणाम पाने के लिए स्वयं काम करना पड़ता है।
अपनी गरज से लोग गधे को भी बाप बनाते हैं :– किसी भी तरह अपना काम निकालना-उल्लू सीधा करना; येन केन प्रकरेण स्वार्थपूर्ति करना।
अपनी गरज बावली :– स्वार्थी आदमी दूसरों की परवाह नहीं करता।
अपनी गली में कुत्ता भी शेर होता है :– अपने घर में आदमी शक्तिशाली होता है।
अपनी गँठ पैसा तो पराया आसरा कैसा :– समर्थ व्यक्ति को दूसरे के आसरे की आवश्यकता नहीं होती।
अपनी चिलम भरने के लिए दूसरे का झोँपड़ा जलाना :– अपने छोटे से स्वार्थ के लिए दूसरे की भारी हानि कर देना।
अपनी छाछ को कोई खट्टा नहीं कहता :– अपनी चीज़ को कोई खराब नहीं बताता।
अपनी जाँघ उघारिए आपहि मरिए लाज :– अपने अवगुणों को दूसरों के समक्ष प्रस्तुत करके आप ही पछताना।
अपनी नींद सोना, अपनी नींद जागना :– मर्जी का मालिक होना।
अपनी नाक कटे तो कटे दूसरों का सगुन तो बिगड़े :– दूसरों का नुकसान करने के लिए अपने नुकसान की भी परवाह न करना।
अपनी पगड़ी अपने हाथ :– व्यक्ति अपनी इज्जत की रक्षा स्वयं ही कर सकता है।
अपने किए का क्या इलाज :– अपने द्वारा किए गए कर्म का फल भोगना ही पड़ता है।
अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता :– दूसरों के भरोसे काम नहीं होता, सफलता पाने के लिए स्वयं परिश्रम करना पड़ता है।
अपने पूत को कोई काना नहीं कहता :– अपनी चीज को कोई बुरा नहीं कहता।
अपने मुँह मिया मिट्ठू बनना :– अपनी बड़ाई आप करना।
अब की अब, तब की तब :– भविष्य की चिंता छोड़कर वर्तमान की ही चिंता करनी चाहिए।
अब सतवंती होकर बैठी लूट लिया सारा संसार :– उम्र भर बुरे कर्म करने के बाद अच्छा होने का दिखावा करना।
अभी तो तुम्हारे दूध के दाँत भी नहीं टूटे :– अभी तुम नादान हो।
अभी दिल्ली दूर है :– सफलता अभी दूर है।
अरहर की टट्टी गुजराती ताला :– मामूली वस्तु की रक्षा के लिए खर्च की परवाह न करना।
अजब तेरी माया, कहीं धूप कहीं छाया :– जीवन में सुख और दुःख आते ही रहते हैं।
अशर्फियाँ लुटाकर कोयलों पर मोहर लगाना :– अच्छे-बुरे का ज्ञान न होना।
आँख एक नहीं कजरौटा दस-दस :– व्यर्थ का आडम्बर करना।
आँख ओट पहाड़ ओट :– अनुपलब्ध व्यक्ति से किसी प्रकार का सहारा करना व्यर्थ है।
आँख और कान में चार अंगुल का फर्क :– सुनी हुई बात की अपेक्षा देखा हुआ सत्य अधिक विश्वसनीय होता है।
आँख का अंधा नाम नैनसुख :– व्यक्ति के नाम की अपेक्षा गुण प्रभावशाली होता है।
आ रे बैल मुझे मार :– जान बूझकर मुसीबत मोल लेना।
आई तो ईद, न आई तो जुम्मेरात :– आमदनी हुई तो मौज मनाना नहीं तो फाका करना।
आई मौज फकीर की, दिया झोँपड़ा फूँक :– विरक्त व्यक्ति को किसी चीज की परवाह नहीं होती।
आई है जान के साथ जाएगी जनाज़े के साथ :– लाईलाज बीमारी।
आग कह देने से मुँह नहीं जल जाता :– कोसने से किसी का अहित नहीं हो जाता।
आग का जला आग ही से अच्छा होता है :– कष्ट देने वाली वस्तु कष्ट का निवारण भी कर देती है।
आग खाएगा तो अंगार उगलेगा :– बुरे काम का नतीजा बुरा ही होता है।
आग बिना धुआँ नहीं :– बिना कारण कुछ भी नहीं होता।
आगे जाए घुटना टूटे, पीछे देखे आँख फूटे :– दुर्दिन झेलना।
आगे नाथ न पीछे पगहा :– पूर्णत: स्वतन्त्र रहना।
आज का बनिया कल का सेठ :– परिश्रम करते रहने से आदमी आगे बढ़ता जाता है।
आटे का चिराग, घर रखूँ तो चूहा खाए, बाहर रखूँ तो कौआ ले जाए :– ऐसी वस्तु जिसे बचाना मुश्किल हो।
आदमी-आदमी में अंतर कोई हीरा कोई कंकर :– व्यक्तियों के स्वभाव तथा गुण भिन्न-भिन्न होते हैं।
आदमी की दवा आदमी है :– मनुष्य ही मनुष्य की सहायता करते हैं।
आदमी को ढाई गज कफन काफी है :– अपनी हालत पर संतुष्ट रहना।
आदमी जाने बसे सोना जाने कसे :– आदमी की पहचान नजदीकी से और सोने की पहचान सोना कसौटी से होती है।
आम के आम गुठलियों के दाम :– दोहरा लाभ होना।
आधा तीतर आधा बटेर :– बेमेल वस्तु।
आधी छोड़ पूरी को धावै, आधी मिले न पूरी पावै :– लालच करने से हानि होती है।
आप काज़ महा काज़ :– अपने उद्देश्य की पूर्ति करना चाहिए।
आप भला तो जग भला :– भले आदमी को सब लोग भले ही प्रतीत होते हैं।
आप मरे जग परलो :– मृत्यु के पश्चात कोई नहीं जानता कि संसार में क्या हो रहा है।
आप मियाँ जी मँगते द्वार खड़े दरवेश :– असमर्थ व्यक्ति दूसरों की सहायता नहीं कर सकता।
आपा तजे तो हरि को भजे :– परमार्थ करने के लिए स्वार्थ को त्यागना पड़ता है।
आम खाने से काम, पेड़ गिनने से क्या मतलब :– निरुद्देश्य कार्य न करना।
आए की खुशी न गए का गम :– अपनी हालात में संतुष्ट रहना।
आए थे हरि भजन को ओटन लगे कपास :– लक्ष्य को भूलकर अन्य कार्य करना।
आसमान का थूका मुँह पर आता है :– बड़े लोगों की निंदा करने से अपनी ही बदनामी होती है।
आसमान से गिरा खजूर पर अटका :– सफलता पाने में अनेक बाधाओं का आना।
इक नागिन अरु पंख लगाई :– एक के साथ दूसरे दोष का होना।
इतना खाए जितना पावे :– अपनी औकात को ध्यान में रखकर खर्च करना।
इतनी सी जान, गज भर की ज़बान :– अपनी उम्र के हिसाब से अधिक बोलना।
इधर कुआँ उधर खाई :– हर हाल में मुसीबत।
इधर न उधर, यह बला किधर :– अचानक विपत्ति आ पड़ना।
इन तिलों में तेल नहीं :– किसी प्रकार का आसरा न होना।
इसके पेट में दाढ़ी है :– कम उम्र में बुद्धि का अधिक विकास होना।
इस हाथ दे उस हाथ ले :– किसी कार्य का फल तत्काल चाहना।
उल्टा चोर कोतवाल को डाँटे :– दोषी होने पर भी दूसरों पर धौंस जमाना।
उगले तो अंधा, खाए तो कोढ़ी :– दुविधा में पड़ना।
उत्तर जाए या दक्खिन, वही करम के लक्ख़न :– स्थान बदल जाने पर भी व्यक्ति के लक्षण नहीं बदलते।
उल्टी गंगा पहाड़ चली :– असंभव कार्य।
उल्टे बाँस बरेली को :– विपरीत कार्य करना।
ऊँची दुकान फीका पकवान :– तड़क-भड़क करके स्तरहीन चीजों को खपाना।
ऊँट किस करवट बैठता है :– सन्देह की स्थिति में होना।
ऊँट के मुँ‍ह में जीरा :– अत्यन्त अपर्याप्त।
ऊधो का लेना न माधो का देना :– किसी के तीन-पाँच में न रहना, स्वयं में लिप्त होना।
एक अंडा वह भी गंदा :– बेकार की वस्तु।
एक अनार सौ बीमार :– किसी वस्तु की मात्रा बहुत कम किन्तु उसकी माँग बहुत अधिक होना।
एक आवे के बर्तन :– सभी का एक जैसा होना।
एक और एक ग्यारह होते हैं :– एकता में बल है।
एक तो करेला ऊपर से नीम चढ़ा :– बहुत अधिक खराब होना।
एक गंदी मछली सारे तलाब को गंदा कर देती है :– अनेक अच्छाईयोँ पर भी एक बुराई भारी पड़ती है।
एक टकसाल के ढले :– सभी का एक जैसा होना।
एक तवे की रोटी, क्या छोटी क्या मोटी :– किसी प्रकार का भेदभाव न रखना।
एक तो चोरी ऊपर से सीना-जोरी :– स्वयं के दोषी होने पर भी रोब गाँठना।
एक ही थैली के चट्टे-बट्टे :– एक जैसे दुर्गुण वाले।
एक मुँह दो बात :– अपनी बात से पलटना।
एक म्यान में दो तलवारें नहीं रह सकती :– समान अधिकार वाले दो व्यक्ति एक क्षेत्र में नहीं रह सकते।
एक हाथ से ताली नहीं बजती :– झगड़े के लिए दोनों पक्ष जिम्मेदार होते हैं।
एक ही लकड़ी से सबको हाँकना :– छोटे-बड़े का ध्यान न रखना।
एकै साधे सब सधे, सब साधे सब जाय :– एक साथ अनेक कार्य करने से कोई भी कार्य पूरा नहीं होता।
ओखली में सिर दिया तो मूसलों से क्या डरना :– कठिनाइयों न डरना।
ओस चाटे प्यास नहीं बुझती :– आवश्यक से अत्यन्त कम की प्राप्ति होना।
कंगाली में आटा गीला :– मुसीबत पर मुसीबत आना।
ककड़ी के चोर को फाँसी नहीं दी जाती :– अपराध के अनुसार ही दण्ड दिया जाना चाहिए।
कचहरी का दरवाजा खुला है :– न्याय पर सभी का अधिकार होता है।
कड़ाही से गिरा चूल्हे में पड़ा :– छोटी विपत्ति से छूटकर बड़ी विपत्ति में पड़ जाना।
कब्र में पाँव लटकना :– अत्यधिक उम्र वाला।
कभी के दिन बड़े कभी की रात :– सब दिन एक समान नहीं होते।
कभी नाव गाड़ी पर, कभी गाड़ी नाव पर :– परिस्थितियाँ बदलती रहती हैं।
कमली ओढ़ने से फकीर नहीं होता :– ऊपरी वेशभूषा से किसी के अवगुण नहीं छिप जाते।
कमान से निकला तीर और मुँह से निकली बात वापस नहीं आती :– सोच-समझकर ही बात करनी चाहिए।
करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान :– अभ्यास करते रहने से सफलता अवश्य ही प्राप्त होती है।
करम के बलिया, पकाई खीर हो गया दलिया :– काम बिगड़ना।
करमहीन खेती करे, बैल मरे या सूखा पड़े :– दुर्भाग्य हो तो कोई न कोई काम खराब होता रहता है।
कर लिया सो काम, भज लिया सो राम :– अधूरे काम का कुछ भी मतलब नहीं होता।
कर सेवा तो खा मेवा :– अच्छे कार्य का परिणाम अच्छा ही होता है।
करे कोई भरे कोई :– किसी की करनी का फल किसी अन्य द्वारा भोगना।
करे दाढ़ी वाला, पकड़ा जाए जाए मुँछों वाला :– प्रभावशाली व्यक्ति के अपराध के लिए किसी छोटे आदमी को दोषी ठहराया जाना।
कल किसने देखा है :– आज का काम आज ही करना चाहिए।
कलार की दुकान पर पानी पियो तो भी शराब का शक होता है :– बुरी संगत होने पर कलंक लगता ही है।
कहाँ राम–राम, कहाँ टाँय–टाँय :– असमान चीजों की तुलना नहीं हो सकती।
कहीं की ईंट, कहीं का रोड़ा, भानमती ने कुनबा जोड़ा :– असम्बन्धित वस्तुओं का एक स्थान पर संग्रह।
कहे खेत की, सुने खलिहान की :– कुछ कहने पर कुछ समझना।
का वर्षा जब कृषी सुखाने :– अवसर निकलने जाने पर सहायता भी व्यर्थ होती है।
कागज़ की नाव नहीं चलती :– बेईमानी या धोखेबाज़ी ज्यादा दिन नहीं चल सकती।
काजल की कौठरी में कैसेहु सयानो जाय एक लीक काजल की लगिहै सो लागिहै :– बुरी संगत होने पर कलंक अवश्य ही लगता है।
काज़ी जी दुबले क्यों? शहर के अंदेशे से :– दूसरों की चिन्ता में घुलना।
काठ की हाँडी एक बार ही चढ़ती है :– धोखा केवल एक बार ही दिया जा सकता है, बार बार नहीं।
कान में तेल डाल कर बैठना :– आवश्यक चिन्ताओं से भी दूर रहना।
काबुल में क्या गधे नहीं होते :– अच्छाई के साथ–साथ बुराई भी रहती है।
काम का न काज का, दुश्मन अनाज का :– खाना खाने के अलावा और कोई भी काम न करने वाला व्यक्ति।
काम को काम सिखाता है :– अभ्यास करते रहने से आदमी होशियार हो जाता है।
काल के हाथ कमान, बूढ़ा बचे न जवान :– मृत्यु एक शाश्वत सत्य है, वह सभी को ग्रसती है।
काल न छोड़े राजा, न छोड़े रंक :– मृत्यु एक शाश्वत सत्य है, वह सभी को ग्रसती है।
काला अक्षर भैंस बराबर :– अनपढ़ होना।
काली के ब्याह मेँ सौ जोखिम :– एक दोष होने पर लोगोँ द्वारा अनेक दोष निकाल दिए जाते हैं।
किया चाहे चाकरी राखा चाहे मान :– नौकरी करके स्वाभिमान की रक्षा नहीं हो सकती।
किस खेत की मूली है :– महत्व न देना।
किसी का घर जले कोई तापे :– किसी की हानि पर किसी अन्य का लाभान्वित होना।
कुंजड़ा अपने बेरों को खट्टा नहीं बताता :– अपनी चीज को कोई खराब नहीं कहता।
कुँए की मिट्टी कुँए में ही लगती है :– कुछ भी बचत न होना।
कुतिया चोरों से मिल जाए तो पहरा कौन देय :– भरोसेमन्द व्यक्ति का बेईमान हो जाना।
कुत्ता भी दुम हिलाकर बैठता है :– कुत्ता भी बैठने के पहले बैठने के स्थान को साफ करता है।
कुत्ते की दुम बारह बरस नली में रखो तो भी टेढ़ी की टेढ़ी :– लाख कोशिश करने पर भी दुष्ट अपनी दुष्टता नहीं त्यागता।
कुत्ते को घी नहीं पचता :– नीच आदमी ऊँचा पद पाकर इतराने लगता है।
कुत्ता भूँके हजार, हाथी चले बजार :– समर्थ व्यक्ति को किसी का डर नहीं होता।
कुम्हार अपना ही घड़ा सराहता है :– अपनी ही वस्तु की प्रशंसा करना।
कै हंसा मोती चुगे कै भूखा मर जाय :– सम्मानित व्युक्ति अपनी मर्यादा में रहता है।
कोई माल मस्त, कोई हाल मस्त :– कोई अमीरी से संतुष्ट तो कोई गरीबी से।
कोठी वाला रोवें, छप्पर वाला सोवे :– धनवान की अपेक्षा गरीब अधिक निश्चिंत रहता है।
कोयल होय न उजली सौ मन साबुन लाइ :– स्वभाव नहीं बदलता।
कोयले की दलाली में मुँह काला :– बुरी संगत से कलंक लगता ही है।
कौड़ी नहीं गाँठ चले बाग की सैर :– अपनी सामर्थ्य से अधिक की सोचना।
कौन कहे राजाजी नंगे हैं :– बड़े लोगों की बुराई नहीं देखी जाती।
कौआ चला हंस की चाल, भूल गया अपनी भी चाल :– दूसरों की नकल करने से अपनी मौलिकता भी खो जाती है।
क्या पिद्दी और क्या पिद्दी का शोरबा :– अत्यन्त तुच्छ होना।
खग जाने खग ही की भाषा :– एक जैसे प्रकृति के लोग आपस में मिल ही जाते हैं।
ख्याली पुलाव से पेट नहीं भरता :– केवल सोचते रहने से काम पूरा नहीं हो जाता।
खरबूजे को देखकर खरबूजा रंग बदलता है :– देखादेखी काम करना।
खाक डाले चाँद नहीं छिपता :– किसी की निंदा करने से उसका कुछ नहीं बिगड़ता।
खाल ओढ़ाए सिंह की, स्यार सिंह नहीं होय :– ऊपरी रूप बदलने से गुण अवगुण नहीं बदलता।
खाली बनिया क्या करे, इस कोठी का धान उस कोठी में धरे :– बेकाम आदमी उल्टे-सीधे काम करता रहता है।
खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे :– अपनी असफलता पर खीझना।
खुदा की लाठी में आवाज़ नहीं होती :– कोई नहीं जानता की अपने कर्मों का कब और कैसा फल मिलेगा।
खुदा गंजे को नाखून नहीं देता :– ईश्वर सभी की भलाई का ध्यान रखता है।
खुदा देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है :– भाग्यशाली होना।
खुशामद से ही आमद है :– खुशामद से कार्य सम्पन्न हो जाते हैं।
खूँटे के बल बछड़ा कूदे :– दूसरे की शह पाकर ही अकड़ दिखाना।
खेत खाए गदहा, मार खाए जुलाहा :– किसी के दोष की सजा किसी अन्य को मिलना।
खेती अपन सेती :– दूसरों के भरोसे खेती नहीं की जा सकती।
खेल-खिलाड़ी का, पैसा मदारी का :– मेहनत किसी की लाभ किसी और का।
खोदा पहाड़ निकली चुहिया :– परिश्रम का कुछ भी फल न मिलना।
गंगा गए तो गंगादास, यमुना गए यमुनादास :– एक मत पर स्थिर न रहना।
गंजेडी यार किसके दम लगाया खिसके :– स्वार्थी आदमी स्वार्थ सिद्ध होते ही मुँह फेर लेता है।
गधा धोने से बछड़ा नहीं हो जाता :– स्वभाव नहीं बदलता।
गधा भी कहीं घोड़ा बन सकता है :– बुरा आदमी कभी भला नहीं बन सकता।
गई माँगने पूत, खो आई भरतार :– थोड़े लाभ के चक्कर में भारी नुकसान कर लेना।
गर्व का सिर नीचा :– घमंडी आदमी का घमंड चूर हो ही जाता है।
गरीब की लुगाई सब की भौजाई :– गरीब आदमी से सब लाभ उठाना चाहते हैं।
गरीबी तेरे तीन नाम- झूठा, पाजी, बेईमान :– गरीब का सवर्त्र अपमान होता रहता है।
गरीबों ने रोज़े रखे तो दिन ही बड़े हो गए :– गरीब की किस्मत ही बुरी होती है।
गवाह चुस्त, मुद्दई सुस्त :– जिसका काम है वह तो आलस से करे, दूसरे फुर्ती दिखाएं।
गाँठ का पूरा, आँख का अंधा :– मालदार असामी।
गीदड़ की मौत आती है तो वह गाँव की ओर भागता है :– विपत्ति में बुद्धि काम नहीं करती।
गुड़ खाए, गुलगुलों से परहेज :– झूठ और ढोंग रचना।
गुड़ दिए मरे तो जहर क्यों दें :– काम प्रेम से निकल सके तो सख्ती न करें।
गुड़ न दें, पर गुड़ सी बात तो करें :– कुछ न दें पर मीठे बोल तो बोलें।
गुरु-गुड़ ही रहे, चेले शक्कर हो गए :– छोटों का बड़ों से आगे बढ़ जाना।
गूदड़ में लाल नहीं छिपता :– गुण स्वयं ही झलकता है।
गेहूँ के साथ घुन भी पिसता है :– दोषी के साथ निर्दोष भी मारा जाता है।
गोद में बैठकर आँख में उँगली करना, गोदी में बैठकर दाढ़ी नोचना :– भलाई के बदले बुराई करना।
गोद में छोरा, शहर में ढिंढोरा :– पास की वस्तु नजर न आना।
घड़ी भर में घर जले, अढ़ाई घड़ी भद्रा :– समय पहचान कर ही कार्य करना चाहिए।
घड़ी में तोला, घड़ी में माशा :– चंचल विचारों वाला।
घर आए कुत्ते को भी नहीं निकालते :– घर में आने वाले को मान देना चाहिए।
घर का जोगी जोगड़ा, आन गाँव का सिद्ध :– अपने ही घर में अपनी कीमत नहीं होती।
घर का भेदी लंका ढाए :– आपसी फूट का परिणाम बुरा होता है।
घर की मुर्गी दाल बराबर :– अपनी चीज़ या अपने आदमी की कदर नहीं।
घर खीर तो बाहर खीर :– समृद्धि सम्मान प्रदान करती है।
घर में नहीं दाने, अम्मा चली भुनाने :– कुछ न होने पर भी होने का दिखावा करना।
घायल की गति घायल जाने :– कष्ट भोगने वाला ही वही दूसरों के कष्ट को समझ सकता है।
घी गिरा खिचड़ी में :– लापरवाही के बावजूद भी वस्तु का सदुपयोग होना।
घी सँवारे काम बड़ी बहू का नाम :– साधन पर्याप्त हों तो काम करने वाले को यश भी मिलता है।
घोड़ा घास से दोस्ती करेगा तो खाएगा क्या? :– व्यापार में रियायत नहीं की जाती।
घोड़े की दुम बढ़ेगी तो अपने ही मक्खियाँ उड़ाएगा :– उन्नति करके आदमी अपना ही भला करता है।
घोड़े को लात, आदमी को बात :– सामने वाले का स्वभाव पहचान कर उचित व्यहार करना।
चक्की में कौर डालोगे तो चून पाओगे :– कुछ पाने के लिए कुछ लगाना ही पड़ता है।
चट मँगनी पट ब्याह :– त्वरित गति से कार्य होना।
चढ़ जा बेटा सूली पर, भगवान भला करेंगे :– बिना सोचे विचारे खतरा मोल लेना।
चने के साथ कहीं घुन न पिस जाए :– दोषी के साथ कहीं निर्दोष न मारा जाए।
चमगादड़ों के घर मेहमान आए, हम भी लटके तुम भी लटको :– गरीब आदमी क्या आवभगत करेगा।
चमड़ी जाए पर दमड़ी न जाए :– महा कंजूस।
चमार चमड़े का यार :– स्वार्थी व्यक्ति।
चरसी यार किसके दम लगाया खिसके :– स्वार्थी व्यक्ति स्वार्थ सिद्ध होते ही मुँह फेर लेता है।
चलती का नाम गाड़ी :– कार्य चलते रहना चाहिए।
चाँद को भी ग्रहण लगता है :– भले आदमी की भी बदनामी हो जाती है।
चाकरी में न करी क्या? :– नौकरी में मालिक की आज्ञा अवहेलना नहीं की जा सकती।
चार दिन की चाँदनी फिर अँधियारी रात :– सुख थोड़े ही दिन का होता है।
चिकना मुँह पेट खाली :– देखने में अच्छा-भला भीतर से दु:खी।
चिकने घड़े पर पानी नहीं ठहरता :– निर्लज्ज़ आदमी पर किसी बात का असर नहीं पड़ता।
चिकने मुँह को सब चूमते हैं :– समृद्ध व्यक्ति के सभी यार होते हैं।
चिड़िया की जान गई, खाने वाले को मजा न आया :– भारी काम करने पर भी सराहना न मिलना।
चित भी मेरी पट भी मेरी अंटी मेरे बाबा का :– हर हालत में अपना ही लाभ देखना।
चिराग तले अँधेरा :– पास की चीज़ दिखाई न पड़ना।
चिराग में बत्ती और आँख में पट्टी :– शाम होते ही सोने लगना।
चींटी की मौत आती है तो उसके पर निकलने लगते हैं :– घमंड करने से नाश होता है।
चील के घोँसले में मांस कहाँ :– दरिद्र व्यक्ति क्या बचत कर सकता है?
चुड़ैल पर दिल आ जाए तो वह भी परी है :– पसंद आ जाए तो बुरी वस्तु भी अच्छी ही लगती है।
चुल्लू भर पानी में डूब मरना :– शर्म से डूब जाना।
चुल्लू-चुल्लू साधेगा, दुआरे हाथी बाँधेगा :– थोड़ा-थोड़ा जमा करके अमीर बना जा सकता है।
चूल्हे की न चक्की की :– किसी काम न होना।
चूहे का बच्चा बिल ही खोदता है :– स्वभाव नहीं बदलता।
चूहे के चाम से कहीं नगाड़े मढ़े जाते हैं :– अपर्याप्त।
चूहों की मौत बिल्ली का खेल :– दूसरे को कष्ट देकर मजा लेना।
चोट्टी कुतिया जलेबियों की रखवाली :– चोर को रक्षा करने के कार्य पर लगाना।
चोर के पैर नहीं होते :– दोषी व्यक्ति स्वयं फँसता है।
चोर-चोर मौसेरे भाई :– एक जैसे बदमाशों का मेल हो ही जाता है।
चोर-चोरी से जाए, हेरा-फेरी से न जाए :– दुष्ट आदमी से पूरी तरह से दुष्टता नहीं छूटती।
चोर लाठी दो जने और हम बाप पूत अकेले :– शक्तिशाली आदमी से दो व्यक्ति भी हार जाते हैं।
चोर को कहे चोरी कर और साह से कहे जागते रहो :– दो पक्षों को लड़ाने वाला।
चोरी और सीना जोरी :– गलत काम करके भी अकड़ दिखाना।
चोरी का धन मोरी में :– हराम की कमाई बेकार जाती है।
चौबे गए छब्बे बनने, दूबे ही रह गए :– अधिक लालच करके अपना सब कुछ गवाँ देना।
छछूँदर के सिर में चमेली का तेल :– अयोग्य के पास अच्छी चीज होना।
छलनी कहे सूई से तेरे पेट में छेद :– अपने अवगुणों को न देखकर दूसरों की आलोचना करना।
छाज (सूप) बोले तो बोले, छलनी भी बोले जिसमें हजार छेद :– ज्ञानी के समक्ष अज्ञानी का बोलना।
छीके कोई, नाक कटावे कोई :– किसी के दोष का फल किसी दूसरे के द्वारा भोगना।
छुरी खरबूजे पर गिरे या खरबूजा छुरी पर :– हर तरफ से हानि ही हानि होना।
छोटा मुँह बड़ी बात :– अपनी योग्यता से बढ़कर बात करना।
छोटे मियाँ तो छोटे मियाँ, बड़े मियाँ सुभान अल्लाह :– छोटे के अवगुणों से बड़े के अवगुण अधिक होना।
जंगल में मोर नाचा किसने देखा :– कद्र न करने वालों के समक्ष योग्यता प्रदर्शन।
जड़ काटते जाएं, पानी देते जाएं :– भीतर से शत्रु ऊपर से मित्र।
जने-जने की लकड़ी, एक जने का बोझ :– अकेला व्यक्ति काम पूरा नहीं कर सकता किन्तु सब मिल काम करें तो काम पूरा हो जाता है।
जब चने थे दाँत न थे, जब दाँत भये तब चने नहीं :– कभी वस्तु है तो उसका भोग करने वाला नहीं और कभी भोग करने वाला है तो वस्तु नहीं।
जब तक जीना तब तक सीना :– आदमी को मृत्युपर्यन्त काम करना ही पड़ता है।
जब तक साँस तब तक आस :– अंत समय तक आशा बनी रहती है।
जबरदस्ती का ठेंगा सिर पर :– जबरदस्त आदमी दबाव डाल कर काम लेता है।
जबरा मारे रोने न दे :– जबरदस्त आदमी का अत्याचार चुपचाप सहन करना पड़ता है।
जबान को लगाम चाहिए :– सोच-समझकर बोलना चाहिए।
ज़बान ही हाथी चढ़ाए, ज़बान ही सिर कटाए :– मीठी बोली से आदर और कड़वी बोली से निरादर होता है।
जर का जोर पूरा है, और सब अधूरा है :– धन में सबसे अधिक शक्ति है।
जर है तो नर नहीं तो खंडहर :– पैसे से ही आदमी का सम्मान है।
जल में रहकर मगर से बैर :– जहाँ रहना हो वहाँ के शक्तिशाली व्यक्ति से बैर ठीक नहीं होता।
जस दूल्हा तस बाराती :– स्वभाव के अनुसार ही मित्रता होती है।
जहाँ-जहाँ  पैर पड़े संतन के, तहाँ तहाँ बंटाधार :– अभागा व्यक्ति जहाँ भी जाता है बुरा होता है।
जहाँ गुड़ होगा, वहीं मक्खियाँ होंगी :– धन प्राप्त होने पर खुशामदी अपने आप मिल जाते हैं।
जहाँ चार बर्तन होंगे, वहाँ खटकेंगे भी :– सभी का मत एक जैसा नहीं हो सकता।
जहाँ चाह है वहाँ राह है :– काम के प्रति लगन हो तो काम करने का रास्ता निकल ही आता है।
जहाँ देखे तवा परात, वहाँ गुजारे सारी रात :– जहाँ कुछ प्राप्ति की आशा दिखे वहीं जम जाना।
जहाँ न पहुँचे रवि वहाँ पहुँचे कवि :– कवि की कल्पना की पहुँच सर्वत्र होती है।
जहाँ फूल वहाँ काँटा :– अच्छाई के साथ बुराई भी होती ही है।
जहाँ मुर्गा नहीं होता, क्या वहाँ सवेरा नहीं होता :– किसी के बिना किसी का काम रूकता नहीं है।
जाके पैर न फटी बिवाई, सो क्या जाने पीर पराई :– दु:ख को भुक्तभोगी ही जानता है।
जागेगा सो पावेगा, सोवेगा सो खोएगा :– हमेशा सतर्क रहना चाहिए।
जादू वह जो सिर पर चढ़कर बोले :– अत्यन्त प्रभावशाली होना।
जान मारे बनिया पहचान मारे चोर :– बनिया और चोर जान पहचान वालों को ठगते हैं।
जाए लाख, रहे साख :– धन भले ही चला जाए, इज्जत बचनी चाहिए।
जितना गुड़ डालोगे, उतना ही मीठा होगा :– जितना अधिक लगाओगे उतना ही अच्छा पाओगे।
जितनी चादर हो, उतने ही पैर पसारो :– आमदनी के हिसाब से खर्च करो।
जितने मुँह उतनी बातें :– अस्पष्ट होना।
जिन खोजा तिन पाइयाँ, गहरे पानी पैंठ :– परिश्रम करने वाले को ही लाभ होता है।
जिस थाली में खाना, उसी में छेद करना :– जो उपकार करे, उसका ही अहित करना।
जिसका काम उसी को साजै :– जो काम जिसका है वहीं उसे ठीक तरह से कर सकता है; never interfere with others job.
जिसका खाइए उसका गाइए :– जिससे लाभ हो उसी का पक्ष लो।
जिसका जूता उसी का सिर :– दुश्मन को दुश्मन के ही हथियार से मारना।
जिसकी लाठी उसकी भैंस :– शक्तिशाली ही समर्थ होता है।
जिसके हाथ डोई, उसका सब कोई :– धनी आदमी के सभी मित्र होते हैं।
जिसको पिया चाहे, वहीं सुहागिन :– समर्थ व्यक्ति जिसका चाहे कल्याण कर सकता है।
जर जाए, घी न जाए :– महा कृपण, कंजूस।
जीती मक्खी नहीं निगली जाती :– जानते बूझते गलत काम नहीं किया जा सकता।
जीभ भी जली और स्वाद भी न आया :– कष्ट सहकर भी उद्देश्य पूर्ति न होना।
जूठा खाए मीठे के लालच :– लाभ के लालच में नीच काम करना।
जैसा करोगे वैसा भरोगे :– जैसा काम करोगे वैसा ही फल मिलेगा।
जैसा बोवोगे वैसा काटोगे :– जैसा काम करोगे वैसा ही फल मिलेगा।
जैसा मुँह वैसा थप्पड़ :– जो जिसके योग्य हो उसको वही मिलता है।
जैसा राजा वैसी प्रजा :– राजा नेक तो प्रजा भी नेक, राजा बद तो प्रजा भी बद।
जैसी करनी वैसी भरनी :– जैसा काम करोगे वैसा ही फल मिलेगा।
जैसे तेरी बाँसुरी, वैसे मेरे गीत :– गुण के अनुसार ही प्राप्ति होती है।
जैसे कंता घर रहे वैसे रहे परदेश :– निकम्मा आदमी घर में रहे या बाहर कोई अंतर नहीं।
जैसे नागनाथ वैसे साँपनाथ :– दुष्ट लोग एक जैसे ही होते हैं।।
जो गरजते हैं वो बरसते नहीं :– डींग हाँकने वाले काम के नहीं होते हैं।
जोगी का बेटा खेलेगा तो साँप से :– बाप का प्रभाव बेटे पर पड़ता है।
जो गुड़ खाए सो कान छिदाए :– लाभ पाने वाले को कष्ट सहना ही पड़ता है।
जो तोको काँटा बुवे ताहि बोइ तू फूल :– बुराई का बदला भी भलाई से दो।
जो बोले सों घी को जाए :– बड़बोलेपन से हानी ही होती है।
जो हाँडी में होगा वह थाली में आएगा :– जो मन मेँ है वह प्रकट होगा ही।
ज्यों-ज्यों भीजे कामरी त्यों-त्यों भारी होय :- (1). पद के अनुसार जिम्मेदारियाँ भी बढ़ती जाती हैं; (2). उधारी को छूटते ही रहना चाहिए अन्यथा ब्याज बढ़ते ही जाता है।
झूठ के पाँव नहीं होते :– झूठा आदमी अपनी बात पर खरा नहीं उतरता।
झोपड़ी में रहें, महलों के ख्वाब देखें :– अपनी सामर्थ्य से बढ़कर चाहना।
टके का सब खेल है :– धन सब कुछ करता है; money makes the mare go. 
ठंडा करके खाओ :– धीरज से काम करो।
ठंडा लोहा गरम लोहे को काट देता है :– शान्त व्याक्ति क्रोधी को झुका देता है।
ठोक बजा ले चीज, ठोक बजा दे दाम :– अच्छी वस्तु का अच्छा दाम।
ठोकर लगे तब आँख खुले :– अक्ल अनुभव से आती है।
डण्डा सब का पीर :–  सख्ती करने से लोग काबू में आते हैं।
डायन को दामाद प्यारा :– खराब लोगों को भी अपने प्यारे होते हैं।
डूबते को तिनके का सहारा :–विपत्ति में थोड़ी सी सहायता भी काफी होती है।
ढाक के तीन पात :– अपनी बात पर अड़े रहना।
ढोल के भीतर पोल :– झूठा दिखावा करने वाला।
तख्त या तख्ता :– या तो उद्देश्य की प्राप्ति हो या स्वयं मिट जाएँ।
तबेले की बला बंदर के सिर :–अपना अपराध दूसरे के सिर मढ़ना।
तन को कपड़ा न पेट को रोटी :– अत्यन्त दरिद्र।
तलवार का खेत हरा नहीं होता :– अत्याचार का फल अच्छा नहीं होता।
ताली दोनों हाथों से बजती है :– केवल एक पक्ष होने से लड़ाई नहीं हो सकती।
तिरिया बिन तो नर है ऐसा, राह बटाऊ होवे जैसा :– स्त्री के बिना पुरूष अधूरा होता है।
तीन बुलाए तेरह आए, दे दाल में पानी :– समय आ पड़े तो साधन निकाल लेना पड़ता है।
तीन में न तेरह में :– निष्पक्ष होना।
तेरी करनी तेरे आगे, मेरी करनी मेरे आगे :– सबको अपने-अपने कर्म का फल भुगतना ही पड़ता है।
तुम्हारे मुँह में घी शक्कर :– शुभ सन्देश।
तुरत दान महाकल्याण :– काम को तत्काल निबटाना।
तू डाल-डाल मैं पात-पात :– चालाक के साथ चालाकी चलना।
तेल तिलों से ही निकलता है :– सामर्थ्यवान व्यक्ति से ही प्राप्ति होती है।
तेल देखो तेल की धार देखो :– धैर्य से काम लेना; wait and watch.
तेल न मिठाई, चूल्हे धरी कड़ाही :– दिखावा करना, to show off.
तेली का तेल जले, मशालची की छाती फटे :– दान कोई करे कुढ़न दूसरे को हो।
तेली के बैल को घर ही पचास कोस :– घर में रहने पर भी अक्ल का अंधा कष्ट ही भोगता है।
तेली खसम किया, फिर भी रूखा खाया :– सामर्थ्यतवान की शरण में रहकर भी दु:ख उठाना।
थका ऊँट सराय ताकता :– परिश्रम के पश्चात् विश्राम आवश्यक होता है।
थूक से सत्तू नहीं सनते :– कम सामग्री से काम पूरा नहीं हो पाता।
थोथा चना बाजे घना :– मूर्ख अपनी बातों से अपनी मूर्खता को प्रकट कर ही देता है; empty vessels make more noise. 
दमड़ी की बुढिया ढाई टका सिर मुँड़ाई :– मामूली वस्तु के रख रखाव के लिए अधिक खर्च करना।
दबाने पर चींटी भी चोट करती है :– दुःख पहुँचाने पर निर्बल भी वार करता है।
दमड़ी की हाँड़ी गई, कुत्ते की जात पहचानी गई :– असलियत जानने के लिए थोड़ी सी हानि सह लेना।
दर्जी की सुई, कभी धागे में कभी टाट में :– परिस्थिति के अनुसार कार्य।
दलाल का दिवाला क्या, मस्जिद में ताला क्या :– निर्धन को लुटने का डर नहीं होता।
दाग लगाए लँगोटिया यार :– अपनों से धोखा खाना।
दाता दे भंडारी का पेट फटे :– दान कोई करे कुढ़न दूसरे को हो।
दादा कहने से बनिया गुड़ देता है :– मीठे बोल बोलने से काम बन जाता है।
दान के बछिया के दाँत नहीं देखे जाते; मुफ्त की शराब काजी को हलाल :– मुफ्त में मिली वस्तु के गुण-अवगुण नहीं परखे जाते।
दाने-दाने पर लिखा है खाने वाले का नाम :–हक की वस्तु अवश्य ही मिलती है।
दाम सँवारे सारे काम :– पैसा सब काम करता है; money makes the mare go.
दाल में काला होना :–गड़बड़ होना।
दाल-भात में मसूरचंद–जबरदस्ती दखल देने वाला।
दाल में नमक, सच में झूठ :– थोड़ा-सा झूठ बोलना गलत नहीं होता।
दिनन के फेर से सुमेरू होत माटी को :– बुरे समय में सोना भी मिट्टी हो जाता है।
दिल्ली अभी दूर है :– सफलता दूर है; the Sultan got angry with Nizamuddin Auliya and said that he would execute as soon he reached Delhi. Nizamuddin Auliya said that "Delli abhi door hae". When Sultan was entering Delhi a beam fell over him and he died instantaneously.
दीवार के भी कान होते हैं :– सतर्क रहना चाहिए।
दुधारू गाय की लात सहनी पड़ती है :– जिससे लाभ होता है, उसकी धौंस भी सहनी पड़ती है।
दुनिया का मुँह किसने रोका है :– बोलने वालों की परवाह नहीं करनी चाहिए।
दुविधा में दोनों गए माया मिली न राम :– दुविधा में पड़ने से कुछ भी नहीं मिलता।
दूल्हा को पत्तल नहीं, बजनिये को थाल :– बेतरतीब काम करना।
दूध का दूध पानी का पानी :– उचित न्याय होना।
दूध पिलाकर साँप पोसना :– शत्रु का उपकार करना।
दूर के ढोल सुहावने :– देख परख कर ही सही गलत का ज्ञान करना।
दूसरे की पत्तल लंबा-लंबा भात :– दूसरे की वस्तु अच्छी लगती है।
देसी कुतिया विलायती बोली; बूढ़ी घोड़ी, लाल लगाम :– दिखावा करना; to show off.
देह धरे के दण्ड हैं :– शरीर है तो कष्ट भी होगा।
दोनों हाथों में लड्डू :– सभी प्रकार से लाभ ही लाभ।
दो लड़े तीसरा ले उड़े :– दो की लड़ाई में तीसरे का लाभ होना।
धनवंती को काँटा लगा दौड़े लोग हजार :– धनी आदमी को थोड़ा-सा भी कष्ट हो तो बहुत लोग उनकी सहायता को आ जाते हैं।
धन्ना सेठ के नाती बने हैं :– अपने को अमीर समझना।
धर्म छोड़ धन कौन खाए :– धर्म विरूद्ध कमाई सुख नहीं देती।
धूप में बाल सफ़ेद नहीं किए हैं :– अनुभवी होना।
धोबी का गधा घर का ना घाट का :– कहीं भी इज्जत न पाना; useless person.
धोबी पर बस न चला तो गधे के कान उमेठे :– शक्तिशाली पर आने वाले क्रोध को निर्बल पर उतारना।
धोबी के घर पड़े चोर, लुटे कोई और :– धोबी के घर चोरी होने पर कपड़े दूसरों के ही लुटते हैं।
धोबी रोवे धुलाई को, मियाँ रोवे कपड़े को :– सब अपने ही नुकसान की बात करते हैं।
नंग बड़ा भगवान् से :– निर्लज्ज से सब डरते हैं; shameless fellow who do not care about any one.
नंगा क्या नहाएगा क्या निचोड़ेगा :– अत्यन्त निर्धन होना; penny less.
नंगे से खुदा डरे :– निर्लज्ज से भगवान भी डरते हैं; shameless fellow.
न अंधे को न्योता देते न दो जने आते :– गलत फैसला करके पछताना।
न इधर के रहे, न उधर के रहे :– दुविधा में रहने से हानि ही होती है।
नकटा बूचा सबसे ऊँचा :– निर्लज्ज से सब डरते हैं इसलिए वह सबसे ऊँचा होता है।
नक्कारखाने में तूती की आवाज :– महत्व न मिलना।
नदी किनारे रूखड़ा जब-तब होय विनाश : – नदी के किनारे के वृक्ष का कभी भी नाश हो सकता है।
न नौ मन तेल होगा न राधा नाचेगी :– ऐसी परिस्थिति जिसमें काम न हो सके/असम्भव शर्त लगाना।
नमाज़ छुड़ाने गए थे, रोज़े गले पड़े :– छोटी मुसीबत से छुटकारा पाने के बदले बड़ी मुसीबत में पड़ना।
नया नौ दिन पुराना सौ दिन :– साधारण ज्ञान होने से अनुभव होने का अधिक महत्व होता है; old is gold. 
न रहेगा बाँस, न बजेगी बाँसुरी :– ऐसी परिस्थिति जिसमें काम न हो सके।
नाई की बरात में सब ही ठाकुर :– सभी का अगुवा बनना।
नाक कटी पर घी तो चाटा :– लाभ के लिए निर्लज्ज हो जाना।
नाच न जाने आँगन टेढ़ा :– बहाना करके अपना दोष छिपाना।
नानी के आगे ननिहाल की बातें :– बुद्धिमान को सीख देना।
नानी के टुकड़े खावे, दादी का पोता कहावे :– खाना किसी का, गाना किसी का।
नानी क्वाँरी मर गई, नाती के नौ-नौ ब्याह :– झूठी बड़ाई।
नाम बड़े दर्शन छोटे :– झूठा दिखावा।
नाम बढ़ावे दाम :– किसी चीज का नाम हो जाने से उसकी कीमत बढ़ जाती है।
नामी चोर मारा जाए, नामी शाह कमाए खाए :– बदनामी से बुरा और नेकनामी से भला होता है।
नीचे की साँस नीचे, ऊपर की साँस ऊपर :– अत्यधिक घबराहट की स्थिति।
नीचे से जड़ काटना, ऊपर से पानी देना :– ऊपर से मित्र, भीतर से शत्रु।
नीम हकीम खतरा-ए-जान :– अनुभवहीन व्याक्ति के हाथों काम बिगड़ सकता है।
नेकी और पूछ-पूछ :– भलाई का काम।
नौ दिन चले अढ़ाई कोस :– अत्यन्त मंद गति से कार्य करना।
नौ नकद, न तेरह उधार :– नकद का काम उधार के काम से अच्छा।
नौ सौ चूहे खा के बिल्ली हज को चली :– जीवन भर कुकर्म करके अन्त में भला बनना।
पंच कहे बिल्ली तो बिल्ली‍ ही सही :– सबकी राय में राय मिलाना।
पंचों का कहना सिर माथे पर, पर नाला वहीं रहेगा :– दूसरों की सुनकर भी अपने मन की करना।
पकाई खीर पर हो गया दलिया :– दुर्भाग्य।
पगड़ी रख, घी चख :– मान-सम्मान से ही जीवन का आनंद है।
पढ़े तो हैं, पर गुने नहीं :– पढ़-लिखकर भी नासमझ-अनुभवहीन।
पढ़े फारसी बेचे तेल :– गुणवान होने पर भी दुर्भाग्यवश छोटा काम मिलना।
पत्थर को जोंक नहीं लगती :– निर्दयी आदमी दयावान नहीं बन सकता।
पत्थर मोम नहीं होता :– निर्दयी आदमी दयावान नहीं बन सकता।
पराया घर थूकने का भी डर :– दूसरे के घर में संकोच रहता है।
पराये धन पर लक्ष्मीनारायण :– दूसरे के धन पर गुलछर्रें उड़ाना।
पहले तोलो, फिर बोलो :– सोच-समझकर मुँह खोलना चाहिए।
पाँच पंच मिल कीजे काजा, हारे-जीते कुछ नहीं लाजा :– मिलकर काम करने पर हार-जीत की जिम्मेदारी एक पर नहीं आती।
पाँचों उँगलियाँ घी में :– चौतरफा लाभ।
पाँचों उँगलियाँ बराबर नहीं होतीं :– सब आदमी एक जैसे नहीं होते।
पागलों के क्या सींग होते हैं :– पागल भी साधारण मनुष्य होता है।
पानी केरा बुलबुला अस मानुस के जात :– जीवन नश्वर है।
पानी पीकर जात पूछते हो :– काम करने के बाद उसके अच्छे-बुरे पहलुओं पर विचार करना।
पाप का घड़ा डूब कर रहता है :– पाप जब बढ़ जाता है तब विनाश होता है।
पिया गए परदेश, अब डर काहे का :– जब कोई निगरानी करने वाला न हो, तो मौज उड़ाना।
पीर बावर्ची भिस्ती खर :– किसी एक के द्वारा ही सभी तरह के काम करना।
पूत के पाँव पालने में पहचाने जाते हैं :– वर्तमान लक्षणों से भविष्य का अनुमान लग जाता है।
पूत सपूत तो का धन संचय, पूत कपूत तो का धन संचय :– सपूत स्वयं कमा लेगा, कपूत संचित धन को उड़ा देगा।
पूरब जाओ या पच्छिम, वही करम के लच्छन :– स्थान बदलने से भाग्य और स्व‍भाव नहीं बदलता।
पेड़ फल से जाना जाता है :- कर्म का महत्व उसके परिणाम से होता है।
प्यासा कुएँ के पास जाता है :– बिना परिश्रम सफलता नहीं मिलती।
फिसल पड़े तो हर गंगे :– बहाना करके अपना दोष छिपाना।
बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद :– ज्ञान न होना।
बकरे की जान गई खाने वाले को मज़ा नहीँ आया :– भारी काम करने पर भी सराहना न मिलना।
बड़ी मछली छोटी मछली को खा जाती है :– शक्तिशाली व्यक्ति निर्बल को दबा लेता है।
बड़े बरतन का खुरचन भी बहुत है :– जहाँ बहुत होता है वहाँ घटते-घटते भी काफी रह जाता है।
बड़े बोल का सिर नीचा :– घमंड करने वाले को नीचा देखना पड़ता है।
बनिक पुत्र जाने कहा गढ़ लेवे की बात :– छोटा आदमी बड़ा काम नहीं कर सकता।
बनी के सब यार हैं :– अच्छे दिनों में सभी दोस्त बनते हैं।
बरतन से बरतन खटकता ही है :– जहाँ चार लोग होते हैं वहाँ कभी अनबन हो सकती है।
बहती गंगा में हाथ धोना :– मौके का लाभ उठाना।
बाँझ का जाने प्रसव की पीड़ा :– पीड़ा को सहकर ही समझा जा सकता है।
बाड़ ही जब खेत को खाए तो रखवाली कौन करे :– रक्षक का भक्षक हो जाना।
बाप भला न भइया, सब से भला रूपइया :– धन ही सबसे बड़ा होता है।
बाप न मारे मेढकी, बेटा तीरंदाज़ :– छोटे का बड़े से बढ़ जाना।
बाप से बैर, पूत से सगाई :– पिता से दुश्मनी और पुत्र से लगाव।
बारह गाँव का चौधरी अस्सी गाँव का राव, अपने काम न आवे तो ऐसी-तैसी में जाव :– बड़ा होकर यदि किसी के काम न आए, तो बड़प्पन व्यर्थ है।
बारह बरस पीछे घूरे के भी दिन फिरते हैं :– एक न एक दिन अच्छे दिन आ ही जाते हैं।
बासी कढ़ी में उबाल नहीं आता :– काम करने के लिए शक्ति का होना आवश्यक होता है।
बासी बचे न कुत्ता खाय :– जरूरत के अनुसार ही सामान बनाना।
बिंध गया सो मोती, रह गया सो सीप :– जो वस्तु काम आ जाए वही अच्छी।
बिच्छू का मंतर न जाने, साँप के बिल में हाथ डाले :– मूर्खतापूर्ण कार्य करना।
बिना रोए तो माँ भी दूध नहीं पिलाती :– बिना यत्न किए कुछ भी नहीं मिलता।
बिल्ली और दूध की रखवाली ?, जलेबी की रखवाली कुतिया :– भक्षक रक्षक नहीं हो सकता।
बिल्ली के सपने में चूहा :– जरूरतमंद को सपने में भी जरूरत की ही वस्तु दिखाई देती है।
बिल्ली गई चूहों की बन आयी :– डर खत्म होते ही मौज मनाना।
बीमार की रात पहाड़ बराबर :– खराब समय मुश्किल से कटता है।
बुड्ढी घोड़ी लाल लगाम :– वय के हिसाब से ही काम करना चाहिए।
बुढ़ापे में मिट्टी खराब :– बुढ़ापे में इज्जत में बट्टा लगना।
बुढिया मरी तो आगरा तो देखा :– प्रत्येक घटना के दो पहलू होते हैं– अच्छा और बुरा।
बूँद-बूँद से घड़ा भरता है :– थोड़ा-थोड़ा जमा करने से धन का संचय होता है।
बूढे तोते भी कही पढ़ते हैं :– बुढ़ापे में कुछ सीखना मुश्किल होता है।
बिल्ली के भागों छींका टूटा :– सौभाग्य।
बोए पेड़ बबूल के आम कहाँ से होय :– जैसा कर्म करोगे वैसा ही फल मिलेगा।
भरी गगरिया चुपके जाय :– ज्ञानी आदमी गंभीर होता है।
भरे पेट शक्कर खारी :– समय के अनुसार महत्व बदलता है।
भले का भला :– भलाई का बदला भलाई में मिलता है।
भलो भयो मेरी मटकी फूटी मैं दही बेचने से छूटी :– काम न करने का बहाना मिल जाना।
भलो भयो मेरी माला टूटी राम जपन की किल्लत छूटी :– काम न करने का बहाना मिल जाना।
भागते भूत की लँगोटी ही सही :– कुछ न मिलने से कुछ मिलना अच्छा है।
भीख माँगे और आँख दिखाए :– दयनीय होकर भी अकड़ दिखाना।
भूख लगी तो घर की सूझी :– जरूरत पड़ने पर अपनों की याद आती है।
भूखे भजन न होय गोपाला :– भूख लगी हो तो भोजन के अतिरिक्त कोई अन्य कार्य नहीं सूझता।
भूल गए राग रंग भूल गई छकड़ी, तीन चीज़ याद रहीं नून तेल लकड़ी :– गृहस्थीं के जंजाल में फँसना।
भैंस के आगे बीन बजे, भैंस खड़ी पगुराय :– मूर्ख के आगे ज्ञान की बात करना बेकार है।
भौंकते कुत्ते को रोटी का टुकड़ा :– जो तंग करे उसको कुछ दे-दिला के चुप करा दो।
मछली के बच्चे को तैरना कौन सिखाता है :– गुण जन्मजात आते हैं।
मजनू को लैला का कुत्ता भी प्यारा :– प्रेयसी की हर चीज प्रेमी को प्यारी लगती है।
मतलबी यार किसके, दम लगाया खिसके :– स्वार्थी व्यक्ति को अपना स्वार्थ साधने से काम रहता है।
मन के लड्ड़ओं से भूख नहीं मिटती :– इच्छा करने मात्र से ही इच्छापूर्ति नहीं होती।
मन चंगा तो कठौती में गंगा :– मन की शुद्धता ही वास्तविक शुद्धता है।
मरज़ बढ़ता गया ज्यों-ज्यों इलाज करता गया :– सुधार के बजाय बिगाड़ होना।
मरता क्या न करता :– मजबूरी में आदमी सब कुछ करना पड़ता है।
मरी बछिया बांभन के सिर :– व्यर्थ दान।
मलयागिरि की भीलनी चंदन देत जलाय :– बहुत अधिक नजदीकी होने पर कद्र घट जाती है।
माँ का पेट कुम्हार का आवा :– संताने सभी एक सी नहीं होती।
माँगे हरड़, दे बेहड़ा :– कुछ का कुछ करना।
मान न मान मैं तेरा मेहमान :– ज़बरदस्ती का मेहमान।
मानो तो देवता नहीं तो पत्थर :– माने तो आदर, नहीं तो उपेक्षा।
माया से माया मिले कर-कर लंबे हाथ :– धन ही धन को खींचता है।
माया बादल की छाया :– धन-दौलत का कोई भरोसा नहीं।
मार के आगे भूत भागे :– मार से सब डरते हैँ।
मियाँ की जूती मियाँ का सिर :– दुश्मन को दुश्मन के हथियार से मारना।
मिस्सों से पेट भरता है किस्सों से नहीं :– बातों से पेट नहीं भरता।
मीठा-मीठा गप, कड़वा-कड़वा थू-थू :- मतलबी होना।
मुँह में राम बगल में छुरी :- ऊपर से मित्र भीतर से शत्रु।
मुँह माँगी मौत नहीं मिलती :- अपनी इच्छा से कुछ नहीं होता।
मुफ्त की शराब काज़ी को भी हलाल :- मुफ्त का माल सभी ले लेते हैं।
मुल्ला की दौड़ मस्जिद तक :– सीमित दायरा, कूप मंढूक।
मोरी की ईंट चौबारे पर :– छोटी चीज का बड़े काम में लाना।
म्याऊँ के ठोर को कौन पकड़े :– कठिन काम कोई नहीं करना चाहता।
यह मुँह और मसूर की दाल :– औकात का न होना।
रंग लाती है हिना पत्थर पे घिसने के बाद :– दु:ख झेलकर ही आदमी का अनुभव और सम्मान बढ़ता है।
रस्सी जल गई पर ऐंठ न गई :–घमण्ड का खत्म न होना।
राजा के घर मोतियों का अकाल? :–समर्थ को अभाव नहीं होता।
रानी रूठेगी तो अपना सुहाग लेगी :–रूठने से अपना ही नुकसान होता है।
राम की माया कहीं धूप कहीं छाया :– कहीं सुख है तो कहीं दुःख है।
राम मिलाई जोड़ी, एक अंधा एक कोढ़ी :– बराबर का मेल हो जाना।
राम राम जपना पराया माल अपना :– ऊपर से भक्त, असल में ठग।
रोज कुआँ खोदना, रोज पानी पीना :– रोज कमाना रोज खाना।
रोगी से वैद :– भुक्तभोगी अनुभवी हो जाता है।
लड़े सिपाही नाम सरदार का :– काम का श्रेय अगुवा को ही मिलता है।
लड्डू कहे मुँह मीठा नहीं होता :– केवल कहने से काम नहीं बन जाता।
लातों के भूत बातों से नहीं मानते :– मार खाकर ही काम करने वाला।
लाल गुदड़ी में नहीं छिपते :- मनुष्य के गुण कभी नहीं छिपते।
लिखे ईसा पढ़े मूसा :- गंदी लिखावट।
लेना एक न देना दो :- कुछ मतलब न रखना।
लोहा लोहे को काटता है :- प्रत्येक वस्तु का सदुपयोग होता है।
वहम की दवा हकीम लुकमान के पास भी नहीं है :- वहम सबसे बुरा रोग है।
विष को सोने के बरतन में रखने से अमृत नहीं हो जाता :- किसी चीज़ का प्रभाव बदल नहीं सकता।
शौकीन बुढिया मलमल का लहँगा :- अजीब शौक करना।
शक्कर खोरे को शक्कर और टक्कर खोरे को टक्कर मिल ही जाती है :- जुगाड़ कर लेना।
सकल तीर्थ कर आई तुमड़िया तौ भी न गयी तिताई :- स्वभाव नहीं बदलता।
सख़ी से सूम भला जो तुरन्त दे जवाब :- लटका कर रखने वाले से तुरन्त इंकार कर देने वाला अच्छा।
सच्चा जाय रोता आय, झूठा जाय हँसता आय-सच्चा दुखी, झूठा सुखी।
सबेरे का भूला सांझ को घर आ जाए तो भूला नहीं कहलाता :- गलती सुधर जाए तो दोष नहीं कहलाता।
समय पाइ तरूवर फले केतिक सीखे नीर :- काम अपने समय पर ही होता है।
समरथ को नहिं दोष गोसाई :- समर्थ आदमी का दोष नहीं देखा जाता।
ससुराल सुख की सार जो रहे दिना दो चार :- रिश्तेदारी में दो चार दिन ठहरना ही अच्छा होता है।
सहज पके सो मीठा होय :- धैर्य से किया गया काम सुखकर होता है।
साँच को आँच नहीं :- सच्चे आदमी को कोई खतरा नहीं होता।
साँप के मुँह में छछूँदर :- कहावत दुविधा में पड़ना।
साँप निकलने पर लकीर पीटना :- अवसर बीत जाने पर प्रयास व्यर्थ होता है।
सारी उम्र भाड़ ही झोँका :- कुछ भी न सीख पाना।
सारी देग में एक ही चावल टटोला जाता है :- जाँच के लिए थोड़ा-सा नमूना ले लिया जाता है।
सावन के अंधे को हरा ही हरा सूझता है :– परिस्थिति को न समझना।
सावन हरे न भादों सूखे :– सदा एक सी दशा।
सिंह के वंश में उपजा स्यार :– बहादुरों की कायर सन्तान।
सिर फिरना :– उल्टी-सीधी बातें करना।
सीधे का मुँह कुत्ता चाटे :– सीधेपन का लोग अनुचित लाभ उठाते हैं।
सुनते-सुनते कान पकना :– बार-बार सुनकर तंग आ जाना।
सूत न कपास जुलाहे से लठालठी :– अकारण विवाद।
सूरज धूल डालने से नहीं छिपता :– गुण नहीं छिपता।
सूरदास की काली कमरी चढ़े न दूजो रंग :– स्वभाव नहीं बदलता।
सेर को सवा सेर :– बढ़कर टक्कर देना।
सौ दिन चोर के, एक दिन साहूकार का :– चोरी एक न एक दिन खुल ही जाती है।
सौ सुनार की एक लोहार की :– सुनार की हथौड़ी के सौ मार से भी अधिक लुहार के घन का एक मार होता है।
हज्जाम के आगे सबका सिर झुकता है :– गरज पर सबको झुकना पड़ता है।
हथेली पर दही नहीँ जमता :–कार्य होने मेँ समय लगता है।
हड्डी खाना आसान पर पचाना मुश्किल :– रिश्वत कभी न कभी पकड़ी ही जाती है।
हर मर्ज की दवा होती है :– हर बात का उपाय है।
हराम की कमाई हराम में गँवाई :– बेईमानी का पैसा बुरे कामों में जाता है।
हवन करते हाथ जलना :– भलाई के बदले कष्ट पाना।
हल्दी लगे न फिटकरी रंग आए चोखा :– बिना कुछ खर्च किए काम बनाना।
हाथ सुमरनी पेट, बगल कतरनी :– ऊपर से अच्छा भीतर से बुरा।
हाथ कंगन को आरसी क्या, पढ़े लिखे को फारसी क्या :– प्रत्यक्ष को प्रमाण की आवश्यकता नहीँ।
हाथी के दाँत खाने के और दिखाने के और :– भीतर और बाहर में अंतर होना।
हाथी निकल गया दुम रह गई :– थोड़े से के लिए काम अटकना।
हिजड़े के घर बेटा होना :– असंभव बात; birth of a son in impotent's-eunuch's family.
हीरे की परख जौहरी जानता है :– गुणवान ही गुणी को पहचान सकता है।
होनहार बिरवान के होत चीकने पात :– अच्छे गुण आरम्भ में ही दिखाई देने लगते हैं।

होनी हो सो होय :– जो होनहार है, वह होगा ही; its all in the destiny. 

No comments:

Post a Comment