HINDU PHILOSOPHY (4) हिंदु दर्शन INDIAN TRADITIONS IN SCIENTIFIC PURSUIT भारतीय (हिन्दु) रीति-रिवाज-प्रथाएँ-मान्यताएँ वैज्ञानिक दृष्टि कोण

 HINDU PHILOSOPHY (4) हिंदु दर्शन 
INDIAN TRADITIONS IN SCIENTIFIC PURSUIT 
भारतीय (हिन्दु) रीति-रिवाज-प्रथाएँ-मान्यताएँ वैज्ञानिक दृष्टि कोण 
CONCEPTS & EXTRACTS IN HINDUISM By :: Pt. Santosh Kumar Bhardwaj  
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    santoshkathasagar.blogspot.com bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com   bhagwatkathamrat.wordpress.com jagatguru.blog.com   jagatgurusantosh.blog.com
Neo-convent educated Indian along with those who acquired some knowledge of English considered Customs-Traditions in Hinduism as superstitions. Advent of science and continued research has found startling facts and evidence pertaining to them. They can not be merely brushed aside as taboo-superstitions, now. These traditions are based on practical applications and handed over from one generations to the next. Though the common person is not aware of the basics-reality, he continued following them ritually. 
भारत में एक समय ऐसा आया जबकि थोड़ी सी भी अंग्रेजी पढ़े-लिखे लोगों ने भारतीय परम्पराओं, रीति-रिवाजों, मान्यताओं का मजाक उड़ाना शुरू कर दिया। वे ऐसा स्वयं को दूसरों से अलग-ऊँचा-सभ्य-विकसित दिखाने हेतु करते थे।  नई खोजों ने यह सिद्ध कर दिया है कि आज विज्ञान अभी महज बुनियादी अवस्था-शैशवावस्था में है।हमारा इतिहास महज 3,000 से 5,000 वर्षों का नहीं अपितु खरबों-खरबों साल का है। हमारी मान्यताएँ पीढ़ी दर पीढ़ी चली आ रही हैं। आधार हीन-बेबुनियाद ज्ञान स्वतः नष्ट हो जाता है। सामान्य व्यक्ति को यह सब जानकारी धर्म का जामा पहनाकर दी गई है, और वो इसके ऊपर ज्यादा दिमांग लगाना-माथा पच्ची करना नहीं चाहता। और अधिक जानकारी के लिए पाठक पर कृपया  निम्न चार ब्लॉग्स के हिन्दुइज्म संबंधी पाठों का अध्ययन करें: santoshkipathshala.blogspot.com santoshsuvichar.blogspot.com bhartiyshiksha.blogspot.com  hindutv.wordpress.com
(1). IMMERSING COINS IN RIVERS: The general reasoning given for this act is that it brings Good Luck. However, scientifically speaking, in the ancient times, most of the currency used was made of copper. Copper produces copper sulfate which is a disinfectant. Copper is a vital metal very useful to the human body. Throwing coins in the river was one way our fore-fathers ensured we intake sufficient copper as part of the water as rivers were the only source of drinking water. Gold and Silver have disinfecting properties. They kill germs-fungus-bacteria-virus. 
सामान्यतया हम ऐसा मानते हैं की जल में मुद्रा परवाह से भाग्य अच्छा होगा। जैसे की सभी जानते हैं कि अति प्राचीन काल से मुद्रा को सोना, चाँदी, ताँबा आदि से बनाया जाता था। सोने और चाँदी में जीवाणुओं से लड़ने की शक्ति होती है। ताँबा पानी में रहकर कॉपर सल्फेट बनाता है जो की एंटी बैक्टीरियल-मिक्रोब-फंगल-वायरल है। सफेदी-पुताई में नीला थोथा-कॉपर सल्फेट का इस्तेमाल इसी वजह से किया जाता था। 
(2). GREETING WITH FOLDED HANDS: In Hindu culture, people greet each other by joining their palms-termed as Namaskar-Nameste-Pranam. This is a way to pay ob-sense respect to elders.This process brings the finger tips together.The finger tips have been identified as pressure points, regulating the whole body, specifically  eyes, ears and the mind. Kissing, shaking hands transfers germs and DNA to the  opposite person. Absence of physical touch forbade transference of DNA or infections in the form of germs. 
प्राचीन भारतीय परम्परा में मिलने पर अपने से बड़ों को प्रणाम-नमस्कार-नमस्ते करने का रिवाज है। चूमने, हाथ मिलाने से पसीने के माध्यम से DNA का प्रवाह सम्मुख व्यक्ति के शरीर में हो जाता है जो कि अक्सर घातक होता है। हाथों को जोड़कर नमस्ते करते वक्त दोनों हाथों की उँगलियाँ परस्पर मिलकर दबाब बनाती हैं, जो कि शरीर के विभिन्नं अंगों का संचालन करने में सहायक है। खासकर ऑंखें, कान और दिमाग पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ता है। 
(3). CHARAN SPARSH-TOUCHING OF FEET OF ELDERS-RESPECTED (Bowing-prostrating in front of elders, Brahmns, Sages, Parents): This is not just respecting-honoring elders. When one bows the accumulated gas is released from his stomach and other parts of the body, providing relief from gastric trouble and indigestion. Bending is a good exercise-a component of Sury Namaskar, for the back bone. Flexibility of the back bone spinal cord is enhanced. Blood circulation in the brain increases, providing relief from pain. The moment you touch the feet of the revered your energy-sentiments are shared like the sharing of charges in two electric condensers. Positive energy-vibrations-healing start immediately. Your youthfulness helps the old-fragile-revered in gaining strength. Remember your thought-ideas should be pious-virtuous-righteous, while offering penances-respect. Those who lay down before the deities statues too experience solace and peace of mind.
बड़े-बूढ़े बुजुर्ग व्यक्तियों के चरण स्पर्श करने की प्रथा भारत में आदि काल से चली आ रही है। पैर छूने के लिए झुकने से पेट और शरीर के अन्य अंगो में भरी हुई गैस निकल जाती है। रीढ़ की हड्डी को आराम मिलता है।  सर में खून का संचार होता है। इससे पेट, हाजमा और सिरदर्द ठीक होता है। पैर स्पर्श करते ही आपकी और श्रद्धेय की ऊर्जा का समावेश होने लगता है। आपमें उत्तम विचार-सद्भावना का उदय होता है। मन निर्मल हो जाता है।  आप यह  श्रद्धा पूर्वक-दिल से करें।  श्रद्धेय के पैरों को पिण्डली तक धीरे-धीरे दवाएँ। उन्हें आराम मिलगा और आपको आशीर्वाद। आपके मार्ग की बढ़ाएं दूर होंगी। यह प्रक्रिया लोग भगवान के मंदिर में देवी-देवताओं के सम्मुख भी अपनाते हैं। ख्याल रहे दुर्भावना-क्रोध को मन से निकाल कर ही यह सब करें। 
For better understanding of the text one may refer to LONGEVITY-दीर्घायु   over these blogs: santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    bhartiyshiksha.blogspot.com      hindutv.wordpress.com
(4). WEARING OF TOE RINGS (-bichhua-बिछुआ) BY WOMEN: Normally toe rings are worn on the second foot finger. A particular nerve from the second toe connects the uterus and passes to heart. Wearing toe ring on this finger strengthens the uterus. It will keep it healthy by regulating the blood flow to it and menstrual cycle will be regularized. As Silver is a good conductor, it also absorbs polar energies from the earth and passes it to the body.
भारत में लड़की को पाँव की दूसरी ऊँगली में बिछुआ पहनाया जाता है। इसका सीधा संबंध गर्भाशय और हृदय से है। यहाँ पाई जाने वाली नाड़ियां गर्भाशय और हृदय से जुडी होती हैं। चाँदी एक सुचालक और जीवाणु नाशक है। यह बिछुआ दबाब को भी नियंत्रित करता है। मासिक धर्म को नियंत्रित करने में भी इसका योगदान है। 
(5). APPLICATION OF VERMILION-SANDALWOOD PASTE ON FOREHEAD: The place considered to be the third eye of Bhagwan Shiv is in fact a spot which radiates energy. It signifies a major nerve point between the eye brows. Application of Kum-Kum between this space, protects one from negative energy released by the opponents-evil-inauspicious and the like. Women apply-fix Bindi-ready made spangle ornamenting on the forehead. This leads to the automatic pressing of AGYA CHAKR-GURU CHAKR (Agya: Order, Command) located at the base-housed at the upper end of the spinal cord-vertebral column, at the point of transition, from the spine to the brain. Development of one's wisdom and humanity is completed here, bridging the divine consciousness. Its energy is experienced in the center of the forehead between the eyebrows, just over the nose. It facilitates the blood supply to the face muscles. 
यह स्थान भगवान शिव की तीसरी आँख को दर्शाता हैजहाँ से ऊर्जा का प्रवाह होता है। यहीं पर दोनों आँखों के बीच एक प्रमुख स्नायु-नाड़ी केन्द्र स्थित है। यहाँ बिंदी-टीका-तिलक-त्रिपुण्ड लगाने से विपक्षी की बुरी नजर का दुष्प्रभाव नहीं पड़ता। महिलाएँ यहाँ सिंदूर-कुमकुम-रोली-चन्दन आदि का तिलक श्रृंगार हेतु लगाती हैं। इससे आज्ञा चक्र जाग्रत हो उठता है। Wish to learn more, Log on to: [UNFOLDING THE MYSTERIES OF YOG-PRANAYAM   KUNDLINI कुण्डलिनीMEDITATION ASCETICISM, santoshkipathshala.blogspot.com santoshsuvichar.blogspot.com  bhartiyshiksha.blogspot.com  hindutv.wordpress.com]. 
(6). APPLICATION OF SINDOOR-VERMILION BETWEEN THE SEGREGATED HAIR BY WOMEN: Indian women find it auspicious to fill the parting of hair with Sindoor-vermilion-lead oxide (Pb3O4).  Due to its intrinsic properties, Lead, besides controlling blood pressure, stimulates-activates-controls-regulates  sexual drive. Women are 8 times sexier than the male. Sindoor is prohibited for the widows and unmarried women. Sindoor should be applied right up to the pituitary gland where all our feelings are centered. It absorbs the harmful-vicious radiations as well. 
भारतीय महिलाएँ किसी भी धर्म-जाति-वर्ग की क्यों न हों वे सिंदूर जरूर लगती हैं। आजकल की आजाद ख्याल औरतें इससे भले ही परहेज क्यों न करें।सिंदूर सिर के ऊपर माँग के बीचों-बीच लगाया जाता है। आजकल की महिलाएँ माँग, फैशन के अनुरूप निकालती हैं। यह शीशे का ऑक्साइड लाल रंग का होता है और रक्तचाप को सही स्तर पर बनाये रखने में मदद करता है। यह कामेच्छा को उचित स्तर पर बनाये रखता है। विधवाएँ और कुँआरी लड़कियाँ इसका प्रयोग नहीं करतीं। इसको पिट्यूटरी ग्लैंड तक-जहाँ सभी भावनाओं का वास है, लगाया जाता है। यह अवांछित-हानिकारक विकिरणों से महिलाओं को मुक्त रखता है। 
(7). BELLS IN TEMPLES: One rings bells hanging from the roof of the temple-the inner sanctum (Garbh Gudi or Garbh Grah or womb-chamber)  as soon as he enters it. The effect is enchanting. The echo-sound reverberates continuously, creating a soothing impact over the brain. Agam Shastr, says that the bells-conchs are used to produce sounds for keeping evil forces away. It describes the sound as melodious-liked by the God.  The ringing of bells clears our mind and helps us stay sharp and keep our full concentration over devotional purposes. The sound creates a unity-unison of the Left and Right halves of our brain. The  bell produces a sharp and enduring sound, which lasts for a minimum of 7 seconds in echo mode, due to the soothing vibrations-effect. The duration of echo is good enough to activate all the seven healing centers in our body. This results in relieving our brain from all negative thoughts.
मन्दिर में प्रवेश करते ही, हम घण्टियाँ बजाते हैं। इसका प्रभाव मोहित-आकर्षित-सम्मोहन करने वाला है। घण्टी की प्रतिध्वनि मस्तिष्क पर अच्छा-शान्ति-सुखदायक प्रभाव डालती है। आगम शास्त्र के अनुसार घण्टाध्वनि बुरे प्रभावों को दूर करती है। परमात्मा को यह आवाज पसन्द है। यह ध्वनि हमारा ध्यान पूजा-आराधना-चिन्तन में बढ़ाती है। इस ध्वनि की विशेषता यह है कि यह मस्तिष्क के दोनों भागों को एकसार करती है। यह ध्वनि अपना प्रभाव 7 सेकंड से ज्यादा समय के लिए बनाये रखती है और शरीर के अन्दर उपस्थित 7 संवेदना केन्द्रों को नियमित करती है। हमारा मन बुराई से दूर भागने लगता है।
Image result for CONCH BLOWING -IMAGE(7-i)  BLOWING CONCH शंख का पूजा में महत्व :- हिन्दु धार्मिक मान्यता के अनुसार कोई भी पूजा, हवन, यज्ञ आदि शंख और घण्टा ध्वनि के बिना पूर्ण नहीं माना जाता है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार शंख बजाने से भूत-प्रेत, अज्ञान, रोग, दुराचार, पाप, दुषित विचार और गरीबी का नाश होता है। शंख बजाने की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है। महाभारत काल में श्रीकृष्ण द्वारा कई बार अपना पंचजन्य शंख बजाया गया था।आधुनिक विज्ञान के अनुसार शंख बजाने से हमारे फेफड़ों का व्यायाम होता है, श्वास संबंधी रोगों से लडऩे की शक्ति मिलती है। पूजा के समय शंख में भरकर रखे गए जल को सभी पर छिड़का जाता है जिससे शंख के जल में कीटाणुओं को नष्ट करने की अद्भूत शक्ति होती है। साथ ही शंख में रखा पानी पीना स्वास्थ्य और हमारी हड्डियों, दांतों के लिए बहुत लाभदायक है।  
(8). NAV RATR VRT: Nav Ratra comes twice a year followed by change of weather-seasons. Food consumed during the two seasons is slightly different. People adopt fasting during these days. One can shed some weight feeling energetic and smart. One offer prayers and subject him self to meditation-asceticism. Normally people discard fish-meat and non vegetarian food. Excess of sugar and salt are avoided.Non vegetarian food in not meant for the humans. Length of human intestine is 14 feet as compared to that of carnivorous-meat eaters, which have a 20 feet long intestine. Carnivores eat raw food while humans eat cooked food. Carnivores run 50-120 Km. every day while the human eat meat and take plenty of rest.One is protected from the diseases which comes to him by eating flash-meat. Gastric trouble-indigestion too do not trouble him. Meat eaters are affected by heart trouble and high blood pressure.
नव रात्र व्रत साल में दो बार आते हैं। इस समय हिन्दु धर्माम्वली व्रत रखते है और मॉस-मीट अंडा मच्छी नहीं खाते। व्रत रखने से वजन कम हो जाता है, चुस्ती-फुर्ती आती है। पूजा-पाठ-ध्यान-भजन-कीर्तन आदि से मन परमात्मा में लगता है। इससे एकाग्रता बढ़ती है। माँसाहारी जीवों की आँतें 20 फुट लम्बी और मनुष्य की आँतें मात्र 14 फुट लम्बी होती हैं।  पशु माँस खाकर 50-120 किलो मीटर दौड़ता-भागता है।  मगर मनुष्य माँस खाकर सो जाता है। पशु लाल-कच्चा माँस कहते है और मनुष्य पकाकर खाता है। माँस न खाने से उन बीमारियों का खतरा तो पूरी तरह टल ही जाता है जो मनुष्यों को पशुओं से लगती हैं। गैस, अपच जैसी बीमारियों से मुक्ति अलग। हृदय रोग और उच्च रक्त चाप से मुक्ति अलग। 
For more information please refer to: LONGEVITY-दीर्घायु   santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com hindutv.wordpress.com  
(9). FASTING: Root cause of many diseases is the accumulation of toxic materials in the digestive system. Regular cleansing of toxic materials keeps one healthy. Due to fasting, the digestive organs get rest and all body mechanisms are cleansed and corrected. Fast is good for heath and the occasional intake of warm lemon juice during the period of fasting prevents the flatulence. Human body is composed of 2/3 of water. This factor make to prone to the impact of moon and other heavenly bodies. It results in all sorts of imbalances in the body, making some people tense, irritable and violent. Fasting acts as antidote, since it lowers the acid content in the body helping the individual retain sanity. Major health benefits include caloric restriction like reduced risks of cancer, cardiovascular diseases, diabetes, immune disorders etc. As a matter of fact its of great value in weight control.
शरीर एक ऐसी मशीन है जो हर वक्त काम करती रहती है। उसे भी आराम की जरूरत है। यह आराम उसे व्रत-उपवास से मिलता है। कभी भी, कहीं भी, कुछ भी खा लेने से, शरीर में अनेक प्रकार के अनवांछित पदार्थ इकट्ठे होते रहते हैं। उनका क्षरण करने में भूखा रहना-एक समय भोजन न करना, केवल निम्बू-पानी पर रहना बहुत उपयोगी है। शरीर का एक तिहाई पानी होने के कारण यह चन्द्र और अन्य आकाशीय पिण्डों से तुरन्त प्रभावित हो जाता है। अन्य ग्रह शरीर पर अपना पूरा प्रभाव  हैं जिससे यह व्याधि-बीमारी-रोगों की चपेट में आ जाता है। व्रत इन सबका एक सटीक-उपयुक्त उपचार है। व्रत के दौरान निम्बू पानी या केवल गर्म पानी का सेवन करते रहना चाहिये। वजन कम करने में तो यह बहुत ही ज्यादा सहायक है।व्रत के दौरान आप फलों का सेवन एक उचित मात्रा में कर सकते हैं। 
For more information please refer to: LONGEVITY-दीर्घायु   santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com  hindutv.wordpress.com  
(10). PLANTATION OF TULSI AT HOME: Tulsi-Sacred or Holy Basil, has the status of mother-the nurturer-Goddess. This is recognized-identified as a religious and spiritual devout in many parts of the world.It is icon to Sanjeevni booti due to its medicinal properties. It functions as an antibiotic-anti dot. Its useful in cough-cold-fever & boosts immunity. Its normally kept outside the doors to repel insects and mosquitoes from entering the house. It's believed that snakes do not dare to go near a Tulsi plant. 
तुलसी माँ संजीवनी के समान है और अनेक बिमारियों से निज़ात दिलाती है। अमरीका आदि मुल्कों में इसे पवित्र बेसिल के नाम से जाना जाता है और बड़े पैमाने पर इसका इस्तेमाल चटनी के रूप में किया जाता है।  यह आमतौर पर घर के बाहर रखी जाती है ताकि कीट-पतंग-मच्छर अन्दर न आयें।  साँप भी इससे दूर ही रहता है। 
For better understanding and elaboration please log on to: AYURVED: CHAPTER (II) AUSPICIOUS-USEFUL  TREES-PLANTS आयुर्वेद: अध्याय (II) पवित्र-उपयोगी वृक्ष santoshkipathshala.blogspot.com santoshsuvichar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com  hindutv.wordpress.com  
(11). WORSHIPING PEEPAL: Peepal is probably the only tree, which produces oxygen even at night. Its considered to be an incarnation of Bhagwan Vishnu. Its new leaves are often eaten by the moneys.
पीपल को भगवान् विष्णु का अवतार कहा जाता है। शायद यही एकमात्र वृक्ष है जो कि हर वक्त जीवन दायिनी ऑक्सीजन प्रदान करता है। 
Wish to learn more, please refer to: AYURVED: CHAPTER (II) AUSPICIOUS-USEFUL  TREES-PLANTS आयुर्वेद: अध्याय (II) पवित्र-उपयोगी वृक्ष santoshkipathshala.blogspot.com santoshsuvichar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com  hindutv.wordpress.com 
(12). EATING FOOD WHILE SITTING ON FLOOR: It is regarding sitting in the Sukhasan posture while eating. Sukhasan is the posture one normally use for Yogasan. The small intestine is brought to the straight down posture. Food straight way go to the stomach. Sufficient air gets mixed with the breath during this process. Digestion is improved significantly and the circulatory system to remain active.
कमर सीधी करके भोजन करना स्वास्थ्य के लिए लाभकारक है। इससे आँतें, आमाशय सीधी स्थिति में रहते हैं। खून का दौरा सही दिशा में और सामान्य रहता है। सुखासन योग के लिए एक अच्छा आसान है जिससे थकान नहीं होती।
For enlightenment please proceed learning-log on to:UNFOLDING THE MYSTERIES OF YOG-PRANAYAM-KUNDLINI-MEDITATION-ASCETICISM KUNDLINI कुण्डलिनी
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com
(13). IDOL WORSHIP: One essentially needs a goal-target for concentration. Image formation is a must to meditate and to perform ascetic practices. Its extremely difficult to make a mental image  and reach the Ultimate, initially. So, the Hindu looks for a temple-a statue-drawing-image to fix his energies in the Almighty. This process is called Sakar-shape formation of worship. The next stage may be Nirakar, which comes through practice. More is the practice, more is one close to the God. In fact the image of the deity protects one from distraction of the brain in roaming in all possible directions. How ever the Jyotir Ling is like the living deity-Bhagwan Shiv.
साधना के हेतु-ध्यान लगाने के लिए मनुष्य को कुछ साधन तो चाहिये। कभी गुरु, कभी माँ-बाप तो कभी मूर्ति-तस्बीर। वैसे तो भगवान् हमारे अन्तःकरण में विराजमान हैं, परन्तु एक चित्र-छाया-मूर्ति ध्यान केंद्रित करने में सहायक है। शुरू-शुरू में तो यह नितान्त आवश्यक है। परन्तु निरन्तर अभ्यास से मन-आत्मा परमात्मा में लीन होने लगती है। मन की गति को लगाम लग जाती है। भटकाव बंद हो जाता है। मूर्ति परमात्मा के साकार रूप से जोड़ती और मानसिक साधना-तपस्या निराकार से जोड़ देती है। यह अभ्यास का विषय है। वास्तिवकता तो यह है कि मन चंचल-बेलगाम घोड़े की तरह है जो कि दिशाहीन है-किसी भी दिशा में कभी भी भागने लगता है। ज्योतिर् लिंग तो भगवान् शिव साक्षात स्वयं विराजमान हैं। 
For enlightenment please proceed learning-log on to:UNFOLDING THE MYSTERIES OF YOG-PRANAYAM-KUNDLINI-MEDITATION-ASCETICISM KUNDLINI कुण्डलिनी
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com
(14). LOCK OVER THE HEAD शिखा : प्राचीन काल से ही ऋषि-मुनि सिर पर शिखा-चुटिया रखते आ रहे हैं। ब्राह्मण और गुरुजन इस काल में शिखा धारण करते हैं। चाणक्य की शिखा तो विश्व प्रसिद्ध है। आयुर्वेद के प्रणेता सुश्रुत ऋषि ने ब्रह्म रन्ध्र को जो कि सिर में शीर्ष स्थल पर मौजूद है, को अधिपति-जो सब को संचालित करता है, की संज्ञा प्रदान की। यह मानव शरीर का एक मर्म स्थल है। यहां सभी नाड़ियों का संगम होता है। शिखा-चोटी इस स्थल की रक्षा करती है। शरीर के निम्न अंगों को संचालित करती हुई सुषम्ना नाड़ी यहां तक आती है। ब्रह्म रन्ध्र सातवें चक्र का शीर्ष स्थल भी है। यह मनुष्य को ओज-तेज प्रदान करता है।
(1). शिखा के नीचे सुषुम्ना नाड़ी होती है, कपाल तन्त्र के अन्य खुली जगहोँ (मुण्डन के समय यह स्थिति उत्पन्न होती है) की अपेक्षा अधिक संवेदनशील होता है। जिसके खुली होने के कारण वातावरण से उष्मा व अन्यब्रह्माण्डिय विद्युत-चुम्बकी य तरंगोँ का मस्तिष्क से आदान प्रदान बड़ी ही सरलता से हो जाता है। और इस प्रकार शिखा न होने की स्थिति मेँ स्थानीय वातावरण के साथ साथ मस्तिष्क का ताप भी बदलता रहता है। मस्तिष्क को सुचारु, सर्वाधिक क्रियाशिल और यथोचित उपयोग के लिए इसके ताप को नियंन्त्रित रहना अनिवार्य होता है। जो शिखा न होने की स्थिति मेँ एकदम असम्भव है। क्योँकि शिखा (लगभग गोखुर के बराबर) इस ताप को आसानी से सन्तुलित कर जाती है और उष्मा की कुचालकता की स्थिति उत्पन्न करके वायुमण्डल से उष्मा के स्वतः आदान प्रदान को रोक देती है। 
(2). जिस जगह शिखा (चोटी) रखी जाती है, यह शरीर के अंगों, बुद्धि और मन कोनियंत्रित करने का स्थान भी है। शिखा एक धार्मिक प्रतीक तो है ही साथ ही मस्तिष्क के संतुलन का भी बहुत बड़ा कारक है। 
(3). शिखा का आकार गाय के पैर के खुर के बराबर होना चाहिए।  सिर में बीचों बीच सहस्राह चक्र होता है। शरीर में पांच चक्र होते हैं,मूलाधार चक्र जो रीढ़ के नीचले हिस्सेमें होता है और आखिरी है सहस्राह चक्र जो सिर पर होता है। इसका आकार गाय के खुर के बराबर ही माना गया है। शिखा रखने से इस सहस्राह चक्र का जागृत करने और शरीर, बुद्धि व मन पर नियंत्रण करने में सहायता मिलती है। शिखा का हल्का दबाव होने से रक्त प्रवाह भी संतुलित रहता है और मस्तिष्क को इसका लाभ मिलता है।
(4).मृत्यु के समय आत्मा शरीर के द्वारों से बाहर निकलती है (मानव शरीर में नौ द्वार बताये गए है दो आँखे, दो कान, दो नासिका छिद्र, दो नीचे के द्वार, एक मुह )और दसवा द्वार यही शिखा या सहस्राह चक्र जो सिर में होता है। यदि प्राण इस चक्र से निकलते है तो साधक की मुक्ति निश्चत है और सिर पर शिखा होने के कारण प्राण बड़ी सरलता से निकल जाते हैं और मृत्यु हो जाने के बाद भी शरीर में कुछ अवयव ऐसे होते है जो आसानी से नहीं निकलते, इसलिए जब व्यक्ति को मरने पर जलाया जाता है तो सिर अपने आप फटता है और वह अवयव बाहर निकलता है यदि सिर पर शिखा होती है तो उस अवयव को निकलने की जगह मिल जाती है। शवदाह क्रिया में कपाल क्रिया इसीलिये की जाती है। 
(5). शिखा रखने से मनुष्य प्राणायाम, अष्टांगयोग आदि यौगिक क्रियाओं को ठीक-ठीक कर सकता है।  शिखा रखने से मनुष्य की नेत्र ज्योति सुरक्षित रहती है। शिखा रखने से मनुष्य स्वस्थ, बलिष्ठ, तेजस्वी और दीर्घायुहोता है।
Sushrut described Brahm Randhr-the peak over the head, as the Adhipati-Supreme Lord or the Marm-most sensitive point in the human body. Here stands the nexus of all nerves. The shikha-choti-lock protects this spot. The Sushumana (-nerve) reaches here from the lower segments of the body. Brahm Randhr constitutes the highest, seventh Chakr, with the thousand-petaled lotus. It is the center of wisdom. The knotted Shikha-the lock helps boost this center and conserve its subtle energy known as ojas-Aura.
For enlightenment please proceed learning-log on to: UNFOLDING THE MYSTERIES OF YOG-PRANAYAM-KUNDLINI-MEDITATION-ASCETICISM KUNDLINI कुण्डलिनी
santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    bhartiyshiksha.blogspot.com   hindutv.wordpress.com
(15). EATING HABITS: Normally one starts with spicy food and take some sweets at the end. Spices are medicines having curing character. Never consume more spices. They begin-initiates proper digestion of food with the secretion of enzymes and help in the conversion of cellulose, proteins and carbohydrates into digestible sugars, which can be absorbed easily by the small intestine. Sweets change taste in the mouth.
खाद्यान्न में मिर्च-मसाले उसे ज़ायकेदार-स्वाद बना देते हैं। मसाले कभी भी ज्यादा मात्रा में नहीं खाने चाहिए। प्रत्येक मसाला औषधि गुणों से युक्त होता है। ये मनुष्य को उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करते हैं, यदि उचित मात्रा में लिए जायें। इनसे पेट में एन्जाइम्स की उत्तपत्ति होती है जो कि कार्बोहाइड्रेट्स, सेल्यूलोस, प्रोटीन्स को आसानी से पाचनशील शुगर्स में बदल देते हैं। मिठाई सामान्यतया मुँह का स्वाद बदलने के लिए होती है
For more details please refer to AYURVED: CHAPTER आयुर्वेद: अध्याय (III) MEDICINAL PROPERTIES OF INDIAN SPICES भारतीय मसालों के औषधि गुण AYURVED: CHAPTER (IV) DOMESTIC-HOME REMEDIES आयुर्वेद: अध्याय (IV) दादी माँ के नुख्से  santoshkipathshala.blogspot.com   santoshsuvichar.blogspot.com    bhartiyshiksha.blogspot.com  hindutv.wordpress.com 
(16). APPLICATION OF HENNA-MAHDI OVER HANDS-FEET: Its medicinal characters have been recognized. It relieves one, from stress, headaches and fever. The girls and married women apply its paste over their hands and the feet due to this reason to avoid the excitement, nervous breakdown before and during the marriage celebrations. Hands and feet  contain the nerves which end up over their tips. Old man and women apply this to color hair, since its a natural dye which protects scalp.
मेंहदी के औषधि गुणों को पहचान कर उनका सदुपयोग किया जाता है। मेंहदी तनाव, सरदर्द और बुखार में राहत देती है। शादी के वक्त लड़की को अत्यधिक तनाव से गुजरना पड़ता है।  नाड़ियाँ हाथ और पैरों के पौरुओं तक पहुँचती हैं। अतः मेंहदी का लेपन-रचाना किया जाता है।  स्त्रियों को हर तीज-त्यौहार पर मेंहदी लगाने का शौक होता है और इसे श्रंगार-प्रसाधन के तौर पर इस्तेमाल किया जाने लगा है। आम तौर पर अवस्था बढ़ने पर सफेद बालों को रंगने में भी इसका उपयोग होता है क्योंकि यह एक प्राकृतिक रंग और सर में ठंडक प्रदान करती है। 
Wish to learn more, please refer to: AYURVED: CHAPTER (II) AUSPICIOUS-USEFUL TREES-PLANTS आयुर्वेद: अध्याय (II) पवित्र-उपयोगी वृक्ष santoshkipathshala.blogspot.com santoshsuvichar.blogspot.com   bhartiyshiksha.blogspot.com  hindutv.wordpress.com 
(17). WEARING BANGLES-ORNAMENTS: Women is more sensitive as compared to the man.She is prone to microbes-germs-virus-bacteria-fungus. Gold and Silver have anti microbe properties. This is the reason why the rich and mighty prefer gold utensils. One eat betel leaves studded with Gold-Silver foil. Sweets too are lased with Gold and Silver foil due to this reason. Moving-cluttering bangles keeps the flow of blood steady and regular. In fact Indians are supposed to wear bracelets, rings, anklets in hands and legs, in addition to rings in the ears. Flow of blood produce charges in the body which are channelized by these ornaments. 
स्त्री को पुरुष की अपेक्षा कोमलांगी समझा जाता है।  इसलिए उसे बचपन से आभूषणों का प्रयोग करने को कहा जाता है। सोने-चाँदी में रोगाणुओं-जीवाणुओं से लड़ने-प्रतिरोध उत्तपन्न करने की क्षमता है। इसी वजह से भारत में पान और मिठाइयों पर सोने चाँदी का वर्क लगाने-खाने का रिवाज है। पैर-हाथ में चूड़ी-कड़े इसी वजह से पहने जाते हैं। मर्दों को कन छेदन और कुण्डल पहनने को कहा जाता है।  लोग तो अपने दाँतों में भी सोना जड़वा लेते हैं। रक्त प्रवाह के दौरान काफी बड़ी मात्रा में आवेश-विद्युत कण-इलेक्ट्रान आदि उत्त्पन्न होने हैं जिनको उदासीन करने के लिए भी ये अनिवार्य हैं। 
(18). PIERCING OF EARS: Its believed that piercing of the ears might  help in the development of intellect, power of thinking and decision making faculties. It helps in speech-restraint.Talkativeness-too much talking, fritters away life sustaining energy. It reduces impertinent behavior and the ear-channels become free from disorders. Bible has stressed over this ritual. During the current age-era, people do it as a mark of fashion. As a matter of fact the hole in the ear is used to wear golden ornaments which protects them from infections regularly.
विद्वान लोग यह मानते हैं कि कन छेदन से मेधा-शक्ति का विकास होता है। निर्णय लेने की क्षमता बढ़ती है। ज्यादा-बातचीत ऊर्जा की नाशक है। यह ज्यादा-फालतु बोलने पर प्रतिबंद्ध लगाता है। कान की बिमारियों से राहत प्रदान करता है। कान में स्वर्ण-जड़ित आभूषण पहनने से मनुष्य की जीवाणुओं से रक्षा हो जाती है। बाइबल में भी इसके ऊपर काफी जोर दिया गया है। आजकल के लौंडे-लपाडे इसे फैशन के लिये इस्तेमाल करते हैं। किसी भी बहाने से सही एक उचित चीज का उचित प्रयोग तो  है। 
(19). PROPER DIRECTION FOR SLEEPING: Human body carries currents which transform in to magnetic field. One should align the body in north-south direction in such a way that the head is in the south, south-east or purely east. This will help in easing blood pressure, heart ailments and ascertain proper flow of blood in to the head. Our blood, which is a significant constituent of the body which 2/3 water, constitutes of hemoglobin-a compound containing iron.  Headache, Alzheimer’s Disease, Cognitive Decline, Parkinson disease and brain degeneration are some of the complications resolved by sleeping in this manner.
मानव-शरीर में हर वक्त खून का प्रवाह होने से विद्युत आवेश उत्तपन्न होता है जो कि चुंबकीय क्षेत्र में परिवर्तित हो जाता है ऐसा होने से उसका प्रभाव मन-मष्तिष्क और शरीर पर पड़ने लगता है। शरीर का दो तिहाई भाग पानी से बना है, जिसमें लगभग 5 लीटर खून  होता है। हीमोग्लोबीब खून का एक विशिष्ट यौगिक है, जिसमें लोहतत्व होता है। लोहा चुम्बक से आकर्षित होता है। सोते वक्त सर की दिशा दक्षिण, दक्षिण-पूर्व अथवा पूर्व रखने से शरीर में रक्त संचार सही तरीके से होने लगता है, जिससे उच्च रक्तचाप, सरदर्द, हृदय-रोग जैसी बिमारियों का समाधान हो जाता है।
For better understanding please refer to: ANCIENT ARCHITECTURE: VASTU SHASTR वास्तु शास्त्र santoshkipathshala.blogspot.com santoshsuvichar.blogspot.com    bhartiyshiksha.blogspot.com    hindutv.wordpress.com
(20). DEEPAWALI CELEBRATIONS: It coincides with the change of seasons. Monsoon is back, temperatures start falling, attack of insects which cause various diseases, is on the rise. Repairs, renovation, cleaning, beatifications are carried out.This prompts cleaning of walls and application of lime added with copper sulphate which are most common insecticides. A fresh coat removes dampness as well. Winter cloths are out and needs to be placed in the sun light. It coincides with sowing season and cutting of sugar cane crop as well.
दीपावली से ही मौसम बदलने की शुरुआत हो जाती है। मानसून वापस चला जाता है, तापमान कम होना शुरू हो जाता है।  कीड़े-मकोड़ों की वृद्धि होने लगती है। मकान मरम्मत-सफाई माँगने लगता है।  अतः चूना पुताई  भी कराया जाता है। पुताई में चूना और नीला थोथा मिलाया जाता है जो कि सूक्ष्म जीवाणुओं और कीड़े-मकोड़ों को मारने में सक्षम है। यह घर की सीलन और बदबू को भो दूर करता है। यहीं से बुआई का वक्त शुरू हो जाता है गन्ने की फसल भी तैयार होने को होती है। 
(21). OFFERING WATER TO THE SUN-SUN SALUTING:This is one of the most common tradition followed by the Hindus. They get up early in the morning and become fresh before sun rise. They perform prayers and complete the morning rituals. This is one the several rituals they follow.A pot full of water mixed with honey, milk, tulsi leaves is offered to the rising sun, when it become lustrous-shinning-its no more red in appearance. While the red rays are dangerous for the eyes due to their infra red nature-high wave length and low frequency. Several other radiations(-VIBGYOR) are obtained, when these rays pass through water which are soothing to the eyes and the brain.
यह आस्था में रंगा हुआ एक ऐसा वैज्ञानिक चमत्कार है जो कि प्रत्येक हिन्दु अनुभव करता है। उगते और ढ़लते हुए सूर्य को देखना नहीं चाहिये क्योंकि वह लालिमा लिए हुए रहता है और उससे बड़ी तरंग दैर्ध्य और न्यून आवर्ती की तरंगें निकलती हैं। जब जल-अर्ध्य दिया जाता है तो विकिरण संतुलित होकर आँखों से मिलते हैं जिससे विनाई-नेत्र ज्योति बढ़ती है। इस जल में शहद, गंगा जल, तुलसी, दूध आदि को मिला दिया जाता है। 




why-visit-temples
(22). AUSPICIOUSNESS-AUSTERITY BEHIND VISITING A HINDU TEMPLES:  Visiting temples is a kind of penance-prayer devoted to the Almighty. Sweeping the flour, painting the walls, offering of fruits, cloths, money, flowers; pouring water-milk, curd, honey, ghee over the statue are some alternate forms of prayer. Sitting in front the deity's statue and concentrating-creating a mental image, of the God in one's mind, too is prayer. Sanatan Dharm-Hinduism has a rich heritage, culture and tradition. There are thousand's of mesmerising Hindu temples across the country & else where with different distinguished design, shape, locations. Vastu Shastr has been utilized and the knowledge of scriptures-Ved, Puran is applied. Visiting temples grant blessing, boons, fulfilment of desires, calm, better mind set and peace of mind. It gives power to face the difficult phases of life. 
(22-1). LOCATION, DESIGN & STRUCTURE: Temples are deliberately built at a place where the positive energy is available abundantly from the the magnetic and electric field conveyances of north-south poles. The idol of God is set in the core center of the temple, known as Garbh Grah or Mool Sthan. Ideally, the structure of the temple is built after the idol has been placed in a high positive wave eccentric place. This Mool Sthan is the place where earth’s magnetic field-waves are discovered to be extreme.
(22-2). REMOVAL OF FOOT WEAR: Temples are the sacred places where magnetic and electric fields with positive energy exists. Temples were used to be built in such a manner that the floor at the center of the temple were good conductors of positive vibrations allowing them to pass through one's feet to the earth. Hence, it is essential to walk bare footed, while one enter the core center of the temple. Shoes and chappals are used everywhere and they tend to acquire impurities in the form of dust, garbage, germs, virus, harmful enzymes, bacteria, fungus and protozoans. 
(22-3). RINGING OF BELLS: It activates the senses specially the hearing. People who are visiting the temple should and will Ring the bell before entering the inner temple (-Garbh Gudi, Garbh Grah, Mool Sthan or womb-chamber) where the main idols are placed. These bells were fixed in such a manner that they produce a sound in unison to create resonance-echo symmetrically, on either side i.e., left and the right.  The bells produces a sharp and enduring sound which lasts for minimum of 7 seconds, in echo mode. The duration of echo is good enough to activate all the seven healing centers in one's body. This results in emptying our brain from tensions. This bell sound is also absorbed by the idol and vibrated within the Garbh Gudi for a certain period of time.
(22-4). VASTU-ANCIENT HINDU ARCHITECTURE & ENGINEERING: Temples are engineering marbles employing excellent techniques-blue prints, skills, architecture, resonance, echo, vibrations, symmetry, orientation with the 10 directions connected with the walls & the foundation. They create soothing impact over the visitors if they enter the temples with pure thoughts, ideas, desires. The idols too have mesmerizing impact over the devotees. As a matter of fact gathering of a large number of people seeking renunciation make the environment religious, pious, virtuous, righteous. 
(22-5). LIGHTING OF CAMPHOR, GUGAL, AGARBATTI, DHOOPBATTI, MUSTERED OIL-GHEE, EARTHEN-METAL (GOLD-SILVER) LAMPS IN FRONT OF THE IDOL: All these articles have the properties of disinfectants. Most of these articles liberate pleasant smells which develop good mood, happiness and congenital environment all around. One never experienced suffocation inside the chambers of the temples. In fact most of the substances which are allowed to ignite inside, contains medicinal properties which enters the lungs and gets mixed with the blood re leaving the devotees of a number of diseases. Soothing impact of Gold, Silver and copper over the human body is universally recognized.
(22-6). OFFERING FLOWERS, SCENTS, FRAGRANCES: These are the articles admired by each and every one. They creates pleasant environment there. Mind experiences calmness, freshness and improved energy levels. 
(22-7). DRINKING CHARNAMRAT चरणामृत: Charnamrat is prepared by mixing Ganga Jal, cow urine, curd, honey, milk, Tulsi (-Basil) leaves. 5-10 grams of charnamrat is offered to the devotees as prashad. This is an ayurvedic composition which cures a number of diseases automatically, like soar throats, fever & common cold, coughs, respiratory disorders-ailments, formation of kidney stone & heart disorders. Normally the preparation is stored in silver, copper or gold vessels which have curative impact over one's body.
(22-8). PRADAKSHINA प्रदक्षिणा : This is a process in which the devotees moves round the temple or the idol 7-9 times in clockwise order. The walk involved in the process activates the blood vessels inside the lungs, which smoothly absorbs the medicinal properties of offerings to the God, present in the air of the temple.
 (22-9). APPLICATION OF KUMKUM-VERMILION-TURMERIC (-हल्दी, Haldi) SAFFRON, SANDALWOOD PASTE  (-Chandan, चन्दन) MARK OVER THE FOREHEAD: It leads to automatic activation of the Agya Nadi Chakr over the fore head. This is the place where the energies of the humans are radiated or absorbed in either positive or negative manner. It relaxes one by facilitating smoother flow of blood in the brain. Agya: Order, Command. 
Location of Agya Chakr: It’s based-housed at the upper end of the spinal cord-vertebral column, at the point of transition, from the spine to the brain. Development of one's wisdom and humanity is completed here, bridging the divine consciousness. Its energy is experienced in the center of the forehead between the eyebrows, just over the nose.
(22-10). OFFERING OF BANANA-COCONUT FRUITS: These are termed as sacred fruits due to their composition. Generally they remain un eaten by the birds, insects etc. 
(22-11). RITUALS, PRAYERS, RHYMES, MANTR & SHLOK: Recitation of these has purifying impact over one due to the waves-vibrations generated in the atmosphere of the temple, which are so devised that the curative effect is observed soon there after.
(23-1). SCIENCE IN SCRIPTURES: The Sun moves in its orbit holding earth & other heavenly bodies so that they do not collide with one another through the gravitational force. [Rig Ved 1.35.9]
(23-2). The earth is devoid of hands and legs yet it moves ahead. All objects all over the earth also move with it, around the Sun.[Rig Ved 10.22.14]
(23-3). Oh Sun! When you are blocked by one whom you illuminate (-Moon), the earth will be surprised by sudden darkness (-eclipse).[Rig Ved 5.40.5]
(23-4). Sayan quoted the speed of light to be 2,202 Yojen in half a Nimesh-blink of eye.
I Yojan is nearly equal to 9 miles & one mile is 1.6 Km. I Nimesh is 16/75 second.
2,202 X 9 X 75/8=185,794 miles per second.If one is precise with the conversion of Yojan with mile it comes to the speed of light to be 1,86,000 miles per second or 3,00,000 Km per second.
(23-5). Brahm Gupt proposed circumference of earth to be 36,000 Km. its claimed to be 40, 075 Km. It depend over the longitude and latitude which one measure, at the poles or otherwise. Ary Bhatt gave the circumference of the earth to be 39,736 Km.
(23-6). Sury Siddhant gives the length of the day to be 365 days, 6 hours, 12 minutes and 30 seconds.
(23-7). Value of Pie: Circumference divided by diameter of a circle, to be precisely 3.1416.
(23-8). Tulsi Das Ji said :: Yug Sahastr Yojan par Bhanu-distance of Sun from the earth. Distance of all planets and the Sun correspondingly given in Purans, is given in this blog. Please log on to: UNIVERSE ब्रह्माण्ड रचना (EARTH'S GEOGRAPHY-पृथ्वी की भौगोलिक रचना) bhartiyshiksha.blogspot.com & WEATHER ON EARTH पृथ्वी पर मौसम (Abstract from Purans)   bhartiyshiksha.blogspot.com  for specific details.
(24). लकड़ी के खड़ाऊँ :: पैरों में लकड़ी के खड़ाऊँ इसलिए पहनी जाती थीं, क्योंकि हमारे शरीर में निरन्तर विद्युत धारा का उत्पादन और संचार होता है। यह ऊर्जा शरीर में रक्त वाहनियों-धमनियों, शिराओं तथा नसों के माध्यम से संचारित होती है। अगर इसको धरती से जोड़ दिया जाये तो इसका परवाह उसमें हो जाता है। खड़ाऊँ लकड़ी की बनी होने से विद्युत की कुचालक होती हैं और ऊर्जा का निरंतर प्रवाह बना रहता है। कपड़ा और चमड़ा दोनों ही नमी सोखते है और भीगने पर जल सोख लेते है और विद्युत का प्रवाह कर देते हैं। यह इस बात को भी सुनिश्चित करता है कि विद्युत का झटका न लगे।
Ancient Hindu tradition of wearing wooden shoes-chapples is supported by logic-reasoning. Wood is a non conductor of electricity and obstruct the flow of charges.Human body continuously generate charges, which flow through the blood vessels, veins, arteries and the nerves. It protects one from electric shocks, as well. The moment one moves barefoot these charges enter the earth sucking the vital energy-life supporting force.Cotton socks absorb sweat and make the cotton shoes conducting. Leather too absorbs moisture quickly, making it conducting and not its not allowed in the religious places.





Comments

Popular posts from this blog

ENGLISH CONVERSATION (2) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

ENGLISH CONVERSATION (3) हिन्दी-अंग्रेजी बातचीत

HINDU MARRIAGE हिन्दु-विवाह पद्धति