Thursday, November 1, 2012

EDUCATION IN ANCIENT INDIA प्राचीन भारतीय शिक्षा

EDUCATION IN ANCIENT INDIA प्राचीन भारतीय शिक्षा
     CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By :: Pt. Santosh Bhardwaj   
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com  santoshkathasagar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com  hindutv.wordpress.com bhagwatkathamrat.wordpress.com
SHIKSHASHTKAM शिक्षाष्टकम्
चेतोदर्पणमार्जनं भव-महादावाग्नि-निर्वापणम्श्रेयः कैरवचन्द्रिकावितरणं विद्यावधू-जीवनम् ।
आनंदाम्बुधिवर्धनं प्रतिपदं पूर्णामृतास्वादनम्स र्वात्मस्नपनं परं विजयते श्रीकृष्ण-संकीर्तनम् ॥1॥
Photoचित्त रूपी दर्पण को स्वच्छ करने वाले, भव रूपी महान अग्नि को शांत करने वाले, चन्द्र किरणों के समान श्रेष्ठ, विद्या रूपी वधु के जीवन स्वरुप, आनंद सागर में वृद्धि करने वाले, प्रत्येक शब्द में पूर्ण अमृत के समान सरस, सभी को पवित्र करने वाले श्रीकृष्ण कीर्तन की विजय हो। 
Let the Shri Krashn recitation-singing of prayers-rhymes of the  Ultimately victorious which cleanses dust off mind, extinguishes the formidable fire of repeated birth and death, glorious like rays of the moon, gives life to knowledge, increases the ocean of bliss, has every word sweet like nectar-elixir and makes everybody holy-pious-righteous-virtuous-truthful-honest-devoted.
नाम्नामकारि बहुधा निज सर्व शक्तिस्तत्रार्पिता नियमितः स्मरणे न कालः।
एतादृशी तव कृपा भगवन्ममापि दुर्दैवमीदृश-मिहाजनि नानुरागः॥2॥
हे प्रभु, आपने अपने अनेक नामों में अपनी शक्ति भर दी है, जिनका किसी समय भी स्मरण किया जा सकता है। हे भगवन्, आपकी इतनी कृपा है, परन्तु मेरा इतना दुर्भाग्य है कि मुझे उन नामों से इससे पूर्व प्रेम नहीं हो सका। 
Hey Almighty, you have filled your many names with all your power, which can be remembered any time. Oh God! You are so kind to do it but I am so unfortunate that I could not love your beautiful names, earlier.
तृणादपि सुनीचेन तरोरपि सहिष्णुना।अमानिना मानदेन कीर्तनीयः सदा हरिः ॥3॥
स्वयं को तृण से भी छोटा समझते हुए, वृक्ष जैसे सहिष्णु रहते हुए, कोई अभिमान न करते हुए और दूसरों का सम्मान करते हुए सदा श्रीहरि का भजन करना चाहिए। 
One should assume himself to be smaller than straw, being more tolerant than trees, devoid of pride and respecting others and should always sing in the praise of Shri Hari.
न धनं न जनं न सुन्दरीं कवितां वा जगदीश कामये।मम जन्मनि जन्मनीश्वरे भवताद् भक्तिरहैतुकी त्वयि॥4॥
हे जगत के ईश्वर! मैं धन, अनुयायी, स्त्रियों या कविता की इच्छा न रखूँ। हे प्रभु, मुझे जन्म जन्मान्तर में आपसे ही अकारण  प्रेम हो। 
Hey the creator of the universe! I do not desire money, followers, women or poems. Oh God! I only wish to have causeless devotion for you in my all future births.
अयि नन्दतनुज किंकरं पतितं मां विषमे भवाम्बुधौ।कृपया तव पादपंकज-स्थितधूलिसदृशं विचिन्तय॥5॥
हे नन्द के पुत्र, इस दुर्गम भव-सागर में पड़े हुए मुझ सेवक को अपने चरण कमलों में स्थित धूलि कण के समान समझ कर कृपा कीजिये। 
Hey the son of Nand, consider me as your eternal servant,  bound in this ocean of birth and death, please show your mercy accepting me as a dust-particle in your lotus feet.
नयनं गलदश्रुधारया वदनं गदगदरुद्धया गिरा।पुलकैर्निचितं वपुः कदा तव नाम-ग्रहणे भविष्यति॥6॥
हे प्रभु, कब आपका नाम लेने पर मेरी आँखों के आंसुओं से मेरा चेहरा भर जायेगा, कब मेरी वाणी हर्ष से अवरुद्ध हो जाएगी, कब मेरे शरीर के रोम खड़े हो जायेंगे। 
Oh the Almighty! When will the tears in eyes cover my face on reciting your name, when will my voice choke up and when will the hair of my body stand erect on reciting your name!?
युगायितं निमेषेणचक्षुषा प्रावृषायितम्।शून्यायितं जगत् सर्वंगोविन्द विरहेण मे॥7॥
श्रीकृष्ण के विरह में मेरे लिए एक क्षण एक युग के समान है, आँखों में जैसे वर्षा ऋतु आई हुई है और यह विश्व एक शून्य के समान है। 
Hey Shri Krashn! Separation for a moment looks like ages. Tears are flowing from my eyes like torrents of rain and all this world seems meaningless.
आश्लिष्य वा पादरतां पिनष्टु मामदर्शनान्-मर्महतां करोतु वा।यथा तथा वा विदधातु लम्पटो मत्प्राणनाथस्-तु  स एव नापरः॥8॥
उनके चरणों में प्रीति रखने वाले मुझ सेवक का वह आलिंगन करें या न करें, मुझे अपने दर्शन दें या न दें,  मुझे अपना मानें या न मानें, वह चंचल, नटखट श्रीकृष्ण ही मेरे प्राणों के स्वामी हैं, कोई दूसरा नहीं। 
Whether He embraces me as a devotee of His feet or not, whether he appears before me or not, whether He accepts me as his own or not, the naughty Shri Krashn is my Master and non else.
EDUCATION IN ANCIENT INDIA प्राचीन भारतीय शिक्षा :: It was unique and unparalleled. The Guru(teacher-trainer-instructor-guide) used to  have his abode in deep woods, called Ashram or Guru Kul. Guru used to be a revered person of imminence and looked by the society in high esteem. He was a honoured person and commanded high respect in the country. He was known and recognized far and wide. In some cases he used to be Raj Guru and Raj Purohit (-Priest), simultaneously.
Photo Students-Brahmchary, from elite/Brahmn/Dwij/Kshatriys families, were sent to the Ashram by their parents to acquire knowledge, after rituals and prayers. They prepared own hut. Sometimes the hut was shared by fellow Brahmcharies, as well.  They were recognized by the Dand (straight piece of wood), in their hand, investiture in the waist, long hair and nails.
Guru used to be a revered person of imminence and looked by the society in high esteem. He was a honored person and commanded high respect in the country. He was known and recognized far and wide. In some cases he used to be Raj Guru and Raj Purohit (Priest), simultaneously.
Students-Brahmcharyfrom elite/Brahmn/Dwij/ Kshatriys families, were sent to the Ashram by their parents to acquire knowledge, after rituals and prayers. They prepared own hut. Sometimes the hut was shared by fellow Brahmcharies, as well.  They were recognized by the Dand (straight piece of wood), in their hand, investiture in the waist, long hair and nails.
Students did farming, cattle breeding, daily chores and all other functions required to sustain life in the Ashram. They were called Brahmcharies. They had to visit villages for begging alms.
Ashram was termed as Guru Grah (-Home) or Guru Kul. It used to function as a self sufficient economy. Invaders did not disturb its peace and harmony, in general. Emperors and kings used to seek the advice of the Guru on vital issues. Guru was invited at the time of coronation of the prince and the king as well. The Guru and the Ashram were looked with honor, respect and admiration. The King offered him higher seat than his own and preferred to stand in front of him after him after washing his feet.
Grants from the king, donations from the rich, businessmen and Dakshina from the Graduates were utilized to sustain the activities of the Guru Kul. Parents used to offer gifts to the Achary as per their wish.
Brahmchary had to participate in collection of woods for cooking, agriculture, milking cows, grazing of cow herds, bringing water for cooking, cleaning of cow sheds, preparation of dung cakes, cleaning etc.
The Brahmchary had to get up early in the morning in Brahm Muhurt and fresh himself, after cleaning the Kutia-hut and the Ashram. It used to be a collective exercise. It used to follow the recitation of sacred Mantr-hymens/verses and Agnihotr. Agriculture/farming involved tiling the soil, watering, levelling, application of manures, protection from birds and stray/wild animals, harvesting, storing and grinding as per need.
Yogic exercises were an integral part of daily routine, to keep fit.
Learning involved listening, remembering, writing, practicing and narrating it to the Guru and the fellow Brahmcharies. Emphasis was on sharpening and improving of memory. Learning by heart was a preferred practice. It was believed that intelligence can be improved by practice, concentration, meditation, asceticism and dedication. Understanding the text and its application were essential.
Discipline of body, mind and soul were practiced. Obedience to the Guru and Guru Mata were taught from the very beginning. Brahmcharies helped the Guru Mata in preparation and serving of foods and daily chores. Alms collected from the villagers were presented to the Guru Mata.
Shashtr ( Ved, Puran, Upnishad, Divine Literature, Vedant etc.) Vidya, Shshtr (-weaponry, archery, fire arms, aster etc.) Vidya, 64 Kala (arts), Gyan (worldly knowledge)-Vigyan (Science) were taught integral part of the curriculum/syllabus.
Some famous Guru’s and their mighty Shishy -Students) are referred below :
Dev Guru Vrahspati-Demy Gods, Shukracharya-Demons/Rakhachsh, Vashishth-Bhagwan Ram, Bhrat, Laxman and Shatrughan, Sury- Hanuman Ji,  Balmiki-Luv and Kush sons of Bhagwan Ram, Pershuram- Dev Vret Bhishm  and Kern, Dronachary and Krapachary-Kaurav and Pandev, Sandeepen-Bhagwan Shri Krishan and Balram, Balram Ji-Duryodhan, Achary Verruchi (Katyayan)-Mahanand, Vishnu Gupt (Chanky, Kautily)-Chandr Gupt Maury.
In Buddhist period Universities named Takshila and Nalanda were known the world over for the quality and highest standards of education.It was during this period that the system of Upadhayay (teaching at home) came into existence.
SANSKRAT THE LANGUAGE OF DIVINITY संस्कृत
This is a language, which is the most ancient/scientific. Its origin is traced to the time of evolution/time immemorial, of the universe. Its a language at the root of each and every language of the world, what to talk of most Indian languages. Sanskrit is not  synonym to the Hindu religion, a Brahmn or an upper caste monopoly. Who so ever is interested and desirous of gaining knowledge pertaining to it, is free to do so. Scriptures and  Purans, allow each and ever one to acquire the knowledge of this language. Latin/Greek/Hibbru have remarkable similarities, with the composition of words with it.
This is the only language of the word which is absolutely scientific and which can be understood by a computer, completely-thoroughly.
One should be talented enough along with interest, to learn and understand this language. Most of the verses/shlok/text/chants, are in the form of formuale. One can decode them easily, if blessed with  the desire to do so. It has vast source of knowledge, which is base of all scientific development, even today. A number of scientific formula/theorems/laws have been traced in them, which bear the names of present day propagators. Most curious aspect of the Shlok/Verses/Rhymes present in scriptures is that, they are not merely words. In fact, they are the keys to mysterious formulations which opens up/activate, with correct wave length/frequency/intensity/vibrations/modulation/pronunciation in the air-through speech, matches, just like pressing the keys of computer/remote of TV/mobile phone. As one can activate-deactivate his phone through some sounds-connotations-syllables, it too works. They are hidden but not lost. They are passed on, from one generations to another to prevent misuse-danger to humanity.
Sanskrt has every right to be put on the same plane as these two classical European languages, giving Indian youngsters the benefit of its-infinite-unlimited-vast-wisdom. [Please read: HINDUISM on the above mentioned blogs for further elaboration of the topic.]
Scriptures have elaborated at length how the alphabets, digits, vowels, consonants, letters, syllables, emerged. One would easily find out similarities in Sanskrit and English digits-numerals. Syllables-vowels-consonants appeared first followed by various sections of grammar, which have been understood and scripted in Purans at length.
Yudhister mimansak has enlisted 80 people, who contributed to Sanskrit grammar at different stages. Achary Panini's Ashtadhyayi too elaborate the contributions of 10 other-enlightened teachers of different era'. Ashtadhyayi (-a composition in 8 sections chapters) is considered to be a computing program by many learned people of today.
Efforts to understand-decipher may continue.
मातॄभाषा MOTHER TONGUE:: पेट भरने के लिये भाषा है, भाषा के लिये पेट नहीं है। मुसलमानों के वक्त उर्दू थी। अंग्रेजों ने अंग्रेजी को आगे बढ़ाया। आज भारत कहने को आजाद है, मगर शासन अब भी अंग्रेजों का है। सोनिया नाम रख लेने से कोई हिंदुस्तानी नहीं हो जाता। भारत में 3500 से ज्यादा भाषायें बोली जाती हैं और 30 से ज्यादा मान्यता प्राप्त प्रादेशिक भाषायें हैं। मगर अन्तर राष्ट्रीय भाषा केवल अंग्रेजी है। हिंदी एक मात्र भाषा है जो पूरे मुल्क में  समझी और बोली जाती है अब आप इसे राष्ट्रीय भाषा माने या न माने इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।आज के  जमाने में, कमाने के लिये मातॄ भाषा के अलावा  अन्तर्राष्ट्रीय के साथ-साथ राष्ट्रीय को जानना भी जरूरी है। संकुचित द्रष्टिकोण रखने वाले न खुद तरक्की करते हैं और न  दूसरों को करने देते हैं। जो लोग अंग्रेजी का ज्ञान प्राप्त करके विदेशों में जा रहे हैं वे बेरोजगारी कम करने के साथ साथ बहुमूल्य विदेशी मुद्रा का अर्जन भी करते हैं। FACTS PERTAINING TO SANSKRAT LANGUAGE संस्कृत भाषा से संबंधित कुछ तथ्य 
Its a divine language, which is extensively described in Purans. Each and every detail pertaining to the alphabets is available in detail. One may be enlightened through the following illustrations.
देवभाषा संस्कृत का प्रयोग अंतरिक्ष सम्बन्धी अनुसन्धान में होने की पूरी संभावना है। इसके वैज्ञानिक पहलू को जानकर-समझकर अमेरिका के नासा अंतरिक्ष वैज्ञानिक इसका प्रयोग कर सकते हैं। अमरीकी संस्था की एक शाखा इसके आवश्यक पहलुओं का अनुसन्धान कर। रही है रही है। संस्कृत के माध्यम से किसी भी सन्देश-आदेश-विवरण को सूत्र के रूप में कंप्यूटर के जरिए कोई भी संदेश कम से कम शब्दों में प्रसारित किया जा सकता है। ज्ञातव्य है कि कुछ स्कूलों में  नर्सरी कक्षा से ही से ही  संस्कृत की शिक्षा शुरू की गई है। नासा के-मिशन संस्कृत की पुष्टि का उल्लेख उसकी वेबसाइट पर भी है, जिससे स्पष्ट है कि पिछले वर्षों में नासा संस्कृत पर काफी अनुसन्धान कर रहा है। इसको कंप्यूटर प्रयोग के लिए सर्वश्रेष्ठ भाषा मानने उल्लेख भी किया गया है।
1. फोर्ब्स पत्रिका ने 1987 में कहा कि,  कंप्यूटर में इस्तेमाल के लिए यह सबसे अच्छी भाषा।
2. जर्मन स्टेट यूनिवर्सिटी के अनुसार हिंदू कैलेंडर सर्व श्रेष्ठ  है, जिसमें नया साल सौर प्रणाली के भूवैज्ञानिक परिवर्तन के साथ शुरू होता है । इसकी विस्तृत जानकारी इन्हीं ब्लॉग्स के हिन्दुइज्म नामक पाठ में  दर्ज है। 
3. अमेरीकन हिन्दू यूनिवर्सिटी  ने शोध के बाद दावा किया है कि  संस्कृत में बात करने से व्यक्ति स्वस्थ और बीपी, मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल आदि जैसे रोग से मुक्त हो जाएगा। इसमें में बातचीत करने से मानव शरीर का तंत्रिका तंत्र सक्रिय रहता है जिससे कि व्यक्ति का शरीर सकारात्मक आवेश(-Positive Charges) के साथ सक्रिय हो जाता है।
4. रशियन स्टेट यूनिवर्सिटी, नासा आदि का मानना है कि संस्कृत भाषा में  पुस्तकों-ग्रन्थों यथा वेद, ब्राह्मण, उपनिषद, श्रुति, स्मृति, पुराण, महाभारत, रामायण आदि में सबसे उन्नत व्याकरण प्रौद्योगिकी (-Technology) प्रयुक्त की गई  है।ऐसा माना जाता है कि नासा के पास 60,000 ताड़ के पत्तों की पांडुलिपियों हैं, जिनका अध्ययन वैज्ञानिक आधार-तरीकों से किया जा रहा  हैं । कुछ असत्यापित रिपोर्ट्स के अनुसार  रूसी, जर्मन, जापानी, अमेरिकी सक्रिय रूप से हमारी पवित्र पुस्तकों से नई चीजों पर शोध कर रहे हैं और उन्हें वापस दुनिया के सामने अपने नाम से रख रहे हैं। दुनिया के 17 देशों में एक या अधिक संस्कृत विश्वविद्यालय संस्कृत के बारे में अध्ययन और नई प्रौद्योगिकी प्राप्त करने के लिए है, लेकिन संस्कृत को समर्पित उसके वास्तविक अध्ययन के लिए एक भी संस्कृत विश्वविद्यालय भारत में नहीं है।
5. यूएनओ के अनुसार दुनिया की लगभग सभी भाषाओं की माँ संस्कृत है। सभी भाषाएँ (-97%) प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से इस भाषा से प्रभावित है।
6. नासा वैज्ञानिक द्वारा जारी-प्रसारित एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका 6 और 7 वीं पीढ़ी के सुपर कंप्यूटर संस्कृत भाषा पर आधारित बना रहा है जिससे सुपर कंप्यूटर अपनी अधिकतम सीमा तक उपयोग किया जा सके। परियोजना की समय सीमा 2025 (-6 पीढ़ी के लिए) और 2034 (-7 वीं पीढ़ी के लिए) है, इसके बाद दुनिया भर में संस्कृत सीखने के लिए एक भाषा क्रांति होगी।
7. फोर्ब्स पत्रिका के 1985 में प्रकाशित अंकानुसार, दुनिया में अनुवाद के उद्देश्य के लिए उपलब्ध सबसे अच्छी भाषा संस्कृत है।
8. संस्कृत भाषा वर्तमान में "उन्नत किर्लियन फोटोग्राफी" तकनीक में इस्तेमाल की जा रही है। वर्तमान में, उन्नत किर्लियन फोटोग्राफी तकनीक सिर्फ रूस और संयुक्त राज्य अमेरिका में ही मौजूद हैं जबकि भारत के पास आज "सरल किर्लियन फोटोग्राफी" भी नहीं है
9. अमेरिका, रूस, स्वीडन, जर्मनी, ब्रिटेन, फ्रांस, जापान और ऑस्ट्रिया वर्तमान में भरतनाट्यम और नटराज के महत्व के बारे में शोध कर रहे हैं। नटराज भगवान शिव का कॉस्मिक नृत्य है। जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के सामने नटराज की एक मूर्ति-प्रतिमा है । 
10. ब्रिटेन वर्तमान में हमारे श्री चक्र पर आधारित एक रक्षा प्रणाली पर शोध कर रहा है।लेकिन यहाँ यह बात अवश्य सोचने की है,की आज जहाँ पूरे विश्व में संस्कृत पर शोध चल रहे हैं,रिसर्च हो रहीं हैं वहीँ हमारे देश के नेता संस्कृत को मृत भाषा बताते हैं।
11. संस्कृत धर्म-कर्म की भाषा ही नहीं अपितु लौकिक प्रयोजनों की भाषा भी है। ज्ञान-विज्ञान, चिकित्सा, गणित, ज्योतिष, व्याकरण, दशर्न आदि की महत्वपूर्ण पुस्तकें-भाष्य सम्बन्धी 64 विद्याओं सम्बन्धी ज्ञान उपलब्ध है। आध्यात्मिक चिंतन, दाशर्निक ग्रंथ, रामायण और गीता की भाषा है, यह। 
अमेरिका, रूस, स्वीडन, जर्मनी, ब्रिटेन, फ्रांस, जापान और ऑस्ट्रिया जैसे देशों में नर्सरी से ही बच्चों को संस्कृत पढ़ाई जाने लगी है।यह  देव भाषा है। 
SANSKRAT THE DIVINE LANGUAGE देव भाषा संस्कृत  :: प्राचीन काल में कम्बोडिया को कंबुज देश कहा जाता था। 9 वी से 13 वी शती तक अङ्कोर साम्राज्य पनपता रहा। राजधानी यशोधरपुर सम्राट यशोवर्मन ने बसायी थी। अङ्कोर वाट उस समय आज के कंबोडिया, थायलॅण्ड, वियतनाम और लाओस सभी को आवृत्त करता हुआ विशाल राज्य था। संस्कृत से जुडी भव्य संस्कृति के प्रमाण इन अग्निकोणीय एशिया के देशों में आज भी प्रचुर मात्रा में विद्यमान हैं।कंबुज देश (-कम्बोडिया) की छटी  शताब्दी से लेकर बारहवीं  शताब्दी तक राष्ट्र भाषा थी।
कंबुज शिलालेख कंबुज, लाओस, थायलैंड, वियेतनाम इत्यादि विस्तृत प्रदेशों में पाए गए हैं। कुछ ही शिला लेख पुरानी मेर में मिलते हैं जबकि बहुसंख्य लेख संस्कृत भाषा में ही मिलते हैं। संस्कृत उस समय की दक्षिण पूर्व अग्निकोणीय देशों की सांस्कृतिक भाषा थी। कंबुज, मेर ने अपनी भाषा लिखने के लिए भारतीय लिपि अपनायी थी। आधुनिक मेर भारत से ही स्वीकार की हुई लिपि में लिखी जाती है। वास्तव में ग्रंथ ब्राह्मीश ही आधुनिक मेर की मातृ.लिपि है। कंबुज देश ने देवनागरी और पल्लव ग्रंथ लिपि के आधार पर अपनी लिपि बनाई है। कंबुज भाषा में 70 प्रतिशत शब्द संस्कृत से लिए गए हैं मगर अधिकतर शब्दों का उच्चारण बदल चुका है।
कंबोजी महीनों के नाम: चेत-चैत्र, बिसाक-वैशाख, जेस-ज्येष्ठ आसाठ-आषाढ, श्राप-श्रावण-सावन, फ्यैत्रबोत-भाद्रपद, गुण् भादरवो-आसोज-आश्विन-गुजराती आसोण कातिक-कार्तिक, कार्तक मिगस-मार्गशीर्ष गुजराती मागसर, बौह-पौष, माघ-माह, फागुन-फाल्गुन फागण।
कुछ आधुनिक शब्दावली: धनागार-बँक, भासा-भाषा, टेलिफोन-दूरसब्द-दूरशब्द, तार-दूरलेख, टाईप राइटर- अंगुलिलेख तथा टायपिस्ट-अंगुलिलेखक कहते हैं।
सुन्दर, कार्यालय, मुख, मेघ, चन्द्र, मनुष्य, आकाश, माता पिता, भिक्षु आदि अनेक शब्द दैनिक प्रयोग में आते हैं। उच्चारण में अवश्य अंतर है। कई शब्द साधारण दैनिक जीवन में प्रयुक्त न होकर काव्य और साहित्य में प्रयुक्त होते हैं। ऐसी परम्परा भारतीय भाषाओं में भी मानी जाती है। शाला के लिए साला, कॉलेज के लिए अनुविद्यालय, विमेन्स कॉलेज के लिए अनुविद्यालय.नारी, युनिवर्सिटी के लिए महाविद्यालय, डिग्री या प्रमाण पत्र-सञ्ञा.पत्र साइकिल-द्विचक्रयान, रिक्शा-त्रिचक्रयान ऐसे उदाहरण दिए जा सकते हैं।
राष्ट्र भाषा संस्कृत: वास्तव में संस्कृत ही न्यायालयीन भाषा थी, एक सहस्रों वर्षों से भी अधिक समय तक के लिए उसका चलन था।सारे शासकीय आदेश संस्कृत में होते थे। भूमि के या खेती के क्रय.विक्रय पत्र संस्कृत में ही होते थे। मंदिरों का प्रबंधन भी संस्कृत में ही सुरक्षित रखा जाता था। प्राय: 1250 शिलालेख उस में से बहुसंख्य संस्कृत में लिखे पाए जाते हैं इस प्राचीन अङ्कोर साम्राज्य में। 
उदाहरणार्थ:
श्री यशोवर्मन महाराजा हुए भव्य कंबुज देश के, जैसे इन्द्र महाराज हुए थे मरुत देश के।
श्रीकम्बुभूभृतो भान्ति विक्रमाक्रान्तविष्टपा:।विषकण्टकजेतारो दोद्र्दण्डा इव चक्रिण:॥9॥
श्रीमतां कम्बुजेन्द्राणामधीशोऽभूद्यशस्विनाम।श्रीयशोवम्र्मराजेन्द्रो महेन्द्रो मरुतामिव॥10॥
श्री कंबु देश के राजा विश्व में अपने शौर्य और पराक्रम से चमकते हैं और शत्रुओं को उखाड फेंकते है जैसे विष्णु भगवान विषैले काँटो जैसे शत्रुओं को उखाड़ फेंकते थे।
TEACHING OF SANSKRAT संस्कृत अध्यापन-पढ़ाना :: Human Resource Development minister Smrati's approach towards the teaching of Sanskrat in schools is inappropriate. She is misguided and incompetent to handle this department. At least this department should be headed by experienced, learned, mature, qualified person instead of one who is unable to provide proof of her qualification and sensibility. Sanskrat should be introduced in the school curriculum as a part-component of Hindi, in stead of a separate subject. Under any circumstances the child should not be over burdened with more than 3 languages at any stage. Sanskrat is a divine language with extremely intricate-difficult to grasp grammar. Efforts to learn it by one with low intelligence, will-desire, will prove futile. Language is directly connected with stomach-bread. The patriarch-advocates of Sanskrat have to prove that they themselves know it. Let them read a few paragraphs in the meetings addressed by them and translate a few stanzas from scriptures to Hindi or English. One should not be dogmatic in his approach. Don't compel any one to learn it. It must remain an optional subject. However one can substitute German with English under 3 language formula.[27.11.2014]
ANCIENT NALANDA UNIVERSITY नालंदा विश्वविद्यालय :: यह  भारत प्राचीनतम उच्च् शिक्षा का सर्वाधिक महत्वपूर्ण और विख्यात केन्द्र था। बुद्ध धर्म के उदय से पूर्व इसमें सनातन धर्म के सभी अंगों की वृहद शिक्षा प्रदान कि जाती थी। महायान बौद्ध धर्म के इस शिक्षा-केन्द्र में हीनयान बौद्ध-धर्म के साथ ही अन्य धर्मों के तथा अनेक देशों के छात्र पढ़ते थे। बिहार-पटना-पाटलिपुत्र-मगध -जनकपुरी आदि नाम इस क्षेत्र से जुड़े हुए हैं।   पटना-बिहार-भारत  से 88.5 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व और राजगीर से 11.5 किलोमीटर उत्तर में एक गाँव के पास इस महान विश्वविद्यालय के भग्नावशेष मौजूद हैं।अनेक पुराभिलेखों और सातवीं शती में भारत भ्रमण के लिए आये चीनी यात्री ह्वेनसांग तथा इत्सिंग के यात्रा विवरणों से इस विश्वविद्यालय के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त होती है। प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्वेनसांग ने 7वीं शताब्दी में यहाँ जीवन का महत्त्वपूर्ण एक वर्ष एक विद्यार्थी और एक शिक्षक के रूप में व्यतीत किया था। प्रसिद्ध 'बौद्ध सारिपुत्र' का जन्म यहीं पर हुआ था।
स्थापना व संरक्षण: इस विश्वविद्यालय की स्थापना का श्रेय गुप्त शासक कुमारगुप्त प्रथम  (455–467 AD) को प्राप्त है। इस विश्वविद्यालय को कुमार गुप्त के उत्तराधिकारियों का पूरा सहयोग मिला। गुप्तवंश के पतन के बाद भी आने वाले सभी शासक वंशों ने इसकी समृद्धि में अपना योगदान जारी रखा। इसे महान सम्राट हर्षवर्द्धन और पाल शासकों का भी संरक्षण मिला। स्थानीय  शासकों तथा भारत के विभिन्न क्षेत्रों के साथ ही इसे अनेक विदेशी शासकों से भी अनुदान मिला।
स्वरूप :: यह विश्व का प्रथम पूर्णत आवासीय विश्वविद्यालय था। विकसित स्थिति में इसमें विद्यार्थियों की संख्या करीब 10,000 एवं अध्यापकों की संख्या 2,000 थी। इस विश्वविद्यालय में भारत के विभिन्न क्षेत्रों से ही नहीं, बल्कि कोरिया, जापान, चीन, तिब्बत, इंडोनेशिया, फारस तथा तुर्की से भी विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण करने आते थे। नालंदा के विशिष्ट शिक्षा प्राप्त स्नातक बाहर जाकर बौद्ध धर्म का प्रचार करते थे। इस विश्वविद्यालय की नौवीं शती से बारहवीं शती तक अंतरर्राष्ट्रीय ख्याति रही थी।
परिसर :: अत्यंत सुनियोजित ढंग से और विस्तृत क्षेत्र में बना हुआ यह विश्वविद्यालय स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना था। इसका पूरा परिसर एक विशाल दीवार से घिरा हुआ था, जिसमें प्रवेश के लिए एक मुख्य द्वार था। उत्तर से दक्षिण की ओर मठों की कतार थी और उनके सामने अनेक भव्य स्तूप और मंदिर थे। मंदिरों में बुद्ध भगवान की सुन्दर मूर्तियाँ स्थापित थीं। केन्द्रीय विद्यालय में सात बड़े कक्ष थे और इसके अलावा तीन सौ अन्य कमरे थे। इनमें व्याख्यान हुआ करते थे। अभी तक खुदाई में तेरह मठ मिले हैं। वैसे इससे भी अधिक मठों के होने ही संभावना है। मठ एक से अधिक मंजिल के होते थे। कमरे में सोने के लिए पत्थर की चौकी होती थी। दीपक, पुस्तक इत्यादि रखने के लिए आले बने हुए थे। प्रत्येक मठ के आँगन में एक कुआँ बना था। आठ विशाल भवन, दस मंदिर, अनेक प्रार्थना कक्ष तथा अध्ययन कक्ष के अलावा इस परिसर में सुंदर बगीचे तथा झीलें भी थी।
प्रबंधन :: समस्त विश्वविद्यालय का प्रबंध कुलपति या प्रमुख आचार्य करते थे, जो कि  भिक्षुओं द्वारा निर्वाचित होते थे। कुलपति दो परामर्शदात्री समितियों के परामर्श से सारा प्रबंध करते थे। प्रथम समिति शिक्षा तथा पाठ्यक्रम संबंधी कार्य देखती थी और द्वितीय समिति सारे विश्वविद्यालय की आर्थिक व्यवस्था तथा प्रशासन की देख-भाल करती थी। विश्वविद्यालय को दान में मिले दो सौ गाँवों से प्राप्त उपज और आय की देख-रेख यही समिति किया करती थी। इसी से सहस्त्रों विद्यार्थियों के भोजन, कपड़े तथा आवास का प्रबंध होता था। शिक्षा पूर्ण रूप से मुफ्त थी। 
शिक्षक :: इस विश्वविद्यालय में तीन श्रेणियों के आचार्य थे जो अपनी योग्यतानुसार प्रथम, द्वितीय और तृतीय श्रेणी में आते थे। नालंदा के प्रसिद्ध आचार्यों में शीलभद्र, धर्मपाल, चंद्रपाल, गुणमति और स्थिरमति प्रमुख थे। 7वीं सदी में ह्वेनसांग के समय इस विश्व विद्यालय के प्रमुख शीलभद्र थे, जो कि एक महान आचार्य, शिक्षक और विद्वान थे। एक प्राचीन श्लोक से ज्ञात होता है कि प्रसिद्ध भारतीय गणितज्ञ एवं खगोलज्ञ आर्यभट भी इस विश्वविद्यालय के प्रमुख रहे थे। उनके लिखे जिन तीन ग्रंथों की जानकारी भी उपलब्ध है वे हैं: दशगीतिका, आर्यभट्टीय और तंत्र। ज्ञाता बताते हैं, कि उनका एक अन्य ग्रन्थ आर्यभट्ट सिद्धांत भी था, जिसके आज मात्र  34  श्लोक ही उपलब्ध हैं। इस ग्रंथ का 7 वीं शताब्दी में बहुत उपयोग होता था।
प्रवेश :: प्रवेश परीक्षा अत्यंत कठिन होती थी और उसके कारण प्रतिभाशाली विद्यार्थी ही प्रवेश पा सकते थे। उन्हें तीन कठिन परीक्षा स्तरों को उत्तीर्ण करना होता था। यह विश्व का प्रथम ऐसा दृष्टांत है। शुद्ध आचरण और संघ के नियमों का पालन करना अत्यंत आवश्यक था।
अध्ययन-अध्यापन पद्धति: इस विश्वविद्यालय में आचार्य छात्रों को मौखिक व्याख्यान समझाना तर्क उदाहरण, श्रुति-सुनना, समझना, याद  करना, प्रयोग करना आदि  द्वारा शिक्षा देते थे। इसके अतिरिक्त पुस्तकों की व्याख्या, शास्त्रार्थ, अध्ययन तथा शंका समाधान अनिवार्य अंग थे।
पाठ्यक्रम :: अति प्राचीन कल से ही, सनातन धर्म में उल्लिखित प्रतिपादित समस्त 64 विधाओं-विद्याओं का अध्ययन-अध्यापन यहाँ होता था। वेद, वेदांत, सांख्य, व्याकरण, दर्शन, शल्यविद्या, ज्योतिष, धातु विज्ञान, खगोल, योग तथा चिकित्सा भी पाठ्यक्रम के अंग थे।  भगवान बुद्ध के प्रादुर्भाव के उपरान्त महायान के प्रवर्तक नागार्जुन, वसुबन्धु, असंग तथा धर्मकीर्ति की रचनाओं का सविस्तार अध्यापन-अध्ययन किया जाता था। 
पुस्तकालय :: नालंदा में सहस्रों विद्यार्थियों और आचार्यों के अध्ययन के लिए नौ तल का एक विराट पुस्तकालय था जिसमें 3  लाख से अधिक पुस्तकों का अनुपम संग्रह था। इस पुस्तकालय में सभी विषयों से संबंधित पुस्तकें थी। यह 'रत्नरंजक' 'रत्नोदधि' 'रत्नसागर' नामक तीन विशाल भवनों में स्थित था। 'रत्नोदधि' पुस्तकालय में अनेक अप्राप्य हस्तलिखित पुस्तकें संग्रहीत थी। इनमें से अनेक पुस्तकों की प्रतिलिपियाँ चीनी यात्री अपने साथ ले गये थे।
Bihar-Patli Putr-Patna-Janak Pur-Magadh are considered to be seat of learning, since ages, as the place was the abode of Videh Raja Janak, father of Maan Sita. Hindu dynasties supported the seat of learning through liberal grants. No fees were charged from the students, who remained as ascetics during the period of learning. 
The site is located about 88 km south east of Patna and was the religious center of learning. Though its not possible to establish the time of its establishment, yet its believed that Nalanda was established during the reign of a king called Sakradity, of the Gupt Dynasty. It flourished between the rule of Kumar Gupt (I) and Kumar Gupt (II) and patronised by them. Bow-the royal sign of the Gupt's is marked over the floor. Emperors like Harsh Vardhan and  Pal empire, too patronized it. 
DESTRUCTION: Nalanda University was destroyed three times by invaders.  It was destroyed thrice by invaders and renovated  twice. At first Huns under Mihirakul during the reign of Skand Gupt (455–467 AD) destroyed it. Skand's successors promptly undertook the restoration, improving it with even grander buildings and endowed it with enough resources to let the university sustain itself in the longer term. The second assault was made by Gaudas in the early 7th century. This time, the Hindu king Harsh Vardhan (606–648 AD) restored it. The ultimate assault was made, when it was violently destroyed in an Turkic attack led by Bakhtiyar Khilji in 1193.  This event is seen by scholars as the last milestone in the decline of Buddhism in India. The Persian historian Minhaj-i-Siraj, in his chronicle the Tabaquat-I-Nasiri, reported that thousands of monks were burned alive and thousands beheaded as Khilji tried his best to uproot Buddhism.
TRANSITION: Under the aegis of the Pallaa's-Pal dynasty Nalanda turned into a center of Buddhist learning driving away the traditional (-Guru-Shishy parampara परम्परा ) Brahmn Guru-Shikshak-teachers, Upaddhyay, Achary, Kulpati system. This is the period when state grants to Brahmn dominated teaching-learning system were with held-stopped by the state.  
Vikram Shila Vishw Vidyalay-the premier university of the era, Nalanda-past its prime but still illustrious, Som Pur, Udant Pur and Jagdal Pur  were regarded together, as forming a network, an interlinked group of institutions and it was common for great scholars to move easily from position to position, among them. Tiladhak-another seat of learning has been discovered close to its vicinity, in Telhar.
STRUCTURE: The complex was built with red bricks and its ruins occupy an area of 14 hectares. (488 X 244 square meters). The university attracted scholars and students from all over the world, as far away as Tibet, China, Greece and Persia. The university was considered an architectural marvel, and was marked by a lofty wall and one gate. it had eight  compounds, ten temples, meditation halls and classrooms. The campus had elaborate lakes and parks. It had eight separate compounds and ten temples, along with many other meditation halls and classrooms. On the grounds were lakes and parks. 
CURRICULUM:  Courses were drawn from every field of learning, Buddhist and Hindu, sacred and secular, foreign and native. The subjects taught covered every field of learning i.e., 64 disciplines of learning, including religion, history, law, linguistics, medicine, public health, architecture, metallurgy, pharmacology, sculpture, astronomy, science and logic as diligently as they applied themselves to metaphysics, philosophy, Sankhy, Yog-Shastr,  Ved and the scriptures of Buddhism. 
They  studied foreign philosophy likewise. Sarvastivad Vaibhasik, Sarvastivad Sautrantik, 
Madhyamak, the Mahayan philosophy of Nagarjun, Cittamatra-the Mahayan philosophy of Asang and Vasubandhu, constituted the Buddhist texts.
LIBRARY: The library at Nalanda University had well preserved meticulous copies of texts. It was an immense complex, called the Dharm Ganj, separated into three large buildings: the Ratn Sagar, the Ratn Dadhi (-nidhi-wealth), and the Ratn Ranjak. The Ratn Dadhi, meaning the Ocean of Gems, was nine stories high and housed the most sacred manuscripts including the Prajan Parmita Sutr and the Samaj Guhy. The towers were supposedly immense, be jeweled and gilded to reflect the rays of the sun.
CLASSIFICATION: Bhaskar Sanhita, an ancient text describes the organizational practices, in  the library where each and every manuscript was placed on iron shelves or stack and covered with cloth and tied up. Furthermore, the librarian in charge, according to the text, was not only responsible for maintaining the materials, but also for guiding readers in their studies. It had hundreds of thousands manuscripts. The library not only collected religious manuscripts but also had texts on such subjects as grammar, logic, literature, astrology, astronomy, and medicine.
It is clear that Nalanda University library had a classification scheme which was possibly based on a text classification scheme developed by the great Sanskrt linguist Panini (-आचार्य पाणिनी). Buddhists texts were most likely divided in three classes based on the Tripitaka’s three main divisions: the Vinay, Shutr, and the Abhidamm. Like most other Indian ancient and medieval period libraries, Nalanda  used a basic catalogue to help patrons find materials. This bibliography-listing and indexing  or Anukarmika (-अनुक्रमिका) , would have listed the books by hymns, authors, form of sutra सूत्र, Rishi’s-author's name and the hymnal meter. 
FACULTY: Nalanda University was the first great university in recorded history and one of the world's first residential university as it had dormitories for students. It was an ancient center of higher learning in Bihar-India, with more than 10,000 students and 2,000 teachers. Sheel Bhadr had studied all the major collections of Sutr and Shastr.
Other forms of Buddhism, such as the Mahayan Buddhism followed in Vietnam, China, Korea and Japan, flourished within the walls of the ancient university. A number of scholars have associated some Mahayan texts, such as the Surangam Sutr-an important Sutr in East Asian Buddhism, with the Buddhist tradition at Nalanda. During Tang Dynasty Chinese pilgrim and scholar Xuanzang spent 15 years, while studying and  teaching at Nalanda leaving behind detailed  descriptions pertaining to the life of the people of that age and the university, in the 7th century. Yijing corroborated information about the other kingdoms connecting China and the Nalanda. He  translated a large number of Buddhist scriptures from Sanskrat into Chinese.
GRANTS: As a tradition all rulers in the region and those who had studied here used to donated large chunks of money for its survival. Harsh had awarded 200 villages as grants. 
Noted scholars: Achary Chanky, Chandr Gupt Maury,  Noted scholars: Chanky, Chandr Gupt Maury, Ashok, Harsh Vardhan, Vasu Bandhu, Dharm Pal, Suvishnu, AsangSheel Bhadr, Dharm Kirti, Shantarakshit, Nagarjun, Ary Dev, Padm Sambhav, Xuanzang and Hwui Li.
REVIVAL: Singapore, China, India, Japan and other nations, announced a proposal to restore and revive the ancient site as Nalanda International University. 
सोलह कलाएँ :: भगवान् श्री राम 12 कलाओं के अवतार थे तो भगवान् श्री कृष्ण सम्पूर्ण 16 कलाओं के अवतार थे। चंद्रमा की सोलह कलाएं होती हैं। 16 कलाओं से युक्त व्यक्ति -ईश्वरीय गुणों से संपन्न-ईश्‍वर तुल्य-भगवान् होता है।चन्द्रमा के उदय और अस्त होने का काल 27 से 31 दिन के बीच रहता है। 
चन्द्रमा की सोलह कलाएँ  :- अमृत, मनदा, पुष्प, पुष्टि, तुष्टि, ध्रुति, शाशनी, चंद्रिका, कांति, ज्योत्सना, श्री, प्रीति, अंगदा, पूर्ण और पूर्णामृत। इन्हीं को प्रतिपदा, दूज, एकादशी, पूर्णिमा आदि भी कहा जाता है।
उक्तरोक्त चंद्रमा के प्रकाश की 16 अवस्थाएं हैं उसी तरह मनुष्य के मन में भी एक प्रकाश है। मन को चंद्रमा के समान ही माना गया है। जिसकी अवस्था घटती और बढ़ती रहती है। चंद्र की इन सोलह अवस्थाओं से 16 कला का चलन हुआ। व्यक्ति का देह को छोड़कर पूर्ण प्रकाश हो जाना ही प्रथम मोक्ष है।
मानव मन की तीन अवस्थाएं :- जाग्रत, स्वप्न और सुषुप्ति।
जगत तीन स्तरों वाला है :- (1). एक स्थूल जगत, जिसकी अनुभूति जाग्रत अवस्था में होती है। (2). दूसरा सूक्ष्म जगत, जिसका स्वप्न में अनुभव करते हैं और (3). तीसरा कारण जगत, जिसकी अनुभूति सुषुप्ति में होती है।
तीन अवस्थाओं से आगे: सोलह कलाओं का अर्थ संपूर्ण बोधपूर्ण ज्ञान से है। मनुष्‍य ने स्वयं को तीन अवस्थाओं से आगे कुछ नहीं जाना और न समझा। प्रत्येक मनुष्य में ये 16 कलाएं सुप्त अवस्था में होती है। अर्थात इसका संबंध अनुभूत यथार्थ ज्ञान की सोलह अवस्थाओं से है। इन सोलह कलाओं के नाम अलग-अलग ग्रंथों में भिन्न-भिन्न मिलते हैं। यथा…
16 कलाओं का वर्गीकरण-नामकरण :- (1.1). अन्नमया, (1.2). प्राणमया, (1.3). मनोमया, (1.4). विज्ञानमया, (1.5). आनंदमया, (1.6). अतिशयिनी,(1.7). विपरिनाभिमी, (1.8). संक्रमिनी, (1.9). प्रभवि,  (1.10). कुंथिनी, (1.11). विकासिनी, (1.12). मर्यदिनी, (1.13). सन्हालादिनी, (1.14). आह्लादिनी, (1.15). परिपूर्ण और (1.16). स्वरुपवस्थित।
(2.1). श्री, (2.2). इला, (2.3). लीला, (2.4). कांति, (2.5). विद्या,(2.6). विमला, (2.7). उत्कर्शिनी, (2.8). ज्ञान, (2.9). क्रिया, (2.10). योग, (2.11). प्रहवि, (2.12). सत्य, (2.13). इसना और (2.14). अनुग्रह।
(2.1). प्राण, (2.2). श्रधा, (2.3). आकाश, (2.4). वायु, (2.5). तेज, (2.6). जल, (2.7). पृथ्वी, (2.8). इन्द्रिय, (2.9). मन, (2.10). अन्न, (2.11). वीर्य, (2.12). तप, (2.13). मन्त्र, (2.14). कर्म, (2.15). लोक और (2.16). नाम।
16 कलाएं दरअसल बोध प्राप्त योगी की भिन्न-भिन्न स्थितियां हैं। बोध की अवस्था के आधार पर आत्मा के लिए प्रतिपदा से लेकर पूर्णिमा तक चन्द्रमा के प्रकाश की 15 अवस्थाएं ली गई हैं। अमावास्या अज्ञान का प्रतीक है तो पूर्णिमा पूर्ण ज्ञान का।
19 अवस्थाएं :- भगवदगीता में भगवान् श्री कृष्ण ने आत्म तत्व प्राप्त योगी के बोध की उन्नीस स्थितियों को प्रकाश की भिन्न-भिन्न मात्रा से बताया है। इसमें अग्निर्ज्योतिरहः बोध की 3 प्रारंभिक स्थिति हैं और शुक्लः षण्मासा उत्तरायणम्‌ की 15 कला शुक्ल पक्ष की 01 हैं। इनमें से आत्मा की 16 कलाएं हैं।
आत्मा की सबसे पहली कला ही विलक्षण है। इस पहली अवस्था या उससे पहली की तीन स्थिति होने पर भी योगी अपना जन्म और मृत्यु का दृष्टा हो जाता है और मृत्यु भय से मुक्त हो जाता है।
अग्निर्ज्योतिरहः शुक्लः षण्मासा उत्तरायणम्‌। तत्र प्रयाता गच्छन्ति ब्रह्म ब्रह्मविदो जनाः॥8-24॥ 
जिस मार्ग में ज्योतिर्मय अग्नि-अभिमानी देवता हैं, दिन का अभिमानी देवता है, शुक्ल पक्ष का अभिमानी देवता है और उत्तरायण के छः महीनों का अभिमानी देवता है, उस मार्ग में मरकर गए हुए ब्रह्मवेत्ता योगीजन उपयुक्त देवताओं द्वारा क्रम से ले जाए जाकर ब्रह्म को प्राप्त होते हैं। Please refer to SHRI MAD BHAGWAD GEETA CHAPTER (VIII) श्रीमद् भगवद्गीता अथाष्टमोSध्याय over santoshkipathshala.blogspot.com
भगवान् श्री कृष्ण कहते हैं कि जो योगी अग्नि, ज्योति, दिन, शुक्लपक्ष, उत्तरायण के छह माह में देह त्यागते हैं अर्थात जिन पुरुषों और योगियों में आत्म ज्ञान का प्रकाश हो जाता है, वह ज्ञान के प्रकाश से अग्निमय, ज्योर्तिमय, दिन के सामान, शुक्लपक्ष की चांदनी के समान प्रकाशमय और उत्तरायण के छह माहों के समान परम प्रकाशमय हो जाते हैं। अर्थात जिन्हें आत्मज्ञान हो जाता है। आत्मज्ञान का अर्थ है स्वयं को जानना या देह से अलग स्वयं की स्थिति को पहचानना।
(1). अग्नि :- बुद्धि सतोगुणी हो जाती है दृष्टा एवं साक्षी स्वभाव विकसित होने लगता है, (2). ज्योति :- ज्योति के सामान आत्म साक्षात्कार की प्रबल इच्छा बनी रहती है। दृष्टा एवं साक्षी स्वभाव ज्योति के सामान गहरा होता जाता है, और (3). अहः :- दृष्टा एवं साक्षी स्वभाव दिन के प्रकाश की तरह स्थित हो जाता है। 
इस प्रकृम में 16 कलाएँ :– 15 कला शुक्ल पक्ष + 01 एवं उत्तरायण कला=16 हैं। 
(1). बुद्धि का निश्चयात्मक हो जाना।
(2). अनेक जन्मों की सुधि आने लगती है।
(3). चित्त वृत्ति नष्ट हो जाती है।
(4). अहंकार नष्ट हो जाता है।
(5). संकल्प-विकल्प समाप्त हो जाते हैं। स्वयं के स्वरुप का बोध होने लगता है।
(6). आकाश तत्व में पूर्ण नियंत्रण हो जाता है। कहा हुआ प्रत्येक शब्द सत्य होता है।
(7). वायु तत्व में पूर्ण नियंत्रण हो जाता है। स्पर्श मात्र से रोग मुक्त कर देता है।
(8). अग्नि तत्व में पूर्ण नियंत्रण हो जाता है। दृष्टि मात्र से कल्याण करने की शक्ति आ जाती है।
(9). जल तत्व में पूर्ण नियंत्रण हो जाता है। जल स्थान दे देता है। नदी, समुद्र आदि कोई बाधा नहीं रहती।
(10). पृथ्वी तत्व में पूर्ण नियंत्रण हो जाता है। हर समय देह से सुगंध आने लगती है, नींद, भूख प्यास नहीं लगती।
(11). जन्म, मृत्यु, स्थिति अपने अधीन हो जाती है।
(12). समस्त भूतों से एक रूपता हो जाती है और सब पर नियंत्रण हो जाता है। जड़ चेतन इच्छानुसार कार्य करते हैं।
(13). समय पर नियंत्रण हो जाता है। देह वृद्धि रुक जाती है अथवा अपनी इच्छा से होती है।
(14). सर्व व्यापी हो जाता है। एक साथ अनेक रूपों में प्रकट हो सकता है। पूर्णता अनुभव करता है। लोक कल्याण के लिए संकल्प धारण कर सकता है।
(15). कारण का भी कारण हो जाता है। यह अव्यक्त अवस्था है।
(16). उत्तरायण कला :- अपनी इच्छा अनुसार समस्त दिव्यता के साथ अवतार रूप में जन्म लेता है जैसे राम, कृष्ण। यहाँ उत्तरायण के प्रकाश की तरह उसकी दिव्यता फैलती है।

सोलहवीं कला पहले और पन्द्रहवीं को बाद में स्थान दिया है। इससे निर्गुण सगुण स्थिति भी सुस्पष्ट हो जाती है। सोलह कला युक्त पुरुष में व्यक्त अव्यक्त की सभी कलाएं होती हैं। यही दिव्यता है।
64 कला :: विद्याओं-विधाओं का वर्गीकरण-विभाजन पद गरिमा, वर्ण व्यवस्था के अनुरूप है। 
व्यवहारिक 44 कलाएँ :– (1). ध्यान, प्राणायाम, आसन आदि की विधि, (2). हाथी, घोड़ा, रथ आदि चलाना, (3). मिट्टी और कांच के बर्तनों को साफ रखना, (4). लकड़ी के सामान पर रंग-रोगन सफाई करना, (5). धातु के बर्तनों को साफ करना और उन पर पालिश करना, (6). चित्र बनाना, (7). तालाब, बावड़ी, कमान आदि बनाना, (8). घड़ी, बाजों और दूसरी मशीनों को सुधारना, (9). वस्त्र रंगना, (10). न्याय, काव्य, ज्योतिष, व्याकरण सीखना, (11). नाव, रथ, आदि बनाना, (12). प्रसव विज्ञान, (13). कपड़ा बुनना, सूत कांतना, धुनना, (14). रत्नों की परीक्षा करना, (15). वाद-विवाद, शास्त्रार्थ करना, (16). रत्न एवं धातुएं बनाना, (17). आभूषणों पर पालिश करना, (18). चमड़े की मृदंग, ढोल नगारे, वीणा वगैरेह तैयार करना, (19). वाणिज्य, (20). दूध दुहना, (21). घी, मरूवन तपाना, (22). कपड़े सीना, (23). तरना, (24). घर को सुव्यवस्थित रखना, (25). कपड़े धोना, (26). केश-श्रृंगार, (27). मृदु भाषण वाक्पटुता, (28). बांस के टोकने, पंखे, चटाई आदि बनाना, (29). कांच के बर्तन बनाना, (30).  बाग बगीचे लगाना, वृक्षारोपण, जल सिंचन करना, (31). शस्त्रादि निर्माण, (32). गादी गोदड़े-तकिये बनाना, (33). तैल निकालना, (34). वृक्ष पर चढ़ना, (35). बच्चों का पालन पोषण करना, (36). खेती करना, (37). अपराधी को उचित दंड देना, (38). भांति भांति के अक्षर लिखना, (39). पान सुपारी बनाना और खाना, (40). प्रत्येक काम सोच समझकर करना, (41). समयज्ञ बनना, (42). रंगे हुए चांवलों से मंडल मांडना, (43). सुगन्धित इत्र, तैल-धूपादि बनाना एवं, (44). हस्त कौशल-जादू के खेल से मनोरंजन करना। 
संगीत की 7 कलाएं :- (1). नृत्य, (2). वादन, (3). श्रृंगार, (4). आभूषण, (5). हास्यादि हाव-भाव, (6). शय्या-सजाना और (7). शतरंज आदि कौतुकी क्रीड़ा करना। संगीत और नृत्य की भी 64-64 विधाएँ हैं। 
आयुर्वेदशास्त्र की 8 कलाएं :- (1). आसव, सिर्का, आचार, चटनी, मुरब्बे बनाना, (2). कांटा-सूई आदि शरीर में से निकालना, आंख का कचरा कंकर निकालना, (3). पाचक चूर्ण बनाना, (4). औषधि के पौधे लगाना, (5). पाक बनाना, (6). धातु, विष, उपविष के गुण दोष जानना, (7). भभके से अर्क खीचना और (8). रसायन-भस्मादि बनाना। 
धनुर्वेद सम्बन्धी 5 कलाएं :- (1). लड़ाई लड़ना, (2). कुश्ती लड़ना, (3). निशाना लगाना और (4). व्यूह प्रवेश-निर्गमन एवं रचना। 
निम्न 64 कलाओं में पारंगत थे भगवान् श्री कृष्ण :- (1). नृत्य-नाचना, (2). वाद्य- तरह-तरह के बाजे बजाना, (3). गायन विद्या-गायकी, (4). नाट्य-तरह-तरह के हाव-भाव व अभिनय, (5). इंद्रजाल- जादूगरी, (6). नाटक आख्यायिका आदि की रचना करना, (7). सुगंधित चीजें- इत्र, तेल आदि बनाना, (8). फूलों के आभूषणों से श्रृंगार करना, (9). बेताल आदि को वश में रखने की विद्या, (10). बच्चों के खेल, (11). विजय प्राप्त कराने वाली विद्या, (12). मन्त्रविद्या, (13). शकुन-अपशकुन जानना, प्रश्नों उत्तर में शुभाशुभ बतलाना, (14). रत्नों को अलग-अलग प्रकार के आकारों में काटना, (15). कई प्रकार के मातृका यन्त्र बनाना, (16). सांकेतिक भाषा बनाना, (17). जल को बांधना, (18). बेल-बूटे बनाना, (19). चावल और फूलों से पूजा के उपहार की रचना करना। (देव पूजन या अन्य शुभ मौकों पर कई रंगों से रंगे चावल, जौ आदि चीजों और फूलों को तरह-तरह से सजाना), (20). फूलों की सेज बनाना, (21). तोता-मैना आदि की बोलियां बोलना-इस कला के जरिए तोता-मैना की तरह बोलना या उनको बोल सिखाए जाते हैं, (22). वृक्षों की चिकित्सा, (23). भेड़, मुर्गा, बटेर आदि को लड़ाने की रीति, (24). उच्चाटन की विधि, (25). घर आदि बनाने की कारीगरी, (26). गलीचे, दरी आदि बनाना, (27). बढ़ई की कारीगरी, (28). पट्टी, बेंत, बाण आदि बनाना यानी आसन, कुर्सी, पलंग आदि को बेंत आदि चीजों से बनाना।, (29). तरह-तरह खाने की चीजें बनाना यानी कई तरह सब्जी, रस, मीठे पकवान, कड़ी आदि बनाने की कला, (30). हाथ की फूर्ती के काम, (31). चाहे जैसा वेष धारण कर लेना, (32). तरह-तरह पीने के पदार्थ बनाना, (33). द्यू्त क्रीड़ा, (34). समस्त छन्दों का ज्ञान, (35). वस्त्रों को छिपाने या बदलने की विद्या, (36). दूर के मनुष्य या वस्तुओं का आकर्षण, (37).  कपड़े और गहने बनाना, (38). हार-माला आदि बनाना, (39). विचित्र सिद्धियां दिखलाना यानी ऐसे मंत्रों का प्रयोग या फिर जड़ी-बुटियों को मिलाकर ऐसी चीजें या औषधि बनाना जिससे शत्रु कमजोर हो या नुकसान उठाए, (40). कान और चोटी के फूलों के गहने बनाना-स्त्रियों की चोटी पर सजाने के लिए गहनों का रूप देकर फूलों को गूंथना, (41). कठपुतली बनाना, नाचना, (42), प्रतिमा आदि बनाना, (43). पहेलियां बूझना, (44). सूई का काम यानी कपड़ों की सिलाई, रफू, कसीदाकारी व मोजे, बनियान या कच्छे बुनना, (45). बालों की सफाई का कौशल, (46). मुट्ठी की चीज या मनकी बात बता देना, (47). कई देशों की भाषा का ज्ञान, (48). मलेच्छ-काव्यों का समझ लेना-ऐसे संकेतों को लिखने व समझने की कला जो उसे जानने वाला ही समझ सके, (49). सोने, चांदी आदि धातु तथा हीरे-पन्ने आदि रत्नों की परीक्षा, (50). सोना-चांदी आदि बना लेना, (51). मणियों के रंग को पहचानना, (52). खानों की पहचान, (53). चित्रकारी, (54). दांत, वस्त्र और अंगों को रंगना, (55). शय्या-रचना, (56). मणियों की फर्श बनाना यानी घर के फर्श के कुछ हिस्से में मोती, रत्नों से जड़ना, (57). कूटनीति, (58). ग्रंथों को पढ़ाने की चातुराई, (59). नई-नई बातें निकालना, 60). समस्यापूर्ति करना, (61). समस्त कोशों का ज्ञान, (62).  मन में कटक रचना करना यानी किसी श्लोक आदि में छूटे पद या चरण को मन से पूरा करना, (63). छल से काम निकालना एवं 64). कानों के पत्तों की रचना करना यानी शंख, हाथीदांत सहित कई तरह के कान के गहने तैयार करना।
64 KALA कला ARTS: According to the Vam Keshwar Tantr, there are 64 books called Kala. Many combinations depending over use and faculties are available.
(1). Vocal music, (2). Instrumental music, (3). Dance, (4). Acting, (5). Painting, (6). Making emblems, (7). Making garlands and other creations with flowers, (8). Artwork for mattresses, (9). Artwork for bedspreads, (10). Body aesthetics, (11). House decoration, (12). Making musical instruments operated by water (like Jal Tarang जल तरंग), (13). Making sound effects in water, (14). Costume and fashion design, (15). Making pearl necklaces, (16). Hair styling, (17). Art of dressing, (18). Making ear ornaments, (19). Flower decoration, (20). Food styling, (21). Magic, (22). Landscaping, (23). Manicure, (24). Pastry making, (25). Making drinks, (26). Sewing, (27). Making nets, (28). Solving and creating riddles, (29). Reciting poems, (30). Discoursing on epics and poetical works, (31). Reading, (32). Attending theatrical plays, (33). Completing verses left unfinished (-samasya, समस्या, problems) by others as a challenge, (34). Making cane furniture, (35). Woodworking, (36). Debate, (37). Architecture, (38). Assessing gold and gems, (39). Metallurgy, (40). Cutting and polishing diamonds, (41). Searching for ore, (42). Special knowledge of trees and plants, (43). Cock fighting, (44). Interpreting the songs of birds, (45). Massage, (46). Hair care, (47). Sign language, (48). Learning foreign languages, (49). Scholarship in local languages, (50). Predicting the future, (51). Mechanical engineering, (52). Strengthening memory power, (53). Learning by ear, (54). Instantaneous verse-making, (55). Decisiveness in action, (56). Pretence, (57). Prosody, (58). Preserving clothes, (59). Gambling, (60). Playing dice, (61). Playing with children, (62). Rules of respectful behavior, (63). Art of storytelling and entertaining, (like bards and minstrels) and (64). Grasping the essence of subjects.
64 subjects taught to girls along with sex education in ancient times in India as per Vatsyayan :: A female, therefore, should learn the Kam Shastr or at least a part of it, by studying its practice from some confidential friend. She should study alone in private the sixty-four practices that form a part of the Kam Shastr. Her teacher should either be the daughter of a nurse brought up with her and already married or a female friend who could be trusted in everything or the sister of her mother (i.e. her aunt) or an old female servant or a female beggar who may have formerly lived in the family or her own sister who could always be trusted.
As a matter of fact this subject is neither taught nor learnt by any one in today's world. So, every one is getting superfluous knowledge over this subject. Chances of exploitation are open. There was a time in India during Mughal era, when the Muslim Nababs-rulers of small units, used to send their boys to the prostitutes to learn manners. What they learnt side by side is not a mystery!
The girls were supposed to learn the following arts together with the Kam Sutr to become a suitable house wife:
(1). Singing, (2). Playing on musical instruments, (3). Dancing, (4). Union of dancing, singing, and playing instrumental music, (5). Writing, (6). drawing, (7). Tattooing, (8). Arraying and adorning an idol with rice and flowers, (9). Spreading and arranging beds or couches of flowers or flowers upon the ground, (10). Colouring the teeth, garments, hair, nails and bodies, i.e. staining, dyeing, colouring and painting the same, (11). Fixing stained glass into a floor, (12). The art of making beds, and spreading out carpets and cushions for reclining, (13). Playing on musical glasses filled with water, (14). Storing and accumulating water in aqueducts, cisterns and reservoirs, (15). Picture making, (15.i). trimming and (15.ii). decorating, (16). Stringing of rosaries, necklaces, garlands and wreaths, (17). Binding of turbans and chaplets and making crests and top-knots of flowers, (18). Scenic representations, stage playing Art of making ear ornaments Art of preparing perfumes and odours, (19). Proper disposition of jewels and decorations and adornment in dress, (20). Magic or sorcery, (21). Quickness of hand or manual skill, (22). Culinary art, i.e. cooking and cookery, (23). Making lemonades, sherbets, acidulated (-अम्लयुक्त पेय) drinks and spirituous extracts with proper flavor and colour, (24).  Tailor's work and sewing, (25). Making parrots, flowers, tufts, tassels, bunches, bosses, knobs, etc., out of yarn or thread, (26). Solution of riddles, enigmas, covert speeches, verbal puzzles and enigmatically (-रहस्यपूर्ण, गूढ़, अज्ञेय, पेचीदा, अस्पष्ट, गूढ) subtle, Enigmatic, Inexplicable, Mysterious, Mystic questions, (27). A game, which consisted in repeating verses and as one person finished, another person had to commence at once, repeating another verse, beginning with the same letter with which the last speaker's verse ended, whoever failed to repeat was considered to have lost, and to be subject to pay a forfeit or stake of some kind (-अंताक्षरी), (28). The art of mimicry or imitation, (29). Reading, including chanting and intoning, (30). Study of sentences difficult to pronounce. It is played as a game chiefly by women and children and consists of a difficult sentence being given and when repeated quickly, the words are often transposed or badly pronounced, (31). Practice with sword, single stick, quarter staff and bow and arrow, (32). Drawing inferences, reasoning or inferring, Carpentry or the work of a carpenter, (33). Architecture or the art of building, (34). Knowledge about gold and silver coins and jewels and gems, (35). Chemistry and mineralogy, (36). Colouring jewels, gems and beads, (37). Knowledge of mines and quarries, (38). Gardening; knowledge of treating the diseases of trees and plants, of nourishing them, and determining their ages, (39). Art of cock fighting, quail fighting and ram fighting, (40). Art of teaching parrots and starlings to speak, (41). Art of applying perfumed ointments to the body, and of dressing the hair with unguents and perfumes and braiding it, (42). The art of understanding writing in cipher and the writing of words in a peculiar way, (43). The art of speaking by changing the forms of words. It is of various kinds. Some speak by changing the beginning and end of words, others by adding unnecessary letters between every syllable of a word, and so on, (44). Knowledge of language and of the vernacular dialects, (45). Art of making flower carriages, (46). Art of framing mystical diagrams, of addressing spells and charms, and binding armlets, (47). Mental exercises, such as completing stanzas or verses on receiving a part of them or supplying one, two or three lines when the remaining lines are given indiscriminately from different verses, so as to make the whole an entire verse with regard to its meaning; or arranging the words of a verse written irregularly by separating the vowels from the consonants, or leaving them out altogether; or putting into verse or prose sentences represented by signs or symbols. There are many other such exercises, (48). Composing poems, (49). Knowledge of dictionaries and vocabularies, (50). Knowledge of ways of changing and disguising the appearance of persons, (51). Knowledge of the art of changing the appearance of things, such as making cotton to appear as silk, coarse and common things to appear as fine and good, (52). Various ways of gambling, (53). Art of obtaining possession of the property of others by means of Mantrs or incantations, (54). Skill in youthful sports, (55). Knowledge of the rules of society and of how to pay respect and compliments to others, (56). Knowledge of the art of war, of arms, of armies, etc., (57). Knowledge of gymnastics, (58). Art of knowing the character of a man from his features, (59). Knowledge of scanning or constructing verses, (60). Arithmetical recreations, (61). Making artificial flowers, (62). Making figures and images in clay
A public woman, endowed with a good disposition, beauty and other winning qualities and also versed in the above arts, obtains the name of a Ganika  (-गणिका, वैश्या, कोठेवाली, नगरवधु) or public woman of high quality and receives a seat of honor in an assemblage of men. She is, moreover, always respected by the king and praised by learned men, and her favor being sought for by all, she becomes an object of universal regard. The daughter of a king too as well as the daughter of a minister, being learned in the above arts, can make their husbands favourable to them, even though these may have thousands of other wives besides themselves. And in the same manner, if a wife becomes separated from her husband and falls into distress, she can support herself easily, even in a foreign country, by means of her knowledge of these arts. Even the bare knowledge of them gives attractiveness to a woman, though the practice of them may be only possible or otherwise according to the circumstances of each case. A man who is versed in these arts, who is loquacious  (-बातूनी, मुखर, वाचाल) and acquainted with the arts of gallantry, gains very soon the hearts of women, even though he is only acquainted with them for a short time.
TAKSHILA UNIVERSITY :: At a time when the Dark Ages were looming large, the existence of a university of Taxila’s grandeur really makes India stand apart way ahead of the European countries who struggled with ignorance and total information blackout. For the Indian subcontinent Taxila stood as a light house of higher knowledge and pride of India. In the present day world, Taxila is situated in Pakistan at a place called Rawalpindi. The university accommodated more than 10,000 students at a time. The university offered courses spanning a period of more than eight years. The students were admitted after graduating from their own countries. Aspiring students opted for elective subjects going for in depth studies in specialised branches of learning. After graduating from the university, the students are recognized as the best scholars in the subcontinent. It became a cultural heritage as time passed. Taxila was the junction where people of different origins mingled with each other and exchanged knowledge of their countries. The university was famous as "Taxila" university, named after the city where it was situated. The king and rich people of the region used to donate lavishly for the development of the university. In the religious scriptures also, Taxila is mentioned as the place where the king of snakes, Vasuki selected Taxila for the dissemination of knowledge on earth.
Here it would be essential to mention briefly the range of subjects taught in the university of Taxila.
(1) Science, 
(2) Philosophy, 
(3) Ayurveda, 
(4) Grammar of various languages, 
(5) Mathematics, 
(6) Economics, 
(7) Astrology, 
(8) Geography, 
(9) Astronomy, 
(10) Surgical science, 
(11) Agricultural sciences, (12) Archery and Ancient and Modern Sciences.
The university also used to conduct researches on various subjects.

No comments:

Post a Comment